Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Book
Call
Dr. Chandrashekhar  - Veterinarian, Bangalore

Dr. Chandrashekhar

BVSc, MVSC - Surgery

Veterinarian, Bangalore

17 Years Experience
Book Appointment
Call Doctor
Dr. Chandrashekhar BVSc, MVSC - Surgery Veterinarian, Bangalore
17 Years Experience
Book Appointment
Call Doctor
Submit Feedback
Report Issue
Get Help
Feed
Services

Personal Statement

I'm dedicated to providing optimal health care in a relaxed environment where I treat every patients as if they were my own family....more
I'm dedicated to providing optimal health care in a relaxed environment where I treat every patients as if they were my own family.
More about Dr. Chandrashekhar
Dr. Chandrashekhar is a renowned Veterinarian in NRR Hospitals, Bangalore. He has helped numerous patients in his 17 years of experience as a Veterinarian. He is a BVSc, MVSC - Surgery . You can consult Dr. Chandrashekhar at Nandi Veterinary Clinic in NRR Hospitals, Bangalore. Save your time and book an appointment online with Dr. Chandrashekhar on Lybrate.com.

Lybrate.com has a nexus of the most experienced Veterinarians in India. You will find Veterinarians with more than 42 years of experience on Lybrate.com. You can find Veterinarians online in Bangalore and from across India. View the profile of medical specialists and their reviews from other patients to make an informed decision.

Info

Education
BVSc - Krnataka Veterinarian College - 2001
MVSC - Surgery - Veterinary College, Bangalore - 2004
Languages spoken
English

Location

Book Clinic Appointment with Dr. Chandrashekhar

Nandi Veterinary Clinic

6th Cross, 60 ft road,Below Relience Fresh ,MEI layout, BagalgunteBangalore Get Directions
...more
View All

Services

Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr. Chandrashekhar

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

I have just adopted labrador pup he is 35 days old. My concern is when should I get him his 1st vaccination. As from whom I adopted he said on 42 days direct booster I consulted 1 vet doctor he said you should start from, 33 days age I am confused. Kindly guide He wants to bite on everything I think he is getting irritated as his teeth are erupting kindly reply.

BVSc
Veterinarian, Noida
Vaccination from vet should start from 45 day of puppy birth. Its the time when dhppi or 9 in 1 or 7 in 1 vaccine starts. This vaccine mainly immunes puppy from diseases like parvo and distemper. Upto 4 and half month, a series of vaccines will be given to puppy. Consult your nearby vet and go for vaccination whenever he or she calls your puppy.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

My dog is vomiting water like liquid little foamy with tiny bits of blood, it happened twice, one 5 days back in the morning around 4am, then at 2am. During vomiting he collapsed and paralyzed without any movement. Both time he woke up after 5 mins and he was active. I gave him rantac and vomited (half). Please help me, I am scared, he is 12 years old. 6 months back he had UTI. He is being given Nefrotec DS 1 tabs a day from 4 months as Advised by Vet. Please Please Help me, save my boy.

MVSc (Ph.D pursuing)
Veterinarian, Hyderabad
Due to her kidney problems, seems her heart is suffering a bit. Toxins r slowly raising to the brain. You have to get your dog to your nearby vet Dr. For daily blood tests and iv fluid therapies with proper antibiotics if any sign of infection is confirmed by the blood reports.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

If a dog get fractured in his back. He is in great pain, even painkillers are not working. How many chances he have for survive?

MVSc
Veterinarian, Pune
Please possible put same x rays of fracture so according to that we can decided what we can do. Till that cond painkiller and antibiotic.
8 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I have a black rabbit and he's 2 years old, my question is how can I help him wid his loose motions.

M.V.Sc. & PhD Scholar Veterinary Medicine
Veterinarian, Navi Mumbai
Please provide lacto bacillus powder (sporolac sachets) in his diet. You can add it in water or can feed directly also. Don't give any oral antibiotics as these may aggravate the condition. Thank you.
3 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Hi Doctor, We had given all vaccination's to our myson ,who is 2+ , lebra but some time we had noticed that he don't eat and avoid eating any thing. Also we had noticed that he want to have sex but after talking to so many people we are unable to get any friend for him. Would like to kindly suggest in this regards.

