Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Call Doctor
Book Appointment
Dr. Chandrashekhar  - Veterinarian, Bangalore

Dr. Chandrashekhar

BVSc, MVSC - Surgery

Veterinarian, Bangalore

17 Years Experience
Book Appointment
Call Doctor
Dr. Chandrashekhar BVSc, MVSC - Surgery Veterinarian, Bangalore
17 Years Experience
Book Appointment
Call Doctor
Submit Feedback
Report Issue
Get Help
Services
Feed

Personal Statement

I'm dedicated to providing optimal health care in a relaxed environment where I treat every patients as if they were my own family....more
I'm dedicated to providing optimal health care in a relaxed environment where I treat every patients as if they were my own family.
More about Dr. Chandrashekhar
Dr. Chandrashekhar is a renowned Veterinarian in NRR Hospitals, Bangalore. He has helped numerous patients in his 17 years of experience as a Veterinarian. He is a BVSc, MVSC - Surgery . You can consult Dr. Chandrashekhar at Nandi Veterinary Clinic in NRR Hospitals, Bangalore. Save your time and book an appointment online with Dr. Chandrashekhar on Lybrate.com.

Lybrate.com has a nexus of the most experienced Veterinarians in India. You will find Veterinarians with more than 27 years of experience on Lybrate.com. You can find Veterinarians online in Bangalore and from across India. View the profile of medical specialists and their reviews from other patients to make an informed decision.

Info

Education
BVSc - Krnataka Veterinarian College - 2001
MVSC - Surgery - Veterinary College, Bangalore - 2004
Languages spoken
English

Location

Book Clinic Appointment with Dr. Chandrashekhar

Nandi Veterinary Clinic

6th Cross, 60 ft road,Below Relience Fresh ,MEI layout, BagalgunteBangalore Get Directions
...more
View All

Services

Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr. Chandrashekhar

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

My 6 months old golden retriever swallowed laptop plug in.And it is visible in the X-ray reports.In the stomach .Please advise.

Master of sciences, B.V.Sc. & A.H.
Veterinarian, Salem
Just wait until it passes out in motion. Usually take few days . Give lactulose syrup daily 10 ml for 3 times . And also x ray mandatory every 12 hrs to see the movement of the plug . Dont worry it will come if stayed inside have to go for surgery and remove it
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I am 30 years old female. I have pet cat in home. I want to know is there any blood test that can detect if I have any infection in my blood or body from cats? Please advise.

MBA (Healthcare), MVSc, B.V.Sc. & A.H.
Veterinarian, Bidar
Hello. You need not worry about infection from your pet unless you have had it vaccinated and you are active and healthy. There are certain blood tests which are indicative of infection, but only done is risky patients. For more details consult me.
Submit FeedbackFeedback

I have lhasa apso puppy 50days old he is not drinking water his urin is smell strong. As he not drinking water I give him milk. He eat drools starters.

M.V.Sc (Surgery)
Veterinarian, Mohali
Normally puppies don't like to drink water. It is better to give dahi rather than milk. You can give dry starter feed to them. When he eat dry feed then definitely drink water.
6 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

My dog breed pomerian is suffering from meningitis has treatment from six days and is not getting recovered what to do ?

MVSc
Veterinarian, Bareilly
Dear , please give treatment as follow, 1. Inj. Cefepime or cefixime i/v or i/m 2. Inj. Clinalog or clinacort i/m 3. Fluid therapy orally or i/v treatment may be given either 5 days or till total recover.
3 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

My Sweety a Golden Retriever 8 years old suddenly yesterday on wards showing very frightened behavior. Head is turned on one side slightly. One eye is flickering. Even getting into lift afraid. Earlier also she use to getting into the lift very cautiously. Walking is not much problem, Getting up she shows some problem. She is over weight. Hysterectomy done many years ago. Today one vet will come and examine her. Yesterday being Sunday nobody came. Under vet instruction Antihistamine and anxiety tablets given. Also Paracetamol tab.

