Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Call Doctor
Book Appointment
Dr. Susheelamma  - Gynaecologist, Bangalore

Dr. Susheelamma

MBBS, MD - Obstetrtics & Gynaecology

Gynaecologist, Bangalore

26 Years Experience  ·  500 at clinic
Book Appointment
Call Doctor
Dr. Susheelamma MBBS, MD - Obstetrtics & Gynaecology Gynaecologist, Bangalore
26 Years Experience  ·  500 at clinic
Book Appointment
Call Doctor
Submit Feedback
Report Issue
Get Help
Services
Feed

Personal Statement

I pride myself in attending local and statewide seminars to stay current with the latest techniques, and treatment planning....more
I pride myself in attending local and statewide seminars to stay current with the latest techniques, and treatment planning.
More about Dr. Susheelamma
Dr. B Susheelamma is a renowned Gynaecologist in Vijayanagar, Bangalore. He is currently associated with Guru Sri Hi.Tech Multispecality Hospital in Vijayanagar, Bangalore. Book an appointment online with Dr. B Susheelamma and consult privately on Lybrate.com.

Lybrate.com has a number of highly qualified Gynaecologists in India. You will find Gynaecologists with more than 27 years of experience on Lybrate.com. You can find Gynaecologists online in Bangalore and from across India. View the profile of medical specialists and their reviews from other patients to make an informed decision.

Info

Education
MBBS - Bangalore Medical College - 1992
MD - Obstetrtics & Gynaecology - Bangalore Medical College - 1995
Languages spoken
English
Professional Memberships
Federation of Obstetric and Gynaecological Societies of India (FOGSI)
BSOG

Location

Book Clinic Appointment with Dr. Susheelamma

Motherhood - Indiranagar

No.-324, CMH Road, Indiranagar 1st StageBangalore Get Directions
  4.3  (70 ratings)
500 at clinic
...more
View All

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr. Susheelamma

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

Dear doctor I have periods problem it doesn't come month to month and when its come I suffers fever too much pain in stomach and waist. I am too depressed about it. Please suggest me any solution.

MD - Homeopathy, BHMS
Homeopath, Gurgaon
Dear doctor I have periods problem it doesn't come month to month and when its come I suffers fever too much pain in ...
You may be suffering from some Pelvic inflammatory disease or colitis, For correct diagnosis and treatment We need more information about your problem. In general Homeopathic Medicine - Viburnum Opulus Q - - 1 ~ 2 drop twice daily for few months will certainly help you.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I am 25 years old women and I'm 6 months pregnant. My legs pain so much this time that I am unable to sleep whole nights. And I have the habit of eating pan masala. What should I do to get relief and take proper sleep at night.

MBBS, DNB (Obstetrics and Gynecology), MD - Obstetrtics & Gynaecology
Gynaecologist, Delhi
I am 25 years old women and I'm 6 months pregnant. My legs pain so much this time that I am unable to sleep whole nig...
stop paan masala. Take iron, vitamin, calcium everyday. Take 1litre milk everyday in any form... milk, dahi, lassi anything to be taken plenty
Submit FeedbackFeedback

M.Sc - Dietitics / Nutrition, Diploma in Naturopathy & Yogic Science (DNYS)
Dietitian/Nutritionist, Vadodara
Benefit of fibers in diet
We all heard some where that fiber is good for health and one should eat food which is rich in fiber. But how fiber help us to live healthy?
1 fibers form bulk of stool so it help in regulation of bowl movement. So help in constipation.
2 it gives us satiety value. Means high fiber food is not easy to digest, by eating small amout your hunger get satisfied and you will not become immediately hungry. So overall you eat less. Which help to maintain your body weight
3 it is also help in absorption of nutrients
4 it reduces post prandial plasma glusose and increase tissue insulin sensitivity. Which is very helpful in diabetes.
Food rich in fibers are
Whole wheat product, bajara, ragi, maize, green leafy vegetables, fruits with skin, seed
Also oats, whole pulses, isabgol, whole grain are rich source of fiber.

