Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Book
Call

Vamsi Polyclinic Diagnostic.

Gynaecologist Clinic

House No 6-3-597/B, Municipal No 830, Opposite Saraswathi Vidya Mandri, Venkataramana Colony.Banjara hills ,Road no.1,Landmark:Behind Care Hospital, Hyderabad Hyderabad
1 Doctor · ₹150
Book Appointment
Call Clinic
Vamsi Polyclinic Diagnostic. Gynaecologist Clinic House No 6-3-597/B, Municipal No 830, Opposite Saraswathi Vidya Mandri, Venkataramana Colony.Banjara hills ,Road no.1,Landmark:Behind Care Hospital, Hyderabad Hyderabad
1 Doctor · ₹150
Book Appointment
Call Clinic
Report Issue
Get Help
Feed
Services

About

We are dedicated to providing you with the personalized, quality health care that you deserve....more
We are dedicated to providing you with the personalized, quality health care that you deserve.
More about Vamsi Polyclinic Diagnostic.
Vamsi Polyclinic Diagnostic. is known for housing experienced Gynaecologists. Dr. Visalakshi, a well-reputed Gynaecologist, practices in Hyderabad. Visit this medical health centre for Gynaecologists recommended by 99 patients.

Timings

MON-SAT
09:00 AM - 12:30 PM 06:30 PM - 08:30 PM

Location

House No 6-3-597/B, Municipal No 830, Opposite Saraswathi Vidya Mandri, Venkataramana Colony.Banjara hills ,Road no.1,Landmark:Behind Care Hospital, Hyderabad
Banjara Hills Hyderabad, Andhra Pradesh
Get Directions

Doctor

150 at clinic
Available today
09:00 AM - 12:30 PM
06:30 PM - 08:30 PM
View All
View All

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Vamsi Polyclinic Diagnostic.

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

Jamalgota Ke Fayde Aur Nuksan In Hindi

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Jamalgota Ke Fayde Aur Nuksan In Hindi

वानस्पतिक नाम क्रोटन टिग्लियम वाली, जमालगोटा के फायदों और नुकसान दोनों ही ज्यादा हैं. उत्तर-पूर्व और दक्षिण भारतीय राज्यों में पाया जाने वाला जमालगोटा के पेड़ की ऊंचाई 15-20 फीट होती है. इसके फुल के अन्दर लाल-भूरे रंग का जो तेल जैसा पदार्थ होता है उसका औषधीय महत्व काफी ज्यादा है. जमालगोटा की तासीर गर्म होती है इससे शरीर में पित्त बढ़ता है और काफ पतला होता है. आइए जमालगोटा के लाभ और हानि को विस्तारपूर्वक समझें.

