Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Book
Call

Dr. Rekha Verma

Homeopath, Delhi

Book Appointment
Call Doctor
Dr. Rekha Verma Homeopath, Delhi
Book Appointment
Call Doctor
Submit Feedback
Report Issue
Get Help
Feed
Services

Personal Statement

I'm a caring, skilled professional, dedicated to simplifying what is often a very complicated and confusing area of health care....more
I'm a caring, skilled professional, dedicated to simplifying what is often a very complicated and confusing area of health care.
More about Dr. Rekha Verma
Dr. Rekha Verma is a trusted Homeopath in Dwarka, Delhi. You can consult Dr. Rekha Verma at Aaknksh clinic in Dwarka, Delhi. Save your time and book an appointment online with Dr. Rekha Verma on Lybrate.com.

Lybrate.com has an excellent community of Homeopaths in India. You will find Homeopaths with more than 27 years of experience on Lybrate.com. You can find Homeopaths online in Delhi and from across India. View the profile of medical specialists and their reviews from other patients to make an informed decision.

Info

Specialty
Languages spoken
English
Hindi

Location

Book Clinic Appointment

Aaknksh clinic

# RZF-1A, F-Block, Dwarkapuri, (Shiv Main Market), DelhiDelhi Get Directions
...more
View All

Services

Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr. Rekha Verma

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

Dear sir, My brother is about 28 year old and resides in Agra. His pronunciation in not clear. (भरी भरी आवाज़ हे |) he sounds high and unclear words. Sometimes he mixes the words,(means speaks with high speed / frequency). In childhood he suffered with thyroid. We have given him full treatment for that. What should we do to make his voice clear, sharp and like a normal person? Is there are any clinics or doctors in AGRA who help him in practice speaking? Please advice.

DHMS (Hons.)
Homeopath, Patna
Dear lybrate user, your brother is under wt by 10 kg. Approx. He should follow the under noted tips. Go for meditation to calm down stress and to nourish, vocal card. Take, plenty of water to eliminate toxins. Take, apples, carrots, cheese, mango, papaya, banana, almonds, walnuts, spinach, potatoes, sweet potatoes. His diet b easily digestible and on time. To tone up his voice he should joine music classes, this will yield a lot. Does he suffer, polyps on vocal cord? any sort of ulceration in mouth? these r the associated symptoms be taken into account to select a proper medication. Till then give him homoeo medicine. @ baryta carb 30-6 pills, thrice a day. Your report may modify the medication take, care.
Submit FeedbackFeedback

I feel not happy. All time I feel hungry. Even I can't focus in study please help me out. Actually in one minute I feel angry and just next minute I feel calm. Irritate all time. So I may depressed or serious problem?

MD - Psychiatry
Psychiatrist, Chennai
You seem to be suffering from Borderline Personality or Emotionally unstable personality. The cause is unknown but research suggests there is an interaction between adverse life events and genetic factors. Neurobiological research suggests that abnormalities in the frontolimbic networks are associated with many of the symptoms There is a pattern of sometimes rapid fluctuation from periods of confidence to despair, with fear of abandonment and rejection. There is a particularly strong tendency towards suicidal thinking and self-harm. They have love-hate relationship with close ones. Transient psychotic symptoms, including brief delusions and hallucinations, may also be present. It is also associated with substantial impairment of social, psychological and occupational functioning and quality of life. People with emotionally unstable personality disorder are particularly at risk of suicide. Its course is variable and, although many people recover over time. Kindly consult a psychiatrist for remedy.
Submit FeedbackFeedback

I am experiencing constipation acute I drink lot of water and take at least 200 gms of fruits daily. It is getting worse what shall Ido?

PGP In Diabetologist, Fellowship in non-invasive Cardiology, MD - Medicine, MBBS
Endocrinologist, Delhi
I am experiencing constipation acute I drink lot of water and take at least 200 gms of fruits daily. It is getting wo...
Try isabgol husk 30 gm dissolved in lukewarm water at bed time. If no relief then take syp lactulose/duphulac 15 ml at bedtime.
12 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Hi. I am 30 year old. Suffering from depression and headaches. It seems that someone is twisting my brain often. Undergoing medications but not much relief. What can I do. please suggest me in detail.

MBBS, MD - Psychiatry
Psychiatrist, Mumbai
Hi. I am 30 year old. Suffering from depression and headaches. It seems that someone is twisting my brain often. Unde...
Loss of interest, decreased concentration and attention, feeling low and disturbed sleep or appetite are some of the signs of depression. Consult a psychiatrist who will assess you in detail. If you are feeling suicidal or hopeless, seek professional help immediately. Try some relaxation techniques like yoga, meditation and deep breathing. Indulge in hobbies. Spend time with people close to you.
Submit FeedbackFeedback

Sir blood sugar test through lab is best or through accu check or onetouch is best because in lab last week shows 104/200 but today through onetouch meter shows 104/147 which is correct and accurate pls.

