Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Call Clinic
Book Appointment

Shree Krishna Clinic

Homeopath Clinic

6 Manharnagar Part-2 Nr Khodiar Nagar Bapu Nagar Ahmedabad - Ahmedabad
1 Doctor
Book Appointment
Call Clinic
Shree Krishna Clinic Homeopath Clinic 6 Manharnagar Part-2 Nr Khodiar Nagar Bapu Nagar Ahmedabad - Ahmedabad
1 Doctor
Book Appointment
Call Clinic
Report Issue
Get Help
Services
Feed

About

Customer service is provided by a highly trained, professional staff who look after your comfort and care and are considerate of your time. Their focus is you....more
Customer service is provided by a highly trained, professional staff who look after your comfort and care and are considerate of your time. Their focus is you.
More about Shree Krishna Clinic
Shree Krishna Clinic is known for housing experienced Homeopaths. Dr. Shailesh J Shah, a well-reputed Homeopath, practices in Ahmedabad. Visit this medical health centre for Homeopaths recommended by 70 patients.

Timings

MON-SAT
10:00 AM - 12:00 PM 06:00 PM - 09:00 PM

Location

6 Manharnagar Part-2 Nr Khodiar Nagar Bapu Nagar Ahmedabad -
Khodiar Nagar Ahmedabad, Gujarat - 380024
Click to view clinic direction
Get Directions

Doctor in Shree Krishna Clinic

25 Years experience
Available today
10:00 AM - 12:00 PM
06:00 PM - 09:00 PM
View All
View All

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Shree Krishna Clinic

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

Lumps - Know Reason Behind It!

MBBS, MS - General Surgery
General Surgeon, Pune
Lumps - Know Reason Behind It!

Lumps are usually harmless and do not raise serious concerns. However, if the lump persists for more than two weeks, it may be a serious issue. Lumps are categorized based on their place of occurrence and each of them demand separate treatment. Learn the signs of danger related to lumps and take action accordingly.

Reason behind formation of Lumps

Injury is one of the major causes behind lumps. If the lump is painful, one must consult a doctor immediately. There can be various other causes behind lumps, which depend upon its place of occurrence.

  1. Epidermoid and pilar cysts (sebaceous cysts) appear as small smooth lumps under the surface of one’s skin. Such cysts are non-cancerous, hence, can be treated easily.
  2. Swollen lymph glands generally occur in neck or in groin or under the armpit. Usually, any infection results in swollen lymph glands. However, in certain cases it may be caused by cancer.
  3. Skin abscess is a term given to collection of pus. e.g. boils. Symptoms of abscess consist of redness and swelling.
  4. Style or Chalazion causes swelling on the eyelids.
  5. Lump in the salivary glands happens due to mumps
  6. Swelling in the thyroid glands may cause lump in the neck region. This lump may encompass the entire third gland or a part of it.
  7. Breast lumps occur in both men and women. Generally, they do not indicate breast cancer. Any abnormal swelling in the breast must be immediately shown to the doctor.
  8. Hernia or enlarged lymph gland may result in a lump in the groin.
  9. If a person experiences swelling in the scrotum, he must immediately consult a doctor.
  10. Lump in the anus can be caused due to piles. The small vessels engulfing the anus may get swelled piling up more blood than usual. Other than a pile, abscess could also be the reason behind lump.
  11. Lump on the hand, wrist, finger may occur due to ganglion. Such cysts may develop around joints or tendons.

Signs which indicate you must get your lump checked by a doctor

  1. If the lump gets hard or firm
  2. If the lump gets sore
  3. If the lump gets enlarged
  4. If the lump doesn’t vanish within few days
  5. If your body temperature rises more than normal
  6. If you experience abnormal loss in weight
  7. If you experience any such abnormalities
  8. If the lump reappears post removal

If any of the above sign occurs, it is better to consult a doctor and get your lump checked. In most cases, lumps are harmless and non-cancerous. But it is better to take precaution.

Hirsutism In Women - Effective Ways To Get Rid Of Them!

MD, MBBS
Dermatologist, Delhi
Hirsutism In Women - Effective Ways To Get Rid Of Them!

Are you growing hair in unusual places where you do not want them to be such as on the neck, chest, chin and back? Hirsutism is a medical term, which refers to excess body hair and facial hair in women. It occurs because of an increased production of androgens or male hormones. The increased sensitivity of the androgen receptors in the skin follicles also causes hirsutism.

