Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Call Clinic
Book Appointment

Chinmoy Clinic

Homeopath Clinic

116, B B Ganguli Street, Bowbazar Kolkata
1 Doctor · ₹200
Book Appointment
Call Clinic
Chinmoy Clinic Homeopath Clinic 116, B B Ganguli Street, Bowbazar Kolkata
1 Doctor · ₹200
Book Appointment
Call Clinic
Report Issue
Get Help
Services
Feed

About

Our medical care facility offers treatments from the best doctors in the field of Homeopath . We will always attempt to answer your questions thoroughly, so that you never have to worry n......more
Our medical care facility offers treatments from the best doctors in the field of Homeopath . We will always attempt to answer your questions thoroughly, so that you never have to worry needlessly, and we will explain complicated things clearly and simply.
More about Chinmoy Clinic
Chinmoy Clinic is known for housing experienced Homeopaths. Dr. Chinmoy, a well-reputed Homeopath, practices in Kolkata. Visit this medical health centre for Homeopaths recommended by 104 patients.

Timings

MON-SAT
12:00 AM - 02:00 PM 06:00 PM - 09:00 PM

Location

116, B B Ganguli Street, Bowbazar
Bow Bazar Kolkata, West Bengal - 700012
Click to view clinic direction
Get Directions

Doctor in Chinmoy Clinic

Dr. Chinmoy

BHMS
Homeopath
24 Years experience
200 at clinic
Available today
12:00 AM - 02:00 PM
06:00 PM - 09:00 PM
View All
View All

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Chinmoy Clinic

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

I have ringworm on my thy. What I can do this fungal infection. I have it about 4to5 month.

FMC (Fellow in Med.Cosmetology), BHMS, csd
Aesthetic Medicine Specialist, Rajkot
Fungal infection is recurrent Maintain proper hygiene Keep your soap napkins cloths away from other family member otherwise they can get infected Wash your cloth in warm water with detol liquid or other sanitizer Do not keep area wet or perspirated Keep it dry then apply powder then wear cloths Do not eat much sweets For treatment If you are satisfied with our answer, like us here and on fb page Abha Arc Of Unwanted Hair Removal.
Submit FeedbackFeedback

अस्थमा का आयुर्वेदिक इलाज - Asthma Ka Ayurvedic Ilaaj!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
अस्थमा का आयुर्वेदिक इलाज - Asthma Ka Ayurvedic Ilaaj!

अस्थमा श्वसन संबंधी रोग होता है जो सांस लेने में कठिनाई पैदा करता है. अस्थमा में श्वास नलियों की सूजन आ जाती है जिस कारण श्वसनमार्ग संकुचित हो जाता है. श्वसनमार्ग के संकुचित हो जाने से सांस लेते समय आवाज़ आना, श्वास की कमी, सीने में जकड़न और खाँसी आदि समस्याएं होने लगती हैं.
इस लेख के माध्यम से हम आपको अस्थमा का आयुर्वेदिक इलाज बताने जा रहे हैं.

अस्थमा का आयुर्वेदिक इलाज-


* आयुर्वेदिक दवाएं में कोई साइड इफेक्ट्स नहीं होता हैं और सुरक्षित है. यह अस्थमा के इलाज में बहुत हद्द तक कारगर है. कुछ आयुर्वेदिक दवाओं को शामिल कर के अस्थमा को ठीक किया जा सकता है जैसे कंटकारी अवालेह, अगस्त्याप्रश, चित्रक, कनाकसव इत्यादि.
* रात का खाना जितना हल्का हो सके लें व सोने से एक घंटे पहले ही खा लें.
* अस्थमा से बचने के लिए सुबह और शाम को टहलने के लिए निकलें. इसके अलावा योग में आसान भी कर सकते है जैसे ‘प्राणायाम’ और मेडिटेशन.
* अस्थमा के मरीज को मुश्किल एक्सरसाइज करने से बचना चाहिए.
* हवादार कमरे में रहें और सोएं. एयर कंडीशनर, कूलर और पंखों की सीधी हवा से बचें.
* अस्थमा रोगी को ठंडे और नम स्थानों से दूर रहना चाहिए.
* स्मोकिंग,टोबैको और ड्रिंक करने से बचे. कमरे में किसी खुसबूदार चीजे जैसे इत्र अगरबत्ती या अन्य चीजों का प्रयोग ना करें.
* गजर और पालक के उचित अनुपात मरीन मिलकर रोजाना रस पीएं.
* जौ, कुल्थी, बथुआ, द्रम स्तिच्क अदरक, करेला, लहसुन को अस्थमा रोगी को नियमित रूप से लेना चाहिए.
* मूलेठी और अदरक को आधा चम्मच एक कप पानी में डाल कर पीएं.
* तुलसी रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ाती है, इसलिए अस्थमा के मरीजों को तुलसी का सेवन करना चाहिए.
* जो लोग इस रोग का सामना आकर रहे हैं, वह हर मौसम के आगमन पर पंचकर्म की नस्य या शिरोविरेचन की साहयता लें.
* यदि रात में अस्थमा का अटैक आ जाए, तो छाती और पीठ पर गर्म तिल के तेल का सेंक करें.
* घर में एक शीशी प्राणधारा की अवश्य रखें. उसमें अजवाइन का सत् होता है, जिसकी भाप दमा के दौरे में राहत देती है.
* एक चौथाई चम्मच सोंठ, छ: काली मिर्च, काला नमक एक चौथाई चम्मच, तुलसी की 5 पत्तियों को पानी में उबाल कर पीने से भी दमा में आराम मिलता है.
* एक चौथाई प्याज का रस, शहद एक चम्मच, काली मिर्च 1/8 चम्मच को पानी के साथ लें.

