Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Book
Call

Dr. Srinivasa Rao M

General Physician, Bangalore

Book Appointment
Call Doctor
Dr. Srinivasa Rao M General Physician, Bangalore
Book Appointment
Call Doctor
Submit Feedback
Report Issue
Get Help
Feed
Services

Personal Statement

I pride myself in attending local and statewide seminars to stay current with the latest techniques, and treatment planning....more
I pride myself in attending local and statewide seminars to stay current with the latest techniques, and treatment planning.
More about Dr. Srinivasa Rao M
Dr. Srinivasa Rao M is one of the best General Physicians in Mysore Road, Bangalore. You can visit him at Srinivasa clinic in Mysore Road, Bangalore. Save your time and book an appointment online with Dr. Srinivasa Rao M on Lybrate.com.

Lybrate.com has a number of highly qualified General Physicians in India. You will find General Physicians with more than 36 years of experience on Lybrate.com. You can find General Physicians online in Bangalore and from across India. View the profile of medical specialists and their reviews from other patients to make an informed decision.

Info

Specialty
Languages spoken
English

Location

Book Clinic Appointment

Srinivasa clinic

Kas Temple Buldg, Mysore Road, ChamarajpetBangalore Get Directions
...more
View All

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr. Srinivasa Rao M

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

Hi My father is having diabetes. Is it worth to use apple cedar vinegar for my father to lessen the Diabetes.

MBBS, CCEBDM, Diploma in Diabetology
Endocrinologist, Hubli-Dharwad
Hi My father is having diabetes. Is it worth to use apple cedar vinegar for my father to lessen the Diabetes.
Mr. lybrate-user, Thanks for the query. If diabetes is present then first and foremost is to take appropriate modern medicines to control blood glucose, plus take a restricted diet that provides exact amount of calories based on ideal body weight, extent of daily exercise and blood glucose levels. Then one can look at so called other supportive remedies as mentioned by you. Blood glucose should be: FBG <100 mg, PP 160 to 170 mg & HbA1c%<7. If you have any further doubts please do come back. Thanks.
9 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I am having consistent premature ejaculation what are the tips to cure it? please sir tell me I feels to die by thinking this happening to me?

BHMS
Homeopath,
I am having consistent premature ejaculation what are the tips to cure it? please sir tell me I feels to die by think...
Dear lybrate user, kindly note that if you are unmarried & indulge in sexual relation after an interval of minimum 7 days then you are bound to discharge quickly during intercourse but that does not imply that you have any disease. It occurs due to loss of control of the muscles of penis. Normally it is seen that when a person does sexual intercourse daily he gains control over the muscles of penis & can stay longer during sex. You need to take homoeopathic mother tincture salix nigra q, 30 drops, thrice daily, after meals, in a cup of water to get rid of premature ejaculation. But before taking any medicine kindly notice whether you are having a second erection within 15 minutes of ejaculation for the first time. If you are not experiencing any erection within 15 minutes of ejaculation then you are surely suffering from erectile dysfunction. There will be a change of medication in this case. To get rid of erectile dysfunction you need to take homoeopathic mother tincture yohimbinum q, 30 drops, thrice daily, after meals, in a cup of water. Along with medicines you can also try a home therapy to boost your sexual performance. Soak 4-5 dry dates (khurma khajur) in a cup of lukewarm milk before going to bed daily. On waking up next morning eat those soaked dry dates & discard the milk. Repeat the process daily. This therapy often gives effective result within 15 days there are many conventional allopathic sexual pills in market such as adegra, viagra, penegra etc. Refrain yourself from using such pills as those pills contain a steroid called sildenafil. This steroid has a unique temporary effect on erectile problems. Patients using these pills for first time often report that their penis remain strong even after ejaculation. Such effects leads the patients to use sildenafil for prolonged course of time as they often feel that a full erection is possible only after taking sildenafil. Moreover it is very low cost & easy availability of this steroid has made it quite common as sexual medicine. But the bitter truth is prolonged use of sildenafil will permanently disable the normal physiological process behind erection & will render your body to become solely dependent upon sildenafil for erection. As a result you won't feel any slightest normal erection without taking sildenafil. This is an irreversible condition & it cannot be treated by any means. Once you attain this condition you become a life-time customer of that steroid sildenafil because you have to take sildenafil in order to satisfy your partner. As prevention is always better than cure I would advise you to check the composition of any sexual pills before buying. Discard any sexual pills which contains sildenafil in its composition. If you are suffering from premature ejaculation then along with medicine & home therapy you can try the kegel's exercise. You have to do this exercise once daily during the first time of urination after waking up from sleep at morning. Kindly note the following steps to perform the kegel's exercise:- 1) start urinating until you feel that you have voided almost half amount of urine from bladder. 2) when you feel you have voided almost half of the urine try to stop the flow of urine by squeezing the internal muscles of penis. 3) you should not use your hands to stop the flow. Your hands should be resting on your waist. You have to stop the urine only by your self control over the internal muscles of penis. 4) try to stop the urine flow by the control of internal muscles up to 20 seconds. On the very first day you won't be able to hold the urine for more than 3 seconds. However, practicing the exercise daily will improve your control over the muscles of penis & after 15-20 days you will be able to stop the urine for 20 seconds by the control of your pelvic muscles. This control of pelvic muscles will help you to get rid of premature ejaculation while you are performing sexual intercourse 5) after 20 seconds is over, void the rest of the urine. Do not stop the flow of urine for more than 30 seconds. N. P.- kegel's exercise is effective only in the case of premature ejaculation & it is not helpful for patients suffering from erectile dysfunction.
6 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I am having 6 months baby aged 29 years old. It's my 2nd baby and my tubectomy was done. Now I am having lower abdomen and back pain. Please suggest me remedy and also reason.