1. आंत के लिए
शरीर के महत्वपूर्ण अंगों में से एक आंत में कई बार कीड़े हो जाते हैं. आंत के इन कीड़ों को भगाने के लिए 20 मिलीग्राम जमालगोटा के बीज को पानी के साथ लेने से आंत के कीड़े ख़त्म होते हैं.
2. कब्ज में
कब्ज से पीड़ित मरीज को यदि सावधानीपूर्वक जमालगोटा दिया जाए तो उसे काफी आराम मिलता है. इसके लिए आपको जमालगोटा के बीज का पाउडर 20-40 मिलीग्राम नियमित रूप से देना होता है. इससे गंभीर कब्ज का इलाज भी संभव है.
3. बालों के लिए
जमालगोटा का प्रयोग बालों की समस्याओं को दूर करने के लिए भी किया जाता है. इसके शुद्ध बीजों का पेस्ट बनाकर सर में लगाने से गंजापन में सुधार होता है. यानी बालों का झड़ना रोकने में जमालगोटा काफी उपयोगी है.
4. पीलिया में
जमालगोटा की जड़ों के बाहरी छाल को गुड़ के साथ लेने से ऐसा माना जाता है कि इससे पित्त का स्त्राव बढ़ता है. इसे सफ़ेद मल को कम करने और पीलिया के उपचार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है.
5. जोड़ों के दर्द में
जोड़ों का दर्द जिसे गठिया भी कहते हैं, इसके इलाज के लिए भी जमालगोटा का इस्तेमाल किया जाता है. जमालगोटा के बीजों से निकला तेल सूजन, फेफड़े के रोगों, गठिया और क्रोनिक ब्रोंकाइटीस आदि पर लागने से राहत मिलती है.
6. सांप काटने पर
सांप काटने के इलाज के रूप में भी जमालगोटा का उपयोग किया जाता है. इसके बीज के पेस्ट में नींबू का रस मिलाकर दिया जात्ता है. इसके अलावा एक उपाय और है कि जमालगोटा के 100 मिलीग्राम पाउडर में काली मिर्च को पीसकर मिलकर इसे पानी के साथ पिने से उल्टी होकर जहर निकल जाता है.
7. स्तंभन में
जमालगोटा से होने वाले विभिन्न लाभों में से एक स्तंभन दोष में इससे होने वाला लाभ भी है. जमालगोटा के बीज का पेस्ट बनाकर पनील क्षेत्र में लगाने से स्तंभन दोष में राहत मिलता है.
8. फोड़ा के लिए
जमालगोटा और क्रोटन के जड़ की बाहरी छाल के पेस्ट को त्वचा के फोड़े पर लगाया जाता है. जमालगोटा इन फोड़ों के फूटने में मदद करता है.
9. एक्जीमा में
इसका बीज एक्जीमा के उपचार में काफी सकारात्मक भूमिका निभाता है. जमालगोटा के बीज के पाउडर से पेस्ट तैयार करें और इस पेस्ट को एक्जीमा जैसे चमड़े से सम्बंधित किसी भी रोग में लगाने पर उसमें सुधार होता है.
10. बवासीर में
जमालगोटा के जड़ों का पाउडर और छाछ के पेस्ट का उपयोग बाहरी बवासीर के ऊपर करने से बवासीर सिकुड़कर सूखने लगता है. इससे सुजन में कमी आती है और मरीज राहत महसूस करता है.
11. जमालगोटा के अन्य फायदे
कफ रोगों के फायदेमंद जमालगोटा का लाभ पाचन और अवशोषण को सही करने में भी देखा गया है. इसके अलावा ये हमारा खून भी साफ़ करता है. आपको बता दें की पित्त के असंतुलित होने पर स्वाद में कड़वा लगने वाले पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए.

जमालगोटा के नुकसान

  • त्वचा पर फफोले और पेट में निर्जलीकरण व दर्द होसकता है.
  • जमालगोटा का विषैला प्रभाव भी देखा गया है.
  • यदि सावधानी न बरतें तो इसके तेल से म्रत्यु भी हो सकती है.
  • गर्भवती महिलाएं और स्तनपान कराने वाली महिलाएं इसके इस्तेमाल से बचें.
  • किसी चिकित्सक के सलाह से ही इसका प्रयोग करें.

Shivlingi Beej Ke Benefits And Side Effects In Hindi

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Shivlingi Beej Ke Benefits And Side Effects In Hindi

वानस्पतिक नाम ब्रायोनिया लैसिनोसा वाले शिवलिंगी बीज के फायदे कितने महत्वपूर्ण हैं इसका अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि ये बांझपन को भी दूर करता है. प्रजनन शक्ति बढ़ाने के अलावा भी इसमें कई अन्य गुण जैसे रक्त मेन लिपिड के स्तर को कम करना, रोगाणुओं का नाश करना, सूजन कम करना, फंगसरोधी, शुक्राणुओं की संख्या बढ़ाना और दर्दनिवारक के रूप में इसका इस्तेमाल किया जाता है. स्वाद में कड़वा लगाने वाले शिवलिंगी बीज के फ़ायदे निंलिखित हैं.

