Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Call Clinic
Book Appointment

Dr.Agarwal's Eye Hospital - Porur

Ophthalmologist Clinic

No. 49, Arcot Road, Porur. Landmark: Near To Reliance, Chennai Chennai
1 Doctor · ₹150
Book Appointment
Call Clinic
Dr.Agarwal's Eye Hospital - Porur Ophthalmologist Clinic No. 49, Arcot Road, Porur. Landmark: Near To Reliance, Chennai Chennai
1 Doctor · ₹150
Book Appointment
Call Clinic
Report Issue
Get Help
Services
Feed

About

We like to think that we are an extraordinary practice that is all about you - your potential, your comfort, your health, and your individuality. You are important to us and we strive to ......more
We like to think that we are an extraordinary practice that is all about you - your potential, your comfort, your health, and your individuality. You are important to us and we strive to help you in every and any way that we can.
More about Dr.Agarwal's Eye Hospital - Porur
Dr.Agarwal's Eye Hospital - Porur is known for housing experienced Ophthalmologists. Dr. Trisha, a well-reputed Ophthalmologist, practices in Chennai. Visit this medical health centre for Ophthalmologists recommended by 46 patients.

Timings

MON-SAT
04:00 AM - 08:30 PM

Location

No. 49, Arcot Road, Porur. Landmark: Near To Reliance, Chennai
Porur Chennai, Tamil Nadu
Click to view clinic direction
Get Directions

Doctor in Dr.Agarwal's Eye Hospital - Porur

Dr. Trisha

Ophthalmologist
150 at clinic
Available today
04:00 AM - 08:30 PM
View All
View All

Services

Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr.Agarwal's Eye Hospital - Porur

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

Retinal Detachment - Know The Symptoms & Treatment Of It!

MBBS Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery, MS - Ophthalmology, DNB Ophtalmology
Ophthalmologist, Navi Mumbai
Retinal Detachment - Know The Symptoms & Treatment Of It!

Retinal detachment is an emergency eye condition in which the retina at the back of the eye gets separated from the surrounding tissue and pulls away from its normal position. The retina acts as a light-sensitive wallpaper in the eye, providing a lining for the inside of the eyewall and sending visual signals to the brain. As the retina can't work properly under these conditions, one can permanently lose vision if the detached retina is not repaired immediately.

During the retinal detachment, the retinal cells get separated from the layer of blood vessels which provides oxygen and nourishment. Usually, it begins in form of small torn area of retina known as retinal tears or retinal breaks. This condition, if not treated, leads to retinal detachment and finally permanent vision loss.
Retinal detachment has tell-tale warning signs like an increase in sudden appearance of floaters resembling cobwebs floating in field of vision. It can be coupled with flashes of light or curtain from any direction causing a loss of vision.

Retinal detachment is of three types. The most common form is Rhegmatogenous retinal detachment where a tear allows fluid to get under retina and prevents nourishment to reach retina from retinal pigment epithelium by separating them. In Fractional form, scar tissue on the retina's surface shrinks causing it to separate from the retinal pigment epithelium. This form is most prevalent with diabetes patients. Lastly, in case of Exudative retinal detachment, the fluid leaks into the area under retina without a tear or breaks in the retina. Retinal diseases or trauma to the eye are main causes for Exudative retinal detachment.

Although a person of any age can suffer from retinal detachment, but it is more prevalent in people over the age of 40. People suffering from degenerative myopia or lattice degeneration are more prone to this medical condition. People with family history of retinal detachment are also likely to suffer from the same.

Retinal detachment can be treated in many ways. The most common form is the Laser surgery in which small tears and hole are joined back to the retina. Another method is Cryopexy in which the area around the hole in frozen and helps reattach the retina. Both the above procedure are performed at ophthalmologist's clinic.

Sometimes, one may have to opt for Scleral buckle in which a tiny synthetic band is attached to the outside of the eyeball which gently pushes the wall of the eye in toward the centre of the eye placing the eyewall very close to the detached retina. Another option is vitrectomy surgery to replace the vitreous that fills the centre of the eye and helps the eye maintain a round shape.

A retinal detachment is an emergency medical condition and must be treated immediately to save one's vision. Most people have been successfully treated for retinal detachment, but ophthalmologists cannot always predict how vision will turn out. The visual outcome will not be known for up to several months after surgery. However, the results are best when the retinal detachment is treated as soon as possible.

