Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Book
Call

DR.MOTI LAL SHARMA

  4.6  (14 ratings)

Ayurveda Clinic

B-4 ARVIND NAGAR, NEAR BHAWAN CIRCLE,OPP.CENTRAL SCHOOL SCEME GATE NO.-3, AIR FORCE AREA,JODHPUR Jodhpur
1 Doctor · 1 Reviews
Book Appointment
Call Clinic
DR.MOTI LAL SHARMA   4.6  (14 ratings) Ayurveda Clinic B-4 ARVIND NAGAR, NEAR BHAWAN CIRCLE,OPP.CENTRAL SCHOOL SCEME GATE NO.-3, AIR FORCE AREA,JODHPUR Jodhpur
1 Doctor · 1 Reviews
Book Appointment
Call Clinic
Report Issue
Get Help
Feed
Services
Reviews

About

Our medical care facility offers treatments from the best doctors in the field of Proctologist.Our entire team is dedicated to providing you with the personalized, gentle care that you de......more
Our medical care facility offers treatments from the best doctors in the field of Proctologist.Our entire team is dedicated to providing you with the personalized, gentle care that you deserve. All our staff is dedicated to your comfort and prompt attention as well.
More about DR.MOTI LAL SHARMA
DR.MOTI LAL SHARMA is known for housing experienced Ayurvedas. Dr. Motilal Sharma, a well-reputed Ayurveda, practices in Jodhpur. Visit this medical health centre for Ayurvedas recommended by 83 patients.

Timings

MON-THU, SAT-SUN
09:00 AM - 01:00 PM 04:00 PM - 08:00 PM

Location

B-4 ARVIND NAGAR, NEAR BHAWAN CIRCLE,OPP.CENTRAL SCHOOL SCEME GATE NO.-3, AIR FORCE AREA,JODHPUR
Jodhpur, Rajasthan - 342011
Get Directions

Photos (10)

DR.MOTI LAL SHARMA Image 1
DR.MOTI LAL SHARMA Image 2
DR.MOTI LAL SHARMA Image 3
DR.MOTI LAL SHARMA Image 4
DR.MOTI LAL SHARMA Image 5
DR.MOTI LAL SHARMA Image 6
DR.MOTI LAL SHARMA Image 7
DR.MOTI LAL SHARMA Image 8
DR.MOTI LAL SHARMA Image 9
DR.MOTI LAL SHARMA Image 10
View All Photos

Doctor

Dr. Motilal Sharma

BAMS, CERTIFICATE COURSE IN KSHAR-SUTRA SURGERY
Ayurveda
92%  (14 ratings)
5 Years experience
₹200 online
Available today
09:00 AM - 01:00 PM
04:00 PM - 08:00 PM
View All
View All

Services

Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
View All Services

Submit Feedback

Submit a review for DR.MOTI LAL SHARMA

Your feedback matters!
Write a Review

Patient Review Highlights

"knowledgeable" 1 review "Very helpful" 1 review

Reviews

Popular
All Reviews
View More
View All Reviews

Feed

भगन्दर का ईलाज

BAMS, CERTIFICATE COURSE IN KSHAR-SUTRA SURGERY
Ayurveda, Jodhpur
भगन्दर का ईलाज

भगन्दर(fistula in ano.)-
परिचय,कारण,लक्षण,चिकित्सा-

1.भगन्दर परिचय (introduction)-
 -सामान्यतया: रोगी के द्वारा गुदा या मल द्वार से संबधित सभी रोगों को बवासीर या पाइल्स ही समझ लिया जाता है, लेकिन ये जरूरी नहीं है कि मल द्वार से संबंधित रोग पाइल्स ही हो इसमें कई और रोग भी हो सकते हैं। जिन्हें हम पाइल्स समझते हैं।
 भगन्दर में रोगी के मल द्वार के चारो ओर लगभग 4 cm दूरी पर या तो एक फोडा बनता हैं या एक फुडिया बन जाती हैं जिसमें से पानी या मवाद लगातार आता रहता हैं 
 Fistula means reep or pipe like. It may be defined as a chronic granulating tubular tract consisting of fibrous tissues with two openings communicating between two cavities or cavity to cutaneous surface of body. Thus anal fistula has two openings, one on perianal or perineal skin surface and other in anal canal.

