Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Book
Call
Dr. Rachna Verma  - Gynaecologist, Delhi

Dr. Rachna Verma

MBBS, DGO, DNB - Obstetrics and Gynecology

Gynaecologist, Delhi

26 Years Experience  ·  0 - 1000 at clinic
Book Appointment
Call Doctor
Dr. Rachna Verma MBBS, DGO, DNB - Obstetrics and Gynecology Gynaecologist, Delhi
26 Years Experience  ·  0 - 1000 at clinic
Book Appointment
Call Doctor
Submit Feedback
Report Issue
Get Help
Feed
Services

Personal Statement

Senior consultant gyanecologist and infertility specialist . She has been practicing since 1999 and has worked in some of the best hospitals, in and around Delhi, NCR. Dr Verma completed ......more
Senior consultant gyanecologist and infertility specialist . She has been practicing since 1999 and has worked in some of the best hospitals, in and around Delhi, NCR. Dr Verma completed MBBS in 1993 ,from Sardar Patel medical college ,Bikaner. Her belief in the investment of knowledge, and her eagerness to learn, led her to pursue DGO from the Rabindra Nath Medical college, Udaipur. She completed it in 1995, and then further went to earn a DNB degree from esteemed Sir Ganga Ram Hospital. Dr. Verma is also a proud member of National Academy of Medical Sciences (MNAMS) , and keeps herself acquainted with the latest advances in the field of Gyanecolgy and Obstetrics. Dr Verma has furthermore worked as Senior Resident ,in Lady Hardinge Medical College. With her vision ,hard work, determination and dedication , she strives to excel in whatever she does. She gets along with patients very well , and makes great effort in delivering the best possible medical care available. She is a sincere advisor and never misleads her patients. Dr Verma believes that practicing compassion brings happiness and therefore , is always empathetic and kind with her patients. She is very confident while dealing with complex cases , and takes quick and apt decisions. She values the importance of life , and goes out of the way to save it.She has an outstanding experience of over a decade. Her expertise includes, IVF, Infertility management, hormonal disturbances management, Obstetrics and Gynaecology. Infertility management is her key area of interest. She has received a special training of four years in infertility management from Sir ganga Ram Hospital. She is an expert in dealing cases of ectopic pregnancy, labour and its abnormalities, malpresentation and malposition, pre-eclempsia, retained placenta, cervical cancer screening ,PAP smear ,MTP , multiload, laparoscopic and hysteroscopic management of complex cases. Dr Verma is immensely respected by both patients and colleagues. Her strong belief and conviction is to give best ANTE NATAL CARE and to facilitate NORMAL DELIVERY.
More about Dr. Rachna Verma
Dr. Rachna Verma is a popular Gynaecologist in Vasant Kunj, Delhi. She has had many happy patients in her 25 years of journey as a Gynaecologist. She has done MBBS, DGO, DNB - Obstetrics and Gynecology. She is currently practising at Indian Spinal Injuries Center in Vasant Kunj, Delhi. Don?t wait in a queue, book an instant appointment online with Dr. Rachna Verma on Lybrate.com.

Lybrate.com has an excellent community of Gynaecologists in India. You will find Gynaecologists with more than 39 years of experience on Lybrate.com. You can find Gynaecologists online in Delhi and from across India. View the profile of medical specialists and their reviews from other patients to make an informed decision.

Info

Education
MBBS - SP Medical College, Bikaner - 1992
DGO - RNT Medical College - 1996
DNB - Obstetrics and Gynecology - Sir Gangaram hospital - 1999
Professional Memberships
National Academy of Medical Sciences

Location

Book Clinic Appointment with Dr. Rachna Verma

Indian Spinal Injuries Center

Sector C, Vasant Kunj. Landmark: Near Vasant Valley School & Opposite Vasant Kunj Police Station, DelhiDelhi Get Directions
...more

Imaging Point

1370, Ground Floor Sector C - Pocket 1, Vasant kunj Delhi, Landmark : Opposite to Flyover, DelhiDelhi Get Directions
0 at clinic
...more

Fortis Flt. Lt. Rajan Dhall Hospital - Vasant Kunj

Sector B, Pocket 1, Aruna Asaf Ali Marg,Vasant KunjNew Delhi Get Directions
  4.3  (114 ratings)
1000 at clinic
...more
View All

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr. Rachna Verma

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

Having oral sex is one of my great fantasy but I am confused, weather oral sex is safe or not? shall I insist my wife to have oral sex? does women really enjoy having anal sex?

