Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Call Clinic
Book Appointment

Maa Tara Polyclinic

Gynaecologist Clinic

Shop Number 4, Mohisbatham, Landmark : Near New Town Bridge, Kolkata Kolkata
1 Doctor · ₹300
Book Appointment
Call Clinic
Maa Tara Polyclinic Gynaecologist Clinic Shop Number 4, Mohisbatham, Landmark : Near New Town Bridge, Kolkata Kolkata
1 Doctor · ₹300
Book Appointment
Call Clinic
Report Issue
Get Help
Services
Feed

About

We are dedicated to providing you with the personalized, quality health care that you deserve....more
We are dedicated to providing you with the personalized, quality health care that you deserve.
More about Maa Tara Polyclinic
Maa Tara Polyclinic is known for housing experienced Gynaecologists. Dr. Kakoli Basu, a well-reputed Gynaecologist, practices in Kolkata. Visit this medical health centre for Gynaecologists recommended by 75 patients.

Timings

TUE, THU
11:00 AM - 01:00 PM
WED
05:30 PM - 07:30 PM

Location

Shop Number 4, Mohisbatham, Landmark : Near New Town Bridge, Kolkata
New Town Kolkata, West Bengal
Click to view clinic direction
Get Directions

Doctor in Maa Tara Polyclinic

Dr. Kakoli Basu

MBBS, DGO
Gynaecologist
29 Years experience
300 at clinic
Available today
05:30 PM - 07:30 PM
View All
View All

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Maa Tara Polyclinic

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

Renal Hypertension - How To Track It?

DNB (Nephrology), MRCP (UK), MD - Medicine, MBBS
Nephrologist, Mumbai
Renal Hypertension - How To Track It?

Renal hypertension is a disorder which is characterized by a rise in the blood pressure that results from kidney disease. The blood flow to the kidney is impaired due to the narrowing of the arteries and this leads to renovascular hypertension. 

Symptoms

The various symptoms of renal hypertension are -

1. High blood pressure
You may experience symptoms of high blood pressure.

2. Impaired functioning of the kidneys
Your kidneys may not function properly due to the impaired supply of blood

3. It may lead to presence of blood in your urine

4. You may be affected by pulmonary edema that results in accumulation of fluid in the lungs

5. It may result in severe headaches and confusion

6. You may experience blurred vision

7. You may have nosebleeds

The impaired kidney function may also lead to chronic kidney damage. 

Causes

The various causes of renal hypertension are -

1. Accumulation of cholesterol in the body may lead to blockage of the artery due to plaque buildup
2. Smoking may increase your chances of getting affected by narrow arteries
The narrowing of the arteries causes a reduction in the blood supply to the kidneys. This results in the kidneys to release various hormones that instruct the body to hold on to water and sodium. This causes the fluid to accumulate in the blood vessels, thus resulting in high blood pressure. 

The various risk factors renal hypertension are -

1. Excessive alcohol consumption
2. Substance abuse
3. Diabetes
4. High blood pressure
5. High cholesterol
6. Aging

Treatment

Medications used to treat high blood pressure are used to treat renal hypertension. It is important that you get your blood pressure levels checked on a regular basis. You need to make certain lifestyle changes such as -

1. Exercise on a regular basis to keep your heart and body healthy
2. Limit consumption of alcohol and reduce smoking
3. Eat well balanced meals to keep obesity at bay
4. Keep your mind free of stress
5. Restrict consumption of salt
6. Maintain optimal weight levels

Causes And Treatment Of Uterine Fibroids!

MBBS, Diploma in Obstetrics & Gynaecology
Gynaecologist, Delhi
Causes And Treatment Of Uterine Fibroids!

Uterine fibroids, also known as leiomyoma or myoma, are benign growths on the uterus, occurring mostly during the years of childbearing. Few of the common symptoms of fibroids are leg pain or backache, constipation, difficulty in emptying the bladder, frequent urination, pain or pressure in the pelvic region, menstrual periods stretching over a week and excessive menstrual bleeding.

Causes:

  1. Certain genetic changes of the uterus which are different from the ones normally present in the muscle cells of the uterus can cause this disorder.

