Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Call Doctor
Book Appointment

Dr. Jalajakshi M V

MVSc

Veterinarian, Bangalore

25 Years Experience  ·  200 at clinic
Book Appointment
Call Doctor
Dr. Jalajakshi M V MVSc Veterinarian, Bangalore
25 Years Experience  ·  200 at clinic
Book Appointment
Call Doctor
Submit Feedback
Report Issue
Get Help
Services
Feed

Personal Statement

Our team includes experienced and caring professionals who share the belief that our care should be comprehensive and courteous - responding fully to your individual needs and preferences....more
Our team includes experienced and caring professionals who share the belief that our care should be comprehensive and courteous - responding fully to your individual needs and preferences.
More about Dr. Jalajakshi M V
Dr. Jalajakshi M V is a trusted Veterinarian in Rajaji Nagar, Bangalore. She has over 25 years of experience as a Veterinarian. She is a MVSc . You can visit her at Jalajakshi's Veterinary Clinic in Rajaji Nagar, Bangalore. Don’t wait in a queue, book an instant appointment online with Dr. Jalajakshi M V on Lybrate.com.

Lybrate.com has a nexus of the most experienced Veterinarians in India. You will find Veterinarians with more than 29 years of experience on Lybrate.com. You can find Veterinarians online in Bangalore and from across India. View the profile of medical specialists and their reviews from other patients to make an informed decision.

Info

Education
MVSc - Government Veterinary College - 1993
Languages spoken
English

Location

Book Clinic Appointment with Dr. Jalajakshi M V

Jalajakshi's Veterinary Clinic

#174/142, 4Th Cross, 3Rd Main, 2Nd Phase, Manjunatha Nagar, Rajaji Nagar. Landmark: Near Nadgir Institute Of Engineering.Bangalore Get Directions
200 at clinic
...more
View All

Services

Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr. Jalajakshi M V

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

MVSc
Veterinarian,
Foods which are poisonous to dogs.

Most dogs love food, and they?re especially attracted to what they see us eating. While sharing the occasional tidbit with your dog is fine, it?s important to be aware that some foods can be very dangerous to dogs. Take caution to make sure your dog never gets access to the foods below. Even if you don?t give him table scraps, your dog might eat something that?s hazardous to his health if he raids kitchen counters, cupboards and trash cans. For advice on teaching your dog not to steal food, please see our article, Counter Surfing and Garbage Raiding.
Avocado

Avocado leaves, fruit, seeds and bark may contain a toxic principle known as persin. The Guatemalan variety, a common one found in stores, appears to be the most problematic. Other varieties of avocado can have different degrees of toxic potential.
Birds, rabbits, and some large animals, including horses, are especially sensitive to avocados, as they can have respiratory distress, congestion, fluid accumulation around the heart, and even death from consuming avocado. While avocado is toxic to some animals, in dogs and cats, we do not expect to see serious signs of illness. In some dogs and cats, mild stomach upset may occur if the animal eats a significant amount of avocado flesh or peel. Ingestion of the pit can lead to obstruction in the gastrointestinal tract, which is a serious situation requiring urgent veterinary care.
Avocado is sometimes included in pet foods for nutritional benefit. We would generally not expect avocado meal or oil present in commercial pet foods to pose a hazard to dogs and cats.
Bread Dough

Raw bread dough made with live yeast can be hazardous if ingested by dogs. When raw dough is swallowed, the warm, moist environment of the stomach provides an ideal environment for the yeast to multiply, resulting in an expanding mass of dough in the stomach. Expansion of the stomach may be severe enough to decrease blood flow to the stomach wall, resulting in the death of tissue. Additionally, the expanding stomach may press on the diaphragm, resulting in breathing difficulty. Perhaps more importantly, as the yeast multiplies, it produces alcohols that can be absorbed, resulting in alcohol intoxication. Affected dogs may have distended abdomens and show signs such as a lack of coordination, disorientation, stupor and vomiting (or attempts to vomit). In extreme cases, coma or seizures may occur and could lead to death from alcohol intoxication. Dogs showing mild signs should be closely monitored, and dogs with severe abdominal distention or dogs who are so inebriated that they can?t stand up should be monitored by a veterinarian until they recover.
Chocolate