I and my gf had unprotected sex on 1st day of her period and she took an ipill within 10 hrs. Again on 2nd day we had unprotected sex. Again on 7th day we had unprotected sex and again she took an ipill within 10 hrs. Her LMP was on 3rd Feb 2018. Her period cycle is of 28 days. Will she get pregnant. Kindly elaborate the details.

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Sexologist, Lucknow
I and my gf had unprotected sex on 1st day of her period and she took an ipill within 10 hrs. Again on 2nd day we had...
I pill is emergency contraceptive, not for regular use. If you take second pill during same menstrual cycle. It will disturbing your menstrual cycle or causes abnormal bleeding. Please take precautions about protection. Always use condoms or take regular contraceptive like overal-l ,Saheli. Contraceptive pill are hormonal based which prevent pregnancy by increasing hormones level to prevent fertilize ovum.
Submit FeedbackFeedback

निपाह इंफेक्शन (अपडेट्स)

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Rampur
निपाह इंफेक्शन (अपडेट्स)

*भारत में तेजी से पांव पसार रहा है निपाह वायरस, लेकिन चमगादड़ नहीं इसका स्रोत*

निपाह वायरस भारत में बड़ी तेजी से पांव पसार रहा है। केरल से शुरू होने के बाद अब कर्नाटक, तेलंगाना में भी इसके कुछ मामले सामने आ चुके हैं। इतना ही नहीं केरल में इस खतरनाक वायरस से अब तक 13 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि करीब 200 संदिग्ध मरीजों का इलाज चल रहा है। इलाज करते हुए चपेट में आए पांच चिकित्साकर्मियों को बेहतर इलाज के लिए दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल भेजा गया है। केरल के कुछ जिलों में इसकी चपेट में आने के बाद यहां आने वाले पयर्टकों में भी इसको लेकर डर व्‍याप्‍त है। इसका असर साफतौर पर यहां ट्यूरिज्‍म इंडस्‍ट्री पर भी पड़ता हुआ दिखाई दे रहा है।

*चौंकाने वाला खुलासा* 
इस खतरनाक वायरस को लेकर एक और चौंकाने वाला खुलासा ये हुआ है कि इस वायरस के फैलने का स्रोत चमगादड़ नहीं है, जैसा कि पहले कहा जा रहा था। फिलहाल विशेषज्ञ भी इसकी जानकारी जुटा रहे हैं कि यदि इसका स्रोत चमगादड़ नहीं है तो फिर यह किस वजह से इतनी तेजी से विभिन्‍न राज्‍यों में फैल रहा है। वहीं अब अब फल खाने वाले चमगादड़ का रक्त नमूना परीक्षण के लिए भोपाल स्थित प्रयोगशाला में भेजा गया है। पुणे प्रयोगशाला के विशेषज्ञों की टीम भी कोझिकोड पहुंच गई है, वह विभिन्न तरह के चमगादड़ों के रक्त नमूने ले रही है। इस वायरस से होने वाली बीमारी के लक्षणों में बुखार, सिरदर्द और उल्टियां शामिल है। कुछ में मिर्गी के लक्षण भी देखे गए हैं।

*नहीं मिला चमगादड़ से फैलने का सुबूत* 
केंद्रीय मेडिकल टीम ने विभिन्‍न जगहों से कुल 21 नमूने एकत्रित किए थे जिसमें से सात चमगादड़, दो सूअर, एक गोवंश और एक बकरी या भेड़ से था। इन नमूनों को भोपाल स्थित राष्ट्रीय उच्च सुरक्षा पशुरोग संस्थान और पुणे स्थित राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान भेजा गया था। अधिकारी ने कहा, इन नमूनों में उन चमगादड़ों के नमूने भी शामिल थे जो कि केरल में पेराम्बरा के उस घर के कुएं में मिले थे जहां शुरूआती मौत की सूचना मिली थी। इन नमूनों में निपाह विषाणु नहीं पाए गए हैं। इसके अलावा हिमाचल प्रदेश में मृत मिले चमगादड़ों के नमूने पुणे भेजे गए थे, उनमें भी यह विषाणु नहीं मिला है। इसके साथ ही हैदराबाद के संदिग्ध मामलों के दो नमूनों में भी यह विषाणु नहीं मिले हैं।