DHMS (Hons.)
Homeopath, Patna
Sir blood sugar test through lab is best or through accu check or onetouch is best because in lab last week shows 104...
Hi, there is a difference in reading of 10 points between glucometer & lab test. Glucometer is useful in emergency, or other wise test in a reliable lab is more dependable. Tk care.
2 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I am 30 years old male am suffering from mouth ulcers for last 3 weeks what should I do?

MDS - Oral & Maxillofacial Surgery
Dentist, Chennai
Eat lot of fruits & green leafy vegetables & drink plenty of water. We need more investigations with clinical examination to decide upon treatment. You may need coronoplasty (smoothen teeth edges) along with t. Rebagen 10, morning one tab & one at night for 5 days, c. Becosules 5 cap, for five days in the morning after meals. Hexigel ointment on the area of ulcer. Rinse your mouth thoroughly with a mouth wash after every meals. Dental tips: - visit a dentist every six months for cleaning and a thorough dental check-up. Limit sugary food to avoid tooth decay. Gargle your mouth thoroughly after every meal. Scrub gently to clean your tongue with a tongue cleaner. Floss all your teeth inter dentally & brush twice daily, morning & night, up & down short vertical strokes, with ultra-soft bristles, indicator brush. Tooth brush to be changed every 2 months.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

After my c-section when should I participate in sex with my partner? Is 3 months enough?

PhD Human Genetics
Sexologist,
After my c-section when should I participate in sex with my partner? Is 3 months enough?
Yes. It's good enough time for all your wounds to heal, if you are a non-diabetic. If you are also mentally ready, you may go ahead!
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

सेक्स में कैसे आती है उत्तेजना

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Sexologist, Allahabad
सेक्स में कैसे आती है उत्तेजना
पेनिस (लिंग) में इरेक्शन विचार से होता है, स्पर्श से होता है। दिमाग में एक सेक्स सेंटर है। जब वह उत्तेजित होता है तो संदेश लिंग की तरफ जाता है। बदन में खून का प्रवाह तेज हो जाता है। पूरे शरीर में पेनिस में खून का प्रवाह सबसे ज्यादा तेज होता है। इसी वजह से लिंग में उत्तेजना ओर स्त्रियों की योनि में गीलापन आता है। पेनिस के इरेक्शन के लिए योग्य हॉर्मोन का होना जरूरी है। पुरुषों में 60 साल के बाद और महिलाओं में 45 साल के बाद हॉर्मोन की कमी होने लगती है।

इरेक्टाइल डिस्फंक्शन क्या है: सेक्स के दौरान या उससे पहले पेनिस में इरेक्शन (तनाव) के खत्म हो जाने को इरेक्टाइल डिस्फंक्शन या नपुंसकता कहते हैं। इरेक्टाइल डिस्फंक्शन कई तरह का हो सकता है। हो सकता है, कुछ लोगों को बिल्कुल भी इरेक्शन न हो, कुछ लोगों को सेक्स के बारे में सोचने पर इरेक्शन हो जाता है, लेकिन जब सेक्स करने की बारी आती है, तो पेनिस में ढीलापन आ जाता है। इसी तरह कुछ लोगों में पेनिस वैजाइना के अंदर डालने के बाद भी इरेक्शन की कमी हो सकती है। इसके अलावा, घर्षण के दौरान भी अगर किसी का इरेक्शन कम हो जाता है, तो भी यह इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की निशानी है।

इरेक्शन सेक्स पूरा हो जाने के बाद यानी इजैकुलेशन के बाद खत्म होना चाहिए। कई बार लोगों को वहम भी हो जाता है कि कहीं उन्हें इरेक्टाइल डिस्फंक्शन तो नहीं। सीधी सी बात है कि आप जिस काम को करने की कोशिश कर रहे हैं, वह काम अगर संतुष्टिपूर्ण तरीके से कर पाते हैं तो सब ठीक है और नहीं कर पा रहे हैं तो समस्या हो सकती है। जिन लोगों में यह दिक्कत पाई जाती है, वे चिड़चिड़े हो सकते हैं और उनका कॉन्फिडेंस लेवल भी कम हो सकता है। वजह: इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की वजह शारीरिक भी हो सकती है और मानसिक भी। अगर किसी खास समय इरेक्शन होता है और सेक्स के समय नहीं होता, तो इसका मतलब यह समझना चाहिए कि समस्या मानसिक स्तर की है। खास समय इरेक्शन होने से मतलब है- सुबह सोकर उठने पर, पेशाब करते वक्त, मास्टरबेशन के दौरान या सेक्स के बारे में सोचने पर। अगर इन स्थितियों में भी इरेक्शन नहीं होता तो समझना चाहिए कि समस्या शारीरिक स्तर पर है। अगर समस्या मानसिक स्तर पर है तो साइकोथेरपी और डॉक्टरों द्वारा बताई गई कुछ सलाहों से समस्या सुलझ जाती है।