Chocolate intoxication is most commonly seen around certain holidays?like Easter, Christmas, Halloween and Valentine?s Day?but it can happen any time dogs have access to products that contain chocolate, such as chocolate candy, cookies, brownies, chocolate baking goods, cocoa powder and cocoa shell-based mulches. The compounds in chocolate that cause toxicosis are caffeine and theobromine, which belong to a group of chemicals called methylxanthines. The rule of thumb with chocolate is ?the darker it is, the more dangerous it is.? White chocolate has very few methylxanthines and is of low toxicity. Dark baker?s chocolate has very high levels of methylxanthines, and plain, dry unsweetened cocoa powder contains the most concentrated levels of methylxanthines. Depending on the type and amount of chocolate ingested, the signs seen can range from vomiting, increased thirst, abdominal discomfort and restlessness to severe agitation, muscle tremors, irregular heart rhythm, high body temperature, seizures and death. Dogs showing more than mild restlessness should be seen by a veterinarian immediately.
Ethanol (Also Known as Ethyl Alcohol, Grain Alcohol or Drinking Alcohol)

Dogs are far more sensitive to ethanol than humans are. Even ingesting a small amount of a product containing alcohol can cause significant
12 people found this helpful

Yesterday my dog attacked a dirty pig and i think my st. Bernard had broken pigs one leg and eaten. Consult me if it is dangerous for my pet or not?

Master of sciences, B.V.Sc. & A.H.
Veterinarian, Salem
As far as he digest it and be normal and act normally no problem . If feeling dull and calm than usual .Please refere a doc
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Hello. For my pet dog who suffers from skin allergies, I have been advised to give him ciclosporin USP. These are very expensive when bought in Mumbai india. Any suggestions how I can explore options?

bachelor of veterinary & Animal Husbandary
Veterinarian, Noida
Just try antiallergic like allegra or Atarax or pheneragan with an antibiotic named enrofloxacin and try for 2 weeks.
Submit FeedbackFeedback
Submit FeedbackFeedback

My dog has skin disease he sleep on wet place the place is effected him so what can I do please tell me my dog is not well please any body help me to help my dog because I love him allot.

MVSc, BVSc
Veterinarian,
Do not let him sleep in wet places. Wetness/dampness attracts fungus and can cause chronic skin problems.
3 people found this helpful

I have a female german shepherd, one year old. she's having bleeding. Do dogs also have periods. Or if not what is the reason and any serious problem. Please help I am very worried.

MVSc (Ph.D)
Veterinarian,
Bleeding do happen during heat period, it is normal. If complications of uterus are noticed, bleeding occurs due to infection, cancer etc generally a dry bitch showing such symptoms means she has her period.
Submit FeedbackFeedback

Dr I have two female lovebird and one male lovebird and one female lovebird is going inside and male lovebird is not giving female love bird to sit in the nest what to do ?reply fast dr.

B.V.Sc. & A.H.
Veterinarian, Hoshiarpur
What is the age of lovebirds and how you are able to distinguish between male and female lovebirds as it is quite difficult to find sex of lovebirds there may be sexing problem.
3 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Vaccination In Pets

B.V.Sc
Veterinarian, Varanasi
Vaccination In Pets

Vaccination in dog

टीकाकरण की प्रकिया एक ऐसा उपाय है जिससे, कुत्तो में होने वाली कुछ प्रमुख विषाणु एवं जीवाणु जनित जानलेवा एवं लाइलाज, बीमारियों जैसे कैनाइन डिस्टेंपर, हेपेटाइटिस, पार्वो वायरस, लेप्टोस्पायरोसिस, रेबीज तथा केनल कफ़ आदि से बचाव के लिए समय समय पर कुत्तों के शरीर में टीका लगाया जाता है,जिससे इन रोगों के खिलाफ रोगप्रतिरोधक क्षमता का शारीर में विकास हो जाता है और हमारा पालतू जानवर एक सिमित अवधि तक इन बिमारियों के घातक प्रभाव से बचा रहता है |

कुछ टीकाकरण संबंधी सामान्य प्रश्नो के जबाब -
 
१- क्या सभी उम्र के कुत्तो का टीकाकरण जरूरी होता है?
हाँ। आमतौर पर १. ५ महीने (४५ दिन) के उम्र से ऊपर सभी कुत्तो का नियमित समय पर टीकाकरण करना जरूरी होता है यदि किसी कारण वश नयमिति या कभी कराया ही न गया हो तो किसी भी उम्र से टीकाकरण शुरू किया जा सकता है। 

