Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}

Dr. Ganapathy M A

MBBS

General Physician, Bangalore

0 at clinic
Dr. Ganapathy M A MBBS General Physician, Bangalore
0 at clinic
Submit Feedback
Report Issue
Get Help
Feed
Services

Personal Statement

I pride myself in attending local and statewide seminars to stay current with the latest techniques, and treatment planning....more
I pride myself in attending local and statewide seminars to stay current with the latest techniques, and treatment planning.
More about Dr. Ganapathy M A
Dr. Ganapathy M A is a renowned General Physician in Madiwala, Bangalore. He studied and completed MBBS . He is currently associated with Kaveri Speciality Hospital in Madiwala, Bangalore. Save your time and book an appointment online with Dr. Ganapathy M A on Lybrate.com.

Lybrate.com has a number of highly qualified General Physicians in India. You will find General Physicians with more than 30 years of experience on Lybrate.com. You can find General Physicians online in Bangalore and from across India. View the profile of medical specialists and their reviews from other patients to make an informed decision.

Info

Education
MBBS - - -

Location

Book Clinic Appointment

Kaveri Speciality Hospital

#15/2, 4th Cross, Hosur Main Road, Madiwala. Landmark: Opp. Krishna Sagar HotelBangalore Get Directions
...more

Kaveri Speciality Hospital

#15/2, 4th Cross, Hosur Main Road, Madiwala. Landmark: Opp. Krishna Sagar Hotel.Bangalore Get Directions
0 at clinic
...more
View All

Consult Online

Text Consult
Send multiple messages/attachments
7 days validity
Consult Now

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr. Ganapathy M A

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

My father was detected with localized prostate cancer last year and was followed by a heart attack later. His age is 61 years. He then have to undergo angioplasty with a non-drug eluting stent. Over one year has passed and his Stress test reports are excellent now as per cardiologist. Can he undergo a radical prostatectomy (prostate cancer surgery ) now or it will be risky for him to undergo surgery? Thank you.

MS - General Surgery, MBBS
General Surgeon, Delhi
Well one thing needs to be ruled out after one year gap is metastasis. So needs to undergo cect and bone scan if he is operable and pac fit then he can undergo the procedure otherwise hormonal/chemotherapy and performance status of patient is important it is slow growing tumour, if performance status is not good then hormonal therapy is advisable.
1 person found this helpful

Which medicine can be taken from medical for sore throat? It pains allot. Please advise.

B.H.M.S., Senior Homeopath Consultant
Homeopath, Delhi
Belladonna - 30 / 5 drops in little water thrice a day for two days. Revert back after two days with feedback.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Are there any long-term effects associated with taking ADHD (attention deficit hyperactivity disorder) medications? If so, what are they and what medications are implicated? What exactly is a spine block injection? Will it work long-term for low back pain due to disc problems? What causes Hashimoto's thyroiditis, and what is the best method of treatment? Can iodine help this condition?

MBBS
General Physician, Mumbai
Use of stimulant decreases the symptoms to a much good effect and if we don't give stimulant medication there will be more of conduct disorder and progress in disease and for side effects we have to monitor the person and advice them accordingly and spine block injection is effective for six months and hashimoto's thyroiditis is an auto immune disease where we can control it with medication but not cure it completely.
Submit FeedbackFeedback

सेक्स में कैसे आती है उत्तेजना

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Sexologist, Allahabad
सेक्स में कैसे आती है उत्तेजना
पेनिस (लिंग) में इरेक्शन विचार से होता है, स्पर्श से होता है। दिमाग में एक सेक्स सेंटर है। जब वह उत्तेजित होता है तो संदेश लिंग की तरफ जाता है। बदन में खून का प्रवाह तेज हो जाता है। पूरे शरीर में पेनिस में खून का प्रवाह सबसे ज्यादा तेज होता है। इसी वजह से लिंग में उत्तेजना ओर स्त्रियों की योनि में गीलापन आता है। पेनिस के इरेक्शन के लिए योग्य हॉर्मोन का होना जरूरी है। पुरुषों में 60 साल के बाद और महिलाओं में 45 साल के बाद हॉर्मोन की कमी होने लगती है।

इरेक्टाइल डिस्फंक्शन क्या है: सेक्स के दौरान या उससे पहले पेनिस में इरेक्शन (तनाव) के खत्म हो जाने को इरेक्टाइल डिस्फंक्शन या नपुंसकता कहते हैं। इरेक्टाइल डिस्फंक्शन कई तरह का हो सकता है। हो सकता है, कुछ लोगों को बिल्कुल भी इरेक्शन न हो, कुछ लोगों को सेक्स के बारे में सोचने पर इरेक्शन हो जाता है, लेकिन जब सेक्स करने की बारी आती है, तो पेनिस में ढीलापन आ जाता है। इसी तरह कुछ लोगों में पेनिस वैजाइना के अंदर डालने के बाद भी इरेक्शन की कमी हो सकती है। इसके अलावा, घर्षण के दौरान भी अगर किसी का इरेक्शन कम हो जाता है, तो भी यह इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की निशानी है।