BASM, MD, MS (Counseling & Psychotherapy), MSc - Psychology, Certificate in Clinical psychology of children and Young People, Certificate in Psychological First Aid, Certificate in Positive Psychology, Positive Psychiatry and Mental Health
Psychologist, Palakkad
Dear lybrate user. I can understand. This is a human health information platform and I don't think there are any veterinary doctors available in this portal. Having said so, doctors here could advise you on the animal health matters too. But, still it will be advisable to consult a veterinary doctor at the earliest. Take care.
Submit FeedbackFeedback

Vaccination In Pets

B.V.Sc
Veterinarian, Varanasi
Vaccination In Pets

Vaccination in dog

टीकाकरण की प्रकिया एक ऐसा उपाय है जिससे, कुत्तो में होने वाली कुछ प्रमुख विषाणु एवं जीवाणु जनित जानलेवा एवं लाइलाज, बीमारियों जैसे कैनाइन डिस्टेंपर, हेपेटाइटिस, पार्वो वायरस, लेप्टोस्पायरोसिस, रेबीज तथा केनल कफ़ आदि से बचाव के लिए समय समय पर कुत्तों के शरीर में टीका लगाया जाता है,जिससे इन रोगों के खिलाफ रोगप्रतिरोधक क्षमता का शारीर में विकास हो जाता है और हमारा पालतू जानवर एक सिमित अवधि तक इन बिमारियों के घातक प्रभाव से बचा रहता है |

कुछ टीकाकरण संबंधी सामान्य प्रश्नो के जबाब -
 
१- क्या सभी उम्र के कुत्तो का टीकाकरण जरूरी होता है?
हाँ। आमतौर पर १. ५ महीने (४५ दिन) के उम्र से ऊपर सभी कुत्तो का नियमित समय पर टीकाकरण करना जरूरी होता है यदि किसी कारण वश नयमिति या कभी कराया ही न गया हो तो किसी भी उम्र से टीकाकरण शुरू किया जा सकता है। 

२. छोटे बच्चो को किस उम्र से टीका का पहली खुराक देना शुरू करना चाहिए?
४५ दिन के उम्र से ही टीके की पहली खुराक देना बेहद जरूरी होता है 

३. क्या सभी छोटे पप्स को टीकाकरण के पहले पेट के कीड़े देना जरूरी होता है -
हाँ। बहुत से परजीवी ऐसे होते है जो माँ के पेट से ही या दूध के जरिये से बच्चे के शरीर में प्रवेश कर जाते है जिससे शरीर को कमजोर कर देते है और जब टीका लगाया जाता है तो कमजोरी के वजह से उतना अच्छा शरीर में प्रतिरोधक छमता का विकास नहीं हो पता इसलिए पहले ऐसे परजीवीओ को नष्ट करना जरूरी होता है 

४. क्या होता है टीकाकरण का सही उम्र और समयांतराल?
१. पहली खुराक -जन्म के ६ -८ सप्ताह के उपरांत(कैनाइन डिस्टेंपर, हेपेटाइटिस, पार्वो वायरस, लेप्टोस्पायरोसिस, पैराइन्फ़्लुएन्ज़ा हेतु) 
२. बूस्टर खुराक या दूसरी खुराक - प्रथम खुराक के २-३ सप्ताह बाद ; फिर दूसरी खुराक के ठीक एक साल बाद वार्षिक खुराक साल में एक बार पूरी उम्र तक लगवाते रहना चाहिए। 
३. तीसरी खुराक - रेबीज वायरस हेतु- प्रथम खुराक जन्म के ३ माह के उपरान्त। 
४. बूस्टर खुराक या चौथी खुराक - तीसरी खुराक के २-३ सप्ताह बाद ; फिर तीसरी खुराक के ठीक एक साल बाद वार्षिक खुराक साल में एक बार पूरी उम्र तक लगवाते रहना चाहिए। 

