Lybrate Mini logo
Lybrate for
Android icon App store icon
Ask FREE Question Ask FREE Question to Health Experts
Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}

Dr. Prakash G

BMS

General Physician, Hyderabad

9 Years Experience  ·  50 at clinic
Dr. Prakash G BMS General Physician, Hyderabad
9 Years Experience  ·  50 at clinic
Submit Feedback
Report Issue
Get Help
Feed
Services

Personal Statement

I want all my patients to be informed and knowledgeable about their health care, from treatment plans and services, to insurance coverage....more
I want all my patients to be informed and knowledgeable about their health care, from treatment plans and services, to insurance coverage.
More about Dr. Prakash G
Dr. Prakash G is a popular General Physician in Vanasthalipuram, Hyderabad. He has helped numerous patients in his 9 years of experience as a General Physician. He has completed BMS . He is currently associated with Neha Clinic in Vanasthalipuram, Hyderabad. You can book an instant appointment online with Dr. Prakash G on Lybrate.com.

Lybrate.com has a nexus of the most experienced General Physicians in India. You will find General Physicians with more than 31 years of experience on Lybrate.com. You can find General Physicians online in Hyderabad and from across India. View the profile of medical specialists and their reviews from other patients to make an informed decision.

Info

Specialty
Education
BMS - Indian Medical Council - 2008
Languages spoken
English

Location

Book Clinic Appointment

Plot No:10, Opp.Hmda Park, Near Rythu Bazar, Kamala Nagar, VanasthalipuramHyderabad Get Directions
50 at clinic
...more
View All

Consult Online

Text Consult
Send multiple messages/attachments
7 days validity
Consult Now

Services

View All Services

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

What food we have to eat during dinner, our dinner timing keep changes, how it will effect for diabetes patient, our dinner timing keep changes from 8 pm to 11 pm depend upon the work load, If we eat late night, when can we go for sleep, some doctor suggest , after late night dinner don't go sleep at least 1 to 2 hours and walk 10 to 15 minutes before sleep, this will control sugar, is it doctor advice is correct.

PGDD, RD, Bachelor of Home Science
Dietitian/Nutritionist, Mumbai
What food we have to eat during dinner, our dinner timing keep changes, how it will effect for diabetes patient, our ...
Hye. Thankyou for the query. For a diabetic it is important to understand that you don't have to just randomly restrict foods. You need to learn how to eat more sensibly. The body needs nutrients as per the activity levels or the work you have indulged in. You cannot just not eat dinner or skip eating a certain food randomly. You must eat as per the body's needs. So if dinner is late have a lighter dinner. Avoid fried foods, heavy non vegetarian foods. Stick to whole grains, vegetables and salads. Try to take a mid meal of salads, dairy two hours or so prior to dinner so you don't overeat dinner. If it's very late try to take a small stroll of 15 minutes after dinner to avoid sluggish digestion. Avoid lying down as soon as you have eaten your meal.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I am 30 years of age. I have piles can you please say me whether I can go for laser surgery. I have consulted 3 doctors but no use.

MBBS, MBA (Healthcare)
General Physician, Delhi
avoid constipation. take fiber diet. use green vegetables. take tab pilex one tab 3 times a day. apply anovate cream on anus. consult surgeon.
You found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Can we replace milk with curd on daily basis for a 3 year old. Also can cow milk be given instead of toned.

Diploma in Diabetology, Pregnancy & Diabetes, Hypertension, Cardiovascular Prevention in Diabetes ,Thyroid
General Physician, Sri Ganganagar
Can we replace milk with curd on daily basis for a 3 year old. Also can cow milk be given instead of toned.
Yes you can replace but give him proper balanced diet having salad green vegetables and fruit juices.
You found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I just read about the benefits of alcoholic drinks. What should be the proper amount (for beer, whisky, rum and wine) and frequency of drinking so it's not harmful?

MD - Acupuncture, Ph.D Advance Course in Acupunctre
Acupuncturist, Chennai
I just read about the benefits of alcoholic drinks. What should be the proper amount (for beer, whisky, rum and wine)...
Alcohol is harmful, to make it less harm you can add lemon drops when mixing water, do not add cool drinks iMPORTANT,; Take half an hour to consume 30 ml of alcohol, because our liver need that time for metabolism.
6 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

CIRCUMCISION (Male)

MS - General Surgery, MBBS
General Surgeon, Delhi
CIRCUMCISION (Male)

Circumcision (male)

Circumcision is the surgical removal of the skin covering the tip of the penis. Circumcision is fairly common for newborn boys in certain parts of the world, including the United States. Circumcision after the newborn period is possible, but it's a more complex procedure.

For some families, circumcision is a religious ritual. Circumcision can also be a matter of family tradition, personal hygiene or preventive health care. For others, however, circumcision seems unnecessary or disfiguring. After circumcision, it isn't generally possible to re-create the appearance of an uncircumcised penis.

Why it's done? Risks? How you prepare? What you can expect

Circumcision is a religious or cultural ritual for many Jewish and Islamic families, as well as certain aboriginal tribes in Africa and Australia. Circumcision can also be a matter of family tradition, personal hygiene or preventive health care. Sometimes there's a medical need for circumcision, such as when the foreskin is too tight to be pulled back (retracted) over the glans. In other cases, particularly in certain parts of Africa, circumcision is recommended for older boys or men to reduce the risk of certain sexually transmitted infections.