इरेक्शन सेक्स पूरा हो जाने के बाद यानी इजैकुलेशन के बाद खत्म होना चाहिए। कई बार लोगों को वहम भी हो जाता है कि कहीं उन्हें इरेक्टाइल डिस्फंक्शन तो नहीं। सीधी सी बात है कि आप जिस काम को करने की कोशिश कर रहे हैं, वह काम अगर संतुष्टिपूर्ण तरीके से कर पाते हैं तो सब ठीक है और नहीं कर पा रहे हैं तो समस्या हो सकती है। जिन लोगों में यह दिक्कत पाई जाती है, वे चिड़चिड़े हो सकते हैं और उनका कॉन्फिडेंस लेवल भी कम हो सकता है। वजह: इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की वजह शारीरिक भी हो सकती है और मानसिक भी। अगर किसी खास समय इरेक्शन होता है और सेक्स के समय नहीं होता, तो इसका मतलब यह समझना चाहिए कि समस्या मानसिक स्तर की है। खास समय इरेक्शन होने से मतलब है- सुबह सोकर उठने पर, पेशाब करते वक्त, मास्टरबेशन के दौरान या सेक्स के बारे में सोचने पर। अगर इन स्थितियों में भी इरेक्शन नहीं होता तो समझना चाहिए कि समस्या शारीरिक स्तर पर है। अगर समस्या मानसिक स्तर पर है तो साइकोथेरपी और डॉक्टरों द्वारा बताई गई कुछ सलाहों से समस्या सुलझ जाती है।


