Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Call Doctor
Book Appointment

Dr. Jaydip Revadekar

MBBS, MD

Internal Medicine Specialist, Kolhapur

7 Years Experience  ·  100 - 500 at clinic  ·  ₹500 online
Dr. Jaydip Revadekar MBBS, MD Internal Medicine Specialist, Kolhapur
7 Years Experience  ·  100 - 500 at clinic  ·  ₹500 online
Submit Feedback
Report Issue
Get Help
Reviews
Services
Feed

Personal Statement

To provide my patients with the highest quality healthcare, I'm dedicated to the newest advancements and keep up-to-date with the latest health care technologies....more
To provide my patients with the highest quality healthcare, I'm dedicated to the newest advancements and keep up-to-date with the latest health care technologies.
More about Dr. Jaydip Revadekar
Dr. Jaydip Revadekar is a trusted Internal Medicine Specialist in Nave Balinge, Kolhapur. He has been a successful Internal Medicine Specialist for the last 7 years. He studied and completed MBBS, MD . You can consult Dr. Jaydip Revadekar at Mauli Janseva Hospital in Nave Balinge, Kolhapur. Book an appointment online with Dr. Jaydip Revadekar on Lybrate.com.

Lybrate.com has a nexus of the most experienced Internal Medicine Specialists in India. You will find Internal Medicine Specialists with more than 30 years of experience on Lybrate.com. You can view profiles of all Internal Medicine Specialists online in Kolhapur. View the profile of medical specialists and their reviews from other patients to make an informed decision.

Info

Specialty
Education
MBBS - LSMU - 2011
MD - LSMU - 2016

Location

Book Clinic Appointment with Dr. Jaydip Revadekar

Mauli Janseva Hospital

Mauli janseva hospital ,maine road at/post-Haladi, KolhapurKolhapur Get Directions
100 at clinic
...more

Mauli janseva hospital

Main road haladi tal karveerKolhapur Get Directions
500 at clinic
...more
View All

Consult Online

Text Consult
Send multiple messages/attachments. Get first response within 6 hours.
7 days validity ₹500 online
Consult Now
Phone Consult
Schedule for your preferred date/time
15 minutes call duration ₹500 online
Consult Now
Video Consult
Schedule for your preferred date/time
15 minutes call duration ₹500 online
Consult Now

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr. Jaydip Revadekar

Your feedback matters!
Write a Review

Reviews

Popular
All Reviews
View More
View All Reviews

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

The child is having allergic cough. Which medicine in how much quantity for how many days should be given? Can we give indikof ls? Thanks in advance for the advice.

MD - Alternate Medicine, BHMS
Homeopath, Surat
Yes, you can give it to him. And give her honey 1 spoon daily 2 times. Water warmed and tulsi within it will also help her. Take care. :)
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

My 11 months she is having cough from last 2 days and running nise as well giving Kufril LS drops 3 times a day .How many days it will take to recover any precaution need to be taken?

Diploma in Child Health (DCH), F.I.A.M.S. (Pediatrics)
Pediatrician, Muzaffarnagar
My 11 months she is having cough from last 2 days and running nise as well giving Kufril LS drops 3 times a day .How ...
Cold and cough are usually due to viral infection. It may take 4-6 days to recover. To maintain Hygiene is best precaution.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

My mom suffer from allergy. She always suffer to cold what do you suggest. Pls help me.

MBBS
General Physician, Faridabad
Its allergic problem, no permanent cure, 1tab sinarest hs, steam inhalation. It will help. Welcome for further help.
Submit FeedbackFeedback

Hi Mam I want to loose my weight as I am living in chennai for job N this job is totally a sitting job. Please let me know how to loose.

BHMS
Homeopath, Faridabad
Hi Mam I want to loose my weight as I am living in chennai for job N this job is totally a sitting job. Please let me...
Hello, homoeopathy has the best answer for your query. You can lose weight with the help of homoeopathic medicines, without any side effects. This involves correction your metabolism. 1. Take phytolacca berry tablets (wsi), 2 tablets with warm water, three times a day, half an hour before meals. 2. Fatoline drops from haslab, 15 drops + 1/2 cup of warm water, twice a day. 3. Take 1 glass of luke warm water with lemon juice and honey in the morning for 15 days in a month. 4. Take 1 cup of green tea in the evening daily. 5. Do surya namaskar, yoga asans like bhujangasana (cobra pose), sarvangasana (shoulder stand pose, vajrasana (diamond pose), pavanamuktasana (wind-relieving pose), matsyasana (fish pose) 6. Avoid sweets, oily, spicy, junk food, chocolates. 7. Drink plenty of water daily. 8. Eat good quantity of green vegetables, salad and fruits.
Submit FeedbackFeedback

I am suffering from weight problem how can I loss my heavy weight can you help me.

