Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Book
Call

Dr. Bharati Gosai

MBBS, MD - Pathology

Gynaecologist, Delhi

43 Years Experience  ·  0 - 200 at clinic
Book Appointment
Call Doctor
Dr. Bharati Gosai MBBS, MD - Pathology Gynaecologist, Delhi
43 Years Experience  ·  0 - 200 at clinic
Book Appointment
Call Doctor
Submit Feedback
Report Issue
Get Help
Feed
Services

Personal Statement

My favorite part of being a doctor is the opportunity to directly improve the health and wellbeing of my patients and to develop professional and personal relationships with them....more
My favorite part of being a doctor is the opportunity to directly improve the health and wellbeing of my patients and to develop professional and personal relationships with them.
More about Dr. Bharati Gosai
Dr. Bharati Gosai is a renowned Gynaecologist in Hari Nagar, Delhi. She has had many happy patients in her 43 years of journey as a Gynaecologist. She studied and completed MBBS, MD - Pathology . She is currently associated with Dr Bharti Nursing Home in Hari Nagar, Delhi. Save your time and book an appointment online with Dr. Bharati Gosai on Lybrate.com.

Lybrate.com has an excellent community of Gynaecologists in India. You will find Gynaecologists with more than 26 years of experience on Lybrate.com. You can find Gynaecologists online in Delhi and from across India. View the profile of medical specialists and their reviews from other patients to make an informed decision.

Info

Education
MBBS - University of Lucknow - 1975
MD - Pathology - University of Lucknow - 1981

Location

Book Clinic Appointment with Dr. Bharati Gosai

Dr Bharti Nursing Home

B-30, Hari Nagar. Landmark: Behind Deendayal Hospital, DelhiDelhi Get Directions
200 at clinic
...more

Dr Bharti Nursing Home

# B-30, Hari Nagar. Landmark: Behind Deendayal Hospital.Delhi Get Directions
0 at clinic
...more
View All

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr. Bharati Gosai

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

She will become a mother on august 2016. She has fatty stomach. My question is can her delivery be normal or surgical.

BHMS
Homeopath, Delhi
She will become a mother on august 2016. She has fatty stomach. My question is can her delivery be normal or surgical.
Delivery of baby not depend on weight. If there is no complications during pregnancy then delivery will be normal. If there is any complication during pregnancy then ceaserian will be done.
Submit FeedbackFeedback

Doctors please may I know what should be my weight according to my height so that I can exercise upto that. And if any tips to increase my height a little please guide me.

MBBS, DNB (Obstetrics and Gynecology), (MRCOG)
Gynaecologist, Chennai
Doctors please may I know what should be my weight according to my height so that I can exercise upto that. And if an...
Hi the ideal weight if you are 5ft is between 45-55 kg. Height if a person is determined by genes and there is nothing much that can be done. If you maintain you weight and not gain too much, you will look slim and tall. Take care.
4 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Lotus Root Benefits in Hindi - कमल ककड़ी के फायदे और नुकसान

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Lotus Root Benefits in Hindi - कमल ककड़ी के फायदे और नुकसान

कमल एक जलीय पौधा है और कमल का फूल हजारों सालों से एशियाई देशों में पाया जाता है. हमारे देश में इसका धार्मिक महत्त्व है. पवित्रता और दिव्य सौंदर्य का प्रतीक है. इसकी जड़ 4 फीट पानी के अंदर फैली होती है. इन्हें निकाल कर धोया, काटा और तैयार किया जाता है. हिंदी में इसे ही कमलककड़ी कहा जाता है. हर्बल दवाओं में प्राकृतिक या पाउडर के रूप में भी इसका प्रयोग किया जाता है. इसका उपयोग सलाद के रूप में भी किया जाता है. इसकी बनावट आलू की तरह होती है और इसका स्वाद थोड़ा मीठा और नारियल की तरह होता है. इसमें विटामिन, खनिज और फाइटोन्यूटरिएंट्स हैं जिनमें शामिल हैं पोटेशियम, फास्फोरस, तांबा, लोहा, मैंगनीज के साथ साथ थियामिन, पैंटोफेनीक एसिड, जस्ता, विटामिन बी 6, विटामिन सी. इसके साथ साथ यह फाइबर और प्रोटीन का बहुत ही महत्वपूर्ण स्रोत है. कमल ककड़ी के फायदे और नुकसान के लिए निम्लिखित बिन्दुओं का अध्ययन करें.

