Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Call Clinic
Book Appointment

Pallava Hospital

Cosmetic/Plastic Surgeon Clinic

#19 A, 1ST Avenue, Ashok Nagar. Landmark: Opp To Karaikudi Restaurant, Chennai Chennai
1 Doctor
Book Appointment
Call Clinic
Pallava Hospital Cosmetic/Plastic Surgeon Clinic #19 A, 1ST Avenue, Ashok Nagar. Landmark: Opp To Karaikudi Restaurant, Chennai Chennai
1 Doctor
Book Appointment
Call Clinic
Report Issue
Get Help
Services
Feed

About

Customer service is provided by a highly trained, professional staff who look after your comfort and care and are considerate of your time. Their focus is you....more
Customer service is provided by a highly trained, professional staff who look after your comfort and care and are considerate of your time. Their focus is you.
More about Pallava Hospital
Pallava Hospital is known for housing experienced Cosmetic/Plastic Surgeons. Dr. Jeyakumar, a well-reputed Cosmetic/Plastic Surgeon, practices in Chennai. Visit this medical health centre for Cosmetic/Plastic Surgeons recommended by 93 patients.

Timings

MON-SAT
09:00 AM - 07:00 PM

Location

#19 A, 1ST Avenue, Ashok Nagar. Landmark: Opp To Karaikudi Restaurant, Chennai
Ashok Nagar Chennai, Tamil Nadu
Click to view clinic direction
Get Directions

Doctor in Pallava Hospital

Dr. Jeyakumar

Cosmetic/Plastic Surgeon
Available today
09:00 AM - 07:00 PM
View All
View All

Services

Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Pallava Hospital

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

नोज़ रिशेपिंग सर्जरी - Nose Reshaping Surgery!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
नोज़ रिशेपिंग सर्जरी - Nose Reshaping Surgery!

नसों की कमजोरी कई कारणों से हो सकते हैं. यह आपके जीवनशैली, आहार में प्सोहक तत्वों की कमी, कुछ बिमारियों के कारण या नर्वस सिस्टम की कमोज्री के कारण हो सकता है. संबंधित समस्या के कारण नसों मी कमजोरी हो सकती है. इन कारणों से तंत्रिका तंत्र (Nervous System) की कमजोरी भी होती है. इस समस्या में प्रभावित नस से संबंधित शरीर का अंग ठीक से काम नहीं करता है या गतिहीन हो जाता है या वहाँ सुन्न जैसी स्थिति हो जाती है. कुछ लोगों के लिए यह समस्या थोड़े समय के लिए रहता है व कुछ समय बाद ठीक हो जाता है, पर कुछ लोगों को यह समस्या स्थायी रूप से हो जाती है. इस समस्या के वजह का पता कर उसके इलाज करने से नस की कमजोरी ठीक हो सकती है. आगे हम जानेंगे कि किन-किन कारणों से नसों की कमजोरी हो सकती है.

नसों की कमजोरी के कारण-
कुछ बीमारी के कारण: - कुछ बीमारियों के कारण नसों में कमजोरी हो सकती है. जैसे मल्टीप्ल स्केलेरोसिस, गिल्लन बर्रे सिंड्रोम (एक ऐसा बीमारी जिसमें प्रतिरक्षा प्रणाली पेरिफेरल नसों को नुकसान पहुंचाती है), मायस्थीनिया ग्रेसिव (मांसपेशियों की कमजोरी व थकान की बीमारी), लुपस, इन्फ्लेमेटरी बाउल डिजीज जैसे ऑटो इम्यून डिजीज के कारण नसों में कमजोरी हो सकती है. मोटर न्यूरॉन बीमारी (दिमाग तक संकेत भेजने वाले नसों को प्रभावित करने वाले बीमारी) भी नसों के कमजोरी के कारण हो सकते हैं. शुगर (मधुमेह) के कारण भी नसों में कमजोरी हो सकती है.

  1. किसी भी कारण से नसों पर दबाव के कारण: - हड्डी बढ़ने के कारण या अन्य किसी भी कारण से नसों में दबाव आ जाता है तो इस कारण से भी नसें कमजोर हो सकती है. नस या आसपास के उत्तक के ट्यूमर, जो नसों के उत्तक पर दबाव डालते हों या उन्हें नुकसान पाहुचाते हों, के कारण भी नसें कमजोर हो सकती हैं.
     
