Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Book
Call

Dr. Sajira Banu

Gynaecologist, Chennai

0 at clinic
Book Appointment
Call Doctor
Dr. Sajira Banu Gynaecologist, Chennai
0 at clinic
Book Appointment
Call Doctor
Submit Feedback
Report Issue
Get Help
Feed
Services

Personal Statement

I believe in health care that is based on a personal commitment to meet patient needs with compassion and care....more
I believe in health care that is based on a personal commitment to meet patient needs with compassion and care.
More about Dr. Sajira Banu
Dr. Sajira Banu is one of the best Gynaecologists in Triplicane, Chennai. You can meet Dr. Sajira Banu personally at Shifa Hospital in Triplicane, Chennai. Book an appointment online with Dr. Sajira Banu on Lybrate.com.

Lybrate.com has an excellent community of Gynaecologists in India. You will find Gynaecologists with more than 29 years of experience on Lybrate.com. You can find Gynaecologists online in Chennai and from across India. View the profile of medical specialists and their reviews from other patients to make an informed decision.

Location

Book Clinic Appointment with Dr. Sajira Banu

Shifa Hospital

No.93/55, Triplicane High Road, Triplicane. Landmark: Near Star Cinema Hall, ChennaiChennai Get Directions
...more

Shifa Hospital & research centre

No.93/55, Triplicane High Road, Triplicane. Landmark: Near Star Cinema Hall.Chennai Get Directions
0 at clinic
...more
View All

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr. Sajira Banu

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

Hi sir/mam Hamari Sadi ko 5 saal hogaye he muje ek 4 saal ka ladka hai. Uske janam ke bad Meri biwi ne 3 bar abortion ke liye khane wali dawai Kai thi wo abhi fir se pregnant ho gayi he 7 din huve he abhi filhal hame bacha nahi chahiye to Kya wo dawai ka use kar sakti he?

MBBS, MS - Obstetrics and Gynaecology
Gynaecologist, Delhi
Hi sir/mam Hamari Sadi ko 5 saal hogaye he muje ek 4 saal ka ladka hai. Uske janam ke bad Meri biwi ne 3 bar abortion...
If you do not want a 2nd child why don't you adopt some regular contraceptive method. Repeated medical abortion is very bad for your wife's health. If in future you plan for a 2nd child you should continue this pregnancy and after delivery your wife can go for copper T insertion or ligation operation.
Submit FeedbackFeedback

I missed my periods. I have taken 3 pregnancy tests. They came negative. Am I pregnant. If not what the cause of my delayed periods.

MBBS, MD - Obstetrtics & Gynaecology, FMAS, DMAS
Gynaecologist, Noida
I missed my periods.
I have taken 3 pregnancy tests.
They came negative.
Am I pregnant.
If not what the cause of my d...
Hello, Please get a serum beta hcg test dine to rule out pregnancy conclusively. If the hcg levels are less than 3mIU then you are surely not pregnant and the menstrual delay is likely to be stress induced.
Submit FeedbackFeedback

one of my friend affected by canine parvovirus. What kind of treatment that cures my friend and how can I prevent myself from that virus mam/sir?

Diploma in Obstetrics & Gynaecology, MBBS
General Physician, Delhi
one of my friend affected by canine parvovirus. What kind of treatment that cures my friend and how can I prevent mys...
Canine parovirus is highly contagious disease of dogs and cats and spreads from one dog to another with more than 90% mortality rate in dogs and cats. Though so far there is no proof that like rabies it can pass on to humans through body fluids.
Submit FeedbackFeedback

Hi I am 26 years I want to get pregnant but before 1 year I got gall bladder removal operation its possible how often I have to have sex.

M.D. - Ayurveda, B.A.M.S (Bachelor of Ayurvedic Medicine& Surgery), N.D.D.Y(Diploma in Naturopathy,Diploma in Yoga)
Ayurveda, Pune
Hi I am 26 years I want to get pregnant but before 1 year I got gall bladder removal operation its possible how often...
U can get pregnant without gall bladder also. Just follow adequate precautions as suggested at time of surgery. For pregnancy, sex should be preferred in early morning hours and specifically in days after your menstrual bleeding has stopped. You can start to try for pregnancy after 2-3 days of stoppage of menstrual bleeding and try every alternate day for getting pregnant in slot of next 10 days. Eg. If your menses stopped on 5 may, start trying from 8-9 may till 20 th may. That's the most fertile period.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Hello sir, I want to know that when we doing sex with a girl then why should they crying alot. And what is the reason behind the blood comes when a girl doing first time sex. And the blood comes only after first time sex. If we do sex after sometimes like 1 year. Then the blood again comes or not.

