Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Call Doctor
Book Appointment

Dr. Anjali

Gynaecologist, Delhi

Book Appointment
Call Doctor
Dr. Anjali Gynaecologist, Delhi
Book Appointment
Call Doctor
Submit Feedback
Report Issue
Get Help
Services
Feed

Personal Statement

My experience is coupled with genuine concern for my patients. All of my staff is dedicated to your comfort and prompt attention as well....more
My experience is coupled with genuine concern for my patients. All of my staff is dedicated to your comfort and prompt attention as well.
More about Dr. Anjali
Dr. Anjali is an experienced Gynaecologist in Laxmi Nagar, Delhi. Doctor is currently associated with Aditya Verma Nurshing Home in Laxmi Nagar, Delhi. Save your time and book an appointment online with Dr. Anjali on Lybrate.com.

Lybrate.com has an excellent community of Gynaecologists in India. You will find Gynaecologists with more than 32 years of experience on Lybrate.com. You can find Gynaecologists online in Delhi and from across India. View the profile of medical specialists and their reviews from other patients to make an informed decision.

Info

Specialty
Languages spoken
English
Hindi

Location

Book Clinic Appointment with Dr. Anjali

Aditya Verma Nurshing Home

32, Chitya Vihar Lakshmi Nagar. Landmark:-Near V3S Mall, DelhiDelhi Get Directions
...more
View All

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr. Anjali

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

Benefits of Curry Leaves - कढ़ी पत्ते के फायदे

MBBS, M.Sc - Dietitics / Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Delhi
Benefits of Curry Leaves - कढ़ी पत्ते के फायदे

कढ़ी पौधे का वैज्ञानिक नाम मुराया कोइनेगी स्प्रेंग है और यह रूटासी परिवार के अंतर्गत आता है। यह भारत के मूल है और आमतौर पर उष्णकटिबंधीय और उपोष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में पाया जाता है। चीन, ऑस्ट्रेलिया, नाइजीरिया और सीलोन जैसे अन्य देशों में इसकी खेती की जाती है। आम तौर पर कढ़ी पत्तों को स्वाद के लिए मसाले के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। आयुर्वेद में, माना जाता है कि कढ़ी पत्तियों में कई औषधीय गुण हैं जैसे मधुमेह, एंटीऑक्सिडेंट, एंटीमायोटिक, विरोधी भड़काऊ, विरोधी कार्सिनोजेनिक और हेपेटो-सुरक्षात्मक (क्षति से जिगर को बचाने की क्षमता) गुण।
यह  कार्बोहाइड्रेट,  ऊर्जा,  फाइबर,  कैल्शियम,  फास्फोरस,  लोहा,  मैग्नीशियम,  तांबे  और  खनिजों  जैसे  पोषक  तत्वों  में  समृद्ध  है। इसमें निकोटीनिक एसिड और विटामिन सी, विटामिन ए, विटामिन बी, विटामिन ई, एंटीऑक्सिडेंट, प्लांट स्टीरोल, एमिनो एसिड, ग्लाइकोसाइड्स और फ्लेवोनोइड जैसे विभिन्न विटामिन भी शामिल हैं। 
 