1. बुखार में
बुखार को कम करने में शिलिंगी बीज महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. शिवलिंगी के पत्तों का सेवन बुखार में अत्यंत लाभदायक सिद्ध होता है. शिवलिंगी के पत्तों में पैरासेटामॉल जैसे ज्वरनाशी गुण पाए जाते हैं. आप चाहें तो इसके पत्तों का काढ़ा बनाकर भी पी सकते हैं. आपको बता दें कि शिवलिंगी बीज में पीड़ा-नाशक प्रभाव भी देखा जाता है.
2. वजन कम करने में
बॉडी मॉस इंडेक्स को सही करने और शरीर के वजन को कम करने में शिवलिंगी बीज की सकारात्मक भुमिका है. इसके लिए इसमें पाया जाने वाला ग्लुकोमानन जिम्मेदार है. अपना मोटापा कम करने के लिए आपको शिवलिंगी बीज को नियमित रूप से और सही मात्रा में इस्तेमाल करना जरुरी है.
3. बांझपन को दूर करने में
कई महिलाओं में बांझपन की समस्या देखने को मिलती है. प्रजनन का सीधा संबंध अंडाणु और शुक्राणु से है. विशेषज्ञों का कहना है कि महिलाओं में बांझपन अंडे की कम संख्या या गुणवत्ता के कारण हो सकती है. इस तरह की स्थिति के लिए कोई बीमारी या चोट लगना जिम्मेदार हो सकती है. स्वाभाविक रूप से ये समस्या बढ़ती उम्र के साथ आती है.
शिवलिंगी बीज ओवेरियन रिज़र्व जैसी ओवुलेशन से निजात पाने में अत्यंत लाभकारी सिद्ध होता है. दरअसल ये पीरियड्स को नार्मल करता है. हलांकि इस विषय में अभी भी काफी शोध किया जाना बाकी है ताकि इसका और प्रभावी तरीके से इस्तेमाल किया जा सके.
4. कब्ज में शिवलिंगी बीज के फायदे
शिवलिंगी के बीज में ग्लुकोमानन नाम का एक पानी में घुलनशील प्राकृतिक फाइबर पाया जाता है. इसलिए ये पानी को अवशोषित करके आंत में मल त्याग की प्रक्रिया को बेहतर करता है. इस प्रकार ये कब्ज के उपचार में फायदेमंद साबित होता है. कब्ज आदि समस्याएं, हमारे शरीर में कई अन्य समस्याओं को भी जन्म देती हैं. इसलिए इसका ये अतिरिक्त फायदा है कि आप अनावश्यक बिमारियों से बच जाते हैं.
5. यौन ऊर्जा बढ़ाने के लिए
यदि आप शिवलिंगी बीज का उचित मात्रा में सेवन करें तो ये पुरुष के यौन अंगों जैसे वृषण, अधिवृषण और प्रोस्टेट आदि के वजन में वृद्धि करता है. यही नहीं ये शुक्राणुओं की संख्या बढ़ाकर शुक्राणु कोशिकाओं में फ्रक्टोज की मात्रा भी बढ़ाते हैं. जिससे कि शुक्राणु द्रव के पोषण के स्तर में सुधार होता है. कुल मिलाकर ये आपकी यौन ऊर्जा में वृद्धि करते हैं.
6. गर्भाशय के लिए फायदेमंद
आयुर्वेद के अनुसार शिवलिंग बीजों को पुत्र जीवक बीज के साथ मिलाकर इसका पाउडर लेने से गार्भाशय की मांसपेशियों में मजबूती आती है. शिवलिंग बीज महिलाओं को गर्भवती होने में भी उनकी सहायता करता है. इसके लिए अप इस पाउडर को उस गाय के दूध के साथ मिलाएं जिसने बछड़े को जन्म दिया हो. इसे सुबह-शाम खाली पेट लेने से आपको इसका लाभ मिलता है.

क्या है शिवलिंगी का नुकसान
शिवलिंगी के बीज का वैसे तो कोई खास नुकसान नहीं देखा गया है. लेकिन कुछ आम सावधानियां जो कि सभी दवाओं को लेने में बरतनी चाहिए, उन्हें जरुर फॉलो करें. शिवलिंगी बीज से बनी दवाओं को जरूरत से ज्यादा मात्रा में न लें. जब भी किसी बीमारी के लिए शिवलिंगी बीज का इस्तेमाल करना हो तो किसी आयुर्वेदाचार्य से परामर्श अवश्य लें.
 

Sex And Infertility

MBBS, MD - Psychiatry, D.P.M - Sex-Psychotherapy
Sexologist, Surat
Sex And Infertility

Proper protein intake is essential for proper sex.

Health Benefits of Oysters

Sexologist Clinic
Sexologist, Faridabad

Love ’em or hate ’em, oysters are a staple of cuisines all over the world. Some people shudder at the thought of slurping down the slimy inside. Others can’t get enough of the briny flavor. 

Sexual Health:

The zinc found in oysters is why they are considered an age-old aphrodisiac! Zinc helps the body produce testosterone, a hormone critical in regulating women’s and men’s libido and sexual function. In men, research suggests that this mineral improves sperm count and swimming ability. In women, zinc may help ovaries, and therefore help in balancing and regulating the combination of estrogen, progesterone, and testosterone.

Immune Boosting:

These mollusks pack a solid dose of both vitamin E and C. They also contain various other minerals that help our immune system. The anti-inflammatory and anti-oxidant properties of oysters also protect against free radicals, which are released during cellular metabolism.