Last month I go eye doctor and he say to keep spectacle. I want to remove it what should I eat and drink to health of my eye's. Can it possible?

C.S.C, D.C.H, M.B.B.S
General Physician, Alappuzha
Last month I go eye doctor and he say to keep spectacle. I want to remove it what should I eat and drink to health of...
You have not mentioned the disease for which you were asked to wear glasses and if it is possible you may do lasik surgery to remove the glasses.

I am working as a system admin. I have to work 9 hours a day on computer. So to avoid the problem on my eyes what I have to do? Also is there any eyewear that we have to wear while working? If so please suggest one with description. Thanks.

MD - Homeopathy, BHMS
Homeopath, Vadodara
I am working as a system admin. I have to work 9 hours a day on computer. So to avoid the problem on my eyes what I h...
You can use special glasses like have protected. Also have a habit of taking short breaks after working for an hour or two and see at a distant thing. Blink eyes often. You can consult me at Lybrate for homoeopathic treatment.

लेसिक लेजर का खर्च - Lasic Lazer Ka Kharch!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
लेसिक लेजर का खर्च - Lasic Lazer Ka Kharch!

जब आपकी दृष्टि कमजोर पड़ जाती है तो डॉक्टर आपको चश्मा या कॉन्टैक्ट लेंस निर्धारित करता है जो शायद हर किसी को पसंद नहीं आता है. ऐसे में हम दुसरे विकल्प की तरफ देखते है जिसमे हमें सर्जरी का सहारा लेना पड़ता है. वर्तमान समय में लेजर तकनीक से होने वाली सर्जरी बहुत उन्नत हो गयी है. इसकी सहायता से बिना किसी ज्यादा जोखिम के आप दृष्टि के समस्या से निजात पा सकते हैं. इस लेख में आपको लेज़र तकनीक सर्जरी के बारे में पूरी जानकारी दी जाएगी. लेसिक लेजर या कॉर्नियोरिफ्रेक्टिव सर्जरी कॉन्टैक्ट लेंस हटाने के लिए दो तकनीक है. इससे जिन दोषों में चश्मा हटाया जा सकता है. आइए इस लेख के माध्यम से हम लेसिक लेजर सर्जरी में होने वाले अनुमानित खर्च को जानें ताकि लोगों को इस संदर्भ परेशानी का सामना न करना पड़े.

लेसिक लेजर सर्जरी 3 प्रकार के होते है
* सिंपल लेसिक लेजर
* ई-लेसिक या इपि-लेसिक लेजर
* सी-लेसिक या कस्टमाइज्ड लेसिक लेजर

1. सिंपल लेसिक लेजर सर्जरी: - इस सर्जिकल प्रक्रिया में आँखों में लोकल एनेस्थीसिया डाला जाता है. इसके बाद लेजर से फ्लैप बनाया जाता हैं. इसके कट निरंतर कॉर्नियो को री-शेप करता रहता है. इस पूरे प्रक्रिया में लगभग 20-25 मिनट लगते हैं.

2. ई-लेसिक या इपि-लेसिक लेजर सर्जरी: - यह तकनीक लगभग सिंपल लेसिक जैसा ही होता है. इसमें केवल एक ही फर्क होता है इसमें इस्तेमाल होने वाला मशीन ज्यादा एडवांस होता हैं.

3. सी-लेसिक: कस्टमाइज्ड लेसिक लेजर सर्जरी: - यह एक बहुत ही आसान प्रक्रिया है और इसके परिबाम बहुत बेहतर होते हैं. ओवर या अंडर करेक्शन नहीं होती और नतीजा सटीक होता है. मरीज को अस्पताल में भर्ती रखने की जरूरत नहीं होती. साइड इफेक्ट्स काफी कम होते हैं. महंगा प्रोसेस है यह. दोनों आंखों के ऑपरेशन पर 40 हजार तक खर्च आता है. कुछ अस्पताल इससे ज्यादा भी वसूल लेते हैं. आंख लाल होने, खुजली होने, एक की बजाय दो दिखने जैसी प्रॉब्लम आ सकती हैं, जो आसानी से ठीक हो जाती हैं.