CCEBDM, PG Diploma In Clinical cardiology, MBBS
General Physician, Ghaziabad
I am having 6 months baby aged 29 years old. It's my 2nd baby and my tubectomy was done. Now I am having lower abdome...
Slight discomfort may persist for some time. Wait for 6 months if still problem get an ultra sound of pelvis
Submit FeedbackFeedback
Submit FeedbackFeedback

Autoimmune Diseases - 10 Diet Facts You Must Know

Diploma in Diet and Nutrition, B.Pharma, MD - Alternate Medicine
Dietitian/Nutritionist, Gurgaon
Autoimmune Diseases - 10 Diet Facts You Must Know

An autoimmune disease often develops when your immune system, which guards your body against any kind of illnesses, starts attacking your own body. It decides that your healthy cells are foreign and attacks the healthy cells. Depending upon the type of illness, an autoimmune disease can influence one or various types of body tissue. It can bring about unusual organ development and changes in organ functioning.

A good diet is essential and a basic requirement so that it does not trigger aggravation in the digestion systems and further weaken your intestines. The diet should be taken in small portions to avoid bloating in the stomach. One should eat in small portions after every two to three hours. Some of the dietary measures for an autoimmune disease are as follows-

  1. Stay away from gluten: In case you have an autoimmune disease, you generally require a lab test to know that you need to stay away from gluten. This protein, which is found in wheat, spelt, rye and grain, is connected to numerous immune system conditions.

  2. Locate your reactive foods and discontinue them: Even grains that do not contain gluten like corn and rice can cause reactions in the immune system in a few people. Atomic mimicry happens when your body confuses your own body tissue for the similar kind of proteins found in a few foods. See whether you are having any food that you might be allergic to.

  3. Include green tea and turmeric into your daily diet: They dampen the autoimmune reaction in many parts of the body especially the brain.

  4. Stay away from refined table salt: Table salt has been shown to irritate and aggravate some of the autoimmune conditions.

  5. Consume egg whites: They have anti-bacterial components and have the property to bind some of the nutrients. A few people will argue that they're fine when cooked. However, if you choose to just have the yolks, you can do so without any worry.

  6. Take a healthy meat diet: Some meats like chicken, fish, sheep and turkey are good for the health. Swordfish and lord mackerel are high in mercury. Select infection free chicken, turkey, and sheep.

  7. Consume low Glycemic Organic Fruits: Consume fruits including apples, apricots, avocados, berries, cherries, grapefruit, lemons, oranges, peaches, pears, plums for healthy glucose absorption.

  8. Coconut intake: Coconut margarine, coconut cream, coconut milk, coconut oil, unsweetened coconut pieces, unsweetened coconut yogurt are great for health.

  9. Herbs and Spices: Spices like basil, dark pepper, cilantro, coriander, cumin, garlic, ginger, lemongrass, mint, oregano, parsley, rosemary, sage, ocean salt and thyme should be used.

  10. Fermented food: Kimchi, cured ginger, aged cucumbers, coconut yogurt, kombucha, water kefir, and so forth need to be consumed for the vitamins and nutrients they contain. If you wish to discuss about any specific problem, you can consult a dietitian-nutritionist.

6178 people found this helpful

Hi Doctors, Now a days pollution is the major destruction to mankind, lungs are being killed slowly. I live in city conditions ,please suggest some ways to detox lungs.

PG Dip Diet, B.Sc. - Dietitics / Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Kolkata
Hi Doctors,
Now a days pollution is the major destruction to mankind, lungs are being killed slowly. I live in city c...
Drink plenty of water, fruits and vegetables that are naturally colourfull and consists of vitamin - C, A and E. Quit smoking.
Submit FeedbackFeedback

"O"-160+, "H"-80+, "AH"-40+, "BH"-20+ can you please tell me what does it mean and I am on which stage of typhoid?

International Academy of Classical Homeopathy, BHMS
Homeopath, Pune
Eye sight weak Take CARBONEUM SULPHURATUM 6c, one dose every morning for 1 week Week2: Take ARGENTINUM NIT 6c, one dose, every morning for 1 week Week3 to 6: Take Natrum Mur 30c, once a week for 1 month (not daily, only once a week, say only on Sundays) All these three medicines will help to increase the general health as well. 1. Take one Raw Carrot, grated and eaten fresh every morning (eating by slowly chewing is important for complete digestion. Grating externaly helps to chew) 2. Doing some simple eye excercise helps to maximize the benefit of eye nutrition medicines given above.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Neti Treatment - Nose Cleansing for Clear Breathing

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Ahmedabad
Neti Treatment - Nose Cleansing for Clear Breathing

You know that breathing is very much integral to staying alive. It is the only visible symptom that you are alive. Breathing helps in providing oxygen to the body which is essential to carry out various physiological processes. The nose is the organ through which we breathe and should be kept clean so that it does not interfere with the breathing process or cause any sort of breathing difficulty.

Therefore, cleaning your nose on a regular basis is very important in terms of improving your health and increasing your lifespan. Cleansing your nose on a regular basis can improve the quality of breath and help in protecting your breathing passage as well.

Ayurvedic treatment: Neti
Generally Ayurvedic techniques are considered to be the safest ways to clean your nose. Neti in Ayurveda is a cleansing procedure, which involves using a modified cup referred to as a nasal rinse cup.  The cup is filled with water or saline solution and is normally used to clear the breathing passages or the nostrils in particular. Neti is administered in the following steps:

  1. Prepare a saline solution by taking a quarter teaspoon of table salt and dissolve it in a cup of boiled and cooled or distilled water. You also need to take care of the fact that the salt is non-iodized.
  2. After preparing the solution you need to put it in the 'Neti' cup. Then put the nozzle of the vessel firmly against one of your nostril in such a way that the water does not leak out.
  3. Breathe in and out steadily through your mouth.
  4. Lift the pot and tilt it in a manner such that water enters your nostril. After half of the water has passed into your nostrils, remove the nozzle and let the water to run out of your nostril.
  5. Blow your nostril to remove any moisture that is left inside.
  6. Repeat the process with the other nostril.

It is very important to ensure that your nostrils are fully dry and no moisture is present inside as it might lead to further complications such as infection and inflammation within the nasal or the sinus cavities. It has been observed that using a nasal rinse cup during cold seasons helps to reduce nasal congestion to a great extent. Excessive cough or mucus can also be cleared up by using this particular method. It also helps to improve the quality of breath and it also helps you to relax and stay calm. If you wish to discuss about any specific problem, you can consult an Ayurveda.

