Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Book
Call

Goyal Medicare Centre

Ophthalmologist Clinic

3/51, Ram Gali, Vishwas Nagar, Shahdara. Landmark:- Near Karkadooma Court, Delhi
1 Doctor · ₹200
Book Appointment
Call Clinic
Goyal Medicare Centre Ophthalmologist Clinic 3/51, Ram Gali, Vishwas Nagar, Shahdara. Landmark:- Near Karkadooma Court, Delhi
1 Doctor · ₹200
Book Appointment
Call Clinic
Report Issue
Get Help
Feed
Services

About

It is important to us that you feel comfortable while visiting our office. To achieve this goal, we have staffed our office with caring people who will answer your questions and help you ......more
It is important to us that you feel comfortable while visiting our office. To achieve this goal, we have staffed our office with caring people who will answer your questions and help you understand your treatments.
More about Goyal Medicare Centre
Goyal Medicare Centre is known for housing experienced Ophthalmologists. Dr. C M Chopra, a well-reputed Ophthalmologist, practices in Delhi. Visit this medical health centre for Ophthalmologists recommended by 49 patients.

Timings

MON-SAT
09:30 AM - 01:30 PM

Location

3/51, Ram Gali, Vishwas Nagar, Shahdara. Landmark:- Near Karkadooma Court,
Shahdara Delhi, Delhi - 110032
Get Directions

Doctor in Goyal Medicare Centre

Dr. C M Chopra

Ophthalmologist
200 at clinic
Available today
09:30 AM - 01:30 PM
View All
View All

Services

Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Goyal Medicare Centre

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

Eye Health

MBBS, MS
Ophthalmologist, Navi Mumbai
Eye Health
  • Hello all. Its smog everywhere. And so is allergic conjunctivitis, symptoms are itching redness eyelid swelling and eye discharge,
  • Do not worry, do not rub, just apply ice compresses. Wash with clean cold water and use lubricating eye drops. If very severe then visit an eye doctor.
1 person found this helpful

My eyesight is too weak. So. I am worried about it. I am using spectacles also but this is waste. My eyes still weak. Please do something about this problem.

BAMS
Ayurveda, Navi Mumbai
My eyesight is too weak. So. I am worried about it. I am using spectacles also but this is waste.
My eyes still weak....
You can take Ayurveda treatment called as Netra basti. It will increase strength of eyeballs and improve eyesight. Eat 1 tsf butter with sugar daily. Eat carrot, beetroot and awala for eyesight improvement.
Submit FeedbackFeedback

How long will LASIK last if my vision is- 4.75& -11.75 and I'm 17 years old right now should I go for it by 18?

MBBS
General Physician, Mumbai
How long will LASIK last if my vision is- 4.75& -11.75 and I'm 17 years old right now should I go for it by 18?
You can go for lasik surgery after 20 years of age and at 40 years of age you will have to wear spectacles for reading purposes
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

My son age is 9 year he got his eyes test and number is 1 in left eye as spherical and 1.25 in right spherical. Can he get rid of this.

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lucknow
My son age is 9 year he got his eyes test and number is 1 in left eye as spherical and 1.25 in right spherical. Can h...
Mr. lybrate-user, there are no. Of ayurvedic medicine which help to improve eyesight as well as reduce power. Like taking triphala ghrit one spoon with milk in the morning is one of the best cure. For proper guidance consult me.
Submit FeedbackFeedback

Glaucoma (Kala Motia)

MBBS Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery, DOMS
Ophthalmologist, Faridabad
Play video

Are You at the Risk For Glaucoma?

