Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Call Doctor
Book Appointment

Dr. Nithiya Srivatsan

Gynaecologist, Chennai

100 at clinic
Book Appointment
Call Doctor
Dr. Nithiya Srivatsan Gynaecologist, Chennai
100 at clinic
Book Appointment
Call Doctor
Submit Feedback
Report Issue
Get Help
Services
Feed

Personal Statement

I'm dedicated to providing optimal health care in a relaxed environment where I treat every patients as if they were my own family....more
I'm dedicated to providing optimal health care in a relaxed environment where I treat every patients as if they were my own family.
More about Dr. Nithiya Srivatsan
Dr. Nithiya Srivatsan is a popular Gynaecologist in Chintadripet, Chennai. She is currently practising at Lister Nursing Home in Chintadripet, Chennai. Don’t wait in a queue, book an instant appointment online with Dr. Nithiya Srivatsan on Lybrate.com.

Lybrate.com has an excellent community of Gynaecologists in India. You will find Gynaecologists with more than 29 years of experience on Lybrate.com. You can find Gynaecologists online in Chennai and from across India. View the profile of medical specialists and their reviews from other patients to make an informed decision.

Info

Specialty
Languages spoken
English

Location

Book Clinic Appointment with Dr. Nithiya Srivatsan

Lister Nursing Home

No 2, Appavo Gramini Street, Ellis Road, Mount Road. Landmark: Near Adham market, ChennaiChennai Get Directions
100 at clinic
...more
View All

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr. Nithiya Srivatsan

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

Dear Dr, I want to know that after delivery of baby in how many days couple will do safe Sex & what precaution take when doing first Sex after delivery. Kindly give ans in detail please

MS - Obstetrics and Gynaecology, DNB (Obstetrics and Gynecology), DMAS, MBBS
Gynaecologist, Lucknow
Hello lybrate-user. U both should ideally wait for 3 weeks after delivery to have sex as chances of infection are high if sex is done before 3 weeks due to lochia discharge from vagina. After 3 weeks intercourse can be done. You should keep in mind that pregnancy can happen even if mother s Breast feeding and has not attained her periods back. So if she is Breast feeding, use a contraceptive to avoid pregnancy atleast from 6 weeks after delivery onwards. U can use condoms or your wife can take progesterone containing contraceptive pills or use a copper t.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Sir I was 3 days ago fucked my girlfriend without using condom I do not know my sperm is fall or not I am not confirm so is I give her to some tablet like unwanted 72 or I pill thanks.

MBBS
General Physician, Mumbai
Sir I was 3 days ago fucked my girlfriend without using condom I do not know my sperm is fall or not I am not confirm...
As three days have already passed so now no use in giving any kind of tablet and just wait for her periods to come.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

My wife is 8 months pregnant now she is suffering with cough and cold kindly help me what kind of medicine she wants to take?

MD
Gynaecologist, Mumbai
My wife is 8 months pregnant now she is suffering with cough and cold kindly help me what kind of medicine she wants ...
During pregnancy it is always better to get examined and not take medicines arbitrarily as it can affect the baby.
Submit FeedbackFeedback

Chicken Pox Treatment in Hindi - चेचक के उपचार

MBBS, M.Sc - Dietitics / Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Delhi
Chicken Pox Treatment in Hindi - चेचक के उपचार

चिकन पॉक्स एक बहुत ही संक्रामक बीमारी है, जो कि वैरिकाला-ज़ोस्टर वायरस के कारण होती है। यह पूरे शरीर में खुजली वाली चकत्ते और लाल धब्बे या छाले (पॉक्स) पैदा करता है। यह बच्चों में सबसे आम है। चिकन पॉक्स उन लोगों के लिए बेहद संक्रामक है, जो इस बीमारी से पहले कभी पीड़ित नहीं हुए हैं या जिन्होने इसके खिलाफ टीका नहीं लगवाया है। 