5533 people found this helpful

I haven't been able to sleep since 2 days and I am having a severe headache, tried multiple home remedies, but didn't work, what to do? Please help me!

MBBS
General Physician, Trivandrum
I haven't been able to sleep since 2 days and I am having a severe headache, tried multiple home remedies, but didn't...
Follow these simple steps to ensure a good sleep every night and stay away from sleep disorders and other health problems associated with unhealthy sleep habits: 1) maintain a regular sleep routine go to bed at the same time. Wake up at the same time. Ideally, your schedule will remain the same (+/- 20 minutes) every night of the week. A good sleep hygiene routine promotes healthy sleep and daytime alertness. 2) avoid sleeping during the daytime. It can disturb the normal pattern. 3) avoid caffeine, nicotine, and alcohol near bedtime. While alcohol may speed the onset of sleep, it creates problems in he second half of sleep. 4) exercise can promote good sleep. Exercise should be taken in the morning or late afternoon. Yoga, can be done before bed to help. 5) have a quiet, comfortable bedroom. Set your bedroom thermostat at a comfortable temperature. Generally, a little cooler is better than a little warmer. Turn off the tv and other extraneous noise that may disrupt sleep. Background'white noise' like a fan is ok. If your pets awaken you, keep them outside the bedroom. Your bedroom should be dark. Turn off bright lights. Have a comfortable mattress. 6) avoid heavy meals close to bedtime. 7) ensure adequate exposure to natural light. 8) avoid emotionally upsetting conversations and activities before trying to go to sleep. Do not think of, or bring your problems to bed. 9) stop using all your digital devices and stop looking at digital screens be it mobile phones or televisions at least 1 hour before the time you plan to sleep. Instead try reading a fiction book near bedtime so it makes you help relaxed and de-stressed. Sleep well live healthy and live longer.
Submit FeedbackFeedback

I have deviated nasal septum (Dns) So doctor has suggested me 3 surgeries. What should be the combined cost of these 3 surgeries? 1.Septplasty 2.Radiofrequency nasal Turbinate reduction 3.Balloon dilatation of Sinuses And is it necessary to do all the 3 surgeries? And do I need to stay for 3 days in the hospital for these surgeries? Is it possible that in a day I can go home?

MBBS, Diploma in Otorhinolaryngology (DLO)
ENT Specialist, Bangalore
The problem is that Indian Insurance Companies have not woken up to the fact that medical technologies have come a long way in the last 60 years! Thus they insist on 24 hour hospitalisation for any surgery! If I were to do the above surgeries, and you were a cash paying patient, I would discharge you within 3 hours after surgery! If it was balloon sinuplasty along with RF assistedTurbinate Reduction, I can do it as an Office case! Under local anaesthesia in my clinic chambers, so no OT required! and you can go back to work immediately after the surgical procedure! However Septoplasty does require hospitalisation but can be discharged within 3 hours of surgery, however it also required daily follow-ups at my clinic to clean the nose so as to keep you comfortable for about 1 week.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I want to ask that which is the best medicine or what is the best way to keep viral infection away. And if I have viral suggest me some medicine and tips.

BHMS
Homeopath, Faridabad
I want to ask that which is the best medicine or what is the best way to keep viral infection away. And if I have vir...
Eat healthy and stay healthy is the best way to keep the infection at bay. but especially for viral infection u can take eupatorium perf 200, 5 drops in the morning empty for 3 days.
Submit FeedbackFeedback

I want to know if someone is diagnosed with chlamydia, but has had it for months or even years can it become a disease or can it get worse if left untreated can you die?

BHMS
Homeopath, Thane
I want to know if someone is diagnosed with chlamydia, but has had it for months or even years can it become a diseas...
Hi, Chlamydial infection if left untreated can be fatal.The person must undergo proper treatment as this will cure the infection and will not have chances of infection to anybody else.
Submit FeedbackFeedback

I am suffering from severe allergy problem and precaution is to be taken and what are the medicine to be used to avoid this problem and how much time we have to take this medicine.

BHMS
Homeopath, Faridabad
I am suffering from severe allergy problem and precaution is to be taken and what are the medicine to be used to avoi...
Hello, if you do have skin allergy, take homoeopathic medicines - schwabe's rhus tox. 30 and urtica urens 30 - both thrice daily for 4 weeks. Revert back after that.
Submit FeedbackFeedback
Submit FeedbackFeedback

I m 24 years old guy. Frm lst 3-4 years in summer days I used to get rashes n my back n neck area. And it turned to bruises n it looked like someone has burned my skin. Its soo painful as skin contracts as it become dry dat I m not able to wear my t shirts. Dr. havnt give me satisfactory anws. Dey used to say its sun allergy. Bt why I m getting ds every years in months of may n june. please hlp me out. By profession I m civil engg n I hve to wrk in opn atmosphere.

DHMS (Diploma in Homeopathic Medicine and Surgery)
Homeopath, Ludhiana
I m 24 years old guy. Frm lst 3-4 years in summer days I used to get rashes n my back n neck area. And it turned to b...
Homoeopathic treatment SULPHUR 30 ( Dr.Reckeweg) Drink 5 drops in 1 spoon fresh water today night 30 minutes after eating or drinking anything at bedtime. Nw forget about Sulphur 30 after this nd just keep it in your refrigerator.No need to further take this medicine.I will let u know what to do with this medicine afterwards. SUNCARE CREAM ( BAKSON ) Apply 30 minutes before going outsside nd again reapply after 3-4 hrss FORMULA-D TABS ( BAKSON ) Chew 1 tab 3 time a day for 1 month DERM-AID SOAP ( BAKSON) Use only thiss soap on body OINTMENT TOPI SULPHUR ( Wilmar Schwabe India) Apply locally twice daily Report after 1 month Eat nutritious diet Avoid nuts,chocklates,dry fruits,fasst,fried food.
Submit FeedbackFeedback

I am 37 years old I am always lazy inactiveness , always I will not to seeping , day time I will not to sleep long time but late night sleeping , brain not work Sharp , full time I am dull.