  2. जेनेटिक या अनुवांशिक समस्या के कारण: - नसों के स्वास्थ्य या कार्य को प्रभावित करने वाले आनुवांशिक समस्या या नसों के बनावट व विकास को प्रभावित करने वाले जन्मजात समस्या या विषाक्त पदार्थ भी नसों के कमजोरी के कारण हो सकते हैं.
     
  3. अन्य कारण: - दवाओं के दुष्प्रभाव, पोषण तत्वों में कमी या विषाक्त पदार्थ के कारण भी ऐसी समस्या हो सकती है. नसों को प्रभावित करने वाले पदार्थों का अधिक सेवन या नसों को नुकसान पहुंचाने वाले या नसों के कार्य को प्रभावित करने वाले ड्रग्स भी नसों की कमजोरी के वजह हो सकते हैं. हर्पीस, एचआईवी और हेपेटाइटिस सी जैसे बीमारी के संक्रमण से भी नसों में कमजोरी हो सकती है. अस्वस्थ आहार, तनाव (स्ट्रेस) भी नसों को कमजोर कर सकती हैं. इसके अलावा नसों के स्वास्थ्य के लिए आवश्यक मिनरल व विटामिन की कमी के कारण भी नसें कमजोर हो सकती हैं.


नसों की कमजोरी के लक्षण-
जब व्यक्ति के नसों में कमजोरी होती है तो कई प्रकार के लक्षण देखने को मिलते हैं. नसों की कमजोरी होने पर चुभन, गुदगुदी या दर्द हो सकती है. चिंता, डिप्रेशन या थकान भी नसों के कमजोरी के लक्षण हैं. नसों के कमजोरी में बीमारियों से लड़ने के क्षमता कम हो सकती है या देखने, सुनने, सूंघने, स्वाद चखने या छूने की क्षमता भी कम हो सकती है. मांसपेशियों की कमजोरी व थकावट के अलावा झटके लगना या अन्य व्यवहार संबंधी समस्याएँ भी नसों की कमजोरी के लक्षण हैं.

नसों की कमजोरी से बचाव-
नसों की कमजोरी से बचने के लिए संतुलित आहार का सेवन करना चाहिए व नियमित व्यायाम करना चाहिए. शराब व सिगरेट न पीना चाहिए व विषाक्त पदार्थ के सेवन से बचना चाहिए. पैरों को चोट लगने से बचाकर रखना चाहिए.
यदि डायबिटीज (मधुमेह) हो तो अपने पैरों का खास ख्याल रखना चाहिए. रोज अपने पैरों को धोकर उसकी जाँच करनी चाहिए व लोशन लगाकर त्वचा को नम रखना चाहिए.

यदि नस के कमजोरी की समस्या है तो छोटी-मोटी दुर्घटना होने की संभावना बनी रहती है. अतः इस दुर्घटना के जोखिम को कम करने के लिए पैरों में हमेशा जूते पहनकर रहना चाहिए व पैरों से किसी भी वस्तु में ठोकर लगने से व गिरने से बचना चाहिए. फिसलने व गिरने से बचने के लिए बाथरूम में पायदान का उपयोग करना चाहिए व बाथरूम में हैंडल लगवाना चाहिए. पानी का तापमान देखने के लिए हाथ या पैर का प्रयोग न करना करके केहुनी का प्रयोग करना चाहिए. एक ही अवस्था में ज्यादा देर तक नहीं रहना चाहिए बल्कि बीच-बीच में कुछ देर तक उठकर घूमना चाहिए.

नसों की कमजोरी का इलाज-
नसों की कमजोरी हो जाने पर इसके इलाज के लिए जाँच कर यह पता लगाया जाता है कि नसों में कमजोरी का वजह क्या है. फिर जिस वजह से नसों में कमजोरी आयी हो उसका इलाज किया जाता है. नसों की कमजोरी का वजह ठीक हो जाने पर नसें की कमजोरी भी ठीक हो जाने की संभावना रहती है.

यदि शुगर (डायबिटीज) के कारण नसों की कमजोरी हो तो इसके लिए डायबिटीज के इलाज के साथ-साथ जीवनशैली में परिवर्तन करना चाहिए. जैसे – धूम्रपान व शराब का सेवन छोड़ना, एक स्वस्थ वजन बनाए रखना, नियमित व्यायाम करना इत्यादि.