  2. Certain hormones such as progesterone and estrogen that prepare the body for pregnancy are even responsible for triggering the development of fibroids.

  3. Substances which help the body maintain its tissues trigger fibroid growth as well.

  4. Family history, excessive consumption of alcohol and red meat while going low on foods such as dairy products, fruits, green vegetables and vitamin D, obesity, usage of birth control pills and early onset of the menstruation cycle are other factors that may escalate the risks of one suffering from fibroids.

Treatment:

  1. Be careful and take a closer look: Fibroids are fundamentally non-cancerous and they hardly interfere with pregnancy. Often, they do not exhibit notable symptoms and are prone to shrinkage after menopause. Hence giving them and yourself some time might be the best option.

  2. Medications generally aim at the hormones controlling the menstrual cycle and treating symptoms such as pelvic pressure and excessive menstrual bleeding. However, they do not treat fibroids completely but work towards contracting them. They include-

    • Gonadotropin-releasing hormone (Gn-RH) agonists to block estrogen and progesterone production

    • Progestin-releasing intrauterine device (IUD) to alleviate severe bleeding caused due to fibroids

    • Tranexamic acid to ease excessive menstrual periods

    • Progestins or oral contraceptives to regulate menstrual bleeding

    • Nonsteroidal anti-inflammatory drugs (NSAIDs) to ease pain associated with fibroids

Surgeries to Treat Fibroids:

Depending on symptoms and whether medical therapy has failed, the patient may have to undergo surgery. The following surgical procedures may be considered:

  1. Hysterectomy: removing the uterus. This is only considered if the fibroids are very large, or if the patient is bleeding too much. Hysterectomies are sometimes an option to prevent fibroids coming back.

  2. Myomectomy: fibroids are surgically removed from the wall of the uterus. This option is more popular for women who want to get pregnant.

  3. Endometrial ablation: removing the lining of the uterus. This procedure may be used if the patient's fibroids are near the inner surface of the uterus; it is considered an effective alternative to a hysterectomy.

  4. UAE (Uterine artery embolization): this treatment cuts off the fibroid's blood supply, effectively shrinking the fibroid.

  5. Magnetic-resonance-guided focused ultrasound surgery: an MRI scan locates the fibroids, and sound waves are used to shrink the fibroids.

Latest Advancements:

Mifepristone: It, also known as RU-486, reduces heavy menstrual bleeding and imporves fibroid-specific quality of life. It competitively binds and inhibitsprogesterone receptors.

Ulipristal acetate: It is a progesterone receptor modulator that acts as a postcoital contraceptive. As progesterone promotes the growth of uterine fibroids, blocking its receptor may reduce their size.

Miscarriage - Ways To Recover

MBBS, MD - Obstetrtics & Gynaecology
Gynaecologist, Ahmedabad
Miscarriage - Ways To Recover

Once the reality of the positive pregnancy test sets in, dreaming about the yet-to-arrive begins. Curiosity about gender, options for names, ways to manage, shopping ideas, etc., begin to get discussed.  And then totally out of the blue the news comes that there is a miscarriage. This is one of the most depressing phases.

It is very important for the family to be around and support each other. While the entire family is upset and hurt over the news, the mother needs most care as there is just not emotional but a huge physical component also to the episode. On the other hand, remember that miscarriages are extremely common, and is no indication of a fertility issue.

The first step would be to diagnose and confirm the miscarriage.  After that, depending on whether it was complete or incomplete, some medical intervention might be required. In most cases, medications like misoprostol are given to expel the uterine contents. These help by clearing out the contents in about a couple of days' time. The sufferes of miscarriage should also undergo a Nuchal Scan (NT Scan) between 11 to 13 week from pregnancy.

In some cases, a D&C might be required if your doctor suspects that medication will not suffice. This also helps identify if there is any issue in the uterus that could have caused the miscarriage. While the above take care of the physical part, the emotional component also requires cautious management. Needless to say, this is trickier than the earlier one.