Reparenting Technique, BA, BEd
Psychologist, Bangalore
I am 37 years old I am always lazy inactiveness , always I will not to seeping , day time I will not to sleep long ti...
You are obviously depressed. You must go and meet with a counselor immediately and if that person advises that you meet with a doctor you must do so and cooperate to your utmost. Please visit these professionals along with your parents. In the meantime please do the following sincerely because you could resolve the problem better with good cooperation: Have a good night’s sleep, have a good breakfast of more proteins, meditate often, remain free of stress, eat a lot of fiber, nuts, avocado, exercise regularly, eat dark chocolate, do Yoga meditation exercises, etc. I suggest you do the opposite of what this depression makes you feel like doing (actually, not doing): you will need to fight this condition. You must become active; stay upright during the daylight time; meet people; never sleep during the day, wake up by 6 am every day, play some active games, especially contact games, do physical exercises, talk to people and join some social clubs, attend Yoga classes etc. Watch sitcoms on TV or comedies and cheer yourself up. Go for excursions in groups, for outings, camps, conferences, and religious conventions. Get a pet dog and spend time training it, exercising it and relating to it. Expose yourself to some sunlight every day, at least, 30 minutes but not in the scorching heat. Whatever happens, please incorporate these three important adaptations in your life: always be responsible, be respectful, and be functional. If you did these three, lots of things will go well in life. Please pray and have faith in God to alleviate your sufferings. Don’t wait for others to help. Use your own motivation, which might be at its lowest, but persevere and win this battle. Above all to be really happy, you need to live in love and for love. Learn all about emotions and how to handle them and that will get you out of the depression rather easily and quickly. A counselor is there only to facilitate you, all the hard word must come from you, and your cooperation with that person is very critical for your success. Be positive every day and learn to be contented with what you have. Do some left brain exercises: it is the happy brain. Here are a few suggestions: shut your left nostril and breathe, move your eyes from right to left and vice versa for at least half a minute at a time, and do callisthenic exercises with some form of counting, regularly. Whatever happens please cooperate with the therapy and do not discontinue until the condition is completely resolved.
3 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Cure Chicken Pox

Ayurveda, Delhi
Cure Chicken Pox

घरेलू उपचार
Remedies to cure chicken pox in hindi / varicella at home – चिकन पॉक्स (छोटी माता) को ठीक करने के घरेलू नुस्खे


चिकन पॉक्स एक फैलने वाली बीमारी है, जिसके पैदा होने का मुख्य कारण वैरीसेला जोस्टर (varicella-zoster) नामक वायरस (virus) होता है। यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में आसानी से हवा, थूक, म्यूकस (mucus) या किसी प्रभावित व्यक्ति के फोड़े फुंसियों से निकले द्रव्य से फ़ैल सकता है। संक्रमण वाला यह समय रैशेस (rashes) होने के 2 से 3 दिन पहले शुरू हो जाता है और तब तक चलता है, जब तक फोड़े फुंसियों के अंश सूखकर गिर ना जाएं।

चिकन पॉक्स (चेचक)के वायरस से संक्रमित होने के 15 से 20 दिनों के बाद आपके सारे शरीर पर खुजली के साथ लाल दाग और फोड़े फुंसी हो जाते हैं। चिकन पॉक्स के लक्षण, छोटी माता (choti mata) बीमारी के अन्य लक्षण हैं बुखार, थकान, भूख ना लगना और मांसपेशियों में दर्द रहना। यह एक सामान्य बीमारी है जो नवजात बच्चों, गर्भवती महिलाओं तथा कमज़ोर प्रतिरोधक क्षमता वाले व्यक्तियों को अपना शिकार बनाती है। इस बीमारी से बचने का एक सामान्य टीका है, जिसे ज़्यादातर लोगों को दिया जाता है।

चिकन पॉक्स (छोटी माता/choti mata) एक सामान्य संक्रमण है जो स्वस्थ बच्चों और व्यस्कों के लिए ज़्यादा घातक नहीं होता। इस संक्रमण के फलस्वरूप त्वचा पर छोटे छोटे दाग हो जाते हैं जिससे काफी खुजली होती है। कभी कभी यह काफी दर्दनाक भी हो जाता है तथा इसके साथ बुखार और सिरदर्द की समस्या भी होती है।

भीतरी जांघ पर चकत्ते के लिए प्राकृतिक घरेलू उपचार
चिकन पॉक्स के कारण (causes of chicken pox)

  • चिकन पॉक्स होने का सबसे सामान्य कारण एक व्यक्ति के शरीर में इस बीमारी का शिकार होने के 2 दिन के बाद दाग धब्बों का आना है।
  • चिकन पॉक्स के फ़टे दानों के संपर्क में आने पर आपको भी ये बीमारी हो सकती है।
  • प्रतिरोधक क्षमता का कमज़ोर होना
  • हर्पीस जोस्टर (herpes zoster) की वजह से यह बीमारी हो सकती है।
  • हवा में पैदा होने वाली पानी की बूँदों से भी चिकन पॉक्स की समस्या उत्पन्न हो सकती है।
  • चिकन पॉक्स के लक्षण (symptom of chicken pox)

चिकन पॉक्स के सामान्य फोड़े निकलने से पहले द्रव्य भरे फोड़े निकलना

  • बुखार
  • थकान
  • लाल और खुजली वाले दाने
  • फ़टे फोड़ों पर पपड़ी जैसी परत आना
  • भूख ना लगना
  • सिरदर्द

चिकन पॉक्स (छोटी माता) के उपचार एवं इसकी पीड़ा कम करने के कुछ नुस्खे – चेचक का घरेलू उपचार(here are some tips for hot to treat chicken pox and how to reduce the discomfort caused due to it)

कफ के उपचार के घरेलू नुस्खे
1. किसी डॉक्टर से सलाह करने के बाद पेरासिटामोल या एसेटामीनोफेन जैसी दवाइयाँ लें जिससे बुखार और दर्द कम होता है। दवाई के बारे में पढ़े बिना तथा डॉक्टर से सलाह किये बिना कोई भी दवाई ना लें।

2. अगर आपको अपनी खुजली से ज़्यादा ही पीड़ा और दर्द हो रहा है तो दुकान से एंटीहिस्टामिन्स लें। अगर यह स्थिति दवाई से ठीक न हो तो किसी डॉक्टर की सलाह लें। वह आपको सही मात्रा में एंटीहिस्टामिन्स की खुराक देगा।