MBBS
General Physician, Mumbai
As the girl is a virgin so her hymen is intact and when you break that hymen than blood comes out and next time during sex blood will not come and she has pain due to tightness of her vagina muscles.
3 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

My boyfriend has sex with protection. And he does let sperms in the vagina. Last many month I am getting white discharge in high proposition. And also im getting rashes. And vagina smells very bad. Please find me solutions.

MBBS
General Physician, Greater Noida
Most of the time, vaginal discharge is perfectly normal. The amount can vary, as can odor and hue (its color can range from clear to a milky whitish), depending on the time in your menstrual cycle. For example, there will be more discharge if you are ovulating, breastfeeding, or are sexually aroused. None of those changes is cause for alarm. However, if the color, smell, or consistency seems significantly unusual, especially if it accompanied by vaginal itching or burning, you could be noticing an infection or other condition. These are a few of the things that can upset that balance: •Antibiotic or steroid use •Bacterial vaginosis, a bacterial infection more common in pregnantwomen or women who have multiple sexual partners •Birth control pills •Cervical cancer •sexually transmitted infections •Diabetes •Douches, scented soaps or lotions, bubble bath •Pelvic infection after surgery •Pelvic inflammatory disease (PID) •Trichomoniasis, a parasitic infection typically contracted and caused by having unprotected sex •Vaginal atrophy, the thinning and drying out of the vaginal walls during menopause •Vaginitis, irritation in or around the vagina •Yeast infections Bacterial vaginosis is treated with antibiotic pills or creams. Here are some tips for preventing vaginal infections that can lead to abnormal discharge: •Keep the vagina clean by washing regularly with a gentle, mild soap and warm water. •Never use scented soaps and feminine products or douche. Also avoid feminine sprays and bubble baths. •After going to the bathroom, always wipe from front to back to prevent bacteria from getting into the vagina and causing an infection. •Wear 100% cotton underpants, and avoid overly tight clothing for further details consult privately.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Me and may partner had an inter course. It was 5 days after her menstrual cycle ended. During my second round I didn't wear a condom but I took my penis out 5-6 seconds before ejaculating. Should I ask her to take a contraceptive.

MBBS, MS - Obstetrics and Gynaecology
Gynaecologist, Bangalore
Me and may partner had an inter course. It was 5 days after her menstrual cycle ended. During my second round I didn'...
Hello, Yes definitely. Within 72 hrs. However emergency contraception should not be misused by taking most of the days as it has its own complications.
Submit FeedbackFeedback

Properties Of Flax Seed

BAMS
Ayurveda, Sonipat
Properties Of Flax Seed

अचूक औषधि अलसी

अलसी असरकारी ऊर्जा, स्फूर्ति व जीवटता प्रदान करता है। अलसी, तीसी, अतसी, कॉमन फ्लेक्स और वानस्पतिक लिनभयूसिटेटिसिमनम नाम से विख्यात तिलहन अलसी के पौधे बागों और खेतों में खरपतवार के रूप में तो उगते ही हैं, इसकी खेती भी की जाती है। इसका पौधा दो से चार फुट तक ऊंचा, जड़ चार से आठ इंच तक लंबी, पत्ते एक से तीन इंच लंबे, फूल नीले रंग के गोल, आधा से एक इंच व्यास के होते हैं।

 इसके बीज और बीजों का तेल औषधि के रूप में उपयोगी है। अलसी रस में मधुर, पाक में कटु (चरपरी), पित्तनाशक, वीर्यनाशक, वात एवं कफ वर्घक व खांसी मिटाने वाली है। इसके बीज चिकनाई व मृदुता उत्पादक, बलवर्घक, शूल शामक और मूत्रल हैं। इसका तेल विरेचक (दस्तावर) और व्रण पूरक होता है।