कढ़ी पत्ते के फायदे 
अधिकतर खाने के दौरान छोड़ दिया जातें हैं, लेकिन खपत करने पर वे कई स्वास्थ्य लाभ प्रदान कर सकते हैं, जैसे कि:
1. एनीमिया के लिए: कढ़ी पत्ते  लोहे  और  फोलिक  एसिड  का  समृद्ध  स्रोत  हैं। फोलिक एसिड मुख्य रूप से लौह अवशोषण के लिए जिम्मेदार है।
2. दस्त के लिए: कढ़ी पत्तों  अपच  समस्याओं  का  इलाज  करने  में  बहुत  प्रभावी  ढंग  से  मदद  करता  है। कढ़ी पत्तियों में मौजूद कारबज़ोल अल्कलॉइड्स में एंटी-अतिसार गुण होते हैं। कढ़ी पत्तों की चबाई दस्त और मितली का इलाज करने का एक अच्छा तरीका है।
3. पाचन के लिए: कढ़ी पत्तियों में कारमनेटिवे और हल्के रेचक गुण हैं और इस प्रकार, अपच के खिलाफ अत्यधिक प्रभावी हैं।
4. छाती और नाक में जमाव के लिए: यह विटामिन सी, ए और यौगिकों जैसे कैम्फेरोल जो कि एक बहुत ही शक्तिशाली एंटी-सूजन, विसंकुलक और एंटीऑक्सीडिव एजेंट है, के साथ पैक है। यदि आप एक गीली खाँसी, साइनसाइटिस या छाती में जमाव से पीड़ित हैं, कढ़ी पत्तियों से श्लेष्म के जमाव को रिलीज करने में मदद मिल सकती है।
5. दृष्टि के लिए: कढ़ी पत्ते में उच्च मात्रा में विटामिन ए होता है और इसलिए दृष्टि के लिए अच्छा है।
6. रक्त शर्करा के स्तर को बनाए रखने के लिए: कढ़ी पत्ते इंसुलिन गतिविधि को प्रभावित करके रक्त शर्करा के स्तर को कम कर देते हैं। 
7. कीमोथेरपी के दुष्प्रभावों को कम कर सकते हैं: कढ़ी पत्तों  में  कीमोथेरेपी  और  रेडियोथेरेपी  के  खराब  प्रभाव  से  शरीर  की  रक्षा  करने  की  अद्भुत  क्षमता  होती  है। यह न केवल क्रोमोसोम और अस्थि-मज्जा को नुकसान से बचाता है बल्कि शरीर में मुक्त कणों का उत्पादन भी रोकता है।
8. कैंसर के लिए: कढ़ी पत्तों में पाए जाने वाले रासायनिक घटकों जैसे फ़िनॉल ल्यूकेमिया, प्रोस्टेट और कोलोरेक्टल जैसे कैंसर से लड़ने में सहायक होते हैं।
9. लंबे, स्वस्थ और सुंदर बालों के लिए: कढ़ी पत्ते हमेशा बाल के भूरे होने को रोकने में मदद करने के लिए जाना जाता है। यह क्षतिग्रस्त बालों, लंगड़ा बालों को बाउंस जोड़ने, पतले बालों की शाफ्ट को मजबूत करने, बाल गिरने और रूसी का इलाज करने में बहुत प्रभावी है। कढ़ी पत्ते बालों को पोषक तत्वों की विस्तृत श्रृंखला प्रदान करते हैं जो कि रोम को मजबूत करने में सहायता करता है। कढ़ी पत्ते में उच्च मात्रा में विटामिन बी 6 होते हैं, जो बालों के झड़ने या नुकसान को रोकने के लिए बालों के लिए हार्मोन को नियंत्रित करने में सक्षम है। इसलिए, उनके पास बालों की जड़ और बाल शाफ्ट दोनों को मजबूत करने की क्षमता है।
कढ़ी पत्ते बालों के विकास के लिए एक महान उत्तेजक के रूप में भी काम करते हैं। तेल में मिलाकर सूखी कढ़ी पत्ती पाउडर अपने बालों को एक त्वरित मालिश के साथ लागू किया जा सकता है। 
10. कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करता है: एंटीऑक्सिडेंट्स से भरा, कढ़ी पत्ते कोलेस्ट्रॉल के ऑक्सीकरण को रोक के एलडीएल कोलेस्ट्रॉल को बनने से रोकते हैं। यह बदले में अच्छे कोलेस्ट्रॉल (एचडीएल) की मात्रा बढ़ाने में मदद करता है और आपके शरीर को हृदय रोग और एथेरोस्लेरोसिस जैसी स्थितियों से बचाता है।

3795 people found this helpful

I am 24 years old girl. I have problem of irregular periods from starting time if d periods.