1 person found this helpful

Treatment of Eye Weakness - आँखों की कमजोरी का इलाज

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Treatment of Eye Weakness - आँखों की कमजोरी का इलाज

आँखें ही हमारे शरीर का वो अंग है जिससे हम इस दुनिया को पूरी तरह महसूस कर सकते हैं. आँखों के बिना सब कुछ अजीब लगता है. जाहिर है कई लोगों के पास प्राकृतिक रूप से और कुछ लोग दुर्घटनावश आँखें नहीं होतीं. इसलिए उनका जीवन थोड़ा मुश्किल हो जाता है. इसलिए हमें हमारी आँखों के लिए कुछ विशेष सावधानियां बरतनी पड़ती हैं. आँखें हमारे शरीर का सबसे महत्वपूर्ण और खूबसूरत हिस्सा हैं. इसलिए आँखों की देखभाल अत्यंत आवश्यक है. दृष्टि होने से हम अपने चारों ओर एक रंगीन और विविध दुनिया देख पाते हैं और स्पष्ट रूप से देखने की क्षमता सब कुछ बेहतर बना देती है. आपको बता दें कि आँखों की माशपेशियां शरीर में सबसे अधिक क्रियाशील होती हैं. तो इसलिए आइए हम अपने बेहतर दृष्टि के लिए कुछ महत्वपूर्ण प्राकृतिक तरीके जानें.

  • आंवला: आँवला रेटिना की कोशिकाओं के समुचित कार्य को भी सुनिश्चित करता है. आँवला विटामिन ए, सी और एंटीऑक्सीडेंट के साथ समृद्ध होता है और आँखों की देखभाल के लिए बहुत अच्छा है. आप आँवले का कच्चे रूप में या एक अचार के रूप में भी उपभोग कर सकते हैं. आप स्वस्थ आँखों के लिए एक गिलास आँवले का रस हर दिन पी सकते हैं.
  • सौंफ: सौंफ एक अद्भुत महान जड़ी बूटी है जो प्राचीन रोम के लोगों द्वारा दृष्टि के लिए प्रयोग की गई थी. यह पोषक तत्वों और एंटीऑक्सीडेंट के साथ भरी हुई है जो दृष्टि में सुधार कर सकते हैं. रात का खाना खाने के बाद, आप हर रात कुछ चीनी के साथ सौंफ खा सकते हैं और इसके बाद गर्म दूध का एक गिलास ले सकते हैं.
  • पर्याप्त नींद: आपकी कीमती आँखों को समुचित आराम चाहिए होता है. आपको यह सुनिश्चित करने की ज़रूरत है कि आप उन्हें सीमा से परे थकने ना दें. उचित विश्राम के लिए दैनिक 7-8 घंटे की एक अच्छी नींद लें. नींद आँखों के तनाव से छुटकारा पाने और आपको ताज़ा रखने में मदद करती है. रात में देर तक जागना आपकी दृष्टि खराब कर सकता है.
  • ब्लू बेरी: यह एक जड़ी बूटी है जो एंटीऑक्सीडेंट के साथ भरी हुई है. यह रेटिना को उत्तेजित करती है और दृष्टि में सुधार भी करती है. यह विभिन्न नेत्र विकारों से भी सुरक्षा प्रदान करती है. जैसे मांसपेशियों का अध यह फल विशेष रूप से अच्छा है और बेहतर नेत्र दृष्टि के लिए आहार में शामिल किया जा सकता है.
  • आँखों का व्यायाम: एक आरामदायक स्थिति में बैठें और अपने अंगूठे के साथ अपने हाथ को बाहर खींछे. अब अपने अंगूठे पर ध्यान केंद्रित करें. हर समय ध्यान केंद्रित करते हुए, जब तक आपका अंगूठा आपके चेहरे के सामने लगभग 3 इंच तक ना आ जाए और फिर दूर करें जब तक आपका हाथ पूरी तरह से फैल ना जाए. कुछ मिनटों के लिए यह करें. यह व्यायाम ध्यान केंद्रित करने और आंख की मांसपेशियों में सुधार लाने में मदद करता है. एक और उपयोगी व्यायाम है, अपनी आँखो को बाएं किनारे से दाहिने किनारे तक ले जाएं, फिर ऊपर की तरफ भौं केंद्रित करें और फिर नीचे की ओर नाक की नोंक पर देखें.
  • सूखे मेवे: सूखे मेवे और नट्स खाना भी आँखों के लिए फायदेमंद होता है. नट्स जैसे बादाम में ओमेगा -3 फैटी एसिड और विटामिन ई होता है जो आंखों के लिए अच्छा है. यह भूख को संतुष्ट कर जंक फूड की जगह इस्तेमाल किया जा सकता है.
  • हरी सब्जियां: एक बहुत अच्छे नेत्र स्वास्थ्य को बनाए रखने में पालक, चुकंदर, मीठे आलू, शतावरी, ब्रोकोली, वसायुक्त मछली, अंडा आदि अन्य खाद्य पदार्थ भी फायदेमंद होते हैं.
  • गाजर: गाजर आँखों के लिए एक बेहतरीन खाद्य पदार्थ है, जिसमे विटामिन ए होता जो आँखों के लिए फायदेमंद है. अच्छे नेत्र स्वास्थ्य के लिए एक नियमित आधार पर गाजर का सेवन करते रहें. आप हर दिन एक गिलास गाजर के रस को भी पी सकते हैं.
4 people found this helpful