 भगन्दर कारण (causes)-
 1. Anal infection
 2. अत्यधिक समय तक बैठना 
 3. इसके अलावा विभिन्न रोगियो पर किये गये अनुसंधान से ये पता चला हैं कि भगन्दर होने का एक प्रमुख कारण अत्यधिक समय तक दुपहिया वाहन या गाडी चलाना या उसकी सवारी करना भी होता हैं 

 भगन्दर के लक्षण -
 1. गुदा या मल द्वार के चारो और किसी फोडे या फुडिया का बनना और उसमें से पानी या पस आना एक या अनेक छिद्र बनना 
 2. कभी कभी बैठने में दर्द होना 
 3. मल त्याग में परेशानी होना 

 चिकित्सा -
 अब तक के क्लीनिक अनुसंधान से ये पता चला हैं कि किसी भी पैथी के मेडिसिनल चिकित्सा से इसको ठीक करना असंभव हैं आयुर्वेदिय क्षार सूत्र चिकित्सा ही इसकी विश्वसनीय चिकित्सा हैं ! आइये चुने.स्वस्थ एवं आनन्दमय जीवन. एल.एन.आयुर्वेद के संग!
 

Sucess Story Of Vitiligo Patient

BAMS, CERTIFICATE COURSE IN KSHAR-SUTRA SURGERY
Ayurveda, Jodhpur
Sucess Story Of Vitiligo Patient

Sucess story of vitiligo patient-

  • नमस्कार दोस्तो आयुर्वेद चिकित्सा पैथी अपने आप में परिपूर्ण चिकित्सा पैथी हैं जिन बीमारियो का ईलाज आधुनिक चिकित्सा पैथी में नहीं हैं उन सभी का ईलाज इस पद्धति में रोग की दशा, जीर्णताजीर्णता के आधार पर संभव हैं अब तक बहुत से रोगी जो सफेद दाग जैसी बीमारी से बहुत सालो से शारीरिक और साथ ही साथ इस रोग के कारण मानसिक रूप से परेशान थे वो 100 % इस रोग से मुक्त हुए हैं ये सब सिर्फ और सिर्फ आयुर्वेद पद्धति का ही एक चमत्कार ही समझ लीजियें
  • ऐसे ही आज हम एक सफेद दाग के रोगी के अर्ध रोग मुक्ति की सफल कहानी बता रहे हैं
  • 15-10-2017 को एक महिला अपने 15 साल की लाडली को लेके एल.एन.आयुर्वेदा एवं क्षार सूत्र क्लीनिक-जोधपुर पर आये और बताया कि मेरी बेटी को 4-5 साल से सफेद दाग की समस्या हैं हमने 8 महिने जोधपुर एम्स में ईलाज करवाया और 6 माह से जोधपुर के विशिष्ट जाने माने त्वक् रोग चिकित्सक से भी ले रहे हैं लेकिन सर ये ठीक होने की बजाय बढता जा रहा हैं तो हमने उन्हे 1 महिने की विशुद्ध आयुर्वेद दवा दी और बोला आप 10-15 दिन में एक बार इसे क्लीनिक पर दिखा देना और साथ में कुछ पथ्यापथ्य भी बताये जो इस रोग में मना होते हैं
  • आज जब दिखाने आए तो बहुत खुश थे और बोला सर सच में ayurveda is the best pathy.
  • आइये चुने.स्वस्थ एवं आनन्दमय जीवन.आयुर्वेद के संग!
     

BAMS, CERTIFICATE COURSE IN KSHAR-SUTRA SURGERY
Ayurveda, Jodhpur

सोरियोसिस और आयुर्वेद चिकित्सा

BAMS, CERTIFICATE COURSE IN KSHAR-SUTRA SURGERY
Ayurveda, Jodhpur
सोरियोसिस और आयुर्वेद चिकित्सा

Psoriasis जिसे आयुर्वेद में"छाल-रोग" कहते हैं जिसमें रोगी की त्वचा रूखी हो जाती हैं तथा त्वचा छाल की तरह हो जाती हैं

