Lybrate Mini logo
Lybrate for
Android icon App store icon
Ask FREE Question Ask FREE Question to Health Experts
Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}

Dr. Puttaswamaiah

MBBS, MD - Medicine

General Physician, Bangalore

41 Years Experience  ·  150 at clinic
Dr. Puttaswamaiah MBBS, MD - Medicine General Physician, Bangalore
41 Years Experience  ·  150 at clinic
Submit Feedback
Report Issue
Get Help
Feed
Services

Personal Statement

Hello and thank you for visiting my Lybrate profile! I want to let you know that here at my office my staff and I will do our best to make you comfortable. I strongly believe in ethics; a......more
Hello and thank you for visiting my Lybrate profile! I want to let you know that here at my office my staff and I will do our best to make you comfortable. I strongly believe in ethics; as a health provider being ethical is not just a remembered value, but a strongly observed one.
More about Dr. Puttaswamaiah
Dr. Puttaswamaiah is a trusted General Physician in Marathahalli, Bangalore. He has over 41 years of experience as a General Physician. He studied and completed MBBS, MD - Medicine . You can consult Dr. Puttaswamaiah at Deepa Nursing Home in Marathahalli, Bangalore. Book an appointment online with Dr. Puttaswamaiah and consult privately on Lybrate.com.

Lybrate.com has a number of highly qualified General Physicians in India. You will find General Physicians with more than 30 years of experience on Lybrate.com. You can find General Physicians online in Bangalore and from across India. View the profile of medical specialists and their reviews from other patients to make an informed decision.

Info

Specialty
Education
MBBS - Mysore Medical College, - 1976
MD - Medicine - Bangalore Medical College and Research Institute, Bangalore, - 1995
Languages spoken
English
Professional Memberships
Indian Medical Association (IMA)

Location

Book Clinic Appointment

#25, Deepa Nursing Home, Marathahalli. Landmark: Behind Indian Oil Petrol BankBangalore Get Directions
150 at clinic
...more
View All

Consult Online

Text Consult
Send multiple messages/attachments
7 days validity
Consult Now

Services

View All Services

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

Hello doctor I am having esnophelia very severely and I take food heavily I want to control both the things and my weight.

MBBS, MD - Internal Medicine
General Physician, Delhi
Dear , can you plaese tell me your absolute eosinophil count? there can be many causes of eosinophilia and we can narrow down to the causes based on the levels. Have you ever done your blood sugar test? diabetes is one of the commonest cause of eating too much.
You found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I have cold, wet cough with fever and my body is paining from last 5 day plzz suggest me medicine which effected fastly because my marriage is on 22 feb.

MBBS
General Physician, Cuttack
I have cold, wet cough with fever and my body is paining from last 5 day plzz suggest me medicine which effected fast...
1. Take one tablet of paracetamol 500mg 2-3 times daily after food 2. Do warm saline gurgling and steam inhalation with karvol plus inhalant capsule 3-4 times daily 3. Put otrivin nasal drop one drop thrice daily 4. Take viscodyne d syrup 2tsf thrice daily 4. You may have to take antibiotic along with it if no relief 5. Consult me for further advice.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Hi, I want to know medication for chronic constipation. A situation where motion is not smooth and it takes a lot of time to be relieved.

MBBS, MD - Internal Medicine
Internal Medicine Specialist, Faridabad
Hi,

I want to know medication for chronic constipation. A situation where motion is not smooth and it takes a lot of...
You can take tab. Charcol at night. Syp. Aristozyme 10 ml thrice a day.syp. Livoluk 10 ml at night. These can help cure in constipation.take green veg., salaad in meal. Papaya at night.grapes at night,one apple daily in morning. Banana in morning, juice,whole grain ,oats,more fiber meal,digestive foods, plenty of water during day and 1 glass of water before meal, avoid bad habits...stress ,alcohol, smoking, non-veg.,avoid fatty meal,oily foods. To confirm cause of constipation go for tests stool r/m, stool c/s,lft,blood sugar,cbc,usg whole abdomen ,x ray barium meal for examination for rectum,sigmoid, best tests is endoscopy for large intestine . go for walk daily im morning.
You found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I'm suffering from fever from 7 to 8 days and what should I do for it please help me.

MBBS
General Physician, Mumbai
I'm suffering from fever from 7 to 8 days and what should I do for it please help me.
For fever take tablet paracetamol 650 mg and we have to diagnose the cause and hence Get your blood checked for cbc, mp , widal , sgpt and urine r/m and revert back to us with reports
You found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I am taking metformin 850 my blood sugar 139 fasting with proper diet. Can I continue with this ?

CCEBDM, PG Diploma In Clinical cardiology, MBBS
Cardiologist, Ghaziabad
I am taking metformin 850 my blood sugar 139 fasting with proper diet. Can I continue with this ?
It needs further control. Get both f/pp blood sugar and hba1c 1. No alcohol 2. Reduce body wt 3. No smoking/ tobacco 4. Diet - no ghee/ butter, have mix of vegetable oils - mustard, til, ground nut, olive oil, have more green vegetables and fruits, have whole grain atta, no fried. Fast. Spicy / processed/ junk food. Less sugar, potato, rice 5.30 mts brisk walk daily 6. Deep breathing exercise for 10 mts daily 7. Meditation daily for 10 mts. 6-8 hrs of sleep at night 8. Expose your body to sun for 15-20 mts daily after some oil massage to get vit d. For medicine contact on private chat. Good luck.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I am suffering from pain and swelling in my ankle and foot I went to my doctor Mr. sumeet bajaj my doctor wrote me some medical Test 1. Serum uric Acid 2.Rheumatoid factor (RA BY L ATEX METHOD) 3. CRP (Quantitative) my uric Acid is 5.70 my CRP is 4.76 and my Rheumatoid factor is Negative. But my medical Test are Normal my doctor sumeet bajaj told me I could not understand your problem. My doctor advised me to meet other doctor. I am totally confused please tell me what is my problem and give me medical test, medicine and Home remedies for my problem. Please give me best advice.