२. छोटे बच्चो को किस उम्र से टीका का पहली खुराक देना शुरू करना चाहिए?
४५ दिन के उम्र से ही टीके की पहली खुराक देना बेहद जरूरी होता है 

३. क्या सभी छोटे पप्स को टीकाकरण के पहले पेट के कीड़े देना जरूरी होता है -
हाँ। बहुत से परजीवी ऐसे होते है जो माँ के पेट से ही या दूध के जरिये से बच्चे के शरीर में प्रवेश कर जाते है जिससे शरीर को कमजोर कर देते है और जब टीका लगाया जाता है तो कमजोरी के वजह से उतना अच्छा शरीर में प्रतिरोधक छमता का विकास नहीं हो पता इसलिए पहले ऐसे परजीवीओ को नष्ट करना जरूरी होता है 

४. क्या होता है टीकाकरण का सही उम्र और समयांतराल?
१. पहली खुराक -जन्म के ६ -८ सप्ताह के उपरांत(कैनाइन डिस्टेंपर, हेपेटाइटिस, पार्वो वायरस, लेप्टोस्पायरोसिस, पैराइन्फ़्लुएन्ज़ा हेतु) 
२. बूस्टर खुराक या दूसरी खुराक - प्रथम खुराक के २-३ सप्ताह बाद ; फिर दूसरी खुराक के ठीक एक साल बाद वार्षिक खुराक साल में एक बार पूरी उम्र तक लगवाते रहना चाहिए। 
३. तीसरी खुराक - रेबीज वायरस हेतु- प्रथम खुराक जन्म के ३ माह के उपरान्त। 
४. बूस्टर खुराक या चौथी खुराक - तीसरी खुराक के २-३ सप्ताह बाद ; फिर तीसरी खुराक के ठीक एक साल बाद वार्षिक खुराक साल में एक बार पूरी उम्र तक लगवाते रहना चाहिए। 

५. क्या बूस्टर खुराक देना जरूरी होता है या नहीं?
जन्म के साथ ही माँ से प्राप्त एंटीबाडीज और प्रथम दूध से मिलने वाली सुरछा कवच कुछ सप्ताह तक नवजात के खून में मौज़ूद रह करअनेको बीमारयों से सुरछा प्रदान करती है परन्तु समय के साथ साथ इनकी मात्रा बच्चे के शरीर में कम होने लगती है। जिससे बीमारी होने की आशंका बढ़ जाती है इसलिए लगभग ४५ दिन के बाद टिका का प्रथम खुराक देते है यद्पि ये पता नहीं रहता की माँ से मिलने वाली सुरछा का असर किस स्तर का है जिससे आमतौर पर ये स्तर अधिक होने पर प्रथम खुराक से बच्चे के शरीर में टीकाकरण की गुणवत्ता को बाधित करती है, जो की पप्पस में रोगप्रतिरोधक क्षमता उत्पन्न करने में असक्षम हो जाता है इसलिए कुछ सप्ताह बाद टीकाकरण के दूसरी खुराक दे कर टीकाकरण से रोगप्रतिरोधक क्षमता करने के उद्देश्य को प्राप्त करते है ऐसी दूसरी खुराक को बूस्टर खुराक कहते है। 

६. क्या है टीकाकरण की सही खुराक देने के मात्रा:
डॉग चाहे किसी भी उम्र, भार, लिंग अथवा नस्ल के हों उनको समान मात्रा में टीकाकरण का खुराक दिया जाता है 

७. क्या है टीकाकरण का सही तरीका:
टीकाकरण खाल के नीचे:कैनाइन डिस्टेंपर, हेपेटाइटिस, पार्वो वायरस, लेप्टोस्पायरोसिस, पैराइन्फ़्लुएन्ज़ा तथा रेबीज जैसी बीमारियों की रोकथाम के लिए खाल के नीचे दिया जाता है
 नथुनों में:केनल कफ़ का टीकाकरण कुत्ते के नथुनों में दवा डाल कर किया जाता है

८. क्या सभी टीके एक ही प्रकार के होते है:कुत्तों में टीकाकरण दो प्रकार की होती है
 १. कोर टीकाकरण - टीकाकरण जो सभी कुत्तों के लिये आवश्यक है. यह उन बिमारीयों में दिया जाता है जो आसानी से फैलती हैं अथवा घातक होती हैं जैसे रेबीज, एडीनोवायरस, पार्वोवायरस, और डिस्टेंपर.
 २. नान कोर टीकाकरण – उपरोक्त ४ बिमाँरीयों (रेबीज, एडीनोवायरस, पार्वोवायरस, और डिस्टेंपर) के टीकाकरण को छोड़कर अन्य सभी नानकोर टीकाकरण माना जाता है | यह उन बिमाँरियों से सुरक्षा प्रदान करता है जो वातावरण के अनावरण अथवा जीवनचर्या पर निर्भर करती है जैसे लाइम डिजीज, केनलकफ और लेप्टोस्पाइरोसिस.