यदि विटामिन बी12 की कमी के कारण नसों में कमजोरी हुयी हो तो विटामिन बी12 की इंजेक्शन या टीके व दवाएँ दी जानी चाहिए. यदि किसी दवा के कारण नसों की कमजोरी हो तो उस दवा को लेना बंद कर देना चाहिए.

जरूरत के अनुसार नसों के कमजोरी के कारण के अनुसार डॉक्टर अन्य इलाज व दवाएँ का भी प्रयोग करते हैं. जैसे यदि ट्यूमर या किसी अन्य वजह से नसों पर दबाव के कारण नसों की कमजोरी या नसों की समस्या हो तो इसे ठीक करने के लिए सर्जरी की आवश्यकता पड़ सकती है.

यह जरूरी नहीं है कि नसों की कमजोरी का वजह हमेशा इलाज से ठीक हो ही जाए. अतः नसों की कमजोरी के कारण हो रही परेशानी को कम करने के लिए मेडिटेशन (ध्यान), मसाज, एक्यूपंक्चर, ट्रान्स्क्यूटेनस इलेक्ट्रिक नर्व स्टिम्युलेशन, या फिजिकल थेरेपी का सहारा लिया जाता है.

==========================================================================

नाक को रिशेप कराने के लिए की जाने वाली सर्जरी को हम राइनोप्लास्टी सर्जरी के नाम से जानते हैं. आज हमारे समाज में इसकी आवश्यकता बढ़ती ही जा रही है. इसकी वजह है कि अधिक लंबी या छोटी, फैली हुई, टेढ़ी नाक और बड़े नासा-छिद्र चेहरे की सुन्दरता बिगाड़ देते हैं. आपने भी देखा होगा कि युवाओं को कॉलेज में दोस्तों या ऑफिस में ग्रुप के बीच चेहरे पर पसरी या नुकीली नाक की वजह से हंसी का पात्र बनना पड़ता है. इसलिए उनके मन में ये खयाल बार बार आता रहता है कि काश उनकी नाक का आकार भी सुन्दर हो पाता. तो ये लेख उन लोगों के लिए ही खुशखबरी लेकर आया है. यानि कि यदि नाक के आकार को लेकर चिंतित हैं, तो कॉस्मेटिक नोज रीशेपिंग (राइनोप्लास्टी) से अपने नाक को रीशेप करा सकते हैं. चेहरे की सुंदरता काफी हद तक नाक, होंठ और ठोड़ी के आकार और अनुपात पर निर्भर करती है. अगर आपकी आंख या होंठ आकर्षक हैं, लेकिन नाक का आकार असंतुलित है, तो चेहरे की सुंदरता प्रभावित होती है.

चेहरे की बनावट व विशेषताओं के बीच संतुलन बनाने के लिए नाक का विशेष महत्व है. राइनोप्लास्टी एक बहुत ही सुरक्षित और अत्याधुनिक वैज्ञानिक तरीका है जो नाक की सुंदरता और उसके आकार में परिवर्तन के लिए किया जाता है. इसे एक कॉस्मेटिक सर्जरी माना जाता है, जिससे नाक के आकार को छोटा या बड़ा किया जा सकता है और फैले हुए नोजट्रिल्स, नुकीली टिप, नासल ब्रिज पर हम्प आदि का आकार सही किया जा सकता है. आइए इस लेख के माध्यम से हम राइनोप्लास्टी सर्जरी के विभिन्न पहलुओं को विस्तार पूर्वक जानें ताकि इस विषय में हम जागरूक हो सकें.

किसी दूसरे व्यक्ति के जैसी नाक संभव नहीं
परफेक्ट नोज जैसी कोई चीज नहीं होती है. आप किसी दूसरे व्यक्ति या मॉडल जैसी नाक का आकार देखना चाहते हैं, तो यह जरुरी नहीं की आपके नाक के आकार भी उसी तरह से हो. नाक में नोज रीशेपिंग से यथासंभव बदलाव जैसे बेढंगे तौर से फैली हुई, बड़ी या ज्यादा छोटी, दबी हुई और सपाट नाक, नाक का झुका हुआ सिरा या फूला हुआ गोल सिरा (बल्बस टिप) आदि को ठीक किया जा सकता है. ताकि आपकी नाक पहले से अच्छी लगे. लेकिन किसी दूसरे व्यक्ति की नाक की कॉपी मुमकिन नहीं है. इसकी वजह है कि हर चेहरे की आतंरिक बनावट और हड्डियों का आकार अलग होता है. इसलिए नोज सर्जरी तभी कराएं, जब आप नाक के आकार में सुधार चाहते हों, ना कि किसी दूसरे की नाक को कॉपी.