3. चिकन पॉक्स का उपचार/छोटी माता का इलाज(choti mata ka ilaaj), शरीर में पानी की कमी को पूरा करने के लिए काफी पानी पीते रहें।

4. छोटी माता का इलाज(choti mata ka ilaaj) अपने खानपान में केवल हलके भोजन शामिल करें। नमकीन,तीखे,एसिड युक्त या ज़्यादा गर्म खाने से दूर रहे क्योंकि अगर आपके मुंह में छाले हैं तो इससे काफी हानि होगी।

5. कसे हुए कपडे ना पहनें क्योंकि इससे शरीर का तापमान बढ़ जाता है। हलके सूती के कपडे पहनें जो शरीर के तापमान को सामान्य रखते हैं।

6. अगर आपकी त्वचा में काफी जलन तथा पीड़ा हो रही हो तो त्वचा पर कैलामाइन लोशन लगाएं। इससे त्वचा को सुकून मिलेगा और आपको अपनी पीड़ा से मुक्ति।

7. अगर आप अपने घाव बुरी तरह खुजला देते हैं तो आपके घाव खुल जाते हैं जिन्हें ठीक होने में काफी समय लगता है। इससे संक्रमण भी हो सकता है। अतः अपने नाखून काटकर रखें और बच्चों के हाथ मोज़े या दस्तानों से ढककर रखें।

8. छोटी माता का घरेलू उपचार, अगर आपको इससे आराम मिले तो ठन्डे पानी से नहाएं। पानी में थोड़ा बेकिंग सोडा या दलिया डालें जिससे दर्द और खुजली से आराम मिलेगा।

9. किसी गंभीर समस्या की स्थिति में डॉक्टर को दिखाएँ।

10. चिकन पॉक्स की रोकथाम, बिना किसी डॉक्टर को दिखाए खुद की चिकित्सा करने का प्रयास न करें।

सिरदर्द भगाने के घरेलू नुस्खे

  • चिकन पॉक्स से बचने के घरेलू नुस्खे (homemade remedies to cure chickenpox/choti mata)
  • चिकन पॉक्स से बचने के लिए बेकिंग सोडा (baking soda)
  • बेकिंग सोडा चिकन पॉक्स के फलस्वरूप होने वाली खुजली और जलन को दूर करने में काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। एक गिलास पानी में एक चम्मच बेकिंग सोडा घोल लें और इस मिश्रण का प्रयोग अपने शरीर के प्रभावित भाग पर अच्छे से करके सूखने के लिए छोड़ दें।
  • चेचक का घरेलू उपचार नीम की पत्तियां (margosa or neem leaves)

तुरंत उपचार के लिए भारतीय नीम का प्रयोग करीबन हर घर में किया जाता है। नीम की पत्तियों में एंटीवायरल (antiviral) गुण होते हैं, जो प्रभावी रूप से चिकन पॉक्स का इलाज करके इसे ठीक करते हैं। ये आपके फोड़ों को सुखाने में काफी मदद करता हैं और इस बीमारी के समय होने वाली खुजली को भी काफी कम कर देता है। इस उपचार के लिए मुट्ठीभर नीम के पत्ते लें और इन्हें पीसकर एक सौम्य पेस्ट तैयार करें। इस पेस्ट का प्रयोग चिकन पॉक्स के फोड़ों पर करें। इन पत्तों को नहाने के गर्म पानी में डाल दें और इन्हें कुछ देर तक उबलने दें। इसके बाद नीम के पत्ते डले हुए इस पानी से स्नान कर लें। इससे आपको काफी बेहतरीन परिणाम प्राप्त होंगे।

नीम चिकन पॉक्स के इलाज में काफी कारगर साबित होता है, क्योंकि इसमें एंटीवायरल गुण (antiviral properties) होते हैं। यह फोड़े फुंसियों को सुखाने में काफी सहायता करता है और आपको खुजली से भी पूरी तरह निजात दिलाता है। नीम का प्रयोग करने का सबसे असरदार तरीका यह है कि ताज़ी नीम की पत्तियों को पीस लें और इनका प्रयोग अपने फोड़ों पर करें। आप नीम की पत्तियों को पानी में डुबोकर इस पानी से स्नान भी कर सकते हैं।

चिकन पॉक्स से बचने के लिए गाजर और धनिये के पत्ते (carrot and coriander leaves)

गाजर और धनिये के पत्ते दोनों की ही तासीर काफी ठंडी होती है, अतः इन दोनों का प्रयोग चिकन पॉक्स को ठीक करने तथा इसके दाग धब्बे दूर करने के लिए किया जा सकता है। चिकन पॉक्स की बीमारी के दौरान वे शरीर को आतंरिक रूप से ठंडक प्रदान करने में काफी प्रभावी साबित होते हैं। गाजर और धनिये की पत्तियों को मिश्रित करके एक सूप (soup) तैयार करें। इससे आपको त्वरित रूप से ठीक होने में काफी सहायता मिलती है। ये एंटीऑक्सीडेंट्स (antioxidants) से भी भरपूर होते हैं तथा इसी वजह से इनके प्रयोग से शरीर को जल्दी ठीक होने में काफी मदद मिलती है। एक गाजर को काटें और धनिये को भी छोटे छोटे टुकड़ों में काट लें। इन्हें आधे कप पानी में कुछ देर के लिए उबालें और फिर इस मिश्रण को छान लें। इसे कुछ देर तक ठंडा होने दें। रोज़ाना इस मिश्रण का एक महीने तक हल्की गर्म अवस्था में सेवन करें। इससे आपको अपनी गंभीर बीमारी से तेज़ी से उबरने में काफी मदद मिलेगी।

छोटी माता के उपाय, यह सूप चिकन पॉक्स के उपचार में काफी प्रभावशाली साबित होता है, क्योंकि यह एंटी ऑक्सीडेंट्स (antioxidants) से भरपूर होता है, जो इस बीमारी से ठीक होने के समय में आपकी काफी सहायता करते हैं। इस सूप को तैयार करने के लिए कुछ गाजरों को थोड़े से धनिये के पत्तों के साथ मिश्रित करके पानी में उबाल लें। अगर आपको बेहतरीन परिणाम प्राप्त करने हैं, तो एक महीने तक इस सूप का सेवन रोज़ाना अवश्य करें।

