Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Book
Call

Dr. Kiran Sareen

Gynaecologist, Hyderabad

500 at clinic
Book Appointment
Call Doctor
Dr. Kiran Sareen Gynaecologist, Hyderabad
500 at clinic
Book Appointment
Call Doctor
Submit Feedback
Report Issue
Get Help
Feed
Services

Personal Statement

I believe in health care that is based on a personal commitment to meet patient needs with compassion and care....more
I believe in health care that is based on a personal commitment to meet patient needs with compassion and care.
More about Dr. Kiran Sareen
Dr. Kiran Sareen is a renowned Gynaecologist in Marredpally, Hyderabad. You can visit him at Shenoy Nursing Home in Marredpally, Hyderabad. You can book an instant appointment online with Dr. Kiran Sareen on Lybrate.com.

Lybrate.com has a nexus of the most experienced Gynaecologists in India. You will find Gynaecologists with more than 43 years of experience on Lybrate.com. Find the best Gynaecologists online in Hyderabad. View the profile of medical specialists and their reviews from other patients to make an informed decision.

Info

Specialty
Languages spoken
English

Location

Book Clinic Appointment

Shenoy Nursing Home

10-3-4, Entrechment Road,East Marredpally, Secundrabad. Landmark: Opposite Vidya Residency Playground, HyderabadHyderabad Get Directions
500 at clinic
...more
View All

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr. Kiran Sareen

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

Reveal Your Real Skin With Homeopathy!

Homeopath, Nagpur
Reveal Your Real Skin With Homeopathy!

Do you lack confidence due to facial pigmentation, I am here to help you.

What is facial pigmentation?

Facial pigmentation refers to the darkening of facial skin dueto overproduction of pigment melanin. Medically, this is known as melasma.

Melasma
In melasma, patches of pigmentation appear on the face, predominantly over the cheeks, nose, forehead and upper lip. The pigmentation varies from yellowish, brownish, bluish to blackish in colour. Chloasma is another term for facial pigmentation in women during pregnancy.

Freckles
Freckles or tiny dark spots appear on the face in certain cases from repeated sun exposure. Freckles are more likely in persons with fair skin.

Why do we get facialpigmentation?

The root cause of facial pigmentation is excess melanin production. Facial pigmentation is very common in women, but may also arise in men. 

The causal factors are many, the major among them being hormonal changes in women during pregnancy, after childbirth, during menopause, from intake of contraceptive pills, from hormone replacement therapy and hypothyroidism. 

Other factors that trigger facial pigmentation are stress, loss of sleep and sunexposure. Heredity also plays an important role in predisposing a person to facial pigmentation. Acne may also lead to scarring and facial pigmentation. 

Factors affecting facial pigmentation:

1) age

6 people found this helpful

Properties Of Flax Seed

BAMS
Ayurveda, Sonipat
Properties Of Flax Seed

अचूक औषधि अलसी

अलसी असरकारी ऊर्जा, स्फूर्ति व जीवटता प्रदान करता है। अलसी, तीसी, अतसी, कॉमन फ्लेक्स और वानस्पतिक लिनभयूसिटेटिसिमनम नाम से विख्यात तिलहन अलसी के पौधे बागों और खेतों में खरपतवार के रूप में तो उगते ही हैं, इसकी खेती भी की जाती है। इसका पौधा दो से चार फुट तक ऊंचा, जड़ चार से आठ इंच तक लंबी, पत्ते एक से तीन इंच लंबे, फूल नीले रंग के गोल, आधा से एक इंच व्यास के होते हैं।

 इसके बीज और बीजों का तेल औषधि के रूप में उपयोगी है। अलसी रस में मधुर, पाक में कटु (चरपरी), पित्तनाशक, वीर्यनाशक, वात एवं कफ वर्घक व खांसी मिटाने वाली है। इसके बीज चिकनाई व मृदुता उत्पादक, बलवर्घक, शूल शामक और मूत्रल हैं। इसका तेल विरेचक (दस्तावर) और व्रण पूरक होता है।