- शारीरिक वजह ये चार हो सकती हैं : चार छोटे एस (S) बड़े एस यानी सेक्स को प्रभावित करते हैं। ये हैं : शराब, स्मोकिंग, शुगर और स्ट्रेस।- हॉर्मोंस डिस्ऑर्डर्स इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की एक खास वजह है।- पेनिस के सख्त होने की वजह उसमें खून का बहाव होता है। जब कभी पेनिस में खून के बहाव में कमी आती है तो उसमें पूरी सख्ती नहीं आ पाती और इरेक्टाइल डिस्फंक्शन जैसी दिक्कतें शुरू हो जाती हैं। कुछ लोगों के साथ ऐसा भी होता है कि शुरू में तो पेनिस के अंदर ब्लड का फ्लो पूरा हो जाता है, लेकिन वैजाइना में एंटर करते वक्त ब्लड का यह फ्लो वापस लौटने लगता है और पेनिस की सख्ती कम होने लगती है।- नर्वस सिस्टम में आई किसी कमी के चलते भी यह समस्या हो सकती है। यानी न्यूरॉलजी से जुड़ी समस्याएं भी इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की वजह हो सकती हैं।- हमारे दिमाग में सेक्स संबंधी बातों के लिए एक खास केंद्र होता है। इसी केंद्र की वजह से सेक्स संबंधी इच्छाएं नियंत्रित होती हैं और इंसान सेक्स कर पाता है। इस सेंटर में अगर कोई डिस्ऑर्डर है, तो भी इरेक्टाइल डिस्फंक्शन हो सकता है।- कई बार लोगों के मन में सेक्स करने से पहले ही यह शक होता है कि कहीं वे ठीक तरह से सेक्स कर भी पाएंगे या नहीं। कहीं पेनिस धोखा न दे जाए। मन में ऐसी शंकाएं भी इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की वजह बनती हैं। इसी डर की वजह से लॉन्ग-टर्म में व्यक्ति सेक्स से मन चुराने लगता है और उसकी इच्छा में कमी आने लगती है।- डॉक्टरों का मानना है कि 80 फीसदी मामलों में इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की वजह शारीरिक होती है, बाकी 20 फीसदी मामले ऐसे होते हैं जिनमें इसके लिए मानसिक कारण जिम्मेदार होते हैं।ट्रीटमेंटपहले इस समस्या को आहार-विहार और कसरत करने से ठीक करने की कोशिश की जाती है, लेकिन जब इससे कोई फर्क नहीं पड़ता तो कोई भी ट्रीटमेंट शुरू करने से पहले डॉक्टर समस्या की असली वजह का पता लगाते हैं। इसके लिए कई तरह के टेस्ट किए जाते हैं। वजह के अनुसार आमतौर पर इलाज के तरीके ये हैं:1. हॉर्मोन थेरपी : अगर इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की वजह हॉर्मोन की कमी है तो हॉर्मोन थेरपी की मदद से इसे दो से तीन महीने के अंदर ठीक कर दिया जाता है। इस ट्रीटमेंट का कोई साइड इफेक्ट नहीं होता।2. ब्लड सप्लाई : जब कभी पेनिस में आर्टरीज की ब्लॉकेज की वजह से ब्लड सप्लाई में कमी आती है, तो दवाओं की मदद से इस ब्लॉकेज को खत्म किया जाता है। इससे पेनिस में ब्लड की सप्लाई बढ़ जाती है और उसमें तनाव आने लगता है।3. सेक्स थेरपी : कई मामलों में समस्या शारीरिक न होकर दिमाग में होती है। ऐसे मामलों में सेक्स थेरपी की मदद से मरीज को सेक्स संबंधी विस्तृत जानकारी दी जाती है, जिससे वह अपने तरीकों में सुधार करके इस समस्या से बच सकता है।4. वैक्यूम पंप, इंजेक्शन थेरपी और वायग्रा : वैक्यूम पंप, इंजेक्शन थेरपी और वायग्रा जैसे ड्रग्स की मदद से भी इरेक्टाइल डिस्फंक्शन को दूर किया जा सकता है। वैसे कुछ डॉक्टरों का मानना है कि वैक्यूम पंप और इंजेक्शन थेरपी अब पुराने जमाने की बात हो चुकी हैं।