BHMS
Homeopath, Secunderabad
I am suffering from pain and swelling in my ankle and foot I went to my doctor Mr. sumeet bajaj my doctor wrote me so...
Some times the test results come negative (which is fortunately good for you) and it's difficult to come to a definite diagnosis.In the meanwhile you can focus on exercise and diet. If you are overweight then plan to reduce weight accordingly. If it persists then you may need further investigations. You can also try homeopathy which is safe and gentle and bit habit forming. You can revert back to me if needed for a private consultations, for a detailed case study,
2 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

What type of food he must consume in rainy season for good health?

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda,
What type of food he must consume in rainy season for good health?
Ayurveda primarily aims at maintaining the health of a healthy individual. rainy season in ayurveda is termed as VARSHA RUTHU . ayurveda is based on tridoshas I. e VATA PITTA KAPHA. balance among these three results in healthy body . imbalance causes diseases. ayurveda has explained that even seasons have the effect on these tridoshas and so on body . therefor in rainy reason there is vitiation of VATA dosh n pitta dosh .thus this causes various diseases in rainy season so follow such diet nd lifestyle that is helpful in balancing these two. during rainy season there will be general weakness in the body . DIET TO BE FOLLOWED : --since your digestion will b sluggish so u need to take light and fresh food prepared from wheat ,barley,rice. --avoid excess fluid intake as this will further lower your metabolic rate. --include lean meat ,cow ghee,lentils ,green gram ,in yo diet. --take sour and salted soups of vegetables ,onion,lean meat. --take small piece of ginger with rocksalt before meals . --drink boiled and cooled water with honey . --avoid Uncooked raw foods,stale foods,leafy vegetables, curd,red meat. --can consume buttermilk instead of curds . --on the whole avoid foods that take long time to digest .
You found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I am having a light pain in my lower stomach from four days. what to do?

MBBS
General Physician,
I am having a light pain in my lower stomach from four days. what to do?
Hello, This may be because of acidity/ indigestion/ gas you can take 1. Tablet Meftal spas one tablet stat after food 2. Tablet Pantocid 40 mg before food once a day for 2-3 days. And follow care advises given below. Avoid food from outside, junk, fried, spicy fatty food take home made light food like moong dal, Dalia, chapatti also tell me associated symptoms like vomiting sensation, loose motion/ burning sensation in chest or any other symptoms are present or not? so that we can reach diagnosis. Kindly consult physician for further management
You found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I am 45 year old and in the first stage of diabetes.Can I control my sugar level without medicine? if possible, then how.

DHMS (Diploma in Homeopathic Medicine and Surgery)
Homeopath, Ludhiana
Now see ,My suggestion is that u should try Homoeopathy firstly,for 2-3 months and if results r favourable,continue these mediciness and without any side effects. Syzizium jumbolanum Q ( Dr.Reckeweg ) 20 drop tds 10 min.Before meals Cephlandra indica @ ( SBL ) 20 drops bd 10 min. After meals do regular morning walk,avoid extra sweets in daily routine,lead a stress free life.
You found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I am suffering for cold from last two years, I take lots of medicine consult with doctor also but till now not 100 percent cure, please give me suggestions?

Doctor of Medicine
General Physician, Surat
I am suffering for cold from last two years, I take lots of medicine consult with doctor also but till now not 100 pe...
Stop taking the medicine because cold is not the disease condition and may not need any treatment, drink more water, try some steam inhalation, stay away from the allergen if it is known.
You found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Hi sir I hv some issues here that is in my pennies skin getting white mark on skin and getting bad smell in pennies so what should I do for this, give me right solution or there is any oil, ailment sir pls help me soon.

BHMS
Homeopath,
Hi sir I hv some issues here that is in my pennies skin getting white mark on skin and getting bad smell in pennies s...
Hi .It's called smegma. Wash the end of the penis (the glans) each day. Pull the foreskin back gently whilst in the bath or shower. Then gently clean the glans using just water, or water and a bland soap. Make sure the penis including the glans is dry before you put on underpants. Homoepathic treatment cures it without side effects permanently. .you can consult me by clicking on consult option for homoepathic treatment.
You found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I am watching porn my age is 16 I feel like my hands are shaking do you think I am not eligible to give birth to a child? and whats the remedy. And your advice.