अलसी की पुल्टिस का प्रयोग गले एवं छाती के दर्द, सूजन तथा निमोनिया और पसलियों के दर्द में लगाकर किया जाता है। इसके साथ यह चोट, मोच, जोड़ों की सूजन, शरीर में कहीं गांठ या फोड़ा उठने पर लगाने से शीघ्र लाभ पहुंचाती है। एंटी फ्लोजेस्टिन नामक इसका प्लास्टर डॉक्टर भी उपयोग में लेते हैं। चरक संहिता में इसे जीवाणु नाशक माना गया है। यह श्वास नलियों और फेफड़ों में जमे कफ को निकाल कर दमा और खांसी में राहत देती है।

इसकी बड़ी मात्रा विरेचक तथा छोटी मात्रा गुर्दो को उत्तेजना प्रदान कर मूत्र निष्कासक है। यह पथरी, मूत्र शर्करा और कष्ट से मूत्र आने पर गुणकारी है। अलसी के तेल का धुआं सूंघने से नाक में जमा कफ निकल आता है और पुराने जुकाम में लाभ होता है। यह धुआं हिस्टीरिया रोग में भी गुण दर्शाता है। 

अलसी के काढ़े से एनिमा देकर मलाशय की शुद्धि की जाती है। उदर रोगों में इसका तेल पिलाया जाता हैं।
तनाव के क्षणों में शांत व स्थिर बनाए रखने में सहायक है। कैंसर रोधी हार्मोन्स की सक्रियता बढ़ाता है। अलसी इस धरती का सबसे शक्तिशाली पौधा है। कुछ शोध से ये बात सामने आई कि इससे दिल की बीमारी, कैंसर, स्ट्रोक और मधुमेह का खतरा कम हो जाता है। 

इस छोटे से बीच से होने वाले फायदों की फेहरिस्त काफी लंबी है,​​ जिसका इस्तेमाल सदियों से लोग करते आए हैं। इसके रेशे पाचन को सुगम बनाते हैं, इस कारण वजन नियंत्रण करने में अलसी सहायक है। रक्त में शर्करा तथा कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को कम करता है। जोड़ों का कड़ापन कम करता है।

 प्राकृतिक रेचक गुण होने से पेट साफ रखता है। हृदय संबंधी रोगों के खतरे को कम करता है। उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करता है। त्वचा को स्वस्थ रखता है एवं सूखापन दूर कर एग्जिमा आदि से बचाता है। बालों व नाखून की वृद्धि कर उन्हें स्वस्थ व चमकदार बनाता है। इसका नियमित सेवन रजोनिवृत्ति संबंधी परेशानियों से राहत प्रदान करता है।

 मासिक धर्म के दौरान ऐंठन को कम कर गर्भाशय को स्वस्थ रखता है। अलसी का सेवन त्वचा पर बढ़ती उम्र के असर को कम करता है। अलसी का सेवन भोजन के पहले या भोजन के साथ करने से पेट भरने का एहसास होकर भूख कम लगती है। प्राकृतिक रेचक गुण होने से पेट साफ रख कब्ज से मुक्ति दिलाता है।
अलसी कैसे काम करती है

अलसी आधुनिक युग में स्त्रियों की यौन-इच्छा, कामोत्तेजना, चरम-आनंद विकार, बांझपन, गर्भपात, दुग्धअल्पता की महान औषधि है। स्त्रियों की सभी लैंगिक समस्याओं के सारे उपचारों से सर्वश्रेष्ठ और सुरक्षित है अलसी। (व्हाई वी लव और ऐनाटॉमी ऑफ लव) की महान लेखिका, शोधकर्ता और चिंतक हेलन फिशर भी अलसी को प्रेम, काम-पिपासा और लैंगिक संसर्ग के लिए आवश्यक सभी रसायनों जैसे डोपामीन, नाइट्रिक ऑक्साइड, नोरइपिनेफ्रीन, ऑक्सिटोसिन, सीरोटोनिन, टेस्टोस्टिरोन और फेरोमोन्स का प्रमुख घटक मानती है।

सबसे पहले तो अलसी आप और आपके जीवनसाथी की त्वचा को आकर्षक, कोमल, नम, बेदाग व गोरा बनायेगी। आपके केश काले, घने, मजबूत, चमकदार और रेशमी हो जायेंगे। अलसी आपकी देह को ऊर्जावान और मांसल बना देगी। शरीर में चुस्ती-फुर्ती बनी गहेगी, न क्रोध आयेगा और न कभी थकावट होगी। मन शांत, सकारात्मक और दिव्य हो जायेगा।