Motiyabind ka Treatment - मोतियाबिंद का इलाज

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Motiyabind ka Treatment - मोतियाबिंद का इलाज

हमारे देश में एक ऐसी बीमारी है जो ज्यादातर बुजुर्ग लोगों में देखा जाता है इनमें से भी महिलाओं की संख्या ज्यादा होती है. मोतियाबिंद की बीमारी भरोसा हमारी आंखों के लेंस में धुंधलापन आने के कारण होती है. इससे हमारी आंखों में देखने की क्षमता में कमी आ जाती है. ऐसा तब होता है जब आंखों में प्रोटीन के गुच्छे जमा होने लगते हैं और यह गुच्छे बैलेंस को रेटिना का स्पष्ट चित्र भेजने से भेजने में बाधा पहुंचाते हैं. दरअसल रेटिना लेंस के माध्यम से संकेतो में प्राप्त होने वाली रोशनी को परिवर्तित करने का काम करता है. यह संकेत को ऑप्टिक तंत्रिका तक पहुंचाकर फिर उन्हें मस्तिष्क में ले जाता है मोतियाबिंद की बीमारी अक्षर धीरे-धीरे विकसित होती है और यह दोनों आंखों को प्रभावित कर सकती है इसमें रंगों का फीका देखना धुंधला दिखना प्रकाश की चाल रोशनी जैसी परेशानियां उत्पन्न हो सकती हैं. मोतियाबिंद में न्यूक्लियर मोतियाबिंद महिलाओं में ज्यादा देखने में आता है. आइए अब हम मोतियाबिंद के उपचार के बारे में समझें.
मोतियाबिंद का उपचार

  • मोतियाबिंद उपचार मरीज के दृष्टि के स्तर पर आधारित है. इस जांच के स्तर को देखने के बाद अगर मोतियाबिंद दृष्टि को कम प्रभावित करता है या बिल्कुल नहीं करता तो कोई इलाज की आवश्यकता नहीं होती. ऐसे मरीजों को ये सलाह दी जाती है कि अपने लक्षणों का ध्यान रखें और नियमित चेक-अप कराते रहें.
  • कई बार ऐसा होता है कि चश्मा बदलने मात्र से ही दृष्टि में अस्थायी सुधार हो जाता है. इसके अलावा, चश्मा के लेंस पर एंटी-ग्लेयर की परत लगवाने से रात में ड्राइविंग में मदद मिल सकती है और पढ़ने में उपयोग होने वाले प्रकाश की मात्रा में वृद्धि करना भी फायदेमंद हो सकता है.
  • जब मोतियाबिंद का स्तर काफी बढ़ जाता है तब यह किसी व्यक्ति की रोजमर्रा की सामान्य कार्य करने की क्षमता को प्रभावित करने लगता है. ऐसे में सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है. मोतियाबिंद सर्जरी बहुत आसान होती है इसमें आंखों के लेंस को हटाकर इसे एक अर्टिफिशियल लेंस से बदल दिया जाता है.