अलसी की पुल्टिस का प्रयोग गले एवं छाती के दर्द, सूजन तथा निमोनिया और पसलियों के दर्द में लगाकर किया जाता है। इसके साथ यह चोट, मोच, जोड़ों की सूजन, शरीर में कहीं गांठ या फोड़ा उठने पर लगाने से शीघ्र लाभ पहुंचाती है। एंटी फ्लोजेस्टिन नामक इसका प्लास्टर डॉक्टर भी उपयोग में लेते हैं। चरक संहिता में इसे जीवाणु नाशक माना गया है। यह श्वास नलियों और फेफड़ों में जमे कफ को निकाल कर दमा और खांसी में राहत देती है।

इसकी बड़ी मात्रा विरेचक तथा छोटी मात्रा गुर्दो को उत्तेजना प्रदान कर मूत्र निष्कासक है। यह पथरी, मूत्र शर्करा और कष्ट से मूत्र आने पर गुणकारी है। अलसी के तेल का धुआं सूंघने से नाक में जमा कफ निकल आता है और पुराने जुकाम में लाभ होता है। यह धुआं हिस्टीरिया रोग में भी गुण दर्शाता है। 

अलसी के काढ़े से एनिमा देकर मलाशय की शुद्धि की जाती है। उदर रोगों में इसका तेल पिलाया जाता हैं।
तनाव के क्षणों में शांत व स्थिर बनाए रखने में सहायक है। कैंसर रोधी हार्मोन्स की सक्रियता बढ़ाता है। अलसी इस धरती का सबसे शक्तिशाली पौधा है। कुछ शोध से ये बात सामने आई कि इससे दिल की बीमारी, कैंसर, स्ट्रोक और मधुमेह का खतरा कम हो जाता है। 

इस छोटे से बीच से होने वाले फायदों की फेहरिस्त काफी लंबी है,​​ जिसका इस्तेमाल सदियों से लोग करते आए हैं। इसके रेशे पाचन को सुगम बनाते हैं, इस कारण वजन नियंत्रण करने में अलसी सहायक है। रक्त में शर्करा तथा कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को कम करता है। जोड़ों का कड़ापन कम करता है।

 प्राकृतिक रेचक गुण होने से पेट साफ रखता है। हृदय संबंधी रोगों के खतरे को कम करता है। उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करता है। त्वचा को स्वस्थ रखता है एवं सूखापन दूर कर एग्जिमा आदि से बचाता है। बालों व नाखून की वृद्धि कर उन्हें स्वस्थ व चमकदार बनाता है। इसका नियमित सेवन रजोनिवृत्ति संबंधी परेशानियों से राहत प्रदान करता है।

 मासिक धर्म के दौरान ऐंठन को कम कर गर्भाशय को स्वस्थ रखता है। अलसी का सेवन त्वचा पर बढ़ती उम्र के असर को कम करता है। अलसी का सेवन भोजन के पहले या भोजन के साथ करने से पेट भरने का एहसास होकर भूख कम लगती है। प्राकृतिक रेचक गुण होने से पेट साफ रख कब्ज से मुक्ति दिलाता है।
अलसी कैसे काम करती है

अलसी आधुनिक युग में स्त्रियों की यौन-इच्छा, कामोत्तेजना, चरम-आनंद विकार, बांझपन, गर्भपात, दुग्धअल्पता की महान औषधि है। स्त्रियों की सभी लैंगिक समस्याओं के सारे उपचारों से सर्वश्रेष्ठ और सुरक्षित है अलसी। (व्हाई वी लव और ऐनाटॉमी ऑफ लव) की महान लेखिका, शोधकर्ता और चिंतक हेलन फिशर भी अलसी को प्रेम, काम-पिपासा और लैंगिक संसर्ग के लिए आवश्यक सभी रसायनों जैसे डोपामीन, नाइट्रिक ऑक्साइड, नोरइपिनेफ्रीन, ऑक्सिटोसिन, सीरोटोनिन, टेस्टोस्टिरोन और फेरोमोन्स का प्रमुख घटक मानती है।