Diagnosis
Hirsutism is diagnosed using two methods:

  1. The Ferriman Gallwey model involves the visual inspection for detecting the presence of excess hair. The amount of hair growth in nine areas of your body is quantified in this model. However, this is not an ideal method as many women shave or pluck their hair.
  2. Blood test for excess androgens is another method for diagnosis of hirsutism. The different tests include free testosterone, total testosterone and DHEAS or dehydropiandosterone sulphate. Women with PCOS (polycysticovarian syndrome) are likely to have increased levels of free testosterone in their body because of the absence of enough sex hormone binding globulin.

Removing excess hair
There are several ways by which you can get rid of excess body and facial hair. They are as follows:

  1. Plucking is a way of hiding hair during early stages. It is an easy fix. However, plucking from the follicle may lead to the distortion of the follicle, which may cause hair to thicken and turn darker.
  2. Depilatories is another way of removing excess hair due to hirsutism. Depilatories remove excess hair by the use of a chemical which dissolves the hair.
  3. Waxing is also effective for removing excessive hair. In waxing, warm wax is spread over the affected areas; a strip of cloth is placed over it, and rubbed on the wax. After holding the skin tight, the cloth is pulled off.
  4. Several medicines are used for dealing with hirsutism in women such as oral contraceptives, which help in removing the amount of androgens in the body. The androgen production may decrease as a result of oral contraceptives. The amount of circulating concentration of androstenediones and total testosterone are also reduced. Anti androgen medicines are also prescribed in some cases.
  5. Electrolysis is opted as a measure of managing excessive hair. In the process, a needle gets inserted along the hair shaft. After this, an electric pulse is sent to the root. This makes the hair release from the follicles and they are pulled out.

Laser hair removal is the final option for hirsutism treatment. In this method, light from the laser eliminates several hairs in the affected area. The pigment present in the hair absorbs the energy from the laser and gets destroyed.

Nervous System - How Does Diabetes Affect It?

MD - General Medicine, MBBS Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery, Post Graduate Diploma In Diabetology (PGDD), Middlesex university London, Stanley Medical college Chennai
Diabetologist, Chennai
Nervous System - How Does Diabetes Affect It?

Diabetic neuropathy is a nerve disorder caused by diabetes. The high blood sugarfrom diabetes affects the nerves and over time increases a person's risk for nerve damage. Keeping blood sugar levels within the target range recommended by your doctor helps prevent diabetic neuropathy.

Types of Diabetic Neuropathy:
Diabetic neuropathy can be classified as Peripheral, Autonomic, Proximal, or Focal. Each affects different parts of the body in various ways...

Peripheral neuropathy, the most common type of diabetic neuropathy, causes pain or loss of feeling in the toes, feet, legs, and hands.

Autonomic neuropathy affects the nerves that control involuntary body functions such as digestion, bowel and bladder function, sexual response, and perspiration. It can also affect the nerves that serve the heart and control blood pressure, as well as nerves in the lungs and eyes. Autonomic neuropathy can also cause hypoglycemia unawareness, a condition in which people no longer experience the warning symptoms of low blood glucose levels.

Proximal neuropathy causes pain in the thighs, hips, arms, or buttocks and leads to weakness in the legs and hands, resulting in difficulty in walking, standing, picking up objects, buttoning your clothes, etc.

Focal neuropathy results in the sudden weakness of one nerve or a group of nerves, causing muscle weakness or pain. Any nerve in the body can be affected.

How Diabetes Causes Damage to the Nervous System?
There are several factors that are likely to contribute to nerve damage through diabetes...

  • High blood glucose, a condition associated with diabetes, causes chemical changes in nerves. These changes impair the nerves' ability to transmit signals. 
  • High glucose levels affect many metabolic pathways in the nerves, leading to an accumulation of a sugar called sorbitol and depletion of a substance called myoinositol. These changes are the mechanism that causes nerve damage. Nitric oxide dilates blood vessels. In a person with diabetes, low levels of nitric oxide may lead to constriction of blood vessels supplying the nerve, contributing to nerve damage.
  • Presence of mechanical injury like carpal tunnel syndrome in a diabetic patient worsens its symptoms and prognosis
  • inherited traits increase susceptibility to nerve disease
  • lifestyle factors, such as smoking or alcohol use