- वैक्यूम पंप : आजकल बाजार में कई तरह के वैक्यूम पंप मौजूद हैं। रोज अखबारों में इसके तमाम ऐड आते रहते हैं। इसकी मदद से बिना किसी साइड इफेक्ट के इरेक्टाइल डिस्फंक्शन का हल निकाला जा सकता है। वैक्यूम पंप एक छोटा सा इंस्ट्रूमेंट होता है। इसकी मदद से पेनिस के चारों तरफ 100 एमएम (एचजी) से ज्यादा का वैक्यूम बनाया जाता है जिससे पेनिस में ब्लड का फ्लो बढ़ने लगता है, और तीन मिनट के अंदर उसमें पूरी सख्ती आ जाती है। लगभग 80 फीसदी लोगों को इससे फायदा हो जाता है। चूंकि इसमें कोई दवा नहीं दी जाती है, इसलिए इसका कोई साइड इफेक्ट भी नहीं है। वैक्यूम पंप आमतौर पर उन लोगों के लिए है जो 50 की उम्र के आसपास पहुंच गए हैं। यंग लोगों को इसकी सलाह नहीं दी जाती है, फिर भी जो भी इसका इस्तेमाल करे, उसे डॉक्टर की सलाह जरूर ले लेनी चाहिए।- वायग्रा : इरेक्टाइल डिस्फंक्शन के लिए वायग्रा का इस्तेमाल अच्छा ऑप्शन है, लेकिन इसका इस्तेमाल किसी भी सूरत में बिना डॉक्टरी सलाह के नहीं करना चाहिए। वायग्रा में मौजद तत्व उस केमिकल को ब्लॉक कर देते हैं, जो पेनिस में होने वाले ब्लड फ्लो को रोकने के लिए जिम्मेदार है। इससे पेनिस में ब्लड का फ्लो बढ़ जाता है और फिर इरेक्शन आ जाता है। वायग्रा इरेक्टाइल डिस्फंक्शन को ठीक करने में फायदेमंद तो साबित होती है, लेकिन यह महज एक टेंपररी तरीका है। इससे समस्या की वजह ठीक नहीं होती।इनका असर गोली लेने के चार घंटे तक रहता है। वायग्रा बिना डॉक्टर की सलाह के नहीं लेनी चाहिए। कई मामलों में इसे लेने के चलते मौत भी हुई हैं। गोली लेने के 15 मिनट बाद असर शुरू हो जाता है।अगर हाई और लो ब्लडप्रेशर, हार्ट डिजीज, लीवर से संबंधित रोग, ल्यूकेमिया या कोई एलर्जी है तो वायग्रा लेने से पहले विशेष सावधानी रखें और डॉक्टर की सलाह के मुताबिक ही चलें।- सर्जरी : जब ऊपर दिए गए तरीके फेल हो जाते हैं, तो अंतिम तरीके के रूप में पेनिस की सर्जरी की जाती है।प्रीमैच्योर इजैकुलेशनप्रीमैच्योर इजैकुलेशन या शीघ्रपतन पुरुषों का सबसे कॉमन डिस्ऑर्डर है। सेक्स के लिए तैयार होते वक्त, फोरप्ले के दौरान या पेनिट्रेशन के तुरंत बाद अगर सीमेन बाहर आ जाता है, तो इसका मतलब प्रीमैच्योर इजैकुलेशन है। ऐसी हालत में पुरुष अपनी महिला पार्टनर को पूरी तरह संतुष्ट किए बिना ही फारिग हो जाता है। यह एक ऐसी स्थिति है, जिसमें पुरुष का अपने इजैकुलेशन पर कोई अधिकार नहीं होता। आदर्श स्थिति यह होती है कि जब पुरुष की इच्छा हो, तब वह इजैकुलेट करे, लेकिन प्रीमैच्योर इजैकुलेशन की स्थिति में ऐसा नहीं होता।- सेरोटोनिन जैसे न्यूरो ट्रांसमिटर्स की कमी से प्रीमैच्योर इजैकुलेशन की समस्या हो सकती है।- यूरेथेरा, प्रोस्टेट आदि में अगर कोई इंफेक्शन है, तो भी प्रीमैच्योर इजैकुलेशन हो सकता है।- दिमाग में मौजूद सेक्स सेंटर एरिया में अगर कोई डिस्ऑर्डर है तो भी सीमेन का डिस्चार्ज तेजी से होता है।- कुछ लोगों के पेनिस में उत्तेजना पैदा करने वाले न्यूरोट्रांसमिटर्स ज्यादा संख्या में होते हैं। इनकी वजह से ऐसे लोगों में टच करने के बाद उत्तेजना तेजी से आ जाती है और वे जल्दी क्लाइमैक्स पर पहुंच जाते हैं।- कई बार एंग्जायटी, टेंशन और सीजोफ्रेनिया की वजह से भी ऐसा हो सकता है।दवाएं : प्रीमैच्योर इजैकुलेशन की वजह को जानने के बाद उसके मुताबिक खाने की दवाएं दी जाती हैं। इनकी मदद से प्रीमैच्योर इजैकुलेशन को पूरी तरह ठीक किया जा सकता है। इसमें करीब दो महीने का वक्त लगता है। इन दवाओं के कोई साइड इफेक्ट भी नहीं हैं।