Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Dt. Radhika  - Dietitian/Nutritionist, New Delhi

Dt. Radhika

93 (459 ratings)
MBBS, M.Sc - Dietitics / Nutrition

Dietitian/Nutritionist, New Delhi

8 Years Experience  ·  200 at clinic
Dt. Radhika 93% (459 ratings) MBBS, M.Sc - Dietitics / Nutrition Dietitian/Nutritionist, New Delhi
8 Years Experience  ·  200 at clinic
Submit Feedback
Report Issue
Get Help
Feed
Services

Videos (4)

Getting started isn t difficult. You just need to do it right. Eat Healthy to Stay Healthy.

Getting started isn’t difficult. You just need to do it right. Eat Healthy to Stay Healthy.  

read more
" itemscope itemtype="https://schema.org/VideoObject"> " />
" alt="Getting started isn t difficult. You just need to do it right. Eat healthy to stay healthy." style="height:100px;" />

Getting started isn’t difficult. You just need to do it right. Eat Healthy to Stay Healthy. 

read more
Diabetics and sugar concerned should know what they are consuming and how it affects their health

Diabetics and sugar concerned people should know what they are consuming and how it affects their health

read more
Consuming oats is no longer a troubling task. Learn how.

Consuming Oats is no longer a troubling task. Learn how.

read more
View All Videos

Personal Statement

My favorite part of being a doctor is the opportunity to directly improve the health and wellbeing of my patients and to develop professional and personal relationships with them....more
My favorite part of being a doctor is the opportunity to directly improve the health and wellbeing of my patients and to develop professional and personal relationships with them.
More about Dt. Radhika
She has helped numerous patients in her 7 +years of experience as a Dietitian/Nutritionist. She has completed M.Sc - Dietetics / Nutrition, B.Sc - Dietetics / Nutrition . Book an appointment online with Ms. Radhika on Lybrate.com. .

Find numerous Dietitian/Nutritionists in India from the comfort of your home on Lybrate.com. You will find Dietitian/Nutritionists with more than 33 years of experience on Lybrate.com. Find the best Dietitian/Nutritionists online in new delhi. View the profile of medical specialists and their reviews from other patients to make an informed decision.

Info

Education
MBBS - Kasturba Medical College Manipal - 2009
M.Sc - Dietitics / Nutrition - Dietitics / Nutrition - University Of Mysore - 2011
Past Experience
2009 - Present Nutrition at Best Diet 4 You Online Clinic
Awards and Recognitions
Excellent Work for Nutrition Field - 2010
Professional Memberships
Life membership of Nutrition Society of India [NSI]
Life Membership of Indian Dietetic Association Indore Chapter
Life Membership of ISPEN [Indian society of Parenteral & Enteral Nutrition]
...more
Indian Dietetic Association
Nutrition Society of India

Location

Book Clinic Appointment

  4.7  (459 ratings)
200 at clinic
...more
View All

Services

Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dt. Radhika

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Start Healthy Regime With 3 Simple, Quick Changes in Food Habits

MBBS, M.Sc - Dietitics / Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Delhi
Play video

Getting started isn’t difficult. You just need to do it right. Eat Healthy to Stay Healthy.  

742 people found this helpful

Start healthy regime with 3 simple, quick changes in food habits

MBBS, M.Sc - Dietitics / Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Delhi
" data-page="Doctor Page" ng-click="ctrl.openVideo($event)"> Play video

Getting started isn’t difficult. You just need to do it right. Eat Healthy to Stay Healthy. 

Diabetics: Eat Right, Stay Healthy

MBBS, M.Sc - Dietitics / Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Delhi
Play video

Diabetics and sugar concerned people should know what they are consuming and how it affects their health

692 people found this helpful

Most Health Biscuits Can Harm a Diabetic, Choose Cautiously

MBBS, M.Sc - Dietitics / Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Delhi
Most Health Biscuits Can Harm a Diabetic, Choose Cautiously

What about Glycemic Index (GI)?

It is an index that ranks food products on the basis of how fast or slow they get broken down into Glucose and how they affect the sugar level. Those which break down fast and lead to a rise in sugar level are ranked high on Glycemic Index and considered bad for health.

  • Low GI foods are best for health, especially for diabetics and sugar concerned people.

What is it in Health biscuits that can harm a Diabetic?

1. Maida

Glycemic Index (GI) of Maida is high. It is 71 and considered bad for health, especially diabetics.

  • People who eat Maida, eat twice the number of calories as compared to those who eat ‘whole’ unprocessed, low GI foods.
  • Consume biscuits which are made up of whole wheat flour

2. Added sugar

Whatever we eat already has sugar in it. Too much sugar is an overdose and it is harmful for health. Too much sugar makes liver resistant to Insulin hormone, which is responsible for changing sugar in the blood into energy.

  • As body becomes insulin resistant, you are at risk of developing Type 2 Diabetes.
  • When you don’t burn the accumulated calories, you tend to gain weight.
  • Consume biscuits that has No Added Sugar

3. Artificial sweetener

Consumption of artificial sweetener lead to the release of Insulin in the body. And, when there is not enough natural Glucose to burn, it causes sugar spike and increased cravings. The result is obesity and diabetes.

  • Artificial sweeteners are addictive. They make you eat more which means production of more Insulin in the body and more cravings. The result is again the same – obesity and diabetes.
  • Consume biscuits that has no artificial sweetener

Choice of Good Health #Start Now

849 people found this helpful

मलेरिया के लक्षण

MBBS, M.Sc - Dietitics / Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Delhi
मलेरिया के लक्षण

सबसे प्रचलित संक्रामक रोगों में से एक मलेरिया प्लाजमोडियम कुल के प्रोटोजोआ परजीवी के माध्यम से फैलता है. आपको बता दें कि केवल चार प्रकार के प्लाजमोडियम परजीवी ही मानवों को प्रभावित कर पाते हैं. इन चारों में सबसे ज्यादा खतरनाक हैं प्लाजमोडियम फैल्सिपैरम और प्लाजमोडियम विवैक्स माने जाते हैं. इसके अलावा प्लाजमोडियम ओवेल और प्लाजमोडियम मलेरिये नामक परजीवी भी मानव जीवन को प्रभावित करते हैं. इन सारे समूहों को ही ‘मलेरिया परजीवी’ कहा जाता है.
इस सन्दर्भ में मलेरिया परजीवी के वाहक रूप में मादा एनोफ़िलेज मच्छर है. इसके काटने से ही मलेरिया के परजीवी लाल रक्त कोशिकाओं में प्रवेश करके बहुगुणित होते हैं. इस वजह से रक्ताल्पता, साँस फूलना आदि लक्षणों के साथ सर्दी, जुखाम और उल्टी जैसी अनुभूति देखी जा सकती है. 
1. ठण्ड लगने के साथ बुखार आना
मलेरिया के संक्रमण का सबसे प्रमुख लक्षण है कि अचानक तेज कंपकंपी के साथ ठंड ठंड लगती है और इसके कुछ ही देर बाद बुखार आ जाता है. ये बुखार लगभग चार से छः घंटा तक रहता है और फिर पसीना आकर बुखार उतर जाता है.
2. हर दो-तीन दिन में बुखार आना
दुसरे तरह का संक्रमण जिसे पी. फैल्सीपैरम कहते हैं. इसमें भी शुरू-शुरू में कंपकंपी के साथ ठंड लगती है. इसके बाद आपको 36 से 48 घंटे तक बुखार रह सकता है. ये देखा गया है कि ये बुखार हर दो-तीन दिन में फिर से आ जाता है.
3. तीव्र सरदर्द के साथ बुखार
मलेरिया के कुछ गंभीर मामले जिसके पीछे पी. फैल्सीपैरम ही जिम्मेदार होता है. ये संक्रमण के 6 से 14 दिन बाद होता है. इसमें तिल्ली और यकृत के आकार में वृद्धि, तेज सर दर्द, रक्त में ग्लूकोज की कमी जिसे अधोमधुरक्तता आदि लक्षण दिखाई पड़ते हैं. हलांकि इसमें मूत्र में हिमोग्लोबिन का उत्सर्जन और किडनी की विफलता भी हो सकती है जिसे आमतौर पर कालापानी बुखार कहते हैं.
4. गंभीर मामलों में मूर्छा
युवाओं, बच्चों और गर्भवती महिलाओं को हुए मलेरिया के गंभीर मामलों में काफी कुछ हद तक मूर्छा या मृत्यु की भी संभावना रहती है. कई मामलों में तो मृत्यु कुछ घंटों तक में भी हो सकती है. महामारी वाले क्षेत्रों में मृत्युदर ज्यादा पाई जाती है.

6. हाँथ-पाँव में ऐंठन
कई युवाओं या बच्चों में दिमागी मलेरिया की संभावना ज्यादा पाई जाती है. इसमें दिमाग में रक्त की आपूर्ति में कमी आ जाती है. ज्यादा असर होने पर हाथ-पाँव में अजीब सी ऐंठन भी आ जाती है. कुछ बच्चों का तो मानसिक विकास भी रुक सकता है.
7. कुछ अन्य लक्षण
* कई बार ऐसा भी देखा जाता है कि शरीर की त्वचा धीरे-धीरे ठंडी पड़ने लगती है. ऐसा बुखार के कारण होता है.
* मलेरिया बुखार में अक्सर ही लोगों को उलटी होने या जी मचलने की शिकायत होती है. इसकी वजह से कई बार मन भारी होने लगता है.
* इसके लक्षणों में से एक ये भी है कि आपकी आँखें लाल होने लगती हैं. हो सकता है कि आँखों में थोड़ा जलन भी महूसस हो.
* इसमें आपको थकान भी महसूस होता है. कई बार इस थकान की वजह से कमजोरी भी लगने लगता है.
* कई लोगों में तेज सरदर्द देखा जाता है जो कि धीरे-धीरे बढ़ता है. ये उलटी या थकान की वजह से भी हो सकता है.
* कई छोटे बच्चों में डायरिया की शिकायत होती है. चूँकि बच्चों का प्रतिरक्षा तंत्र कमजोर होता है इसलिए इन्हें ज्यादा परेशानी होती है.

इन लक्षणों के नजर आने पर आपको तुरंत किसी डॉक्टर को दिखाना चाहिए. ध्यान रहे कि समय से अस्पताल जाने पर आपको जल्द ही आराम मिल जाता है. लेकिन वहीँ यदि आप देर करके अस्पताल में जाते हैं तो आपकी बिमारी के साथ-साथ परेशानी भी बढ़ जाती है.