Diploma in Family Medicine, Fellowship in Diabetology, Diploma in Diabetology, FCCP, MBBS
General Physician,
1 having oral sex is no harm if you do it cleanly. 2. Fantasy differ from individual to individual. If your wife is interested in oral sex, let her do otherwise do not pressure her. Sometimes woman develop fear for sex, so you decide. 3. Woman do not enjoy anal sex. 99 percent woman enjoy only in the front to the maximum. For fun, if interested you can have.
Submit FeedbackFeedback

I have done sex on 3 rd day of period and I ejaculated inside. Are there any chances to get pregnant?

BHMS
Homeopath,
I have done sex on 3 rd day of period and I ejaculated inside.
Are there any chances to get pregnant?
From 1 st day of menstrual cycle upto 7 days it's safe period in case of regular menstruating woman...soo there is no chance of pregnancy'
Submit FeedbackFeedback

Had unprotected sex with my bf, took ipill 27 hours later, the due date for my periods is in 5 days. What are the chances of me getting pregnant?

MBBS, MD - Obstetrtics & Gynaecology, FMAS, DMAS
Gynaecologist, Noida
Had unprotected sex with my bf, took ipill 27 hours later, the due date for my periods is in 5 days. What are the cha...
Hello, You have rightly taken the ipill on time. You should be protected. Wait for 5-7 days post ipill intake to allow withdrawal bleeding to start which shall indicate that you are pregnancy safe.
Submit FeedbackFeedback

I get periods after every two months from last 6 months I am distressed because of some professional issues I checked my thyroid it was normal I am anaemic as per my report how do I regulate my periods.

MD Hom., Certificate in Food and Nutrition, BHMS, Diploma In Yoga, PGDM
Homeopath, Indore
I get periods after every two months from last 6 months I am distressed because of some professional issues I checked...
Stress and anemia both are the major cause for your menstrual problem and its irregularities. You need to de - stress your life either by meditation, yoga, exercise or having a healthy diet. For anemia correction take jaggery, tomatoes, beetroot, carrots, green leafy vegetables, etc. We have medicine for your problem. If above advice didn't relieve you then we will go for medication do revert back for further consultation.
Submit FeedbackFeedback

My g. F had mc on 24-1 and we had sex on 6-02.. She normally have menstrual cycle of 5 days. We used condom but while pulling out tip of condom got stuck in her vagina and my penis was out of condom. I ejaculated near her vagina but wipe out sperm as fast as possible. To be sure she took I pill next day. Is there any chance of pregnancy.

B.Sc(hons), Physics, B.H.M.S., PGDIT (software Engg)
Homeopath, Delhi
My g. F had mc on 24-1 and we had sex on 6-02.. She normally have menstrual cycle of 5 days. We used condom but while...
wait and watch Medicine German reckeweg pulsatilla 200, single dose (4-5 drops in mouth) morning. to retrieve mens foood mixed fruit juice daily evening.
8 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I have urine problem. Heavy bleeding come with urine. Any dangerous problem please tell How to stop my bleeding?

BHMS
Homeopath, Indore
I have urine problem. Heavy bleeding come with urine. Any dangerous problem please tell How to stop my bleeding?
You should go for urine test 1 st. Give more information about your problem. Is you r on some medication. It may be urinary infection.
Submit FeedbackFeedback

Doctor I am not getting my periods since last 2 months only I see a color change for one day I checked betahcg and it was negative I'm feeling tired all the time with back pain I'm 33 yrs old and have no children got married on 2014. Please advise.

DHMS (Diploma in Homeopathic Medicine and Surgery)
Homeopath, Vadodara
Doctor I am not getting my periods since last 2 months only I see a color change for one day I checked betahcg and it...
Dear patient you are having hormonal imbalances which may be due to many things. Undergo following tests and get back to me 1. Ultrasonography of pelvis during 5-7th day of menses. 2. Blood tests; cbc, thyroid profile, s testosterone, s. Dht.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

अजवाइन के फायदे और नुकसान - Benefits and Side Effects of Ajwain in Hindi

MBBS, M.Sc - Dietitics / Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Delhi
अजवाइन के फायदे और नुकसान - Benefits and Side Effects of Ajwain in Hindi