सबसे पहले तो अलसी आप और आपके जीवनसाथी की त्वचा को आकर्षक, कोमल, नम, बेदाग व गोरा बनायेगी। आपके केश काले, घने, मजबूत, चमकदार और रेशमी हो जायेंगे। अलसी आपकी देह को ऊर्जावान और मांसल बना देगी। शरीर में चुस्ती-फुर्ती बनी गहेगी, न क्रोध आयेगा और न कभी थकावट होगी। मन शांत, सकारात्मक और दिव्य हो जायेगा।

 अलसी में ओमेगा-3 फैट, आर्जिनीन, लिगनेन, सेलेनियम, जिंक और मेगनीशियम होते हैं जो स्त्री हार्मोन्स, टेस्टोस्टिरोन और फेरोमोन्स (आकर्षण के हार्मोन) के निर्माण के मूलभूत घटक हैं। टेस्टोस्टिरोन आपकी कामेच्छा को चरम स्तर पर रखता है।

अलसी में विद्यमान ओमेगा-3 फैट और लिगनेन जननेन्द्रियों में रक्त के प्रवाह को बढ़ाती हैं, जिससे कामोत्तेजना बढ़ती है। इसके अलावा ये शिथिल पड़ी क्षतिग्रस्त नाड़ियों का कायाकल्प करती हैं जिससे मस्तिष्क और जननेन्द्रियों के बीच सूचनाओं एवं संवेदनाओं का प्रवाह दुरुस्त हो जाता है। नाड़ियों को स्वस्थ रखने में अलसी में विद्यमान लेसीथिन, विटामिन बी ग्रुप, बीटा केरोटीन, फोलेट, कॉपर आदि की महत्वपूर्ण भूमिका होती है।

 इस तरह आपने देखा कि अलसी के सेवन से कैसे प्रेम और यौवन की रासलीला सजती है, दिव्य सम्भोग का दौर चलता है, देह के सारे चक्र खुल जाते हैं, पूरे शरीर में दैविक ऊर्जा का प्रवाह होता है और सम्भोग एक यांत्रिक क्रीड़ा न रह कर शिव और उमा की रति-क्रीड़ा का उत्सव बन जाता है, समाधि का रूप बन जाता है।

रिसर्च और वैज्ञानिक आयुर्वेद और घरेलू नुस्खों के रहस्य को जानने और मानने लगे हैं। अलसी के बीज के चमत्कारों का हाल ही में खुलासा हुआ है कि इनमें 27 प्रकार के कैंसररोधी तत्व खोजे जा चुके हैं। अलसी में पाए जाने वाले ये तत्व कैंसररोधी हार्मोन्स को प्रभावी बनाते हैं, विशेषकर पुरुषों में प्रोस्टेट कैंसर व महिलाओं में स्तन कैंसर की रोकथाम में अलसी का सेवन कारगर है। 

दूसरा महत्वपूर्ण खुलासा यह है कि अलसी के बीज सेवन से महिलाओं में सेक्स करने की इच्छा तीव्रतर होती है। यह गनोरिया, नेफ्राइटिस, अस्थमा, सिस्टाइटिस, कैंसर, हृदय रोग, मधुमेह, कब्ज, बवासीर, एक्जिमा के उपचार में उपयोगी है।

सेवन का तरीका
अलसी को धीमी आँच पर हल्का भून लें। फिर मिक्सर में पीस कर किसी एयर टाइट डिब्बे में भरकर रख लें। रोज सुबह-शाम एक-एक चम्मच पावडर पानी के साथ लें। इसे अधिक मात्रा में पीस कर नहीं रखना चाहिए, क्योंकि यह खराब होने लगती है। इसलिए थोड़ा-थोड़ा ही पीस कर रखें। अलसी सेवन के दौरान पानी खूब पीना चाहिए। इसमें फायबर अधिक होता है, जो पानी ज्यादा माँगता है।

हमें प्रतिदिन 30 – 60 ग्राम अलसी का सेवन करना चाहिये, 30 ग्राम आदर्श मात्रा है। अलसी को रोज मिक्सी के ड्राई ग्राइंडर में पीसकर आटे में मिलाकर रोटी, पराँठा आदि बनाकर खाना चाहिये. डायबिटीज के रोगी सुबह शाम अलसी की रोटी खायें।