इंजेक्शन थेरपी: अगर खाने की दवाओं से काम नहीं चलता तो इंजेक्शन थेरपी दी जाती है। इनसे तीन मिनट के अंदर पेनिस हार्ड हो जाता है और यह हार्डनेस 30 मिनट तक बरकरार रहती है। इसकी मदद से कोई भी शख्स सही तरीके से सेक्स कर सकता है। ये इंजेक्शन कुछ दिनों तक दिए जाते हैं। इसके बाद खुद-ब-खुद उस शख्स का अपने इजैकुलेशन पर कंट्रोल होने लगता है और फिर इन इंजेक्शन को छोड़ा जा सकता है।टोपिकल थेरपी : यह टेंपररी ट्रीटमेंट है। इसमें कुछ खास तरह की क्रीम का यूज किया जाता है। इन क्रीम की मदद से डिस्चार्ज का टाइम बढ़ जाता है। इनका भी कोई साइड इफेक्ट नहीं होता।सेक्स थेरपी : दवाओं के साथ मरीज को कुछ एक्सरसाइज भी सिखाई जाती हैं। ये हैं :स्टॉप स्टार्ट टेक्निक : पार्टनर की मदद से या मास्टरबेशन के माध्यम से उत्तेजित हो जाएं। जब आपको ऐसा लगे कि आप क्लाइमैक्स तक पहुंचने वाले हैं, तुरंत रुक जाएं। खुद को कंट्रोल करें और सुनिश्चित करें कि इजैकुलेशन न हो। लंबी गहरी सांस लें और कुछ पलों के लिए रिलैक्स करें। कुछ पलों बाद फिर से पेनिस को उत्तेजित करना शुरू कर दें। जब क्लाइमैक्स पर पहुंचने वाले हों, तभी रोक लें और रिलैक्स करें। इस तरह बार बार दोहराएं। कुछ समय बाद आप महसूस करेंगे कि शुरू करने और स्टॉप करने के बीच का समय धीरे धीरे ज्यादा हो रहा है। इसका मतलब है कि आप पहले के मुकाबले ज्यादा समय तक टिक रहे हैं। लगातार प्रैक्टिस करने से इजैकुलेशन कब हो इस पर काबू पाया जा सकता है।कीजल एक्सरसरइज : कीजल एक्सरसाइज न सिर्फ प्रीमैच्योर इजैकुलेशन को कंट्रोल करने में सहायक है, बल्कि प्रोस्टेट से संबंधित समस्याएं भी इससे ठीक की जा सकती हैं। इसके लिए पेशाब करते वक्त स्क्वीज, होल्ड, रिलीज पैटर्न अपनाना होता है। यानी पेशाब का फ्लो शुरू होते ही मसल्स का स्क्वीज करें, कुछ पलों के लिए रुकें और फिर से रिलीज कर दें। इस दौरान इस प्रॉसेस का बार बार दोहराएं। इन सेक्स एक्सरसाइज की प्रैक्टिस अगर कोई शख्स चार हफ्ते तक लगातार कर लेता है तो उसके बाद वह 8 से 10 मिनट तक बिना इजैकुलेशन के इरेक्शन बरकरार रख सकता है। कई बार ऐसा भी देखा गया है कि काफी टाइम बाद सेक्स करने से भी व्यक्ति जल्दी स्खलित हो जाता है। ऐसे मामलों में इन एक्सरसाइजों को कर लिया जाए तो इस समस्या से भी निजात पाई जा सकती है।मास्टरबेशनसेक्स के दौरान पेनिस जो काम योनि में करता है, वही काम मास्टरबेशन के दौरान पेनिस मुट्ठी में करता है। मास्टरबेशन युवाओं का एक बेहद सामान्य व्यवहार है। जिन लोगों के पार्टनर नहीं हैं, उनके साथ-साथ मास्टरबेशन ऐसे लोगों में भी काफी कॉमन है, जिनका कोई सेक्सुअल पार्टनर है। जिन लोगों के सेक्सुअल पार्टनर नहीं हैं या जिनके पार्टनर्स की सेक्स में रुचि नहीं है, ऐसे लोग अपनी सेक्सुअल टेंशन को मास्टरबेशन की मदद से दूर कर सकते हैं। जो लोग प्रेग्नेंसी और एसटीडी के खतरों से बचना चाहते हैं, उनके लिए भी मास्टरबेशन उपयोगी है।नॉर्मल: मास्टरबेशन बिल्कुल नॉर्मल है। सेक्स का सुख हासिल करने का यह बेहद सुरक्षित तरीका है और ताउम्र किया जा सकता है, लेकिन अगर यह रोजमर्रा की जिंदगी को ही प्रभावित करने लगे तो इसका सेहत और दिमाग दोनों पर गलत असर हो सकता है।