मोतियाबिंद सर्जरी के दृष्टिकोण

  • स्माल-इंसीज़न - इसमें कॉर्निया (आंख का स्पष्ट बाहरी आवरण) के पास एक चीरा लगाकर आंखों में एक छोटा सा औज़ार डाला जाता है. यह औज़ार अल्ट्रासाउंड तरंगों का उत्सर्जन करता है जो लेंस नरम करता है जिससे वह टूट जाता है और उसे बाहर निकालकर उसे बदल देते हैं.
  • एक्स्ट्राकैप्सुलर सर्जरी – इस सर्जरी में कॉर्निया में एक बड़ा चीरा लगाया जाता है ताकि लेंस को एक टुकड़े में निकला जा सके. इसके बाद प्राकृतिक लेंस को एक स्पष्ट प्लास्टिक लेंस से बदल दिया जाता है जिसे इंट्राओक्युलर लेंस (आईओएल) कहा जाता है.
  • नियमित जांच से - मोतियाबिंद को रोकने का कोई बहुत प्रभावी तरीका नहीं है. लेकिन कुछ जीवन शैली की कुछ आदतों में बदलाव करके इसके विकास को धीमा किया जा सकता है. इसके लिए नियमित तौर पर अपनी आँखों की जाँच कराना चाहिए क्योंकि नियमित रूप से आँखों की जाँच कराने से आपके डॉक्टर अपनी आँखों में होने वाली परेशानियों का जल्दी निदान कर पाएंगे.
  • नशीले पदार्थों का सेवन बंद करके - मोतियाबिंद पर हुए कई शोधों में ये पाया गया है कि सिगरेट व शराब का सेवन ज़्यादा करने वाले लोगों में मोतियाबिंद होने का खतरा अधिक होता है.इसलिए इसके सेवन से बचें.
  • स्वास्थ्यवर्धक भोजन करें - हम सभी के लिए एक स्वस्थ आहार प्राथमिकता होनी चाहिए. हमें अपने आहार में हरी पत्तेदार सब्ज़ियां, एंटीऑक्सीडेंट्स युक्त खाद्य पदार्थ, विटामिन सी और विटामिन ई की भरपूर मात्रा लेनी चाहिए.
  • सूर्य की सीधी रौशनी से बचें - सूर्य की रौशनी से अपनी आँखों को ढकें पराबैंगनी विकिरण से मोतियाबिंद होने का जोखिम बढ़ जाता इसीलिए अपने जोखिम को कम करने के लिए किसी भी मौसम में यूवीए/यूवीबी से बचने वाला धूप का चश्मा और टोपी पहनें.
6 people found this helpful

I am currently suffering from retinitis pigmentosa. Will I get visually handicapped certificate? Please advice

Fellowship in Comprehensive Ophthalmology, DOMS
Ophthalmologist, Sangrur
I am currently suffering from retinitis pigmentosa. Will I get visually handicapped certificate? Please advice
Hello That depends on many factors like your vision and your field of vision Kindly consult local ophthalmologist and get proper eye examination done Regards.
Submit FeedbackFeedback

I have eye irritation it seems allergy, I have been using ketromin and aquaray eye but stopped a year ago. moreover ketromin is not available in the market. What should I do.

MBBS
General Physician, Mumbai
I have eye irritation it seems allergy, I have been using ketromin and aquaray eye but stopped a year ago. moreover k...
As of now do ice fomentation and if there is redness in the eyes than we can start with pyrimon eye drops after clinical examination
Submit FeedbackFeedback
View All Feed

Near By Clinics