टाइफाइड का आयुर्वेदिक उपचार

MBBS, M.Sc - Dietitics / Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Delhi
टाइफाइड का आयुर्वेदिक उपचार

आयुर्वेद में तमाम रोगों का इलाज उपलब्ध है. आयुर्वेद से इलाज का एक अतिरिक्त फायदा ये है कि इससे सफल इलाज होकर सेहत तो ठीक होता ही है साथ में कई और आवाश्यक तत्व हमें मिल जाते हैं. थायराइड को अपनाना बहुत ही आसान और तरीके बहुत सरल हैं. थायराइड के इलाज के भी कई तरीके आयुर्वेद और घरेलु उपचारों में बताया गया है. इन तरीकों के कई फायदे हैं. सबसे बड़ा फायदा है कि ये आसानी से उपलब्ध है और इसका कोई साइड इफेक्ट भी नहीं है. तो आइए जानें कि थायराइड के उपचार के लिए कौन-कौन से आयुर्वेदिक तरीके उपलब्ध हैं-

  • मुलेठी: थायराइड में थकान का अनुभव जल्दी ही होने लगता है. इस थकान को दूर करने में मुलेठी बहुत कारगर है. इसमें थायराइड ग्रंथि को संतुलित करने वाला और थकान को उर्जा में बदलने वाला तत्व पाया जाता है. और इस प्रकार मुलेठी से थायराइड में आपको लाभ मिलता है.
  • जूस: थायराइड के मरीजों को कुछ फलों जैसे कि संतरा, अंगूर का रस, नारियल पानी, चुकंदर, अन्नानास, गाजर, सेब, पत्तागोभी आदि का जूस लगातार कुछ दिनों तक देने से उन्हें आराम मिलता है. यदि आप इन फलों को कच्चा खाना चाहें तो कच्चा भी खा सकते हैं.
  • साबुत धनिया: थायराइड के बीमारी में साबुत धनिया भी बहुत काम आता है. इसके लिए एक ग्लास पानी में दो चम्मच साबुत धनिया रात में भिगोकर रख दें. सुबह इसे मसलकर तब तक उबालें जब तक कि पानी एक चौथाई न रह जाए. इसके बाद थोड़ा ठंडा होने पर इसे खाली पेट पी लें. और फिर पानी में नमक डालकर गरारे करें. लगातार इस उपचार को करने से थायराइड से निजत मिल सकता है.
  • साबुत अनाज: बुत अनाज से बने खाद्य पदार्थों का सेवन भी आपको थायराइड से दूर रखने में आपकी मदद करता है. क्योंकि साबुत अनाज में फाइबर, विटामिन्स और प्रोटीन आदि प्रचुर मात्रा में पाया जाता है. ये सभी मिलकर थायराइड को बढ़ने से रोकते हैं.
  • आटा: यराइड में राहत के लिए आटा भी काम आता है. इसके लिए 5 किलो आटे के साथ 1 किलो बाजरे का आटा और एक किलो जौ का आटा मिलाकर इससे बनी रोटियां खाने से आपको काफी हद तक थायराइड से निपटने में मदद मिलेगी.
  • गो-मूत्र: सुबह उठकर फ्रेश होने के बाद साफ़ कपड़े से गोमूत्र को छान लें. फिर इसे सुबह खली पेट लें. इसे लेने के डेढ़ घंटे तक आपको कुछ नहीं लेना है. इस दौरान ये ध्यान रखें कि आपको फास्ट फ़ूड और तैलीय भोजन से दूर रहना है. आप पायेंगे कि इससे भी थायराइड ठीक हो रहा है.
  • अदरक: सभी घरों में प्रयोग किया जाने वाला अदरक में मौजूद गुण आपको थायराइड से लड़ने में मदद करते हैं. अदरक में मैग्नीशियम और पोटैशियम ही वो तत्व हैं जो थायराइड से आपको मुक्ति दिलाते हैं. इसके आलावा अदरक में एंटी-इन्फ्लेमेटरी गुण भी होता है जो कि थायराइड का प्रभाव कम करके उसे फंक्शनल बनाता है.

कुछ अन्य जड़ी-बूटी:
काला अखरोट, बाकोपा, निम्बी बाम, अश्वगंधा, इचिंसिया, मुलेठी, अदरक, गेहूं का ज्वारा आदि सभी जड़ी-बूटी थायराइड के उपचार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. लेकिन इनके उपयोग से पहले आपको किसी आयुर्वेद के डॉक्टर से संपर्क कर लेना चाहिए.

5 people found this helpful

Most Health biscuits can harm a Diabetic, Choose Cautiously

MBBS, M.Sc - Dietitics / Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Delhi
Most Health biscuits can harm a Diabetic, Choose Cautiously

Make The Right Choice

What about Glycemic Index (GI)?

It is an index that ranks food products on the basis of how fast or slow they get broken down into Glucose and how they affect the sugar level. Those which break down fast and lead to a rise in sugar level are ranked high on Glycemic Index and considered bad for health.

  • Low GI foods are best for health, especially for diabetics and sugar concerned people.

What is it in Health biscuits that can harm a Diabetic?

  1. Maida

Glycemic Index (GI) of Maida is high. It is 71 and considered bad for health, especially diabetics.

People who eat Maida, eat twice the number of calories as compared to those who eat ‘whole’ unprocessed, low GI foods.

  • Consume biscuits which are made up of whole wheat flour

  1. Added sugar

Whatever we eat already has sugar in it. Too much sugar is an overdose and it is harmful for health.

Too much sugar makes liver resistant to Insulin hormone, which is responsible for changing sugar in the blood into energy.

  1. As body becomes insulin resistant, you are at risk of developing Type 2 Diabetes.

  2. When you don’t burn the accumulated calories, you tend to gain weight.

  • Consume biscuits that has No Added Sugar

  1. Artificial Sweetener

  2. Consumption of artificial sweetener lead to the release of Insulin in the body. And when there is not enough natural Glucose to burn, it causes sugar spike and increased cravings. The result is obesity and diabetes.

  3. Artificial sweeteners are addictive. They make you eat more which means production of more Insulin in the body and more cravings. The result is again the same – obesity and diabetes.

  • Consume biscuits that has no artificial sweetener

Choice of Good Health #Start Now

Type Diabetes

Does Your Inhaler Tells You When to Stop Using It?

MBBS, M.Sc - Dietitics / Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Delhi
Does Your Inhaler Tells You When to Stop Using It?

You are using your inhaler regularly as prescribed by your physician. You are satisfied that you are adhering to the medication schedule.

But little do you know you might be using it even when it is already empty, leading to pseudo adherence. So pseudo adherence is when you are using an inhaler whose therapeutic drug is over and you are still believing to adhering to your medicine schedule.

But you can’t blame yourself for this. It is your inhaler which does not tell you when to stop using it. Because it isn’t smart yet.

 

Conventional Inhaler v/s Smart Inhaler

Conventional metered-device inhaler (MDI):

The conventional MDIs do not alarm you about when to stop using it. There is no mechanism to determine when the therapeutic is over. Their confusing dose indicators may result in:

  • Drug loss: Patients may stop using before the drug is over.

OR

  • Empty Spray: Patient may be using it even when the drug is over.

Because you don’t know when to stop using it, you might end up with any of these situations.

Smart inhaler:

On the contrary to conventional inhalers, a smart inhaler warns you about when to stop using it. The digital inhalers display END when the last therapeutic drug is expelled.

Because of this, there is no drug loss and and you are also not using an inhaler which is empty.

Smart inhaler ensures drug adherence as you can easily keep a count of puffs already taken and know when to start using a new one to avoid medicine inefficacy during the tail-off phase.

Can you track each dose of your Inhaler?

MBBS, M.Sc - Dietitics / Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Delhi
Can you track each dose of your Inhaler?

Can you track each dose of your inhaler?

When most of the Asthmatics will say, ‘It isn’t possible’, there would be some who will say ‘YES’.

Wondering how is that even possible, for the inhaler you have been using does not allow you to track doses. Because of which you struggle with the following:

  • Keep count of the doses: You don’t know the accurate number of doses and it is no less than a task to remember the remaining doses when you begin using a new drug canister. You do everything possible such as maintaining a diary of puffs taken or shaking the canister from time to time to gauge the drug content inside the inhaler. A pain!

  • Check if the therapeutic dose is over: Because it is difficult to keep a track of doses, you are not sure about the canister’s content. And if you are using one which might already be empty of the therapeutic drug, you are only comprising with your health, because of pseudo-adherence.

 

In such a scenario, you are using an inhaler which might be harming you than helping you. Also, because of the no-tracking mechanism, you also struggle with drug delivery when the inhaler is in a tail-off phase.

  • Not proper priming of device: Because priming is loss of a few doses, you might only be shaking the metered device or not doing anything at all. Sometimes totally because of non-awareness. What you don’t know is that not shaking and priming the metered device before use reduces the delivered dose by 26% and respirable dose by 36%.

 

So while you are struggling with all these issues, there are some who are at peace, because their inhaler is letting them relax.

The only difference lies in the inhaler in use!

While you still use the conventional inhaler that does not help you track the doses, these people have embraced the change for convenience and peace with ‘smart inhalers’. These smart inhalers have these edge over conventional one:

  • Digital display: They display the accurate number of doses. You always know how many doses are left. This way your medicine adherence is also proper as you know the exact counts of doses you have taken.

  • Warns you: The smart inhaler warns you - a red light begins to blink - when your dose is 20 or less than that, clearly telling your drug delivery might be insufficient.

  • Lets you know drug is over: The smart inhaler displays an ‘END’ message so you know when to stop using it.

  • Allows effective priming of device: A smart inhaler also offer additional doses for priming and thus avoids sub therapeutic response.

For your own good health, embracing the change is a good idea. And, now you will more than agree!

3 Reasons You Must Switch to Smart Inhaler, Now!

MBBS, M.Sc - Dietitics / Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Delhi
3 Reasons You Must Switch to Smart Inhaler, Now!

Tired of using an inhaler that is not of much help - does not let you clearly know when the therapeutic doses are about to finish and leaves you only guessing.

Then it is probably time that you switch to a smart inhaler today to get rid of all your inhaler-related worries.

Why should you shift to smart inhaler?

  • Tells accurate number of doses: Unlike the conventional inhalers, a smart inhaler digitally displays the accurate number of doses the canister has. You are not hanging in balance about its content and are absolutely sure about how many puffs you have. Smart inhaler shows accurate number of puffs left after every single use.

  • Warns when last 20 doses are left: A smart inhaler with digital display warns you when only 20 doses are left. A red light starts to blink when the dose counts reaches 20 or below, indicating that the inhaler is in its tail-off phase. A period when the drug supply becomes inconsistent due to less content of therapeutic dose. The indication is a suggestive warning to begin using a new inhaler alongside for effective drug delivery.

  • Tells when therapeutic doses are over: A smart inhaler tells you when to not use it anymore. It displays an ‘END’ message and does not keep you guessing if the drug is still there for use or not. Such a surety is not possible with a conventional inhaler.

In the digital era when you are using digital products for the sake of convenience, it is absolutely a smart choice to switch to a smart inhaler.

For the sake of good health!

My Asthma Medication is Not working Know Why?

MBBS, M.Sc - Dietitics / Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Delhi
My Asthma Medication is Not working    Know Why?

You are adhering to your medication schedule. You are taking your puffs on time. But that does not seem to be helping your Asthmatic condition. And you wonder why?

You are doing everything right, you think. Or may be you are not!

You might be depending on an inhaler which could already be empty and you don’t even know that. Not your fault. You can blame it on the conventional metered-device inhalers (MDIs) that does not let you know when the doses are about to finish, or already finished.