Mourn to your heart's content - When you have nursed a life within you and have lost it, it is very normal to cry for its loss. There would be a mix of emotions - shock, denial, confusion, anger, grief, depression, etc. Take some solace from that fact that this is nature's way of removing unhealthy fetuses.

Get someone to talk to - Need not be your husband, but anybody whom you can talk to without having to watch words. A sibling, a good friend, a close relative - your choice.  Make sure you don't pick ones who will judge and sympathize with you. More than sympathy, you need someone understanding and knowledgeable.

Socialize more - As you would have kept to yourself post your positive test, use this time to socialize more and meet friends whom you have not regularly been in touch with. Close family members, your children (if you already have), society groups, movie groups, etc., help to a great extent.

Formal medical counseling - If you are not able to cope with your regular circle of family and friends, try seeking professional advice from counseling.

Spirituality - Whether you believe in temple or churches, spend some time there.  Involve in some religious activity if you would like, this helps very often.

As much as it is painful and traumatic, it is not very uncommon or unnatural. Get back on your feet, the sooner you do, the better.  If you think you need additional help and would like to consult with me privately, please click on 'Consult'.

Who Should Get a Mammogram?

MBBS, DGO, Fellowship in Minimally Invasive Gynaecology and Endoscopy
Gynaecologist, Noida
Who Should Get a Mammogram?

A mammogram is an imaging test where an X-ray is taken to recreate the internal imagery of your breasts. This is a screening test that is widely used to find the earliest signs of cancer. There have been instances where the early signs of cancer have been found up to three years before the actual development of the same. There are a number of benefits and risks in this screening method. So let us find out more about getting a mammogram, and whether or not you should get one.

  • Procedure: A special X-ray machine is used for conducting a mammogram. There is a clear plastic plate on which the specialist will place the breast while another plate will press on the breast from above. While both the plates serve to flatten the breast and hold it still, the X-ray will be taken. Some pressure will be felt and the same steps will be repeated so as to get the side view of the breasts. The same procedure will be repeated for the other breast. Meanwhile, once it is done, you will need to wait so that the technician can check for clarity, and whether or not the procedure needs to be done again. The results of this procedure cannot be relayed by the technician, and all the images will be different because all breasts are slightly different from each other.
  • Preparation: You will need to remember that the process can be a slightly painful one, especially once the pressure gets applied. Many women complain of discomfort and pain. Yet, this discomfort gets over before you know it. The pressure and pain will depend on the size of your breasts and how much they will have to be pressed in order to get a picture. The skill of the technician will also come into play here. One must remember not to get this procedure done a week or so before or after the menstrual cycle, as the breasts tend to be tender around this time, and the pain will be much more.
  • Radiologist: Within a few weeks after the procedure, the radiologist will usually deliver the result. This is the professional who does an accurate reading of the X-ray.
  • Normal and Abnormal Readings: If your mammogram result has a normal reading, then you can resort to getting one done every once in a while. But an abnormal reading will require further X-ray and tests so as to be able to tell for sure.
  • Why should I get one: If you are over 40 and have a family history of such ailments. Women between 45-54 years with average risk, should get it done once every year. Women above 55 years, should get it done every 2 years.
1 person found this helpful

The last period my girl friend had was 20th or 22nd November. After which we had sex though I did not ejaculate inside her. She went for a Pregnancy test after a week which the nurse said it was not clear. How will we know whether she is positive or negative. Or should we wait for her next period. Any remedies. Since it was a mistake and we are apprehensive of many factors.

BHMS
Homeopath, Noida
The last period my girl friend had was 20th or 22nd November. After which we had sex though I did not ejaculate insid...
Pregnancy test should not be done so early. Urine Pregnancy test should be done 10 days after missing your period. For example if your date was 10th, then do the test on 20th. Before that it can give false negative or false positive test So wait for 3more days n do the test. Do it on 30th December. Not before that.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I am 8 month pregnant and I have water leakage problem from urine sera. I have used sanitary pad for this problem and change 3-4 pad in a day. Now please tell me what I do? My child is safe or not. What precaution I do that me and my baby will be safe.