BAMS, Diploma in Skin Aesthetics, Cosmetology and Trichology, Diploma in skin aesthetics, Diploma in cosmetology, Diploma in Trichology, Diploma in Nutrition & Diet Planning, MDscholar
Trichologist, Mumbai
I am suffering from weight problem how can I loss my heavy weight can you help me.
There are lot of weight loss programs available. Eating less and exercising more is the main concept. At the same time you should not deprive your body of essential nutrients try reducing your sugar, oily and fried stuff. Include more salads and proteins like sprouts, dal, paneer, curd.
Submit FeedbackFeedback

I am always sleepy and feel tired in day time. I have diabetic. I am 55 years old.

Vaidya Visharad
Sexologist, Narnaul
Dear, Diabetes is often called the silent killer. Diabetes, is a metabolic disease in which sugar does not get metabolized properly in the body. This means that the blood sugar levels continue to be high, threatening the normal functioning of the body. According to Ayurveda There are 20 forms of Diabetes : 4 are due to Vata, 6 result from Pitta, and 10 are caused by Kapha. But Diabetes (MADHUMEHA) is.Mainly kapha dosha disease. Poorly managed diabetes can lead to a host of long-term complications like :- Heart attacks, Strokes, Blindness, Nerve damage, Amputation of Limb. Impotency in men.Visit us at www.Malhotraayurveda.Com

Chirata (Swertia Chirata) Benefits and Side Effects in Hindi - चिरायता के फायदे और नुकसान

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Chirata (Swertia Chirata) Benefits and Side Effects in Hindi - चिरायता के फायदे और नुकसान

संस्कृत में किराततिक्त या भूनिम्ब के नाम से उल्लिखित चिरायता का वैज्ञानिक नाम स्वीर्टिया चिरेटा है. यह पूरे भारत में पाया जाता है लेकिन इसके बारे में सबसे पहले यूरोप में 1839 में पता चला था. स्वाद में बेहद कड़वा लगाने वाले चिरायता का औषधीय उपयोग तवचा की समस्याओं, बुखार, सूजन आदि में किया जाता है. 2-3 फूट की ऊंचाई और चौड़ी पत्तियों वाली चिरायता का फल सफ़ेद रंग का होता है. चिरायता में सूखापन, गर्म, कड़वापन और तीखापन का गुण मौजूद होने के कारण इसका उपयोग कफ, पित्त और वात में संतुलनल बनाने के लिए भी किया जाता है. आइए चिरायता से होने वाले फायदे और नुकसान पर विस्तार से नजर डालें.