DGO, MBBS
Sexologist,
You have anxiety due to which your hands shake, relax, play games, watch good movies. It has nothing to do with giving birth.
2 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

सेक्स में कैसे आती है उत्तेजना

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Sexologist, Allahabad
सेक्स में कैसे आती है उत्तेजना
पेनिस (लिंग) में इरेक्शन विचार से होता है, स्पर्श से होता है। दिमाग में एक सेक्स सेंटर है। जब वह उत्तेजित होता है तो संदेश लिंग की तरफ जाता है। बदन में खून का प्रवाह तेज हो जाता है। पूरे शरीर में पेनिस में खून का प्रवाह सबसे ज्यादा तेज होता है। इसी वजह से लिंग में उत्तेजना ओर स्त्रियों की योनि में गीलापन आता है। पेनिस के इरेक्शन के लिए योग्य हॉर्मोन का होना जरूरी है। पुरुषों में 60 साल के बाद और महिलाओं में 45 साल के बाद हॉर्मोन की कमी होने लगती है।

इरेक्टाइल डिस्फंक्शन क्या है: सेक्स के दौरान या उससे पहले पेनिस में इरेक्शन (तनाव) के खत्म हो जाने को इरेक्टाइल डिस्फंक्शन या नपुंसकता कहते हैं। इरेक्टाइल डिस्फंक्शन कई तरह का हो सकता है। हो सकता है, कुछ लोगों को बिल्कुल भी इरेक्शन न हो, कुछ लोगों को सेक्स के बारे में सोचने पर इरेक्शन हो जाता है, लेकिन जब सेक्स करने की बारी आती है, तो पेनिस में ढीलापन आ जाता है। इसी तरह कुछ लोगों में पेनिस वैजाइना के अंदर डालने के बाद भी इरेक्शन की कमी हो सकती है। इसके अलावा, घर्षण के दौरान भी अगर किसी का इरेक्शन कम हो जाता है, तो भी यह इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की निशानी है।

इरेक्शन सेक्स पूरा हो जाने के बाद यानी इजैकुलेशन के बाद खत्म होना चाहिए। कई बार लोगों को वहम भी हो जाता है कि कहीं उन्हें इरेक्टाइल डिस्फंक्शन तो नहीं। सीधी सी बात है कि आप जिस काम को करने की कोशिश कर रहे हैं, वह काम अगर संतुष्टिपूर्ण तरीके से कर पाते हैं तो सब ठीक है और नहीं कर पा रहे हैं तो समस्या हो सकती है। जिन लोगों में यह दिक्कत पाई जाती है, वे चिड़चिड़े हो सकते हैं और उनका कॉन्फिडेंस लेवल भी कम हो सकता है। वजह: इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की वजह शारीरिक भी हो सकती है और मानसिक भी। अगर किसी खास समय इरेक्शन होता है और सेक्स के समय नहीं होता, तो इसका मतलब यह समझना चाहिए कि समस्या मानसिक स्तर की है। खास समय इरेक्शन होने से मतलब है- सुबह सोकर उठने पर, पेशाब करते वक्त, मास्टरबेशन के दौरान या सेक्स के बारे में सोचने पर। अगर इन स्थितियों में भी इरेक्शन नहीं होता तो समझना चाहिए कि समस्या शारीरिक स्तर पर है। अगर समस्या मानसिक स्तर पर है तो साइकोथेरपी और डॉक्टरों द्वारा बताई गई कुछ सलाहों से समस्या सुलझ जाती है।