अस्थमा के घरेलू उपचार - Asthma Ke Gharelu Upchaar!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
अस्थमा के घरेलू उपचार - Asthma Ke Gharelu Upchaar!

अस्थमा श्वसन संबंधी रोग होता है जो सांस लेने में कठिनाई पैदा करता है. अस्थमा में श्वास नलियों की सूजन आ जाती है जिस कारण श्वसनमार्ग संकुचित हो जाता है. श्वसनमार्ग के संकुचित हो जाने से सांस लेते समय आवाज़ आना, श्वास की कमी, सीने में जकड़न और खाँसी आदि समस्याएं होने लगती हैं. 
आइए इस लेख के माध्यम से हम अस्थमा के घरेलू उपचारों के बारे में जानें ताकि इस विषय में लोगों को जागरूक किया जा सके.

अस्थमा के कारण-

* जीवनशैली में परिवर्तन जैसे मिलावटी आहार और ज्यादा स्पाइसी खाना या सूखे आहार का ज्यादा सेवन
* स्ट्रेस या किसी बात के डर से भी अस्थमा हो सकता है
* ब्लड में किसी तरह का डिफेक्ट
* स्मोकिंग और टोबैको का सेवन
* नजल पाइप में धूल या मिट्टी फंस जाना
* प्रदुषण से होने वाली समस्या
* पर्यावरणीय कारक
* अधिक परिश्रम करना

अस्थमा के लक्षण-
* सांस फूलना और सांस लेने में तकलीफ होती है
* निरंतर खांसी आना
* सांस लेते समय व्हूप की आवाज आना
* छाती में संकुचन
* खांसी के साथ कफ का बाहर नहीं आना

अस्थमा के घरेलू उपचार-
* आयुर्वेदिक दवाएं बहुत सुरक्षित हैं और काफी हद तक समस्या का इलाज है. कुछ आम दवाओं कंटकारी अवालेह, अगस्त्याप्रश, चित्रक, कनाकसव का प्रयोग किया जा सकता है.
* रात का खाना जितना हल्का हो सके लें व सोने से एक घंटे पहले ही खा लें.
* सुबह या शाम टहलें और योग में मुख्य रूप से ‘प्राणायाम’ और भावातीत ध्यान करें.
* अस्थमा के मरीज अधिक व्यायाम करने से बचें.
* हवादार कमरे में रहें और सोएं. एयर कंडीशनर, कूलर और पंखों की सीधी हवा से बचें.
* इस दौरान आपको ठंडे और नम स्थानों से दूर ही रहना चाहिए.
* धूम्रपान चबाने वाली तम्बाकू, शराब और कृत्रिम मिठास और ठंडे पेय न लें. जिन्हें इत्र से इलर्जी हैं, वे अगरबत्ती, मच्छर रेपेलेंट्स का प्रयोग न करें.
* दो तिहाई गाजर का रस, एक तिहाई पालक का रस, एक गिलास रोज पिएं.
* जौ, कुल्थी, बथुआ, द्रम स्तिच्क अदरक, करेला, लहसुन का अस्थमा में नियमित रूप से सेवन किया जा सकता है.
* मूलेठी और अदरक आधा-आधा चम्मच एक कप पानी में लेना बहुत उपयोगी होता है.
* तुलसी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाती है, इसलिए अस्थमा के मरीजों को तुलसी का सेवन करना चाहिए.
* जो लोग इस रोग की चपेट में आ चुके हैं, उनके लिए हर ऋतु के प्रारम्भ में एक-एक सप्ताह तक पंचकर्म की नस्य या शिरोविरेचन चिकित्सा इस रोग की रोकथाम में सहायक होती है.
* दिल्ली के शालीमार बाग स्थित महर्षि आयुर्वेद अस्पताल में इसकी अच्छी व्यवस्था है.
* रात-विरात यदि दमा प्रकुपित हो जाए, तो छाती और पीठ पर गर्म तिल तेल का सेंक करें.
* घर में एक शीशी प्राणधारा की अवश्य रखें. उसमें अजवाइन का सत् होता है, जिसकी भाप दमा के दौरे में राहत देती है.
* एक चौथाई चम्मच सोंठ, छ: काली मिर्च, काला नमक एक चौथाई चम्मच, तुलसी की 5 पत्तियों को पानी में उबाल कर पीने से भी दमा में आराम मिलता है.
* एक चौथाई प्याज का रस, शहद एक चम्मच, काली मिर्च 1/8 चम्मच को पानी के साथ लें.
 

