Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Call Doctor
Book Appointment

Dr. Kiran Kumar Damerla

Pediatrician, Hyderabad

400 at clinic
Book Appointment
Call Doctor
Dr. Kiran Kumar Damerla Pediatrician, Hyderabad
400 at clinic
Book Appointment
Call Doctor
Submit Feedback
Report Issue
Get Help
Services
Feed

Personal Statement

My favorite part of being a doctor is the opportunity to directly improve the health and wellbeing of my patients and to develop professional and personal relationships with them....more
My favorite part of being a doctor is the opportunity to directly improve the health and wellbeing of my patients and to develop professional and personal relationships with them.
More about Dr. Kiran Kumar Damerla
Dr. Kiran Kumar Damerla is one of the best Pediatricians in Banjara Hills, Hyderabad. He is currently practising at Motherhood Hospital in Banjara Hills, Hyderabad. You can book an instant appointment online with Dr. Kiran Kumar Damerla on Lybrate.com.

Lybrate.com has a nexus of the most experienced Pediatricians in India. You will find Pediatricians with more than 36 years of experience on Lybrate.com. Find the best Pediatricians online in Hyderabad. View the profile of medical specialists and their reviews from other patients to make an informed decision.

Info

Specialty
Languages spoken
English

Location

Book Clinic Appointment with Dr. Kiran Kumar Damerla

Motherhood Hospital

Vengala Rao Building, Banjara Hills Road No 12, Nbt Nagar, Banjara Hills. Landmark: Jagannath Temple, HyderabadHyderabad Get Directions
400 at clinic
...more

Innovate Clinics

3rd Floor, Ayyappa Central, Ayyappa Society, Madhapur. Landmark: Opp. to YSR Statue, HyderabadHyderabad Get Directions
400 at clinic
...more
View All

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr. Kiran Kumar Damerla

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

I am a mother of 2 months old baby and my milk supply is low. I started taking lactare tablets. initially I was taking 2 tablets daily, but now its not enough for me so I started taking 2 tablets twice daily. Is it safe? Will it harm my baby? How long I could take this tablet? Will my supply get improved?

MBBS, MS - Obs and Gynae, MRCOG(London), DNB, Fellowship In Uro Gynaecology
Gynaecologist, Mumbai
Hi, you can take two tablets 3 times day. It is herbal- contains asparagus, fenugreek and ashwagandha mostly. You can continue till you are breastfeeding-will not affect your baby. You should also take plenty of fluids- up to 2 litres daily.
1 person found this helpful

Hello doctor God gifted me a cute angel but she is suffering from spina bifida but she is active and cute the moments of her legs and hands is normal she eat normally and drink milk properly breathing properly sleeping crying and playing normally but we are worried about spina bifida. please tell what could I do and where is the best treatment of it? Thanks.

CCEBDM, PG Diploma In Clinical Cardiology, MBBS
General Physician, Ghaziabad
Hello doctor
God gifted me a cute angel but she is suffering from spina bifida but she is active and cute the moments...
Which degree of spina bifida? If it is not open donot worry it will cause no harm, if it is open then it will need closure, you can fix an appointment with pediatric surgeon in any medical college patiala, ludhiana, jaipur good luck.
1 person found this helpful

My son is 5 years old, he has lost two teeth from lower side. Is the age is suitable for losing teeth and teeth of upper side is also loose. Can you please tell me how I can save his teeth from early loosing.

C.S.C, D.C.H, M.B.B.S
General Physician, Alappuzha
Of course, these temporary teeth have to be replaced by permanent teeth. You can ask me privately to regularly advise you as family doctor. What is the hb level and tft? send me the reports. Also give logical syrup.

My child is 1.2 years old she does not eat properly and plays full time. Please suggest something

MD - Paediatrics
Pediatrician, Amritsar
My child is 1.2 years old she does not eat properly and plays full time. Please suggest something
This is something very normal between the age of one and two years. Just relax and enjoy your bundle of happiness.
1 person found this helpful

Baby after proper feeding also cry at times What could be the major reason for a child of 0 month

M.D.( Pediatrics), DCH
Pediatrician,
Babies may cry for no reason at some or other times for no fault of mothers. This is an universal truth. Accept this and stop worrying, you will enjoy parenting. See that baby puts on 500-700 gms weight per month.
5 people found this helpful

My son is 6 months baby I came recently from San Francisco.I dint use any medicine for stomach but here in India evyone recommend neopeptine n gripe water to be given twice a day compulsorily.Cn I giv that both at a time?n how much quantity.