कितना खर्च-
लेसिक लेजर सर्जरी के दौरान पुतली (कॉर्निया) को पुन: नए सिरे से आकार दिया जाता है. इसके परिणामस्वरूप मरीज चश्मा पहने बगैर स्पष्ट देख सकता है. आज ब्लेडलेस लेसिक सर्जरी की मदद से लेजर के द्वारा यह विधि क ी जाती है. इस कारण यह विधि सटीक और लगभग त्रुटि रहित है. आमतौर पर यह सर्जरी 15,000 से 90,000 रुपये में करायी जा सकती है, हालांकि इसकी कीमत लेसिक सर्जरी के तरीके पर निर्भर करती है. लेसिक सर्जरी से मरीज लगभग 1 दिन बाद या कुछ घंटों बाद ही मनचाहा परिणाम प्राप्त कर सकता है. यह प्रक्रिया बहुत जल्दी खत्म हो जाती है और इसमें किसी टांके व पट्टी का प्रयोग नहीं होता. इसके अतिरिक्त यह एक पीड़ाहीन विधि है. दोनों आंखों का खर्च औसतन 30-40 हजार रुपये आता है. हालांकि कुछ प्राइवेट अस्पताल इससे ज्यादा भी लेते हैं. सरकारी अस्पतालों में काफी कम खर्च में काम हो जाता है.

कहां होता है लेसिक लेजर-
लेसिक लेजर सर्जरी तमाम बड़े प्राइवेट अस्पतालों और कुछ बड़े क्लिनिकों में भी हो सकता है. in सब के अलावा बड़े सरकारी अस्पतालों जैसे एम्स पीजीआई जैसे अस्पतालों में भी हो सकता है. इन जगहों पर इलाज बेहतर तरीकों के साथ रेट भी कम लगते हैं लेकिन लंबी लाइन होने की वजह से वेटिंग अक्सर ज्यादा होती है

लेसिक आई सर्जरी - Lasik Eye Surgery!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
लेसिक आई सर्जरी - Lasik Eye Surgery!

जब आपकी दृष्टि कमजोर पड़ जाती है तो डॉक्टर आपको चश्मा या कॉन्टैक्ट लेंस निर्धारित करता है जो शायद हर किसी को पसंद नहीं आता है. ऐसे में हम दुसरे विकल्प की तरफ देखते है जिसमे हमें सर्जरी का सहारा लेना पड़ता है. वर्तमान समय में लेजर तकनीक से होने वाली सर्जरी बहुत उन्नत हो गयी है. इसकी सहायता से बिना किसी ज्यादा जोखिम के आप दृष्टि के समस्या से निजात पा सकते हैं. इस लेख में आपको लेज़र तकनीक सर्जरी के बारे में पूरी जानकारी दी जाएगी. लेसिक लेजर या कॉर्नियोरिफ्रेक्टिव सर्जरी कॉन्टैक्ट लेंस हटाने के लिए दो तकनीक है. इससे जिन दोषों में चश्मा हटाया जा सकता है, वे निम्नलिखित हैं:

1. मायोपिया:
मायोपिया को निकट दूर दृष्टि भी कहा जाता है. इसमें किसी भी वस्तु का प्रतिबिंब रेटिना के आगे बन जाता है, जिससे दूर का देखने में समस्या होती है. इसे ठीक करने के लिए माइनस यानी कॉनकेव लेंस की आवश्यकता पड़ती है.

2. हायपरमेट्रोपिया: हायपरमेट्रोपिया को दूरदृष्टि दोष के रूप में भी जाना जाता है. इस स्थिति में किसी भी चीज का प्रतिबिंब रेटिना के पीछे बनता है, जिससे पास का देखने में समस्या होती है. इसे ठीक करने के लिए प्लस यानी कॉनवेक्स लेंस की जरूरत होती है.

3. एस्टिगमेटिज्म: इसमें आंख के पर्दे पर रोशनी की किरणें अलग-अलग जगह केंद्रित होती हैं, जिससे दूर या पास या दोनों तरफ की चीजें साफ नजर नहीं आतीं है.

कैसे करता है काम-
लेसिक लेजर की सहायता से कॉर्निया को इस तरह से बदल दिया जाता है की नजर दोष में जिस तरह के कांटेक्ट लेंस की जरुरत पड़ती है, वह उसी तरह से काम करने लग जाता है. इससे किसी भी वस्तु का प्रतिबिंब रेटिना पर बनने लगता है और बिना चश्मे लगाए सब कुछ साफ नज़र आने लगता है.