Heart Health: 

Oysters positively influence heart health. They reduce the plaque that accumulates on arteries by inhibiting it from binding to the artery walls and blood vessels. Moreover, the high magnesium and potassium content in oysters helps lower blood pressure and relaxes the blood vessels. The vitamin E increases the flexibility and strength of cellular membranes.

Good for Eyes:

Oysters top the list of natural sources of zinc, the mineral that ensures that the eye’s pigment is adequately produced in the retina. The more zinc, the stronger your eyesight, because reduced pigmentation is often related to a reduction in the central visual field of vision.

Improves Brain Function:

Oysters are a rich source of B12, omega-3 fatty acids, zinc and iron, benefiting both brain function. Studies have shown that low iron in the brain reduces the ability of a person to concentrate while zinc deficiency can affect the memory.

Good for the Skin:

The powerful mineral zinc plays a big role in skin repair by helping create and boost collagen. Collagen is crucial for the structural support in skin and reduces sagging. It also helps maintain stronger nails, and keeps scalp and hair healthy.

Healthy vascular system and blood vessels:

A serving of oysters contains 16-18% of the daily recommended amount of vitamin C. Vitamin C  helps fight cardiovascular disease by activating the coenzymes the body needs to make norepinephrine- a chemical essential for nerve function. They are also high in omega–3 fatty acids, potassium, and magnesium which are known to reduce the  risk of heart attack, stroke, and also effective at lowering blood pressure.

Energy Boosting:

Oysters contain a good amount of B12 vitamins, which boost energy and turn the food we eat into energy. Recent studies suggest anywhere from 15-40% of Americans don’t have adequate levels of B12 for optimal health. Oysters also contain iron, which helps the body transport oxygen to individual cells giving an energy boost.

1 person found this helpful

Sleep is Important

MBBS, FIAGES-MInimal Access Surgery
General Surgeon, Kota
Sleep is Important

Finding it difficult to get a good night’s sleep? Sleep deprivation can lead to fatigue, confusion, memory lapses and irritability.

To get a restful sleep:

  • Create a sleep schedule and stick to it. Reading a book, listening to relaxing music, or taking a warm shower can help in relaxing your body.
  • Avoid watching TV or surfing on your mobile as this can interfere with your sleep.
  • Pay attention to what you eat and drink. Going to bed hungry or stuffing yourself too much can cause discomfort and keep you awake.

लहसुन के सेवन के स्वास्थ्य लाभ

Sexologist Clinic
Sexologist, Faridabad

कई बार हम ध्यान नहीं देते कि हमारे घर में ही मौजूद कोई चीज़ हमारे लिए कितनी फायदेमंद साबित हो सकती है। ऐसी ही एक चीज़ किचन में पाए जाने वाला लहसुन है। लहसुन में कई सारे औषधीय गुण होते हैं। लहसुन को खाना तब ज़्यादा लाभकारी होता है जब आप उसे खाली पेट कच्चा खाते हैं। आइये जानें इसके सभी स्वास्थ्य लाभों के बारे में।

1. इंफेक्शन से बचाए 

लहसुनलहसुन का सेवन करने से शरीर में टी-सेल्स, फैगोसाइट्स, लिंफोसाइट्स आदि प्रतिरोधी तत्व बढ़ते हैं। ये सभी तत्व शरीर की इम्यूनिटी को बढ़ाते हैं। इससे किसी भी प्रकार का इंफेक्शन शरीर को तुरंत नहीं होता।

2. ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रखे

 लहसुन खाने से हाइपरटेंशन की समस्या में आराम मिलता है। यह न सिर्फ रक्त के प्रवाह को नियमित करता है बल्कि यह दिल से संबंधित समस्याओं को भी दूर करता है तथा लीवर और मूत्राशय को भी सुचारू रूप से काम करने में सहायक होता है

3. पिंप्लस का उपचार 

लहसुनलहसुन में एंटी बैक्टिरियल तत्व पाए जाते हैं। इसीलिए पिंपल्स की समस्या हो तो इसका इस्तेमाल करने से काफी फायदा होता है। पिंपल पर लहसुन की स्लाइस लेकर हल्के से रब करें, बहुत जल्द पिंपल ठीक हो जाएगा।

दांत के दर्द में आरामजी हां, लहसुन के सेवन से दांतों के दर्द में भी काफी आराम मिलता है। इसके लिए लहसुन को लौंग के साथ पीसकर दांतों के दर्द वाले हिस्से पर लगाएं, दर्द से तुरंत राहत मिलेगी|