MBBS
Sexologist, Panchkula
I am 24 years old girl. I have problem of irregular periods from starting time if d periods.
You have irregular periods. I advise you to do meditation for mental strength by doing slow and deep breathing relaxation exercises in the morning. Take proper balanced vegetarian diet. Take 8 to 10 glasses of water daily. Avoid non veg and eggs. Follow this and give feedback.
127 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Women's Health

MD - Obstetrtics & Gynaecology, MBBS, FNB Reproductive Medicine, MRCOG
IVF Specialist, Mumbai
Women's Health

During the fifth month of your pregnancy, your breasts may begin to leak a yellowish fluid called colostrum in preparation for breastfeeding.

1 person found this helpful

Dull Sex Life - 5 Tips For You

Bachelor of Ayurveda, Medicine & Surgery (BAMS)
Sexologist, Lucknow
Dull Sex Life - 5 Tips For You

Sex life can get pretty monotonous and listless after a point of time, especially in a faithful and long marriage. Pent up sexual frustration is never healthy for the longevity of any marriage, and they must be given proper release. Fulfilling sexual fantasies is a good way to spice up your sex life because they help you channel all that you deem sexually attractive and through role playing or through sex toys, you can regain the lost libido. Here are some of the techniques you can resort to conjure your sexual fantasies
- Be adventurous
Sex in kitchen or bathroom has proven to be rougher and hence more adventurous than in the bedroom. Travelling to an exotic place and romantic hotels also yield similar results because psychologically it transports you to a different setting.
- Try role playing
Role playing and bondage claim has been proven to help a lot of people get over their lack luster sex lives. This requires you to make an effort and be imaginative while thinking of roles to play that would entice your partner and get you in the mood as well. Dressing up is a common starting point for role playing games. While the submissive-dominant dynamic has statistically been the most effective, don't be afraid to try out new weird stuff. Sexual preferences vary from one person to another.
- Sex toys
Sex toys can take the edge off in the building up of sexual tension. There are an innumerable number of sex toys available in the market for both men and women. Simple blindfolds, handcuffs and feather whips can induce a new spark in your dull sex life. 
- Communicate more
Be frank with your partner about your sexual fantasies and encourage him/her to open up about theirs too. During intercourse, be vocal about what you want to be done to you. For example, if you both are foodies, eating off of each other's body can be a huge enhancement factor.
- Try unconventional ways
Reading erotic fiction and even watching erotic films together can also help connect your sexual fantasy with reality. Wearing sexy lingerie or stripping can work for a lot of people too. In case you have a concern or query you can always consult an expert & get answers to your questions!

8767 people found this helpful

गठिया का दर्द (Rheumatism)

M.Sc - Psychology, PGDEMS, Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Delhi
गठिया का दर्द (Rheumatism)