कुछ तथ्य- सामान्य सेक्स के तीन तरीके होते हैं - पार्टनर के साथ सेक्स, मास्टरबेशन और नाइट फॉल। अगर पार्टनर से सेक्स कर रहे हें तो जाहिर है सीमेन बाहर आएगा। सेक्स नहीं करते, तो मास्टरबेशन के जरिये सीमेन बाहर आएगा। अगर कोई शख्स यह दोनों ही काम नहीं करता है तो उसका सीमेन नाइट फॉल के जरिये बाहर आएगा। सीमेन सातों दिन और चौबीसों घंटे बनता रहता है। सीमेन बनता रहता है, खाली होता रहता है।- मास्टरबेशन करने से कोई शारीरिक या मानसिक कमजोरी नहीं आती।- पेनिस में जितनी बार इरेक्शन होता है, उतनी बार मास्टरबेशन किया जा सकता है। इसकी कोई लिमिट नहीं है। हर किसी के लिए अलग-अलग दायरे हैं।- इससे बाल गिरना, आंखों की कमजोरी, मुंहासे, वजन में कमी, नपुंसकता जैसी समस्याएं नहीं होतीं।- सीमेन की क्वॉलिटी पर कोई असर नहीं होता। न तो सीमेन का कलर बदलता और न वह पतला होता है।- इससे पेनिस के साइज पर भी कोई असर नहीं होता। जो लोग कहते हैं कि मास्टरबेशन से पेनिस का टेढ़ापन, पतलापन, नसें दिखना जैसी समस्याएं हो जाती हैं, वे खुद भी भ्रम में हैं और दूसरों को भी भ्रमित कर रहे हैं।- कुछ लोगों को लगता है कि मास्टरबेशन करने के तुरंत बाद उन्हें कुछ कमजोरी महसूस होती है, लेकिन वास्तव में ऐसा कुछ नहीं होता। यह मन का वहम है।- मास्टरबेशन एड्स और रेप जैसी स्थितियों को रोकने का अच्छा तरीका है।- कामसूत्र या आयुर्वेद में कहीं यह नहीं लिखा है कि मास्टरबेशन बीमारी है।- 13-14 साल की उम्र में लड़कों को इसकी जरूरत होने लगती है। कुछ लोग शादी के बाद भी सेक्स के साथ-साथ मास्टरबेशन करते रहते हैं। यह बिल्कुल नॉर्मल है।मिथ्स क्या हैं1. पेनिस का साइज छोटा है तो सेक्स में दिक्कत होगी। बड़ा पेनिस मतलब सेक्स का ज्यादा मजा।सचाई : छोटे पेनिस की बात नाकामयाब दिमाग में ही आती है। दुनिया में ऐसा कोई तरीका नहीं है जिससे पेनिस के स्टैंडर्ड साइज का पता किया सके। वैजाइना की सेक्सुअल लंबाई छह इंच होती है। इसमें से बाहरी एक तिहाई हिस्सा यानी दो इंच में ही ग्लांस तंतु होते हैं। अगर किसी महिला को उत्तेजित करना है, तो वह योनि के बाहरी एक तिहाई हिस्से से ही उत्तेजित हो जाएगी। जाहिर है, अगर उत्तेजित अवस्था में पुरुष का लिंग दो इंच या उससे ज्यादा है, तो वह महिला को संतुष्ट करने के लिए काफी है। ध्यान रखें, खुद और अपने पार्टनर की संतुष्टि के लिए महत्वपूर्ण चीज पेनिस की लंबाई नहीं होती, बल्कि यह होती है कि उसमें तनाव कैसा आता है और कितनी देर टिकता है। पेनिस की चौड़ाई का भी खास महत्व नहीं है। योनि इलास्टिक होती है। जितना पेनिस का साइज होगा, वह उतनी ही फैल जाएगी। बड़ा पेनिस किसी भी तरह से सेक्स में ज्यादा आनंद की वजह नहीं होता।2. पेनिस में टेढ़ापन होना सेक्स की नजर से समस्या है।सचाई : पेनिस में थोड़ा टेढ़ापन होता ही है। किसी भी शख्स का पेनिस बिल्कुल सीधा नहीं होता। यह या तो थोड़ा दायीं तरफ या फिर थोड़ा बायीं तरफ झुका होता है। इसकी वजह से पेनिस को वैजाइना में प्रवेश कराने में कोई दिक्कत नहीं होती है। ध्यान रखें, घर में दाखिल होना महत्वपूर्ण है, थोड़े दायें होकर दाखिल हों या फिर बायें होकर या फिर सीधे। ऐसे मामलों में इलाज की जरूरत तब ही समझनी चाहिए योनि में पेनिस का प्रवेश कष्टदायक हो।3. बाजार में तमाम तेल हैं, जिनकी मालिश करने से पेनिस को लंबा मोटा और ताकतवर बनाया जा सकता है। इसी तरह तमाम गोलियां, टॉनिक आदि लेने से सेक्स पावर बढ़ोतरी होती है।