4. दांत के दर्द में आराम

जी हां, लहसुन के सेवन से दांतों के दर्द में भी काफी आराम मिलता है। इसके लिए लहसुन को लौंग के साथ पीसकर दांतों के दर्द वाले हिस्से पर लगाएं, दर्द से तुरंत राहत मिलेगी।

5. भूख बढ़ाए

लहसुन पाचन प्रक्रिया को तेज़ करता है और इसी वजह से भूख भी बढ़ाता है। जब भी आपको घबराहट होती है तो पेट में एसिड बनने लगता है। लहसुन इस एसिड को बनने से रोकता है।

6. ब्लड क्लॉटिंग न होने दे

लहसुन उन लोगों के लिए भी बहुत फायदेमंद हैं जिनका खून अधिक गाढ़ा होता है, और इस वजह से ब्लड क्लॉटिंग की समस्या हो जाती है। लहसुन खून पतला करता है और रक्त प्रवाह सुचारू करता है और इस तरह से ब्लड क्लॉटिंग को रोकता है।

7. श्वसन तंत्र मज़बूत बनाए

लहसुन श्वसन तंत्र के लिए बहुत फायदेमंद होता है। इससे जुड़ी स्वास्थ्य समस्याओं जैसे ट्यूबरक्लोसिस, अस्थमा, निमोनिया, ज़ुकाम, ब्रोंकाइटिस, पुरानी सर्दी, फेफड़ों में जमाव और कफ़ आदि रोकथाम तथा उपचार में बहुत प्रभावशाली होता है।

8. डायरिया दूर करने में मदद करे

पेट से संबंधित समस्याओं जैसे डायरिया आदि के उपचार में भी लहसुन प्रभावकारी होता है। लहसुन तंत्रिकाओं से संबंधित बीमारियों के उपचार में काफी प्रभावकारी होता है, लेकिन सिर्फ तभी जब इसे खाली पेट खाया जाए।

3 people found this helpful

लहसुन के सेवन के स्वास्थ्य लाभ

Sexologist Clinic
Sexologist, Faridabad

 

कई बार हम ध्यान नहीं देते कि हमारे घर में ही मौजूद कोई चीज़ हमारे लिए कितनी फायदेमंद साबित हो सकती है। ऐसी ही एक चीज़ किचन में पाए जाने वाला लहसुन है। लहसुन में कई सारे औषधीय गुण होते हैं। लहसुन को खाना तब ज़्यादा लाभकारी होता है जब आप उसे खाली पेट कच्चा खाते हैं। आइये जानें इसके सभी स्वास्थ्य लाभों के बारे में।

इंफेक्शन से बचाए 

लहसुनलहसुन का सेवन करने से शरीर में टी-सेल्स, फैगोसाइट्स, लिंफोसाइट्स आदि प्रतिरोधी तत्व बढ़ते हैं। ये सभी तत्व शरीर की इम्यूनिटी को बढ़ाते हैं। इससे किसी भी प्रकार का इंफेक्शन शरीर को तुरंत नहीं होता।

ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रखे

 लहसुन खाने से हाइपरटेंशन की समस्या में आराम मिलता है। यह न सिर्फ रक्त के प्रवाह को नियमित करता है बल्कि यह दिल से संबंधित समस्याओं को भी दूर करता है तथा लीवर और मूत्राशय को भी सुचारू रूप से काम करने में सहायक होता है

पिंप्लस का उपचार 

लहसुनलहसुन में एंटी बैक्टिरियल तत्व पाए जाते हैं। इसीलिए पिंपल्स की समस्या हो तो इसका इस्तेमाल करने से काफी फायदा होता है। पिंपल पर लहसुन की स्लाइस लेकर हल्के से रब करें, बहुत जल्द पिंपल ठीक हो जाएगा।

दांत के दर्द में आरामजी हां, लहसुन के सेवन से दांतों के दर्द में भी काफी आराम मिलता है। इसके लिए लहसुन को लौंग के साथ पीसकर दांतों के दर्द वाले हिस्से पर लगाएं, दर्द से तुरंत राहत मिलेगी|

दांत के दर्द में आराम

जी हां, लहसुन के सेवन से दांतों के दर्द में भी काफी आराम मिलता है। इसके लिए लहसुन को लौंग के साथ पीसकर दांतों के दर्द वाले हिस्से पर लगाएं, दर्द से तुरंत राहत मिलेगी।

भूख बढ़ाए

लहसुन पाचन प्रक्रिया को तेज़ करता है और इसी वजह से भूख भी बढ़ाता है। जब भी आपको घबराहट होती है तो पेट में एसिड बनने लगता है। लहसुन इस एसिड को बनने से रोकता है।