अर्जुन की छाल का उपयोग - Arjun Ki Chhal Ka Upyog!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
अर्जुन की छाल का उपयोग - Arjun Ki Chhal Ka Upyog!

अर्जुन वृक्ष का नाम प्रमुख औषधीय वृक्षों में है. अमरूद की समान पत्तियों वाले लेकिन आकार में इससे बहुत बड़े अर्जुन वृक्ष का वैज्ञानिक नाम टर्मिमिनेलिया अर्जुना है. अलग-अलग क्षेत्रों में इसे धवल, कुकुभ और नाडिसार्ज जैसे नामों से भी जानते हैं. अर्जुन वृक्ष एक सदाबहार यानी हमेशा हरा-भरा आने वाला वृक्ष है. इसका इस्तेमाल ह्रदय रोग में प्राचीन काल से ही होता आ रहा है. अर्जुन वृक्ष के छाल के चूर्ण, काढ़ा, अरिष्ट आदि के रूप में उपयोग किया जाता है. तो आइए इस लेख के माध्यम से अर्जुन वृक्ष की छाल के फायदे को जानें.

1. मुंह के छालों के उपचार में

मुंह के छालों से परेशान व्यक्ति भी अर्जुन की छाल का उपयोग कर सकता है. इसके लिए नारियल के तेल में अर्जुन की छाल का चूर्ण मिलाकर मुंह के छालों पर लगाने से आपकी परेशानी निश्चित रूप से कम होगी. यही नहीं ऐसे थोड़े गुड़ के साथ लेने से बुखार में भी आराम मिलता है.

2. खांसी में
सूखे हुए अर्जुन वृक्ष की छाल का बारीक पाउडर, ताजे हरे अडूसे के पत्तों के रस में मिलाकर इसे फिर से सुखा लें. ऐसा इसी तरह से मिला-मिला कर सात बार के बाद जो चूर्ण बचता है. उसमें शहद मिलाकर खांसी पीड़ित को देने से वो राहत महसूस करता है.

3. मोटापा दूर करने में
मोटापे से परेशान लोग अर्जुन वृक्ष की छाल का काढ़ा सुबह शाम पीकर अपनी परेशानी कम कर सकते हैं. यह मोटापे को इतनी तेजी से कम करता है कि एक महीने में ही इसका असर दिखने लगता है.

4. शुगर में
शुगर के मरीज भी अर्जुन वृक्ष की छाल से अपनी परेशानी खत्म कर सकते हैं. इसके लिए उन्हें अर्जुन वृक्ष की छाल का चूर्ण, देसी जामुन के बीजों के चूर्ण की समान मात्रा के साथ मिलाकर सोने से पहले गुनगुने पानी के साथ लें. दूसरा विकल्प है कि अर्जुन वृक्ष के छाल, कदम की छाल, जामुन की छाल और अजवायन एक समान मात्रा, पीसकर बारीक पाउडर बना लें. इस पाउडर में आधा लीटर पानी मिलाकर काढ़ा बनाएं और इस काढ़े को सुबह शाम 3 सप्ताह तक लगातार प्रयोग करें. इससे मधुमेह में राहत मिलेगी.