The American Academy of Pediatrics (AAP) says the benefits of circumcision outweigh the risks. However, the AAP doesn't recommend routine circumcision for all male newborns. The AAP leaves the circumcision decision up to parents - and supports use of anesthetics for infants who have the procedure.

Circumcision might have various health benefits, including:

Easier hygiene. Circumcision makes it simpler to wash the penis. Washing beneath the foreskin of an uncircumcised penis is generally easy, however.
Decreased risk of urinary tract infections. The overall risk of urinary tract infections in males is low, but these infections are more common in uncircumcised males. Severe infections early in life can lead to kidney problems later on.
Decreased risk of sexually transmitted infections. Circumcised men might have a lower risk of certain sexually transmitted infections, including HIV. Still, safe sexual practices remain essential.
Prevention of penile problems. Occasionally, the foreskin on an uncircumcised penis can be difficult or impossible to retract (phimosis). This can lead to inflammation of the foreskin or head of the penis.
Decreased risk of penile cancer. Although cancer of the penis is rare, it's less common in circumcised men. In addition, cervical cancer is less common in the female sexual partners of circumcised men.
Circumcision might not be an option if certain blood-clotting disorders are present. In addition, circumcision might not be appropriate for premature babies who still require medical care in the hospital nursery.

Circumcision doesn't affect fertility, nor is circumcision generally thought to enhance or detract from sexual pleasure for men or their partners.

 

You found this helpful

Iam a 17 yr old male teenager and my headache in continuing from 2 days. please suggest me any immediate solution.

BHMS
Homeopath, Faridabad
Iam a 17 yr old male teenager and my headache in continuing from 2 days. please suggest me any immediate solution.
Hello, Some primary headaches can be triggered by lifestyle factors, including: Alcohol, particularly red wine Certain foods, such as processed meats that contain nitrates Changes in sleep or lack of sleep Poor posture Skipped meals Stress insufficient sleep or rest Overexertion Nutritional deficiencies A secondary headache is a symptom of a disease that can activate the pain-sensitive nerves of the head. Any number of conditions — varying greatly in severity — may cause secondary headaches. Get your blood pressure checked, make a chart. Let me know about the readings, will give you medication accordingly. Also, get eyes tested. Medication: Meantime, can start with homoeopathic medicine - Bakson's Mig Aid tablet/ after every 2 hours.
You found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Hi I am 29 years old. I am suffering from dandruff for last eight years have tried different shampoo and serum but none could solve the problem. I even shave off my head but the problem persisted. Kindly help.

MBBS
General Physician, Mumbai
Hi I am 29 years old. I am suffering from dandruff for last eight years have tried different shampoo and serum but no...
Dandruff can be due to sebarroiec dermatitis or fungal infection or psoriasis which should be diagnosed after a biopsy from the skin of scalp and than plan treatment accordingly.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Hello sir I have tachycardia. I want to join indian army. So please tell me solution.

MBBS
General Physician, Mumbai
Hello sir I have tachycardia. I want to join indian army. So please tell me solution.
Dear lybrateuser, if you get anxious & tense your heartbeat will increase, so do some exercises like walking, light jogging, yoga, meditation, deep breathing which build your confidence & relax your mind. Have a balanced & nutritious diet & proper sleep for atleast 7-8 hrs daily.
You found this helpful
Submit FeedbackFeedback

How many water to take in one day.?

Membership of the Royal College of Surgeons (MRCS)
General Surgeon,
For some one who has a sedentary life style about two litres of water is enough. But if you work out doors in hot sun or you are an athlete or a player, then need for water can be up to five to six litres.
You found this helpful
Submit FeedbackFeedback

What should have to do enjoy sex more time and live a healthy and enjoyful sex life?

MBBS
General Physician, Chennai
What should have to do enjoy sex more time and live a healthy and enjoyful sex life?
Exercise daily practice kegels exercises eat normally meditate have sex frequently to keep the it active.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Meri wife ko 2-3din se toilet karne me problem ho rahi he or baar baar toilet arahi he aisa feel hota he or urine me jalan b ho rahi he or aaj halka sa blood b aaya Hum. Log pregnancy ke liye try kar rahe he Kya usi karan aisa ho raha he Give me any suggestion please I am. Very worried.

PGFCP, PGDEMS, Bachelor Of Ayurvedic Medicine And Surgery
Ayurveda, Satara
DEAR Lybrate USER. You have to follow some basic things so that you get better results in a short period of time. 1) take solid diet two times in a day and liquid diet two times in a day 2) drink only 100-150 ml of lukewarm water during meals. 3) don’t drink water before meal for one hour and one hour after meal 4) avoid oily, spicy, junk, fermented and stale foods. 5) avoid late night sleeping habits 6) avoid coffee and tea. A) take 40 ml of AUDUMBARAVLEHA after meals along with 30 ml of water. B) take 2-2 tablets of leelavilas rasa and chitrakadi vati after meals C) Eat 1 tsf of flax seeds after meals, do all things for 7 days. This formulation is 100% effective. THANKS.
2 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

My sister is 24 year old. Often water comes from his nose. It is around 2-3 times daily many times it is like fluid. Tell me how to cure it.