Symptoms:

  1. Numbness, burning sensations, tingling, or pain in the toes, feet, legs, hands, arms, and fingers
  2. Either hypersensitivity to touch or insensitivity, even to hot and cold temperatures
  3. Weakness in muscles and loss of reflexes
  4. indigestionnausea, or vomiting
  5. diarrhea or constipation
  6. dizziness or faintness due to a drop in blood pressure after standing or sitting up
  7. problems with urination
  8. Changes in gait and balance
  9. Injuries that are taking longer to heal and are more prone to infections

Prevent Diabetic Nerve Damage:
Keeping your blood sugar levels in your target range, set with your doctor, may help prevent nerve damage from ever developing. The best way to do this is by checking your blood sugar and adjusting your treatment. It is also important to get to and stay at a healthy weight by exercising and eating healthy foods.

Laser Hair Removal - All You Need To Know!

MS - General Surgery
Cosmetic/Plastic Surgeon, Bathinda
Laser Hair Removal - All You Need To Know!

In the modern times, hair removal has become very common. Most people get a hair removal done for fashion reasons, although hair removal is extremely hygienic as well. The common hair removal methods are waxing, shaving or tweezing. The latest and the most effective hair removal method is laser hair removal

Benefits:

  1. Lasers are extremely useful to remove unwanted hair from different parts of the body like the face, the legs, the arms, the underarms, the bikini line, and any other area. Here are a few benefits of laser hair removal:
  2. Laser hair removal can focus on a particular portion of the skin leaving the surrounding areas. It can also remove coarse hair without affecting the skin in the area.
  3. It is a very fast method as each laser pulse takes just a fraction of a second. An upper lip laser hair removal takes about a minute whereas laser hair removal of the back can take almost an hour.
  4. Laser hair removals are mostly permanent after a series of minimum 3 sittings.

What to do before Treatment?
Laser hair removal is just not a method to remove hair, it is a complete treatment. Make sure the person who will conduct the treatment on you is a professional technician or a doctor. 
If you are getting a laser hair removal, abstain from waxing, plucking, or electrolysis for at least six weeks before going through the treatment. Also try to avoid the Sun as that can create certain complications.

What to expect from Treatment?
Before your unwanted hair is removed with laser, it will be trimmed to just a few millimeters right above the skin. The equipment of the laser treatment will adjust to the colour, the thickness, as well as the location of the unwanted hair being treated, along with the skin colour. The technician and you will need to wear eye protection, according to which laser will be used. Your outer skin will also be requiring a coolant gel or device before the treatment takes place. 
After the treatment is done you will be provided with ice packs and anti-inflammatory lotions to relieve the discomfort. Schedule your next sitting after at least six weeks. You will have to keep going for more sittings until hair stops growing.

Risks:
You might look sunburned after the treatment. Moisturizing will help ease the burnt feeling. Use sunscreen to prevent any colour change of your skin. Some other side effects can be blistering (which is usually very rare), swelling, scarring, or redness.

Parkinson's Disease - How To Track It Early?

MBBS Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery, MD - General Medicine, DM - Neurology
Neurologist, Delhi
Parkinson's Disease - How To Track It Early?

Neurology is the branch of science and medicine dealing with the central and peripheral nervous system. The nervous system is made of the brain and spinal cord. The disorders, illness or injuries of the nervous system can become problematic for people suffering from them. One of the worst diseases of the nervous system is Parkinson’s disease.

It is a progressive disorder affecting the central nervous system that leads to slowing down of movement and slurring of speech over a period of time. It is a condition where the nerve cells in the brain producing dopamine (a neurotransmitter) are affected.

Some of the early signs of Parkinson’s include:

  1. Tremor: If you have noticed a slight shaking of your hands or limbs, then Parkinson’s might be the cause. The trembling can range from mild to severe as the disease progresses. The back-and-forth rubbing of your thumb and forefinger is known as pill-rolling tremor. One of the most prominent signs is your hand shaking even when it is rested.
  2. Bradykinesia (slow movement): As the disease progresses, you may find it difficult to move your hands or legs or going from one place to another. Even making the smallest movement will require an increased effort on your part.
  3. Rigid Muscles: The muscles in your body can become stiff causing you pain and making it difficult to perform physical activities.
  4. Masked Face: Your face may experience spasms or become stiff periodically. It can also lead to complete paralysis on one side of the face.
  5. Stooping or improper balance: Having Parkinson’s disease can make your body posture imbalanced resulting in stooping or hunching over.
  6. Decreased Automatic Movements: You may experience difficulty in smiling, blinking or swinging your arms while walking.
  7. Alteration in voice or speaking: Your voice can become soft or you may slur while talking. You can also experience a monotonous voice.
  8. Writing may become small: You can experience changes in your handwriting as it becomes small and crowded.
  9. Loss of Smell: The smell of food sitting right in front of you may not register in your olfactory resulting in loss of appetite.
  10. ConstipationHaving Parkinson’s disease can lead to patients experiencing irritable bowel syndrome.
  11. Have Trouble SleepingIt might be difficult to fall asleep for people suffering from Parkinson’s. Also, there are sudden movements during the sleeping process.
  12. DizzinessPeople suffering from Parkinson’s may faint from time to time.

These were some of the symptoms and signs by which you can tell whether a person has Parkinson’s or not. However, as of now it is not curable and can only be treated with medicines. But, early detection can definitely help in preventing it from affecting the whole body.

I am suffering from depression anxiety as well as vomiting problem taking nexpro rd 40 enzomet beta .5 and alprax .25 but it is not controlling.

MD - Psychiatry
Psychiatrist, Chennai
I am suffering from depression anxiety as well as vomiting problem taking nexpro rd 40 enzomet beta .5 and alprax .25...
Alprax is being for the depression and anxiety which is not the right choice, better consult a psychiatrist apart from your gastro and get proper medications for them, which will lead to dramatic control for of your anxiety and depression apart from the vomiting complaint. You will be requiring SSRI, SNRI or TCA group or medications which can be decided by the psychiatrist after proper evaluation only.
Submit FeedbackFeedback

खुजली का आयुर्वेदिक इलाज - Khujali Ka Ayurvedic Ilaaj!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
खुजली का आयुर्वेदिक इलाज - Khujali Ka Ayurvedic Ilaaj!

आज के प्रदूषित वातावरण में एलर्जी एक सामान्य समस्या बन गई है. इससे सभी लोग परेशान हैं. एलर्जी एक ऐसी समस्या है जो कभी भी किसी को भी हो सकती है. जहां तक बात है एलर्जी के लक्षणों की तो इसके सामान्य लक्षण हैं - बहती हुई नाक, गले में खराश, कफ, आंखों में खुजली और स्किन रैशेज. जो लोग मौसम के अनुसार एलर्जी से परेशान रहते हैं वो अपना बचाव ये समस्या शुरू होने से पहले कर सकते हैं.

आइए एलर्जी से निपटने के लिए कुछ घरेलु उपचार जानें.
1. बिच्छू बूटी-

बिच्छू बूटी बदलते मौसम के कारण होने वाली क्रोनिक एलर्जी के लिए बेहद प्रभावी है. यह प्राकृतिक एंटी हिस्टामिन होने के कारण शरीर के हिस्टामिन के उत्पादन को बंद कर देती है जो आखिर में विभिन्न प्रकार के एलर्जी के लक्षणों से आराम दिलाती है. इससे राहत पाने के लिए सबसे पहले एक कप पानी में एक चम्मच सूखे बिच्छू बूटी की पत्तियों को डाल दें. इस मिश्रण को पांच मिनट तक उबलने के लिए रख दें. इसके बाद मिश्रण को छान लें और इसमें हल्का शहद जोड़ कर पी जाएँ. इस मिश्रण को दिन में दो से तीन बार पियें.

2. हल्दी-
हल्दी भी एलर्जी से छुटकारा दिलाने के लिए फायदेमन्द है, इसमें करक्यूमिन होता है जो एक सामान्य जुखाम के दवा की तरह काम करता है और एलर्जी के लक्षणों को दूर करने में सहायक है. इसके अलावा प्रभावी एंटीऑक्सीडेंट और सूजनरोधी गुण हैं जो इसका इलाज मूल कारण से ठीक करते हैं. कांच के एक साफ जार में 6 चम्मच हल्दी पाउडर और शहद डालें. इस मिश्रण को अच्छे से मिला लें. एलर्जी के दौरान पूरे दिन में दो बार इस मिश्रण को एक एक चम्मच ज़रूर खाएं.