- शारीरिक वजह ये चार हो सकती हैं : चार छोटे एस (S) बड़े एस यानी सेक्स को प्रभावित करते हैं। ये हैं : शराब, स्मोकिंग, शुगर और स्ट्रेस।- हॉर्मोंस डिस्ऑर्डर्स इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की एक खास वजह है।- पेनिस के सख्त होने की वजह उसमें खून का बहाव होता है। जब कभी पेनिस में खून के बहाव में कमी आती है तो उसमें पूरी सख्ती नहीं आ पाती और इरेक्टाइल डिस्फंक्शन जैसी दिक्कतें शुरू हो जाती हैं। कुछ लोगों के साथ ऐसा भी होता है कि शुरू में तो पेनिस के अंदर ब्लड का फ्लो पूरा हो जाता है, लेकिन वैजाइना में एंटर करते वक्त ब्लड का यह फ्लो वापस लौटने लगता है और पेनिस की सख्ती कम होने लगती है।- नर्वस सिस्टम में आई किसी कमी के चलते भी यह समस्या हो सकती है। यानी न्यूरॉलजी से जुड़ी समस्याएं भी इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की वजह हो सकती हैं।- हमारे दिमाग में सेक्स संबंधी बातों के लिए एक खास केंद्र होता है। इसी केंद्र की वजह से सेक्स संबंधी इच्छाएं नियंत्रित होती हैं और इंसान सेक्स कर पाता है। इस सेंटर में अगर कोई डिस्ऑर्डर है, तो भी इरेक्टाइल डिस्फंक्शन हो सकता है।- कई बार लोगों के मन में सेक्स करने से पहले ही यह शक होता है कि कहीं वे ठीक तरह से सेक्स कर भी पाएंगे या नहीं। कहीं पेनिस धोखा न दे जाए। मन में ऐसी शंकाएं भी इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की वजह बनती हैं। इसी डर की वजह से लॉन्ग-टर्म में व्यक्ति सेक्स से मन चुराने लगता है और उसकी इच्छा में कमी आने लगती है।- डॉक्टरों का मानना है कि 80 फीसदी मामलों में इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की वजह शारीरिक होती है, बाकी 20 फीसदी मामले ऐसे होते हैं जिनमें इसके लिए मानसिक कारण जिम्मेदार होते हैं।ट्रीटमेंटपहले इस समस्या को आहार-विहार और कसरत करने से ठीक करने की कोशिश की जाती है, लेकिन जब इससे कोई फर्क नहीं पड़ता तो कोई भी ट्रीटमेंट शुरू करने से पहले डॉक्टर समस्या की असली वजह का पता लगाते हैं। इसके लिए कई तरह के टेस्ट किए जाते हैं। वजह के अनुसार आमतौर पर इलाज के तरीके ये हैं:1. हॉर्मोन थेरपी : अगर इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की वजह हॉर्मोन की कमी है तो हॉर्मोन थेरपी की मदद से इसे दो से तीन महीने के अंदर ठीक कर दिया जाता है। इस ट्रीटमेंट का कोई साइड इफेक्ट नहीं होता।2. ब्लड सप्लाई : जब कभी पेनिस में आर्टरीज की ब्लॉकेज की वजह से ब्लड सप्लाई में कमी आती है, तो दवाओं की मदद से इस ब्लॉकेज को खत्म किया जाता है। इससे पेनिस में ब्लड की सप्लाई बढ़ जाती है और उसमें तनाव आने लगता है।3. सेक्स थेरपी : कई मामलों में समस्या शारीरिक न होकर दिमाग में होती है। ऐसे मामलों में सेक्स थेरपी की मदद से मरीज को सेक्स संबंधी विस्तृत जानकारी दी जाती है, जिससे वह अपने तरीकों में सुधार करके इस समस्या से बच सकता है।4. वैक्यूम पंप, इंजेक्शन थेरपी और वायग्रा : वैक्यूम पंप, इंजेक्शन थेरपी और वायग्रा जैसे ड्रग्स की मदद से भी इरेक्टाइल डिस्फंक्शन को दूर किया जा सकता है। वैसे कुछ डॉक्टरों का मानना है कि वैक्यूम पंप और इंजेक्शन थेरपी अब पुराने जमाने की बात हो चुकी हैं।- वैक्यूम पंप : आजकल बाजार में कई तरह के वैक्यूम पंप मौजूद हैं। रोज अखबारों में इसके तमाम ऐड आते रहते हैं। इसकी मदद से बिना किसी साइड इफेक्ट के इरेक्टाइल डिस्फंक्शन का हल निकाला जा सकता है। वैक्यूम पंप एक छोटा सा इंस्ट्रूमेंट होता है। इसकी मदद से पेनिस के चारों तरफ 100 एमएम (एचजी) से ज्यादा का वैक्यूम बनाया जाता है जिससे पेनिस में ब्लड का फ्लो बढ़ने लगता है, और तीन मिनट के अंदर उसमें पूरी सख्ती आ जाती है। लगभग 80 फीसदी लोगों को इससे फायदा हो जाता है। चूंकि इसमें कोई दवा नहीं दी जाती है, इसलिए इसका कोई साइड इफेक्ट भी नहीं है। वैक्यूम पंप आमतौर पर उन लोगों के लिए है जो 50 की उम्र के आसपास पहुंच गए हैं। यंग लोगों को इसकी सलाह नहीं दी जाती है, फिर भी जो भी इसका इस्तेमाल करे, उसे डॉक्टर की सलाह जरूर ले लेनी चाहिए।