सचाई : पेनिस पर बाजार में मिलने वाले टॉनिक का कोई असर नहीं होता, असर होता है उसके ऊपर बने सांड या घोड़े के चित्र का। इसी तरह जब पेनिस पर तेल की मालिश की जाती है, तो उस हाथ की स्नायु मजबूत होती हैं, जिससे तेल की मालिश की जाती है, लेकिन पेनिस की मसल्स पर इसका कोई भी असर नहीं होता।4. पेनिस में नसें नजर आती हैं तो यह कमजोरी की निशानी है।सचाई : पेनिस में अगर कभी नसें नजर आती भी हैं तो वे नॉर्मल हैं। उनका पेनिस की कमजोरी से कोई लेना देना नहीं है।5. जिन लोगों के पेनिस सरकमसाइज्ड (इस स्थिति में पेनिस की फोरस्किन पीछे की तरफ रहती है और ग्लांस पेनिस हमेशा बाहर रहता है) हैं, वे सेक्स में ज्यादा कामयाब होते हैं।सचाई : सरकमसाइज्ड पेनिस का सेक्स की संतुष्टि से कोई लेना-देना नहीं है। यह तब कराना चाहिए जब उत्तेजित अवस्था में पुरुष की फोरस्किन पीछे हटाने में दिक्कत हो।6. सेक्स पावर बढ़ाने नुस्खे, गोलियां (आयुर्वेदिक और एलोपैथिक), मसाज ऑयल, शिलाजीत आदि बाजार में हैं। इनसे सेक्स पावर बढ़ाई जा सकती है।सचाई : बाजार में आमतौर मिलने वाली ऐसी गोलियों और दवाओं से सेक्स पावर नहीं बढ़ती। आयुर्वेद के नियम कहते हैं कि मरीज को पहले डॉक्टर से मिलना चाहिए और फिर इलाज करना चाहिए। हर मरीज के लिए उसके हिसाब से दवा दी जाती है, दवाओं को जनरलाइज नहीं किया जा सकता।एक पक्ष यह भीयूथ्स की सेक्स समस्याओं पर एलोपैथी और आयुर्वेद की सोच में अंतर मिलता है। जहां एक तरफ एलोपैथी में माना जाता है कि सीमेन शरीर से बाहर निकलने से शरीर और दिमाग को कोई नुकसान नहीं होता, वहीं आयुर्वेदिक पद्धति से इलाज करने वाले लोग सीमेन के संरक्षण की बात करते हैं। आयुर्वेदिक डॉक्टरों के मुताबिक :- महीने में दो से आठ बार तक नाइट फॉल स्वाभाविक है, लेकिन इससे ज्यादा होने लगे, तो यह सेहत के लिए नुकसानदायक है।- मास्टरबेशन करने से याददाश्त कमजोर होती है। एकाग्रता और सेहत पर बुरा असर होता है।- प्रीमैच्योर इजैकुलेशन और इरेक्टाइल डिस्फंक्शन को आयुर्वेद में दवाओं के जरिए ठीक किया जा सकता है, लेकिन इसके लिए मरीज को खुद डॉक्टर से मिलकर इलाज कराना चाहिए। दरअसल, आयुर्वेद में मरीज विशेष के लक्षणों और हाल के हिसाब से दवा दी जाती है, जिनका फायदा होता है।- बाजार में आयुर्वेद के नाम पर बिकने वाले मालिश करने के तेल, कैपसूल और ताकत की दवाएं जनरल होती हैं। इन बाजारू दवाओं से सेक्स पावर बढ़ाने या पेनिस को लंबा-मोटा करने में कोई मदद नहीं मिलती। ये चीजें आयुर्वेद को बदनाम करती हैं।- विज्ञापनों और नीम-हकीमों से दूर रहें। तमाम नीम-हकीम आयुर्वेद के नाम पर युवकों को बेवकूफ बनाकर पैसा ठगते हैं। इनसे बचें और हमेशा किसी योग्य डॉक्टर से ही संपर्क करें।- मर्यादित सेक्स करने से जिंदगी में यश बढ़ता है और परिवार में बढ़ोतरी होती है, जबकि अमर्यादित और बहुत ज्यादा सेक्स रोगों को बढ़ाता है।- मल-मूत्र का वेग होने पर और व्रत, शोक और चिंता की स्थिति में सेक्स से परहेज करना चाहिए।- जो चीजें शरीर को सेहतमंद रखने में मदद करती हैं, वही चीजें सेक्स की पावर बढ़ाने में भी मददगार हैं। ऐसे में अगर आप स्वास्थ्य के नियमों का पालन कर रहे हैं और सेहतमंद खाना ले रहे हैं तो आपको सेक्स पावर बढ़ाने वाली चीजें अलग से लेने की कोई जरूरत नहीं है। http://drbkkashyap.blogspot.in/2015/03/60-45-s-80-20-
77 people found this helpful