लेसिक सर्जरी के प्रकार-
लेसिक लेजर 3 प्रकार का होता है.
* सिंपल लेसिक लेजर
* ई-लेसिक या इपि-लेसिक लेजर
* सी-लेसिक या कस्टमाइज्ड लेसिक लेजर

सिंपल लेसिक लेजर-
इस प्रक्रिया में आँखों में लोकल एनेस्थीसिया इंजेक्ट किया जाता है. इसके बाद लेजर से आँखों में फ्लैप बनाते हैं. और कट निरंतर कॉर्नियो के आकार को दोबारा आकार देता है. इस पूरे प्रक्रिया में लगभग 20-25 मिनट लगते हैं.

फायदे-
1. इस सर्जरी की मदद से आँखों से चश्मा उतर जाता है और दृष्टि स्पष्ट हो जाती है.
2. इस सर्जरी में खर्च भी बहुत कम हो जाता है. इस सर्जरी को करने में दोनों आंखों के लिए लगभग 20 हजार रुपये खर्च आता है.

नुकसान-
1. हालाँकि, इस सर्जरी का इस्तेमाल ज्यादा नहीं होता है. अब इससे बेहतर तकनीक भी मौजूद हैं.
2. इस सर्जरी के बाद काफी समस्याओं का शंका बना रहता है.


2. ई-लेसिक या इपिलेसिक लेजर
यह प्रक्रिया तकरीबन सिंपल लेसिक के जैसा ही होता है. इसमें मूल अंतर मशीन का होता है. इसमें ज्यादा उन्नत मशीन इस्तेमाल की जाती हैं.

फायदे-
1. यह अच्छे परिणाम देते हैं और ज्यादातर मामलों में सफलता मिलती है.
2. मरीज जल्दी स्वस्थ हो जाते है.
3. जोखिम कम होती हैं.


नुकसान
1. सिंपल लेसिक के तुलना में थोडा महंगा होता है. इन दोनों आंखों के ऑपरेशन पर लगभग 35-40 हजार रुपये तक खर्च आता है.
2. छोटी-मोटी समस्याएं हो सकती हैं, जैसे कि आंख लाल होना, चौंध लगना इत्यादि.
3. कभी-कभार आंख में फूलने जैसी समस्या भी आ सकता है.


3. सी-लेसिक: कस्टमाइज्ड लेसिक लेजर
यह एक बहुत ही आसान प्रक्रिया है और परिणाम बहुत बेहतर होते हैं. इसमें ओवर या अंडर करेक्शन नहीं होती और नतीजा सटीक होता है. इस प्रक्रिया के दौरान ज्यादा समय नहीं लगता है, जिसमे मरीज को अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत नहीं होती है. और इसके साइड इफेक्ट्स काफी कम होते हैं.

नुकसान
1. यह एक महंगी प्रक्रिया है. इसमें दोनों आंखों के ऑपरेशन पर करीब 40 हजार तक खर्च हो सकता है. कुछ अस्पताल इससे ज्यादा पैसे भी ले सकते हैं.
2. इसके साइड इफेक्ट्स में आंख लाल होने, खुजली, डबल विज़न जैसी समस्या आ सकती हैं, लेकिन यह आसानी से ठीक हो जाती हैं.

कुछ और खासियतें
1. आज कल कांटेक्ट लेंस या चश्मा हटाने के लिए ज्यादातर इसी प्रक्रिया का इस्तेमाल किया जा रहा है. सिंपल लेसिक सर्जरी मरीज को पहले से बने एक प्रोग्राम के जरिए आंख का ऑपरेशन किया जाता है, जबकि सी-लेसिक सर्जरी में आपकी आंख के साइज के हिसाब से पूरा प्रोग्राम बनाया जाता है.

2. सर्जन का अनुभव, काबिलियत, लेसिक लेजर से पहले और बाद की देखभाल की गुणवत्ता लेसिक लेजर सर्जरी के नतीजे के लिए काफी महत्वपूर्ण होती है.

3. चश्मे का नंबर अगर 1 से लेकर 8 डायप्टर है तो लेसिक लेजर ज्यादा उपयोगी होता है.

4. आज-कल लेसिक लेजर सर्जरी से -10 से -12 डायप्टर तक के मायोपिया, +4 से +5 डायप्टर तक के हायपरमेट्रोपिया और 5 डायप्टर तक के एस्टिग्मेटिज्म का इलाज किया जाता है.