BHMS
Homeopath, Raebareli
My sister is 24 year old. Often water comes from his nose. It is around 2-3 times daily many times it is like fluid. ...
Please visit a nearby doctor - as it could be simple water and or spinal fluid - this needs to be identified and then treated. If its due to cold then take ammon carb 30 - twice daily 4 pills for next 3 days. If no improvement visit a doctor.
You found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I am suffering for fever within 7days and my eyes going red day by day so what shall I do.

MBBS
General Physician, Mumbai
I am suffering for fever within 7days and my eyes going red day by day so what shall I do.
For fever take tablet paracetamol 650 mg and Get your blood checked for cbc, mp , widal , sgpt and urine r/m and revert back to us with reports
You found this helpful
Submit FeedbackFeedback

My right testis is fat and huge, it looks so awkward. I guess its not normal could you please suggest me anything? Its not paining me but I'm worried about it, I mean is that normal?

MBBS, MS - General Surgery
General Surgeon, Bangalore
My right testis is fat and huge, it looks so awkward. I guess its not normal could you please suggest me anything? It...
Mr. Lybrate-user, I would suggest you consult a surgeon, as it may be filled with fluid or may be some other minor problem which can be sorted out.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

सेक्स में कैसे आती है उत्तेजना

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Sexologist, Allahabad
सेक्स में कैसे आती है उत्तेजना
पेनिस (लिंग) में इरेक्शन विचार से होता है, स्पर्श से होता है। दिमाग में एक सेक्स सेंटर है। जब वह उत्तेजित होता है तो संदेश लिंग की तरफ जाता है। बदन में खून का प्रवाह तेज हो जाता है। पूरे शरीर में पेनिस में खून का प्रवाह सबसे ज्यादा तेज होता है। इसी वजह से लिंग में उत्तेजना ओर स्त्रियों की योनि में गीलापन आता है। पेनिस के इरेक्शन के लिए योग्य हॉर्मोन का होना जरूरी है। पुरुषों में 60 साल के बाद और महिलाओं में 45 साल के बाद हॉर्मोन की कमी होने लगती है।

इरेक्टाइल डिस्फंक्शन क्या है: सेक्स के दौरान या उससे पहले पेनिस में इरेक्शन (तनाव) के खत्म हो जाने को इरेक्टाइल डिस्फंक्शन या नपुंसकता कहते हैं। इरेक्टाइल डिस्फंक्शन कई तरह का हो सकता है। हो सकता है, कुछ लोगों को बिल्कुल भी इरेक्शन न हो, कुछ लोगों को सेक्स के बारे में सोचने पर इरेक्शन हो जाता है, लेकिन जब सेक्स करने की बारी आती है, तो पेनिस में ढीलापन आ जाता है। इसी तरह कुछ लोगों में पेनिस वैजाइना के अंदर डालने के बाद भी इरेक्शन की कमी हो सकती है। इसके अलावा, घर्षण के दौरान भी अगर किसी का इरेक्शन कम हो जाता है, तो भी यह इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की निशानी है।

इरेक्शन सेक्स पूरा हो जाने के बाद यानी इजैकुलेशन के बाद खत्म होना चाहिए। कई बार लोगों को वहम भी हो जाता है कि कहीं उन्हें इरेक्टाइल डिस्फंक्शन तो नहीं। सीधी सी बात है कि आप जिस काम को करने की कोशिश कर रहे हैं, वह काम अगर संतुष्टिपूर्ण तरीके से कर पाते हैं तो सब ठीक है और नहीं कर पा रहे हैं तो समस्या हो सकती है। जिन लोगों में यह दिक्कत पाई जाती है, वे चिड़चिड़े हो सकते हैं और उनका कॉन्फिडेंस लेवल भी कम हो सकता है। वजह: इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की वजह शारीरिक भी हो सकती है और मानसिक भी। अगर किसी खास समय इरेक्शन होता है और सेक्स के समय नहीं होता, तो इसका मतलब यह समझना चाहिए कि समस्या मानसिक स्तर की है। खास समय इरेक्शन होने से मतलब है- सुबह सोकर उठने पर, पेशाब करते वक्त, मास्टरबेशन के दौरान या सेक्स के बारे में सोचने पर। अगर इन स्थितियों में भी इरेक्शन नहीं होता तो समझना चाहिए कि समस्या शारीरिक स्तर पर है। अगर समस्या मानसिक स्तर पर है तो साइकोथेरपी और डॉक्टरों द्वारा बताई गई कुछ सलाहों से समस्या सुलझ जाती है।