Sir, I'm very weak in study so please give me some suggestions for strong mind and study in success for thank you sir.

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Fazilka
Take balanced diet fruits vegetables milk avoid fast foods do yoga daily soak 5to7 almonds in water at night and eat in morning safe ayurvedic tonic for memory consult me through Lybrate.
3 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

My wife's right hand wrist hand hair line fracture two years back. Now doctors say it is trauma arthritis. Hand pains really a lot. Not able to sleep properly. Taking pain killers and other medicine. What is the solution and how long it will take to recover.

BHMS
Homeopath, Faridabad
My wife's right hand wrist hand hair line fracture two years back. Now doctors say it is trauma arthritis. Hand pains...
Hello, take Arnica 30 , 3 drops twice daily and Ruta 30 , 3 drops twice daily. Five phos 6X, 5 tabs twice daily. Revert me after 15 days.
Submit FeedbackFeedback

What are symptoms of the dengue or which medicine to take to migraine. Please help me.

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS), PGD IN NATURO & YOGA SCIENCE
Ayurveda, Katni
Dengue symptom are very much similar to malaria. But if the fever persist after 7 days of treatment go for CBC. Retest of CBC again after 5 days. If platelets are decreasing. Then go for dengue test.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Coming to many Pimples in face and oil. Used lots of creams. Face washes Bt no changes. What can I do for better Skin.

BHMS
Homeopath, Faridabad
Coming to many Pimples in face and oil. Used lots of creams. Face washes Bt no changes. What can I do for better Skin.
Hello homoeopathy cures acne conditions very effectively. Treatment part for the acne -- 1. Take kali brom 30 ch, (wsi) 3 drops daily morning empty stomach. 2. Take berberis aquafolium q, (wsi) 10 drops mixed with half cup of water, twice a day. 3. Acne aid tablets (bakson, 1-1 tab. Twice a day. 4. Apply topi berberis cream on the face, twice a day. 5. Wash face with sunny herbal face wash twice a day. Management part for the acne-- 1. Drink 10 to 12 glasses of water daily. 2. Eat healthy and balanced diet including whole grain meals, green leafy vegetables and fruits. 3. Avoid oily and junk food. 4. Avoid oily and spicy food home remedy for acne-- crush coriander leaves and take out its juice, then mix it with a pinch of turmeric powder, now apply on acne at night. Good day take care.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

My hair getting white. And I am just 22. Is that any problem or its happen with everyone.

MBBS
General Physician, Mumbai
My hair getting white. And I am just 22. Is that any problem or its happen with everyone.
I will suggest you to wash your hair daily with lux shampoo and apply hair oil daily and it's abnormal to have a white hair at 22 years of age.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I am 31 year old my problem is too much hair fall I am so worried about that I have used so many shampoo and conditioner but teir is no positive result shown in my hair please tell me the strong way to control my hair fall.

BAMS
Ayurveda, Bangalore
I am 31 year old my problem is too much hair fall I am so worried about that I have used so many shampoo and conditio...
Hi, Apply Trichup Hair oil to the scalp at night daily and take cap. Trichup 1-0-1 after food for 3 months continuously. Take 1 tsf of Jeevamrutham once a day followed by milk. Avoid frequent head bath. Consume high protein diet.
Submit FeedbackFeedback

I am 20 yrs old boy my stomach is paining from 15 day I have done all tests also but report is normal so now what should I do?

B.Sc, DBMS, BHMS, PGDCR, PGDHM
Homeopath, Kolkata
I do think you r suffering from gastralgia. So all reports r normal. So you need a treatment for sometime. Try nux vom 200 two doses after principle foods for 7 days then contact.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

My friend is suffering from left eye pain which tablet to decrease the pain tell me any pain killer name.

Fellowship in Comprehensive Ophthalmology, DOMS
Ophthalmologist, Sangrur
My friend is suffering from left eye pain which tablet to decrease the pain tell me any pain killer name.
Hello dear she can use combiflam immediately havng said that she should consult local ophthalmologist for proper examination to know cause for pain.
Submit FeedbackFeedback

Dear mam/sir, I am 19 years old. I have cracks in my heels and what should I do to get my heels cured Thanks in advance.

Certification in ADHD in children and adolescents, Clinical Assessment and treatment of depression in primary care, BHMS
Homeopath, Amravati
Dear mam/sir,
I am 19 years old. I have cracks in my heels and what should I do to get my heels cured Thanks in advance.
Hi lybrate-user, thanks for the question. Cracked heels can be of two types simple cracks and deep cracks. Simple are easy to heal with little homely tips. 1. Keep heels in luke warm water for at least 10-15 mins. 2. Scrub the dirt and try to keep crack s clean. 3. Massage with olive oil or mustard oil. 4. Try socks. Keep this in a proper schedule to reduce the cracks. If it still remains then you can opt homoeopathic medicines.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

My skin is oily. Due to dandruff, I am suffering from itching on nose and chin. Everyday after take a bath I found rough skin. Please tell me the therapy.

B.Sc. - Dietitics / Nutrition, Nutrition Certification,Registered Dietitian
Dietitian/Nutritionist, Delhi
My skin is oily. Due to dandruff, I am suffering from itching on nose and chin. Everyday after take a bath I found ro...
1. Use amla (gooseberry) juice on scalp and also to drink. 2. Mix curry leaves with coconut oil and heat up and let it cool. Massage scalp with this oil. 3. Apply hair packs like Egg with Yogurt, Banana. 4. Have a lot of green leafy vegetables and fruits rich in Vitamin C. 5. Protein is the most important element for maintaining hair health. Make sure your diet in protein rich sources like eggs, fish, chicken, soybean, sprouts, pulses and grains. 6. Zinc, iron & copper promote healthy hair. Some sources of this are – eggs, whole grains, all types of seeds like flax seeds, sesame seeds, sunflower seeds, Dry fruits and nuts etc.
Submit FeedbackFeedback
View All Feed