1. रक्त वर्धक के रूप में
कमल ककड़ी हमारे अंगों में ऑक्सीजन की वृद्धि करके रक्त के संचालन को उत्तेजित करके कार्यक्षमता और ऊर्जा के स्तर में वृद्धि करती है. इसमें मौजूद लौह और तांबा लाल रक्त कोशिका के उत्पादन को बढ़ाने और रक्त की कमी को पूरा करने के साथ साथ रक्त के प्रवाह में वृद्धि करने में मदद करता है.
2. कोलेस्ट्रॉल के नियंत्रण में
इसमें मौजूद पोटेशियम में रक्त वाहिकाओं को चौड़ा करने की सामर्थ्य होती है. इसमें कोलेस्ट्रॉल कम करने की क्षमता होती है. इसकी जड़ में मौजूद पाइरोडॉक्सिन रक्त में होमोसिस्टीन के स्तर को नियंत्रित करता है जो सीधे दिल के दौरे को जन्म दे सकता है.
3. मस्तिष्क को करे स्वस्थ
पोटेशियम हमारे शरीर में तरल पदार्थ के संतुलन को बनाए रखता है. यह रक्तप्रवाह में सोडियम के प्रभावों को कम करके है. यह रक्त वाहिकाओं को आराम देने और इसके संकुचन और कठोरता को कम करता है. पोटेशियम तंत्रिका गतिविधि का भी एक आवश्यक घटक है और मस्तिष्क में द्रव और रक्त के प्रवाह को बनाए रखता है.
4. श्वसन तंत्र के लिए
कमल की जड़ श्वसन प्रणाली के लिए लाभदायक है. यह श्वसन तंत्र को साफ करने और शक्ति प्रदान करने में मदद करती है. खांसी से राहत पाने के लिए इसकी चाय का सेवन किया जाता है क्योंकि यह बलगम को पिघला देती है.
5. रक्तचाप को करे नियंत्रित
इसमें पाया जाने वाला पोटेशियम हमारे शरीर में तरल पदार्थ के संतुलन को बनाए रखता है. यह रक्तप्रवाह में सोडियम के प्रभावों को कम करता है. यह रक्त वाहिकाओं को आराम देकर इसके संकुचन और कठोरता को कम करता है. पोटेशियम तंत्रिका गतिविधि का भी एक आवश्यक घटक है और मस्तिष्क में द्रव और रक्त के प्रवाह को बनाए रखता है.
6. गर्भवती महिलाओं के लिए
गर्भवती महिलाओं के लिए भी कमल ककड़ी के फायदे उपयोगी साबित होते हैं. इसमें मौजूद पोषक तत्व गर्भ में पल रहे बच्चे के विकास लिए बहुत लाभदायक होते हैं. इसलिए गर्भवती महिलाएं इसका इस्तेमाल कर सकती हैं.
7. पाचन में
कमल ककड़ी में फाइबर की प्रचुरता होती है जो मल त्याग के लिए बहुत अच्छा होता है. यह कब्ज के लक्षणों को कम करती है और पाचन और गैस्ट्रिक रस के स्राव के माध्यम से पोषक तत्व अवशोषण को अनुकूलित करती है.
8. प्रतिरक्षा प्रणाली को करे दुरुस्त
कमल ककड़ी में मौजूद विटामिन सी कोलेजन का एक महत्वपूर्ण घटक है जो रक्त वाहिकाओं के अंगों और त्वचा की अखंडता और शक्ति को बनाए रखता है और प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाता है. इसके अलावा विटामिन सी शरीर में फ्री रेडिकल्स को भी नष्ट कर सकता है.
9. वजन कम करने में
इसमें पोषक तत्व और फाइबर उच्च मात्रा में पाया जाता है और कैलोरी बहुत कम होती है. इसके सेवन से आवश्यक पोषक तत्वों की प्राप्ति होती है और हमारा पेट बहुत समय तक भरा हुआ महसूस करता है जिसके कारण हम अधिक खाने से बचते हैं और हमारा वजन कम होता है. इससे वजन कम होता है.
10. मधुमेह के उपचार में
इसमें पाया जाने वाला उच्च मात्रा में फाइबर शरीर में कार्बोहाइड्रेट के पाचन को कम करता है. इस प्रकार शरीर में चीनी अवशोषण की प्रक्रिया को धीमा होती है. कमल ककड़ी में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण मधुमेह से लड़ने में मदद करते हैं.
11. आँखों के लिए
इसमें मौजूद विटामिन ए त्वचा, बाल, और आँखों के स्वास्थ्य में सुधार करने के लिए महत्वपूर्ण है. इसमें एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है. यह मैक्यूलर डीजैनरेशन और अन्य स्थितियों को रोकने में मदद करती है.
12. त्वचा के लिए उपोगी
एंटीऑक्सिडेंटों में समृद्ध कमल की जड़ त्वचा के कंडीशनर के रूप में काम करती है. इसके उपयोग से त्वचा हाइड्रेटेड और मॉइस्चराइज रहती है और त्वचा मुलायम और चमकदार बनती है. यह त्वचा की फाइन लाइन्स को हटाने, ब्राउन स्पॉट्स और झुर्रियों को हटाने में मदद करती है.

