Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Call Doctor
Book Appointment
Dr. Rajeev Ranjan Sinha  - Veterinarian, Delhi

Dr. Rajeev Ranjan Sinha

BVSc & AH

Veterinarian, Delhi

14 Years Experience  ·  250 at clinic
Book Appointment
Call Doctor
Dr. Rajeev Ranjan Sinha BVSc & AH Veterinarian, Delhi
14 Years Experience  ·  250 at clinic
Book Appointment
Call Doctor
Submit Feedback
Report Issue
Get Help
Services
Feed

Personal Statement

I pride myself in attending local and statewide seminars to stay current with the latest techniques, and treatment planning....more
I pride myself in attending local and statewide seminars to stay current with the latest techniques, and treatment planning.
More about Dr. Rajeev Ranjan Sinha
Dr. Rajeev Ranjan Sinha is a renowned Veterinarian in Rajender Nagar, Delhi. He has helped numerous patients in his 14 years of experience as a Veterinarian. He is a qualified BVSc & AH . He is currently practising at Ranjan Pet Clinic in Rajender Nagar, Delhi. Book an appointment online with Dr. Rajeev Ranjan Sinha on Lybrate.com.

Lybrate.com has top trusted Veterinarians from across India. You will find Veterinarians with more than 37 years of experience on Lybrate.com. You can find Veterinarians online in Delhi and from across India. View the profile of medical specialists and their reviews from other patients to make an informed decision.

Info

Specialty
Education
BVSc & AH - - 2004
Languages spoken
English
Hindi
Professional Memberships
Indian veterinary council

Location

Book Clinic Appointment with Dr. Rajeev Ranjan Sinha

Ranjan Pet Clinic

C-119, Shop No. 3, New Rajendra Nagar. Landmark: Beside Blind Girls School, DelhiDelhi Get Directions
250 at clinic
...more
View All

Services

Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr. Rajeev Ranjan Sinha

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

I have a saint bernad pup of 5 months in himachal pradesh. He have a indigestion problem. He is not digesting anything from past one and half month. I don't have good vets here. please suggest me some medicine.

Master of sciences, B.V.Sc. & A.H.
Veterinarian, Salem
If you can get biopron suspension human medicine can be given at the dosage rate of 10 ml -0-10 ml twice daily and let me know the outcome so that we can move further.
6 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I wanna ask for my pet Labrador, he is suffering from kidney dysfunction, last 1.5 month he is not able to eat any thing as I tried he start vomit after a couple of hours, blood test kft done on 28/10/17. Result are 1) serum phosphorous 18.4 2) serum sodium 149.6 3) blood urea 210.8 4) serum creatinine 20.4 5) serum uric acid 1.01 6) albumin 2.71 7) a:g ratio 0.66 These all are bold in test. Please suggest what should I do he is one of my life member whom I love so much age 8 years. Is there any possibility to make him fine .any kind of treatment.

B.A.M.S, MD (Ayu.) Kayachikitsa
Ayurveda, Shimla
Thanks for contacting with your health concern 1. Chronic renal disease [CKD] cannot be cured or reversed but treatment and management aimed at the contributing factors and symptoms can slow its progression. 2. Please see a good and experienced Veterinarian doctor to exclude decreased blood flow or oxygen delivery to the kidneys, any infection (s) and/or urinary obstruction. 3. He needs hospitalization for immediate medical treatment aimed at correcting fluid and electrolyte imbalance, and it's your Veterinarian who is in the best position to let you know about the prognosis. PS. For diet in kidney disease kindly book an appointment on Lybrate itself.
Submit FeedbackFeedback

My 6 month labrador dog suffering from hair fall. please give me some best suggestions! like. An ejection names or any thing.

B.V.Sc. & A.H., M.V.Sc
Veterinarian, Gurgaon
Lybrate-userhair fall can be due to multiple reasons. Is it at particular part of body or generalize. Slight generalize hair fall is normal. Few dogs shed more twice a year and few shed equally throughout the year. Please make sure you are feeding nutritious diet rich in proteins and essential fatty acids.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

My dog is vomiting water like liquid little foamy with tiny bits of blood, it happened twice, one 5 days back in the morning around 4am, then at 2am. During vomiting he collapsed and paralyzed without any movement. Both time he woke up after 5 mins and he was active. I gave him Ranitac and vomited (half). Please help me, I am scared, he is 12 yrs old. 6 months back he had UTI. He is being given Nefrotec DS 2 tabs a day from 6 months as Advised by Vet. Please Please Help me, save my boy.