So how do you determine that your canister is empty?

  • Initiation date on carton or diary: You either keep a track of the initiation date on the carton to keep a tab of remaining doses or you maintain a diary for puffs already taken to take a stock of how many doses you are left with. But if you miss taking notes of the puffs, you then are in deep trouble and may end up using an empty canister.
  • Float technique: You put the canister in a container of water. You make a guess on its content by the way it floats or sinks. But how precise is that? Not much. You can’t depend on the technique. It is not more than a guesswork.
  • Shake Canister Technique: This technique is also very common. You shake the canister to guess the canister’s content. This is again nothing more than a guessing job.
  • Spraying content: One more technique to determine whether the canister is empty or not is to spray the drug in the air. If something comes out, then it means therapeutic dose is still available. Otherwise it is empty. However, the method is also not reliable. Because when the drug is about to end, the air pressure gets low and the spray isn’t proper. Also, spraying leads to loss of drugs.

But when it comes to your health, you shouldn’t be guessing. You need to be sure about the drug content so that you are not using an empty canister and putting your life at stake.

What’s the smart solution?

The solution is simple. Switch to a smart inhaler in the digital age. The inhaler clearly displays:

  1. The total number of puffs available.
  2. Shows the number of puffs you have taken.
  3. Helps you determine how many puffs are remaining.
  4. Helps you know when to go for new MDI device.

So, choose a smart inhaler today to stay safe and healthy.

1 person found this helpful

Benefits of Black Tea in Hindi - काली चाय के फायदे

MBBS, M.Sc - Dietitics / Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Delhi
Benefits of Black Tea in Hindi - काली चाय के फायदे

बात जब ताजगी की हो तब चाय जेहेन में आता है पर क्या आप जानते हैं चाय सिर्फ ताजगी के लिए ही नही बल्कि और भी कई बातों के लिए खास है। 
पर हां चाय जी किस्म की होती है दूध शक्कर वाली, नीबू वाली, अजवाइन की,अदरक काली मिर्च इलायची तेज पत्ते, ग्रीन टी, हर्बल टी, ब्लैक टी इत्यादि। हम सभी अपनी पसंद से चाय चुनते और पीते हैं। और आज हम बात करेंगे काली चाय से मिलने वाले फायदों की।
क्या आपको काली चाय यानी ब्लैक टी पीनी अच्छी लगती है? अगर हाँ तो बधाई हो। आपको जानकर खुशी होगी कि जिस ब्लैक टी को आप पीना प्रेफर करते हैं उसे अगर सीमित मात्रा में सही तरीके से पिएंगे तो आपको स्वाद और ताजगी के साथ हेल्थ बेनिफिट्स भी मिलेंगे। कई तरह की रिसर्च से यह बात साबित हो चुकी है कि दूध से बनी चाय की बजाय बिना दूध वाली चाय का सेवन हमारे शरीर के लिए अधिक लाभदायक हो सकता है।
बिना दूध की चाय को काली चाय कहते हैं। 
जो लोग ज़्यादा चाय पीते हैं उनको काली चाय पीनी चाहिए। ज्यादा नार्मल टी यानी दूध की चाय पीने की मनाही होती है क्योंकि दूध के चाय के कई साइड इफ़ेक्ट होते हैं। पर वहीं ब्लैक टी है कई मायनों में फायदेमंद। तो आज हम जानेंगे काली चाय पीने के फायदे पर उसके पहले जानते है

काली चाय बनाने की विधि। 

  1. काली चाय बनाने के लिए आवश्यक सामग्री
  2. 1 कप पानी
  3. 1/2 चम्मच काली चाय पत्ती

बनाने की विधि

  • चाय बनाने के बर्तन में एक कप पानी डालिए
  • इसमें आधा चम्मच काली चाय पत्ती डालिए
  • इस मिश्रण को उबाल कर छान लीजिए
  • लीजिए हो गई आपकी काली चाय तैयार 
     

तो अब आप जानिए की इस साधारण तरीके से बनाई गई ब्लैक टी के कुछ खास स्वास्थ्य लाभ:

  • मोटापा घटाए: काली चाय में दूध और चीनी न होने के कारण वज़न कम किया जा सकता है। चाय में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट मोटापा कम करने, फ़ैट बर्न करने और कोलेस्ट्राल कंट्रोल करने में बहुत लाभदायक होते हैं। चाय में दूध डालने से एंटीऑक्सीडेंट का असर कम हो जाता है। जबकि काली चाय पीने से 70% से अधिक कैलोरी बर्न होती है, जिससे वेट कम करने में आसानी होती है।
  • घटाए डायबिटीज का रिस्क: रोजाना ब्लैक टी के सेवन से डायबिटीज यानि मधुमेह होने की संभावना कम हो जाती है। इसके सेवन से ब्लड सर्कुलेशन सिस्टम से जुड़े तमाम रोग तथा टाइप 2 मधुमेह का भी खतरा बेहद कम हो जाता है।
  • कैंसर होने का चांस घटाए:  काली चाय में पाए जाने वाले एंटी-ऑक्सीडेंट की वजह से कैंसर होने की संभावना कम होती है।
  • डाइजेशन सुधारे:  ब्लैक टी में पाया जाने वाला टैनिन तथा अन्य उपयोगी तत्व पाचनक्रिया के लिए बेहद फायदेमंद होते हैं तथा ये पाचन तंत्र को मजबूत बनाते हैं।
  • वजन घटाने के लिए असरदार: अगर आप अपने बढ़े हुए वजन को कम करना चाहते हैं तो इसके लिए सबसे बढ़िया उपाय है काली चाय को पीना। ब्लैक टी में उपस्थित एंटी-ऑक्सीडेंट वजन को घटाने में मदद करते हैं। साथ ही ब्लैक टी पीने से पेट हल्का हो जाता है, चर्बी कम होती है और शरीर ऊर्जावान बनता है। जिससे आपको मोटापा कम करने के लिए व्यायाम और योग करने में मदद मिलती है। और हां काली चाय पीने से भूख कम लगती है, जिससे अतिरिक्त चर्बी घटाने में मदद मिलती है। इसका सेवन शरीर में मेटोबोलिस्म को बढ़ाता है जिसकी वजह से वजन कम होता है।
  • स्किन बेनिफिट्स: काली चाय में विटामिन B2, C, E एवं मिनरल्स जैसे लाभकारी तत्व उपस्थित होते हैं जो हमारी त्वचा के लिए अत्यधिक फायदेमंद होते हैं। इनके अलावा पोटैशियम, मैग्नीशियम, जिंक इत्यादि तत्व भी मौजूद होते हैं। ब्लैक टी का सेवन त्वचा में होने वाले संक्रमण से हमारी रक्षा कर हमारी त्वचा के दाग-धब्बो को दूर भगाने में मदद करता है। इसके नियमित सेवन से त्वचा की शिकन यानी रिंकल्स भी दूर होते हैं।
  • मुँह सम्बन्धी तकलीफ दूर करे: ब्लैक टी में फ्लोराइड भरपूर मात्रा में होता है जो मुँह की दुर्गन्ध को दूर करता है और मुँह को नुकसानदायक जीवाणुओं से बचाता है।तो बस काली चाय पीजिए और फैलाइए सांसों की खुशबू ना कि बदबू। 
  • हार्ट-स्ट्रोक का खतरा हो कम: अगर आप नियमित तौर पर काली चाय पीते हैं तो न केवल आपका वजन काबू में रहता है बल्कि इसमें उपस्थित फ्लावोनोइड आपके शरीर में खराब कोलेस्ट्रॉल के बनने से बचाता है जिससे हार्ट-स्ट्रोक होने का खतरा काफी कम हो जाता है।
  • हेडेक में राहत: अधिकतर लोग सिर दर्द होने पर दूध वाली चाय पीना पसंद करते हैं लेकिन इसकी जगह आप बिना दूध वाली मतलब ब्लैक टी पीएं तो यह न केवल सिर दर्द ठीक करती है बल्कि अन्य काफी फायदे भी देती है।
  • कोलेस्ट्रॉल लेवल कंट्रोल में लाए: काली चाय का नित्य सेवन आपके कोलेस्ट्रॉल स्तर को नियंत्रित रखता है। जिसकी वजह से खुद ब खुद कई बीमारियों से बच जाते हैं।
  • हड्डियां बनें मजबूत: ररेगुलर काली चाय पीने से इसमें शामिल फाइटोकेमिकल्स की वजह से हमारे शरीर की हड्डियाँ मजबूत होती हैं। 
  • खून करे पतला: काली चाय ख़ून को गाढ़ा नहीं होने देती है, जिससे नसों में ख़ून का थक्का नहीं जमता है।

तो इस तरह मोटापा कम करने के साथ-साथ अनेक बीमारियों से बचने के लिए नियमित ब्लैक टी पी सकते हैं। 
हां ये सच है कि शुरुआत में आपको इसका स्वाद अच्छा नहीं लगेगा, लेकिन लाभ मिलने से आपको इसकी आदत हो जाएगी।
एक बात का ध्यान रहे कि गर्मी के दिनों और लूजमोशन या गर्मी के कारण हुई बीमारियों के दौरान चाय पीने से बचें।
तो आज ही अपने आपसे कीजिए वादा की जब भी आप चाय पीएंगे तो वह होगी काली चाय।

7 people found this helpful

Cholesterol kam karne ke upay in Hindi - कोलेस्ट्रॉल कम करने के उपाय

MBBS, M.Sc - Dietitics / Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Delhi
Cholesterol kam karne ke upay in Hindi - कोलेस्ट्रॉल कम करने के उपाय

वर्तमान में कुछ शरीरिक समस्याओं का साथ चोली दामन की तरह हो गया है। जैसे ब्लड प्रेशर, शुगर, थाइरोइड, कोलेस्ट्रॉल आदि। और आज इसी कड़ी में हम जानेंगे खास से आम और आम से खतरनाक हो चुकी बढ़े कोलेस्ट्रॉल की समस्या की। कोलेस्ट्रॉल लीवर द्वारा बनाया जाने वाले वसा होता है। हमारे शरीर के ढंग से काम करने के लिए कोलेस्ट्रॉल का बनना ज़रूरी होता है। ब्लड में कोलेस्टेरॉल का स्तर कम ज़्यादा होने से तरह-तरह की बीमारियाँ घेर लेती हैं। तो आइए हाई कोलेस्टेरॉल को कम करने के उपाय जानते हैं।
आपको यह बात जानना जरूरी है कि कोलेस्ट्रॉल हमारे सेहत के लिए बहुत अच्छा होता है। लेकिन बीमारियाँ तब शुरू होती हैं, जब यह ब्लड सेल्स में जमने लगता है। इस स्थिति में ब्लड सर्कुलेशन बाधित होने लगता है, और शरीर में सभी भागों तक ख़ून पहुंचाने के लिए दिल को पहले से ज्यादा पम्प करना पड़ता है।
कोलेस्टेरॉल दो तरह का होता है एकलो डेंसिटी लाइपोप्रोटीन (एलडीएल) दूसरा हाई डेंसिटी लाइपोप्रोटीन (एचडीएल)
इसमें से हमारी एलडीएल सेहत के लिए बुरा होता है, जबकि एचडीएल होता है अच्छा।
मुख्यतः कोलेस्टेरॉल हार्मोन को नियंत्रित करने में हेल्प करता है।रक्त के विषैले तत्वों को सोखकर शरीर को स्वस्थ रखने में मदद करता है।मस्तिष्क के ठीक से काम करने के लिए कोलेस्टेरॉल का नॉर्मल होना ज़रूरी है। शरीर पर पड़ने वाली धूप से विटामिन बनाने के लिए कोलेस्ट्रॉल जरूरी है।
ब्लड में कोलेस्ट्रॉल का स्तर 3.6 से 7.8 मिलीमोल्स प्रति लीटर की रेंज में होना चाहिए। जब यह लेवल 6 मिलीमोल्स प्रति लीटर हो जाता है, तो यह हाई कोलेस्टेरॉल कहलाता है। लेकिन 7.8 मिलीमोल्स/लीटर के बाद हार्ट अटैक का ख़तरा बढ़ जाता है।
 