ब्लड क्लॉटिंग न होने दे

लहसुन उन लोगों के लिए भी बहुत फायदेमंद हैं जिनका खून अधिक गाढ़ा होता है, और इस वजह से ब्लड क्लॉटिंग की समस्या हो जाती है। लहसुन खून पतला करता है और रक्त प्रवाह सुचारू करता है और इस तरह से ब्लड क्लॉटिंग को रोकता है।

श्वसन तंत्र मज़बूत बनाए

लहसुन श्वसन तंत्र के लिए बहुत फायदेमंद होता है। इससे जुड़ी स्वास्थ्य समस्याओं जैसे ट्यूबरक्लोसिस, अस्थमा, निमोनिया, ज़ुकाम, ब्रोंकाइटिस, पुरानी सर्दी, फेफड़ों में जमाव और कफ़ आदि रोकथाम तथा उपचार में बहुत प्रभावशाली होता है।

डायरिया दूर करने में मदद करे

पेट से संबंधित समस्याओं जैसे डायरिया आदि के उपचार में भी लहसुन प्रभावकारी होता है। लहसुन तंत्रिकाओं से संबंधित बीमारियों के उपचार में काफी प्रभावकारी होता है, लेकिन सिर्फ तभी जब इसे खाली पेट खाया जाए।

3 people found this helpful

Health Benefits of Green Tea

Sexologist Clinic
Sexologist, Faridabad

Promotes Heart Health

Potentially due to its ability to lower blood cholesterol, green tea has been shown to aid the body in its ability to burn off harmful forms of fat, preventing them from laying stagnant in the blood stream. Large-scale studies done on green tea have associated it with long-term heart disease prevention. A Japanese trial found that drinking at least four cups of green tea daily could lower the severity of heart disease in men. 

Antioxidants

Green tea is loaded with antioxidants. These free-radical fighting substances increase the body’s ability to ward off disease and slow down the degenerative processes of aging. Green tea contains antioxidants called catechins and polyphenols, forms of antioxidants known to stop the response associated with damaged DNA, high cholesterol, and even cancer. These antioxidants act as dilators on our blood vessels, improving their elasticity and reducing the chance of clogging. What is more, green tea undergoes very little processing, allowing the natural antioxidants to remain intact and concentrated.

 Weight-Loss Aid and Metabolism Booster

Green tea extract has been shown to be effective in both the prevention and reduction of weight gain. One study found that green tea’s fat oxidation properties aided participants in weight loss over a period of three months. A Japanese study found that participants using green tea extracts were most easily able to lose weight, lower blood pressure levels and get rid of harmful LDL cholesterol. Clinical studies suggest that green tea’s polyphenols create a fat-burning effect in the body, as well as increase metabolism. But, and this is a big but, some research has shown that green tea extract may offer too much of a good thing to the point it can negatively affect liver health. Although we can’t talk about the benefits of green tea without mentioning green tea extract and weight loss, we also can’t mention that without the caveat against green tea extract.

Supports Digestion

Green tea is a well-known digestive stimulant. It reduces intestinal gas and may even offer support for digestive disorders such as Crohn’s disease and ulcerative colitis, the two types of IBD.

Encourages Normal Blood Sugar

Green tea has been used in traditional medicine to keep blood sugar levels stabilized. This may be due to the fact that it regulates glucose in the body.

Support for Arthritis

Studies show that green tea counteracts the response typically associated with diseases like arthritis. It does this by slowing the inflammation response as well as the breakdown of cartilage in arthritic individuals.

Boosts the Immune System

Green tea may act as an overall immune booster. Chemicals in green tea have been used to promote good health in so many ways. Some studies on laboratory animals even show promising evidence that green tea can slow the aging process and even keep us alive longer!

2 people found this helpful

Health Benefits of Green Tea

Sexologist Clinic
Sexologist, Faridabad

Promotes Heart Health

Potentially due to its ability to lower blood cholesterol, green tea has been shown to aid the body in its ability to burn off harmful forms of fat, preventing them from laying stagnant in the blood stream. Large-scale studies done on green tea have associated it with long-term heart disease prevention. A Japanese trial found that drinking at least four cups of green tea daily could lower the severity of heart disease in men. 