- शारीरिक वजह ये चार हो सकती हैं : चार छोटे एस (S) बड़े एस यानी सेक्स को प्रभावित करते हैं। ये हैं : शराब, स्मोकिंग, शुगर और स्ट्रेस।- हॉर्मोंस डिस्ऑर्डर्स इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की एक खास वजह है।- पेनिस के सख्त होने की वजह उसमें खून का बहाव होता है। जब कभी पेनिस में खून के बहाव में कमी आती है तो उसमें पूरी सख्ती नहीं आ पाती और इरेक्टाइल डिस्फंक्शन जैसी दिक्कतें शुरू हो जाती हैं। कुछ लोगों के साथ ऐसा भी होता है कि शुरू में तो पेनिस के अंदर ब्लड का फ्लो पूरा हो जाता है, लेकिन वैजाइना में एंटर करते वक्त ब्लड का यह फ्लो वापस लौटने लगता है और पेनिस की सख्ती कम होने लगती है।- नर्वस सिस्टम में आई किसी कमी के चलते भी यह समस्या हो सकती है। यानी न्यूरॉलजी से जुड़ी समस्याएं भी इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की वजह हो सकती हैं।- हमारे दिमाग में सेक्स संबंधी बातों के लिए एक खास केंद्र होता है। इसी केंद्र की वजह से सेक्स संबंधी इच्छाएं नियंत्रित होती हैं और इंसान सेक्स कर पाता है। इस सेंटर में अगर कोई डिस्ऑर्डर है, तो भी इरेक्टाइल डिस्फंक्शन हो सकता है।- कई बार लोगों के मन में सेक्स करने से पहले ही यह शक होता है कि कहीं वे ठीक तरह से सेक्स कर भी पाएंगे या नहीं। कहीं पेनिस धोखा न दे जाए। मन में ऐसी शंकाएं भी इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की वजह बनती हैं। इसी डर की वजह से लॉन्ग-टर्म में व्यक्ति सेक्स से मन चुराने लगता है और उसकी इच्छा में कमी आने लगती है।- डॉक्टरों का मानना है कि 80 फीसदी मामलों में इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की वजह शारीरिक होती है, बाकी 20 फीसदी मामले ऐसे होते हैं जिनमें इसके लिए मानसिक कारण जिम्मेदार होते हैं।ट्रीटमेंटपहले इस समस्या को आहार-विहार और कसरत करने से ठीक करने की कोशिश की जाती है, लेकिन जब इससे कोई फर्क नहीं पड़ता तो कोई भी ट्रीटमेंट शुरू करने से पहले डॉक्टर समस्या की असली वजह का पता लगाते हैं। इसके लिए कई तरह के टेस्ट किए जाते हैं। वजह के अनुसार आमतौर पर इलाज के तरीके ये हैं:1. हॉर्मोन थेरपी : अगर इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की वजह हॉर्मोन की कमी है तो हॉर्मोन थेरपी की मदद से इसे दो से तीन महीने के अंदर ठीक कर दिया जाता है। इस ट्रीटमेंट का कोई साइड इफेक्ट नहीं होता।2. ब्लड सप्लाई : जब कभी पेनिस में आर्टरीज की ब्लॉकेज की वजह से ब्लड सप्लाई में कमी आती है, तो दवाओं की मदद से इस ब्लॉकेज को खत्म किया जाता है। इससे पेनिस में ब्लड की सप्लाई बढ़ जाती है और उसमें तनाव आने लगता है।3. सेक्स थेरपी : कई मामलों में समस्या शारीरिक न होकर दिमाग में होती है। ऐसे मामलों में सेक्स थेरपी की मदद से मरीज को सेक्स संबंधी विस्तृत जानकारी दी जाती है, जिससे वह अपने तरीकों में सुधार करके इस समस्या से बच सकता है।4. वैक्यूम पंप, इंजेक्शन थेरपी और वायग्रा : वैक्यूम पंप, इंजेक्शन थेरपी और वायग्रा जैसे ड्रग्स की मदद से भी इरेक्टाइल डिस्फंक्शन को दूर किया जा सकता है। वैसे कुछ डॉक्टरों का मानना है कि वैक्यूम पंप और इंजेक्शन थेरपी अब पुराने जमाने की बात हो चुकी हैं।- वैक्यूम पंप : आजकल बाजार में कई तरह के वैक्यूम पंप मौजूद हैं। रोज अखबारों में इसके तमाम ऐड आते रहते हैं। इसकी मदद से बिना किसी साइड इफेक्ट के इरेक्टाइल डिस्फंक्शन का हल निकाला जा सकता है। वैक्यूम पंप एक छोटा सा इंस्ट्रूमेंट होता है। इसकी मदद से पेनिस के चारों तरफ 100 एमएम (एचजी) से ज्यादा का वैक्यूम बनाया जाता है जिससे पेनिस में ब्लड का फ्लो बढ़ने लगता है, और तीन मिनट के अंदर उसमें पूरी सख्ती आ जाती है। लगभग 80 फीसदी लोगों को इससे फायदा हो जाता है। चूंकि इसमें कोई दवा नहीं दी जाती है, इसलिए इसका कोई साइड इफेक्ट भी नहीं है। वैक्यूम पंप आमतौर पर उन लोगों के लिए है जो 50 की उम्र के आसपास पहुंच गए हैं। यंग लोगों को इसकी सलाह नहीं दी जाती है, फिर भी जो भी इसका इस्तेमाल करे, उसे डॉक्टर की सलाह जरूर ले लेनी चाहिए।