हाई कॉलेस्ट्रॉल की कुछ खास वजह होती हैं जैसे कि

  • वज़न बढ़ना
  • शारीरिक मेहनत न करना
  • खान-पान में लापरवाही
  • जेनेटिक


कोलेस्ट्रॉल बढ़ने के सिम्पटम्स कुछ इस तरह होते है। 
– हाई ब्लड प्रेशर
– जल्दी थकान होना
– जल्दी हाँफना
– डायबिटीज़ के मरीज़ में शुगर लेवल बढ़ने से जब ख़ून गाढ़ा होना आदि 

कोलेस्ट्रॉल कम करने की तरकीबें:

  • एलोवेरा: रोजाना खाली पेट 50 ग्राम एलोवेरा खाने सेकोलेस्ट्रॉल कंट्रोल में किया जा सकता है 
  • धनिया: खड़ी धनिया को ताज़े पानी में रातभर भिगोकर सुबह उसका पानी पी जाएँ। साथ ही भीगी धनिया भी चबाकर खाएँ।
  • अंकुरित अनाज: अंकुरित दालों को अगर दिल का दोस्त कहा जाए तो गलत नहीं होगा। अंकुरित दालों का रोजाना सेवन बुरे कोलेस्ट्रॉल को घटाता है। अपने दिन के खाने में कम से कम आधा कप बीन्स जैसे राजमा, चने, मूंग, सोयाबीन और उड़द को आप सूप, सलाद या सब्जी किसी भी रूप में ले सकते हैं।
  • नओट्स: सुबह के समय नाश्ते में ओट्स खाना स्वस्थ दिन की शानदार शुरुआत है। 6 हफ्ते तक सुबह नाश्ते में प्रतिदिन ओट्स का दलिया लेने से एलडीएल को 5.3% तक घटा सकते हैं।
  • वाइन: जो लोग वाइन पीने का शौक रखते हैं, वो अपना शौख बरकरार रखें। हफ्ते में 2 बार थोड़ी सी रेड ग्रेप वाइन पीना कोलेस्ट्रॉल को कम करने मे मदद करता है।
  • ग्रीन टी: ग्रीन टी में कॉफी के मुकाबले काफी कम कैफीन पाई जाती है। साथ ही शरीर को चुस्त-दुरुस्त रखने और स्वस्थ रखने वाले एंटी-ऑक्सीडेंट भी ग्रीन-टी में ज्यादा होते हैं। 
  • रोजाना ग्रीन-टी पीने से शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है जिससे बुरे कोलेस्ट्रॉल को कम करना आसान हो जाता है।
  • मछली: जो लोग मछली खाते हैं उनके लिए भी कोलेस्ट्रॉल को घटाना आसान है। दरअसल, हमारे शरीर को स्वस्थ फैटी एसिड और अमीनो एसिड की जरूरत होती है। शरीर को एनर्जी और विटामिन-डी देने के अलावा फिश में स्वस्थ फैटी एसिड और अमीनो एसिड भरपूर मात्रा में होते हैं, जो कोलेस्ट्रॉल को कम करने में उपयोगी हैं।
  • ड्राई फ्रूट्स: अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन के मुताबिक सूखे मेवे खाना हमारी सेहत के लिए बहुत जरूरी है, क्योंकि इनमें प्रोटीन फाइबर और विटामिन-ई भरपूर मात्रा में होते हैं।साथ ही मेवों में स्वस्थ फैटी एसिड भी पाया जाता है जो केमिकल्स में प्रोसेस नहीं होता है और कोलेस्ट्रॉल को कम करने में काफी असरदार है।तो अब बिंदास आप रोजाना एक मुट्ठी डॉयफ्रूइट्स खाएं।
  • मोटापा कम करें: मोटापा कोलेस्ट्रॉल बढ़ने के प्रमुख कारणों में से एक है। हाई कोलेस्टेरॉल का ख़तरा बढ़ने पर वज़न को बढ़ने मत दीजिए। अधिक मोटापा हाई कोलेस्टेरॉल के साथ साथ डायबिटीज़ और हाई ब्लड प्रेशर का भी कारण होता है।
  • योग और व्यायाम करें: योग और व्यायाम के लिए वज़न बढ़ने का इंतज़ार मत कीजिए। योग करने से रक्त संचार ठीक रहता है, हृदय रोगों से बचाता है, और रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है।

कोलेस्टेरॉल से पीड़ित व्यक्ति हफ्ते में 5 दिन एक्सरसाइज करे। जॉगिंग, साइकलिंग, तैराक़ी और एरोबिक्स भी कर सकते हैं।
और कुछ न कर सकें तो कम से कम आधा घंटा रोज़ टहलें।
हेल्दी डाइट: कोलेस्ट्रॉल कंट्रोल करने के लिए फ़ैट बढ़ाने वाले चीज़ें न खाएँ। वो हर चीज़ खा सकते हैं, जिससे सभी पोषक तत्व हों। अंडे की ज़र्दी, जंक फ़ूड, तली-भुनी चीज़ें, फ़ुल क्रीम मिल्क और रेड मीट खाने से बचें।
ज्यादा दवाएं खाने से बचें: दवाओं का इस्तेमाल डॉक्टरी सलाह से ही करें ना कि दवाओं सुनी सुनाई बातों पर करने पर मनमानी दवा खाएं। इसके साथ जीवनशैली में आवश्यक बदलाव करके दवाई पर निर्भर रहने की कंडीशन पर काबू पाने की कोशिश करें।
ध्यान रहे कोलेस्ट्रॉल की जांच हर 6 महीने पर कराते रहनी चाहिए। और 20 वर्ष से ज्यादा उम्र केलोगों को हर 5 वर्ष में एक बार जांच करानी चाहिए।

2 people found this helpful

Benefits Of Banyan Tree in hindi - बरगद के पेड़ के लाभ

MBBS, M.Sc - Dietitics / Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Delhi
Benefits Of Banyan Tree in hindi -  बरगद के पेड़ के लाभ

हम सभी अपने बड़े-बुजुर्गों से सुनते आएं है कि बनियान ट्री यानी बरगद के पेड़ में ईश्वर का वास होता है। 
हिन्दू एवम बौद्ध धर्म में बरगद के पेड़ को महत्पूर्ण बताया गया है। कई विशेष दिनों में बरगद के पेड़ की पूजा भी की जाती है । बरगद दैवीय विशेषताओं के साथ ही कई शरीरिक लाभ हैं। तो दोस्तो आज हम जानते हैं बरगद के पेड़ से मिलने वाले फायदों की।
बरगद के पेड़ को हिंदुस्तान का राष्ट्रीय पेड़ कहा जाता है। यह पेड़ अपनी टहनियों से लटकती जड़ों के कारण बहुत तेजी से बड़ा हो जाता है। बरगद के पेड़ की पत्तियाँ, तना, आदि को तोड़ने पर इससे दूध जैसा पदार्थ निकलता है, जिसे लेटेक्स कहा जाता है। इसकी जड़ें मिटटी को पकड़ के रखती है और पत्तियां हवा को शुद्ध करती हैं। दुनिया के सबसे विशाल बरगद के पेड़ों में से एक भारत के कलकत्ता शहर में पाया जाता है जिसे "ग्रेट बैनियन" के नाम से जाना जाता है जो तकरीबन ढाई सौ साल पुराना पेड़ है।
बनियान के कई सारे फायदे है जो मानव के जीवन के हर पहलू में उयोग किए जा सकते है चाहे वह आध्यात्मिक हो या चिकित्सकीय हो। आध्यात्मिक ऊर्जा देने के अलावा चलिए जानते है यह किस प्रकार से मानव जीवन मे लाभ पहुंचाता है। यह कई बीमारियीं में फायदेमंद है। इसका आयुर्वेदिक इलाज़ में भी इस्तेमाल किया जाता है।

1. लूजमोशन
लूनमोशन या दस्त से तो हम सभी उम्र के लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। खासकर अगर दस्त की समस्या बच्चो में होती है, तो और भी परेशानी हो जाती है। लेकिन आप बरगद के पेड़ के द्वारा इस बीमारी का इलाज कर सकते है। बच्चो की नाभि में बरगद के दूध की कुछ बूँद लगाने से दस्त पर काबू किया जा सकता है। बतासे में बरगद के दूध की कुछ बूँद डालकर दिन में 2-3 बार खिलाने से जल्द राहत मिलती है ।

2. दांतों और मसूड़ों के लिए 
बरगद में मौजूद एंटीबैक्टीरियल और एस्ट्रीजेंट गुणों के कारण इसकी जड़ों का प्रयोग ओरल समस्याओं के उपचार का बहुत ही प्राचीन तरीका है। बरगद की जड़ों को खाने या चबाने से दांत संबंधी रोग जैसे मसूड़ों की बीमारी, दांतों का गिरना, मसूड़ों से खून आने जैसी तकलीफें दूर होने के साथ ही यह दांतों को साफ करने में भी मदद करता है। इसे एक प्राकृतिक टूथपेस्ट तरह यूज़ कीजिए यह सांसों की दुर्गंध को दूर करने में भी मदद करता है।

3. त्वचा के लिए फायदेमंद
बरगद के पत्तों को तवे पर सेककर थोड़ा ठंडा होने के बाद इसे अपने फोड़ों या पिंपल्स के ऊपर रखने से लाभ मिलता है। बरगद के कोपलों से बने पेस्ट को लगाने से बलगम, झिल्ली के इलाज, सूजन और दर्द को दूर करने में अच्छी तरह से काम करता है। मुंहासों को दूर करने में भी मदद करता है। 

4. इम्यूनिटी 
बरगद के पेड़ की छाल में इम्यूनिटी बढ़ाने वाले गुण होते हैं। अच्छी इम्यूनिटी स्वास्थ्य के लिए बहुत जरूरी है, क्योंकि इससे बीमारियों को दूर रखने में मदद मिलती है। इसके सेवन से आपको बीमारियों को रोकने में मदद मिलती है। बरगद की छाल का काढा बनाकर प्रतिदिन एक कप पीने से आपकी इम्यूनिटी स्ट्रांग होती है।