- वायग्रा : इरेक्टाइल डिस्फंक्शन के लिए वायग्रा का इस्तेमाल अच्छा ऑप्शन है, लेकिन इसका इस्तेमाल किसी भी सूरत में बिना डॉक्टरी सलाह के नहीं करना चाहिए। वायग्रा में मौजद तत्व उस केमिकल को ब्लॉक कर देते हैं, जो पेनिस में होने वाले ब्लड फ्लो को रोकने के लिए जिम्मेदार है। इससे पेनिस में ब्लड का फ्लो बढ़ जाता है और फिर इरेक्शन आ जाता है। वायग्रा इरेक्टाइल डिस्फंक्शन को ठीक करने में फायदेमंद तो साबित होती है, लेकिन यह महज एक टेंपररी तरीका है। इससे समस्या की वजह ठीक नहीं होती।इनका असर गोली लेने के चार घंटे तक रहता है। वायग्रा बिना डॉक्टर की सलाह के नहीं लेनी चाहिए। कई मामलों में इसे लेने के चलते मौत भी हुई हैं। गोली लेने के 15 मिनट बाद असर शुरू हो जाता है।अगर हाई और लो ब्लडप्रेशर, हार्ट डिजीज, लीवर से संबंधित रोग, ल्यूकेमिया या कोई एलर्जी है तो वायग्रा लेने से पहले विशेष सावधानी रखें और डॉक्टर की सलाह के मुताबिक ही चलें।- सर्जरी : जब ऊपर दिए गए तरीके फेल हो जाते हैं, तो अंतिम तरीके के रूप में पेनिस की सर्जरी की जाती है।प्रीमैच्योर इजैकुलेशनप्रीमैच्योर इजैकुलेशन या शीघ्रपतन पुरुषों का सबसे कॉमन डिस्ऑर्डर है। सेक्स के लिए तैयार होते वक्त, फोरप्ले के दौरान या पेनिट्रेशन के तुरंत बाद अगर सीमेन बाहर आ जाता है, तो इसका मतलब प्रीमैच्योर इजैकुलेशन है। ऐसी हालत में पुरुष अपनी महिला पार्टनर को पूरी तरह संतुष्ट किए बिना ही फारिग हो जाता है। यह एक ऐसी स्थिति है, जिसमें पुरुष का अपने इजैकुलेशन पर कोई अधिकार नहीं होता। आदर्श स्थिति यह होती है कि जब पुरुष की इच्छा हो, तब वह इजैकुलेट करे, लेकिन प्रीमैच्योर इजैकुलेशन की स्थिति में ऐसा नहीं होता।- सेरोटोनिन जैसे न्यूरो ट्रांसमिटर्स की कमी से प्रीमैच्योर इजैकुलेशन की समस्या हो सकती है।- यूरेथेरा, प्रोस्टेट आदि में अगर कोई इंफेक्शन है, तो भी प्रीमैच्योर इजैकुलेशन हो सकता है।- दिमाग में मौजूद सेक्स सेंटर एरिया में अगर कोई डिस्ऑर्डर है तो भी सीमेन का डिस्चार्ज तेजी से होता है।- कुछ लोगों के पेनिस में उत्तेजना पैदा करने वाले न्यूरोट्रांसमिटर्स ज्यादा संख्या में होते हैं। इनकी वजह से ऐसे लोगों में टच करने के बाद उत्तेजना तेजी से आ जाती है और वे जल्दी क्लाइमैक्स पर पहुंच जाते हैं।- कई बार एंग्जायटी, टेंशन और सीजोफ्रेनिया की वजह से भी ऐसा हो सकता है।दवाएं : प्रीमैच्योर इजैकुलेशन की वजह को जानने के बाद उसके मुताबिक खाने की दवाएं दी जाती हैं। इनकी मदद से प्रीमैच्योर इजैकुलेशन को पूरी तरह ठीक किया जा सकता है। इसमें करीब दो महीने का वक्त लगता है। इन दवाओं के कोई साइड इफेक्ट भी नहीं हैं।इंजेक्शन थेरपी: अगर खाने की दवाओं से काम नहीं चलता तो इंजेक्शन थेरपी दी जाती है। इनसे तीन मिनट के अंदर पेनिस हार्ड हो जाता है और यह हार्डनेस 30 मिनट तक बरकरार रहती है। इसकी मदद से कोई भी शख्स सही तरीके से सेक्स कर सकता है। ये इंजेक्शन कुछ दिनों तक दिए जाते हैं। इसके बाद खुद-ब-खुद उस शख्स का अपने इजैकुलेशन पर कंट्रोल होने लगता है और फिर इन इंजेक्शन को छोड़ा जा सकता है।टोपिकल थेरपी : यह टेंपररी ट्रीटमेंट है। इसमें कुछ खास तरह की क्रीम का यूज किया जाता है। इन क्रीम की मदद से डिस्चार्ज का टाइम बढ़ जाता है। इनका भी कोई साइड इफेक्ट नहीं होता।सेक्स थेरपी : दवाओं के साथ मरीज को कुछ एक्सरसाइज भी सिखाई जाती हैं। ये हैं :स्टॉप स्टार्ट टेक्निक : पार्टनर की मदद से या मास्टरबेशन के माध्यम से उत्तेजित हो जाएं। जब आपको ऐसा लगे कि आप क्लाइमैक्स तक पहुंचने वाले हैं, तुरंत रुक जाएं। खुद को कंट्रोल करें और सुनिश्चित करें कि इजैकुलेशन न हो। लंबी गहरी सांस लें और कुछ पलों के लिए रिलैक्स करें। कुछ पलों बाद फिर से पेनिस को उत्तेजित करना शुरू कर दें। जब क्लाइमैक्स पर पहुंचने वाले हों, तभी रोक लें और रिलैक्स करें। इस तरह बार बार दोहराएं। कुछ समय बाद आप महसूस करेंगे कि शुरू करने और स्टॉप करने के बीच का समय धीरे धीरे ज्यादा हो रहा है। इसका मतलब है कि आप पहले के मुकाबले ज्यादा समय तक टिक रहे हैं। लगातार प्रैक्टिस करने से इजैकुलेशन कब हो इस पर काबू पाया जा सकता है।