५. क्या बूस्टर खुराक देना जरूरी होता है या नहीं?
जन्म के साथ ही माँ से प्राप्त एंटीबाडीज और प्रथम दूध से मिलने वाली सुरछा कवच कुछ सप्ताह तक नवजात के खून में मौज़ूद रह करअनेको बीमारयों से सुरछा प्रदान करती है परन्तु समय के साथ साथ इनकी मात्रा बच्चे के शरीर में कम होने लगती है। जिससे बीमारी होने की आशंका बढ़ जाती है इसलिए लगभग ४५ दिन के बाद टिका का प्रथम खुराक देते है यद्पि ये पता नहीं रहता की माँ से मिलने वाली सुरछा का असर किस स्तर का है जिससे आमतौर पर ये स्तर अधिक होने पर प्रथम खुराक से बच्चे के शरीर में टीकाकरण की गुणवत्ता को बाधित करती है, जो की पप्पस में रोगप्रतिरोधक क्षमता उत्पन्न करने में असक्षम हो जाता है इसलिए कुछ सप्ताह बाद टीकाकरण के दूसरी खुराक दे कर टीकाकरण से रोगप्रतिरोधक क्षमता करने के उद्देश्य को प्राप्त करते है ऐसी दूसरी खुराक को बूस्टर खुराक कहते है। 

६. क्या है टीकाकरण की सही खुराक देने के मात्रा:
डॉग चाहे किसी भी उम्र, भार, लिंग अथवा नस्ल के हों उनको समान मात्रा में टीकाकरण का खुराक दिया जाता है 

७. क्या है टीकाकरण का सही तरीका:
टीकाकरण खाल के नीचे:कैनाइन डिस्टेंपर, हेपेटाइटिस, पार्वो वायरस, लेप्टोस्पायरोसिस, पैराइन्फ़्लुएन्ज़ा तथा रेबीज जैसी बीमारियों की रोकथाम के लिए खाल के नीचे दिया जाता है
 नथुनों में:केनल कफ़ का टीकाकरण कुत्ते के नथुनों में दवा डाल कर किया जाता है

८. क्या सभी टीके एक ही प्रकार के होते है:कुत्तों में टीकाकरण दो प्रकार की होती है
 १. कोर टीकाकरण - टीकाकरण जो सभी कुत्तों के लिये आवश्यक है. यह उन बिमारीयों में दिया जाता है जो आसानी से फैलती हैं अथवा घातक होती हैं जैसे रेबीज, एडीनोवायरस, पार्वोवायरस, और डिस्टेंपर.
 २. नान कोर टीकाकरण – उपरोक्त ४ बिमाँरीयों (रेबीज, एडीनोवायरस, पार्वोवायरस, और डिस्टेंपर) के टीकाकरण को छोड़कर अन्य सभी नानकोर टीकाकरण माना जाता है | यह उन बिमाँरियों से सुरक्षा प्रदान करता है जो वातावरण के अनावरण अथवा जीवनचर्या पर निर्भर करती है जैसे लाइम डिजीज, केनलकफ और लेप्टोस्पाइरोसिस.

९. एक सफल टीकाकरण करने के बाद क्या फिर भी टीकाकरण विफल हो सकता है?हाँ। 
 टीकाकरण के विफलता के कारण कुत्ते में बीमारी होने के निम्नलिखित मुख्य कारण हो सकते है –
१. टीकाकरण के दौरान कुत्ते की रोगप्रतिरोधक क्षमता का सम्पूर्ण रूप से कार्य न करना |
२.आयु – कम उम्र के जानवरों की प्रतिरक्षा प्रणाली पूर्णतः विकसित नही होती और बड़े आयु के जानवरों की प्रतिरक्षा प्रणाली कई कारणों से अक्सर कमज़ोर या क्षीण हो जाती है |
३. मानवीय चूक (टीके का अनुचित संग्रहण या अनुचित मिश्रण)- टीकों का संग्रहण एवं इस्तेमाल भी निर्देशानुसार ही होना आवश्यक है | सूरज की रोशनी,गर्म तापमान टीके के प्रभाव को नस्ट कर सकता है | टीके का मिश्रण पशु में टीकाकरण के तुरंत पहले तैयार करना चाहिए | टीके खरीदने के पहले पता करना चाहिए कि टीकों को उचित तापमान एवं देखभाल से रखा गया है या नहीं |
४. डीवार्मिंग – टीकाकरण करने के पहले पेट के कीड़े मारने के लिए डीवर्मिंग करना आवश्यक है, वरना इस तरह का तनाव टीकाकरण के प्रभाव को कम कर सकता है |
५. गलत सीरोटाईप / स्टेन का इस्तेमाल – प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया बहुत विशिष्ट होती है | अतः टीके में होने वाली जीवाणु या विषाणु की सही स्टेन होनी चाहिए वरना उससे उत्पन्न होने वाली प्रतिरक्षा जानवर में सही तौर पर सुरक्षा नहीं कर पाती |
६. अनुवांशिक बीमारियाँ – कुछ जानवरों में आनुवंशिक बिमारियों की वजह से सभी रोगों के लिए प्रतिरोधक छमता सामान्य तौर पर कम ही उत्पन्न हो पाती है |
७. वैक्सीन की गुणवत्ता – टीके में प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रोत्साहित करने के लिए प्रयाप्त मात्रा में प्रतिजनी की मात्रा होना चाहिए वरना टीकाकरण के बाद प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया प्रयाप्त नहीं होती है |
८. पुराने या अवधि समाप्त टीके – पुराने टीकों में आवश्यक प्रतिजनी गुण समाप्त या कम हो जाता है | इस तरह के टीके लगाने से जानवरों को बेमतलब तनाव दिया जाता है |
९. टीकाकरण का अनुचित समय – टीका निर्माता के निर्देशों के अनुसार टीकाकरण का समय (उम्र एवं मौसम के अनुसार), लगाने का तरीका एवं मात्रा तथा दोबारा लगाये जाने की अवधि, इत्यादि निश्चित होता है |इन निर्देशों का पालन सही समय पर न करने से टीकाकरण विफल या निष्क्रिय हो जाता है |
१०. पोषण की स्तिथि- कुपोषण की वजह से जिन पशुओं में पोषक तत्वों की कमी रह जाती है उनमे टीकाकरण के बाद भी प्रतिरोधक छमता सामान्य तौर पे कम ही उत्पन्न हो पाती है |