कमल ककड़ी के नुकसान

  • इसको कच्चा खाने से परजीवी या बैक्टीरिया संक्रमण फैल सकता है.
  • यदि इससे किसी को एलर्जी है तो इसका सेवन नहीं करें.
     
10 people found this helpful

STDs - 5 Ways You Can Avoid Them

PG Dip (Sexual & Relationship Therapy), MRCPsych, Diploma in Psychological Medicine, MD - Psychiatry, MBBS
Sexologist, Bangalore
STDs - 5 Ways You Can Avoid Them

An STD is transmitted by means of physical contact and intercourse. These diseases are caused by parasites, virus or bacteria. Usually, STDs are preventable provided you make the right choices concerning your sexual health. Refraining from sex isn’t a feasible idea at all.

But fortunately there are alternatives too to curb the menace that STDs are:

  1. Abstain: The most effective way to avoid STIs is to abstain from sex.
  2. Mutual monogamy: Two people who have sex only with one another don’t have any opportunity to bring a new STD into the relationship. If you and your partner have been tested and are healthy, remaining faithful to each other is a very good way to reduce your chances of contracting an STD.
  3. Get Vaccinated: One important prevention tool against STIs is vaccination. Currently, vaccines are available to protect against infection with HPV, hepatitis A and hepatitis B. Talk to a healthcare provider to see which vaccines might be recommended for you.
  4. Protect Yourself: Condoms work really well in stopping most STIs from being passed from an infected partner to another when they are used consistently and correctly every time a person has oral, vaginal or anal sex. Consistently and correctly means that a person makes sure they use a condom every time they have oral, vaginal or anal sex and put it on and use it the right way.
  5. Avoid alcohol and drug use: Avoiding alcohol and recreational drug use reduce the risk of contracting an STI, having an unwanted pregnancy, or being coerced to have sex. Alcohol and drug use can reduce our ability to make good decisions. It may also make us more likely to be talked into participating in an activity without being able to give our full consent.

Coping and Support
It's traumatic to find out you have an STI. You might be angry if you feel you've been betrayed or ashamed if there's a chance you infected others. At worst, an STI can cause chronic illness and death, even with the best care in the world.

Between those extremes is a host of other potential losses trust between partners, plans to have children, and the joyful embrace of your sexuality and its expression. If in doubt, don't hesitate to visit a skin specialist or a physician.

3821 people found this helpful

My wife is pregnant she has second trimester 20 week my elder is advise me saffron provide to wife for baby fair colour is it truth but I have light dark color.