 

Antioxidants

Green tea is loaded with antioxidants. These free-radical fighting substances increase the body’s ability to ward off disease and slow down the degenerative processes of aging. Green tea contains antioxidants called catechins [4] and polyphenols, forms of antioxidants known to stop the response associated with damaged DNA, high cholesterol, and even cancer. These antioxidants act as dilators on our blood vessels, improving their elasticity and reducing the chance of clogging. What is more, green tea undergoes very little processing, allowing the natural antioxidants to remain intact and concentrated.

 Weight-Loss Aid and Metabolism Booster

Green tea extract has been shown to be effective in both the prevention and reduction of weight gain. One study found that green tea’s fat oxidation properties aided participants in weight loss over a period of three months. A Japanese study found that participants using green tea extracts were most easily able to lose weight, lower blood pressure levels and get rid of harmful LDL cholesterol. Clinical studies suggest that green tea’s polyphenols create a fat-burning effect in the body, as well as increase metabolism. But, and this is a big but, some research has shown that green tea extract may offer too much of a good thing to the point it can negatively affect liver health. Although we can’t talk about the benefits of green tea without mentioning green tea extract and weight loss, we also can’t mention that without the caveat against green tea extract.

Supports Digestion

Green tea is a well-known digestive stimulant. It reduces intestinal gas and may even offer support for digestive disorders such as Crohn’s disease and ulcerative colitis, the two types of IBD.

Encourages Normal Blood Sugar

Green tea has been used in traditional medicine to keep blood sugar levels stabilized. This may be due to the fact that it regulates glucose in the body.

Support for Arthritis

Studies show that green tea counteracts the response typically associated with diseases like arthritis. It does this by slowing the inflammation response as well as the breakdown of cartilage in arthritic individuals.

Boosts the Immune System

Green tea may act as an overall immune booster. Chemicals in green tea have been used to promote good health in so many ways. Some studies on laboratory animals even show promising evidence that green tea can slow the aging process and even keep us alive longer!

Do you drink a lot of green tea? What thoughts or experiences can you share? Please leave a comment below!

1 person found this helpful

Hi my name s vijetha and ma question s I am facing pcod nd how to take ths Primson 35 tablet? Whthr to take before food r after food?

MBBS, MS - Obstetrics and Gynaecology
Gynaecologist, Delhi
Hi my name s vijetha and ma question s I am facing pcod nd how to take ths Primson 35 tablet? Whthr to take before fo...
Krimson35 should be taken from 5th day of cycle ,it should be taken after dinner ,should be taken on the same time each day daily for 21 days.
Submit FeedbackFeedback

Hello I am addicted to incest porn like mom son, bro sis. Is it bad through I know incest marriage not possible neither I want nor I want child from incest sex. Kindly guide.

MBBS
Sexologist, Panchkula
Hello I am addicted to incest porn like mom son, bro sis. Is it bad through I know incest marriage not possible neith...
You should avoid watching incest porn. I advise you to be vegetarian. Take plenty of water daily. Do meditation for increasing mental focus to control your mind, to stop watching incest porn. Follow this and be happy.
Submit FeedbackFeedback

I took ipill after 7 days I got little bit bleeding nd headache vomiting 3 times please tell its safe or not?

DHMS (Hons.)
Homeopath, Patna
I took ipill after 7 days I got little bit bleeding nd headache vomiting 3 times please tell its safe or not?
Hello, It might be due to anxiety & stress. Proper, pathological test be needed to ascertain the exact condition, please. Tk, care.
Submit FeedbackFeedback

I am going to love marriage, my partner blood group O- and my blood group A+. How to get success in my family plan. I know it's complicate will come when my wife get pregnant. So please give suggest how to minimize that problem and when we get family plane. Both are same age 26 year old.

MBBS, MS - Obstetrics and Gynaecology
Gynaecologist, Delhi
I am going to love marriage, my partner blood group O- and my blood group A+. How to get success in my family plan. I...
As your wife's bld is o-ve and your 's is a+ve ,if the baby's bld group is rh +ve there are some chances of rh incompatibility. But to prevent this anti D vaccine is given to rh -ve pregnant lady at 28 weeks of pregnancy ,another vaccine is given within 72 hrs of delivery if babies bld group is rh +ve. If antiD Vaccines are given at due time ,nothing to worry.
Submit FeedbackFeedback

My wife is suffering from cold for now almost 15 days. No other symptoms; only nose is blocked. She is pregnant of 7 weeks. please suggest some medicine ; she has taking carol 630 + Montek without any improvement. Only coughing is stopped.