अजवाइन, जिसका वैज्ञानिक नाम है ट्रैक्स्स्पर्मम कॉप्टिकम, अपियासी (उंबेलिफेरे) परिवार की एक झाड़ीनुमा वनस्पति है। यह बिशप की घास या कैरम के बीज के रूप में भी जाना जाता है। भारत में औषधीय और खाना पकाने के प्रयोजनों के लिए इसके बीज और पत्ते का उपयोग किया जाता है। यह पेट के दर्द का इलाज करने के लिए भारतीय परिवारों में एक लोकप्रिय उपाय है।
इसके बीजों में आहार फाइबर (11.9%), कार्बोहाइड्रेट (38.6%), टैनिन, ग्लाइकोसाइड, नमी (8.9%), प्रोटीन (15.4%), वसा (18.1%), सैपोनिन, फ्लावेन और फास्फोरस, कैल्शियम, लोहा और निकोटीनिक एसिड युक्त खनिज पदार्थ (7.1%) शामिल हैं। पेट के दर्द, ऐंठन, आंत्र गैस, अपच, उल्टी, उदर विस्तार, दस्त, ढीली मल, श्वास कष्ट और पेट में भारीपन जैसे विभिन्न स्वास्थ्य स्थितियों के लिए यह एक सामान्य घरेलू उपाय है।
 

अजवाइन के लाभ:
इसके कुछ महत्वपूर्ण पोषण और औषधीय स्वास्थ्य लाभों का उल्लेख नीचे दिया गया है:
1. सर्दी का इलाज: 
चिरकारी और आवर्तक ठंड के लिए, अजवाइन के तले हुए बीज 1-2 ग्राम की खुराक में 15-20 दिन के लिए लेने की सलाह दी जाती है। गुनगुने पानी के साथ अजवाइन के बीज चबाना खांसी के लिए भी एक अच्छा इलाज है।
2. अम्लता के लिए: अजवाइन के बीज में एंटी- हाइपरएसिडिटी गुण होते हैं। अम्लता के रोगी सुबह- सुबह या भोजन के बाद गुनगुने पानी और नमक के साथ अजवाइन का उपभोग कर सकते हैं। 10-15 दिन लिए जाने पर, यह अच्छे परिणाम दिखाते हैं।
3. अस्थमा के लिए:  गर्म पानी के साथ अजवाइन के बीज का उपभोग करने से शरीर को ठंड से तुरंत राहत मिलती है और खांसी और बलगम का निष्कासन होता है। यह ब्रोन्काइटिस और अस्थमा के उपचार के लिए भी उपयोगी है। अस्थमा से पीड़ित व्यक्ति अजवाइन और गुड़ का पेस्ट, 1 बड़ा चमचा दिन में दो बार ले सकता है।
4. पेट के दर्द के लिए: अजवाइन और छोटी मात्रा में नमक , गर्म पानी के साथ पीने पर अपच और पेट के दर्द के लिए काफी फायदेमंद है।
5. गुर्दा संबंधी विकारों के लिए: अजवाइन के बीज गुर्दे की पथरी के इलाज के लिए बहुत प्रभावी हैं। वे गुर्दा संबंधी विकारों के कारण दर्द का इलाज और कम करने में भी उपयोगी हो सकते हैं। 
6. मुंह की समस्याओं के लिए: अजवाइन बीजों को दांत दर्द का इलाज करने के लिए सिद्ध हैं। दाँत दर्द, खराब गंध और क्षय के उपचार के लिए, अपने मुंह को लौंग तेल, अजेवन तेल और पानी से रोजाना सॉफ करें।
7. एक्जिमा के लिए: एक पेस्ट बनाने के लिए गुनगुने पानी के साथ अजवाइन के बीज को पीस लें। इस पेस्ट को चेहरे या शरीर के किसी भी प्रभावित हिस्से पर लागू करें। इसके अलावा, अच्छे परिणाम के लिए कोशिश करें कि एजवेन पानी के साथ प्रभावित हिस्से को धोएँ।
8. गठिया के लिए: अजवाइन के बीज का तेल गठिया दर्द का इलाज करने के लिए एक बहुत ही उपयोगी तरीका है। गठिया दर्द से राहत पाने के लिए अजवाइन बीज के तेल के साथ नियमित रूप से प्रभावित जोड़ों पर मालिश करें।
9. वायरल संक्रमण और फ्लू के लिए: पानी में दालचीनी के साथ अजवाइन बीज उबाल लें। फ्लू का इलाज करने के लिए एक दिन में 4 बार पी लें।
10. शराब की लत के लिए: यह जड़ी बूटी उन लोगों के लिए भी फायदेमंद है जो शराब से छुटकारा चाहते हैं। रोजाना अजवाइन के बीज को चबाने से शराब की लालसा से छुटकारा मिल सकता है।
11. शुक्राणुओं की संख्या बढ़ाने के लिए: यह शुक्राणुओं की संख्या में सुधार करने और समय से पहले स्खलन का इलाज करने के लिए एक सिद्ध विधि है।
12. पिंपल मुक्त चेहरे के लिए: मुहासों के कारण होने वाले निशान को हल्का करने में अजवाइन के बीज बहुत उपयोगी हो सकते हैं। आप निशान को हटाने के लिए अपने चेहरे पर दही के साथ इसे लागू कर सकते हैं।
 