कैंसर में बुडविग आहार-विहार की पालना पूरी श्रद्धा और पूर्णता से करना चाहिये। इससे ब्रेड, केक, कुकीज, आइसक्रीम, चटनियाँ, लड्डू आदि स्वादिष्ट व्यंजन भी बनाये जाते हैं।
अलसी के तेल और चूने के पानी का इमल्सन आग से जलने के घाव पर लगाने से घाव बिगड़ता नहीं और जल्दी भरता है।

पथरी, सुजाक एवं पेशाब की जलन में अलसी का फांट पीने से रोग में लाभ मिलता है। अलसी के कोल्हू से दबाकर निकाले गए (कोल्ड प्रोसेस्ड) तेल को फ्रिज में एयर टाइट बोतल में रखें। स्नायु रोगों, कमर एवं घुटनों के दर्द में यह तेल पंद्रह मि.ली. मात्रा में सुबह-शाम पीने से काफी लाभ मिलेगा।

अलसी के लाभ
आपका हर्बल चिकित्सक आपकी सारी सेक्स सम्बंधी समस्याएं अलसी खिला कर ही दुरुस्त कर देगा क्योंकि अलसी आधुनिक युग में स्तंभनदोष के साथ साथ शीघ्रस्खलन, दुर्बल कामेच्छा, बांझपन, गर्भपात, दुग्धअल्पता की भी महान औषधि है। सेक्स संबन्धी समस्याओं के अन्य सभी उपचारों से सर्वश्रेष्ठ और सुरक्षित है अलसी। बस 30 ग्राम रोज लेनी है।

सबसे पहले तो अलसी आप और आपके जीवनसाथी की त्वचा को आकर्षक, कोमल, नम, बेदाग व गोरा बनायेगी। आपके केश काले, घने, मजबूत, चमकदार और रेशमी हो जायेंगे।
अलसी में ब्रेस्ट कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर और कोलोन कैंसर से बचाने का गुण पाया जाता है। इसमें पाया जाने वाला लिगनन कैंसर से बचाता है। यह हार्मोन के प्रति संवेदनशील होता है और ब्रेस्ट कैंसर के ड्रग टामॉक्सीफेन पर असर नहीं डालता है।

अलसी आपकी देह को ऊर्जावान, बलवान और मांसल बना देगी। शरीर में चुस्ती-फुर्ती बनी गहेगी, न क्रोध आयेगा और न कभी थकावट होगी। मन शांत, सकारात्मक और दिव्य हो जायेगा।

अलसी में विद्यमान ओमेगा-3 फैट, जिंक और मेगनीशियम आपके शरीर में पर्याप्त टेस्टोस्टिरोन हार्मोन और उत्कृष्ट श्रेणी के फेरोमोन (आकर्षण के हार्मोन) स्रावित होंगे। टेस्टोस्टिरोन से आपकी कामेच्छा चरम स्तर पर होगी। आपके साथी से आपका प्रेम, अनुराग और परस्पर आकर्षण बढ़ेगा। आपका मनभावन व्यक्तित्व, मादक मुस्कान और शटबंध उदर देख कर आपके साथी की कामाग्नि भी भड़क उठेगी।

अलसी में विद्यमान ओमेगा-3 फैट, आर्जिनीन एवं लिगनेन जननेन्द्रियों में रक्त के प्रवाह को बढ़ाती हैं, जिससे शक्तिशाली स्तंभन तो होता ही है साथ ही उत्कृष्ट और गतिशील शुक्राणुओं का निर्माण होता है। इसके अलावा ये शिथिल पड़ी क्षतिग्रस्त नाड़ियों का कायाकल्प करते हैं जिससे सूचनाओं एवं संवेदनाओं का प्रवाह दुरुस्त हो जाता है।

 नाड़ियों को स्वस्थ रखने में अलसी में विद्यमान लेसीथिन, विटामिन बी ग्रुप, बीटा केरोटीन, फोलेट, कॉपर आदि की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। ओमेगा-3 फैट के अलावा सेलेनियम और जिंक प्रोस्टेट के रखरखाव, स्खलन पर नियंत्रण, टेस्टोस्टिरोन और शुक्राणुओं के निर्माण के लिए बहुत आवश्यक हैं। कुछ वैज्ञानिकों के मतानुसार अलसी लिंग की लंबाई और मोटाई भी बढ़ाती है।