- वायग्रा : इरेक्टाइल डिस्फंक्शन के लिए वायग्रा का इस्तेमाल अच्छा ऑप्शन है, लेकिन इसका इस्तेमाल किसी भी सूरत में बिना डॉक्टरी सलाह के नहीं करना चाहिए। वायग्रा में मौजद तत्व उस केमिकल को ब्लॉक कर देते हैं, जो पेनिस में होने वाले ब्लड फ्लो को रोकने के लिए जिम्मेदार है। इससे पेनिस में ब्लड का फ्लो बढ़ जाता है और फिर इरेक्शन आ जाता है। वायग्रा इरेक्टाइल डिस्फंक्शन को ठीक करने में फायदेमंद तो साबित होती है, लेकिन यह महज एक टेंपररी तरीका है। इससे समस्या की वजह ठीक नहीं होती।इनका असर गोली लेने के चार घंटे तक रहता है। वायग्रा बिना डॉक्टर की सलाह के नहीं लेनी चाहिए। कई मामलों में इसे लेने के चलते मौत भी हुई हैं। गोली लेने के 15 मिनट बाद असर शुरू हो जाता है।अगर हाई और लो ब्लडप्रेशर, हार्ट डिजीज, लीवर से संबंधित रोग, ल्यूकेमिया या कोई एलर्जी है तो वायग्रा लेने से पहले विशेष सावधानी रखें और डॉक्टर की सलाह के मुताबिक ही चलें।- सर्जरी : जब ऊपर दिए गए तरीके फेल हो जाते हैं, तो अंतिम तरीके के रूप में पेनिस की सर्जरी की जाती है।प्रीमैच्योर इजैकुलेशनप्रीमैच्योर इजैकुलेशन या शीघ्रपतन पुरुषों का सबसे कॉमन डिस्ऑर्डर है। सेक्स के लिए तैयार होते वक्त, फोरप्ले के दौरान या पेनिट्रेशन के तुरंत बाद अगर सीमेन बाहर आ जाता है, तो इसका मतलब प्रीमैच्योर इजैकुलेशन है। ऐसी हालत में पुरुष अपनी महिला पार्टनर को पूरी तरह संतुष्ट किए बिना ही फारिग हो जाता है। यह एक ऐसी स्थिति है, जिसमें पुरुष का अपने इजैकुलेशन पर कोई अधिकार नहीं होता। आदर्श स्थिति यह होती है कि जब पुरुष की इच्छा हो, तब वह इजैकुलेट करे, लेकिन प्रीमैच्योर इजैकुलेशन की स्थिति में ऐसा नहीं होता।- सेरोटोनिन जैसे न्यूरो ट्रांसमिटर्स की कमी से प्रीमैच्योर इजैकुलेशन की समस्या हो सकती है।- यूरेथेरा, प्रोस्टेट आदि में अगर कोई इंफेक्शन है, तो भी प्रीमैच्योर इजैकुलेशन हो सकता है।- दिमाग में मौजूद सेक्स सेंटर एरिया में अगर कोई डिस्ऑर्डर है तो भी सीमेन का डिस्चार्ज तेजी से होता है।- कुछ लोगों के पेनिस में उत्तेजना पैदा करने वाले न्यूरोट्रांसमिटर्स ज्यादा संख्या में होते हैं। इनकी वजह से ऐसे लोगों में टच करने के बाद उत्तेजना तेजी से आ जाती है और वे जल्दी क्लाइमैक्स पर पहुंच जाते हैं।- कई बार एंग्जायटी, टेंशन और सीजोफ्रेनिया की वजह से भी ऐसा हो सकता है।दवाएं : प्रीमैच्योर इजैकुलेशन की वजह को जानने के बाद उसके मुताबिक खाने की दवाएं दी जाती हैं। इनकी मदद से प्रीमैच्योर इजैकुलेशन को पूरी तरह ठीक किया जा सकता है। इसमें करीब दो महीने का वक्त लगता है। इन दवाओं के कोई साइड इफेक्ट भी नहीं हैं।इंजेक्शन थेरपी: अगर खाने की दवाओं से काम नहीं चलता तो इंजेक्शन थेरपी दी जाती है। इनसे तीन मिनट के अंदर पेनिस हार्ड हो जाता है और यह हार्डनेस 30 मिनट तक बरकरार रहती है। इसकी मदद से कोई भी शख्स सही तरीके से सेक्स कर सकता है। ये इंजेक्शन कुछ दिनों तक दिए जाते हैं। इसके बाद खुद-ब-खुद उस शख्स का अपने इजैकुलेशन पर कंट्रोल होने लगता है और फिर इन इंजेक्शन को छोड़ा जा सकता है।टोपिकल थेरपी : यह टेंपररी ट्रीटमेंट है। इसमें कुछ खास तरह की क्रीम का यूज किया जाता है। इन क्रीम की मदद से डिस्चार्ज का टाइम बढ़ जाता है। इनका भी कोई साइड इफेक्ट नहीं होता।सेक्स थेरपी : दवाओं के साथ मरीज को कुछ एक्सरसाइज भी सिखाई जाती हैं। ये हैं :स्टॉप स्टार्ट टेक्निक : पार्टनर की मदद से या मास्टरबेशन के माध्यम से उत्तेजित हो जाएं। जब आपको ऐसा लगे कि आप क्लाइमैक्स तक पहुंचने वाले हैं, तुरंत रुक जाएं। खुद को कंट्रोल करें और सुनिश्चित करें कि इजैकुलेशन न हो। लंबी गहरी सांस लें और कुछ पलों के लिए रिलैक्स करें। कुछ पलों बाद फिर से पेनिस को उत्तेजित करना शुरू कर दें। जब क्लाइमैक्स पर पहुंचने वाले हों, तभी रोक लें और रिलैक्स करें। इस तरह बार बार दोहराएं। कुछ समय बाद आप महसूस करेंगे कि शुरू करने और स्टॉप करने के बीच का समय धीरे धीरे ज्यादा हो रहा है। इसका मतलब है कि आप पहले के मुकाबले ज्यादा समय तक टिक रहे हैं। लगातार प्रैक्टिस करने से इजैकुलेशन कब हो इस पर काबू पाया जा सकता है।