 अलसी में ओमेगा-3 फैट, आर्जिनीन, लिगनेन, सेलेनियम, जिंक और मेगनीशियम होते हैं जो स्त्री हार्मोन्स, टेस्टोस्टिरोन और फेरोमोन्स (आकर्षण के हार्मोन) के निर्माण के मूलभूत घटक हैं। टेस्टोस्टिरोन आपकी कामेच्छा को चरम स्तर पर रखता है।

अलसी में विद्यमान ओमेगा-3 फैट और लिगनेन जननेन्द्रियों में रक्त के प्रवाह को बढ़ाती हैं, जिससे कामोत्तेजना बढ़ती है। इसके अलावा ये शिथिल पड़ी क्षतिग्रस्त नाड़ियों का कायाकल्प करती हैं जिससे मस्तिष्क और जननेन्द्रियों के बीच सूचनाओं एवं संवेदनाओं का प्रवाह दुरुस्त हो जाता है। नाड़ियों को स्वस्थ रखने में अलसी में विद्यमान लेसीथिन, विटामिन बी ग्रुप, बीटा केरोटीन, फोलेट, कॉपर आदि की महत्वपूर्ण भूमिका होती है।

 इस तरह आपने देखा कि अलसी के सेवन से कैसे प्रेम और यौवन की रासलीला सजती है, दिव्य सम्भोग का दौर चलता है, देह के सारे चक्र खुल जाते हैं, पूरे शरीर में दैविक ऊर्जा का प्रवाह होता है और सम्भोग एक यांत्रिक क्रीड़ा न रह कर शिव और उमा की रति-क्रीड़ा का उत्सव बन जाता है, समाधि का रूप बन जाता है।

रिसर्च और वैज्ञानिक आयुर्वेद और घरेलू नुस्खों के रहस्य को जानने और मानने लगे हैं। अलसी के बीज के चमत्कारों का हाल ही में खुलासा हुआ है कि इनमें 27 प्रकार के कैंसररोधी तत्व खोजे जा चुके हैं। अलसी में पाए जाने वाले ये तत्व कैंसररोधी हार्मोन्स को प्रभावी बनाते हैं, विशेषकर पुरुषों में प्रोस्टेट कैंसर व महिलाओं में स्तन कैंसर की रोकथाम में अलसी का सेवन कारगर है। 

दूसरा महत्वपूर्ण खुलासा यह है कि अलसी के बीज सेवन से महिलाओं में सेक्स करने की इच्छा तीव्रतर होती है। यह गनोरिया, नेफ्राइटिस, अस्थमा, सिस्टाइटिस, कैंसर, हृदय रोग, मधुमेह, कब्ज, बवासीर, एक्जिमा के उपचार में उपयोगी है।

सेवन का तरीका
अलसी को धीमी आँच पर हल्का भून लें। फिर मिक्सर में पीस कर किसी एयर टाइट डिब्बे में भरकर रख लें। रोज सुबह-शाम एक-एक चम्मच पावडर पानी के साथ लें। इसे अधिक मात्रा में पीस कर नहीं रखना चाहिए, क्योंकि यह खराब होने लगती है। इसलिए थोड़ा-थोड़ा ही पीस कर रखें। अलसी सेवन के दौरान पानी खूब पीना चाहिए। इसमें फायबर अधिक होता है, जो पानी ज्यादा माँगता है।

हमें प्रतिदिन 30 – 60 ग्राम अलसी का सेवन करना चाहिये, 30 ग्राम आदर्श मात्रा है। अलसी को रोज मिक्सी के ड्राई ग्राइंडर में पीसकर आटे में मिलाकर रोटी, पराँठा आदि बनाकर खाना चाहिये. डायबिटीज के रोगी सुबह शाम अलसी की रोटी खायें।

कैंसर में बुडविग आहार-विहार की पालना पूरी श्रद्धा और पूर्णता से करना चाहिये। इससे ब्रेड, केक, कुकीज, आइसक्रीम, चटनियाँ, लड्डू आदि स्वादिष्ट व्यंजन भी बनाये जाते हैं।
अलसी के तेल और चूने के पानी का इमल्सन आग से जलने के घाव पर लगाने से घाव बिगड़ता नहीं और जल्दी भरता है।