MBBS, MD - Obstetrics & Gynaecology, Diploma in Reproductive Medicine (Germany)
Gynaecologist, Navi Mumbai
I am 8 month pregnant and I have water leakage problem from urine sera. I have used sanitary pad for this problem and...
Please get your urine test done to find out any infection. Use intimate wash for your private parts.
Submit FeedbackFeedback

छोटी पीपल के फायदे - Chhoti Peepal Ke Fayde!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
छोटी पीपल के फायदे - Chhoti Peepal Ke Fayde!

आयुर्वेद औषधियों में छोटी पीपल को ही आम तौर पर पिप्पली के नाम से भी जाना जाता है. छोटी पीपल के औषधीय गुणों के अनुसार इसके बहुत सारे फायदे हैं. यही नहीं इसका इस्तेमाल कई बार मसाले के रूप में भी किया जाता रहा है. यदि इसके आकार की बात करें तो यह लगभग शहतूत के फल के आकार वाले छोटी पीपल के जैसा ही है. गहरे हरे रंग और ह्रदय के आकार वाले चौड़े पत्तों व कोमल लताओं वाले छोटी पीपल के कच्चे फलों का रंग गहरा हरा और पकने के बाद काला हो जाता है. आइए इस लेख के माध्यम से हम छोटी पीपल के फायदों पर एक नजर डालें.

1. मोटापा से भी राहत

छोटी पीपल मोटापे को कम करने में बहुत सहायक है. इसके लिए आपको पीपल के चूर्ण का लगभग आधा ग्राम की मात्रा रोजाना सुबह-शाम शहद के साथ सेवन करना होता है. इसके अलावा छोटी पीपल के 1 से 2 दाने दूध में डाल कर उबालें और उसमें से छोटी पीपल को निकालकर खा लें. इसके दूध पिने से भी मोटापे कम होती है.

2. छुआ-छूत के रोगों में
इसमें पाए जाने वाले प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के गुण से टी.बी. एवं अन्य संक्रामक रोगों में छोटी पीपल फायदेमंद है. इसके अलावा छोटी पीपल अनेक आयुर्वेदीय एंव आधुनिक दवाओं की कार्यक्षमता को बढ़ाने में मदद करती है. छोटी पीपल के कई फायदों में से एक ये भी है कि इसके 1-2 ग्राम चूर्ण में सेंधानमक, हल्दी और सरसों का तेल मिलाकर दांतों पर लगाने से दांत के दर्द से राहत मिलती है.

3. दिल के मामलों में
दिल की बीमारियों में भी छोटी पीपल के फायदे दिखाते हैं. इसका चूर्ण बनाकर शहद में मिलाकर सुबह खाने से कोलेस्ट्राल नियंत्रित होता है. इसके अलावा छोटी पीपल और छोटी हरड़ की समान मात्रा पीसकर एक चम्मच सुबह-शाम गुनगुने पानी के साथ लेने से पेट दर्द, मरोड़ और दुर्गन्धयुक्त अतिसार में राहत मिलती है.

4. साँसों की बीमारी में
यदि आपको साँसों की बिमारी है तो इसमें भी आप छोटी पीपल के फायदे से राहत पा सकते हैं. इसके लिए आपको 2 ग्राम छोटी पीपल का चूर्ण बनाकर 4 कप पानी में उबाल लें. जब यह 2 कप रह जाए तो इसे छान लें. इसे 2-3 घंटे के अंतर पर थोड़ा-थोड़ा दिन भर पीते रहने से कुछ ही दिनों में सांस फूलने की समस्या से राहत मिलेगी.

5. सिर दर्द में
इसे पानी में पीसकर माथे पर लेप लगाने से सिर दर्द में फायदा मिलता है. इसके लिए छोटी पीपल और वच चूर्ण को बराबर मात्रा में मिला लें. फिर इसकी 3 ग्राम नियमित रूप से दो बार दूध या गर्म पानी के साथ लेने से सर दर्द में राहत मिलती है. इस प्रकार आप चाहें तो सरदर्द में इसका इस्तेमाल कर सकते हैं.