  • आयुर्वेद में बहुत सें ऐसे क्षुद्र रोग हैं जिन्हे आधुनिक चिकित्सा पद्धति में psoriasis कहा जाता हैं लेकिन आयुर्वेद में उन्हे विशिष्ट लक्षणो के आधार पर विभेदात्मक नाम से जाना जाता हैं और उन सभी की चिकित्सा भी भिन्न होती हैं
  • आयुर्वेद एक ऐसी चिकित्सा पद्धति हैं जिसमें जीर्ण से जीर्ण त्वचा रोग का ईलाज संभव हैं
  • अगर कोई रोगी जो किसी भी प्रकार के त्वचा रोग से पीडित है,विभिन्न प्रकार के treatment के बाद भी वो उस रोग से मुक्त ना हो पा रहा हो तो एक बार आयुर्वेद की शरण में जरूर आयें

आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति अपने प्रयोजन के आधार पर उस रोगी को रोग मुक्त करके उचित स्वास्थ्य प्रदान करने में सक्षम हैं-

  • सोरियोसिस,
  • पामा,
  • रकसा,
  • विसर्प,
  • शीतपित्त
  • उदर्द
  • अंरूषिका
  • व्यंग
  • कील-मुहांसे
  • सफेद दाग
  • अन्य कोई भी रोग
2 people found this helpful

दूध के प्रयोग से चेहरे में निखार

BAMS, CERTIFICATE COURSE IN KSHAR-SUTRA SURGERY
Ayurveda, Jodhpur
दूध के प्रयोग से चेहरे में निखार

आज हम आपको बताते हैं स्किन को चमकदार और साफ बनाने के लिए, कैसे करे दूध का प्रयोग:

1. यदि आपके पास पर्याप्त समय हो तो रात के समय काजू को दूध में भिगोकर रख दें। इसके बाद सुबह इन काजू को पीस लें और मुल्तानी मिट्टी मिलाएं। इस तरह दूध में भीगे हुए काजू और मुल्तानी मिट्टी का पेस्ट बन जाएगा। इस पेस्ट में नींबू की कुछ बूंदे डाल लें। अब इसे चेहरे पर, हाथों और पैरों पर लगाएं। कुछ देर बाद पानी से धो लें। आपकी त्वचा एकदम निखर जाएगी।
2. गुलाब जल स्किन को कमसिन और गुलाबी बनाए रखता है। यदि गुलाब जल के साथ दूध को मिलाकर उपयोग में लाया जाए तो बेहतर परिणाम मिलता है। गुलाबजल में थोड़ा सा कच्चा दूध मिलाकर चेहरे पर लगाएं। त्वचा चमक जाएगी।
3. रोजाना सुबह या शाम को दूध की मलाई में हल्दी मिलाकर चेहरे पर लगाएं। फिर थोड़ी देर बाद पानी से धो लें। इससे जल्द ही आपके चेहरे पर निखार आ जाएगा।
4. यदि आपकी स्किन ड्राय है तो थोड़ी सी दूध की मलाई लें उसमें शहद मिलाकर त्वचा पर लगाएं, इससे स्किन की ड्रायनेस खत्म हो जाएगी।
5. कच्चे दूध में थोड़ा सा नींबू का रस मिलाकर चेहरे पर लगाएं सूखने पर चेहरा धो लें। स्किन साफ और चमकदार लगने लगेगी।
 

1 person found this helpful

Healthy Laddu

BAMS, CERTIFICATE COURSE IN KSHAR-SUTRA SURGERY
Ayurveda, Jodhpur
Healthy Laddu

दोस्तो अब सर्दी का मौसम शुरू हो रहा हैं इस सर्दी के लिये आज हम आपको 'healthy-laddu' बनाने का formula बता रहे है
इस प्रकार से आप अपने घर पर स्वादिष्ट और पौष्टिक लड्डू बनाइये और पूरे परिवार के साथ इस सर्दी मे खाइये और अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढाईये और हमेशा स्वस्थ रहिये-

Healthy-laddu bnane ka formula-

  • Udad daal
  • Kala chana
  • Shatavari
  • Aswagndha
  • Soyabin
  • Vidhari knd
  • Sbhi 500-500gm lekr pis kr mix kre or use ghee 4kg me bhun de fir usme mishri 3kg milaye or 100-100gm k laddhu bna kr subah saam dudh k sath
  • *ghee 4kg