MVSc (Ph.D)
Veterinarian,
Your dog has chronic kidney problem and for that your vet has prescribed nefrotec ds2 tablets daily one since six months, which controls kidney damage, so continue further. You should not give him heavy food containing high fat & protein. Light diet like gruel of ragi, rice, wheat, rave should be given, with butter milk, soya milk also. Fruit juices, give perinorm injection which also controls vomition & then give ranitec orally 8 hourly. Give liver tonics like liv 52, or livobex orally 10 ml twice a day, imferon inj or its capsules with folic acid will help to build blood in the body. Sgot & sgpt & esr tests to be made to know the health condition of your dog. You should keep daily observation and make note of it. If vomition does not stop, take him to veterinary hospitals for iv fluids & further treatment for vomition.
Submit FeedbackFeedback

I have two budgies of 3 nd 5 months. One of them is constantly going through lose motion. And bcums lethargic. Also from few days they are making a kind of choking sound and also seem troubled. Kind of dnt know what to do?

MBBS
General Physician, Mumbai
You will have to take them to a veterinarian doctor for a clinical checkup and For loos emotions drink ors solution and to stop the frequency of motions take capsule roko and Avoid spicy food in diet and eat only curd rice or khichdi and if necessary we should take prescribed antibiotics.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

My puppy (Golden Retriever) is 38 days old. It shakes its head very often. My parents are planning to give it back. So please tell me, is it really something so serious. Please give me reply Asap. Please .

MVSc (Ph.D pursuing)
Veterinarian, Hyderabad
Head shaking as if shivering or fits? it could be a simple low sugar problem to severe brain problem. Please check a simple blood sugar check like we do for humans and see if the blood glucose level is below 60.
3 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

How could i comfort my dog in this summer?or could cut his hair(coat)short so that he should not feel too much heat. Please give me suggestion

MVSc
Veterinarian, Pune
U can do hair cutting as per recommend and in summer give him lot of water to drink and keep under fan .And walking timing r early morning and late night
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

My friend is a female dane about 2 years old and I couldn't find a proper male for her to mate is there any other way that she can have puppies ?

MVSc
Veterinarian, Pune
U can do artificial insemination but for that also required male or u can bring semen from chennai vet colleges
Submit FeedbackFeedback

Vaccination In Pets

B.V.Sc
Veterinarian, Varanasi
Vaccination In Pets

Vaccination in dog

टीकाकरण की प्रकिया एक ऐसा उपाय है जिससे, कुत्तो में होने वाली कुछ प्रमुख विषाणु एवं जीवाणु जनित जानलेवा एवं लाइलाज, बीमारियों जैसे कैनाइन डिस्टेंपर, हेपेटाइटिस, पार्वो वायरस, लेप्टोस्पायरोसिस, रेबीज तथा केनल कफ़ आदि से बचाव के लिए समय समय पर कुत्तों के शरीर में टीका लगाया जाता है,जिससे इन रोगों के खिलाफ रोगप्रतिरोधक क्षमता का शारीर में विकास हो जाता है और हमारा पालतू जानवर एक सिमित अवधि तक इन बिमारियों के घातक प्रभाव से बचा रहता है |

कुछ टीकाकरण संबंधी सामान्य प्रश्नो के जबाब -
 
१- क्या सभी उम्र के कुत्तो का टीकाकरण जरूरी होता है?
हाँ। आमतौर पर १. ५ महीने (४५ दिन) के उम्र से ऊपर सभी कुत्तो का नियमित समय पर टीकाकरण करना जरूरी होता है यदि किसी कारण वश नयमिति या कभी कराया ही न गया हो तो किसी भी उम्र से टीकाकरण शुरू किया जा सकता है। 

२. छोटे बच्चो को किस उम्र से टीका का पहली खुराक देना शुरू करना चाहिए?
४५ दिन के उम्र से ही टीके की पहली खुराक देना बेहद जरूरी होता है 