6. वात से उत्पन्न रोगों में
इसके लिए आपको 5-6 पुरानी छोटी पीपल के पौधे का जड़ सुखाकर उसका चूर्ण बनाना होगा. आपको बता दें कि इस चूर्ण की 1-3 ग्राम मात्रा को गर्म पानी या गर्म दूध के साथ पिलाने से शरीर के किसी भी हिस्से में होने वाले दर्द से 1-2 घंटे में ही राहत मिल जाती है. बुढ़ापे में इससे विशेष रूप से राहत मिलती है.

7. सर्दी जुकाम में
सर्दी जुकाम में छोटी पीपल का फायदा उठाने के लिए इसका मूल, काली मिर्च और सौंठ की बराबर मात्रा में चूर्ण लेकर इसकी 2 ग्राम की मात्रा शहद के साथ चाटने से जुकाम में राहत मिलती है. इसके अलावा आधा चम्मच छोटी पीपल चूर्ण में समान मात्रा में भुना जीरा तथा थोड़ा सा सेंधा नमक मिलाकर छाछ के साथ सुबह खाली पेट लेने से बवासीर में भी लाभ होता है.
 

काबुली चना के फायदे - Kabuli Chane Ke Fayde!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
काबुली चना के फायदे - Kabuli Chane Ke Fayde!

आम तौर पर चने दो प्रकार के होते हैं – काबुली चना और काला चना. जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है कि काला चना लगभग काले रंग का होगा लेकिन काबुली चना सफ़ेद रंग लिए हुए होता है. यही नहीं काबुली चने का आकार भी काले चने से बड़ा होता है. कई लोग चने को गरीबों का बादाम भी कहते हैं. ऐसा इसमें पाए जाने वाले पौष्टिक पदार्थों के आधार पर कहा जाता है. यदि हम काले चने को अंकुरित करके इस्तेमाल करें तो इसमें अद्भुत पोषक तत्व आ जाते हैं. इसका प्रयोग हम अपने दैनिक जीवन में कई तरह से करते हैं. काला चना से सब्जी, छोले, दाल आदि बनाने के अलावा हम इसका इस्तेमाल बेसन, सत्तू, आदि आदि निर्मित करने के लिए भी करते हैं. आयुर्वेद के अनुसार चना खाने से आपका शरीर सिर्फ स्वस्थ ही नही बल्कि बलवान और शक्तिशाली भी बनेगा. यह जवानों और श्रम करने वालों के लिए बेहतर और ज्यादा फायदेमंद खाद्य विकल्प माना जाता है क्योंकि इसे पचाने के लिए पाचन शक्ति का अच्छा होना भी जरूरी है.
आइए इस लेख के माध्यम से हम काबुली चने के विभिन्न फ़ायदों को जानें.

1. शरीर की मजबूती के लिए

यदि आप चाहते हैं कि आपका शरीर बेहद सख्त और मजबूत बने तो आपको काबुली चने की सहायता लेनी चाहिए. इसके लिए आपको काबुली चने को अंकुरित करके रोज सुबह खाना चाहिए. इससे आपको कई अन्य स्वास्थ्य लाभ होने के साथ ही शरीर की मजबूती का लाभ भी मिलेगा.

2. वीर्य की पुष्टि के लिए
काबुली चने का इस्तेमाल शारीरिक मजबूती के साथ ही वीर्य की पुष्टि के लिए भी किया जाता है. इसके लिए आपको काले की 25 ग्राम मात्रा जिसे धीरे-धीरे बढ़ाकर 50 ग्राम तक कर लें, खाने के बाद एक ग्लास दूध पीना होगा. इससे आपको फायदा मिलेगा.

3. टॉनिक के रूप में
काला चना तमाम पौष्टिक पदार्थों स युक्त होता है. यदि आप इसे अंकुरित कर दें तो इसकी पौष्टिकता में काफी वृद्धि हो जाती है. तो टॉनिक के रूप में इसका इस्तेमाल करने के लिए आपको इसे अंकुरित करके खाना होगा.