क्या होता है राइनोप्लास्टी सर्जरी के बाद?
राइनोप्लास्टी का लक्ष्य नाक को चेहरे के बाकी फीचर्स के साथ संतुलित करना व अनुपात में लाना है. आमतौर पर पूरी तरह से हीलिंग के बाद लोग चेहरे के बदलाव को बेहतर बताते हैं, लेकिन अधिकांश लोग नाक में बदलाव को नोटिस नहीं कर पाते हैं. राइनोप्लास्टी के बाद लोग आपके चेहरे के बाकी फीचर्स (जैसे आखें और होंठ आदि) की सुंदरता को नोटिस करने लगते हैं, जिन पर पहले का ध्यान नहीं जाता था. नाक की सर्जरी के बाद आप उसी दिन घर जा सकते हैं और रोजमर्रा का काम सामान्य रूप से कर सकते हैं. नाक पर कुछ दिनों तक एक बैंडेज रहता है, जिसे 8-10 दिनों के बाद निकाल दिया जाता है.

नोज रीशेपिंग के फाइनल रिजल्ट में कितना समय लग सकता है?
नोज रीशेपिंग के बाद नाक ओर उसके आस-पास के हिस्सों में सूजन रहती है, जो धीरे-धीरे कम हो जाती है. सूजन कुछ हफ्तों में सामान्य हो जाती है. पर अंदरूनी हिस्से (खासकर नोज टिप) की स्वेलिंग पूरी तरह से ठीक होने में आठ से बारह महीने तक का समय लग सकता है और सर्जरी के फाइनज रिजल्ट तभी दिखते हैं. इसलिए आपको सलाह दी जाती है कि नोज रीशेपिंग कराने के बाद फाइनल रिजल्ट के लिए एक साल तक इंतजार करें, क्योंकि भले ही आपको बाहर से पता ना चले, लेकिन आपकी नाक अभी भी हील कर रही होती है.

I hv pigmentation on my cheeks & keep getting acne. Hormonal issues seem to have generated facial hair as well. Skin is very sensitive &, hydroquinone or similar ingredients don't agree with me pl help with prescribe medicines.

MBBS, Diploma in Venerology & Dermatology (DVD)
Dermatologist, Thane
I hv pigmentation on my cheeks & keep getting acne. Hormonal issues seem to have generated facial hair as well. Skin ...
You will need medicines to decreaSe the pigmentation. Use Kojic acid contains gel twice daily on the spots. Use a good medicated sunscreen with SPF 30 half an hour before going out. Facial hair can be taken care of by laser hair reduction. Donot use lot of cosmetics on the face. You can come consult online so that prescription medicines can be given to you.
1 person found this helpful

Hair Loss - How Ayurveda Can Help?

B.A. Sanskrit, BAMS, M.A. Sanskrit, MS -Gynaecology Ayurveda
Ayurveda, Thane
Hair Loss - How Ayurveda Can Help?

Hair fall has a direct impact on the way you feel about yourself, your self esteem and confidence. It is also true that it is a very common problem and can be controlled and stopped completely through proper treatment. Ayurvedic treatment for hair fall has long term effects and it brings out the best results since the issues get rectified from the inside, preventing them from coming back.

Ayurveda and Hair Loss

 According to Ayurveda, hair fall is associated with body type that varies from person to person and also the stability of mind-body structure. Hair is considered a byproduct of bone formation, as stated by Ayurveda. The tissues which are responsible for the development of bones are also responsible for hair growth. Diet, yoga, meditation and medicated herbal oil massage are the Ayurvedic treatments generally recommended for hair loss.
 
Here are some ways through which Ayurveda addresses the problem of hair fall:
 
1.    Dietary modifications 

It is important to identify the lifestyle habits that cause hair fall problems. Consumption of alcohol, meat, coffee, tea and smoking are some of these habits. Hair fall can also be aggravated due to intake of too much greasy, spicy, oily, sour, fried and acidic foods.
 