अजवाइन के दुष्प्रभाव
अजवाइन खाद्य मात्रा में सुरक्षित हैं। अजवाइन के बीज चिकित्सकीय खुराक में भी सुरक्षित हैं। हालांकि, अतिरिक्त राशि (प्रति दिन 10 ग्राम से अधिक) निम्नलिखित दुष्प्रभावों का कारण हो सकता है:
1. अम्लता
2. जलन का अहसास
3. मुंह के छालें

यदि आप निम्नलिखित स्थितियों में से किसी से पीड़ित हैं, तो आपको अजवाइन नहीं खाना चाहिए:
1. पेट में अल्सर
2. मुंह के छालें
3. सव्रण बृहदांत्रशोथ
4. आंतरिक रक्तस्राव
अजवाइन इन स्थितियों को बढ़ा सकते हैं और इन बीमारियों के लक्षणों में वृद्धि कर सकते हैं।

4936 people found this helpful

I love to watch my wife doing sex with strangers and joins in between. Now I want she do it with 3-4 men together, is this tendency is normal? We r happy, loving and confident couple married since 18 years and have three children. Please advice health and psycho point.

BASM, MD, MS (Counseling & Psychotherapy), MSc - Psychology, Certificate in Clinical psychology of children and Young People, Certificate in Psychological First Aid, Certificate in Positive Psychology
Psychologist, Palakkad
Dear Lybrate user. I understand. We call something abnormal when the incident or behavior is not acceptable to set social standards or unwritten rules. Your thought pattern and behavior is against the set social standards. But there are no written rules that this cannot be done. As long as you and your life do not have psychological stress, there is nothing wrong in this. But this is a psychic problem. Take care.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

कपूर के फायदे - Kapoor Ke Fayde in Hindi

MBBS, M.Sc - Dietitics / Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Delhi
कपूर के फायदे - Kapoor Ke Fayde in Hindi