4. बेहतर स्वास्थ्य के लिए
बेहतर स्वास्थ्य के लिए आपको काबुली चना से अच्छा और सस्ता विकल्प नहीं मिल सकता है. इसके नियमित इस्तेमाल से आपकी मांसपेशियों को मजबूती प्रदान करता है. इसमें मौजूद पोषक तत्व आपको कई बिमारियों से दूर रखने का काम करते हैं.

5. चर्म रोग दूर करने में
काला चना से होने वाले कई लाभों में से एक ये भी है कि इसका इस्तेमाल चर्म रोग दूर करने के लिए भी किया जाता है. इसका सेवन आपके चमड़ों की कई बिमारियों को दूर करने का काम करता है.

6. दिल की बिमारियों को दूर करने में
काबुली चने का इस्तेमाल आप दिल की मजबूती और इसे कई तरह की परेशानियों से बचाने के लिए भी कर सकते हैं. इसलिए यदि आप अपने दिल को मजबूत और स्वस्थ बनाना चाहते हैं तो आज से ही काबुली चना का सेवन शुरू कर दीजिए.

7. फेफड़े की मजबूती के लिए
काबुली चना को अंकुरित करके खाने के चमत्कारिक फायदे हैं. फेफड़ों की मजबूती इन्हीं में से एक है. यदि आप अपने फेफड़े की मजबूती चाहते हैं तो तो आपको काबुली चने अंकुरित करके नियमित रूप से खाने चाहिए.

8. खून में वृद्धि के लिए
कई लोगों के शरीर में खून की कमी हो जाती है. यदि आप इसे दूर करना चाहें तो इसके लिए आपको काला चना का सेवन करना होगा. इसके नियमित सेवन से आपके शरीर में खून की वृद्धि होने लगती है.

9. कोलेस्ट्राल को कम करने में
खून में कोलेस्ट्राल की अनावश्यक वृद्धि कई तरह की परेशानियों का कारण बन सकता है. इसलिए ये बेहद जरुरी है कि खून में से कोलेस्ट्राल की अनावश्यक वृद्धि को रोका जाए. इसके लिए आपको काबुली चना का नियमित सेवन करना चाहिए.

10. वजन बढ़ाने के लिए
जो लोग अपने कम वजन या दुबले-पतले शरीर को लेकर परेशान रहते हैं, काबुली चना उनकी परेशानी दूर आर सकता है. इसके लिए आपको काबुली चने को अंकुरित करके इसका नियमित इस्तेमाल करना चाहिए. इससे आपके वजन में निश्चित रूप से वृद्धि होती है.
 

आम खाने के फायदे - Aam Khane Ke Fayde!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
आम खाने के फायदे - Aam Khane Ke Fayde!

आम को फलों का राजा कहा जाता है और इसके स्वाद से सभी परिचित हैं लेकिन क्या आप इस बात से परिचित हैं कि यह आपके शरीर से सभी संक्रमण एवं विकारों का नाश करता है और इस बात को सुनिश्चित करता है कि आपका शरीर सुखद और स्वस्थ रहें. जी हाँ, आम की मिठास और मुँह में पानी ले आने वाली सुगंध आपके जीभ को तो संतुष्ट करती ही है परंतु साथ में यह आपके स्वास्थ्य को बनाये रखने में और शरीर को रोगों से संरक्षण प्रदान करने में भी सहायक है. आम विटामिन ए, सी और ई के साथ-साथ पोटेशियम, मैग्नीशियम, तांबा, कैल्शियम और फास्फोरस जैसे खनिजों के सबसे समृद्ध स्रोतों में से एक हैं. यह प्री-बायोटिक आहार फाइबर और पॉली फेनोलिक फ्लैवोनॉइड एंटीऑक्सीडेंट यौगिकों से भरपूर है.
आइए इस लेख के माध्यम से हम आम के फायदे और नुक़सानों को जानें.