(नोट-ये तो एक अनुपातित मात्रा है आप इस अनुपात मे लेके कम-ज्यादा बना सकते है 
.शुगर के रोगी इसका सेवन ना करे)
आइये चुने.स्वस्थ और आनन्दमय जीवन.आयुर्वेद के संग

BAMS, CERTIFICATE COURSE IN KSHAR-SUTRA SURGERY
Ayurveda, Jodhpur
https://youtu.be/6M-inV8jZTc
1 person found this helpful

BAMS, CERTIFICATE COURSE IN KSHAR-SUTRA SURGERY
Ayurveda, Jodhpur
1 person found this helpful

BAMS, CERTIFICATE COURSE IN KSHAR-SUTRA SURGERY
Ayurveda, Jodhpur
https://youtu.be/96_9iU9-vh0

BAMS, CERTIFICATE COURSE IN KSHAR-SUTRA SURGERY
Ayurveda, Jodhpur

क्षार सूत्र चिकित्सा फिशर में

BAMS, CERTIFICATE COURSE IN KSHAR-SUTRA SURGERY
Ayurveda, Jodhpur
क्षार सूत्र चिकित्सा फिशर में

Fissure in ano (गुद परिकर्तिका)-
परिचय- गुदा या मल द्वार पर कट लगने से कैंची से काटने सी पीडा. होना ही गुद परिकर्तिका कहलाता हैं
Anal fissure may be defined as a crack or vertical ulcer in the cutaneous lining of lower anal canal from verge to dentate line.
सामान्यतया हम मल द्वार में कट लगने को fissure बोलते हैं
कारण -
Fissure in ano के बहुत से कारण हैं-

1. Constipation-
2. Prolong use of purgative
3. Spasm of anal spincters
4. Proctocolitis
5. Crohn's disease
6. Severe attack of diarrhoea or dysentery
7. लम्बे समय तक या लगातार दुपहिया वाहन को चलाना या उसकी सवारी करना यह fissure in ano. का मुख्य कारण हैं

लक्षण-
1. Pricking, sharp cutting, burning pain during after defecation
2. Bleeding
3. Swelling
4. Discharge and pruritis

चिकित्सा -
Acute fissure की चिकित्सा आयुर्वेदिय शास्त्रिय योगो द्वारा हो सकती हैं
लेकिन ये ही fissure जब chronic हो जाता हैं तो इसकी आयुर्वेद के अनुसार चिकित्सा में क्षार सूत्र चिकित्सा विधि बहुत ही महत्वपूर्ण और उपयोगी हैं
इसके अलावा अन्य किसी भी प्रकार का गुदागत रोग जैसे-

  • Fistula in ano. (भगन्दर)
  • Piles (बवासीर/ मस्सा)
  • Pilonidal sinus (नाडी व्रण / नासूर/ रीड की हड्डी के पास नासूर)
  • Anal warts
  • Hydenitis suppurativa
  • Anal stenosis

इन सभी में क्षार सूत्र चिकित्सा पद्धति बहुत ही उपयोगी सिद्ध हो रही हैं

1 person found this helpful

BAMS, CERTIFICATE COURSE IN KSHAR-SUTRA SURGERY
Ayurveda, Jodhpur

BAMS, CERTIFICATE COURSE IN KSHAR-SUTRA SURGERY
Ayurveda, Jodhpur

BAMS, CERTIFICATE COURSE IN KSHAR-SUTRA SURGERY
Ayurveda, Jodhpur

BAMS, CERTIFICATE COURSE IN KSHAR-SUTRA SURGERY
Ayurveda, Jodhpur

हल्दी के औषधीय गुणधर्म

BAMS, CERTIFICATE COURSE IN KSHAR-SUTRA SURGERY
Ayurveda, Jodhpur
हल्दी के औषधीय गुणधर्म

खाने के स्वाद से लेकर जानलेवा बिमारियों तक सब ठीक करती है हल्दी*
हल्दी औषधीय गुणों का भंडार है तभी तो रसोईघर के साथ ही आयुर्वेद में भी इसका खूब इस्तेमाल किया जाता है।हल्दी न सिर्फ खाने का स्वाद बढ़ाती है बल्कि यह आपको कई तरह बीमारियों से भी दूर रखने में मदद करती है। हल्दी जहां एक ओर खाने का स्वाद और रंग बढ़ा देती है, वहीं इसका उपयोग सौंदर्य वृद्धि और त्वचा की समस्याओं को दूर करने में भी किया जाता है। इसके अलावा हल्दी शरीर को स्वस्थ रखने में भी बहुत सहायक है। निरोग रहने के लिए हल्दी के कुछ बेमिसाल उपाय यहां हैं:-