5. पेशाब की रुकावट दूर करने में
अर्जुन वृक्ष की छाल से बना हुआ काढ़ा पीने से पेशाब की रुकावट दूर होती है. इसके लिए अर्जुन वृक्ष की छाल को पीसकर दो कप पानी में उबालें जब जब पानी आधा रह जाए तो इसे ठंडा होने के बाद रोगी को पिलाएं. दिन में एक बार पिलाने से यह पेशाब की रुकावट को दूर कर देता है.

6. उच्च रक्तचाप को कम करने में
अर्जुन वृक्ष की छाल काफी लाभदायक साबित होती है. दरअसल इसकी छाल कोलेस्ट्रॉल को कम करके लिपिड ट्राइग्लिसराइड का स्तर भी घटाते हैं. इसके छाल का सेवन रक्त प्रवाह के अवरोध को भी दूर करता है. इसके लिए आपको एक चम्मच अर्जुन वृक्ष की छाल का पाउडर दो गिलास पानी में आधा रह जाने तक उबालकर इस पानी को सुबह-शाम पिएं. ऐसा करने से बंद हुई धमनियां खुल जाएंगी और कोलेस्ट्रॉल का स्तर भी कम हो जाएगा.

7. बालों के विकास के लिए
अर्जुन वृक्ष की छाल का उपयोग हम बालों के विकास के लिए भी कर सकते हैं. सर के बाल में अर्जुन वृक्ष की छाल और मेहंदी का मिश्रण लगाने से सर के बाल सफेद से काले होने लगते हैं. इससे बालों में मजबूती भी आती है.

8. त्वचा के लिए
त्वचा की कई समस्याओं को खत्म करने में अर्जुन वृक्ष के छाल का असर प्रभावशाली होता है. अर्जुन वृक्ष की छाल, बदाम, हल्दी और कपूर की एक समान मात्रा को पीस कर उबटन की तरह चेहरे पर लगाएं ऐसा करने से चेहरे के सारे रिंकल्स चले जाते हैं और चेहरे में निखार आता है.

9. सूजन को कम करने में
भी अर्जुन वृक्ष के छाल की सकारात्मक भूमिका है. इसके लिए अर्जुन वृक्ष की छाल का महीन पिसा हुआ चूर्ण 5 से 10 ग्राम मात्रा में क्षीरपाक विधि से खिलाने से हृदय रोग के साथ-साथ इससे पैदा होने वाली सूजन में भी कमी आती है. इसके अलावा लगभग 1 से 3 ग्राम चूर्ण खिलाने से सूजन में कमी आती है. उससे संबंधित परेशानियां भी दूर होती हैं

10. ह्रदय से हृदय के विकारों में
ह्रदय से संबंधित तमाम विकारों जैसे की अनियमित धड़कन और सूजन आदि को दूर करने में भी अर्जुन वृक्ष का छाल सहायक होता है. यह स्ट्रोक के खतरे को भी कम करती है. इसके लिए अर्जुन वृक्ष की छाल को जंगली प्याज की समान मात्रा के साथ मिलाकर चूर्ण बनाएं इस चूर्ण को रोजाना आधा चम्मच दूध के साथ हृदय रोगी को देने से हृदय की मांसपेशियों को मजबूती मिलती है. ये ब्लॉकेज में भी लाभदायक होता है. खाना खाने के बाद दो चम्मच लगभग 20 mm अर्जुनारिष्ट आधा कप पानी में मिलाकर दो 3 माह तक पीने से हृदय रोगियों को तमाम परेशानियों से मुक्ति मिलती है.

1 person found this helpful

I am very sad with my problems. My habit to do masturbating daily. Can you suggest me what shall I do. Or Any side effects to do. masturbation daily.

MD - Psychiatry
Psychiatrist, Chennai
I am very sad with my problems. My habit to do masturbating daily. Can you suggest me what shall I do. Or Any side ef...
Masturbation is a very healthy form of sexual outlet, do not feel guilty about it. Once or twice a day is very much normal. Nearly 99% of men and more than 60% of women masturbate. It starts from adolescence and goes on in some people even till death. The pleasure (orgasm) from masturbation is said to be unique from sexual intercourse. In men, most of the liquid contains only water and some fructose and hormones. Hence it does not drain your energy. Many equate masturbation/ seminal fluid loss to lack of energy, impotency and so on. Many quacks, religious heads and pseudo healers also propagate the idea that masturbation is a disorder/ and wrongful behaviour and instil fear on the mind of innocent men and women (we can see posters in train and bus stand, offering help for this behaviour). Consult a psychiatrist, if you have excessive masturbation guilt or compulsive masturbation. Compulsive masturbation is when a person continues with frequent masturbation neglecting his/ her other work like education, job or social obligations. In fact masturbation reduces the sexual tension and helps focus on task at hand better.
Submit FeedbackFeedback

My baby is 3 months old she said having discharge from her left eye from almost two n half months I used toba eye drops den ciplox eye drops but still it a not getting well what do I do?