MD - Paediatrics, MBBS
Pediatrician, Bangalore
Gripe water as the name implies is given to a baby if he cries a lot because of gas which causes stomach pain ( gripe ). If your child is okay you need not give him gripe water. Give it only if child is crying too much due to gas.
2 people found this helpful

My baby is 8 month old he doesn't sleep he wakes up in the night in every 1 hour gap and in day also he doesn't sleep well, overall in a day he only sleeps for 6-7 hours. I have started giving him solid food and formula milk apart from breast milk. Please suggest me what to do I am very tensed regarding my baby's growth.

BHMS
Homeopath, Mumbai
My baby is 8 month old he doesn't sleep he wakes up in the night in every 1 hour gap and in day also he doesn't sleep...
Your baby weight seems good according to his age. May b he gets hungry at night. Try to feed him 2 hours before sleeping. N if he will not sleeping at night sleeping 7 hours during day is good.
1 person found this helpful

Bachon ki Khansi ka ilaj

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Bachon ki Khansi ka ilaj

बहुत आम पर हालत बिगाड़ देने वाली आम बीमारियों में से एक है खांसी। खांसी अगर गम्भीर रूप में हो जाए तो हेल्दी हेल्दी व्यक्ति भी थक हार कर सुस्त पड़ जाता है। शरीर का हर हिस्सा दर्द महसूस करने लगता है क्योंकि खांसते समय इसका असर केवल गले पर ही नही बल्कि सीना पेट हाथ पैर सब पर इफ़ेक्ट पड़ता है। बड़े तो फिर भी अपनी तकलीफ बयान कर भी लेते हैं और उसका इलाज भी कर लेते हैं पर सोचने की बात है कि बच्चों को खांसी होने पर उनका क्या हाल होता होगा। क्योंकि ना वो बता पाते हैं ना खुदसे अपनी मदद कर सकते हैं। इसलिए जरूरी है कि हमें पूरी जानकारी हो बच्चों को होने वाली खांसी की वजह और उसके इलाज के लिए घरेलू नुस्खों के बारे में।

दरसलश्लेम यानी म्यूकसको बाहर निकालने की कोशिश में या फिर गले और वायु मार्ग में सूजन होनेकी वजह से शिशु खांसता है।खांसी की वजह बहुत सी होती हैं, मगर आमतौर पर यह सर्दी-जुकाम या फ्लू का लक्षण होता है। ऐसे में हम अक्सर दवाओं का सहारा लेते हैं पर आपको यह बात पता होनी चाहिए कि सर्दी, जुकाम, खांसी जैसी बीमारियों में दवा देने की बजाय होम रेमेडीज अपनानी चाहिए। क्योंकि इन बीमारियों का नेचुरल तरीके से इलाज करना जितना बेहतर होता है उतना ही अंग्रेजी दवाओं से इलाज करना नेगेटिव साइड इफ़ेक्ट से भरपूर। तो आइए आज हम जानेंगे शिशुओं को होने वाली खांसी कारण और इससे राहत दिलाने वाले कुछ घरेलू नुस्खे।

खांसी के कारण

1. सर्दी-जुकाम
अगर आपके शिशु को सर्दी-जुकाम की वजह से खांसी हो रही हो, तो उसे साथ में बंद नाक, बहती नाक, गले में खारिश, आंखों में पानी और बुखार जैसे लक्षण भी हो सकते हैं। जुकाम की वजह से बनने वाले अतिरिक्त श्लेम को निकालने के लिए आपका शिशु खांसता है।

2. फ्लू
फ्लू के लक्षण सर्दी-जुकाम की तरह ही लग सकते हैं। अगर, आपके शिशु को फ्लू हो, तो उसे बुखार, नाक बहना और कई बार दस्त (डायरिया) या उल्टी भी हो सकती है। मगर फ्लू की वजह से होने वाली खांसी, जुकाम वाली खांसी से अलग होगी। यह बलगम वाली खांसी की बजाय सूखी खांसी होगी। इसका मतलब यह है कि आपका शिशु खांसी के साथ काफी कम बलगम निकाल रहा होगा।

3. क्रूप
अगर शिशु को क्रूप हो, तो उसे वायु मार्ग में सूजने होने की वजह से खांसी होगी। शिशुओं का वायु मार्ग काफी संकरा होता है और आपसे काफी छोटा होता है। इसलिए इनमें सूजन होने पर शिशु के लिए सांस लेना मुश्किल हो जाता है। छह माह और तीन साल के बीच के बच्चों को क्रूप होने की संभावना ज्यादा होती है। क्रूप खांसी मे भौंकने जैसी आवाज निकलती है। जो कि अक्सर रात में शुरु होती है।