कैसे करते हैं ऑपरेशन-
इस ऑपरेशन में बहुत कम समय लगता है, इसे करने में ज्यादा से ज्यादा 10 से 15 मिनट तक का समय लग सकता है. इस सर्जरी के दौरान मरीज को हॉस्पिटल में भर्ती होने की जरुरत नहीं होती है. ऑपरेशन की शुरुआत करने से पहले डॉक्टर आँखों को अच्छे से चेक करते हैं. इसके बाद ही सर्जरी करने का निर्णय लिया जाता है. जब ऑपरेशन करने का निर्णय लिया जाता है तो शुरू होने से पहले आँखों को आई-ड्रॉप के द्वारा सुन्न (एनेस्थिसिया) किया जाता है. फिर मरीज को कमर के बल लेटकर आंख पर पड़ रही एक टिमटिमाती लाइट को देखते रहने को कहा जाता है. अब एक विषेशरूप से तैयार किए गए यंत्र माइक्रोकिरेटोम की सहायता से आंख के कॉर्निया पर कट लगाकर आंख की झिल्ली को उठा देते हैं. हालांकि अब भी इस झिल्ली का एक हिस्सा आंख से जुड़ा ही रहता है. अब ऑलरेडी तैयार एक कंप्यूटर प्रोग्राम के द्वारा इस झिल्ली के नीचे लेजर बीम डालते हैं. लेजर बीम कितनी देर तक डालते रहना है इसे चिकित्सक जांच के दौरान ही पता कर लेते हैं. लेजर बीम पड़ने के बाद झिल्ली को वापस कॉर्निया पर लगा दिया जाता है और ऑपरेशन पूरा हो जाता है. यह झिल्ली एक-दो दिन में खुद ही कॉर्निया के साथ जुड़ जाती है और आंख नॉर्मल हो जाती है. मरीज उसी दिन अपने घर जा सकता है. कुछ लोग ऑपरेशन के ठीक बाद रोशनी लौटने का अनुभव कर लेते हैं, लेकिन ज्यादातर में सही विजन आने में एक या दिन का समय लग जाता है.

सर्जरी के बाद-
1. ऑपरेशन के बाद दो-तीन दिन तक आराम करना होता है और उसके बाद मरीज नॉर्मल तरीके से काम पर लौट सकता है.
2. लेसिक लेजर सर्जरी के बाद मरीज को बहुत कम दर्द महसूस होता है और किसी टांके या पट्टी की जरूरत नहीं होती.
3. आंख की पूरी रोशनी बहुत जल्दी (2-3 दिन में) लौट आती है और चश्मे या कॉन्टैक्ट लेंस के बिना भी मरीज को साफ दिखने लगता है.
4. स्विमिंग, मेकअप आदि से कुछ हफ्ते परहेज करना होता है.
5. करीब 90 फीसदी लोगों में यह सर्जरी पूरी तरह कामयाब होती है. बाकी लोगों में 0.25 से लेकर 0.5 नंबर तक के चश्मे की जरूरत पड़ सकती है.
6. जो बदलाव कॉर्निया में किया गया है, वह स्थायी है इसलिए नंबर बढ़ने या चश्मा दोबारा लगने की भी कोई दिक्कत नहीं होती, लेकिन कुछ और वजहों, मसलन डायबीटीज या उम्र बढ़ने के साथ चश्मा लग जाए, तो अलग बात है.

कौन करा सकता है-
1. जिनकी उम्र 20 साल से ज्यादा हो. इसके बाद किसी भी उम्र में करा सकते हैं.
2. चश्मे/कॉन्टैक्ट लेंस का नंबर पिछले कम-से-कम एक साल से बदला न हो.
3. मरीज का कॉर्निया ठीक हो. उसका डायमीटर सही हो. उसमें इन्फेक्शन या फूला/माड़ा न हो.
4. लेसिक सर्जरी से कम-से-कम तीन हफ्ते पहले लेंस पहनना बंद कर देना चाहिए.

कौन नहीं करा सकता-
1. किसी की उम्र 18 साल से ज्यादा है लेकिन उसका नंबर स्थायी नहीं हुआ है, तो उसकी सर्जरी नहीं की जाती.
2. जिन लोगों का कॉर्निया पतला (450 मिमी से कम) है, उन्हें ऑपरेशन नहीं कराना चाहिए.
3. गर्भवती महिलाओं का ऑपरेशन नहीं किया जाता.
विकल्प: चश्मा/कॉन्टैक्ट लेंस ऐसे लोगों के लिए ऑप्शन हैं.