पथरी, सुजाक एवं पेशाब की जलन में अलसी का फांट पीने से रोग में लाभ मिलता है। अलसी के कोल्हू से दबाकर निकाले गए (कोल्ड प्रोसेस्ड) तेल को फ्रिज में एयर टाइट बोतल में रखें। स्नायु रोगों, कमर एवं घुटनों के दर्द में यह तेल पंद्रह मि.ली. मात्रा में सुबह-शाम पीने से काफी लाभ मिलेगा।

अलसी के लाभ
आपका हर्बल चिकित्सक आपकी सारी सेक्स सम्बंधी समस्याएं अलसी खिला कर ही दुरुस्त कर देगा क्योंकि अलसी आधुनिक युग में स्तंभनदोष के साथ साथ शीघ्रस्खलन, दुर्बल कामेच्छा, बांझपन, गर्भपात, दुग्धअल्पता की भी महान औषधि है। सेक्स संबन्धी समस्याओं के अन्य सभी उपचारों से सर्वश्रेष्ठ और सुरक्षित है अलसी। बस 30 ग्राम रोज लेनी है।

सबसे पहले तो अलसी आप और आपके जीवनसाथी की त्वचा को आकर्षक, कोमल, नम, बेदाग व गोरा बनायेगी। आपके केश काले, घने, मजबूत, चमकदार और रेशमी हो जायेंगे।
अलसी में ब्रेस्ट कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर और कोलोन कैंसर से बचाने का गुण पाया जाता है। इसमें पाया जाने वाला लिगनन कैंसर से बचाता है। यह हार्मोन के प्रति संवेदनशील होता है और ब्रेस्ट कैंसर के ड्रग टामॉक्सीफेन पर असर नहीं डालता है।

अलसी आपकी देह को ऊर्जावान, बलवान और मांसल बना देगी। शरीर में चुस्ती-फुर्ती बनी गहेगी, न क्रोध आयेगा और न कभी थकावट होगी। मन शांत, सकारात्मक और दिव्य हो जायेगा।

अलसी में विद्यमान ओमेगा-3 फैट, जिंक और मेगनीशियम आपके शरीर में पर्याप्त टेस्टोस्टिरोन हार्मोन और उत्कृष्ट श्रेणी के फेरोमोन (आकर्षण के हार्मोन) स्रावित होंगे। टेस्टोस्टिरोन से आपकी कामेच्छा चरम स्तर पर होगी। आपके साथी से आपका प्रेम, अनुराग और परस्पर आकर्षण बढ़ेगा। आपका मनभावन व्यक्तित्व, मादक मुस्कान और शटबंध उदर देख कर आपके साथी की कामाग्नि भी भड़क उठेगी।

अलसी में विद्यमान ओमेगा-3 फैट, आर्जिनीन एवं लिगनेन जननेन्द्रियों में रक्त के प्रवाह को बढ़ाती हैं, जिससे शक्तिशाली स्तंभन तो होता ही है साथ ही उत्कृष्ट और गतिशील शुक्राणुओं का निर्माण होता है। इसके अलावा ये शिथिल पड़ी क्षतिग्रस्त नाड़ियों का कायाकल्प करते हैं जिससे सूचनाओं एवं संवेदनाओं का प्रवाह दुरुस्त हो जाता है।

 नाड़ियों को स्वस्थ रखने में अलसी में विद्यमान लेसीथिन, विटामिन बी ग्रुप, बीटा केरोटीन, फोलेट, कॉपर आदि की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। ओमेगा-3 फैट के अलावा सेलेनियम और जिंक प्रोस्टेट के रखरखाव, स्खलन पर नियंत्रण, टेस्टोस्टिरोन और शुक्राणुओं के निर्माण के लिए बहुत आवश्यक हैं। कुछ वैज्ञानिकों के मतानुसार अलसी लिंग की लंबाई और मोटाई भी बढ़ाती है।