परिचय :
गठिया रोग को आमवात, संधिवात आदि नामों से भी जाना जाता है। इस रोग में सबसे पहले शरीर में निर्बलता और भारीपन के लक्षण दिखाई देते हैं। इस रोग के होने पर हाथ के बीच की उंगलियों में दर्द होता है। अगर इसका इलाज नही किया जाता तो हाथ की दूसरी उंगलियों में भी सूजन व दर्द होने लगता है। गठिया रोग होने पर शरीर की हडि्डयों में दर्द होता है, जिसके कारण रात को रोगी सो भी नहीं पाता है।
कारण :
तेज मसालों से बना भोजन (फास्ट फूड), गर्म भोजन, ठंडी चीजों का अधिक सेवन करने से पेट में गैस पैदा होती है जिसके कारण यह रोग उत्पन्न होता है। जब भोजन आमाशय में जाकर अधपचा रह जाता है तो भोजन का अपरिपक्व रस जिसे `आम´ कहते हैं वो त्रिक (रीढ की हड्डी का निचला हिस्सा) की हडि्डयों में जाकर वायु के साथ दर्द उत्पन्न करता है। इसी रोग को गठिया का रोग कहते हैं। चिकित्सकों के अनुसार- यह रोग भोजन के ठीक से पचने से पहले पुन: भोजन कर लेने से, प्रकृति-विरूद्ध पदार्थों को खाने से, अधिक शीतल और वसायुक्त खाद्य-पदार्थों का सेवन करने से उत्पन्न होता है।
गठिया का रोग दांत गन्दे रहना, भय, अशान्ति, शोक, चिन्ता, अनिच्छा का काम, पानी में भीगना, ठंड लगना, आतशक, सूजाक, अधिक स्त्री सहवास (संभोग), ठंडी रूखी चीजें खाना, रात को अधिक जागना, मल-मूत्र के वेग को रोकना, चोट लगना, अधिक खून बहना, अधिक श्रम, मोटापा आदि कारणों से होता है। यह रोग खून की कमी, शारीरिक कमजोरी तथा बुढ़ापे में हड्डियों की चिकनाई कम होने के कारण भी उत्पन्न होता है। इस रोग में दर्द या तो बाएं या दाएं घुटने में अथवा दोनों घुटनों में होता है। रोगी को बैठने के बाद खड़े होने में तकलीफ होती है और रात के समय रोग बढ़ जाता है। सर्दी तथा वर्षा के मौसम में यह रोग दर्द के साथ रोगी को व्याकुल कर देता है एवं चलने-फिरने, उठने-बैठने में तकलीफ पैदा करता है। रोगी के घुटने कड़े हो जाते हैं और उनमें कभी-कभी सूजन भी हो जाती है।
लक्षण :
भोजन का अच्छा न लगना, अधिक आलस आना, बुखार से शरीर के विभिन्न अंगों में सूजन, कमर और घुटनों में तेज दर्द जिसके कारण रोगी रात को सो नही पाता है आदि गठिया रोग में होने वाले लक्षण है। इसके अलावा इस रोग में रोगी के हाथ-पांव की अंगुलियों में सूजन होती है जिससे अंगुलियां सीधी नही होती है, शरीर के दूसरे भागों में सूजन व दर्द रहता है। इस रोग के होने पर जोड़ो व मांसपेशियों में दर्द रहता है।
भोजन तथा परहेज :
एक वर्ष पुराने चावल, जंगली पशु-पक्षियों के मांस का सूप, एरण्डी का तेल, पुरानी शराब, लहसुन, करेला, परवल, बैंगन, सहजना, लस्सी, गोमूत्र, गर्म पानी, अदरक, कड़वे एवं भूख बढ़ाने वाले पदार्थ, साबूदाना, तथा बिना चुपड़ी रोटी का सेवन करना गठिया रोग में लाभकारी है। इस रोग में फलों का सेवन और सुबह नंगे पैर घास पर टहलना रोगी के लिए लाभकारी होता है। गठिया रोग में रात को सोते समय एक गिलास दूध में जरा-सी हल्दी डालकर पीने से लाभ मिलता है।
उड़द की पिट्ठी की कचौडी तथा बड़ी मछली, दूध, दही, पानी, गर्म (मसालेदार) भोजन, रात को अधिक देर तक जागना, मल-मूत्र के वेग को रोकना आदि गठिया रोग में हानिकारक है। मूली, केला, अमरूद, कटहल, चावल, लस्सी एवं गुड़ आदि का प्रयोग भी इस रोग में हानिकारक है। इस रोग में रोगी को भूख से एक रोटी कम खानी चाहिए और ठंडी वस्तुओं का सेवन कम करने चाहिए। रोगी को शरीर को अधिक थकाने वाले कार्य नहीं करने चाहिए तथा खाने के बाद बैठकर पढ़ने-लिखने का कार्य भी अधिक नहीं करना चाहिए।
6 people found this helpful

I do sex mostly without protection is there any disease that occur what should i do?

MBBS
General Physician,
If you r doing with your wife then its safe but if you r doing with others then you hv to take precaution.
Submit FeedbackFeedback

I am not getting periods I don't have hormone problem and pcod. I am 17 years old and my weight is 65.