कीजल एक्सरसरइज : कीजल एक्सरसाइज न सिर्फ प्रीमैच्योर इजैकुलेशन को कंट्रोल करने में सहायक है, बल्कि प्रोस्टेट से संबंधित समस्याएं भी इससे ठीक की जा सकती हैं। इसके लिए पेशाब करते वक्त स्क्वीज, होल्ड, रिलीज पैटर्न अपनाना होता है। यानी पेशाब का फ्लो शुरू होते ही मसल्स का स्क्वीज करें, कुछ पलों के लिए रुकें और फिर से रिलीज कर दें। इस दौरान इस प्रॉसेस का बार बार दोहराएं। इन सेक्स एक्सरसाइज की प्रैक्टिस अगर कोई शख्स चार हफ्ते तक लगातार कर लेता है तो उसके बाद वह 8 से 10 मिनट तक बिना इजैकुलेशन के इरेक्शन बरकरार रख सकता है। कई बार ऐसा भी देखा गया है कि काफी टाइम बाद सेक्स करने से भी व्यक्ति जल्दी स्खलित हो जाता है। ऐसे मामलों में इन एक्सरसाइजों को कर लिया जाए तो इस समस्या से भी निजात पाई जा सकती है।मास्टरबेशनसेक्स के दौरान पेनिस जो काम योनि में करता है, वही काम मास्टरबेशन के दौरान पेनिस मुट्ठी में करता है। मास्टरबेशन युवाओं का एक बेहद सामान्य व्यवहार है। जिन लोगों के पार्टनर नहीं हैं, उनके साथ-साथ मास्टरबेशन ऐसे लोगों में भी काफी कॉमन है, जिनका कोई सेक्सुअल पार्टनर है। जिन लोगों के सेक्सुअल पार्टनर नहीं हैं या जिनके पार्टनर्स की सेक्स में रुचि नहीं है, ऐसे लोग अपनी सेक्सुअल टेंशन को मास्टरबेशन की मदद से दूर कर सकते हैं। जो लोग प्रेग्नेंसी और एसटीडी के खतरों से बचना चाहते हैं, उनके लिए भी मास्टरबेशन उपयोगी है।नॉर्मल: मास्टरबेशन बिल्कुल नॉर्मल है। सेक्स का सुख हासिल करने का यह बेहद सुरक्षित तरीका है और ताउम्र किया जा सकता है, लेकिन अगर यह रोजमर्रा की जिंदगी को ही प्रभावित करने लगे तो इसका सेहत और दिमाग दोनों पर गलत असर हो सकता है।कुछ तथ्य- सामान्य सेक्स के तीन तरीके होते हैं - पार्टनर के साथ सेक्स, मास्टरबेशन और नाइट फॉल। अगर पार्टनर से सेक्स कर रहे हें तो जाहिर है सीमेन बाहर आएगा। सेक्स नहीं करते, तो मास्टरबेशन के जरिये सीमेन बाहर आएगा। अगर कोई शख्स यह दोनों ही काम नहीं करता है तो उसका सीमेन नाइट फॉल के जरिये बाहर आएगा। सीमेन सातों दिन और चौबीसों घंटे बनता रहता है। सीमेन बनता रहता है, खाली होता रहता है।- मास्टरबेशन करने से कोई शारीरिक या मानसिक कमजोरी नहीं आती।- पेनिस में जितनी बार इरेक्शन होता है, उतनी बार मास्टरबेशन किया जा सकता है। इसकी कोई लिमिट नहीं है। हर किसी के लिए अलग-अलग दायरे हैं।- इससे बाल गिरना, आंखों की कमजोरी, मुंहासे, वजन में कमी, नपुंसकता जैसी समस्याएं नहीं होतीं।- सीमेन की क्वॉलिटी पर कोई असर नहीं होता। न तो सीमेन का कलर बदलता और न वह पतला होता है।- इससे पेनिस के साइज पर भी कोई असर नहीं होता। जो लोग कहते हैं कि मास्टरबेशन से पेनिस का टेढ़ापन, पतलापन, नसें दिखना जैसी समस्याएं हो जाती हैं, वे खुद भी भ्रम में हैं और दूसरों को भी भ्रमित कर रहे हैं।- कुछ लोगों को लगता है कि मास्टरबेशन करने के तुरंत बाद उन्हें कुछ कमजोरी महसूस होती है, लेकिन वास्तव में ऐसा कुछ नहीं होता। यह मन का वहम है।- मास्टरबेशन एड्स और रेप जैसी स्थितियों को रोकने का अच्छा तरीका है।- कामसूत्र या आयुर्वेद में कहीं यह नहीं लिखा है कि मास्टरबेशन बीमारी है।- 13-14 साल की उम्र में लड़कों को इसकी जरूरत होने लगती है। कुछ लोग शादी के बाद भी सेक्स के साथ-साथ मास्टरबेशन करते रहते हैं। यह बिल्कुल नॉर्मल है।मिथ्स क्या हैं1. पेनिस का साइज छोटा है तो सेक्स में दिक्कत होगी। बड़ा पेनिस मतलब सेक्स का ज्यादा मजा।सचाई : छोटे पेनिस की बात नाकामयाब दिमाग में ही आती है। दुनिया में ऐसा कोई तरीका नहीं है जिससे पेनिस के स्टैंडर्ड साइज का पता किया सके। वैजाइना की सेक्सुअल लंबाई छह इंच होती है। इसमें से बाहरी एक तिहाई हिस्सा यानी दो इंच में ही ग्लांस तंतु होते हैं। अगर किसी महिला को उत्तेजित करना है, तो वह योनि के बाहरी एक तिहाई हिस्से से ही उत्तेजित हो जाएगी। जाहिर है, अगर उत्तेजित अवस्था में पुरुष का लिंग दो इंच या उससे ज्यादा है, तो वह महिला को संतुष्ट करने के लिए काफी है। ध्यान रखें, खुद और अपने पार्टनर की संतुष्टि के लिए महत्वपूर्ण चीज पेनिस की लंबाई नहीं होती, बल्कि यह होती है कि उसमें तनाव कैसा आता है और कितनी देर टिकता है। पेनिस की चौड़ाई का भी खास महत्व नहीं है। योनि इलास्टिक होती है। जितना पेनिस का साइज होगा, वह उतनी ही फैल जाएगी। बड़ा पेनिस किसी भी तरह से सेक्स में ज्यादा आनंद की वजह नहीं होता।