Master of sciences, B.V.Sc. & A.H.
Veterinarian, Salem
sexual instinct will be there in dog to the core for few months in a year as they are seasonal breeders . they can only have this period only so its better to have a playmate for him at least twice a years or else his aggression would be different as age advances
Submit FeedbackFeedback

Vaccination In Pets

B.V.Sc
Veterinarian, Ballia
Vaccination In Pets

Vaccination in dog

टीकाकरण की प्रकिया एक ऐसा उपाय है जिससे, कुत्तो में होने वाली कुछ प्रमुख विषाणु एवं जीवाणु जनित जानलेवा एवं लाइलाज, बीमारियों जैसे कैनाइन डिस्टेंपर, हेपेटाइटिस, पार्वो वायरस, लेप्टोस्पायरोसिस, रेबीज तथा केनल कफ़ आदि से बचाव के लिए समय समय पर कुत्तों के शरीर में टीका लगाया जाता है,जिससे इन रोगों के खिलाफ रोगप्रतिरोधक क्षमता का शारीर में विकास हो जाता है और हमारा पालतू जानवर एक सिमित अवधि तक इन बिमारियों के घातक प्रभाव से बचा रहता है |

कुछ टीकाकरण संबंधी सामान्य प्रश्नो के जबाब -
 
१- क्या सभी उम्र के कुत्तो का टीकाकरण जरूरी होता है?
हाँ। आमतौर पर १. ५ महीने (४५ दिन) के उम्र से ऊपर सभी कुत्तो का नियमित समय पर टीकाकरण करना जरूरी होता है यदि किसी कारण वश नयमिति या कभी कराया ही न गया हो तो किसी भी उम्र से टीकाकरण शुरू किया जा सकता है। 

२. छोटे बच्चो को किस उम्र से टीका का पहली खुराक देना शुरू करना चाहिए?
४५ दिन के उम्र से ही टीके की पहली खुराक देना बेहद जरूरी होता है 

३. क्या सभी छोटे पप्स को टीकाकरण के पहले पेट के कीड़े देना जरूरी होता है -
हाँ। बहुत से परजीवी ऐसे होते है जो माँ के पेट से ही या दूध के जरिये से बच्चे के शरीर में प्रवेश कर जाते है जिससे शरीर को कमजोर कर देते है और जब टीका लगाया जाता है तो कमजोरी के वजह से उतना अच्छा शरीर में प्रतिरोधक छमता का विकास नहीं हो पता इसलिए पहले ऐसे परजीवीओ को नष्ट करना जरूरी होता है 

४. क्या होता है टीकाकरण का सही उम्र और समयांतराल?
१. पहली खुराक -जन्म के ६ -८ सप्ताह के उपरांत(कैनाइन डिस्टेंपर, हेपेटाइटिस, पार्वो वायरस, लेप्टोस्पायरोसिस, पैराइन्फ़्लुएन्ज़ा हेतु) 
२. बूस्टर खुराक या दूसरी खुराक - प्रथम खुराक के २-३ सप्ताह बाद ; फिर दूसरी खुराक के ठीक एक साल बाद वार्षिक खुराक साल में एक बार पूरी उम्र तक लगवाते रहना चाहिए। 
३. तीसरी खुराक - रेबीज वायरस हेतु- प्रथम खुराक जन्म के ३ माह के उपरान्त। 
४. बूस्टर खुराक या चौथी खुराक - तीसरी खुराक के २-३ सप्ताह बाद ; फिर तीसरी खुराक के ठीक एक साल बाद वार्षिक खुराक साल में एक बार पूरी उम्र तक लगवाते रहना चाहिए। 