- शारीरिक वजह ये चार हो सकती हैं : चार छोटे एस (S) बड़े एस यानी सेक्स को प्रभावित करते हैं। ये हैं : शराब, स्मोकिंग, शुगर और स्ट्रेस।- हॉर्मोंस डिस्ऑर्डर्स इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की एक खास वजह है।- पेनिस के सख्त होने की वजह उसमें खून का बहाव होता है। जब कभी पेनिस में खून के बहाव में कमी आती है तो उसमें पूरी सख्ती नहीं आ पाती और इरेक्टाइल डिस्फंक्शन जैसी दिक्कतें शुरू हो जाती हैं। कुछ लोगों के साथ ऐसा भी होता है कि शुरू में तो पेनिस के अंदर ब्लड का फ्लो पूरा हो जाता है, लेकिन वैजाइना में एंटर करते वक्त ब्लड का यह फ्लो वापस लौटने लगता है और पेनिस की सख्ती कम होने लगती है।- नर्वस सिस्टम में आई किसी कमी के चलते भी यह समस्या हो सकती है। यानी न्यूरॉलजी से जुड़ी समस्याएं भी इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की वजह हो सकती हैं।- हमारे दिमाग में सेक्स संबंधी बातों के लिए एक खास केंद्र होता है। इसी केंद्र की वजह से सेक्स संबंधी इच्छाएं नियंत्रित होती हैं और इंसान सेक्स कर पाता है। इस सेंटर में अगर कोई डिस्ऑर्डर है, तो भी इरेक्टाइल डिस्फंक्शन हो सकता है।- कई बार लोगों के मन में सेक्स करने से पहले ही यह शक होता है कि कहीं वे ठीक तरह से सेक्स कर भी पाएंगे या नहीं। कहीं पेनिस धोखा न दे जाए। मन में ऐसी शंकाएं भी इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की वजह बनती हैं। इसी डर की वजह से लॉन्ग-टर्म में व्यक्ति सेक्स से मन चुराने लगता है और उसकी इच्छा में कमी आने लगती है।- डॉक्टरों का मानना है कि 80 फीसदी मामलों में इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की वजह शारीरिक होती है, बाकी 20 फीसदी मामले ऐसे होते हैं जिनमें इसके लिए मानसिक कारण जिम्मेदार होते हैं।ट्रीटमेंटपहले इस समस्या को आहार-विहार और कसरत करने से ठीक करने की कोशिश की जाती है, लेकिन जब इससे कोई फर्क नहीं पड़ता तो कोई भी ट्रीटमेंट शुरू करने से पहले डॉक्टर समस्या की असली वजह का पता लगाते हैं। इसके लिए कई तरह के टेस्ट किए जाते हैं। वजह के अनुसार आमतौर पर इलाज के तरीके ये हैं:1. हॉर्मोन थेरपी : अगर इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की वजह हॉर्मोन की कमी है तो हॉर्मोन थेरपी की मदद से इसे दो से तीन महीने के अंदर ठीक कर दिया जाता है। इस ट्रीटमेंट का कोई साइड इफेक्ट नहीं होता।2. ब्लड सप्लाई : जब कभी पेनिस में आर्टरीज की ब्लॉकेज की वजह से ब्लड सप्लाई में कमी आती है, तो दवाओं की मदद से इस ब्लॉकेज को खत्म किया जाता है। इससे पेनिस में ब्लड की सप्लाई बढ़ जाती है और उसमें तनाव आने लगता है।3. सेक्स थेरपी : कई मामलों में समस्या शारीरिक न होकर दिमाग में होती है। ऐसे मामलों में सेक्स थेरपी की मदद से मरीज को सेक्स संबंधी विस्तृत जानकारी दी जाती है, जिससे वह अपने तरीकों में सुधार करके इस समस्या से बच सकता है।4. वैक्यूम पंप, इंजेक्शन थेरपी और वायग्रा : वैक्यूम पंप, इंजेक्शन थेरपी और वायग्रा जैसे ड्रग्स की मदद से भी इरेक्टाइल डिस्फंक्शन को दूर किया जा सकता है। वैसे कुछ डॉक्टरों का मानना है कि वैक्यूम पंप और इंजेक्शन थेरपी अब पुराने जमाने की बात हो चुकी हैं।- वैक्यूम पंप : आजकल बाजार में कई तरह के वैक्यूम पंप मौजूद हैं। रोज अखबारों में इसके तमाम ऐड आते रहते हैं। इसकी मदद से बिना किसी साइड इफेक्ट के इरेक्टाइल डिस्फंक्शन का हल निकाला जा सकता है। वैक्यूम पंप एक छोटा सा इंस्ट्रूमेंट होता है। इसकी मदद से पेनिस के चारों तरफ 100 एमएम (एचजी) से ज्यादा का वैक्यूम बनाया जाता है जिससे पेनिस में ब्लड का फ्लो बढ़ने लगता है, और तीन मिनट के अंदर उसमें पूरी सख्ती आ जाती है। लगभग 80 फीसदी लोगों को इससे फायदा हो जाता है। चूंकि इसमें कोई दवा नहीं दी जाती है, इसलिए इसका कोई साइड इफेक्ट भी नहीं है। वैक्यूम पंप आमतौर पर उन लोगों के लिए है जो 50 की उम्र के आसपास पहुंच गए हैं। यंग लोगों को इसकी सलाह नहीं दी जाती है, फिर भी जो भी इसका इस्तेमाल करे, उसे डॉक्टर की सलाह जरूर ले लेनी चाहिए।