2. पेनिस में टेढ़ापन होना सेक्स की नजर से समस्या है।सचाई : पेनिस में थोड़ा टेढ़ापन होता ही है। किसी भी शख्स का पेनिस बिल्कुल सीधा नहीं होता। यह या तो थोड़ा दायीं तरफ या फिर थोड़ा बायीं तरफ झुका होता है। इसकी वजह से पेनिस को वैजाइना में प्रवेश कराने में कोई दिक्कत नहीं होती है। ध्यान रखें, घर में दाखिल होना महत्वपूर्ण है, थोड़े दायें होकर दाखिल हों या फिर बायें होकर या फिर सीधे। ऐसे मामलों में इलाज की जरूरत तब ही समझनी चाहिए योनि में पेनिस का प्रवेश कष्टदायक हो।3. बाजार में तमाम तेल हैं, जिनकी मालिश करने से पेनिस को लंबा मोटा और ताकतवर बनाया जा सकता है। इसी तरह तमाम गोलियां, टॉनिक आदि लेने से सेक्स पावर बढ़ोतरी होती है।सचाई : पेनिस पर बाजार में मिलने वाले टॉनिक का कोई असर नहीं होता, असर होता है उसके ऊपर बने सांड या घोड़े के चित्र का। इसी तरह जब पेनिस पर तेल की मालिश की जाती है, तो उस हाथ की स्नायु मजबूत होती हैं, जिससे तेल की मालिश की जाती है, लेकिन पेनिस की मसल्स पर इसका कोई भी असर नहीं होता।4. पेनिस में नसें नजर आती हैं तो यह कमजोरी की निशानी है।सचाई : पेनिस में अगर कभी नसें नजर आती भी हैं तो वे नॉर्मल हैं। उनका पेनिस की कमजोरी से कोई लेना देना नहीं है।5. जिन लोगों के पेनिस सरकमसाइज्ड (इस स्थिति में पेनिस की फोरस्किन पीछे की तरफ रहती है और ग्लांस पेनिस हमेशा बाहर रहता है) हैं, वे सेक्स में ज्यादा कामयाब होते हैं।सचाई : सरकमसाइज्ड पेनिस का सेक्स की संतुष्टि से कोई लेना-देना नहीं है। यह तब कराना चाहिए जब उत्तेजित अवस्था में पुरुष की फोरस्किन पीछे हटाने में दिक्कत हो।6. सेक्स पावर बढ़ाने नुस्खे, गोलियां (आयुर्वेदिक और एलोपैथिक), मसाज ऑयल, शिलाजीत आदि बाजार में हैं। इनसे सेक्स पावर बढ़ाई जा सकती है।सचाई : बाजार में आमतौर मिलने वाली ऐसी गोलियों और दवाओं से सेक्स पावर नहीं बढ़ती। आयुर्वेद के नियम कहते हैं कि मरीज को पहले डॉक्टर से मिलना चाहिए और फिर इलाज करना चाहिए। हर मरीज के लिए उसके हिसाब से दवा दी जाती है, दवाओं को जनरलाइज नहीं किया जा सकता।एक पक्ष यह भीयूथ्स की सेक्स समस्याओं पर एलोपैथी और आयुर्वेद की सोच में अंतर मिलता है। जहां एक तरफ एलोपैथी में माना जाता है कि सीमेन शरीर से बाहर निकलने से शरीर और दिमाग को कोई नुकसान नहीं होता, वहीं आयुर्वेदिक पद्धति से इलाज करने वाले लोग सीमेन के संरक्षण की बात करते हैं। आयुर्वेदिक डॉक्टरों के मुताबिक :- महीने में दो से आठ बार तक नाइट फॉल स्वाभाविक है, लेकिन इससे ज्यादा होने लगे, तो यह सेहत के लिए नुकसानदायक है।- मास्टरबेशन करने से याददाश्त कमजोर होती है। एकाग्रता और सेहत पर बुरा असर होता है।- प्रीमैच्योर इजैकुलेशन और इरेक्टाइल डिस्फंक्शन को आयुर्वेद में दवाओं के जरिए ठीक किया जा सकता है, लेकिन इसके लिए मरीज को खुद डॉक्टर से मिलकर इलाज कराना चाहिए। दरअसल, आयुर्वेद में मरीज विशेष के लक्षणों और हाल के हिसाब से दवा दी जाती है, जिनका फायदा होता है।- बाजार में आयुर्वेद के नाम पर बिकने वाले मालिश करने के तेल, कैपसूल और ताकत की दवाएं जनरल होती हैं। इन बाजारू दवाओं से सेक्स पावर बढ़ाने या पेनिस को लंबा-मोटा करने में कोई मदद नहीं मिलती। ये चीजें आयुर्वेद को बदनाम करती हैं।- विज्ञापनों और नीम-हकीमों से दूर रहें। तमाम नीम-हकीम आयुर्वेद के नाम पर युवकों को बेवकूफ बनाकर पैसा ठगते हैं। इनसे बचें और हमेशा किसी योग्य डॉक्टर से ही संपर्क करें।- मर्यादित सेक्स करने से जिंदगी में यश बढ़ता है और परिवार में बढ़ोतरी होती है, जबकि अमर्यादित और बहुत ज्यादा सेक्स रोगों को बढ़ाता है।- मल-मूत्र का वेग होने पर और व्रत, शोक और चिंता की स्थिति में सेक्स से परहेज करना चाहिए।- जो चीजें शरीर को सेहतमंद रखने में मदद करती हैं, वही चीजें सेक्स की पावर बढ़ाने में भी मददगार हैं। ऐसे में अगर आप स्वास्थ्य के नियमों का पालन कर रहे हैं और सेहतमंद खाना ले रहे हैं तो आपको सेक्स पावर बढ़ाने वाली चीजें अलग से लेने की कोई जरूरत नहीं है। http://drbkkashyap.blogspot.in/2015/03/60-45-s-80-20-
71 people found this helpful