1. करे पाचन शक्ति में सुधार
आम में मौजूद उच्च फाइबर सामग्री हमारे पाचन और मल-त्याग की स्वाभाविक प्रक्रिया को उत्तेजित एवं नियमित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. आपको बता दें कि आम खाने से क्रोहन रोग जैसे गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल विकारों को भी रोकने में मदद मिलती है. यही नहीं आम का सेवन फल, कब्ज और पेट के अल्सर से राहत प्रदान करने में समर्थ है. आम में ऐसे कई एंजाइमों की उपस्थिती होती है जो कि कार्बोहाइड्रेट और प्रोटीन के पाचन को बढ़ावा देते हैं, जिससे भोजन को उर्जा में बदलने को बढ़ावा मिलता है.

2. बचाए हीट स्ट्रोक से
गर्मी के दिनों में अपने देश के कई हिस्सों में लू और इसी तरह के गर्मी से उत्पन्न होने वाली समस्याओं को खत्म करने के लिए लोग आम पन्ना के खट्टे-मीठे एवं रसीले स्वाद का आनंद लेते हैं. हीट स्ट्रोक जैसे खतरे को कम करने के लिए, यह अत्यंत आवश्यक है कि आपके शरीर में हमेशा तरल पदार्थों पदार्थ का स्तर उच्च बना रहे. इसके साथ ही आम, पोटेशियम का भी एक महत्वपूर्ण स्रोत है. आपको बता दें कि शरीर में सोडियम के स्तर को बनाये रखने में मददगार है.

3. कैंसर से लड़े
आम के स्वास्थय लाभों में से एक है कैंसर से लड़ने की इसकी क्षमता. उच्च कोटी के फाइबर, कई फिनोल और एंजाइम एवं विटामिन सी की इसमें मौजूदगी के कारण ही इसमें ये कैंसर विरोधी क्षमता आ पाती है. कई अध्ययनों के अनुसार आम में उपस्थित एंटी-कैंसर और एंटीऑक्सीडेंट यौगिक हमारे फेफड़े, त्वचा, पेट, स्तन, ल्यूकेमिया और प्रोस्टेट कैंसर के विरुद्ध रक्षा प्रदान करने का काम कर सकते हैं. इसके साथ ही आम में कैंसर रोधी यौगिक प्रभावी ढंग से बिना स्वस्थ एवं सामान्य कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाये, कैंसर की कोशिकाओं की शरीर से निकासी में मदद करते हैं.

4. कोलेस्ट्रॉल को कम करने में
आम का नियमित रूप से सेवन करने से आप अपने कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रण में रख सकते हैं. क्योंकि आम में प्रचुर मात्रा में मौजूद विटामिन सी, पेक्टिन और फाइबर कोलेस्ट्रॉल के साथ ही 'खराब' एल.डी.एल (LDL) कोलेस्ट्रॉल में कमी लाने में सहायक है. यही नहीं ये रक्त में ट्राइग्लिसराइड्स को भी कम करने में भी मददगार है. यही नहीं आम, पोटेशियम का भी एक समृद्ध स्रोत है, जो तंत्रिका तंत्र में रक्त संचार को बढ़ाने में काफी मददगार साबित होता है.

5. यौन जीवन में सुखदायक
फलों के राजा आम एक उत्तम कामोद्दीपक फल के रूप में भी जाना जाता है. इसके कारण इसमें मौजूद विटामिन ई की प्रचुर मात्रा है. विटामिन ई सेक्स हार्मोन को विनियमित करने और कामेच्छा को बढ़ावा देने का काम करता है. इसके साथ ही इसमें मैग्नीशियम और पोटेशियम की भी उच्च मात्रा पाई जाती है सेक्स हार्मोन के उत्पादन को प्रोत्साहित करने वाले आवश्यक तत्वों में से एक है. आम पुरुषों में हिस्टामिन उत्पादन को बढ़ावा देता है, जो संभोग सुख तक पहुँचने के लिए आवश्यक है.

6. स्मरण-शक्ति को बनाए तीव्र
आप आम के सेवन से अपनी स्मरण-शक्ति को बढ़ाने के साथ ही अपनी एकाग्रता के स्तर में भी सुधार ला सकते हैं. आम में पाया जाने वाला ग्लुटामिन एसिड याद्दाश्त और मानसिक सतर्कता को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. इसके साथ ही आम, मस्तिष्क की कार्यशीलता को बनाये रखने और उसमें सुधार लाने के लिए एक महत्वपूर्ण तत्व विटामिन बी-6 से भी भरपूर है.