5. फटी एड़ियों को ठीक करे
अक्सर महिलाओं में एड़ियों को लेकर कितनी चिंता रहती है। फटी एड़ियां आपके व्यक्तित्व के लिए अच्छा नहीं है। फटी एड़ी के कारण अपने पैर को छुपाना पड़ता है। आप बरगद के दूध का इस्तेमाल करके अपनी फटी एडियों को ठीक कर सकते है। फटी एडियों में बरगद के दूध से मालिश करते रहने से कुछ दिनों में लाभ होता है।

6. यौन शक्ति 
बरगद के पेड के पत्ते और जड़ का उपयोग विभिन्न तरह की बीमारियों में किए जाता है । उनमें से एक है यौन शक्ति।बरगद यौनशक्ति को बढ़ाने में बहुत लाभकारी है। बरगद के पेड़ के पके हुए फल को छाया में सुखा ले और उसका चूर्ण बना ले और बराबर मात्रा में मिश्री के साथ मिलाकर पीस लें और  सुबह खाली पेट और रात में एक कप दूध के साथ सोने से पहले लें। कुछ दिनों में आपकी यौनशक्ति में इज़ाफ़ा होगा।

7. बढ़ती उम्र को रोके
बरगद के पेड़ की जड़ों में सबसे ज्यादा एंटी ऑक्सीडेंट के गुण पाए जाते हैं । यदि आप अपने चेहरे पर लगाए तो यह झुर्रियां कम करने में मदद करता है। झुर्रियां कम करने के साथ-साथ यह चेहरे में रौनक भी लाता है जिससे उम्र से काफी जवान दिखने लगते है।
इसके और कई प्रयोग है जो अन्य गंभीर रोगों में लाभ देते हैं। पर कुशल वैद्य की देखरेख में और उनकी सलाह से ही इसका प्रयोग करने से बर्गद के पेड़ का अधिक लाभ उठाया जा सकता है।

Amla Juice Benefits in hindi - आंवला के रस के लाभ

MBBS, M.Sc - Dietitics / Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Delhi
Amla Juice Benefits in hindi - आंवला के रस के लाभ

आंवला आपकी सेहत के लिए सबसे लाभदायक फलों में से एक माना जाता हैं। आंवले का इस्तेमाल हम कई तरीको से करते हैं। आंवले का अचार, आंवले का मुरब्बा आदि बड़े ही चाव के साथ खाया जाता हैं। वैसे तो आप आंवले को कच्चा भी खा सकते हैं, यह खाने में पहले थोड़ा खट्टा लगता हैं, लेकिन जब आप इसे खाते हैं तो इसमें से हल्की हल्की मीठास आपको महसूस होने लगती हैं।
आंवला कुदरत की तरफ से मनुष्य को दिया गया अनमोल उपहार हैं। इसके सेवन से शरीर में पैदा हो रही कई सारी बिमारियों का खात्मा हो जाता हैं। इसी तरह इस आंवले से इसका जूस भी निकाला जाता हैं। क्या आपको पता हैं रोजाना सुबह आंवला जूस पीने से स्वास्थ्य को कितने ज्यादा लाभ होते हैं?
आंवले का जूस अगर आप सुबह उठकर पीते हैं तो आपका पूरा दिन बहुत अच्छा बन जायेगा। आंवले के जूस में विटामिन सी और आयरन बहुत ही अच्छी मात्रा में पाए जाते हैं। हर व्यक्ति को प्रतिदिन 50 मिली ग्राम विटामिन सी की आवश्यकता होती हैं, जिसे आप आंवला खा कर या फिर इसका जूस पी कर पूरा कर सकते हैं।
तो चलिए जानते हैं आंवले का जूस बनाने की विधि और इसे पीने से सेहत को हओने वाले फायदे 

आंवला जूस बनाने की विधि
एक किलोग्राम आंवला ले, जोकि गिनती में कम से कम 35 आंवले, सबसे पहले आंवलो की गुठली निकाल लें, फिर सभी आवलों को चार चार भागों में काट लें। तदपश्चात आवलों को बारीक पीसने के लिए मिक्सी ग्राइन्डर का उपयोग करें। आंवले ग्राइन्डर करते समय पानी का उपयोग विल्कुल न करें। जब आंवले बारीक, अच्छी तरह से पिस जायें तो पिसे हुए तरल को किसी साफ छन्नी से छान लें। फिर दुबारा से एक साफ सफेद कपड़े से छान लें। और अलग साफ बर्तन पर रखें। इस तरह एक किलो आंवलों से आधा किलोग्राम आंवला का जूस निकल जाता है। फिर बारी आती हैं आंवला जूस स्टोर की, जूस को किसी काॅच की बोतल या कांच बर्तन में ही रखना चाहिए। कांच में रखा आंवला जूस जल्दी खराब नहीं होता 

आंवला जूस पीने योग्य बनाना
तैयार आंवला से आध गिलास जूस बोतल से निकालें, उसमें 2 चम्मच शहद, चुटकी भर काला नमक, चम्मच से अच्छी तरह से घोलें। यह हो गया आपका आंवला का जूस। और पीईये बड़े चाव मजें से पौष्टिक आंवला जूस। 

आंवले का जूस पीने के फायदे - 

1. त्वचा के लिए फायदेमंद
आंवले के रस में एंटीऑक्सीडेंट प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं, जो बढ़ती उम्र का असर आपके चेहरे पर नहीं पड़ने देते हैं। इसलिए नियमित रूप से आंवला जूस पीते रहने से आप लम्बे समय तक जवां दिखाई देते हैं। इसके सेवन से आपकी स्किन चमकदार बनती हैं। प्रतिदिन आंवले के रस में शहद मिला कर पीने से आपका चेहरा चमकदार बनता हैं और चेहरे से झाइयाँ ख़त्म होने लगती हैं।

2. कब्ज़ दूर करता हैं
आंवला जूस रोजाना पीने से पाचन क्रिया दुरुस्त बनती हैं। इसलिए आंवला रस हर रोज पीने से भयंकर से भयंकर कब्ज को दूर किया जा सकता हैं।

3. सर्दी जुकाम से बचाए
आंवले के रस में विटामिन सी प्रचुर मात्रा में पाया जाता हैं। जो बॉडी की इम्युनिटी को मजबूत बनाने में सहायक हैं। इसलिए इस चमत्कारी जूस को नियमित रूप से पीने से यह आपको सर्दी-जुकाम से बचाव करता हैं।

4. वजन घटाए
आंवला वजन घटाने में सहायक है। क्योंकि आंवला भूख कंट्रोल और मेटाबोलिज्म पर असर करता है। जिससे आपको वजन घटाने में मदद मिलती है।

5. यौन शक्ति बढ़ाए
इसमें विटामिन सी होता हैं जो सेक्स पॉवर को बढ़ाने में सहायता करता हैं। इसलिए आंवला जूस पीने से सेक्स लाइफ और भी अच्छी बन जाती हैं। अगर आप अपनी सेक्स लाइफ को बेहतर बनाना चाहते हैं तो आंवले के रस का सेवन जरूर करे।

6. कोलेस्ट्रॉल कम करे
आंवले का जूस पीने से कोलेस्ट्रॉल कण्ट्रोल में रहता हैं। अगर आप हाई कोलेस्ट्रॉल के मरीज़ हैं तो सिर्फ 1 गिलास आंवला जूस आपके लिए वरदान साबित हो सकता हैं। इसे रोजाना पीने से शरीर के ख़राब कोलेस्ट्रॉल की मात्रा कम होने लगती हैं और शरीर में अच्छे कोलेस्ट्रॉल बढ़ने लगते हैं।

7. ब्लड प्यूरीफायर
क्या आपको पता हैं की आंवले के रस में शहद मिला कर पीया जाये तो इससे आपके खून की सफाई भी हो जाती हैं। इससे खून साफ़ बनता हैं। 

8. नकसीर में असरदार
नकसीर यानी नांक से खून आने की बीमारी में ताजे आंवले की 2-3 बूंदे नांक में डालने से नकसीर तुरन्त बन्द करने में सहायक है। लम्बे समय से नांक से रक्त आने की समस्या में रोज आंवला जूस पीने से जल्दी ही समस्या से छुटकारा मिलता है।

9. बालों के लिए फायदेमंद
इस चमत्कारी जूस को पीने से आपके बाल घने, लम्बे, चमकदार और काले बनते हैं। यह बालों को तेज़ी से बढ़ने में मदद करता हैं और उन्हें मजबूत बनाता हैं। यह बालो को जल्दी सफ़ेद होने से भी रोकता हैं।

10. पेशाब की जलन दूर करे
अगर आपको पेशाब में जलन हो रही हैं तो 30 ml आंवले के रस को दिन में 2 बार पीजिये। इससे आपको पेशाब की जलन से राहत मिलेगी।

11. आँखों के लिए लाभदायक
आँखों के लिए यह रस बहुत ही फायदेमंद होता हैं। आंवले के जूस को पीने से आँखों की रौशनी ठीक रहती हैं। इस जूस को पीकर आप अपनी आँखों की रोशनी को बढ़ा सकते हैं।
 

5 people found this helpful

Shivlingi Seeds Benefits and How To Use in Hindi - शिवलिंगी बीज लाभ और कैसे उपयोग करें

MBBS, M.Sc - Dietitics / Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Delhi
Shivlingi Seeds Benefits and How To Use in Hindi -  शिवलिंगी बीज लाभ और कैसे उपयोग करें

हमारे आस-पास ऐसी बहुत सी चीजें मौजूद है जो औषधीय गुणों से भरपूर, हमारे लिए फायदेमंद हैं पर हम उनसे अनजान होते हैं। जानकारी का अभाव कई बार बगल में छोरा गांव में ढिंढोरा की कहावत को चरितार्थ करता है, जैसे शिवलिंगी बीज। जो अक्सर हमारे इर्द-गिर्द मौजूद होती है पर हम इससे और इसके गुणों से अनजान होने की वजह से अपनी समस्याएं सुलझाने के लिए हैरान होते है। तो आज हम ऐसी ही बहुगुणी वनस्पति की हम बात करेंगे जिसे शिवलिंगी बीज कहते हैं। हमारे वनों में, खेतों और खलिहानों में, आँगनो में और बाडों आदि में विभिन्न प्रकार की वनस्पतियाँ पाई जाती है। इन्ही में से एक है शिवलिंगी। शिवलिंगी का वैज्ञानिक नाम ब्रयोनोप्सिस लेसिनियोसा होता है। आप इसे अपने आस पास प्रचुर मात्रा में उगता हुआ देख सकते है। इसके बीजों की बनावट देखने से बिलकुल स्पष्ट रूप से शिवलिंग की रचना दिखाई देती है। शिवलिंगी बीज को सदियों से संतान प्राप्ति के लिए अचूक नुस्खे के तौर माना जाता रहा है। संतानविहीन दंपत्ती के लिये ये पौधा एक वरदान है। महिला को मासिक धर्म समाप्त होने के 4 दिन बाद प्रतिदिन सात दिनों तक संजीवनी के 5 बीज खिलाए जाए तो महिला के गर्भधारण की संभावनांए बढ़ जाती है। शिवलिंगी के बीजों को तुलसी और गुड के साथ पीसकर संतानविहीन महिला को खिलाया जाता है। महिला को जल्द ही संतान सुख की प्राप्ति होती है।