Hi mam I am 24 old i am suffering from fever with body pains and warmth.

BAMS
General Physician,
Hi mam I am 24 old i am suffering from fever with body pains and warmth.
Drink boiled and cooled water, avoid bath and eat easily digestable food. Take tab topnac plus, one tab three times a day for a day or two. If the fever does not subside, then consult a doctor.
You found this helpful
Submit FeedbackFeedback

From last few days I am having loose motion aftr I eat anything and its lyk flash of water as stool. Though I exercise everyday half an hour eat proper healthy food fruits and mostly vegetarian.

MBBS, Basic Life Support (B.L.S), Advanced Cardiac Life Support, Fellow of Academy of General Education (FAGE)
General Physician, Bangalore
you are most probably suffering from irritable bowel syndrome. a proper history and evaluation would be needed to come to a diagnosis. feel free to consult if you would like to know more.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

My son is 15 years old and he has a problem of erection whenever he wakes up in the morning. He is feeling so shy to come in front of anybody. He as undergone a circumcision at the age of 6. Is the problem is because of that. Will his sex life be satisfactory. Please help.

MBBS, cc USG
General Physician, Noida
My son is 15 years old and he has a problem of erection whenever he wakes up in the morning. He is feeling so shy to ...
Circumcision is not related with erection This may be normal you need to build confidence in your child and get involved him in some physical activities Consult physican for further management
You found this helpful
Submit FeedbackFeedback

When I romanced with my girlfriend there is a no sensation in my body and no satisfaction of kiss or hug what is the reason and my pennis is had not any moment plzz say the solution.

BAMS, MD Ayurveda
Sexologist, Lonavala
When I romanced with my girlfriend there is a no sensation in my body and no satisfaction of kiss or hug what is the ...
The best ayurveda herb for your case is 1. Take 2 tsp Indian asparagus powder 2. Add 1 cup milk 3. Boil the mixture for 10 min 4. Drink 2 times every day Causes: • Anxiety • Incorrect diet • Unhealthy lifestyle it will surely help you.
3 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback
View All Feed