चिकन पॉक्स संक्रमण, वायरस के संपर्क के 10 से 21 दिन बाद होता है और आम तौर पर लगभग 5 से 10 दिनों तक रहता है। लाल चकत्ते चिकन पॉक्स के सबसे आम लक्षण हैं। व्यक्ति के संक्रमित होने के 2 दिन बाद दाने शरीर पर प्रकट होते हैं। दाना एक छाले मे बदल जाता है और फिर फट कर पपड़ी बन जाता है। अन्य लक्षणों में बुखार, थकान, भूख की हानि और मांसपेशियों का दर्द शामिल है। 

चिकन पॉक्स आम तौर पर एक मृदु बीमारी है। लेकिन यह गंभीर हो सकती है और जटिलताओं या मृत्यु को जन्म दे सकती है, खासकर उच्च जोखिम वाले लोगों में। चिकन पॉक्स त्वचा, कोमल ऊतकों, हड्डियों, जोड़ों या रक्तप्रवाह (सेप्सिस) के बैक्टीरिया संक्रमण सहित निर्जलीकरण, निमोनिया, मस्तिष्क की सूजन (एन्सेफलाइटिस), टॉक्सिक शॉक सिंड्रोम आदि जैसी जटिलताओं को जन्म दे सकता है। 

चिकन पॉक्स के लिए घरेलू उपचार
आम तौर पर, चिकन पॉक्स के ज्यादातर लक्षण लगभग दो हफ्तों में कम हो जाते हैं। अधिकांश स्वस्थ बच्चों और वयस्कों को चिकन पॉक्स के लिए चिकित्सा उपचार की आवश्यकता नहीं होती है। हालांकि, आप इन प्राकृतिक घरेलू उपचारों में से कुछ का उपयोग कुछ लक्षणों को कम करने और जल्दी ही खुजली से राहत प्राप्त करने के लिए कर सकते हैं:

1. बेकिंग सोडा:
चिकन पॉक्स की वजह से होने वाली खुजली और जलन को नियंत्रित करने के लिए बेकिंग सोडा बहुत प्रभावी है। बेकिंग सोडा त्वचा को अपने पी एच स्तर को बनाए रखने में मदद करता है। बस एक गिलास पानी में बेकिंग सोडा का आधा चम्मच जोड़ें। शरीर के प्रभावित हिस्सों पर इस समाधान को लागू करने के लिए एक नरम स्पंज या खीसा का प्रयोग करें। इसके अलावा, स्नान करने के लिए पानी में थोड़ा बेकिंग सोडा जोड़ना भी सहायक हो सकता है।

2. नीम:
नीम, जिसे भारतीय बकाइन के रूप में भी जाना जाता है, में मजबूत एंटीवायरल गुण हैं। इसलिए, यह वैरिकाला ज़ोस्टर वायरस का मुकाबला कर सकता है, और छाले को सुखाने में और खुजली को दूर करने में मदद करता है। एक मुट्ठी नीम के पत्ते लें, उन्हें कुचल दें और प्रभावित क्षेत्रों पर पेस्ट को लागू करें। स्नान के पानी में नीम के पत्तों को जोड़ना भी फायदेमंद है। 

3. गाजर और धनिया:
गाजर और धनिया आवश्यक विटामिन और खनिजों से भरपूर हैं जो प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देते हैं। इसके अलावा, वे शरीर से हानिकारक विषाक्त पदार्थों को निकालने में मदद करते हैं और उससे शुद्ध करने में मदद करते हैं। लगभग 2 कप पानी में कटा हुआ गाजर का एक कप और ताजा धनिया का आधा कप उबालें। इसे लगभग 15 मिनट तक धीमी आंच पर रखें और फिर गैस से हटा, इसे छान लें। इसे नियमित रूप से दिन में एक बार पीना। 

4. जई:
जई के एंटीवायरल और विरोधी भड़काऊ गुणों के कारण दर्द और खुजली को दूर करने में मदद करता है। सदियों से, जई का इस्तेमाल त्वचा की समस्याओं को दूर करने के लिए किया गया है। यह न केवल दर्द और खुजली को कम करता है, बल्कि यह चिकन पॉक्स फैलाने वाले वायरस से भी लड़ता है। एक महीन पाउडर बनाने के लिए दो कप जई को कुचल लें। इस जई के पाउडर को 2 लीटर पानी में मिलाकर लगभग 15 मिनट तक छोड़ दें। जई को कपड़े के एक बैग में डालें और इसे कसकर बांधें। अब अपने आप को इस नहाने के पानी में लगभग 15 मिनट के लिए भिगोएँ।