५. क्या बूस्टर खुराक देना जरूरी होता है या नहीं?
जन्म के साथ ही माँ से प्राप्त एंटीबाडीज और प्रथम दूध से मिलने वाली सुरछा कवच कुछ सप्ताह तक नवजात के खून में मौज़ूद रह करअनेको बीमारयों से सुरछा प्रदान करती है परन्तु समय के साथ साथ इनकी मात्रा बच्चे के शरीर में कम होने लगती है। जिससे बीमारी होने की आशंका बढ़ जाती है इसलिए लगभग ४५ दिन के बाद टिका का प्रथम खुराक देते है यद्पि ये पता नहीं रहता की माँ से मिलने वाली सुरछा का असर किस स्तर का है जिससे आमतौर पर ये स्तर अधिक होने पर प्रथम खुराक से बच्चे के शरीर में टीकाकरण की गुणवत्ता को बाधित करती है, जो की पप्पस में रोगप्रतिरोधक क्षमता उत्पन्न करने में असक्षम हो जाता है इसलिए कुछ सप्ताह बाद टीकाकरण के दूसरी खुराक दे कर टीकाकरण से रोगप्रतिरोधक क्षमता करने के उद्देश्य को प्राप्त करते है ऐसी दूसरी खुराक को बूस्टर खुराक कहते है। 

६. क्या है टीकाकरण की सही खुराक देने के मात्रा:
डॉग चाहे किसी भी उम्र, भार, लिंग अथवा नस्ल के हों उनको समान मात्रा में टीकाकरण का खुराक दिया जाता है 

७. क्या है टीकाकरण का सही तरीका:
टीकाकरण खाल के नीचे:कैनाइन डिस्टेंपर, हेपेटाइटिस, पार्वो वायरस, लेप्टोस्पायरोसिस, पैराइन्फ़्लुएन्ज़ा तथा रेबीज जैसी बीमारियों की रोकथाम के लिए खाल के नीचे दिया जाता है
 नथुनों में:केनल कफ़ का टीकाकरण कुत्ते के नथुनों में दवा डाल कर किया जाता है

८. क्या सभी टीके एक ही प्रकार के होते है:कुत्तों में टीकाकरण दो प्रकार की होती है
 १. कोर टीकाकरण - टीकाकरण जो सभी कुत्तों के लिये आवश्यक है. यह उन बिमारीयों में दिया जाता है जो आसानी से फैलती हैं अथवा घातक होती हैं जैसे रेबीज, एडीनोवायरस, पार्वोवायरस, और डिस्टेंपर.
 २. नान कोर टीकाकरण – उपरोक्त ४ बिमाँरीयों (रेबीज, एडीनोवायरस, पार्वोवायरस, और डिस्टेंपर) के टीकाकरण को छोड़कर अन्य सभी नानकोर टीकाकरण माना जाता है | यह उन बिमाँरियों से सुरक्षा प्रदान करता है जो वातावरण के अनावरण अथवा जीवनचर्या पर निर्भर करती है जैसे लाइम डिजीज, केनलकफ और लेप्टोस्पाइरोसिस.