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Zirakpur
My wife is suffering from cold for now almost 15 days. No other symptoms; only nose is blocked. She is pregnant of 7 ...
Give her steam inhalation after instilling drops of SHADBINDU OIL (Ayurvedic) in both nostrils in early morning. Steam may be given later.
Submit FeedbackFeedback

Know More About Vaginal Rashes!

MBBS, MD - Obstetrics & Gynaecology
Gynaecologist, Delhi
Know More About Vaginal Rashes!

Although vaginal rashes can be identified with non infectious conditions, for example, hypersensitive responses and contact dermatitis, many are because of sexually transmitted diseases. The zone around the vagina might be blushed with sores or blisters or it might hold its typical shading yet have bumps. Different side effects, for example, discharge, burning sensation during urination, pain or tingling, may likewise happen.

Not all sexually transmitted diseases cause vaginal rashes; the ones that most regularly do are syphilis, genital herpes and human papillomavirus (HPV). Genital herpes normally causes groups of excruciating red blisters that might be irritated. Syphilis might be connected with a lone, painless, red sore on the vulva that might be followed by a rash on the hands and feet. Genital warts may develop as an after effect of HPV disease.

What is it caused by?

It can happen as a result of rubbing against the skin, like from uncomfortable underwear or rough sanitary napkins. These are not harmful and non-contagious. It can be caused by some non-specific bacteria called bacterial vaginitis. It can be due to protozoan infection, trichomonas vaginalis. Doctor can diagnose after examination and certain tests, the cause of itiching. Also, some of them are usually minor and get cured with home remedies.

  1. Contact Dermatitis: This can be caused when you come in contact with a substance that can cause irritation or an allergy. This is called contact dermatitis. It can be very itchy, but it is not serious very often.

  2. Pubic lice: These are caused by tiny parasites, such as insects that survive by sucking on blood from humans.

  3. Candidiasis (yeast infections): This can cause rashes in the moist folds of the vaginal skin.

  4. ScabiesIt is a skin condition, which can get very itchy and is caused due to little mites digging into your skin.

  5. PsoriasisThese are characterised by little red or wine red coloured bumps with silvery scaly skin on top of that. It is commonly found on the knees, elbow or scalp, but it can occur on any part of the body.

My mc date is 26-27 oct. I am planning for a baby. Please tell me proper days to intimate. So that I can conceive.

MD - Homeopathy, BHMS
Homeopath, Surat
My mc date is 26-27 oct. I am planning for a baby. Please tell me proper days to intimate. So that I can conceive.
If your cycle is of 28-30 days, your best period for conceive is from 14- to 18th day from your last day of period. So according to your date if you calculate it’s between date 12th of November to 16th November and same on.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

My wife want to use Herbalife Weight Loss product but she is feeding our 10 month old baby want opinions on this please help.

Bachelor of Science in Nutrition and Dietetics, Diploma in Diet and Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Delhi
My wife want to use Herbalife Weight Loss product but she is feeding our 10 month old baby want opinions on this plea...
Hi, she should be on balanced diet if she is feeding a baby, any weight loss product is not recommended for lactation period, feel free to contact for further details.
Submit FeedbackFeedback

Hlw sir/mam I have a question. 20 days ago I had suffered the disease liver jaundice and hepatitis A. Till now these disease is not properly cure. Bt now I have a question sir if I am doing Sex with my wife in November month is it harmful for me or nt? Please sir reply me. Now I am feeling better than previous days so what am I doing?

MD-Ayurveda, Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Sexologist, Haldwani
Hello- Its better for you stay away from sex and give your body some rest to recover from jaundice. The hepatitis A virus can be contracted or spread when a person ingests infected fecal matter through contact with objects, food or drinks that carry the virus even in microscopic amounts. Hepatitis A can also be transmitted during oral-anal sexual contact with an infected person. Abstain at least for 45 days.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I had sex with gf. She had periods from 15 to 20. On 22nd I had sex with her .Is there any chances of getting pregnancy.

MBBS, MS -Gynaecologist
Gynaecologist, Varanasi
I had sex with gf. She had periods from 15 to 20. On 22nd I had sex with her .Is there any chances of getting pregnancy.
Very little chance to get pregnant as it was her 8th day of menses but its depend on her cycle length.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I am 24 years old I have baby of 6 months and I am breast feeding the baby can I lift weights more than 20 kg.

MBBS, M.Ch - Plastic Surgery
Cosmetic/Plastic Surgeon, Ahmedabad
If it is not causing any difficulty or extra strain, you may lift. It would vary from person to person. Feeding or not feeding is not an issue.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback
View All Feed

Near By Clinics