1. वजन कम करने में
वजन कम करना आज एक प्रमुख समस्या बन गया है. कई तरह की दवाएं आज बाजार में उपलब्ध हैं. लेकिन यदि अप चाहें तो चिरायता के प्रयोग से अपना वजन आसानी से कम कर सकते हैं. चिरायता में मौजूद मेथेनॉल आपका उपापचय बढ़ाकर आपका वजन कम करता है.
2. प्रतिरक्षा तंत्र की मजबूती में
जाहिर है किसी भी रोग को ठीक करने या उसे न होने के लिए हमारे प्रतिरक्षा तंत्र का भलीभांति काम करना जरुरी है. चिरायता आपके शरीर के प्रतिरक्षा तंत्र को मजबूती देने का काम करता है. इसके अलावा ये हमारे शरीर से तमाम विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने का काम भी करता है.
3. रक्तशोधक के रूप में
चिरायता स्वाद में कड़वा होता है. इसलिए ये भी करेला या नीम जो कि स्वाद में कड़वा होता है, की तरह ही एक रक्त शोधक के रूप में काम करता है. इसके साथ ही ये एनीमिया से भी आपको बचाता है.
4. लीवर की समस्याओं में
चिरायता हमें लीवर की विभिन्न समस्याओं से लड़ने में भी मदद करती है. फैटी लीवर, सिरोसिस और कई अन्य लीवर से संबंधित बीमारियों को चिरायता लीवर की कोशिकाओं को रिचार्ज करके दूर करता है. चिरायता को एक अच्छा लीवर डिटॉक्सीफायर माना जाता है और ये लीवर की कोशिकाओं के काम-काज को उत्तेजित करती है.
5. कब्ज में
कब्ज पेट से जुड़ी हुई बीमारी है. चिरायता इसके इलाज के लिए एक बहुत अच्छा विकल्प है. इसके लिए चिरायता के पौधे से बना काढ़ा तब तक पीना चाहिए जब तक की कब्ज ठीक न हो जाए.
6. त्वचा रोगों में
चिरायता का अर्क त्वचा से संबंधित कई रोगों से आपकी रक्षा करता है. त्वचा पर चकते निकलना या सूजन में भी चिरायता का पेस्ट बनाकर लेप लगाने से ये आराम पहुंचाता है. इसके अलावा ये घावों और पिम्पल्स को भी ठीक करता है.
7. सोरायसीस में
सोरायसिस के उपचार में भी चिरायता की सक्रीय भूमिका होती है. इसके लिए 4-4 ग्राम कुटकी और चिरायता एक कांच के बर्तन में 125 ग्राम पानी डालकर रख दें फिर अगली सुबह उस पानी को निथार कर पिएं और 3-4 घंटे तक कुछ न खाएं. लगातार दो सप्ताह ऐसा करने से आपको सोरायसिस में राहत मिलती है.
8. शुगर को नियंत्रित करने में
रक्त शर्करा को नियंत्रित करने की चिरायता के क्षमता का उपयोग हम शुगर के उपचार में कर सकते हैं. इसका कड़वा स्वाद रक्त शर्करा के कई दोषों को दूर करने में हमारी मदद करता है. चिरायता अग्नाशयी कोशिकाओं में इन्सुलिन के उत्पादन को प्रोत्साहित करके रक्त शर्करा को कम करता है.
9. गठिया में
गठिया एक ऐसी बिमारी है जिसमें जोड़ों में दर्द और कभी-कभी सूजन भी हो जाती है. चिरायता में सूजन को कम करने की क्षमता होती है जिसके कारण ये गठिया से भी हमें बचाता है. इसके अलावा इसमें दर्द, सूजन और लालिमा के उपचार में भी इसका प्रयोग किया जा सकता है.
10. आंत के लिए
जाहिर है आंत हमारे शरीर के प्रमुख अंगों में से है. इसमें आई खारबी के कारण कई तरह के विकार हो सकते हैं. आंत की कई बीमारियाँ तो इसमें होने वाले कीड़ों से भी होती है. चिरायता में पाया जाने वाला एंथेल्मिनेटिक गुण हमारे आंत में मौजूद कीड़ों को ख़त्म करता है.
11. बुखार में
चिरायता का लाभ हमें बुखार जैसी कॉमन बीमारियों में भी नजर आता है. खासकरके मलेरिया बुहार में इसका बहुत लाभ मिलता है. बुजुर्गों के लिए तो चिरायता एक वरदान जैसा है क्योंकि इससे आप बहुत प्रभावशाली लेकिन कड़वी टॉनिक के रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं.
12. ब्लोटिंग में
चिरायता के कई उपयोगी गुणों में से एक ये भी है कि ये हमारे पेट में अम्ल उत्पादन को रोकती है. इसके अलावा ये आँतों की सुजन ठीक करके पेट को मजबूती भी देती है. इसकी सहायता से आप दस्त, गैस, ब्लोटिंग आदि समस्याओं से निपट सकते हैं.
13. कैंसर में
कैंसर जैसी बेहद गंभीर बीमारियों से भी चिरायता हमें लड़ने में मदद करता है. जाहिर है कैंसर एक लगभग लाइलाज बिमारी के रूप में आज हमारे बीच मौजूद है. चिरायता का लाभ हमें लीवर कैंसर में मिल सकता है.

चिरायता के नुकसान

  • गर्भवती महिलाएं और स्तनपान कराने वाली महिलाएं इसका इस्तेमाल चिकत्सकीय परामर्श के बाद ही करें.
  • इसकी कड़वाहट से कुछ लोगों को उल्टी भी होने की संभावना रहती है.
  • मधुमेह के मरीज इसके इस्तेमाल में सावधानी बरतें
     

16 people found this helpful

How to reverse Nafld naturally stimulate appetite cure ascites to live healthy life without allopathic medicines please suggest.

MSc Applied Biology, Diploma in Naturopathy
Ayurveda, Delhi
How to reverse Nafld naturally stimulate appetite cure ascites to live healthy life without allopathic medicines plea...
Ascites is the main complication of cirrhosis Decision making on the management of ascites depends on the severity of symptoms and not the presence of ascites in and of itself. The medical management of ascites includes sodium restriction and use of diuretics. I advice on some natural home remedies like some supplements with Antiviral, Hepatoprotective,Appetizer Anti Cancer Anti oxidant, Anti Hepatotoxic (Immunostimulant, Antiallergic natural products without side effects. call for advice.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

From a mnth I'm severely troubling with itching on my body that to only during night time.

MBBS
General Physician, Mumbai
From a mnth I'm severely troubling with itching on my body that to only during night time.
Take tablet cetrizine at night and few tips- Avoid any triggering factor, take folic acid regularly, eat a healthy diet , always be stress free , exercise regularly
2 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback
View All Feed