- वायग्रा : इरेक्टाइल डिस्फंक्शन के लिए वायग्रा का इस्तेमाल अच्छा ऑप्शन है, लेकिन इसका इस्तेमाल किसी भी सूरत में बिना डॉक्टरी सलाह के नहीं करना चाहिए। वायग्रा में मौजद तत्व उस केमिकल को ब्लॉक कर देते हैं, जो पेनिस में होने वाले ब्लड फ्लो को रोकने के लिए जिम्मेदार है। इससे पेनिस में ब्लड का फ्लो बढ़ जाता है और फिर इरेक्शन आ जाता है। वायग्रा इरेक्टाइल डिस्फंक्शन को ठीक करने में फायदेमंद तो साबित होती है, लेकिन यह महज एक टेंपररी तरीका है। इससे समस्या की वजह ठीक नहीं होती।इनका असर गोली लेने के चार घंटे तक रहता है। वायग्रा बिना डॉक्टर की सलाह के नहीं लेनी चाहिए। कई मामलों में इसे लेने के चलते मौत भी हुई हैं। गोली लेने के 15 मिनट बाद असर शुरू हो जाता है।अगर हाई और लो ब्लडप्रेशर, हार्ट डिजीज, लीवर से संबंधित रोग, ल्यूकेमिया या कोई एलर्जी है तो वायग्रा लेने से पहले विशेष सावधानी रखें और डॉक्टर की सलाह के मुताबिक ही चलें।- सर्जरी : जब ऊपर दिए गए तरीके फेल हो जाते हैं, तो अंतिम तरीके के रूप में पेनिस की सर्जरी की जाती है।प्रीमैच्योर इजैकुलेशनप्रीमैच्योर इजैकुलेशन या शीघ्रपतन पुरुषों का सबसे कॉमन डिस्ऑर्डर है। सेक्स के लिए तैयार होते वक्त, फोरप्ले के दौरान या पेनिट्रेशन के तुरंत बाद अगर सीमेन बाहर आ जाता है, तो इसका मतलब प्रीमैच्योर इजैकुलेशन है। ऐसी हालत में पुरुष अपनी महिला पार्टनर को पूरी तरह संतुष्ट किए बिना ही फारिग हो जाता है। यह एक ऐसी स्थिति है, जिसमें पुरुष का अपने इजैकुलेशन पर कोई अधिकार नहीं होता। आदर्श स्थिति यह होती है कि जब पुरुष की इच्छा हो, तब वह इजैकुलेट करे, लेकिन प्रीमैच्योर इजैकुलेशन की स्थिति में ऐसा नहीं होता।- सेरोटोनिन जैसे न्यूरो ट्रांसमिटर्स की कमी से प्रीमैच्योर इजैकुलेशन की समस्या हो सकती है।- यूरेथेरा, प्रोस्टेट आदि में अगर कोई इंफेक्शन है, तो भी प्रीमैच्योर इजैकुलेशन हो सकता है।- दिमाग में मौजूद सेक्स सेंटर एरिया में अगर कोई डिस्ऑर्डर है तो भी सीमेन का डिस्चार्ज तेजी से होता है।- कुछ लोगों के पेनिस में उत्तेजना पैदा करने वाले न्यूरोट्रांसमिटर्स ज्यादा संख्या में होते हैं। इनकी वजह से ऐसे लोगों में टच करने के बाद उत्तेजना तेजी से आ जाती है और वे जल्दी क्लाइमैक्स पर पहुंच जाते हैं।- कई बार एंग्जायटी, टेंशन और सीजोफ्रेनिया की वजह से भी ऐसा हो सकता है।दवाएं : प्रीमैच्योर इजैकुलेशन की वजह को जानने के बाद उसके मुताबिक खाने की दवाएं दी जाती हैं। इनकी मदद से प्रीमैच्योर इजैकुलेशन को पूरी तरह ठीक किया जा सकता है। इसमें करीब दो महीने का वक्त लगता है। इन दवाओं के कोई साइड इफेक्ट भी नहीं हैं।इंजेक्शन थेरपी: अगर खाने की दवाओं से काम नहीं चलता तो इंजेक्शन थेरपी दी जाती है। इनसे तीन मिनट के अंदर पेनिस हार्ड हो जाता है और यह हार्डनेस 30 मिनट तक बरकरार रहती है। इसकी मदद से कोई भी शख्स सही तरीके से सेक्स कर सकता है। ये इंजेक्शन कुछ दिनों तक दिए जाते हैं। इसके बाद खुद-ब-खुद उस शख्स का अपने इजैकुलेशन पर कंट्रोल होने लगता है और फिर इन इंजेक्शन को छोड़ा जा सकता है।टोपिकल थेरपी : यह टेंपररी ट्रीटमेंट है। इसमें कुछ खास तरह की क्रीम का यूज किया जाता है। इन क्रीम की मदद से डिस्चार्ज का टाइम बढ़ जाता है। इनका भी कोई साइड इफेक्ट नहीं होता।सेक्स थेरपी : दवाओं के साथ मरीज को कुछ एक्सरसाइज भी सिखाई जाती हैं। ये हैं :स्टॉप स्टार्ट टेक्निक : पार्टनर की मदद से या मास्टरबेशन के माध्यम से उत्तेजित हो जाएं। जब आपको ऐसा लगे कि आप क्लाइमैक्स तक पहुंचने वाले हैं, तुरंत रुक जाएं। खुद को कंट्रोल करें और सुनिश्चित करें कि इजैकुलेशन न हो। लंबी गहरी सांस लें और कुछ पलों के लिए रिलैक्स करें। कुछ पलों बाद फिर से पेनिस को उत्तेजित करना शुरू कर दें। जब क्लाइमैक्स पर पहुंचने वाले हों, तभी रोक लें और रिलैक्स करें। इस तरह बार बार दोहराएं। कुछ समय बाद आप महसूस करेंगे कि शुरू करने और स्टॉप करने के बीच का समय धीरे धीरे ज्यादा हो रहा है। इसका मतलब है कि आप पहले के मुकाबले ज्यादा समय तक टिक रहे हैं। लगातार प्रैक्टिस करने से इजैकुलेशन कब हो इस पर काबू पाया जा सकता है।