BHMS
Homeopath, Noida
My baby is 3 months old she said having discharge from her left eye from almost two n half months I used toba eye dro...
Is it watery, If so, It can be because of Nasolacrimal duct blockage. Meet some opthalmologist, he will teach you some exercise.
Submit FeedbackFeedback

I ejaculate very early before going on bed. What reason of that situation? Please inform me Kindly.

Sexologist, Delhi
I ejaculate very early before going on bed. What reason of that situation? Please inform me Kindly.
Dear Shakeel, Don't worry your problem is totally curable. May be you are suffering from premature ejaculation. It is a problem in which both the partners are not equally satisfied during sexual intercourse. The person is ejaculating before penetration. For more information about treatment please consult us privately on Lybrate.
Submit FeedbackFeedback

Infertility In Men And Women!

MD - General Medicine
Sexologist, Delhi
Infertility In Men And Women!

Infertility is a widespread problem. for about one in five infertile couples the problem lies solely in the male partner and in another quarter, both partners have problems. In most cases, there are no obious symptoms or signs of infertility. Intercourse, erection and ejaculation will usually happen without difficulty. The quantity and appearance of the ejaculated semen generally appears normal to the naked eye. Medical tests are needed to find out if a man is infertile. Male infertility is usually caused by problems that affact either sperm production or sperm transport. Through medical testing, the doctor may be able to find the cause of the problem.

1 person found this helpful

Acne Myths!

MD - Dermatology
Dermatologist, Ahmedabad
Acne Myths!

Myths vs facts:
Myth: junk food causes acne.

Fact: there is no correlation between junk food/oily food/spicy food with acne.

There is, however, a recent evidence connecting foods having high glycemic index with triggering of acne. These foods include-white rice, sugary drinks, sweets-items that can raise the blood sugar and insulin levels quickly.
This said they need not be completely restricted.

2 people found this helpful

Frozen shoulder!

FSS, BPTh/BPT, PGDDCN(Dietetics and Clinical Nutrition)
Physiotherapist, Noida
Frozen shoulder!

Frozen shoulder is characterized by progressive pain and stiffness of the shoulder which usually resolves spontaneously after about 18 months. 

There are three phases that the condition will pass through; 
A freezing phase where the joint tightens up, a stiff phase where the movement in the shoulder is significantly reduced and a thawing phase where the pain gradually reduces and mobility increases.


Clinical features

  • Age - 40 - 60 yrs
  • History of trauma, often trivial followed by aching in the arm and shoulder.
  • Tenderness
  • Stiffness
  • Wasting

Cardinal features: stubborn lack of active and passive movements of shoulder in all directions.

Treatment: 

  • One should seek proffessional advise before attempting any frozen shoulder rehab.
  • Treatment is divided into two modes: conservative. And surgical.
  • Conservative treatment: physiotherapy plays an important role in the prevention as well as resolution of this condition. It aims to releive pain and prevent further stiffening with:
  • Rest
  • Non steroidal anti inflammatory drugs
  • Electrotherapy - ultrasound, tens & laser treatment may also help reduce pain and inflammation.

Therapeutic exercises

1 Pendulum exercise

2 Wand exercises

3 Therapist assisted mobilizations

4 Stretches - 

  • Shoulder flexion stretch
  • External rotation stretch
  • Chest stretch
  • Posterior shoulder stretch

 
5 Strengthening exercises

  • Isometrics shoulder exercises
  • Postural exercises - scapular squeezes

6 Taping

  • Surgery 
  • Surgery is the last resort if normal treatment has failed.
View All Feed

Near By Clinics

Dr. Desai Dental Clinic

New C.I.T. Road, Kolkata, Kolkata
View Clinic

Dr. Melvin Mao, Dental Clinic

Chittaranjan Avenue, Kolkata, Kolkata
View Clinic

Dr. Melvin Mao, Dental Clinic

Chittaranjan Avenue, Kolkata, Kolkata
View Clinic

SMYLZ DENTAL CARE

Weston Street, Kolkata, Kolkata
View Clinic