त्वचा पर लगी चोट ठीक करने के घरेलू नुस्खे
चिकन पॉक्स से बचने के लिए सूरजमुखी का फूल (marigold flower)

चिकन पॉक्स के दौरान चेहरे पर होने वाली खुजली से निजात दिलाने का यह काफी बेहतरीन उपाय साबित होता है। चिकन पॉक्स का आयुर्वेदिक उपचार, सूरजमुखी के फूलों तथा हैजेल (hazel) की पत्तियों को पानी में मिश्रित करें और इन्हें रातभर के लिए छोड़ दें। इन दोनों पदार्थों को पीसकर इनका एक पेस्ट (paste) बनाएं तथा त्वचा की खुजली से तुरंत निजात प्राप्त करने के लिए इसका प्रयोग अपने फोड़े फुंसियों तथा रैशेस पर करें।

विटामिन इ और चन्दन का तेल से छोटी माता का इलाज (choti mata ka ilaaj with vitamin e oil and sandalwood oil)

चिकन पॉक्स के लक्षणों से निजात प्राप्त करने के लिए इस तेल से बेहतर तरीका शायद ही कोई हो। इनमें से किसी भी तेल को दिन में दो बार लगाएं और चिकन पॉक्स के दौरान पैदा हुए लालपन, खुजली और फुंसियों में हुए दर्द से छुटकारा पाएं। इन तेलों से वो दाग भी होने से बचते हैं, जिनकी उत्पत्ति आमतौर पर चिकन पॉक्स के फोड़ों से होती है। ऐसा इसलिए संभव होता है क्योंकि इसमें ऐसे कंपाउंड्स (compounds) होते हैं, जिनकी मदद से धब्बे हलके होते हैं और त्वचा को सुकून मिलता है।

चेचक से बचने के लिए जई के आटे से स्नान (oatmeal bath)

यह चिकन पॉक्स से पैदा हुई खुजली को दूर करने का एक काफी प्रसिद्ध घरेलू उपाय है। जई के आटे को पीसकर एक महीन पाउडर का रूप दे दें और इसे गुनगुने पानी से भरे पानी के टब (bath tub) में मिश्रित कर दें। अब इस पानी में अपने शरीर को 20 मिनट तक डुबोकर रखें। आपको इस विधि के द्वारा चिकन पॉक्स के दर्द और खुजली से काफी आराम मिलेगा।

मलाशय को साफ़ करने के घरेलू नुस्खे
उनके लिए नुस्खे/उपचार जिनका प्रतिरक्षा तंत्र कमज़ोर है (tips to those who have weak immune system)

उनके लिए नुस्खे जिनका प्रतिरक्षा तंत्र कमज़ोर है अगर आपको इस संक्रमण के लक्षणों के बारे में पता चला है तो तुरंत चिकित्सकीय सहायता लें। जितनी जल्दी आप इस संक्रमण का इलाज करेंगे, इसका असर उतना ही कम भयानक होगा।beauty tips in hindi
Home घरेलू उपचार
घरेलू उपचार
Remedies to cure chicken pox in hindi / varicella at home – चिकन पॉक्स (छोटी माता) को ठीक करने के घरेलू नुस्खे

  • चिकन पॉक्स एक फैलने वाली बीमारी है, जिसके पैदा होने का मुख्य कारण वैरीसेला जोस्टर (varicella-zoster) नामक वायरस (virus) होता है। यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में आसानी से हवा, थूक, म्यूकस (mucus) या किसी प्रभावित व्यक्ति के फोड़े फुंसियों से निकले द्रव्य से फ़ैल सकता है। संक्रमण वाला यह समय रैशेस (rashes) होने के 2 से 3 दिन पहले शुरू हो जाता है और तब तक चलता है, जब तक फोड़े फुंसियों के अंश सूखकर गिर ना जाएं।
  • चिकन पॉक्स (चेचक)के वायरस से संक्रमित होने के 15 से 20 दिनों के बाद आपके सारे शरीर पर खुजली के साथ लाल दाग और फोड़े फुंसी हो जाते हैं। चिकन पॉक्स के लक्षण, छोटी माता (choti mata) बीमारी के अन्य लक्षण हैं बुखार, थकान, भूख ना लगना और मांसपेशियों में दर्द रहना। यह एक सामान्य बीमारी है जो नवजात बच्चों, गर्भवती महिलाओं तथा कमज़ोर प्रतिरोधक क्षमता वाले व्यक्तियों को अपना शिकार बनाती है। इस बीमारी से बचने का एक सामान्य टीका है, जिसे ज़्यादातर लोगों को दिया जाता है।
  • चिकन पॉक्स (छोटी माता/choti mata) एक सामान्य संक्रमण है जो स्वस्थ बच्चों और व्यस्कों के लिए ज़्यादा घातक नहीं होता। इस संक्रमण के फलस्वरूप त्वचा पर छोटे छोटे दाग हो जाते हैं जिससे काफी खुजली होती है। कभी कभी यह काफी दर्दनाक भी हो जाता है तथा इसके साथ बुखार और सिरदर्द की समस्या भी होती है।
  • भीतरी जांघ पर चकत्ते के लिए प्राकृतिक घरेलू उपचार
  • चिकन पॉक्स के कारण (causes of chicken pox)
  • चिकन पॉक्स होने का सबसे सामान्य कारण एक व्यक्ति के शरीर में इस बीमारी का शिकार होने के 2 दिन के बाद दाग धब्बों का आना है।
  • चिकन पॉक्स के फ़टे दानों के संपर्क में आने पर आपको भी ये बीमारी हो सकती है।
  • प्रतिरोधक क्षमता का कमज़ोर होना
  • हर्पीस जोस्टर (herpes zoster) की वजह से यह बीमारी हो सकती है।
  • हवा में पैदा होने वाली पानी की बूँदों से भी चिकन पॉक्स की समस्या उत्पन्न हो सकती है।
  • चिकन पॉक्स के लक्षण (symptom of chicken pox)