कीजल एक्सरसरइज : कीजल एक्सरसाइज न सिर्फ प्रीमैच्योर इजैकुलेशन को कंट्रोल करने में सहायक है, बल्कि प्रोस्टेट से संबंधित समस्याएं भी इससे ठीक की जा सकती हैं। इसके लिए पेशाब करते वक्त स्क्वीज, होल्ड, रिलीज पैटर्न अपनाना होता है। यानी पेशाब का फ्लो शुरू होते ही मसल्स का स्क्वीज करें, कुछ पलों के लिए रुकें और फिर से रिलीज कर दें। इस दौरान इस प्रॉसेस का बार बार दोहराएं। इन सेक्स एक्सरसाइज की प्रैक्टिस अगर कोई शख्स चार हफ्ते तक लगातार कर लेता है तो उसके बाद वह 8 से 10 मिनट तक बिना इजैकुलेशन के इरेक्शन बरकरार रख सकता है। कई बार ऐसा भी देखा गया है कि काफी टाइम बाद सेक्स करने से भी व्यक्ति जल्दी स्खलित हो जाता है। ऐसे मामलों में इन एक्सरसाइजों को कर लिया जाए तो इस समस्या से भी निजात पाई जा सकती है।मास्टरबेशनसेक्स के दौरान पेनिस जो काम योनि में करता है, वही काम मास्टरबेशन के दौरान पेनिस मुट्ठी में करता है। मास्टरबेशन युवाओं का एक बेहद सामान्य व्यवहार है। जिन लोगों के पार्टनर नहीं हैं, उनके साथ-साथ मास्टरबेशन ऐसे लोगों में भी काफी कॉमन है, जिनका कोई सेक्सुअल पार्टनर है। जिन लोगों के सेक्सुअल पार्टनर नहीं हैं या जिनके पार्टनर्स की सेक्स में रुचि नहीं है, ऐसे लोग अपनी सेक्सुअल टेंशन को मास्टरबेशन की मदद से दूर कर सकते हैं। जो लोग प्रेग्नेंसी और एसटीडी के खतरों से बचना चाहते हैं, उनके लिए भी मास्टरबेशन उपयोगी है।नॉर्मल: मास्टरबेशन बिल्कुल नॉर्मल है। सेक्स का सुख हासिल करने का यह बेहद सुरक्षित तरीका है और ताउम्र किया जा सकता है, लेकिन अगर यह रोजमर्रा की जिंदगी को ही प्रभावित करने लगे तो इसका सेहत और दिमाग दोनों पर गलत असर हो सकता है।कुछ तथ्य- सामान्य सेक्स के तीन तरीके होते हैं - पार्टनर के साथ सेक्स, मास्टरबेशन और नाइट फॉल। अगर पार्टनर से सेक्स कर रहे हें तो जाहिर है सीमेन बाहर आएगा। सेक्स नहीं करते, तो मास्टरबेशन के जरिये सीमेन बाहर आएगा। अगर कोई शख्स यह दोनों ही काम नहीं करता है तो उसका सीमेन नाइट फॉल के जरिये बाहर आएगा। सीमेन सातों दिन और चौबीसों घंटे बनता रहता है। सीमेन बनता रहता है, खाली होता रहता है।- मास्टरबेशन करने से कोई शारीरिक या मानसिक कमजोरी नहीं आती।- पेनिस में जितनी बार इरेक्शन होता है, उतनी बार मास्टरबेशन किया जा सकता है। इसकी कोई लिमिट नहीं है। हर किसी के लिए अलग-अलग दायरे हैं।- इससे बाल गिरना, आंखों की कमजोरी, मुंहासे, वजन में कमी, नपुंसकता जैसी समस्याएं नहीं होतीं।- सीमेन की क्वॉलिटी पर कोई असर नहीं होता। न तो सीमेन का कलर बदलता और न वह पतला होता है।- इससे पेनिस के साइज पर भी कोई असर नहीं होता। जो लोग कहते हैं कि मास्टरबेशन से पेनिस का टेढ़ापन, पतलापन, नसें दिखना जैसी समस्याएं हो जाती हैं, वे खुद भी भ्रम में हैं और दूसरों को भी भ्रमित कर रहे हैं।- कुछ लोगों को लगता है कि मास्टरबेशन करने के तुरंत बाद उन्हें कुछ कमजोरी महसूस होती है, लेकिन वास्तव में ऐसा कुछ नहीं होता। यह मन का वहम है।- मास्टरबेशन एड्स और रेप जैसी स्थितियों को रोकने का अच्छा तरीका है।- कामसूत्र या आयुर्वेद में कहीं यह नहीं लिखा है कि मास्टरबेशन बीमारी है।- 13-14 साल की उम्र में लड़कों को इसकी जरूरत होने लगती है। कुछ लोग शादी के बाद भी सेक्स के साथ-साथ मास्टरबेशन करते रहते हैं। यह बिल्कुल नॉर्मल है।मिथ्स क्या हैं1. पेनिस का साइज छोटा है तो सेक्स में दिक्कत होगी। बड़ा पेनिस मतलब सेक्स का ज्यादा मजा।सचाई : छोटे पेनिस की बात नाकामयाब दिमाग में ही आती है। दुनिया में ऐसा कोई तरीका नहीं है जिससे पेनिस के स्टैंडर्ड साइज का पता किया सके। वैजाइना की सेक्सुअल लंबाई छह इंच होती है। इसमें से बाहरी एक तिहाई हिस्सा यानी दो इंच में ही ग्लांस तंतु होते हैं। अगर किसी महिला को उत्तेजित करना है, तो वह योनि के बाहरी एक तिहाई हिस्से से ही उत्तेजित हो जाएगी। जाहिर है, अगर उत्तेजित अवस्था में पुरुष का लिंग दो इंच या उससे ज्यादा है, तो वह महिला को संतुष्ट करने के लिए काफी है। ध्यान रखें, खुद और अपने पार्टनर की संतुष्टि के लिए महत्वपूर्ण चीज पेनिस की लंबाई नहीं होती, बल्कि यह होती है कि उसमें तनाव कैसा आता है और कितनी देर टिकता है। पेनिस की चौड़ाई का भी खास महत्व नहीं है। योनि इलास्टिक होती है। जितना पेनिस का साइज होगा, वह उतनी ही फैल जाएगी। बड़ा पेनिस किसी भी तरह से सेक्स में ज्यादा आनंद की वजह नहीं होता।