कैम्फ़ॅ को  सिनामोमम कैम्फोरा  पेड़  से  निकाला  जाता  है  जो  कि  मुख्य  रूप  से  वियतनाम,  चीन  और  जापान  में  उगाया  जाता  है। यह भारत में कपूर के रूप में भी जाना जाता है और मुख्य रूप से पूजा के प्रयोजन के लिए इस्तेमाल किया जाता है. यह ऊनी कपड़े में भी रखा जाता है ताकि कपड़े की कीट को दूर रखा जा सके। कपूर आदर्श रूप से अपने चिकित्सीय गुणों के लिए जाना जाता है और सदियों से उपयोग किया गया है। 
कपूर के तेल के विभिन्न घटक पिनने, कैम्पेन, बी-पिनन, सबिनें, फेललैंडीन, लिमोनिन, 1,8-सिनेलाइन, वाई-टेरपिनीन, पी-सिंबेन, टेरपीनोलिन, फुरफ्यूरल, कैम्फोर, लिनलुल, बोर्निल एसीटेट, टेरपीनन -4-ओल, कैरियोफिलीन, बोर्नियोल, पीपरियोथोन , गेरानिनोल, सफेल, सिनामाल्डिहाइड, मिथाइल सिन्नमेट, यूगेनॉल हैं। 
कपूर के लाभ
1. त्वचा  पर खुजली  और  जलन  के  लिए: 
शांत  और सुगंधित  कपूर  का  उपयोग  त्वचा  की  खुजली  और  जलन  को  कम  करने  के  लिए  किया  जा  सकता  है। प्रभावित क्षेत्रों पर लगाने से, कपूर में मिश्रित तंत्रिका अंत को सक्रिय करता है, और यह एक सुखदायक सनसनी पैदा करता है। कपूर का उपयोग मामूली जलने के इलाज के रूप में भी किया जा सकता है और जले  के निशान को हटाने के लिए नियोजित किया जा सकता है।
2. मुँहासे का इलाज: यह  यौगिक  मुँहासे  के  लिए  एक  उत्कृष्ट  उपाय  माना  जाता  है  क्योंकि  यह  लाली  और  जलन  को  कम  करता  है।
3. नाखूनों में कवक का इलाज: कपूर  का  पेस्ट  का  उपयोग  करके  अपने  नाखूनों  में  कवक  की  वृद्धि  को  कम  कर  सकते  हैं। नाखून कवक जिद्दी हो सकती है और पुनरावृत्ति की प्रवृत्ति है। यह कवक की वापसी की संभावना भी कम करता है।
4. फटी एड़ियां ठीक करने के लिये: फटी एड़ियों से  राहत  के  लिए,  आपको  अपने  पैरों  को  कपूर  और  पानी  के  घोल में  भिगोना   चाहिए  और  फिर  पैरों  को  साफ़  करना  चाहिए। इसके बाद, आप उन पर क्रीम, मॉइस्चराइज़र या पेट्रोलियम जेली लागू कर सकते हैं। यह आपकी त्वचा को नम बनाए रखेगी और दरारें होने से रोकेंगी।
5. स्वस्थ, मजबूत और सुंदर बालों के लिए: कपूर  का  तेल  बाल की  जड़ों  को  फिर  से  सशक्त  कर  सकता  है। कपूर के तेल अंडे या दही के साथ बालों को बहुत आवश्यक पोषक तत्वों की आपूर्ति कर सकता है। जब कपूर के तेल को लैवेंडर और कैमोमाइल जैसे आवश्यक तेलों के साथ जोड़ा जाता है, तो यह बाल विकास को बढ़ावा दे सकता है। कपूर के तेल  का  आवधिक  उपयोग   बालों  की  बनावट  को  नरम  बनाने  और  बालों  के  झड़ने  से  लड़ने  में  सुधार  कर  सकता  है। 
6. गर्भवती महिलाओं के लिए: गर्भवती के पेट पर हल्के ढंग से मलाई करने से दर्द कम हो जाता है और मांसपेशियों की ऐंठन से मुक्ति मिल जाती है।
7. विंसकुलन के लिए: कपूर  के तेल की शक्ति और सुस्त सुगंध एक अच्छा डिकॉन्गेंस्टेंट हो सकता है। यह तुरंत नाक और फेफड़ों के जमाव को कम कर सकता है।
8. तंत्रिकाशूलरोधी: न्यूरलिया एक गंभीर दर्दनाक स्थिति है जिसमें आसपास के रक्त वाहिकाओं के सूजन के कारण नौवीं कपाल तंत्रिका पर प्रभाव पड़ता है। कपूर  के तेल से इसका भी इलाज किया जा सकता है। यह तेल रक्त वाहिकाओं के संकुचन का कारण बन सकता है, जिससे नौवीं कपाल तंत्रिका पर दबाव कम हो सकता है।
9. एक कामोद्दीपक के रूप में: कपूर  के तेल का सेवन, मस्तिष्क के उन भागों को उत्तेजित करके कामेच्छा को बढ़ाता है जो यौन इच्छाओं और आग्रह के लिए जिम्मेदार हैं। यह एक शक्तिशाली उत्तेजक है, इसलिए बाहरी रूप से लागू होने पर, यह प्रभावित भागों में रक्त परिसंचरण बढ़ाकर सीधा होने की समस्या का इलाज करने में मदद करता है।
10. एक शामक के रूप में: कपूर का तेल शरीर और मन को आराम देने में मदद कर सकता है। नहाने के पानी के साथ मिश्रित होने पर यह एक कायाकल्प प्रभाव प्रदान करता है।

4802 people found this helpful
View All Feed

Near By Doctors

Southend Fertility & Ivf

Fertility & IVF
Gynaecologist
Southend Fertility & IVF - Holy Angel Hospital, 
750 at clinic
Book Appointment
89%
(14 ratings)

Dr. Malvika Sabharwal

MBBS, DGO
Gynaecologist
Jeewan Mala Clinic, 
300 at clinic
Book Appointment
91%
(635 ratings)

Dr. Meenu Goyal

DGO, MBBS
Gynaecologist
Goyal'S Medical Centre, 
250 at clinic
Book Appointment
93%
(336 ratings)

Dr. Pooja Choudhary

MD - Obstetrtics & Gynaecology, MBBS
Gynaecologist
Rockland Hospital, 
300 at clinic
Book Appointment
87%
(42 ratings)

Dr. Neha Jain

MBBS, DGO
Gynaecologist
Dr.Jain Path Labs, 
300 at clinic
Book Appointment

Dr. Renu Misra

MBBS, MS - Obstetrics & Gynaecology
Gynaecologist
Sitaram Bhartia Institute Of Science & Research, 
300 at clinic
Book Appointment