कीजल एक्सरसरइज : कीजल एक्सरसाइज न सिर्फ प्रीमैच्योर इजैकुलेशन को कंट्रोल करने में सहायक है, बल्कि प्रोस्टेट से संबंधित समस्याएं भी इससे ठीक की जा सकती हैं। इसके लिए पेशाब करते वक्त स्क्वीज, होल्ड, रिलीज पैटर्न अपनाना होता है। यानी पेशाब का फ्लो शुरू होते ही मसल्स का स्क्वीज करें, कुछ पलों के लिए रुकें और फिर से रिलीज कर दें। इस दौरान इस प्रॉसेस का बार बार दोहराएं। इन सेक्स एक्सरसाइज की प्रैक्टिस अगर कोई शख्स चार हफ्ते तक लगातार कर लेता है तो उसके बाद वह 8 से 10 मिनट तक बिना इजैकुलेशन के इरेक्शन बरकरार रख सकता है। कई बार ऐसा भी देखा गया है कि काफी टाइम बाद सेक्स करने से भी व्यक्ति जल्दी स्खलित हो जाता है। ऐसे मामलों में इन एक्सरसाइजों को कर लिया जाए तो इस समस्या से भी निजात पाई जा सकती है।मास्टरबेशनसेक्स के दौरान पेनिस जो काम योनि में करता है, वही काम मास्टरबेशन के दौरान पेनिस मुट्ठी में करता है। मास्टरबेशन युवाओं का एक बेहद सामान्य व्यवहार है। जिन लोगों के पार्टनर नहीं हैं, उनके साथ-साथ मास्टरबेशन ऐसे लोगों में भी काफी कॉमन है, जिनका कोई सेक्सुअल पार्टनर है। जिन लोगों के सेक्सुअल पार्टनर नहीं हैं या जिनके पार्टनर्स की सेक्स में रुचि नहीं है, ऐसे लोग अपनी सेक्सुअल टेंशन को मास्टरबेशन की मदद से दूर कर सकते हैं। जो लोग प्रेग्नेंसी और एसटीडी के खतरों से बचना चाहते हैं, उनके लिए भी मास्टरबेशन उपयोगी है।नॉर्मल: मास्टरबेशन बिल्कुल नॉर्मल है। सेक्स का सुख हासिल करने का यह बेहद सुरक्षित तरीका है और ताउम्र किया जा सकता है, लेकिन अगर यह रोजमर्रा की जिंदगी को ही प्रभावित करने लगे तो इसका सेहत और दिमाग दोनों पर गलत असर हो सकता है।कुछ तथ्य- सामान्य सेक्स के तीन तरीके होते हैं - पार्टनर के साथ सेक्स, मास्टरबेशन और नाइट फॉल। अगर पार्टनर से सेक्स कर रहे हें तो जाहिर है सीमेन बाहर आएगा। सेक्स नहीं करते, तो मास्टरबेशन के जरिये सीमेन बाहर आएगा। अगर कोई शख्स यह दोनों ही काम नहीं करता है तो उसका सीमेन नाइट फॉल के जरिये बाहर आएगा। सीमेन सातों दिन और चौबीसों घंटे बनता रहता है। सीमेन बनता रहता है, खाली होता रहता है।- मास्टरबेशन करने से कोई शारीरिक या मानसिक कमजोरी नहीं आती।- पेनिस में जितनी बार इरेक्शन होता है, उतनी बार मास्टरबेशन किया जा सकता है। इसकी कोई लिमिट नहीं है। हर किसी के लिए अलग-अलग दायरे हैं।- इससे बाल गिरना, आंखों की कमजोरी, मुंहासे, वजन में कमी, नपुंसकता जैसी समस्याएं नहीं होतीं।- सीमेन की क्वॉलिटी पर कोई असर नहीं होता। न तो सीमेन का कलर बदलता और न वह पतला होता है।- इससे पेनिस के साइज पर भी कोई असर नहीं होता। जो लोग कहते हैं कि मास्टरबेशन से पेनिस का टेढ़ापन, पतलापन, नसें दिखना जैसी समस्याएं हो जाती हैं, वे खुद भी भ्रम में हैं और दूसरों को भी भ्रमित कर रहे हैं।- कुछ लोगों को लगता है कि मास्टरबेशन करने के तुरंत बाद उन्हें कुछ कमजोरी महसूस होती है, लेकिन वास्तव में ऐसा कुछ नहीं होता। यह मन का वहम है।- मास्टरबेशन एड्स और रेप जैसी स्थितियों को रोकने का अच्छा तरीका है।- कामसूत्र या आयुर्वेद में कहीं यह नहीं लिखा है कि मास्टरबेशन बीमारी है।- 13-14 साल की उम्र में लड़कों को इसकी जरूरत होने लगती है। कुछ लोग शादी के बाद भी सेक्स के साथ-साथ मास्टरबेशन करते रहते हैं। यह बिल्कुल नॉर्मल है।मिथ्स क्या हैं1. पेनिस का साइज छोटा है तो सेक्स में दिक्कत होगी। बड़ा पेनिस मतलब सेक्स का ज्यादा मजा।सचाई : छोटे पेनिस की बात नाकामयाब दिमाग में ही आती है। दुनिया में ऐसा कोई तरीका नहीं है जिससे पेनिस के स्टैंडर्ड साइज का पता किया सके। वैजाइना की सेक्सुअल लंबाई छह इंच होती है। इसमें से बाहरी एक तिहाई हिस्सा यानी दो इंच में ही ग्लांस तंतु होते हैं। अगर किसी महिला को उत्तेजित करना है, तो वह योनि के बाहरी एक तिहाई हिस्से से ही उत्तेजित हो जाएगी। जाहिर है, अगर उत्तेजित अवस्था में पुरुष का लिंग दो इंच या उससे ज्यादा है, तो वह महिला को संतुष्ट करने के लिए काफी है। ध्यान रखें, खुद और अपने पार्टनर की संतुष्टि के लिए महत्वपूर्ण चीज पेनिस की लंबाई नहीं होती, बल्कि यह होती है कि उसमें तनाव कैसा आता है और कितनी देर टिकता है। पेनिस की चौड़ाई का भी खास महत्व नहीं है। योनि इलास्टिक होती है। जितना पेनिस का साइज होगा, वह उतनी ही फैल जाएगी। बड़ा पेनिस किसी भी तरह से सेक्स में ज्यादा आनंद की वजह नहीं होता।