३. क्या सभी छोटे पप्स को टीकाकरण के पहले पेट के कीड़े देना जरूरी होता है -
हाँ। बहुत से परजीवी ऐसे होते है जो माँ के पेट से ही या दूध के जरिये से बच्चे के शरीर में प्रवेश कर जाते है जिससे शरीर को कमजोर कर देते है और जब टीका लगाया जाता है तो कमजोरी के वजह से उतना अच्छा शरीर में प्रतिरोधक छमता का विकास नहीं हो पता इसलिए पहले ऐसे परजीवीओ को नष्ट करना जरूरी होता है 

४. क्या होता है टीकाकरण का सही उम्र और समयांतराल?
१. पहली खुराक -जन्म के ६ -८ सप्ताह के उपरांत(कैनाइन डिस्टेंपर, हेपेटाइटिस, पार्वो वायरस, लेप्टोस्पायरोसिस, पैराइन्फ़्लुएन्ज़ा हेतु) 
२. बूस्टर खुराक या दूसरी खुराक - प्रथम खुराक के २-३ सप्ताह बाद ; फिर दूसरी खुराक के ठीक एक साल बाद वार्षिक खुराक साल में एक बार पूरी उम्र तक लगवाते रहना चाहिए। 
३. तीसरी खुराक - रेबीज वायरस हेतु- प्रथम खुराक जन्म के ३ माह के उपरान्त। 
४. बूस्टर खुराक या चौथी खुराक - तीसरी खुराक के २-३ सप्ताह बाद ; फिर तीसरी खुराक के ठीक एक साल बाद वार्षिक खुराक साल में एक बार पूरी उम्र तक लगवाते रहना चाहिए। 

५. क्या बूस्टर खुराक देना जरूरी होता है या नहीं?
जन्म के साथ ही माँ से प्राप्त एंटीबाडीज और प्रथम दूध से मिलने वाली सुरछा कवच कुछ सप्ताह तक नवजात के खून में मौज़ूद रह करअनेको बीमारयों से सुरछा प्रदान करती है परन्तु समय के साथ साथ इनकी मात्रा बच्चे के शरीर में कम होने लगती है। जिससे बीमारी होने की आशंका बढ़ जाती है इसलिए लगभग ४५ दिन के बाद टिका का प्रथम खुराक देते है यद्पि ये पता नहीं रहता की माँ से मिलने वाली सुरछा का असर किस स्तर का है जिससे आमतौर पर ये स्तर अधिक होने पर प्रथम खुराक से बच्चे के शरीर में टीकाकरण की गुणवत्ता को बाधित करती है, जो की पप्पस में रोगप्रतिरोधक क्षमता उत्पन्न करने में असक्षम हो जाता है इसलिए कुछ सप्ताह बाद टीकाकरण के दूसरी खुराक दे कर टीकाकरण से रोगप्रतिरोधक क्षमता करने के उद्देश्य को प्राप्त करते है ऐसी दूसरी खुराक को बूस्टर खुराक कहते है। 

६. क्या है टीकाकरण की सही खुराक देने के मात्रा:
डॉग चाहे किसी भी उम्र, भार, लिंग अथवा नस्ल के हों उनको समान मात्रा में टीकाकरण का खुराक दिया जाता है 

७. क्या है टीकाकरण का सही तरीका:
टीकाकरण खाल के नीचे:कैनाइन डिस्टेंपर, हेपेटाइटिस, पार्वो वायरस, लेप्टोस्पायरोसिस, पैराइन्फ़्लुएन्ज़ा तथा रेबीज जैसी बीमारियों की रोकथाम के लिए खाल के नीचे दिया जाता है
 नथुनों में:केनल कफ़ का टीकाकरण कुत्ते के नथुनों में दवा डाल कर किया जाता है

८. क्या सभी टीके एक ही प्रकार के होते है:कुत्तों में टीकाकरण दो प्रकार की होती है
 १. कोर टीकाकरण - टीकाकरण जो सभी कुत्तों के लिये आवश्यक है. यह उन बिमारीयों में दिया जाता है जो आसानी से फैलती हैं अथवा घातक होती हैं जैसे रेबीज, एडीनोवायरस, पार्वोवायरस, और डिस्टेंपर.
 २. नान कोर टीकाकरण – उपरोक्त ४ बिमाँरीयों (रेबीज, एडीनोवायरस, पार्वोवायरस, और डिस्टेंपर) के टीकाकरण को छोड़कर अन्य सभी नानकोर टीकाकरण माना जाता है | यह उन बिमाँरियों से सुरक्षा प्रदान करता है जो वातावरण के अनावरण अथवा जीवनचर्या पर निर्भर करती है जैसे लाइम डिजीज, केनलकफ और लेप्टोस्पाइरोसिस.