7. आँखों के लिए
आम एक ऐसा फल है जिसमें विटामिन ए की उच्च मात्रा में मौजूदगी होती है जो कि नेत्र स्वास्थ्य के लिए एक महत्वपूर्ण पोषक तत्व माना जाता है. विटामिन ए अच्छी दृष्टि को बढ़ावा देकर इससे संबन्धित विभिन्न बीमारियों जैसे रतौंधी, मोतियाबिंद, धब्बेदार अध: पतन, शुष्क आँखें, मुलायम कॉर्निया और सामान्य नेत्र असुविधा आदि से हमारे आँखों की रक्षा करता है. इसके साथ ही फलों के राजा आम में बीटा कैरोटीन, अल्फा-कैरोटीन और बीटा करयप्टोसानथीन जैसे फ्लावोनोइड्स की भी प्रचुर मात्रा पाई जाती है जो अच्छा दृष्टि के लिए आवश्यक हैं.

8. प्रतिरक्षातंत्र की मजबूती के लिए
आम में प्रचुरता से मौजूद विटामिन सी और ए की मात्रा हमारे प्रतिरक्षा तंत्र को स्वस्थ और मजबूत बनाए रखने का काम करती है. आम में निहित विटामिन ए भी प्रतिरक्षातंत्र की कार्यशीलता को उत्तेजित करने के लिए बेहद आवश्यक साबित होता है. यह त्वचा और मेम्ब्रेन के स्वास्थ्य को बनाये रखने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. इस कारण से विभिन्न हानिकारक बैक्टीरिया और कवक के प्रवेश के खतरे कम हो सकते हैं. विटामिन सी हमारे त्वचा को स्वस्थ बनाकर इसमें संक्रामक कणों को घुसने से रोकती है. यही नहीं ये सफेद रक्त कोशिकाओं के उत्पादन को प्रोत्साहित करके हमारी प्रतिरक्षा और भी मजबूत बन जाती है. इसके अलावा आम में मौजूद 25 विभिन्न प्रकार के कैरोटेनॉयड्स भी हमारे प्रतिरक्षा प्रणाली के स्वास्थ्य पर सकरात्मक प्रभाव डालने का काम करते हैं.

आम के नुकसान-

  • आम के अधिक सेवन से रक्त-शर्करा स्तर में बढ़ोतरी हो सकती है. इसलिए मधुमेह के रोगियों को ज़्यादा आम खाने की सलाह नहीं दी जाती है.
  • आम में प्रचुर मात्रा में मौजूद फाइबर भी ज्यादा सेवन करने के कारण आपको दस्त की परेशानी में डाल सकता है.
  • कई लोगों को आम खाने से एलर्जी होने की संभावना भी रहती है.
  • आम में पाया जाने वाला भरपूर कैलोरी आपके वजन में वृद्धि कर सकता है.
  • बहुत अधिक आम खाना शरीर की गर्मी को बढ़ा सकता है.
     

I had inserted multiload in 2014. But I forgotten weather it is of 3 years or 5 years. This month I did not get my mensuration. And what is the symptoms if multiload gets expired? What should I do now?

BHMS
Homeopath, Noida
I had inserted multiload in 2014. But I forgotten weather it is of 3 years or 5 years. This month I did not get my me...
You need to first go for Urine Pregnancy test should be done 10 days after missing your period. For example if your date was 10th, then do the test on 20th. Before that it can give false negative or false positive test. If it’s negative. Then meet your gynaecologist for a checkup to find out about multiload.
Submit FeedbackFeedback
View All Feed

Near By Clinics

Upasana Diagnostic and Clinic

Salt Lake, Kolkata, Kolkata
View Clinic

Upashana Clinic

Salt Lake, Kolkata, Kolkata
View Clinic

Dr Swarup Clinic

Salt Lake, Kolkata, Kolkata
View Clinic

Salt Lake Homoeo Centre

Salt Lake, Kolkata, Kolkata
View Clinic