Advanced Aesthetics
Ayurveda, Gulbarga
I am not getting periods I don't have hormone problem and pcod. I am 17 years old and my weight is 65.
iregular menses cuases infertility and weightgain and many symptoms ..., such as eating disorders, significant weight loss or gain, anemia, menopause, thyroid disorders, hormonal imbalance, liver disease, tuberculosis, irritable bowel syndrome, diabetes, recent birth or miscarriage, polycystic ovarian syndrome, uterine abnormalities, and other health conditions. Lifestyle triggers like increased exercise, smoking, alcohol abuse, caffeine, travel, stress, and certain medications and birth control pills can also contribute to this problem. Treatmet home remedies Aloe Vera Aloe vera helps treat menstrual irregularities naturally by regulating your hormones. 1. Extract fresh aloe vera gel from an aloe leaf. 2. Mix in one teaspoon of honey. 3. Consume it daily before having your breakfast. 4. Follow this remedy for about three months. Note: Do not use this remedy during your periods Turmeric Being a warming herb, turmeric is also considered helpful in regulating menstruation and balancing hormones. Its emmenagogue properties help stimulate menstrual flow. Moreover, its antispasmodic and anti-inflammatory properties relieve menstrual pain. ? Consume one-quarter teaspoon of turmeric with milk, honey or jaggery. Take it daily for several weeks or until you see improvement. ? You can also take turmeric in supplement form; consult your doctor for proper dosage A combination of dried mint and honey serves as a good Ayurvedic remedy for irregular menstrual periods. It also helps ease menstrual cramps. 1. Simply consume one teaspoon of dried mint powder mixed with one teaspoon of honey. Repeat three times a day for several weeks Edit Answer
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Have not got my period this month yet. Got last period on 21 March. But today my HCG blood test report result came out to be 1.20. Am I pregnant or no?

BASM, MD, MS (Counseling & Psychotherapy), MSc - Psychology, Certificate in Clinical psychology of children and Young People, Certificate in Psychological First Aid, Certificate in Positive Psychology, Positive Psychiatry and Mental Health
Psychologist, Palakkad
Have not got my period this month yet. Got last period on 21 March. But today my HCG blood test report result came ou...
Dear user. I can understand. If you have irregular period or are not sure when you ovulated, you can do a URINE HOME PREGNANCY TEST 14 days after you last had unprotected sex. However for accuracy of result, it is recommended to do the test 21 days after intercourse. To TEST PREGNANCY AT HOME simply add urine to a small piece of soap, if froth forms, or if the soap bubbles up, the test is positive. Mix ¼ cup of tuna juice and ¼ cup of vinegar in a plastic cup. Now pee in a separate cup and then add your urine to this mixture. After a few minutes, if the color changes to green, then you are pregnant. Take care.
Submit FeedbackFeedback

Hai doctor. I am 4 months pregnant now. Is it good to take Mother's hairloss or shud I consult with my gynecologist? Is there any side effects in taking Mother's Horlicks?

DNB, DGO, MD
Gynaecologist, Delhi
Hai doctor. I am 4 months pregnant now. Is it good to take Mother's hairloss or shud I consult with my gynecologist? ...
You may take it but it's better to eat healthy food and more of proteins rather than supplements. All the best.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback
View All Feed

Near By Doctors

87%
(31 ratings)

Dr. Aaditi Sharma Acharya

MBBS, DGO
Gynaecologist
Women Wellness Clinic, 
200 at clinic
Book Appointment
90%
(332 ratings)

Dr. Smriti Uppal

DNB (Obstetrics and Gynecology), DGO, MBBS Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery
Gynaecologist
Narula Medicare Centre, 
300 at clinic
Book Appointment
87%
(19 ratings)

Malik Radix Health Care

MBBS
Gynaecologist
Malik Radix Healthcare, 
500 at clinic
Book Appointment

Dr. Renu Malik

MD (Obst. & Gynecology), MBBS
Gynaecologist
Malik Radix Healthcare, 
0 at clinic
Book Appointment
86%
(30 ratings)

Dr. Shalini Tiwari

MBBS, DGO, DNB (Obstetrics and Gynecology), FMAS, FAM
Gynaecologist
Dr. S.Tiwari Residential Clinic(Uro-Gynae Center), 
200 at clinic
Book Appointment
89%
(55 ratings)

Dr. Sharda Jain

FIMSA, FICOG, MNAMS (Obstetrtics & Gynaecology) , MD - Obstetrics & Gynaecology, MBBS
Gynaecologist
Lifecare Centre , 
350 at clinic
Book Appointment