2. पेनिस में टेढ़ापन होना सेक्स की नजर से समस्या है।सचाई : पेनिस में थोड़ा टेढ़ापन होता ही है। किसी भी शख्स का पेनिस बिल्कुल सीधा नहीं होता। यह या तो थोड़ा दायीं तरफ या फिर थोड़ा बायीं तरफ झुका होता है। इसकी वजह से पेनिस को वैजाइना में प्रवेश कराने में कोई दिक्कत नहीं होती है। ध्यान रखें, घर में दाखिल होना महत्वपूर्ण है, थोड़े दायें होकर दाखिल हों या फिर बायें होकर या फिर सीधे। ऐसे मामलों में इलाज की जरूरत तब ही समझनी चाहिए योनि में पेनिस का प्रवेश कष्टदायक हो।3. बाजार में तमाम तेल हैं, जिनकी मालिश करने से पेनिस को लंबा मोटा और ताकतवर बनाया जा सकता है। इसी तरह तमाम गोलियां, टॉनिक आदि लेने से सेक्स पावर बढ़ोतरी होती है।सचाई : पेनिस पर बाजार में मिलने वाले टॉनिक का कोई असर नहीं होता, असर होता है उसके ऊपर बने सांड या घोड़े के चित्र का। इसी तरह जब पेनिस पर तेल की मालिश की जाती है, तो उस हाथ की स्नायु मजबूत होती हैं, जिससे तेल की मालिश की जाती है, लेकिन पेनिस की मसल्स पर इसका कोई भी असर नहीं होता।4. पेनिस में नसें नजर आती हैं तो यह कमजोरी की निशानी है।सचाई : पेनिस में अगर कभी नसें नजर आती भी हैं तो वे नॉर्मल हैं। उनका पेनिस की कमजोरी से कोई लेना देना नहीं है।5. जिन लोगों के पेनिस सरकमसाइज्ड (इस स्थिति में पेनिस की फोरस्किन पीछे की तरफ रहती है और ग्लांस पेनिस हमेशा बाहर रहता है) हैं, वे सेक्स में ज्यादा कामयाब होते हैं।सचाई : सरकमसाइज्ड पेनिस का सेक्स की संतुष्टि से कोई लेना-देना नहीं है। यह तब कराना चाहिए जब उत्तेजित अवस्था में पुरुष की फोरस्किन पीछे हटाने में दिक्कत हो।6. सेक्स पावर बढ़ाने नुस्खे, गोलियां (आयुर्वेदिक और एलोपैथिक), मसाज ऑयल, शिलाजीत आदि बाजार में हैं। इनसे सेक्स पावर बढ़ाई जा सकती है।सचाई : बाजार में आमतौर मिलने वाली ऐसी गोलियों और दवाओं से सेक्स पावर नहीं बढ़ती। आयुर्वेद के नियम कहते हैं कि मरीज को पहले डॉक्टर से मिलना चाहिए और फिर इलाज करना चाहिए। हर मरीज के लिए उसके हिसाब से दवा दी जाती है, दवाओं को जनरलाइज नहीं किया जा सकता।एक पक्ष यह भीयूथ्स की सेक्स समस्याओं पर एलोपैथी और आयुर्वेद की सोच में अंतर मिलता है। जहां एक तरफ एलोपैथी में माना जाता है कि सीमेन शरीर से बाहर निकलने से शरीर और दिमाग को कोई नुकसान नहीं होता, वहीं आयुर्वेदिक पद्धति से इलाज करने वाले लोग सीमेन के संरक्षण की बात करते हैं। आयुर्वेदिक डॉक्टरों के मुताबिक :- महीने में दो से आठ बार तक नाइट फॉल स्वाभाविक है, लेकिन इससे ज्यादा होने लगे, तो यह सेहत के लिए नुकसानदायक है।- मास्टरबेशन करने से याददाश्त कमजोर होती है। एकाग्रता और सेहत पर बुरा असर होता है।- प्रीमैच्योर इजैकुलेशन और इरेक्टाइल डिस्फंक्शन को आयुर्वेद में दवाओं के जरिए ठीक किया जा सकता है, लेकिन इसके लिए मरीज को खुद डॉक्टर से मिलकर इलाज कराना चाहिए। दरअसल, आयुर्वेद में मरीज विशेष के लक्षणों और हाल के हिसाब से दवा दी जाती है, जिनका फायदा होता है।- बाजार में आयुर्वेद के नाम पर बिकने वाले मालिश करने के तेल, कैपसूल और ताकत की दवाएं जनरल होती हैं। इन बाजारू दवाओं से सेक्स पावर बढ़ाने या पेनिस को लंबा-मोटा करने में कोई मदद नहीं मिलती। ये चीजें आयुर्वेद को बदनाम करती हैं।- विज्ञापनों और नीम-हकीमों से दूर रहें। तमाम नीम-हकीम आयुर्वेद के नाम पर युवकों को बेवकूफ बनाकर पैसा ठगते हैं। इनसे बचें और हमेशा किसी योग्य डॉक्टर से ही संपर्क करें।- मर्यादित सेक्स करने से जिंदगी में यश बढ़ता है और परिवार में बढ़ोतरी होती है, जबकि अमर्यादित और बहुत ज्यादा सेक्स रोगों को बढ़ाता है।- मल-मूत्र का वेग होने पर और व्रत, शोक और चिंता की स्थिति में सेक्स से परहेज करना चाहिए।- जो चीजें शरीर को सेहतमंद रखने में मदद करती हैं, वही चीजें सेक्स की पावर बढ़ाने में भी मददगार हैं। ऐसे में अगर आप स्वास्थ्य के नियमों का पालन कर रहे हैं और सेहतमंद खाना ले रहे हैं तो आपको सेक्स पावर बढ़ाने वाली चीजें अलग से लेने की कोई जरूरत नहीं है। http://drbkkashyap.blogspot.in/2015/03/60-45-s-80-20-
73 people found this helpful