अलसी बांझपन, पुरूषहीनता, शीघ्रस्खलन व स्थम्भन दोष में बहुत लाभदायक है।
पुरूष को कामदेव तो स्त्रियों को रति बनाती है अलसी। अलसी बांझपन, पुरूषहीनता, शीघ्रस्खलन व स्थम्भन दोष में बहुत लाभदायक है। 

अर्थात स्त्री-पुरुष की समस्त लैंगिक समस्याओं का एक-सूत्रीय समाधान है।इस तरह आपने देखा कि अलसी के सेवन से कैसे प्रेम और यौवन की रासलीला सजती है, जबर्दस्त अश्वतुल्य स्तंभन होता है, जब तक मन न भरे सम्भोग का दौर चलता है, देह के सारे चक्र खुल जाते हैं, पूरे शरीर में दैविक ऊर्जा का प्रवाह होता है और सम्भोग एक यांत्रिक क्रीड़ा न रह कर एक आध्यात्मिक उत्सव बन जाता है, समाधि का रूप बन जाता है।

तेल तड़का छोड़ कर, नित घूमन को जाय।
मधुमेह का नाश हो, जो जन अलसी खाय।।
नित भोजन के संग में, मुट्ठी अलसी खाय।
अपच मिटे, भोजन पचे, कब्जियत मिट जाये।।
घी खाये मांस बढ़े, अलसी खाये खोपड़ी।
दूध पिये शक्ति बढ़े, भुला दे सबकी हेकड़ी।।
धातुवर्धक, बल-कारक, जो प्रिय पूछो मोय।
अलसी समान त्रिलोक में, और न औषध कोय।।
जो नित अलसी खात है, प्रात पियत है पानी।
कबहुं न मिलिहैं वैद्यराज से, कबहुँ न जाई जवानी।।
अलसी तोला तीन जो, दूध मिला कर खाय।
रक्त धातु दोनों बढ़े, नामर्दी मिट जाय।।

7 people found this helpful

Five Tips to Help You Prevent Diabetes

MBBS, MD - General Medicine, DM
Endocrinologist, Hyderabad
Five Tips to Help You Prevent Diabetes

Diabetes refers to a medical condition where the glucose level in your blood increases. It usually happens if there is an excess amount of glucose in your body and your body is unable to utilize it efficiently. In this condition your pancreas either stops producing insulin or fails to produce the requisite amount and hence prevents glucose from entering the cells of your body.

This in turn affects your blood glucose level. Millions of people around the globe are affected by diabetes irrespective of their gender or age. For most people diabetes is generally a lifelong medical condition and can affect your health seriously if it gets severe.

There are many stages and types of diabetes, such as Type 1 diabetes, Type 2 diabetes, Gestational diabetes, Pre-diabetes, Diabetes Mellitus and Diabetes Insipidus. Not all diabetes can be prevented but some of the above mentioned ones can be prevented with proper care. Below mentioned are eight tips to prevent diabetes

1. Eating the right portion: The primary key for preventing diabetes is choosing the right amount of food. Eating the right portions can help you to stay away from diabetes. Consider seeking advice from a nutritionist or dietician for knowing the exact portion size you should eat according to your age.

2. Exercise on a regular basis: Exercising regularly for at least half an hour a day can help you to prevent diabetes. You may consider walking or running exercises.

3. Choose the right food: Opt for whole grains as this can help you to maintain your blood sugar level and keep diabetes at bay. Also, try and avoid red meat as it contains high levels of iron which can affect insulin production and increase your chances of developing diabetes.

4. Get rid of obesity: If your BMI is more than thirty then you are suffering from obesity. Obesity increases your chances of developing diabetes. So in order to prevent diabetes you should work at maintaining a balanced weight.

5. Avoid carbonated drinks: Carbonated drinks contain high levels of sugar. This can increase your chances of developing diabetes. So you should try and avoid drinks like colas.
Following the above mentioned tips can help you to avert diabetes.