BHMS, MD - Homeopathy
Homeopath, Vijayawada
My wife is pregnant she has second trimester 20 week my elder is advise me saffron provide to wife for baby fair colo...
Even though that is not scientifically proved, it's ancient practice. Sometimes some things can followed to continue our ancient wisdom. Moreover it has good medicinal property.
Submit FeedbackFeedback

शरीर को नैचरल तरीके से डिटॉक्स करने वाले 7 खाद्द पदार्थ!

Ayurveda, Delhi
शरीर को नैचरल तरीके से डिटॉक्स करने वाले 7 खाद्द पदार्थ!

शरीर को नैचरल तरीके से डिटॉक्स करने वाले 7 खाद्द पदार्थ

निरोग रहने के लिए शरीर के भीतरी अवांछित विषाक्त पदार्थ (toxins) को निकालना भी बहुत ज़रूरी होता है, क्योंकि इसकी अधिकता शरीर के नियमित कार्य में बाधा उत्पन्न होता है । अगर आप नैचरल तरीके से डिटॉक्स (detox) करना चाहते हैं तो अपने डायट में डिटॉक्स फूड्स को शामिल करें। लेकिन क्या आपको पता है कि डिटॉक्स फूड्स कौन-कौन से हैं?

  1. अंडा- अंडा एक ऐसा अमिनो एसिड युक्त प्रोटीन फूड है जो शरीर से विषाक्त पदार्थ को निकालने में बहुत मदद करता है। इसलिए अपने ब्रेकफास्ट में रोज एक अंडा शामिल करना न भूलें।
  2. ओट्स- ओट्स एन्टीऑक्सिडेंट और घुलनशील फाइबर (soluble fibre) का सबसे अच्छा स्रोत होता है, जो लीवर से पित्त को निकालकर शरीर के प्रतिरक्षी कार्य (immune function) को उन्नत करने के साथ-साथ चयापचय (metabolism) के दर को बढ़ाने में भी मदद करता है।
  3. प्याज़ और लहसुन – ये नैचरल प्रोबायोटिक (probiotic) के स्रोत होते हैं जो अच्छे बैक्टिरीआ के उत्पादन में मदद करते हैं। यह प्रोबायोटिक शरीर के प्रतिरक्षी कार्य (immune function) को और अच्छी तरह से करने में मदद तो करते ही हैं साथ ही डिटॉक्स करने में भी सहायता करते हैं। 
  4. विटामिन बी वाले फूड्स- क्या आपको पता है विटामिन बी युक्त खाद्द पदार्थ हजम शक्ति बढ़ाकर शरीर के चयापचय (metabolism) के दर को बढ़ाने में मदद करते हैं? चयापचय अच्छी तरह होने पर शरीर से विषाक्त पदार्थ आसानी से निकल जाते हैं। विटामिन बी6 के लिए केला,विटामिन बी12 के लिए मछली और पोलट्री और विटामिन बी के लिए हरे पत्तेदार सब्ज़ियाँ खा सकते हैं। 
  5. बीन्स और मसूर दाल (lentils)- बीन्स और मसूर दाल प्रोटीन का स्रोत होने के साथ-साथ जिन्क और मैग्नेशियम से भरपूर होते हैं। इनके ये गुण शरीर के चयापचय (metabolism) के दर को बढ़ाकर शरीर के विषाक्त पदार्थ को निकालने में मदद करता है। 
  6. खट्टे फल- खट्टे फलों में जो एन्टीऑक्सिडेंट के गुण होते हैं वे शरीर को डिटॉक्सफाई (detoxify) करने में मदद करते हैं। खट्टे फलों (citrus fruits) में संतरा, मोसंबी और नींबू आदि आते हैं।
  7. दही- रोज दही खायें और निरोग रहें। क्योंकि दही खाने से शरीर में प्रोबायोटिक (probiotic) यानि अच्छे बैक्टिरीआ का उत्पादन होता है जो हजम शक्ति और चयापचय के दर को बढ़ाने के साथ-साथ शरीर से विषाक्त पदार्थ को निकालने में मदद करता है।
5 people found this helpful

Hello sir My girlfriend 20 year old She doing fingering 7-8 time in a day And she reached organism 8-9 times in a day Is it normal? Or Side effects I worried about that works Please tell me sir What side effects of excess fingering?