2. पेनिस में टेढ़ापन होना सेक्स की नजर से समस्या है।सचाई : पेनिस में थोड़ा टेढ़ापन होता ही है। किसी भी शख्स का पेनिस बिल्कुल सीधा नहीं होता। यह या तो थोड़ा दायीं तरफ या फिर थोड़ा बायीं तरफ झुका होता है। इसकी वजह से पेनिस को वैजाइना में प्रवेश कराने में कोई दिक्कत नहीं होती है। ध्यान रखें, घर में दाखिल होना महत्वपूर्ण है, थोड़े दायें होकर दाखिल हों या फिर बायें होकर या फिर सीधे। ऐसे मामलों में इलाज की जरूरत तब ही समझनी चाहिए योनि में पेनिस का प्रवेश कष्टदायक हो।3. बाजार में तमाम तेल हैं, जिनकी मालिश करने से पेनिस को लंबा मोटा और ताकतवर बनाया जा सकता है। इसी तरह तमाम गोलियां, टॉनिक आदि लेने से सेक्स पावर बढ़ोतरी होती है।सचाई : पेनिस पर बाजार में मिलने वाले टॉनिक का कोई असर नहीं होता, असर होता है उसके ऊपर बने सांड या घोड़े के चित्र का। इसी तरह जब पेनिस पर तेल की मालिश की जाती है, तो उस हाथ की स्नायु मजबूत होती हैं, जिससे तेल की मालिश की जाती है, लेकिन पेनिस की मसल्स पर इसका कोई भी असर नहीं होता।4. पेनिस में नसें नजर आती हैं तो यह कमजोरी की निशानी है।सचाई : पेनिस में अगर कभी नसें नजर आती भी हैं तो वे नॉर्मल हैं। उनका पेनिस की कमजोरी से कोई लेना देना नहीं है।5. जिन लोगों के पेनिस सरकमसाइज्ड (इस स्थिति में पेनिस की फोरस्किन पीछे की तरफ रहती है और ग्लांस पेनिस हमेशा बाहर रहता है) हैं, वे सेक्स में ज्यादा कामयाब होते हैं।सचाई : सरकमसाइज्ड पेनिस का सेक्स की संतुष्टि से कोई लेना-देना नहीं है। यह तब कराना चाहिए जब उत्तेजित अवस्था में पुरुष की फोरस्किन पीछे हटाने में दिक्कत हो।6. सेक्स पावर बढ़ाने नुस्खे, गोलियां (आयुर्वेदिक और एलोपैथिक), मसाज ऑयल, शिलाजीत आदि बाजार में हैं। इनसे सेक्स पावर बढ़ाई जा सकती है।सचाई : बाजार में आमतौर मिलने वाली ऐसी गोलियों और दवाओं से सेक्स पावर नहीं बढ़ती। आयुर्वेद के नियम कहते हैं कि मरीज को पहले डॉक्टर से मिलना चाहिए और फिर इलाज करना चाहिए। हर मरीज के लिए उसके हिसाब से दवा दी जाती है, दवाओं को जनरलाइज नहीं किया जा सकता।एक पक्ष यह भीयूथ्स की सेक्स समस्याओं पर एलोपैथी और आयुर्वेद की सोच में अंतर मिलता है। जहां एक तरफ एलोपैथी में माना जाता है कि सीमेन शरीर से बाहर निकलने से शरीर और दिमाग को कोई नुकसान नहीं होता, वहीं आयुर्वेदिक पद्धति से इलाज करने वाले लोग सीमेन के संरक्षण की बात करते हैं। आयुर्वेदिक डॉक्टरों के मुताबिक :- महीने में दो से आठ बार तक नाइट फॉल स्वाभाविक है, लेकिन इससे ज्यादा होने लगे, तो यह सेहत के लिए नुकसानदायक है।- मास्टरबेशन करने से याददाश्त कमजोर होती है। एकाग्रता और सेहत पर बुरा असर होता है।- प्रीमैच्योर इजैकुलेशन और इरेक्टाइल डिस्फंक्शन को आयुर्वेद में दवाओं के जरिए ठीक किया जा सकता है, लेकिन इसके लिए मरीज को खुद डॉक्टर से मिलकर इलाज कराना चाहिए। दरअसल, आयुर्वेद में मरीज विशेष के लक्षणों और हाल के हिसाब से दवा दी जाती है, जिनका फायदा होता है।- बाजार में आयुर्वेद के नाम पर बिकने वाले मालिश करने के तेल, कैपसूल और ताकत की दवाएं जनरल होती हैं। इन बाजारू दवाओं से सेक्स पावर बढ़ाने या पेनिस को लंबा-मोटा करने में कोई मदद नहीं मिलती। ये चीजें आयुर्वेद को बदनाम करती हैं।- विज्ञापनों और नीम-हकीमों से दूर रहें। तमाम नीम-हकीम आयुर्वेद के नाम पर युवकों को बेवकूफ बनाकर पैसा ठगते हैं। इनसे बचें और हमेशा किसी योग्य डॉक्टर से ही संपर्क करें।- मर्यादित सेक्स करने से जिंदगी में यश बढ़ता है और परिवार में बढ़ोतरी होती है, जबकि अमर्यादित और बहुत ज्यादा सेक्स रोगों को बढ़ाता है।- मल-मूत्र का वेग होने पर और व्रत, शोक और चिंता की स्थिति में सेक्स से परहेज करना चाहिए।- जो चीजें शरीर को सेहतमंद रखने में मदद करती हैं, वही चीजें सेक्स की पावर बढ़ाने में भी मददगार हैं। ऐसे में अगर आप स्वास्थ्य के नियमों का पालन कर रहे हैं और सेहतमंद खाना ले रहे हैं तो आपको सेक्स पावर बढ़ाने वाली चीजें अलग से लेने की कोई जरूरत नहीं है। http://drbkkashyap.blogspot.in/2015/03/60-45-s-80-20-
71 people found this helpful