९. एक सफल टीकाकरण करने के बाद क्या फिर भी टीकाकरण विफल हो सकता है?हाँ। 
 टीकाकरण के विफलता के कारण कुत्ते में बीमारी होने के निम्नलिखित मुख्य कारण हो सकते है –
१. टीकाकरण के दौरान कुत्ते की रोगप्रतिरोधक क्षमता का सम्पूर्ण रूप से कार्य न करना |
२.आयु – कम उम्र के जानवरों की प्रतिरक्षा प्रणाली पूर्णतः विकसित नही होती और बड़े आयु के जानवरों की प्रतिरक्षा प्रणाली कई कारणों से अक्सर कमज़ोर या क्षीण हो जाती है |
३. मानवीय चूक (टीके का अनुचित संग्रहण या अनुचित मिश्रण)- टीकों का संग्रहण एवं इस्तेमाल भी निर्देशानुसार ही होना आवश्यक है | सूरज की रोशनी,गर्म तापमान टीके के प्रभाव को नस्ट कर सकता है | टीके का मिश्रण पशु में टीकाकरण के तुरंत पहले तैयार करना चाहिए | टीके खरीदने के पहले पता करना चाहिए कि टीकों को उचित तापमान एवं देखभाल से रखा गया है या नहीं |
४. डीवार्मिंग – टीकाकरण करने के पहले पेट के कीड़े मारने के लिए डीवर्मिंग करना आवश्यक है, वरना इस तरह का तनाव टीकाकरण के प्रभाव को कम कर सकता है |
५. गलत सीरोटाईप / स्टेन का इस्तेमाल – प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया बहुत विशिष्ट होती है | अतः टीके में होने वाली जीवाणु या विषाणु की सही स्टेन होनी चाहिए वरना उससे उत्पन्न होने वाली प्रतिरक्षा जानवर में सही तौर पर सुरक्षा नहीं कर पाती |
६. अनुवांशिक बीमारियाँ – कुछ जानवरों में आनुवंशिक बिमारियों की वजह से सभी रोगों के लिए प्रतिरोधक छमता सामान्य तौर पर कम ही उत्पन्न हो पाती है |
७. वैक्सीन की गुणवत्ता – टीके में प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रोत्साहित करने के लिए प्रयाप्त मात्रा में प्रतिजनी की मात्रा होना चाहिए वरना टीकाकरण के बाद प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया प्रयाप्त नहीं होती है |
८. पुराने या अवधि समाप्त टीके – पुराने टीकों में आवश्यक प्रतिजनी गुण समाप्त या कम हो जाता है | इस तरह के टीके लगाने से जानवरों को बेमतलब तनाव दिया जाता है |
९. टीकाकरण का अनुचित समय – टीका निर्माता के निर्देशों के अनुसार टीकाकरण का समय (उम्र एवं मौसम के अनुसार), लगाने का तरीका एवं मात्रा तथा दोबारा लगाये जाने की अवधि, इत्यादि निश्चित होता है |इन निर्देशों का पालन सही समय पर न करने से टीकाकरण विफल या निष्क्रिय हो जाता है |
१०. पोषण की स्तिथि- कुपोषण की वजह से जिन पशुओं में पोषक तत्वों की कमी रह जाती है उनमे टीकाकरण के बाद भी प्रतिरोधक छमता सामान्य तौर पे कम ही उत्पन्न हो पाती है |

10. क्या वैक्सीन लगते समय कुत्ते पर कोई दुस्प्रभाव हो सकते है? हाँ 
 कुछ कुत्तो प्रतिरोधक छमता अधिक सक्रिय होने की वजह से कुछ सामान्य लचण जैसे ज्वर, उल्टी, दस्त, लासीका ग्रंथियों का सूजना, मुख का सूजना, हीव्स, यकृत विफलता और कभी -कभी मौत भी हो सकती है।

1 person found this helpful
View All Feed