Here are some ways suggested by Ayurveda to beat hair fall:
 
1.    Hair growth can be stimulated by drinking fresh juices of Pomegranate, carrot, spinach and Kokam.

2.     Sesame seeds promote hair growth as they are rich in magnesium and calcium.

3.     Cow's Ghee is a trusted remedy to resolve all scalp-related problems.

4.     Green vegetables and fruits are rich in fiber and hence help in preventing hair fall.

5.     To make the roots of hair strong, foods rich in vitamin C, vitamin B-complex, sulphur and zinc must be consumed, which are found in whole grains, soybeans, buttermilk, nuts and milk.

6.     Yoga and meditation: Inverted asanas help in stimulating the blood flow to the head. Additionally, practicing deep breathing exercises to control anxiety, stress and keep the mind balanced is also advisable.

7.     Ayurvedic herbs and medicated oil: Bhringaraaja, Brahmi, Amla, Neem, Ritha and Ashwagandha are some ayurvedic herbs rich in essential nutrients that help in reducing stress and promoting hair growth. Different types of oils including coconut oil, brahmi oil, amla oil or mustard oil are useful to control hair fall.

I have post inflammatory pigmentation on face. Had clofazimine for almost two years. But it stopped from last year. Still my skin is not becoming normal like before. please suggest something.

MD, MBBS
Dermatologist, Chennai
I have post inflammatory pigmentation on face. Had clofazimine for almost two years. But it stopped from last year. S...
Undergo glutathione therapy. Otherwise, few creams also available. Contact me by direct online consultation for treatment.

I have few months of acne problem also constipation I suggest doctor here he gave clindamycin and derma t solution but also coming and goes for completely stop what to do for it.

MD, MBBS
Dermatologist, Chennai
I have few months of acne problem also constipation I suggest doctor here he gave clindamycin and derma t solution bu...
treatment depends on the grade..Acne or pimples... Due to hormonal changes..Oily skin causes it...Common in adolescent age...May occur in adults also.. Food like Oily foods, ice cream, chocolate and sweets increase it.. Treatment depends on the grade of pimples or acne..So, please send photos by direct online consultation as it's a must to see which grade of pimples or acne for accurate diagnosis and treatment.

For removing scars marks from my face which medicine is prefer from deriva cms or retino a and how to remove pimple from face.

MD, MBBS
Dermatologist, Chennai
For removing scars marks from my face which medicine is prefer from deriva cms or retino a and how to remove pimple f...
No. Undergo laser fraxel rf resurfacing therapy. Otherwise, few creams also available. Contact me by direct online consultation for treatment by sending photos.

I am 21 years old, suddenly from no where I am having lots of hormonal acne may be because I had secam e and secam p pills and sleeping pills last month. Please help with this acne I can't live like this.

B.A.M.S, Dietetics & Food Services Management Services, Panchkarma, Sports Nutrition, Clinical & Therapeutic Yoga
Ayurveda, Panchkula
I am 21 years old, suddenly from no where I am having lots of hormonal acne may be because I had secam e and secam p ...
Yes , these acne can be due to that pills ... Do Anulom vilom pranayama. Drink lot of water . Apply kunkumadi lepam
1 person found this helpful

It's dermatological problem. My lips are always very dry and have gotten pretty dark. I need a solution for that.

BHMS
Homeopath, Noida
It's dermatological problem. My lips are always very dry and have gotten pretty dark. I need a solution for that.
It means you r not drinking enough water. U can also apply vaseline or warm ghee from freshly prepared chapaties.

I have dark circles under eyes. Gas problem and loss of flesh. Face looks skinny with wrinkles and not healthy looking. I have less immunity to cold and sensitive stomach.

master in psychology, Certicate coures in Dieticain
Homeopath, Pune
I have dark circles under eyes. Gas problem and loss of flesh. Face looks skinny with wrinkles and not healthy lookin...
Hi. Due to poor immunity. You have all problem. Dark circle are due to over eyes stains or lack of iron in the body. "deep homoeopathic clinic, will help you to come from this problem with treating from its root. We treat through homoeopathic medicine have no side effects. With diet chart require for the faster recovery. Assure results you will seen in 21 days. We conduct online consultations and medicins are provided through our courier services. Distance doesn't matter to us. Happy to help you.
View All Feed

Near By Clinics

Best Hospital

Kodambakkam, Chennai, Chennai
View Clinic

VHM Hospital Pvt. Ltd.

Saligramam, Chennai, Chennai
View Clinic

Pallava Hospital

Ashok Nagar, Chennai, Chennai
View Clinic

Best Hospital

Kodambakkam, Chennai, Chennai
View Clinic

Vignesh Hospital

Porur, Chennai, Chennai
View Clinic