९. एक सफल टीकाकरण करने के बाद क्या फिर भी टीकाकरण विफल हो सकता है?हाँ। 
 टीकाकरण के विफलता के कारण कुत्ते में बीमारी होने के निम्नलिखित मुख्य कारण हो सकते है –
१. टीकाकरण के दौरान कुत्ते की रोगप्रतिरोधक क्षमता का सम्पूर्ण रूप से कार्य न करना |
२.आयु – कम उम्र के जानवरों की प्रतिरक्षा प्रणाली पूर्णतः विकसित नही होती और बड़े आयु के जानवरों की प्रतिरक्षा प्रणाली कई कारणों से अक्सर कमज़ोर या क्षीण हो जाती है |
३. मानवीय चूक (टीके का अनुचित संग्रहण या अनुचित मिश्रण)- टीकों का संग्रहण एवं इस्तेमाल भी निर्देशानुसार ही होना आवश्यक है | सूरज की रोशनी,गर्म तापमान टीके के प्रभाव को नस्ट कर सकता है | टीके का मिश्रण पशु में टीकाकरण के तुरंत पहले तैयार करना चाहिए | टीके खरीदने के पहले पता करना चाहिए कि टीकों को उचित तापमान एवं देखभाल से रखा गया है या नहीं |
४. डीवार्मिंग – टीकाकरण करने के पहले पेट के कीड़े मारने के लिए डीवर्मिंग करना आवश्यक है, वरना इस तरह का तनाव टीकाकरण के प्रभाव को कम कर सकता है |
५. गलत सीरोटाईप / स्टेन का इस्तेमाल – प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया बहुत विशिष्ट होती है | अतः टीके में होने वाली जीवाणु या विषाणु की सही स्टेन होनी चाहिए वरना उससे उत्पन्न होने वाली प्रतिरक्षा जानवर में सही तौर पर सुरक्षा नहीं कर पाती |
६. अनुवांशिक बीमारियाँ – कुछ जानवरों में आनुवंशिक बिमारियों की वजह से सभी रोगों के लिए प्रतिरोधक छमता सामान्य तौर पर कम ही उत्पन्न हो पाती है |
७. वैक्सीन की गुणवत्ता – टीके में प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रोत्साहित करने के लिए प्रयाप्त मात्रा में प्रतिजनी की मात्रा होना चाहिए वरना टीकाकरण के बाद प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया प्रयाप्त नहीं होती है |
८. पुराने या अवधि समाप्त टीके – पुराने टीकों में आवश्यक प्रतिजनी गुण समाप्त या कम हो जाता है | इस तरह के टीके लगाने से जानवरों को बेमतलब तनाव दिया जाता है |
९. टीकाकरण का अनुचित समय – टीका निर्माता के निर्देशों के अनुसार टीकाकरण का समय (उम्र एवं मौसम के अनुसार), लगाने का तरीका एवं मात्रा तथा दोबारा लगाये जाने की अवधि, इत्यादि निश्चित होता है |इन निर्देशों का पालन सही समय पर न करने से टीकाकरण विफल या निष्क्रिय हो जाता है |
१०. पोषण की स्तिथि- कुपोषण की वजह से जिन पशुओं में पोषक तत्वों की कमी रह जाती है उनमे टीकाकरण के बाद भी प्रतिरोधक छमता सामान्य तौर पे कम ही उत्पन्न हो पाती है |

10. क्या वैक्सीन लगते समय कुत्ते पर कोई दुस्प्रभाव हो सकते है? हाँ 
 कुछ कुत्तो प्रतिरोधक छमता अधिक सक्रिय होने की वजह से कुछ सामान्य लचण जैसे ज्वर, उल्टी, दस्त, लासीका ग्रंथियों का सूजना, मुख का सूजना, हीव्स, यकृत विफलता और कभी -कभी मौत भी हो सकती है।

1 person found this helpful

I have a lab and he has a swelling plus he is limping in his right fore arm. Please suggest medication

Master of sciences, B.V.Sc. & A.H.
Veterinarian, Salem
Age sex and how long the swelling is . please rule out any cancerous outgrowth with your vet by doing biopsy and also x-ray if required by the vet for further investigation
Submit FeedbackFeedback

Hiii, is egg good for German Shepherd and my dog was not taking food properly even royal canine adult german shepherd food. Please suggest me best feed for it. Thank you.

MVSC
Veterinarian, Hyderabad
Hi, egg is ok. You can also try other brand diet like pedigree / N & D/ Hills available in your local market. Go for regular deworming to make it heathy.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I am having 4 years old male dog. His hair is falling like bunch, bunch. Kindly suggest me any medication for him.

B.V.Sc. & A.H.
Veterinarian, Hoshiarpur
If all of a sudden the problem started there may be some stress ongoing it may be due to seasonal changes also
2 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

My cat has suffering from fever and sneezing continuously, eating sometimes only, what do I do for my pet cat?

B.V.Sc. & A.H., M.V.Sc
Veterinarian, Gurgaon
Fever and sneezing are signs of systematic infection kindly take it to nearby vet. Your vet will check fever plus will check the nasal track along with lungs to access condition of respiratory tract.
Submit FeedbackFeedback
View All Feed