5. शहद:
चिकन पॉक्स की वजह से खुजली और चकत्ते का इलाज करने के लिए शहद का भी इस्तेमाल किया जा सकता है। एक दिन में 2-3 बार प्रभावित क्षेत्र पर थोड़ा शहद रगड़ें।

3 people found this helpful

Hello mam I am 25 years old and I am in a relationship with my husband. Recently during my periods time .1st day I have seen brown blood coming and 2 nd day I have seen red blood and 3rd, 4th and 5th day I have seen brown blood. May I know the reasons and is there any abdomen scanning required before consulting a doctor.

BHMS, PGD PPHC, BMCP, Training In USG
Homeopath, Kolkata
Hello mam  I am 25 years old and I am in a relationship with my husband. Recently during my periods time .1st day I h...
You take Acalypha indica Q 5 drops in 1/2 cup of water thrice daily and pulsatilla 200 four dose, one dose weekly for a month and consult after that.
Submit FeedbackFeedback

Panchakarma Therapies - 5 Of Them For Good Health!

BAMS, MD - Ayurveda Pharmacology, Ph.D - Diabetes Prediction Thesis, BA (Sanskrit), MA (Entire Russian Language)
Ayurveda, Pune
Panchakarma Therapies - 5 Of Them For Good Health!

According to Ayurveda, Panchakarma therapy aims at detoxifying the human body. “Pancha” means five and ‘karma’ means treatment. This comprises of 5 methods that are used to address the troublesome ‘doshas’ in the body. The excess doshas would be expelled and the ‘ama’ (toxins produced in the body) would be eliminated from the system through the body's own organs elimination channels (urinary tract, colon, sweat organs, digestive tract and the lungs). 

The features of ‘Panchakarma’ include herbal enemas, herbal and oil massages as well as oil showers. Ayurveda prescribes Panchakarma as a regular treatment for the upkeep of mental and physical cleanliness and balance.

Similar to other medicinal procedures, for Panchakarma Therapy you must consult a qualified Ayurvedic physician who can decide the individual's ‘prakriti’ (established nature of the patient), the nature of the problem and the proper dosage of the recommended treatments.

Panchakarma includes mainly 5 types of treatment for body detoxification. Those are vaman (induced vomiting), virechan (induced purgation), basti (medicated enemas), nasya (putting drops of medicated oil or ghee in nostrils) and raktamokshan (blood letting). All other therapies are adjuvant to these five therapies.

This therapy makes use of a large number of therapies. Sometimes, a combination of two or three processes can be administered. The five different therapies are:

  1. Garshana: Garshana medications involve a dry lymphatic brushing of the skin either using a silk glove or a fleece. This improves blood circulation and cleanses the skin so that the oil and medication can seep naturally into the pores of the skin.
  2. Abhyanga: This home based oil massage helps the mind and body to unwind and separates the polluting influence as well as stimulate both blood and lymph flow. It helps in toning the body, improving circulation, restoring energy and providing relaxation.
  3. Swedana: It comprises of a typical steam treatment and is used to calm the head and heart, while the body warm. It also eliminates mental and physical toxins that are deeply embedded in the tissues. 
  4. Pizichili: A non-stop stream of warm herbal oil is soothingly poured over the body by two Ayurvedic specialists as they back rub the body in impeccable harmony.
  5. Udvartana: This is a deeply infiltrating lymphatic massage which uses a paste to restore the natural radiance while eliminating other toxic elements.

In case you have a concern or query you can always consult an expert & get answers to your questions!

 

4910 people found this helpful

She take mtp 3 weeks ago and all goes normal But now the periods stats again And the chest and the nipples are now pained.