10. क्या वैक्सीन लगते समय कुत्ते पर कोई दुस्प्रभाव हो सकते है? हाँ 
 कुछ कुत्तो प्रतिरोधक छमता अधिक सक्रिय होने की वजह से कुछ सामान्य लचण जैसे ज्वर, उल्टी, दस्त, लासीका ग्रंथियों का सूजना, मुख का सूजना, हीव्स, यकृत विफलता और कभी -कभी मौत भी हो सकती है।

1 person found this helpful

deploma Veterinary
Veterinarian,
In summer maintain your pet tem. And give them lots of water and give bath 2 time with look warm water not to hot and use anti fungal soap for bath.
10 people found this helpful

Dr I have two female lovebird and one male lovebird and one female lovebird is going inside and male lovebird is not giving female love bird to sit in the nest what to do ?reply fast dr.

B.V.Sc. & A.H.
Veterinarian, Hoshiarpur
What is the age of lovebirds and how you are able to distinguish between male and female lovebirds as it is quite difficult to find sex of lovebirds there may be sexing problem.
3 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Sir or madam my dog getting blood in stool what happen I do not no please tell me there is any medicine and tell me the name of that medicine please please. Please reply fast.

MVSc (Ph.D pursuing)
Veterinarian, Hyderabad
Plz give arnica 30 c drops - 3 drops in the mouth morning and evening until you reach to your nearby vet for injections and glucose drips.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

6 Most Dangerous People- Foods for Dogs

Master of sciences, B.V.Sc. & A.H.
Veterinarian, Salem
6 Most Dangerous People- Foods for Dogs
Most Dangerous People Foods for Dogs

Dogs must never be fed with following people-food. It’s only slow poison for your pets.

1. Onions & Garlic: These are highly flavored foods and can cause toxicosis in dogs.
2. Chocolate: Ingestion of chocolate by dogs can cause abdominal pain and vomiting to them due to the presence of theobromine and caffeine.
3. Avocado: Dogs must never be fed with avocado flesh or skin. Not just avocado fruit but even various parts of avocado tree are fatal for dogs.
4. Raisins & Grapes: Even slight feeding of raisins or grapes can pose problem to dogs. Their ingestion can cause kidney failure to them.
5. Nuts: Nuts contain phosphorus that can cause bladder stones in dogs. Ingestion of walnuts and macadamia result in vomiting, joint swelling and muscular pain in dogs.
6. Xylitol: Xylitol is a sweetener that is very harmful for dogs for it can cause them loss of coordination, seizure and even liver failure.

If you would like to consult with me privately, please click on 'Consult'.
673 people found this helpful
View All Feed