2978 people found this helpful

I am 41 years old. Recently had hysterectomy and since more than 4 months I had continuous vaginal itching with bad odour and it get worsens at night. I am also having diabetes. So I want to know the reason of this itching .

Diploma in Family Medicine, M.Sc - Psychotherapy
Sexologist, Pune
Dear Manisha, where are you from? Have not consulted your gynecologist yet? You are a diabetic and now menopausal. Most certainly you must be having vaginal and/or urinary infection. Get a urine routine and culture exam done from a pathology lab. Are your sugars well controlled? Check your blood sugar and Haemoglbin A1C also and tell us.
2 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback
Submit FeedbackFeedback

Hi i am 24 years old. I got married in 2013 September. Recently am completed my studies. We are planning now for children. I want to calculate my ovulation cycle. Can I know the details please.

MBBS
General Physician, Faridabad
Hi i am 24 years old. I got married in 2013 September. Recently am completed my studies. We are planning now for chil...
If your cycle is regular, then 14th day is the maximum chance, 1st day will be counted when bleeding start, of course it can be at anytime.
5 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

She is student of 21 years old , recently she came to know that there is a cyst development in her body . So how can she come over it?

MBBS
General Physician, Cuttack
She is student of 21 years old , recently she came to know that there is a cyst development in her body . So how can ...
It could be an ovarian cyst. Take USG pelvis after consulting Gynecologist and follow the advice and treatment
Submit FeedbackFeedback

What is test tube test? Does it increases the chances of pregnancy? How much it normally costs?

Diploma in Obstetrics & Gynaecology, MBBS
General Physician, Delhi
What is test tube test? Does it increases the chances of pregnancy? How much it normally costs?
Test tube test is done to know about the tubes whether tubes are open or not. Through the mouth of uterus a dye is injected into uterus with the help of a plastic catheter, if tubes are open dye spills out in the abdominal cavity. If tubes are partially blocked and dye is pushed with slight force, it does help open the tubes, so it increases the chances of pregnancy as it is done on 5th day of cycle, as soon as the period ends and it is opd procedure, woman can lead a normal life after this test, many cases have reported getting pregnant in the next cycle itself. Tube test is diagnostic & therapeutic.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Does unprotected sex during periods leads to pregnancy? If yes what could be done to avoid it.

BASM, MD, MS (Counseling & Psychotherapy), MSc - Psychology, Certificate in Clinical psychology of children and Young People, Certificate in Psychological First Aid, Certificate in Positive Psychology
Psychologist, Palakkad
Does unprotected sex during periods leads to pregnancy? If yes what could be done to avoid it.
Dear user. I can understand. Unprotected sex during the periods do not lead to pregnancy. TO CAUSE PREGNANCY on a woman, sperm should be ejaculated inside the vagina or fresh sperm should be inseminated inside the vagina with some means during the fertile period. . Pregnancy only happens when other aspects are too satisfied. In the given case, there is no chance of pregnancy. Take care.
2 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I had a irregular periods in my school days. In my college days I suffered non stop periods continuously for 2 years. Through health check up it found that I have PCOD. Now I got married. My doubt is whether I will face any difficulty to get conceive and also when I got first sexual contact with my husband I feel very pain and still I feel some pain. I didn't seen any blood at the first sexual contact. Is there any problem? Please help me.

BHMS
Homeopath, pathankot
I had a irregular periods in my school days. In my college days I suffered non stop periods continuously for 2 years....
there is no permanent treatment for PCOD in Allopathic mode of treatment. They ll only give u the hormones to regulate ur cycle. I advice you to take Homoeopathic medicine for permanent cure that ll not only solve ur problem but also increase the chances of pregnancy. any more information about your problem consult me privately.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I am 27 years old. I got married 8 months ago now we have planned for baby. What should we do for positive result.