1 person found this helpful

Eye Checkup - Why It Is Necessary?

MD - Ophthalmology, MBBS
Ophthalmologist, Navi Mumbai
Eye Checkup - Why It Is Necessary?

Sight is one of our most important senses. To ensure that your vision is not compromised, regular eye examinations are essential. This is regardless of age and overall health because the only way to diagnose conditions in the eye in the early stages is with a comprehensive eye exam. By arresting them in the early stages, many eye disorders can be easily controlled and treated.

During a routine eye examination, the doctor will look into a number of aspects of your eye's health. An eye examination can also indicate serious health issues like diabetes, macular degeneration and glaucoma. Some of the conditions an eye doctor looks for during an eye exam are:

Refractive error
If you already have a prescription this will be checked. In other cases, the strength of the eye muscles is checked for near sightedness, far sightedness and astigmatism which can be corrected with lasik surgery, spectacles or lenses. The earlier a refractive error is corrected, the lower are its chances of increasing. When it comes to children, they often do not realize signs of vision deterioration and hence, an eye examination becomes essential.

Amblyopia
This is a condition where one eye has a much higher refractive error than the other or where the eyes are misaligned. If this is not treated in time, amblyopia can stunt vision in the affected eye and result in blindness.

Strabismus
Crossed or turned eyes are termed as cases of strabismus. This is caused by the misalignment of the eyes and can cause problems with depth perception. This can lead to amblyopia and eventual blindness if not treated in time.

Focusing and communicative problems between the eyes
An eye examination can also determine problems with focusing on objects. With children this can be a sign of underdeveloped focusing skills while in adults it can be a symptom of presbyopia or age related diminished focusing ability. Your doctor will also check how well your eyes work together. If they do not work in tandem, it can cause headaches, eye strains and problems with reading.

Diseases
By looking at the blood vessels and retina of the eyes, doctors can detect signs of high blood pressure, cholesterol etc. Leaks in the blood vessels or bleeding in the eyes can also be a sign of diabetes or swelling of the macula.

Age related conditions
As with the rest of the body, the eye tissues and muscles also degenerate with time. Cataract is one of the most common age related issues that affect the eyes.

My mother was diagnosed with anemia few months back she had hb count of 7.2 she took iron supplements but no effect she had one pro rbc transfusion 35 days back. Took a cbc on feb 18 hb count was 5.8.she has all symptoms of anemia nausea vomiting food aversion tiredness and depression. What can be done? Please help me doctor.

BASM, MD, MS (Counseling & Psychotherapy), MSc - Psychology, Certificate in Clinical psychology of children and Young People, Certificate in Psychological First Aid, Certificate in Positive Psychology, Positive Psychiatry and Mental Health
Psychologist, Palakkad
My mother was diagnosed with anemia few months back she had hb count of 7.2 she took iron supplements but no effect s...
Hello and welcome to Lybrate. I have reviewed your query and here is my advice. Depression could be due to the illness she suffers. Don't worry. That will clear off itself. Hope I have answered your query. You can contact me for treatment options. Let me know if I can assist you further. Take care.

I want to go through lasik surgery for myopia. My power is -6 on both eyes. I also have lots of floaters in both eyes. I am health wise perfect no sugar bp and other sort of diseases. Am I eligible for lasik, if so which hospital in tamil nadu gives high technology treatment in nominal fees.

MD - Homeopathy, BHMS
Homeopath, Vadodara
I want to go through lasik surgery for myopia. My power is -6 on both eyes. I also have lots of floaters in both eyes...
Yes you are eligible. For hospital better contact more than one and get proper reviews then choose. Don't rely on anyone's suggestions. Everyone has their favourite.
1 person found this helpful

My 25 days old baby is having redness in one eye since the last 6 days. His eye seems to discharge a yellow puss and sticks after that I just clean it with warm water but it don't seem to heal what's the solution?

MD - Homeopathy, BHMS
Homeopath, Vadodara
My 25 days old baby is having redness in one eye since the last 6 days.
His eye seems to discharge a yellow puss and ...
Give homoeopathic medicine pulsatilla 200 one dose. And you will also need the treatment. You can consult me at Lybrate for proper treatment.
1 person found this helpful
View All Feed

Near By Clinics