चिकन पॉक्स (छोटी माता) के उपचार एवं इसकी पीड़ा कम करने के कुछ नुस्खे – चेचक का घरेलू उपचार(here are some tips for hot to treat chicken pox and how to reduce the discomfort caused due to it)

कफ के उपचार के घरेलू नुस्खे
1. किसी डॉक्टर से सलाह करने के बाद पेरासिटामोल या एसेटामीनोफेन जैसी दवाइयाँ लें जिससे बुखार और दर्द कम होता है। दवाई के बारे में पढ़े बिना तथा डॉक्टर से सलाह किये बिना कोई भी दवाई ना लें।

2. अगर आपको अपनी खुजली से ज़्यादा ही पीड़ा और दर्द हो रहा है तो दुकान से एंटीहिस्टामिन्स लें। अगर यह स्थिति दवाई से ठीक न हो तो किसी डॉक्टर की सलाह लें। वह आपको सही मात्रा में एंटीहिस्टामिन्स की खुराक देगा।

3. चिकन पॉक्स का उपचार/छोटी माता का इलाज(choti mata ka ilaaj), शरीर में पानी की कमी को पूरा करने के लिए काफी पानी पीते रहें।

4. छोटी माता का इलाज(choti mata ka ilaaj) अपने खानपान में केवल हलके भोजन शामिल करें। नमकीन,तीखे,एसिड युक्त या ज़्यादा गर्म खाने से दूर रहे क्योंकि अगर आपके मुंह में छाले हैं तो इससे काफी हानि होगी।

5. कसे हुए कपडे ना पहनें क्योंकि इससे शरीर का तापमान बढ़ जाता है। हलके सूती के कपडे पहनें जो शरीर के तापमान को सामान्य रखते हैं।

6. अगर आपकी त्वचा में काफी जलन तथा पीड़ा हो रही हो तो त्वचा पर कैलामाइन लोशन लगाएं। इससे त्वचा को सुकून मिलेगा और आपको अपनी पीड़ा से मुक्ति।

7. अगर आप अपने घाव बुरी तरह खुजला देते हैं तो आपके घाव खुल जाते हैं जिन्हें ठीक होने में काफी समय लगता है। इससे संक्रमण भी हो सकता है। अतः अपने नाखून काटकर रखें और बच्चों के हाथ मोज़े या दस्तानों से ढककर रखें।

8. छोटी माता का घरेलू उपचार, अगर आपको इससे आराम मिले तो ठन्डे पानी से नहाएं। पानी में थोड़ा बेकिंग सोडा या दलिया डालें जिससे दर्द और खुजली से आराम मिलेगा।

9. किसी गंभीर समस्या की स्थिति में डॉक्टर को दिखाएँ।

10. चिकन पॉक्स की रोकथाम, बिना किसी डॉक्टर को दिखाए खुद की चिकित्सा करने का प्रयास न करें।

सिरदर्द भगाने के घरेलू नुस्खे

  • चिकन पॉक्स से बचने के घरेलू नुस्खे (homemade remedies to cure chickenpox/choti mata)
  • चिकन पॉक्स से बचने के लिए बेकिंग सोडा (baking soda)
  • बेकिंग सोडा चिकन पॉक्स के फलस्वरूप होने वाली खुजली और जलन को दूर करने में काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। एक गिलास पानी में एक चम्मच बेकिंग सोडा घोल लें और इस मिश्रण का प्रयोग अपने शरीर के प्रभावित भाग पर अच्छे से करके सूखने के लिए छोड़ दें।
  • चेचक का घरेलू उपचार नीम की पत्तियां (margosa or neem leaves)

तुरंत उपचार के लिए भारतीय नीम का प्रयोग करीबन हर घर में किया जाता है। नीम की पत्तियों में एंटीवायरल (antiviral) गुण होते हैं, जो प्रभावी रूप से चिकन पॉक्स का इलाज करके इसे ठीक करते हैं। ये आपके फोड़ों को सुखाने में काफी मदद करता हैं और इस बीमारी के समय होने वाली खुजली को भी काफी कम कर देता है। इस उपचार के लिए मुट्ठीभर नीम के पत्ते लें और इन्हें पीसकर एक सौम्य पेस्ट तैयार करें। इस पेस्ट का प्रयोग चिकन पॉक्स के फोड़ों पर करें। इन पत्तों को नहाने के गर्म पानी में डाल दें और इन्हें कुछ देर तक उबलने दें। इसके बाद नीम के पत्ते डले हुए इस पानी से स्नान कर लें। इससे आपको काफी बेहतरीन परिणाम प्राप्त होंगे।

नीम चिकन पॉक्स के इलाज में काफी कारगर साबित होता है, क्योंकि इसमें एंटीवायरल गुण (antiviral properties) होते हैं। यह फोड़े फुंसियों को सुखाने में काफी सहायता करता है और आपको खुजली से भी पूरी तरह निजात दिलाता है। नीम का प्रयोग करने का सबसे असरदार तरीका यह है कि ताज़ी नीम की पत्तियों को पीस लें और इनका प्रयोग अपने फोड़ों पर करें। आप नीम की पत्तियों को पानी में डुबोकर इस पानी से स्नान भी कर सकते हैं।

चिकन पॉक्स से बचने के लिए गाजर और धनिये के पत्ते (carrot and coriander leaves)

गाजर और धनिये के पत्ते दोनों की ही तासीर काफी ठंडी होती है, अतः इन दोनों का प्रयोग चिकन पॉक्स को ठीक करने तथा इसके दाग धब्बे दूर करने के लिए किया जा सकता है। चिकन पॉक्स की बीमारी के दौरान वे शरीर को आतंरिक रूप से ठंडक प्रदान करने में काफी प्रभावी साबित होते हैं। गाजर और धनिये की पत्तियों को मिश्रित करके एक सूप (soup) तैयार करें। इससे आपको त्वरित रूप से ठीक होने में काफी सहायता मिलती है। ये एंटीऑक्सीडेंट्स (antioxidants) से भी भरपूर होते हैं तथा इसी वजह से इनके प्रयोग से शरीर को जल्दी ठीक होने में काफी मदद मिलती है। एक गाजर को काटें और धनिये को भी छोटे छोटे टुकड़ों में काट लें। इन्हें आधे कप पानी में कुछ देर के लिए उबालें और फिर इस मिश्रण को छान लें। इसे कुछ देर तक ठंडा होने दें। रोज़ाना इस मिश्रण का एक महीने तक हल्की गर्म अवस्था में सेवन करें। इससे आपको अपनी गंभीर बीमारी से तेज़ी से उबरने में काफी मदद मिलेगी।