4. काली खांसी 
काली खांसी या कुक्कर खांसी एक बैक्टिरियल इंफेक्शनहै। यह काफी संक्रामक होती है। काली खांसी में बहुत ज्यादा और खुश्क खांसी होती है। इसमें बहुत सारा श्लेम निकलता है और खांसते समय सांस लेते हुए उच्च स्वर या ध्वनि निकलती है।

5. दमा
शिशु को दमा की वजह से भी खांसी हो सकती है। अस्थमा से ग्रस्त शिशु की सांस लेते व छोड़ते समय श्वास फूलती है। उनकी छाती भी कस जाती है और सांस की कमी होने लगती है।

6. तपेदिक 
लगातार रहने वाली खांसी टी.बी. का लक्षण हो सकता है। टी.बी. की खांसी दो सप्ताह से ज्यादा जारी रहती है। टी.बी. से ग्रस्त शिशु की खांसी में खून आ सकता है, उसे सांस लेने में कठिनाई हो सकती है और भूख लगना कम हो सकती है। शिशु को बुखार भी हो सकता है।

बच्चों की खांसी के उपचार के लिए घरेलू नुस्खे 

1. गर्म तरल चीजें पिलाएं
बच्चे को ठंडे की बजाय गर्म पानी और बाकी चीज भी गर्म तासीर वाली ही पिलाएं जिससे गले की सूजन को आराम मिलेगा।

2. वाष्पित्र या वेपोरब का इस्तेमाल करें
वेपोरब २ साल के बच्चे को भी खॉँसी में तेजी से राहत देता है। इस जादुई रगड़ में मेन्थॉल, कपूर और नीलगिरी जैसी सामग्री हैंबच्चे को आराम दिलाती है।

3. सिर ऊंचा कर के सुलाएं
बलगम नाक से गले में टपक सकता है, जिसके परिणाम में गंभीर खाँसी हो सकती है। शरीर की ऐसी मुद्रा बहाव को प्रेरित कर सकती है। इसलिए बच्चे को उंचे स्थान पर सिर रखकर सोने से बहाव न होने में मदद होगी।

4. हल्दी की मदद लें
गर्म दूध के साथ आधी चम्मच हल्दी पाउडर मिलाए और बेहतर राहत पाने के इस मिश्रण को गरम ही पिलाएं। या फिरगर्म पानीमें एक चुटकी हल्दी पाउडर और नमक मिलाकर बच्चे से गरारा करवाने की कोशिश करें।

5. शहद अपनाएं
रात के समय सूखी खांसी से राहत के लिए बच्चे को सुलाने के पहलेउसे गर्म दूध में मिलाकर पिलाएं।

6. अदरक
एक कप पानी में अदरक के टुकड़ों को ड़ाल कर इस मिश्रण को आधि मात्रा होने तक उबालकर छान के इसमे एक चम्मच शहद डालकर बच्चे को पिलाएं।

7. तुलसी
तुलसी के पत्तों का रस निकाल कर बच्चे को पिलाएं।

8. अंगूर का जादू
अंगूर प्राकृतिक कफोत्सारक हैं और वे आपके फेफड़ों से कफ निकाल देते हैं। इन फलों के रस में शहद मिलाए और इस रसको बच्चे सोने से पहले थोड़ा सा पिलाएं।

9. एलोवेरा
बड़ों की खांसी हो या बच्चे की खांसी एलोवेरा का रस और शहद के मिश्रण काफी असरदार नुस्खा है।

1 person found this helpful

My younger son his age is one and half year and he is suffering from the problem of stool at the time of stooling he suffers more pain and stool is so hard and tight. So please tell any thing else.

FELLOWSHIP IN PCCM, FELLOW-PEDIATRIC FLEXIBLE BRONCHOSCOPY, FELLOWSHIP IN PEDIATRIC CARDIAC CRITICAL CARE, D.C.H., M.B.B.S
Pediatrician, Ahmedabad
My younger son his age is one and half year and he is suffering from the problem of stool at the time of stooling he ...
more fibre in diet green raw salad less milk and milk products moreliquids and medicines as below are the answers. syp.looz 5 ml at bed time (till stool becomes Normal)
View All Feed