*राज्‍यों में हाईअलर्ट* 
इसके अलावा बिहार, हरियाणा और सिक्किम में इस खतरनाक वायरस को हाईअलर्ट जारी किया गया। इसके साथ ही लोगों को इसके प्रति जागरुक करने के अलावा अस्‍पतालों, होटलों आदि में विशेष निगरानी रखी जा रही है। जिन राज्‍यों में इस वायरस का प्रकोप फैला हुआ है वहां से आने वाले लोगों पर निगाह रखी जा रही है। इसको लेकर राज्‍य सरकारों ने अपने यहां पर एडवाइजरी भी जारी की है। केरल सरकार ने प यर्टकों को कोझिकोड, मलप्पुरम, वायनाड और कन्नूर जिलों की यात्रा न करने की सलाह दी है। एडवाइजरी के अनुसार फिलहाल इन जगहों पर निपाह वायरस फैलने का खतरा सबसे ज्यादा बना हुआ है। इस देखते हुए आसपास के राज्यों समेत खासतौर पर पर्यटकों को सलाह दी गई है।

*क्‍या कहते हैं जानकार* 
वैज्ञानिकों व चिकित्‍सा विशेषज्ञों का कहना है यदि बायोसिक्योरिटी को सख्त कर दिया जाए, तो वायरस को आने से रोका जा सकता है। गुरू अंगद देव वेटरनरी एंड एनिमल साइंस यूनिवर्सिटी के डीन कॉलेज ऑफ वेटरनरी डॉ. प्रकाश बराड़ के अनुसार बायोसिक्योरिटी का मतलब बायोलॉजिकल मटीरियल को फैलने से रोकना होता है। निपाह वायरस भी बायोलॉजिकल मटीरियल में आता है। यदि प्रभावित क्षेत्र के लोग बाहर न जाएं या बाहर के लोग प्रभावित क्षेत्र में न जाए, प्रभावित क्षेत्र किसी भी चीज को फिर चाहे वह फल, सब्जियां व अन्य तरह के खाद्य पदार्थ को दूसरी जगहों पर जाने से रोक दिया जाए तो वायरस को फैलने से रोका जा सकता है। उनका कहना है कि यह वायरस किसी भी चीज के जरिए मूवमेंट कर सकता है। फिलहाल लोग प्रभावित राज्य या जगह के आसपास में यात्रा करने से बचना चाहिए। गर्मियों के दिनों में बहुत से लोग छुट्टियां बिताने के लिए दक्षिण भारत व समुद्री तटों की यात्रा जाते हैं। इसके अलावा प्रभावित राज्यों से आने वाले फलों के सेवन से बचना चाहिए। क्योंकि खजूर व नारियल के पेड़ के पास चमगादड़ का आना-जाना रहता है। ऐसे में लोग कटे-फटे खजूर खाने से भी बचना चाहिए।

*निपाह वायरस के लक्षण* 
निपाह वायरस से संक्रमित मनुश्य को आमतौर पर बुखार, सिरदर्द, उनींदापन, मानसिक भ्रम, कोमा, विचलन होता है। निपाह वायरस से प्रभावित लोगों को सांस लेने की दिक्कत होती है और साथ में जलन महसूस होती है। वक्त पर इलाज नहीं मिलने पर मौत भी सकती है। इंसानों में निपाह वायरस एन्सेफलाइटिस से जुड़ा हुआ है, जिसकी वजह से ब्रेन में सूजन आ जाती है। डॉक्टरों के मुताबिक कुछ मामलों में 24-28 घंटे के अंदर लक्षण बढ़ने पर मरीज कोमा में भी चला जाता है।

*पहले भी ले चुका है लोगों की जान निपाह* 
भारत में निपाह वायरस का हमला पहली बार नहीं है। देश में निपाह वायरस का का पहला मामला वर्ष 2001 के जनवरी और फरवरी माह में पश्चिम बंगाल के सिलिगुड़ी में दर्ज किया गया है। इस दौरान 66 लोग निपाह वायरस से संक्रमित हुए थे। इनमें से उचित इलाज न मिलने की वजह से 45 लोगों की मौत हो गई थी। वहीं, निपाह वायरस का दूसरा हमला वर्ष 2007 में पश्चिम बंगाल के नदिया में दर्ज किया गया। उस वक्त पांच मामले दर्ज किए गए थे, इसमें से पांचों की मौत हो गई थी।