छोटी माता के उपाय, यह सूप चिकन पॉक्स के उपचार में काफी प्रभावशाली साबित होता है, क्योंकि यह एंटी ऑक्सीडेंट्स (antioxidants) से भरपूर होता है, जो इस बीमारी से ठीक होने के समय में आपकी काफी सहायता करते हैं। इस सूप को तैयार करने के लिए कुछ गाजरों को थोड़े से धनिये के पत्तों के साथ मिश्रित करके पानी में उबाल लें। अगर आपको बेहतरीन परिणाम प्राप्त करने हैं, तो एक महीने तक इस सूप का सेवन रोज़ाना अवश्य करें।

त्वचा पर लगी चोट ठीक करने के घरेलू नुस्खे
चिकन पॉक्स से बचने के लिए सूरजमुखी का फूल (marigold flower)

चिकन पॉक्स के दौरान चेहरे पर होने वाली खुजली से निजात दिलाने का यह काफी बेहतरीन उपाय साबित होता है। चिकन पॉक्स का आयुर्वेदिक उपचार, सूरजमुखी के फूलों तथा हैजेल (hazel) की पत्तियों को पानी में मिश्रित करें और इन्हें रातभर के लिए छोड़ दें। इन दोनों पदार्थों को पीसकर इनका एक पेस्ट (paste) बनाएं तथा त्वचा की खुजली से तुरंत निजात प्राप्त करने के लिए इसका प्रयोग अपने फोड़े फुंसियों तथा रैशेस पर करें।

विटामिन इ और चन्दन का तेल से छोटी माता का इलाज (choti mata ka ilaaj with vitamin e oil and sandalwood oil)

चिकन पॉक्स के लक्षणों से निजात प्राप्त करने के लिए इस तेल से बेहतर तरीका शायद ही कोई हो। इनमें से किसी भी तेल को दिन में दो बार लगाएं और चिकन पॉक्स के दौरान पैदा हुए लालपन, खुजली और फुंसियों में हुए दर्द से छुटकारा पाएं। इन तेलों से वो दाग भी होने से बचते हैं, जिनकी उत्पत्ति आमतौर पर चिकन पॉक्स के फोड़ों से होती है। ऐसा इसलिए संभव होता है क्योंकि इसमें ऐसे कंपाउंड्स (compounds) होते हैं, जिनकी मदद से धब्बे हलके होते हैं और त्वचा को सुकून मिलता है।

चेचक से बचने के लिए जई के आटे से स्नान (oatmeal bath)

यह चिकन पॉक्स से पैदा हुई खुजली को दूर करने का एक काफी प्रसिद्ध घरेलू उपाय है। जई के आटे को पीसकर एक महीन पाउडर का रूप दे दें और इसे गुनगुने पानी से भरे पानी के टब (bath tub) में मिश्रित कर दें। अब इस पानी में अपने शरीर को 20 मिनट तक डुबोकर रखें। आपको इस विधि के द्वारा चिकन पॉक्स के दर्द और खुजली से काफी आराम मिलेगा।

मलाशय को साफ़ करने के घरेलू नुस्खे
उनके लिए नुस्खे/उपचार जिनका प्रतिरक्षा तंत्र कमज़ोर है (tips to those who have weak immune system)

उनके लिए नुस्खे जिनका प्रतिरक्षा तंत्र कमज़ोर है अगर आपको इस संक्रमण के लक्षणों के बारे में पता चला है तो तुरंत चिकित्सकीय सहायता लें। जितनी जल्दी आप इस संक्रमण का इलाज करेंगे, इसका असर उतना ही कम भयानक होगा।

2 people found this helpful

Maine bachpan me hi hardwork kiya aur din me bhut baar exercise krta rhta tha, khana khane k baad v, jiski wajah se mere pet me packs bn gye jiski wajah se na hi mera hight bdha aur na hi mera body develop ho rha hai jaisa main 15 sal me tha waisa hi body aaj v hai mere stomach k tissue me koi development nhi ho rha jiski wajah se mera body breath nhi le pa rha please mujhe consult kre jisse mera stomach fale, lachila ho aur komal.

PGDCC, MD(Chest), PG Dip.Clin.Cardiology
Pulmonologist, Ghaziabad
Maine bachpan me hi hardwork kiya aur din me bhut baar exercise krta rhta tha, khana khane k baad v, jiski wajah se m...
Exercises never hamper your body growth even if you have been doing after meals, rather exercises always help you grow at your age. So don't be upset. Rest of the problems can be addressed after seeing you physically.
Submit FeedbackFeedback

Dear Doctor, I am suffering from severe shoulder pain for the past 2 years. Night sleep is very much disturbed. Neck pain is also giving much trouble. Cortisone shoulder injection also failed. No massage, physiotherapy exercises, ointment etc. Gives temporary relief to some extent only. Pl. Advise SKsamy.

MPT - Orthopedic Physiotherapy, BPTh/BPT
Physiotherapist, Noida
Dear Doctor,
I am suffering from severe shoulder pain for the past 2 years. Night sleep is very much disturbed. Neck ...
tk calcium supplements. keep continue ur physiotherapy but avoid exercise till relief. avoid strain like heavy weight. after relief do strength exercise in gradually process. it will help u u can tk laser therapy for better cure.
Submit FeedbackFeedback

I have persistent headache, and cough, and cold. Have backache too at my lower back. I guess it's arthritis. Comment.

MBBS
General Physician, Faridabad
I have persistent headache, and cough, and cold. Have backache too at my lower back. I guess it's arthritis. Comment.
take syr honey tus 1tsf tds, 1tab sinarest before bed,steam inhalation. saline gargles, do tooth brush before going to bed it will help you. Thank you
Submit FeedbackFeedback
View All Feed