Must Know Risk Factors and Complication of Scabies

MD - Dermatology , Venereology & Leprosy, MBBS
Dermatologist, Delhi
Must Know Risk Factors and Complication of Scabies

Scabies is a type of skin conditions that causes itching and rashes. This dermatological condition is caused by Sarcoptes scabiei, a microscopic mite. It is a contagious condition, which can spread through physical contact. An estimate shows that scabies infects over 300 million people worldwide per year.

This eight-legged microscopic mite creates a tunnel in the human skin and lays eggs in it. These larvae move under the surface of the skin and spread across the whole body, once hatched. Dogs, cats, and mice can also be affected by this disease. It usually takes 2-6 weeks for the symptoms to develop. Signs and symptoms of scabies involve itching, rashes, sores and thick crusts on the surface of the skin.

Some of the risk factors of scabies are:

- Scabies spreads through direct, prolonged skin-to-skin contact with a person who has mites.
- An infected person can easily pass scabies to his/her household or sexual partners. Scabies in adults is usually sexually acquired.
- The likelihood of scabies increases easily under crowded conditions, which involve close body and skin contact. Nursing homes, prisons, and several types of care facilities are sites of scabies outbreaks.
- Immunocompromised, elderly and disabled people also suffer from an increased likelihood of contracting this skin condition.

Complications of scabies include:

- Persistent and vigorous scratching can break the surface of your skin, which can lead to secondary bacterial infections. Impetigo, a superficial infection, is a quite common occurrence in such cases.
- Crusted scabies, the most severe form of scabies, can be common in certain groups. People suffering from diseases such as HIV or leukemia who have weakened immune systems as well as severely ill people have high risks of contracting this condition. This condition, also known as Norwegian scabies, is very contagious and also hard to cure.

'Consult'.

Tip: Top 6 things that revive acne prone skin

3798 people found this helpful

I am having skin allergy from last 1.5 year. On my skin there are some bubble like structures grow. If I take a tablet of levocetirizine they does not appear. I have consulted to many doctors but there is no benefit.

BHMS
Homeopath, Thane
I am having skin allergy from last 1.5 year. On my skin there are some bubble like structures grow. If I take a table...
Hi, this is called Urticaria.It is a kind of skin allergy . Take Apis mel 30 4pills to be sucked thrice a day for 30 days revert back
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I have 20 year's old I have always headache in5 hour in a day, all treatment I apply but it is not concern to me.

MBBS
General Physician, Cuttack
I have 20 year's old I have always headache in5 hour in a day, all treatment I apply but it is not concern to me.
It could be a tension headache due to stress and strain. Avoid stress. Go for regular exercise. Practice yoga, meditation and deep breathing exercise. Check for refractive error, BP and sinusitis. Consult Neurologist
You found this helpful
Submit FeedbackFeedback

MD - Internal Medicine, CCMD(Diabetology), PG Course in Diabetology
Diabetologist, Dehradun
Eat food rich on protein like poultry products,beans,pulses etc.,low fat diet,cereals,fruits.
You found this helpful

Hi I am 30 years old married women. I have very thin paper type nails. They grow but they are very thin and gets cracked very easily and so I don't get long nails.

B.H.M.S., Senior Homeopath Consultant
Homeopath, Delhi
You can take nat. Mur. - 6x / 4 tabs thrice a day for one week. Revert back after one week with feedback.
You found this helpful
Submit FeedbackFeedback

From last year 2014 Aug, I am facing continuously water leaking from nose, symptoms like cold which leads to fever. I consulted few doctors, they gave me anti-allergenic and by the time I intake medicine, things will be fine. Moment I leave medicine, again same problem occurs. I started consultation from aurvedic doctor, from his medicines like, Nelsin, Tulsihill etc. As well, things are same. Moment I leave it, nose will start leaking. Please suggest me what is problem and what should I do for this?

AUTLS, CCEDM, MD - Internal Medicine, MBBS
General Physician, Faridabad
From last year 2014 Aug, I am facing continuously water leaking from nose, symptoms like cold which leads to fever.
I...
• get plenty of rest so your body can use its energy to fight the cold..... • staying at home will keep you from spreading germs • drink plenty of liquids like herbal tea or hot broth/vegetable/tomato soups. Avoid foods or drinks with caffeine which can keep you from getting enough sleep Runny Nose and Sneezing- gargle to keep from getting a sore throat. Drink extra fluids. Use saline nasal sprays or nasal irrigation • Tablet Nasorest-P once/twice daily may reduce the amount of mucous. • Do steam inhalation once or twice daily
You found this helpful
Submit FeedbackFeedback

My mom experianced severe nerve pain in right side neck please please please when see is in stress or doing heavy work means she got pain in tat area

BAMS
General Physician, Delhi
Her nerve get compressed get x-ray done of neck pa & lateral view. For the time bieng you can take tab zerodol cr.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback
View All Feed