*कब-कब दर्ज किए गए निपाह के मामले* 
1998 में पहली बार मलेशिया के कांपुंग सुंगई निपाह में इसके मामले सामने आए थे। इसके एक वर्ष बाद वर्ष 1999 में सिंगापुर में निपाह वायरस के मामले दर्ज किए गए। हालांकि वायरस के उत्पत्ति स्थल कांपुंग सुंगई निपाह के आधार पर इसका नाम निपाह वायरस रखा गया। इसके बाद वर्ष 2004 में निपाह वायरस का मामला बांग्लादेश में दर्ज किया गया। इस वायरस का पहला मामला मलेशिया के पालतू सुअरों में पाया गया। इसके बाद वायरस अन्य पालतू जानवरों बिल्ली, बकरी, कुत्ता, घोड़ों और भेडों में फैलता चला गया। इसके बाद निपाह वायरस का हमला मनुष्यों पर हुआ।

*यह सावधानी बरतें* 
- स्वास्थ्य विभाग के निदेशक डॉ. बलदेव ठाकुर के अनुसार चमगादड़ों की लार या पेशाब के संपर्क में न आने से बचें।
- ऐसी जगहों पर भी न जाएं जहां पर चमगादड़ों का आना जाना लगा रहता हो।
- खासकर पेड़ से गिरे फलों को खाने से बचें।
- फलों को पानी में धोकर खाएं।
- संक्रमित सुअर और इंसानों के संपर्क में न आएं।
- जिन इलाकों में निपाह वायरस फैल गया है वहां न जाएं।
- व्यक्ति और पशुओं के पीने के पानी की टंकियों सहित बर्तनों को ढककर
- बाजार में कटे और खुले फल न खाएं।
- संक्रमित पशु के संपर्क में न आएं। खासकर सुअर के संपर्क में आने से बचें।
-निपाह वायरस के लक्षण पाए जाने पर तुरंत डॉक्टर के पास जाएं।

6 people found this helpful

My husband and me will meet only few days in a month. We are from a poor family so only that is possible. To conceive for sure is having sex on alternate days during fertile window enough?

MD-Ayurveda, Bachelor of Ayurveda, Medicine & Surgery (BAMS)
Sexologist, Haldwani
My husband and me will meet only few days in a month. We are from a poor family so only that is possible. To conceive...
Hello- Because sperm lasts several days in the human body, and a woman’s egg only last a maximum of 24 hours, the best time to have sex to get pregnant is a few days before ovulation should occur. Couples should begin having sex five days before a woman will ovulate and one day after ovulation. Couples should try to have sex at least every other day.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Why does my semen come out of the vagina after sex. We want to have children very soon. .am I not penetrating deep or not. .please advise..

MD
Gynaecologist, Mumbai
Expusion of semen is not abnormal howevre to retain the same it is advisable to 1. Do not remove the organ in a hurry 2. Pl have aillow under the hips and be realxe for 10-15mts to ensure minimal seepage.
Submit FeedbackFeedback

How to decrease breast size? I have big breast and I want to decrease them to normal size.

MBBS
General Physician, Mumbai
How to decrease breast size? I have big breast and I want to decrease them to normal size.
As of now I will suggest you to do suryanamaskar daily as per your capacity for a minimum of six months and followup
Submit FeedbackFeedback

I was pregnant but my baby died at 8mnth inside my womb because of my blood pressure was very high which didn't let the fetus 2grow.In the sonography it show the baby was IGUR. Pls suggest me from the next pregnancy what measures I have to take in order to get a healthy baby. In m 22 years old.

MBBS, DGO - Preventive & Social Medicine
Gynaecologist, Sri Ganganagar
I was pregnant but my baby died at 8mnth inside my womb because of my blood pressure was very high which didn't let t...
High bp is usually during first pregnancy. Just take care of your diet and blood pressure during your second pregnancy and things will be fine.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback
View All Feed