MD - Obstetrtics & Gynaecology, FCPS, DGO, Diploma of the Faculty of Family Planning (DFFP)
Gynaecologist, Mumbai
I am 27 years old. I got married 8 months ago now we have planned for baby. What should we do for positive result.
Pregnancy can happen only on one day of the cycle- day she ovulates. Intercourse around that time can bring about pregnancy if all other factors are normal. In woman with regular cycles of 28 days ovulation occurs around 14 days after period (1st day of period). Because of this nature should be given 12 to 24 months for result.
Submit FeedbackFeedback

Hi I am lactating women for two month old baby .my breast becoming like a rock if I leave gap between 2to3 hours without feeding. Once baby sucks the hardness goes away .Wat is the cause for this condition.

MBBS,MD,FMAS,DMAS,FICRS
Gynaecologist, Bangalore
Hi I am lactating women for two month old baby .my breast becoming like a rock if I leave gap between 2to3 hours with...
Hi lybrate-user. This s normal don't worry. It's because of milk collected in the glands. So keep breast feeding every 2 hourly basis. Good luck.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I had a c sec delivery on last Friday can you suggest me some foods for healing d stitches n can I have milk.

Diploma in Obstetrics & Gynaecology, MBBS
General Physician, Delhi
I had a c sec delivery on last Friday can you suggest me some foods for healing d stitches n can I have milk.
Yes you can have toned milk, avoid foods causing distension, chickpea, beans, cauliflower, fried foods or too much salt and sugar and spices. Take jeera, ajwain, ginger, garlic as it enhances lactation, do feed the baby, no bottles, eat more proteins like milk and curds and boiled eggs plus proteins supplements plus seasonal vegetables and fruits plus eating according to constitution. Take more proteins. Do routine work for baby only. No exertion or exercises for 8 weeks till internal stitches are healed. Outwardly it's a dry wound. You can take a bath and maintain hygiene, good luck to mother and baby.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I am getting my periods before time (10-12days) from last few months. While having periods I have pain in my breast which is not tolerable.

DHMS (Diploma in Homeopathic Medicine and Surgery)
Homeopath, Hyderabad
I am getting my periods before time (10-12days) from last few months. 
While having periods I have pain in my breast ...
You have not mentioned whether menstrual discharge is normal, scanty or excessive. To start with take phytolacca 30 --once daily in the morning for a week before the expected date of period and report response.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback
Submit FeedbackFeedback

4 Antenatal Visits!

MBBS, Diploma family medicine
General Physician,
4 Antenatal Visits!

 Expectations in these four antenatal visits.
 

I am 28 years old I married last year I want to be pregnant but could not successful I suffered pain after 1 weak of periods this pain increase day by day. Please help me in conceiving.

MBBS (Gold Medalist, Hons), MS (Obst and Gynae- Gold Medalist), DNB (Obst and Gynae), Fellow- Reproductive Endocrinology and Infertility (ACOG, USA), FIAOG
Gynaecologist, Kolkata
You and your husband both needs to consult doctor to find out the cause of this problem so that we can start treatment accordingly.
Submit FeedbackFeedback

I have 34 week pregnancy, on 19th April 2017 I will complete my 9 month. And this will b my 2nd baby my first delivery was cesarean and now my Dr. Had my ultrasound of Thickness of scare which is my 4-5 mm And the head of baby is lower side, please tell me what it means and when should I do delivery and is it possible for normal delivery.

MBBS, MD - Obstetrics & Gynaecology -
Gynaecologist, Gurgaon
I have 34 week pregnancy, on 19th April 2017 I will complete my 9 month. And this will b my 2nd baby my first deliver...
Plan for elective c section. Do not risk your wife for normal delivery. Consult at greenwoods health centre sector 45 gurgaon for readonable charges.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Super fact of the day - 23rd October, 2015

Clinical Exercise Specialist, Certificate in Population Health, Certificate in Diabetology and Prevention, Nutritionist, MHSc (Public Health), MPT - Orthopedic Physiotherapy
Physiotherapist, Delhi
Super fact of the day - 23rd October, 2015
Super Fact of the Day: Building New Muscle is Quicker Than Losing It!

This is a good news. It takes twice the time to lose new muscle if you stop working out than what it took to gain it. That's because it’s easier and quicker to build new muscle tissue. But that's no reason to skip your workout!

Would you like to share this interesting fact with family or friends? Go ahead and click on 'Share'.
351 people found this helpful
View All Feed