DHMS (Hons.)
Homeopath, Patna
She take mtp 3 weeks ago and all goes normal But now the periods stats again And the chest and the nipples are now pa...
Hello, Lybrate user, Tk, plenty of water to hydrate yourself ,to eliminate toxins & to dilute your blood to establish your flow by regulating metabolism to absorb neutrients to nourish your body.  * go for meditation to reduce your stress, anxiety to calm your nerve, improving Oxygen volume in blood in order, to establish your smooth flow, improving haemoglobin level. * your diet be simple, non- irritant, easily digestible on time to maintain your digestion, avoiding gastric disorder. •TK, Apple,carrots, cheese,milk, banana,papaya, pomegranate, spinach,almonds, walnuts to improve your haemoglobin to release your flow, timely. • Tk, Homoeo medicine, gentle & rapid in action with no adverse effect, thereof. @ Sepia200 -6 pills at bed time. * Ensure, sound sleep in d night for at least 7 hrs. •Avoid, caffiene,junkfood, dust,smoke, exertion •Your feedback will highly b appreciated for further, follow up.•Tk, care,
2 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Aloo Bukhara Benefits And Side Effects In Hindi - आलूबुखारा के फायदे और नुकसान

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Aloo Bukhara Benefits And Side Effects In Hindi - आलूबुखारा के फायदे और नुकसान

आलूबुखारा स्वाद और औषधीय गुण दोनों में ही एक बेहतर फल साबित होता है. इसका अंग्रेजी नाम प्लम है. लगभग पूरी दुनिया में अब ये पाया जाता है. विश्व के अलग-अलग जगहों पर इसकी अलग-अलग लगभग 2000 प्रजातियाँ पाई जाती हैं. इसके नियमित सेवन से हम कई बिमारियों जैसे कि रक्त चाप या स्ट्रोक आदि से बच सकते हैं और इससे शरीर में लोहा की मात्रा में भी वृद्धि होती है. इसके सेवन से पुरुषों के शरीर में मजबूती और ताकत आता है. आलूबुखारा में कई तरह के पोषक तत्व पाए जाते हैं. विटामिन ए, सी, के और फाइबर से समृद्ध आलूबुखारा के फायदे और नुकसान की विस्तृत जानकारी के लिए निम्लिखित बिन्दुओं का अध्ययन करें.

  • रक्तचाप और ह्रदय रोग के नियंत्रण में: आलूबुखारा में पाया जाने वाला पोटेशियम रक्तचाप को नियंत्रित करता है. इसके अलावा आलूबुखारा का नियमित सेवन हमारे दिल के लिए काफी फायदेमंद साबित होता है. इससे दिल के दौरे या स्ट्रोक के खतरे को काफी हद तक कम किया जा सकता है.
  • कैंसर के उपचार में: इसमें पाया जाने वाला एंटीऑक्सिडेंट और कई अन्य औषधीय गुण हमारे शरीर में कैंसर की कोशिकाओं को पनपने से रोकते हैं. इसमें मौजूद बीटा कैरोटिन भी कैंसर के खतरे को काफी हद तक कम करता है. यदि आप भी कैंसर के जोखिम को कम करना चाहते हैं तो आलूबुखारा की सहायता ले सकते हैं.
  • शुगर के उपचार में: मधुमेह के खतरे से बचाने के लिए भी आलूबुखारा का प्रयोग किया जाता है. इसके नियमित सेवन से शरीर में शुगर की मात्रा में वृद्धि नहीं होती है. शुगर के मरीज इसे खाएं तो वो शुगर के स्तर को नियंत्रित कर सकते हैं.
  • आँखों के लिए: आलूबुखारा विटामिन ए से समृद्ध होता है. विटामिन ए हमारे आँखों के दृष्टि के लिए काफी अच्छा होता है. इसके सेवन से श्लेष्मा झिल्ली भी स्वस्थ रहती है. इसमें पाया जाने वाला फाइबर जेक्सनथिन रेटिना को मजबूती प्रदान करता है.
  • हड्डियों के लिए: आलूबुखारा में पाया जाने वाला विटामिन के हमारे शरीर की हड्डियों को मजबूती प्रदान करने में समर्थ होता है. विटामिन के, महिलाओं के मिनोपॉज के दौरान होने वाली परेशानियों को भी कम करने का काम करता है.
  • कोलेस्ट्राल के नियंत्रण में: कोलेस्ट्राल के नियंत्रण में भी आलूबुखारा की सकारात्मक भूमिका है. दरअसल इसमें घुलनशील फाइबर पाया जाता है जिससे कि शरीर में बढ़ते हुए कोलेस्ट्राल पर नियंत्रण होता है. इसमें फैट को आसानी से पचाने का भी गुण मौजूद होता है.
  • वजन कम करने में: वजन कम करने के लिए भी आलूबुखारा का इस्तेमाल किया जाता है. दरअसल इसमें सुपरऑक्साइड पाया जाता है जो कि ऑक्सिजन रेडिकल के नाम से जाना जाता है और ये चर्बी को कम करता है. इसके सेवन से फैट भी नहीं बढ़ता है.
  • सर्दी-जुकाम के उपचार में: आलूबुखारा में पाए जाने वाले विटामिन सी का काम हमारे शरीर का प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाना होता है. जाहिर है सर्दी-जुकाम जैसी आम बीमारियाँ ज्यादातर प्रतिरोधक क्षमता में कमी के कारण ही होती हैं. इसलिए आलूबुखारा का नियमित सेवन हमें सर्दी-जुकाम से बचा सकता है.
  • पाचन में: पाचन क्रिया को दुरुस्त करने में भी आलूबुखारा का इस्तेमाल किया जाता रहा है. ऐसा इसमें पाए जाने वाले फाइबर की भरपूर मात्रा की वजह से हो पाता है. इसके अलावा इसमें सोर्बिटोल और आईसीटीन भी पाया जाता है जो कि पाचन में सुधार करता है.
  • त्वचा और पेट के लिए: इसमें कई तरह के एंटीऑक्सिडेंट पाए जाते हैं जिससे कि हमारे त्वचा में निखार आता है. इसके आलावा इसके पत्तों को पीसकर बने लेप से पेट के कीड़े ख़त्म हो सकते हैं और इसका सेवन पित्त दोषों को भी दूर करने का काम करता है.
7 people found this helpful