९. एक सफल टीकाकरण करने के बाद क्या फिर भी टीकाकरण विफल हो सकता है?हाँ। 
 टीकाकरण के विफलता के कारण कुत्ते में बीमारी होने के निम्नलिखित मुख्य कारण हो सकते है –
१. टीकाकरण के दौरान कुत्ते की रोगप्रतिरोधक क्षमता का सम्पूर्ण रूप से कार्य न करना |
२.आयु – कम उम्र के जानवरों की प्रतिरक्षा प्रणाली पूर्णतः विकसित नही होती और बड़े आयु के जानवरों की प्रतिरक्षा प्रणाली कई कारणों से अक्सर कमज़ोर या क्षीण हो जाती है |
३. मानवीय चूक (टीके का अनुचित संग्रहण या अनुचित मिश्रण)- टीकों का संग्रहण एवं इस्तेमाल भी निर्देशानुसार ही होना आवश्यक है | सूरज की रोशनी,गर्म तापमान टीके के प्रभाव को नस्ट कर सकता है | टीके का मिश्रण पशु में टीकाकरण के तुरंत पहले तैयार करना चाहिए | टीके खरीदने के पहले पता करना चाहिए कि टीकों को उचित तापमान एवं देखभाल से रखा गया है या नहीं |
४. डीवार्मिंग – टीकाकरण करने के पहले पेट के कीड़े मारने के लिए डीवर्मिंग करना आवश्यक है, वरना इस तरह का तनाव टीकाकरण के प्रभाव को कम कर सकता है |
५. गलत सीरोटाईप / स्टेन का इस्तेमाल – प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया बहुत विशिष्ट होती है | अतः टीके में होने वाली जीवाणु या विषाणु की सही स्टेन होनी चाहिए वरना उससे उत्पन्न होने वाली प्रतिरक्षा जानवर में सही तौर पर सुरक्षा नहीं कर पाती |
६. अनुवांशिक बीमारियाँ – कुछ जानवरों में आनुवंशिक बिमारियों की वजह से सभी रोगों के लिए प्रतिरोधक छमता सामान्य तौर पर कम ही उत्पन्न हो पाती है |
७. वैक्सीन की गुणवत्ता – टीके में प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रोत्साहित करने के लिए प्रयाप्त मात्रा में प्रतिजनी की मात्रा होना चाहिए वरना टीकाकरण के बाद प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया प्रयाप्त नहीं होती है |
८. पुराने या अवधि समाप्त टीके – पुराने टीकों में आवश्यक प्रतिजनी गुण समाप्त या कम हो जाता है | इस तरह के टीके लगाने से जानवरों को बेमतलब तनाव दिया जाता है |
९. टीकाकरण का अनुचित समय – टीका निर्माता के निर्देशों के अनुसार टीकाकरण का समय (उम्र एवं मौसम के अनुसार), लगाने का तरीका एवं मात्रा तथा दोबारा लगाये जाने की अवधि, इत्यादि निश्चित होता है |इन निर्देशों का पालन सही समय पर न करने से टीकाकरण विफल या निष्क्रिय हो जाता है |
१०. पोषण की स्तिथि- कुपोषण की वजह से जिन पशुओं में पोषक तत्वों की कमी रह जाती है उनमे टीकाकरण के बाद भी प्रतिरोधक छमता सामान्य तौर पे कम ही उत्पन्न हो पाती है |

10. क्या वैक्सीन लगते समय कुत्ते पर कोई दुस्प्रभाव हो सकते है? हाँ 
 कुछ कुत्तो प्रतिरोधक छमता अधिक सक्रिय होने की वजह से कुछ सामान्य लचण जैसे ज्वर, उल्टी, दस्त, लासीका ग्रंथियों का सूजना, मुख का सूजना, हीव्स, यकृत विफलता और कभी -कभी मौत भी हो सकती है।

1 person found this helpful
View All Feed