  • इसकी पत्तियों की चटनी बनती है। आयुर्वेद के अनुसार ये टॉनिक की तरह काम करती है। जिन महिलाओं को संतानोत्पत्ति के लिए इसके बीजों का सेवन कराया जाता है। उन्हें विशेषरूप से इस चटनी का सेवन कराया जाता है। पत्तियों को बेसन के साथ मिलाकर सब्जी के रूप में भी खाया जा सकता है। आदिवासीयों के अनुसार इस सब्जी का सेवन गर्भवती महिलाओं को करना चाहिए। जिससे होने वाली संतान तंदुरुस्त पैदा होती है।
  • शिवलिंगी के बीजों का उपयोग कर एक विशेष फार्मुला तैयार करते हैं ताकि जन्म लेने वाला बच्चा चुस्त, दुरुस्त और तेजवान हो। शिवलिंगी, पुत्रंजीवा, नागकेशर और पारस पीपल के बीजों की समान मात्रा लेकर चूर्ण बना लिया जाता है और इस चूर्ण का आधा चम्मच गाय के दूध में मिलाकर सात दिनों तक उस महिला को दिया जाता है। जिसने गर्भधारण किया होता है।
  • इसके बीजों के चूर्ण को बुखार नियंत्रण और बेहतर सेहत के लिए उपयोग में लाते हैं। अनेक हिस्सों में इसके बीजों के चूर्ण को त्वचा रोगों को ठीक करने के लिए भी इस्तमाल किया जाता है।
  • तो इस तरह शिवलिंगी बीज को साधारण नहीं समझे और जरूरत पड़ने पर इसके गुणों का लाभ जरूर उठाएं।
2 people found this helpful

Balo Ko Ghana Kaise Kare - बालो को घाना कैसे करे

MBBS, M.Sc - Dietitics / Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Delhi
Balo Ko Ghana Kaise Kare -  बालो को घाना कैसे करे

मजबूत घने लहराते बाल सुंदरता में और भी निखारने में मदद करते हैं। हेल्दी घने बाल केवल महिला ही नहीं बल्कि पुरुषों की चाहत में भी शामिल होते हैं। सर पर सुंदर घने बाल होने की खुशी और सेल्फ कॉन्फिडेंस बनाए रखने के लिए अहम होते हैं। पर आज की जनरेशन में आबादी का एक बहुत बड़ा हिस्सा बालों के पतलेपन, झड़ने, रूखेपन, दोमुंहे, डेंड्रफ और गंजे होने जैसी प्रोब्लेम्स से जूझ रहा है । वैसे बालों की बिगड़ी सेहत के लिए कोई एक नहीं बल्कि 

  • हेल्दी डाइट की कमी
  • जेनेटिक
  • पॉल्युशन
  • देख-रेख में कमी
  • स्ट्रेस
  • अनहेल्दी लाइफस्टाइल
  • गलत शैम्पू या तेल का इस्तेमाल

जैसी कई वजहें जिम्मेदार होती हैं।
हालांकि समय समय पर हम बालों से जुड़ी समस्याओं से निबटने के टिप्स बताते आए हैं और इसी कड़ी में आज हम बात करेंगे बालों को घना करने के उपायों की। जिसे आजमाकर जल्द ही आप अपने लंबे घने बालों को लहराते फिरेगी। 

1. मेहंदी 
मेहंदी हमारे बालो के लिए एक कंडीशनर का काम करता है। अगर आपके बाल रूखे और बेजान है तो आप मेहंदी का इस्तेमाल करे इससे आपके बाल घने और मुलायम हो जाएंगे।
पहले मेहंदी को किसी बर्तन में घोल ले। फिर उसे 2,3 घंटे के लिए फूलने के लिए छोड़ दे। फिर उसे बालो में लगाने से पहले उसमे एक अंडा और एक चम्मच निम्बू का रस मिला कर बालो पर लगाए। फिर 2 घंटे बाद उसे ठंडे पानी से धो ले।

2. दही और अंडा
जब कभी भी हम बाहर जाते है तो हमारे साथ साथ हमारे बालो को भी धुप और पॉल्युशन का सामना करना पड़ता है। जिसकी वजह से हमारे बाल कमजोर और बेजान हो जाते है। ऐसे में अगर हम अपने बालो पर दही और अंडे को मिला कर इस्तेमाल करेंगे तो हमारे बाल मजबूत होंगे और क्वांटिटी भी  बढ़ेगी।

3. ऑइल मसाज
तेल हमारे बालो के लिए बहुत ही फायेदेमंद होता है। हमें अपने बालो को कम से कम हफ्ते में दो बार सरसो तेल, नारियल जैसे किसी अच्छे तेल से मालिश करना चाहए। इससे बालो का झड़ना कम होता है और आपके बाल घने और मजबूत होते है।

4. एलोवेरा जेल 
बाहर निकलते ही हमें धुप, धूल और प्रदूषण का सामना करना पड़ता है, और लंबे समय तक हम बालों को धूल मिट्टी, धूप में खुला छोड़ देते हैं जिसकी वजह से हमारे सिर के बाल रूखे और बेजान से दिखने लगते हैं।  तो समस्या से छुटकारा पाने के लिए आपको आप एलोवेरा जेल का इस्तेमाल करें। हफ्ते में कम से मम दो बार एलोवेरा जेल से बालों का मसाज करें, और कुछ घण्टे लगे रहने दें उसके बाद गुनगुने पानी से बालों को धो लें।
मसाज करने के बाद दो घंटे तक इसे ऐसे ही रहने दे और फिर गुनगुने पानी से बालो को धो लें। आप बस रेगुलरली ऐसा करते रहें जल्द आपको अपने बालों में ग्रोथ और स्ट्रेंथ का एहसास होगा।

5. आंवला, रिठा, सिकाकाई
बालो को काले,घने मुलायम बनाने के लिए आप आँवला, रिठा,सिकाकाई का प्रयोग करें।पहले रिठा और सिकाकाई को रात भर पानी में भिगो कर छोड़ दे। आंवला को भी अलग से पानी में फूलने के लिए छोड़ दे।
फिर रिठा और सिकाकाई के मिश्रण को अच्छे से पानी में मिला लें। फिर उस मिश्रण वाले पानी को बालो के जड़ो में अच्छे से लगा लें। करीब 1 घण्टे बाद साफ़ पानी से बालो को धो लें। ईसके बाद आंवला से धो लें। ध्यान रहे कि आंवला को कभी भी रिठा और सिकाकाई के साथ मिला कर नहीं लगाना चाहए इससे बालों को नुकसान होता है।

6. बेकिंग सोडा 
 बालों को घना दिखाने के लिए शैम्पू की जगह बेकिंग सोडा से बाल धोएं। लगभग 4 बड़ा चम्मच बेकिंग सोडा और 3/4 पानी मिलाकर बाल धो लें।

7. मेथी
कई बार बाल टूटने की वजह डेंड्रफ होता है। सो पहले डेंड्रफ से छुटकारा पाना जरूरी है जिसके लिए मेथी बेस्ट टिप्स के तौर पर समझिए। एन्टी डेंड्रफ शैम्पू के अलावा आप अपने सर के डेंड्रफ मेथी से भी हटा सकते है। मेथी को रात भर फूलने छोड़ दे फिर सुबह उसे अच्छे से पिस ले। उसमे थोड़ा नरियल का तेल और नींबू का रस मिलाएं।
और फिर इस मिश्रण को अपने बालो के जड़ में लगाए। एक घंटे बाद पानी से धो ले। इससे डेंड्रफ से छुट्टी मिलेगी और बाल भी घने मुलायम होने लगेंगे।

8. हेल्दी डाइट
धूल और प्रदूषण के प्रभाव से  सिर के बाल रूखे और बेजान से हो जाते हैं। कभी कभी हम अपने शेड्यूल में इतने बिजी हो जाते है की हमे अपने सही आहार का बिलकुल भी ध्यान नहीं रहता है।और खाने-पीने की कमी से जो बाल सर पर हैं वे भी गिरने लगते है। इसलिए आप डाइट में हमेशा हेल्दी और खासकर बालो के लिए जरूरी विटामिन्स,मिनरल्स प्रोटीन से भरे आंवला, गाजर, ओट्स, पालक, सलाद, अंकुरित अनाज, मछली, सोयाबीन जैसे आहार शामिल करें।

9. स्ट्रेस 
कई बार बालों की बिगड़ती सेहत का जिम्मेदार होते हैं मेन्टल स्ट्रेस इसलिए ज्यादा से ज्यादा स्ट्रेस फ्री और खुश रहें यह आपके बालों के साथ ओवरआल फायदा पहुचाएगा।

Home Remedies For Oily Skin - तेलीय त्वचा के लिए घरेलू उपचार

MBBS, M.Sc - Dietitics / Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Delhi
Home Remedies For Oily Skin -  तेलीय त्वचा के लिए घरेलू उपचार

कई लोगों के सुंदर नयन नक्श होते हैं पर उनकी त्वचा की कमी सबकुछ फीका कर देती है। त्वचा में कमी का मतलब कालेपन या गोरेपन से नहीं बल्कि स्किन की टाइप से है। आमतौर पर त्वचा चार तरह की होती है- नॉर्मल, ड्राय, ऑइली और सेंसेटिव। ऑइली स्किन का मतलब है आपकी स्किन में लिपिड लेवल यानि वसा की मात्रा ज्यादा होना। आपकी स्किन किस टाइप की है, यह तीन फैक्टर पर निर्भर होता है- पानी, लिपिड लेवल और संवेदनशीलता। ऑइली स्किन अकसर हार्मोनल बदलाव की वजह से होती है, इसका सम्बन्ध लाइफस्टाइल से भी है। ऑइली स्किन चमकदार, मोटी और बेजान होती है। इस तरह की स्किन वाले पुरुष और महिलाओं की आंख के नीचे काले धब्बे आने का खतरा रहता है। ऑइली स्किन में पोर्स यानि त्वचा में पाए जाने वाले छिद्र बड़े-बड़े होते हैं और सैबेकियस ग्लैंड ज्यादा सक्रिय होते हैं। नतीजा ऐसी स्किन ऑइली हो जाती है।