* पाचन बनाए दुरुस्त
कई रिसर्च के मुताबिक हल्दी रोजाना खाने से पित्त ज्यादा बनता है. इससे खाना आराम से हजम होता है।
* डायबिटीज रखे कंट्रोल
बायोकेमिस्ट्री और बायोफिजिकल रिसर्च की स्टडी के अनुसार हल्दी के नियमित सेवन से ग्लूकोज का लेवल कम और टाइप 2 डायबिटीज का खतरा टल सकता है।
* कैंसर से बचाव
हल्दी एक ताकतवर एंटीऑक्सीडेंट है जो कैंसर पैदा करने वाली कोशिकाओं से लड़ता है।
* खून रखे साफ
हल्दी वाला पानी पीने से खून नहीं जमता और यह खून साफ करने में भी मददगार है।
* दिमाग बनाए स्वस्थ
अगर आप सुबह उठकर गरम पानी में हल्दी मिलाकर पीते हैं तो यह दिमाग के लिए बहुत अच्छा रहता है।
* शरीर की सूजन करे कम
हल्दी में मौजूद करक्यूमिन की वजह से यह जोड़ों के दर्द और सूजन को दूर करने में दवाइयों से भी ज्यादा अच्छा काम करता है।
* बढ़ती उम्र थाम ले
हल्दी का पानी नियमित रूप से पीने से फ्री रैडिकल्स से लड़ने में सहायता मिलती है जिससे शरीर पर उम्र का असर धीरे-धीरे पड़ता है।
* शरीर को डिटॉक्स करने में मददगार
बॉडी को डिटॉक्स करने के लिए गर्म पानी में नींबू, हल्दी पाउडर और शहद मिलाकर पिएं यह ड्रिंक शरीर के विषैले पदार्थ बाहर निकालने में बहुत मददगार है।
* करक्यूमिन रसायन करता है दवा का काम
हल्दी में करक्यूमिन नामक रसायन पाया जाता है जो दवा के रूप में काम करता है और यह शरीर की सूजन कम करने में सहायक होता है।