I haven't slept for 2days and now my heads is aching, what to do, please help me.

MBBS
General Physician, Cuttack
1.Take paracetamol 500mg,1 tablet sos after food up to a maximum of 3 tablets daily, 2.Drink plenty of water 3.Take rest 4. Avoid anxiety/ stress
Submit FeedbackFeedback

My urine comes with lubricant and somd times with sperm count from past many years what should I do?

Fellowship of the Royal College of Surgeons (FRCS), MS - Urology, MBBS
Urologist, Ahmedabad
Dear do nothing just relax and forget about it. It is quite normal when you are not ejeculating regularly
2 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I am 21 female. I have headache since two days, took pain killers but nothing is affecting. What should I do.

MBBS
General Physician, Cuttack
1. Avoid stress/Anxiety if any 2. Take one tablet of crocin 500mg sos after food up to a maximum of 3 tablets per day for 2 days 3. Drink plenty of water 4. Take rest 5. consult for further advice
Submit FeedbackFeedback

I have been masturbating excessively I am unable to control it . Does it causes for pimples .I have been worrying about it. please give suggestions.

M.Sc - Applied Psychology
Psychologist, Bangalore
Masturbation doesn't cause pimples. Masturbation, when done under moderation and only for self pleasure, does not cause any harm. It becomes a problem only when you feel a compulsion to do it and don't enjoy it either, which seems to be the issue in your case. Do consult a psychologist or sexologist to assess your situation and guide you further.
2 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Eating Fig for Sexual Health

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Sexologist, Delhi
Eating Fig for Sexual Health

Fig is a dry fruit that is consumed throughout the world. It is a dry fruit that has great nutritional value. It as been used as a sexual enhancer by civilization of many thousand years old. The Egyptian started using it and then there have been signs that Persians as well as mughals royals used fig. these royals had many wives and sex slaves and it is said that fig helped them in their sexual escapades.

How it works:

To be honest I wont be able to tell you how fig helps you and I can’t give you scientific logic behind it effectiveness but after using it for a week you would will that your volume of your ejaculation would increase by many folds.

The miracle formula:

Eating fig raw can do wonders to your sexual health and sexual stamina but cooking it with milk will increase its powers many folds. This milk should be taken before sleep. Drinking this milk for a month will make you better sexually. You will witness better erections and also longer lasting ejaculations.

55 people found this helpful

My marriage was completed August end. I had sex early its good and OK. But now its possible only one time in a day I am able to sex with her, second time its not standing. So I am depressed I required solution for this ASAP.

BHMS
Homeopath, Sindhudurg
This happens to many guys, and it has become a problem to many of them. After the first round of sex, their penis could not even stand erect again. There are 4 possible causes why you can’t last longer to be able to go for the second round of sex. If you’re able to get rid of these causes, you’ll get yourself back again and again with harder erection. The four possible causes of lack of sexual energy are; Stress, Lack of exercise (fitness), Good nutrition and Health. Homoepathic treatment help to gain sexual energy without side effects and get harder erection soon.
Submit FeedbackFeedback

My cousin was born with bowed legs. We are worried about it. We are eagerly waiting for information if any treatment is possible for this.

MBBS
General Physician, Mumbai
In medical term we call it talepes equinovarus. If treatment is started early in infancy result will be good. Even some of then van be corrected without surgery. By just simple strapping periodically. Please consult a pediatrician.
Submit FeedbackFeedback

Mere dick main tedda pan aa gya hai or main ese bahut pareshan hun.. Muje kyaa karna chahiye ise sahi karne k liye or kiaa khan achaiye or konsi chijo se durr rehna chahiye. Main bed pe ulta sotta hun kia ise bi koi farak parta hai dick ke size ko or tede pan ko.

PDDM, MHA, MBBS
General Physician, Nashik
A curved penis simply can be a result of individual anatomy. The direction that an erect penis takes depends on the proportion of crus (penis under the skin) to exposed penis. Men with a shorter crus, and thus a longer penis, are more likely to have an erection that points downward, while an erect penis that has a longer crus will probably point outward, or even straight up. Sometimes the penis also bends to the left or to the right. I think in your case bending may be due to short crus. In the vast majority of cases, the curve falls well within the norms of most men and should not be a deterrent for a relationship. If, however, your penis has a pronounced curve or bends sharply to the left or right — especially if penetration is impossible or if an erection is painful — you should see a urologist.
Submit FeedbackFeedback

I am retired 66 years old. I don't have sleep for 40 years. My mind is working without rest and l feel always weak and tired. Kindly advice treatment for good sleep.

MBBS, MD - Psychiatry, MBA (Healthcare)
Psychiatrist, Davanagere
Hi there ~ Getting good sleep is important in maintaining health. There are several things that you can do to promote good sleep, and ultimately Get Better Sleep. Maintain a regular sleep routine Go to bed at the same time. Wake up at the same time. Ideally, your schedule will remain the same (+/- 20 minutes) every night of the week. Avoid naps if possible Naps decrease the ‘Sleep Debt’ that is so necessary for easy sleep onset. Each of us needs a certain amount of sleep per 24-hour period. We need that amount, and we don’t need more than that. When we take naps, it decreases the amount of sleep that we need the next night – which may cause sleep fragmentation and diffulty initiating sleep, and may lead to insomnia. Don’t stay in bed awake for more than 5-10 minutes. If you find your mind racing, or worrying about not being able to sleep during the middle of the night, get out of bed, and sit in a chair in the dark. Do your mind racing in the chair until you are sleepy, then return to bed. No TV or internet during these periods! That will just stimulate you more than desired. If this happens several times during the night, that is OK. Just maintain your regular wake time, and try to avoid naps. Don’t watch TV or read in bed. When you watch TV or read in bed, you associate the bed with wakefulness. The bed is reserved for two things – sleep and hanky panky. Do not drink caffeine inappropriately The effects of caffeine may last for several hours after ingestion. Caffeine can fragment sleep, and cause difficulty initiating sleep. If you drink caffeine, use it only before noon. Remember that soda and tea contain caffeine as well. Avoid inappropriate substances that interfere with sleep Cigarettes, alcohol, and over-the-counter medications may cause fragmented sleep. Exercise regularly Exercise before 2 pm every day. Exercise promotes continuous sleep. Avoid rigorous exercise before bedtime. Rigorous exercise circulates endorphins into the body which may cause difficulty initiating sleep. Have a quiet, comfortable bedroom Set your bedroom thermostat at a comfortable temperature. Generally, a little cooler is better than a little warmer. Turn off the TV and other extraneous noise that may disrupt sleep. Background ‘white noise’ like a fan is OK. If your pets awaken you, keep them outside the bedroom. Your bedroom should be dark. Turn off bright lights. Have a comfortable mattress. If you are a ‘clock watcher’ at night, hide the clock. Have a comfortable pre-bedtime routine A warm bath, shower Meditation, or quiet time If you are still not able to sleep well please set up a consultation and we will try to help.
Submit FeedbackFeedback
Submit FeedbackFeedback