B.H.M.S,
Homeopath, Muzaffarpur
Hello sir
My girlfriend 20 year old
She doing fingering 7-8 time in a day
And she reached organism 8-9 times in a day...
Hello lybrate-user, excess fingering makes weakness in health. 2nd thing is by this act there may be chance of get infection of genito urinary tract. Out of above it makes spoil the carrear. It is a mental problem. If you feel need you contact me with detail of your girl friend then homoeopathic medicine will be adviced for her, which help her to get rid of this act. You sugest your girl friend to avoid junk, spicy, and non veg. Food. Take plain and vegeterian diet.
Submit FeedbackFeedback

Doctor prescribed me to use Yasmin 21 day tablet for irregular menses problem. I completed the pack and it's been already 2 days over but still I didn't get period. When can I expect my period and after how many days I should start the new pack.

MBBS
General Physician, Mumbai
Doctor prescribed me to use Yasmin 21 day tablet for irregular menses problem. I completed the pack and it's been alr...
You will be getting your periods after four days of last tablet intake and once you get your periods restart the course from fourth day.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

My wife age is 28 years five month old baby is with us after delivery my wife didn't have periods till now please tell me it happen or we should consultant any lady doctor for.

MRCOG, MD - Obstetrics & Gynaecology, DNB (Obstetrics and Gynecology), MBBS
IVF Specialist, Delhi
My wife age is 28 years five month old baby is with us after delivery my wife didn't have periods till now please tel...
Often when new mothers are breastfeeding their babies there is a period of time when the menses do not come. This is perfectly normal and you should wait for them to arrive on their own. Meanwhile it is important you do use some form of contraception and take proper precautions as many couples make the mistake of not using any contraception in the lactational period and think is it safe. There are still chances of getting pregnant so be careful.
26 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I have no thyroid and not there excess hair unwanted at my face or chest. I have irregular periods only doctor told cyst not there Egg not growing it is 4 mm to 7 mm size so taking ayurvedic medicines 3 months over now Healthy egg medicines tell me please Weight 60 kg Height 5.3.

MBBS, PG Diploma In Emergency Trauma Care, Fellowship in Diabetes
General Physician, Delhi
I have no thyroid and not there excess hair unwanted at my face or chest.
I have irregular periods only doctor told c...
Surely contact an IVF specialist immediately. Don't mind but Allopathic medicine has the best results. We can also guide you with the best people. Contact for more info.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback
View All Feed

Near By Doctors

93%
(235 ratings)

Dr. Seema

MBBS, DGO, MD - Obstetrics & Gynaecology, MRCOG
Gynaecologist
Srishti Health Care Centre, 
300 at clinic
Book Appointment
93%
(71 ratings)

Dr. Seema Sehgal

Art - Advance Course Infertility, MS - Obstetrics and Gynaecology, MBBS
Gynaecologist
Dr Seema Sehgal's Clinic, 
300 at clinic
Book Appointment
95%
(1170 ratings)

Dr. Gitanjali

MBBS, MS - Obstetrics and Gynaecology
Gynaecologist
Genesis Hospital, 
300 at clinic
Book Appointment
89%
(12 ratings)

Dr. Manika Khanna

MBBS , MD - Obstetrics & Gynaecology, Diploma in advanced gynaecological endoscopy
Gynaecologist
Gaudium IVF & Gynac Solution, 
500 at clinic
Book Appointment
91%
(1398 ratings)

Dr. Uma

MS- Gynaecology, MBBS
Gynaecologist
Mother Clinic, 
300 at clinic
Book Appointment

Southend Fertility & Ivf

Fertility & IVF
Gynaecologist
Southend Fertility & IVF - Sehgal Neo Hospital , 
750 at clinic
Book Appointment