स्किन ज्यादा सुर्ख या ज्यादा तैलीय हो तो हमें कई तरह की स्किन प्रोब्लेम्स का सामना करना पड़ता है और हमारी लुक खराब होती है सो अलग। तो आज हम बात करेंगे तैलीय त्वचा से निज़ात पाने के नुस्खों के बारे में। शरीर द्वारा उत्पन्न किये गए प्राकृतिक तेल की वजह से ही त्वचा स्वस्थ रह पाती है। लेकिन अगर चेहरे पर तेल ज़्यादा हो जाए तो कई साइड इफेक्ट्स भी हो सकते हैं। इनमें से एक साइड इफेक्ट्स के तौर पर आपके चेहरे पर मुहांसे भी हो सकते हैं। एक्ने का कारण भी त्वचा का ज्यादा तैलीय होना है।
हम में से ज्यादातरलोग स्किन के तेलहनपन को कंट्रोल करने के लिए ऑइल कंट्रोल क्रीम्स, मॉइस्चराइज़र्स जैसे कई और कास्मेटिक का इस्तेमाल करते हैं। हालांकि इनका इफ़ेक्ट होता है पर ये हर किसी के पास अवेलेबल हों यह जरूरी नहीं। तो अगर चाहें तो आप प्राकृतिक तरीकों से अपने स्किन के तैलीयता को कंट्रोल कर सकते हैं।

1. चंदन पावडर और मुल्तानी मिट्टी
एक चम्मच चंदन का पाउडर, एक चम्मच मुल्तानी मिट्टी, एक चम्मच केओलिन पाउडर मिलाकर चेहरे पर करीब 15-20 मिनट रखें उसके बाद चेहरा धो लें। 

2. व्हाइट एग
अंडे की सफेदी का मास्क त्वचा को अच्छा कसाव देता और वसामय ग्रंथियाँ को बंद कर देती है।

3. बेसन हल्दी
करीब 15-16 चम्मच बेसन और पिसी हुई हल्दी में थोड़ा-सा कच्चा दूध या पानी मिलाकर गाढ़ा-गाढ़ा घोल बनाएं और फिर एक चम्मच या 8-10 बूंद सरसों का या तिल का या फिर जैतून का तेलमिलाकर स्क्रबबना ले फिर स्क्रबको चेहरे, गर्दन, हाथ-पैर, कोहनियां,पर लगा लें। लेप के सूखने के बाद नार्मल स्क्रब की तरह छुड़ा लें और पानी से धो लें।बेसन और हल्दी के इस scrub को चेहरे पर लगाने से oily skin से राहत के साथ ही साथ चेहरे के दाग, धब्बे, झुर्रियां तथा अनावश्यक बाल भी दूर होते हैं। 

4. कोकोनट मिल्क
नारियल के दूध में बहुत से खनिजों का मिश्रण होता है। इसे अपने चेहरे पर लगाएं और कुछ देर के बाद धो दें। नारियल में मौजूद तेल आपकी त्वचा में मौजूद नमी में वृद्धि करता है और आपकी त्वचा से तेल को कम करता है।

5. मुल्तानी मिट्टी और आटे का फेसपैक
हल्की पीली रंगत वाली मुल्तानी मिट्टी, जई का आटा और बादाम को पीसकर मिलाने के बाद दो घंटे तक किसी कांच या चीनी मिट्टी से बने बर्तन में इसे रख दे फिर इस स्क्रबको चेहरे पर लगा लें यह तैलीय त्वचा की बेहतरीन सफाई करते हैं। इस से रोम छिद्रों का मैल साफ होगा और त्वचा की रंगत भी निखरेगी। 

6. शहद,चीनी,बुरा और नींबू रस
शहद, चीनी का बूरा और नींबू का रस मिलाकर चेहरे पर लगायें नींबू का रस त्वचा का रंग साफ करता है और पोर्सको सुखाता है तथा चीनी त्वचा को नरम बनाती है। इसे गीली त्वचा पर 15-20 मिनट के लिए लगा रहने दें फिर धो लें।

7. बेसन
तैलीय त्वचा के लिए केवल बेसन को ही पानी में घोलकर लेप कर लें तथा 15 मिनट के बाद इससे चेहरे का चिपचिपापन दूर होकर चेहरा निखर जाएगा।

8. बर्फ
अगर त्वचा इतनी अधिक तैलीय हो कि मेकअप भी न ठहरता हो तो इसके लिए आप एक बर्फ का टुकड़ा दूध में भिगोकर चेहरे पर धीरे-धीरे मलें। इस प्रयोग से त्वचा का चिकनापन दूर होकर चेहरे पर ताजगी का एहसास होगा।

9. दही
दही में लैक्टिक एसिड होता है और यह किसी अन्य दुग्ध उत्पाद की तरह ही त्वचा को साफ़ करता है। दही त्वचा को प्राकृतिक तरीके से सुखा देती है और इस प्रक्रिया में त्वचा का प्राकृतिक तेल भी नष्ट नहीं होने देती।

10. चावल आटा और गुलाबजल
चावल का आटा गुलाब जल के साथ मिला कर इसे थोड़ी देर कड़ा होने तक छोड़ दें फिर इस scrub को फेस पर लगाएं।

11. नमक का स्प्रे
नमक प्राकृतिक रूप से सुखाने वाला पदार्थ होता है तथा यह कीटाणु नाशक भी होता है। स्प्रे करने वाली बोतल में एक चमम्च नमक डालकर चेहरे पर स्प्रे करें यह आप हर रोज कर सकती है।

12. गेंदे के फूल का क्लिंजर
एक मुटठी भरगेंदे की पंखुडियां लेकर एक कप उबलते हुए पानी में डाल दें, फिर इसको पांच दस मिनट छोड़ दें, फिर जब ये छूने लायक ठंडा हो जाये तो पंखुडियो का गूदा बनाकर ऑयली स्किन पर लगायें पांच सात मिनट तक इसको लगा रहने दे फिर ठंडे पानी से चेहरे को धो लें।

13. दूध
तैलीय त्वचा से मुक्ति, दूध भी अत्याधिक तेल हटाने में आपकी मदद करता है। चेहरे को दूध से धोना काफी अच्छा उपचार है क्योंकि इससे त्वचा का वह तेल भी निकलता है जो कि काफी समय से त्वचा से चिपका हुआ होता है। इस प्रक्रिया के बाद त्वचा पर हल्का सा दूध लगाएं और अच्छे से धो लें।

14. हार्ड केमिकल से बचें
मेकअप के सामानों में मौजूद कठोर केमिकल्स त्वचा के तेल की मात्रा में वृद्धि करते हैं। इसलिए उत्कृष्ट कोटि के सॉफ्ट मेकअप ही करें।

27 people found this helpful

Neck Clean Tips in hindi - गर्दन का कालापन कैसे दूर करे

MBBS, M.Sc - Dietitics / Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Delhi
Neck Clean Tips in hindi - गर्दन का कालापन कैसे दूर करे

आकर्षण का संबंध वैसे तो पूरे शरीर से होता है पर जब बात सुंदरता कि की जाए तब सबसे पहले ध्यान में आता है चेहरा और गला। इसलिए आकर्षक बनने के लिए जरूरी है कि चेहरे की ज्यादा केअर की जाए। और ऐसे में हम में से ज्यादातर लोग चेहरे का ख्याल तो रख लेते हैं पर, गला छूट जाता है जिसकी वजह से कई बार हम अपने गले को छिपाने को मजबूर हो जाते हैं। हम बालों को ऊपर उठाकर नहीं बांध पाते तो कई बार ओपेन नेक के कपड़े नहीं पहन पाते। तो ठीक है अब आपको इस उलझन से देंगे छुटकारा हमारे बताए गए कुछ घरेलू नुस्खे। 

गले के काले या मटमैले दिखने की कुछ खास वजहें होती है जैसे कि
•        साथ ही साफ-सफाई में कम
•        सनबर्न
•        लंबे समय तक पसीना आना
•        डायबिटीज
•        मोटापा

साथ ही कई लोगों नैचुरली शरीर से ज़्यादा गला काला होता है जिसे अकेंथिसिस्निग्रिकेंस कहते है। और यह ज्यादा रंजकता के कारण होता है। जो की गले की स्किन्स की सिलवटों मे रहता है। 
हालांकि पैसे खर्च किए जाए तो मार्किट में इस समस्या से कुछ हद तक निज़ात पाया जा सकता है, पर यह उपाय खरचेलू और साइड इफ़ेक्ट के रिस्क से भरा हुआ है। पर आपको इन रिस्क के चक्कर मे पड़ने की कोई जरूरत नहीं आप बस बताए हुए कुछ नुस्खों को आजमाएं और साफ सुथरी चमकती दमकती गर्दन से लोगों को अट्रैक्ट करें। 

1. कच्चा दूध
कच्चा दूध आपकी त्वचा को साफ़ करने के लिए मशहूर है। गर्दन का काला होना सालों से गर्दन के भाग पर गन्दगी का जमते रहना हो सकता है। 
 तो बस आप एक कप कच्चा दूध लें, इसमें रुई का टुकड़ा डुबोएं और अपनी गर्दन के उस भाग पर लगाएं, जहाँ आपको काली त्वचा दिख रही हो। आप यह नुस्खा कुछ समय तक जारी रखें फर्क आपको जल्द नज़र आने लगेगा।

2. एलोवेरा जेल 
एक एलोवेरा की पत्ती और इसे बीच से फाड़ लें। इसके जेल का भाग बाहर निकाल लें और अपनी गर्दन के काले हुए हिस्से पर लगाएं और 20 मिनट तक वैसे ही रहने दें, और फिर ठन्डे पानी से धो लें।

3. टमाटर 
टमाटर त्वचा के काले पड़ गए भागों को साफ़ करने में अहम किरदार निभाता है। कई बार सनबर्न से गर्दन का पिछला हिस्सा काला पड़ जाता है। और ध्यान रहे त्वचा की यह काली परत एक दिन में पैदा नहीं होती, बल्कि इसे इस रूप में आने में कई साल लग जाते हैं। इससे निजात पाने के लिए टमाटर का एक भाग काटें और इसके रसभरे भाग को अपनी गर्दन काले हिस्से पर रगड़ें, कुछ मिनट बाद ठंडे पानी से धो लें। 

4. ककड़ी का रस 
ककड़ी का रस बेजान त्वचा में चमक प्रदान करता है। साथ ही उसे निखारता भी है। कद्दूकस ककड़ी या ककड़ी के रस को आपकी गर्दन पर लगाये और इसे हलके हाथो से मसाज करे बाद में गुलाब जल से इसे साफ कर ले।

5. आलू का रस 
आलू के टुकड़े को अपनी गर्दन के गहरे रंग पर मसाज करे। यह एक अच्छा घरेलु उपाय है। आप किसा हुआ आलू, कद्दूकस आलू और कटे हुए आलू का भी उपयोग कर सकते है।

6. नींबू का रस 
नींबू के रस और गुलाब जल को बराबर मात्रा में ले। अब इस मिश्रण को आपकी गर्दन के गहरे रंग वाले हिस्से में लगाये। इस विधि का प्रयोग एक महीने तक हर रात करे। आपकी त्वचा में निखार नज़र आएगा।

7. बादाम का तेल 
बादाम के तेल को हल्का गर्म करे और इसे आपकी गर्दन के गहरे हिस्से पे लगाये। यह उपाए महीने में एक बार करें। यह आपकी त्वचा को निखारने के साथ साथ आपके रक्त का बेहतर परिसंचरण करता है।