I have neck pain form last 3 month. Is it possible for any other heavy problem in future.

MBBS
General Physician, Cuttack
1. Take one tablet of crocin pain relief sos after food upto a maximum of 3 tablets daily 2. Apply volini gel twice daily 3. Give warm compress locally 4. Take rest if you have recurrent attack of neck pain a) take x ray/mri cervical spine to exclude spondylitis and consult orthopedic specialist b) sometimes it could be due to bad sitting posture while reading or working on computer. Adopt proper sitting posture, put neck rest, use soft pillow while sleeping c) do physio therapy and neck exercise after consulting physiotherapist.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I am 40 years old male and I suffering cough and cold and sneezing running nose for last 5 years. so, what should I do.?

Certified Diabetes Educator, Registered Dietitian (RD), PGDD, Bachelor of Unani Medicine and Surgery (B.U.M.S), General Physician
Dietitian/Nutritionist, Mumbai
Firstly there's no lifelong cure for the common cold. Antibiotics are only effective against infections of throat and are of no use against cold viruses. Over-the-counter (otc) cold preparations won't cure a common cold or make it go away any sooner, and most have side effects. A saltwater gargle 1 teaspoon salt and 1/2tsp turmeric dissolved in a glass of warm water can temporarily relieve a sore or scratchy throat. To help relieve nasal congestion, try saline (pure salt water) nasal drops. If you have a throat infection, or a viral cold then I will prescribe appropriate meds based on your detailed assessment. Do reply back for medication prescriptions. Being also a general physician and registered dietitian, I prescribe both evidence based herbal as well as allopathic medicines complementing with dietary guidelines and home remedies carefully personalized for each individual patient.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I am suffering from diabetics have underfoot burning problem some times please solve my problem.

MBBS, MRCGP ( UK), Diploma in Diabetes (UK), DFSRH (UK), DRCOG (UK)
Endocrinologist, Hyderabad
Hello Sir, 1) You seem to be suffering from Diabetic Peripheral Neuropathy. Long standing high glucose levels ( due to poorly controlled diabetes) can cause damage to nerves of feet, legs, hands and arms. 2) The symptoms include burning sensation of feet, hands ; pricking sensation; stabbing sensation; numbness etc. Solution: 1) Good control of your diabetes ( your fasting blood glucose should be less than 110 and 2 hour post prandial blood glucose should be less than 160. Your HbA1C should be less than 6.5 %. HbA1C gives average blood glucose over the past 3 months) 2) Follow a good diet avoiding high sugar and high calorie food items. 3) Exercise at least 45 min everyday 4) See your doctor who can prescribe medicines to relieve you of your burning sensation symptoms . Hope this helps you. Thank you
2 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

How to reduce fat and control the headache, How to improve the hight How to clear face pipals..

MBBS, cc USG
General Physician, Gurgaon
Hello, you may be having headache because of stress/ refractory problems/ any ENT problem or may be Migraine Headache follow advises given below: You can take(If No drug allergy) : 1. Tablet Crocin (Paracetamol 500 mg) one tablet after food when required for headache after food for 2-3 days (maximum 2 tablets with gap of 12 hour can be taken in a day) 2. Adequate sleep 6-8 hr in a day 3. Get check eyes for refractive error 4.We need to go for ENT evaluation to rule out sinusitis 5. Get BP checked 6. Regular physical exercise and meditation and yoga complete history of your headache for further management like duration, severity, aggravating factors/relieving/ triggering/ associated factor to reach diagnosis consult physician/me for further management.
2 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Hii I have fever for three days What its a better treatment at home please suggest me for a better kind information.

BHMS
Homeopath, Faridabad
Hello, Take Schwabe’s Alpha-CF and Biocombination-11, both after every 2 hourly for 4 days. Management: -Sponging or bathing with tepid water. The use of a fan or air conditioning may somewhat reduce the temperature and increase comfort. If the temperature reaches the extremely high level of hyperpyrexia, aggressive cooling is required. -Take rest and drink plenty of fluids. -Take light, bland, properly cooked home-made healthy food only. **********Consult again if the fever is accompanied by a severe headache, stiff neck, shortness of breath, or other unusual signs or symptoms.***********
Submit FeedbackFeedback
View All Feed