Im 22 years old and I have a problem with irregular periods. My intake is healthy only. But im having this problem often. My weight is 62. Im over weight. I can not do any exercise since im busy. Can you please guide me.

MBBS, DGO, DNB (Obstetrics and Gynecology)
Gynaecologist, Chennai
Im 22 years old and I have a problem with irregular periods. My intake is healthy only. But im having this problem of...
Hi, unless you exercise and reduce weight it is difficult to regularise your period.It is not only for your periods but for your overall health.Even if you take hormones to regularise your period ultimately it will work only when you start exercising.Just aim for 5% of your weight reduction say 3 kg in 3 months by diet and exercise.You will feel fantastic improvement.
4 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback
View All Feed

Near By Doctors

87%
(42 ratings)

Dr. Bhavna Mehta

DGO, MBBS
Gynaecologist
Murugan Hospital, 
300 at clinic
Book Appointment
94%
(123 ratings)

Dr. Shiva Singh Shekhawat

MBBS, DGO, DNB, CIMP, Fellowship In Minimal Access Surgery, Diploma In Minimal Access Surgery, Fellowship In ART
Gynaecologist
Apollo Medical Center Karapakkam (Apollo Cradle), 
350 at clinic
Book Appointment
88%
(100 ratings)

Dr. Shantha Rama Rao

MD, DGO, MBBS
Gynaecologist
Thulasi Krishna Nursing Home, 
300 at clinic
Book Appointment

Dr. Surakshith Battina

MBBS Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery, MD - Obstetrics & Gynaecology, Diploma In Laparoscopy
Gynaecologist
Indigo Womens Center, 
350 at clinic
Book Appointment
89%
(409 ratings)

Dr. Sujatha Rajnikanth

MBBS, DNB (Obstetrics & Gynecology), (MRCOG)
Gynaecologist
Penn Nalam, Ambattur Rotary Hospital Campus, 
300 at clinic
Book Appointment
85%
(10 ratings)

Dr. K.M.Kundavi Shankar

MBBS, Diploma in Obstetrics & Gynaecology, DNB (Obstetrics and Gynecology), MNAMS (Membership of the National Academy) (General Surgery)
Gynaecologist
Institute of Reproductive Medicine - MadrasMedical Mission Hospital, 
0 at clinic
Book Appointment