8. संतरे का गुदा 
संतरे के गूदे का उपयोग एक बहुत ही अच्छा प्राकृतिक उपाय है। संतरे के गूदे के पाउडर को दूध के साथ मिला के एक मिश्रण तैयार कर ले। अब इस मिश्रण को गर्दन के गहरे रंग पे लगाये और कुछ देर बाद साफ़ पानी से धो लें।

9. काबुली चने का आटा 
काबुली चने का आटा एक बहुत ही अच्छा प्राकृतिक स्क्रब है, जो बेजान त्वचा में जान लाता है साथ ही साथ आपकी त्वचा को निखारता भी है हल्दी त्वचा को निखारने में बहुत ही मददगार होती है। कुछ काबुली चने के आटे में एक चुटकी हल्दी मिलाये अब इस मिश्रण को गर्दन के गहरे रंग वाले हिस्से में लगाये और उसके सूखने के बाद पानी से धो ले।

10. बेकिंग सोडा
आपकी गर्दन को निखरी बनने के लिए यह एक सही विधि है। बेकिंग सोडा में थोड़ा सा पानी मिला कर पेस्ट बनाएं और गले के काले हिस्से पर लगाये सूख जाने पर पानी से धो ले।

11. चंदन पाउडर 
आपकी त्वचा की खोई रंगत और चमक वापिस लाने लिए चन्दन पावडर एक बहुत अच्छा नुस्खा है।
थोड़े चन्दन पाउडर में गुलाब जल मिला के मिश्रण बनाये अब इसे गहरे हिस्से में लगा के सूखने दे। बाद में साफ पानी से धो लें। 

12. शहद और टमाटर 
शहद त्वचा में नमी लाता है और टमाटर त्वचा को प्राकृतिक रूप से निखारता है। शहद और टमाटर के मिश्रण को गर्दन के गहरे हिस्से पर लगा के 15-20 मिनट के लिए छोड़ दे। इसके बाद साफ पानी से धो ले। बेहतर रिजल्ट के लिए रोजाना इसका प्रयोग करे।

13. दही 
गले को क्लीन करने के लिए दही को बेस्ट होम रेमेडीज समझिए। जो त्वचा को निखारता है, इसमें प्राकृतिक अम्ल होता है जो आपकी त्वचा पर हुए धब्बो को हटाता है साथ ही साथ यह त्वचा को नमीभीदेता है।
दही को आपकी गर्दन के गहरे हिस्से पर लगा कर छोड़ देंफिर साफ पानी से धो लें।केवल 2 हफ्तों में आपके गले में आने लगेगा निखार।

12 people found this helpful

Badam tel ke fayde in hindi - बादाम तेल के फायदे

MBBS, M.Sc - Dietitics / Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Delhi
Badam tel ke fayde in hindi - बादाम तेल के फायदे

प्रकृति के खजाने में कई ऐसी चीजें हैं जो रोज के खाने पीने वाली चीजों के अलावा हमारे लिए जरूरी होती है। हर चीज़ में अलग अलग गुण पाए जाते हैं जिनकी स्वस्थ स्वास्थ्य के लिए जरूरत होती है। और इन्ही पौष्टिक चीजों की लिस्ट में सबसे ज्यादा फेमस है बादाम जिसे हम अंग्रेजी अलमोंड के नाम से जानते हैं। बादाम के फायदे अनगिनत है जो बूढ़े, बच्चे, जवान, महिला, पुरुष सभी के लिए लाभदायक है। स्कॉलर्स का कहना है कि खुद को स्वस्थ रखने के लिए दिन की शुरुआत ठंडा पानी, बादाम और कसरत के साथ करें। इससे व्यक्ति दिन भर तरोताजा महसूस करेंगे।

खाने का तरीका
बादाम को कई तरह से खाया जाता है। आप बादाम कच्चे भी खा सकते है कुछ लोग रोस्टेड बादाम खाते है, उनसे स्वाद अच्छा हो जाता है। इसके अलावा हम मिठाई, दूध या कई तरह के दुसरे खाने की चीजों में बादाम का इस्तेमाल कर सकते है। पर जैसे की हमारे बड़े भी कहते है बादाम खाने का सबसे सही तरीका है बादाम भिगोकर और छीलकर खाया जाए। भिगोकर बादाम खाने से उसके छिलके के पोषक तत्व बादाम में चले जाते है और दूसरा बादाम मुलायम हो जाता है इससे जल्दी डाइजेस्ट हो जाता है।
बादाम के पूरे फायदे उठाने के लिए रात को एक कप पानी में बादाम भिगोकर रख दे। सुबह उन भीगे हुए बादामो की छिलके उतारकर खाए। दूसरा एक तरीका है उन बादामो को अच्छे से पीस कर दूध में अच्छे से मिलकर पिए।
वैसे तो बादाम हर हाल में फायदेमंद होता ही है पर कुछ खास स्थितियों में तुरंत बादाम का इस्तेमाल शुरू कर दें। जिससे जल्द राहत मिलने लगे। तो आइए जानते है बादाम के कुछ खास फायदे। 

1. हार्ट डिसीज़ 
हमारे दिल को स्वस्थ रखने में बादाम खाना काफी लाभदायक है। इससे मिलने वाले प्रोटीन, पोटैशियम और विटामिन इ हमारे हार्ट को स्वस्थ रखते हुए गंभीर ह्रदय रोगों से बचाव करता है। इसमें मैग्नीशियम भी होता है जो दिल का दौरा पड़ने के खतरे को काफी हद तक कम करता है। बादाम के औषधीय गुण ह्रदय धमनियों में आई सूजन कम करने के अलावा इसमें मौजूद फोलिक एसिड हार्ट फ़ैल की सम्भावना कम करता है।

2. वजन घटाएं
वेट लूज करने के लिए भी बादामकाफी प्रभावी ढंग से काम करते है। अगर आप मोटापे के शिकार है और वजन कम करना चाहते है तो, बिना मीठे के बादाम का दूध इसमें काफी मददगार हो सकता है। बादाम फाइबर से भरपूर होने के कारण ज्यादा भूख नहीं लगने देता जिससे हम ज्यादा खाने से बच जाते है।
एक रिसर्च के मुताबिक जो लोग बादाम खाते हैं, उनका वजन ज्यादा स्थिर रहता है मुकाबले में उनके जो नहीं खाते।

3. प्रेगनेंसी के दौरान
महिलाओ को गर्भावस्था के समय एक्स्ट्रा डाइट की जरूरत होती है। बादाम में फॉलिक एसिड होता है जो गर्भ में पल रहे बच्चे के कौशिका के बनने और पूर्ण विकास करने का काम करता है। नवजात शिशु में किसी भी तरह की कोई कमी न हो इसके लिए महिलाओ को प्रेगनेंसी के दौरान बादाम उचित मात्रा में खाने चहिये।
इसीलिए डॉक्टर प्रेगनेंट औरत को बच्चे के समुचित विकास और अपने स्वस्थ के लिए फोलिक एसिड की डाइट लेने की सलाह देते है।

4. डायबिटीज
खाना खाने के वक़्त डायबिटीज से पीड़ित के खून में ग्लूकोस और इंसुलिन एकदम से बढ़ जाता है। बादाम ऐसा होने से रोकता है। जिससे शुगर कंट्रोल करने में मदद मिलती है। बादाम नियमित मात्रा में ही ग्लूकोज लेने में मदद करता है। जिससे डायबिटीजमें तकलीफ से राहत मिलती है।

5. हाई कोलेस्ट्रॉल
जो लोग रेगुलर बादाम खाते है उनका कोलेस्ट्रॉल कंट्रोलमें रहता है। बादाम से LDL जिसे बुरा कोलेस्ट्रोल भी कहते है वो कम होता है और HDL जिसे अच्छा कोलेस्ट्रोल कहते है वो बढ़ता है। जिससे हमारे शरीर में कोलेस्ट्रोल का संतुलन बना रहता है।

6. हड्डिया और दांतों के लिए
बादाम में कितने महत्वपूर्ण मिनरल और विटामिन पाए जाते है जिनमे से फास्फोरस एक है। जो हमारी हड्डियों और दांतों को मजबूती प्रदान करता है। बुढ़ापे में होने वाले हड्डियों का रोग ऑस्टियोपोरोसिस से बचाव के लिए हमें बादाम एक उचित मात्रा में खाते रहना चाहिए।

7. वजन बढ़ाये
बादाम खाने से अगर वजन कम किया जा सकता है तो दूसरी तरफ वजन बढ़ा भी सकते है। पर वो निर्भर करता है हम कितनी मात्रा में सेवन करते है। वजन बढ़ाने के लिए धीरे धीरे करके बादाम की मात्रा बढ़ाये और सुबह शाम दोनों टाइम खाए।

8. दिमाग 
बादाम में कई ऐसे पौषक तत्व होते है जो दिमाग के विकास और उसे स्वस्थ रखने में फायदेमंद होते है। जिन लोगो की याददास्त कमजोर है और जल्दी भूलने के आदत है उनका दिमाग तेज करने के लिएकाफी लाभकारी होते है। एक स्टडी के मुताबिक आलमंड हमारे नर्वस सिस्टम को सुचारू रूप से काम करने में भी मदद करते है।

9. कैंसर 
बादाम हाई फाइबर से भरपूर ड्राई फ्रूट है। और एक अध्ययन में ये पाया गया है हाई फाइबर डाइट्सलेने से कैंसर होने के खतरे को कम किया जा सकता है और बादाम आपके पेट में खाने के प्रवाह को आसन और तेज़ करता है जिससे पेट का कैंसर होने की सम्भावना कम हो जाती है।
 

3 people found this helpful
View All Feed

Near By Doctors

89%
(68 ratings)

Dr. Suneet Khanna

MBBS, D.P.H & H, DFW & CH
Dietitian/Nutritionist
The Westside Clinic, 
0 at clinic
Book Appointment

Dt. Sonia Narang

M.Sc, Internship From AIIMS - Diploma in Diet and Nutrition, Diploma in Diet and Nutrition
Dietitian/Nutritionist
Sonia Narang's Diet & Wellness Clinics - Patel Nagar, 
300 at clinic
Book Appointment

Dt. Nehha Ahuja

PG Diploma Nutrition and Dietetics, B.Sc - Home Science
Dietitian/Nutritionist
Diet Centre, 
300 at clinic
Book Appointment
88%
(177 ratings)

Dt. Sangeeta Malik

Masters in Nutritional Therapy, Lifestyle & Weight Management, Sport Nutritions, graduation in Nutrition & Dietics
Dietitian/Nutritionist
Orange, 
300 at clinic
Book Appointment
90%
(18 ratings)

Dt. Shikha Srivastav- Nutrition & Wellness Clinic

Mphil - Food Nutrition & Dietitics, Msc - Food Nutrition & Dietitics
Dietitian/Nutritionist
Pioneer Nutrition and Wellness Pvt Ltd - Rajouri Garden, 
300 at clinic
Book Appointment
85%
(41 ratings)

Dt. Divya Gandhi

Diploma in Diet and Nutrition -, Diploma in Dietitics , Health & Nutrition
Dietitian/Nutritionist
Divya Gandhi's Diet N Cure Clinic, 
250 at clinic
Book Appointment