5 people found this helpful

आयुर्वेद

BAMS, CERTIFICATE COURSE IN KSHAR-SUTRA SURGERY
Ayurveda, Jodhpur
आयुर्वेद

*1. सुबह उठ कर कैसा पानी पीना चाहिए*

 उत्तर - हल्का गर्म

*2. पानी पीने का क्या तरीका होता है*

 उत्तर - सिप सिप करके व नीचे बैठ कर

*3. खाना कितनी बार चबाना चाहिए*

 उत्तर. - 32 बार

*4. पेट भर कर खाना कब खाना चाहिए*

 उत्तर. - सुबह

*5. सुबह का नाश्ता कब तक खा लेना चाहिए*

 उत्तर. - सूरज निकलने के ढाई घण्टे तक

*6. सुबह खाने के साथ क्या पीना चाहिए*
 
 उत्तर. - जूस

*7. दोपहर को खाने के साथ क्या पीना चाहिए*

 उत्तर. - लस्सी / छाछ

*8. रात को खाने के साथ क्या पीना चाहिए*

 उत्तर. - दूध

*9. खट्टे फल किस समय नही खाने चाहिए*

 उत्तर. - रात को

*10. आईसक्रीम कब खानी चाहिए*

 उत्तर. - कभी नही

*11. फ्रिज़ से निकाली हुई चीज कितनी देर बाद*
 *खानी चाहिए*

 उत्तर. - 1 घण्टे बाद

*12. क्या कोल्ड ड्रिंक पीना चाहिए*

 उत्तर. - नहीं

*13. बना हुआ खाना कितनी देर बाद तक खा*
 *लेना चाहिए*

 उत्तर. - 40 मिनट

*14. रात को कितना खाना खाना चाहिए*

 उत्तर. - न के बराबर

*15. रात का खाना किस समय कर लेना चाहिए*

 उत्तर. - सूरज छिपने से पहले

*16. पानी खाना खाने से कितने समय पहले*
 *पी सकते हैं*

 उत्तर. - 48 मिनट

*17. क्या रात को लस्सी पी सकते हैं*

 उत्तर. - नही 

*18. सुबह खाने के बाद क्या करना चाहिए*

 उत्तर. - काम

*19. दोपहर को खाना खाने के बाद क्या करना*
 *चाहिए*

 उत्तर. - आराम

*20. रात को खाना खाने के बाद क्या करना*
 *चाहिए*

 उत्तर. - 500 कदम चलना चाहिए

*21. खाना खाने के बाद हमेशा क्या करना*
 चाहिए

 उत्तर. - वज्रासन

*22. खाना खाने के बाद वज्रासन कितनी देर*
 *करना चाहिए.* 
 
 उत्तर. - 5 -10 मिनट

*23. सुबह उठ कर आखों मे क्या डालना चाहिए*

 उत्तर. - मुंह की लार

*24. रात को किस समय तक सो जाना चाहिए*

 उत्तर. - 9 - 10 बजे तक

*25. तीन जहर के नाम बताओ*

 उत्तर.- चीनी, मैदा, सफेद नमक

*26. दोपहर को सब्जी मे क्या डाल कर खाना*
 *चाहिए*

 उत्तर. - अजवायन

*27. क्या रात को सलाद खानी चाहिए*

 उत्तर. - नहीं

*28. खाना हमेशा कैसे खाना चाहिए*

 उत्तर. - नीचे बैठकर व खूब चबाकर

*29. चाय कब पीनी चाहिए*

 उत्तर. - कभी नहीं

*30. दूध मे क्या डाल कर पीना चाहिए*

 उत्तर. - हल्दी

*31. दूध में हल्दी डालकर क्यों पीनी चाहिए*

 उत्तर. - कैंसर ना हो इसलिए

*32. कौन सी चिकित्सा पद्धति ठीक है*

 उत्तर. - आयुर्वेद

*33. सोने के बर्तन का पानी कब पीना चाहिए*

 उत्तर. - अक्टूबर से मार्च (सर्दियों मे)

*34. ताम्बे के बर्तन का पानी कब पीना चाहिए*

 उत्तर. - जून से सितम्बर(वर्षा ऋतु)

*35. मिट्टी के घड़े का पानी कब पीना चाहिए* 

 उत्तर. - मार्च से जून (गर्मियों में)

*36. सुबह का पानी कितना पीना चाहिए*

 उत्तर. - कम से कम 2 - 3 गिलास 

*37. सुबह कब उठना चाहिए*

 उत्तर. - सूरज निकलने से डेढ़ घण्टा पहल

*38.इस मैसेज को कितने ग्रुप में भेजना चाहिए ।
 उत्तर. सभी ग्रुप में,वह भी जरूर से जरूर।

1 person found this helpful

BAMS, CERTIFICATE COURSE IN KSHAR-SUTRA SURGERY
Ayurveda, Jodhpur

BAMS, CERTIFICATE COURSE IN KSHAR-SUTRA SURGERY
Ayurveda, Jodhpur

मौसमी बुखार व उसमें उपयोगी आयुर्वेदिक काढा

BAMS, CERTIFICATE COURSE IN KSHAR-SUTRA SURGERY
Ayurveda, Jodhpur
मौसमी बुखार व उसमें उपयोगी आयुर्वेदिक काढा

दोस्तो अभी मौसम परिवर्तन के कारण शरीर मे भी क्रियात्मक परिवर्तन हो रहे है तो इसमे ये आयुर्वेदिक काढा उपयोगी सिद्ध होगा-
(वयस्क मात्रा)

  •  Tulasi ptte 7,
  • Sabt dhaniya sukha 1/2 tsf,
  • Chirayata 1/2 tsf,
  • 3 dane kali mirch, thodi adrk,
  • 1 gilas pani lekr dhimi aanch me ubalna
  • Jb
  • Pani 1/2 cup rh jaye
  • To
  • Usme thodi mishri mila kr chhan kr gunguna pi le fir odh kr so jaye.
  • Ye 7 ratri tk leve.
  • Kisi bhi type ka fever ho like-chiknguniya, dengu, viral. It is helpful in many of the cases.
     
3 people found this helpful
View All Feed

Near By Clinics