अलसी बांझपन, पुरूषहीनता, शीघ्रस्खलन व स्थम्भन दोष में बहुत लाभदायक है।
पुरूष को कामदेव तो स्त्रियों को रति बनाती है अलसी। अलसी बांझपन, पुरूषहीनता, शीघ्रस्खलन व स्थम्भन दोष में बहुत लाभदायक है। 

अर्थात स्त्री-पुरुष की समस्त लैंगिक समस्याओं का एक-सूत्रीय समाधान है।इस तरह आपने देखा कि अलसी के सेवन से कैसे प्रेम और यौवन की रासलीला सजती है, जबर्दस्त अश्वतुल्य स्तंभन होता है, जब तक मन न भरे सम्भोग का दौर चलता है, देह के सारे चक्र खुल जाते हैं, पूरे शरीर में दैविक ऊर्जा का प्रवाह होता है और सम्भोग एक यांत्रिक क्रीड़ा न रह कर एक आध्यात्मिक उत्सव बन जाता है, समाधि का रूप बन जाता है।

तेल तड़का छोड़ कर, नित घूमन को जाय।
मधुमेह का नाश हो, जो जन अलसी खाय।।
नित भोजन के संग में, मुट्ठी अलसी खाय।
अपच मिटे, भोजन पचे, कब्जियत मिट जाये।।
घी खाये मांस बढ़े, अलसी खाये खोपड़ी।
दूध पिये शक्ति बढ़े, भुला दे सबकी हेकड़ी।।
धातुवर्धक, बल-कारक, जो प्रिय पूछो मोय।
अलसी समान त्रिलोक में, और न औषध कोय।।
जो नित अलसी खात है, प्रात पियत है पानी।
कबहुं न मिलिहैं वैद्यराज से, कबहुँ न जाई जवानी।।
अलसी तोला तीन जो, दूध मिला कर खाय।
रक्त धातु दोनों बढ़े, नामर्दी मिट जाय।।

7 people found this helpful

After delivery my tummy increased so give me tips to reduce my tummy. Please advise,

Diploma in Endoscopic Surgery, DGO, MBBS
Gynaecologist, Delhi
Eat a sensible diet. Avoid too much of ghee which is commonly given to new mothers. Start going for walk and gradually start abdominal and back exercices. You can also join gym for better results.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

During intercourse without any protections or contraceptives, if the back side or the anal has been used for intercourse and the sperm falls inside the anal of the female, would it occur to any pregnancy issues?

MD - Obstetrtics & Gynaecology, DGO
Obstetrician, Vadodara
During intercourse without any protections or contraceptives, if the back side or the anal has been used for intercou...
Hello lybrate-user yes. Because sperms are motile and can travel towards vagina and get her pregnant. Thanks.
Submit FeedbackFeedback
View All Feed

Near By Doctors

86%
(90 ratings)

Dr. Akhila Sangeetha Bhat

MS - Obstetrics and Gynaecology
Gynaecologist
Cloudnine Hospital , 
300 at clinic
Book Appointment
84%
(97 ratings)

Dr. Shantha Rama Rao

MD, DGO, MBBS
Gynaecologist
Thulasi Krishna Nursing Home, 
300 at clinic
Book Appointment
88%
(51 ratings)

Dr. Deepa

M.B.B.S, M.S Obstetrics and Gynaecology, Diploma in Minimal Access Surgery, Fellowship in Minimal Access Surgery, Diploma in Advanced Modern Cosmetic - Plastic Gynaecology, Diploma in Minimal Invasive Surgery(Germany), Fellowship of International College of Robotic Surgeons
Gynaecologist
Pearl Aesthetic, 
300 at clinic
Book Appointment
92%
(103 ratings)

Dr. Shiva Singh Shekhawat

MBBS, DGO, DNB, CIMP, Fellowship In Minimal Access Surgery, Diploma In Minimal Access Surgery, Fellowship In ART
Gynaecologist
Apollo Medical Center Karapakkam (Apollo Cradle), 
350 at clinic
Book Appointment
89%
(39 ratings)

Dr. Bhavna

DGO, MBBS
Gynaecologist
Aditya Hospital, 
300 at clinic
Book Appointment
85%
(518 ratings)

Dr. K.S Jeyarani Kamaraj

MBBS, DGO, MD - Obstetrtics & Gynaecology
Gynaecologist
Aakash Fertility Centre & Hospital, 
300 at clinic
Book Appointment