3. लहसुन-
लहसुन में प्राकृतिक एंटीबायोटिक होते हैं जो एलर्जी के लिए काफी प्रभावी है. लहसुन के एंटीवाइरल और प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले गुण डॉक्टर से आपको दूर रखते हैं. एक या दो हफ्ते के लिए रोज़ाना दो या तीन लहसुन की फांकें खाएं. अगर आपको लहसुन की गंध अच्छी नहीं लगती तो आप डॉक्टर से पूछने के बाद लहसुन के सप्लीमेंट्स को ले सकते हैं.

4. नींबू-
नींबू एक प्राकृतिक एंटीहिस्टामिन है और विटामिन सी का एक एक अच्छा स्त्रोत भी है. इसमें एंटीऑक्सीडेंट के गुण भी होते हैं. ये एन्टिटॉक्सिन की तरह भी काम करता है. नींबू एलर्जी की समस्या के लिए बेहद फायदेमंद है. मौसम के अनुसार एलर्जी शुरू होने से पहले रोज़ाना सुबह रोज़ एक कप पानी में ताज़ा नींबू का जूस निचोड़कर पीना शुरू कर दें. जब तक एलर्जी सीजन चला नहीं जाता तब तक रोज़ाना इस मिश्रण को पीते रहें.

5. नमक का पानी-
नाक को प्रतिदिन सलाइन से साफ़ करने पर राइनाइटिस एलर्जी के लक्षणों को सुधारने में मदद मिलती है. इसके लिए पहले एक चम्मच बिना आयोडीन युक्त नमक और एक चुटकी बेकिंग सोडा लें और फिर इन्हे एक चौथाई गर्म पानी में डाल दें. इसे उबलने के बाद मिश्रण को ठंडा होने तक छोड़ दें. अब इस मिश्रण अपनी एक नाम में की दस बूँदें डालें. फिर इस मिश्रण को या तो नाक से निकाल लें या मुँह से निकालें.

6. गर्म पानी-
एलर्जी के स्त्रोत से छुटकारा पाने के लिए गर्म पानी से नहाएं और बाहर से आने के बाद अपने बालों को अच्छे से धो लें. इसके साथ ही गर्म पानी से नहाने से आपको साइनस को खोलने में भी मदद मिलती है जिससे आप आसानी से सांस ले पाते हैं. गर्म पानी आपको राहत देता है और सोने में भी मदद करता है. तो ये है ड्रग फ्री तरीके जो आपकी एलर्जी का इलाज करने में मदद करेंगे. हालाँकि अगर लक्षण ज़्यादा बढ़ने लगे तो अपने डॉक्टर को ज़रूर दिखाएं.

7. पेपरमिंट-
पेपरमिंट में सूजनरोधी, एंटीऑक्सीडेंट और एंटीबैक्टेरियल गुण होते हैं जो एलर्जी रिएक्शन को कम करते हैं. पेपरमिंट टी बनाने के लिए एक चम्मच ड्राई पेपरमिंट की पत्तियों को एक कप पानी में पांच मिनट तक उबलने दें. इस मिश्रण को छान कर ठंडा होने के लिए रख दें. इसको पीने से पहले इसमें एक चम्मच शहद भी मिला लें. जब तक आपको लक्षणों से निजात नहीं मिल जाता तब तक पूरे दिन में दो या तीन बार पेपरमिंट चाय का मज़ा लें.

8. शहद-
ज़्यादातर लोगों ने ये कहा है कि लोकल शहद खाने से उन्हें एलर्जी सीजन के लक्षणों से राहत मिलती है. मधुमक्खियों द्वारा बनने वाला लोकल हनी एलर्जी को दूर करने में मदद करता है. एलर्जी सीजन के लक्षणों से राहत पाने के लिए पूरे दिन में तीन या चार बार एक या इससे ज़्यादा चम्मच शहद ज़रूर खाएं. अच्छा परिणाम पाने के लिए एलर्जी सीजन शुरू होने से एक महीना पहला आप ये लोकल शहद खाना शुरू कर दें.

9. सेब का सिरका-
सेब का सिरका एलर्जी के लिए बहुत ही पुराना उपाय है. इसके एंटीबायोटिक और एंटीहिस्टामिन गुण एलर्जी रिएक्शन का इलाज करने में मदद करते हैं. ये एलर्जी के कारणों का इलाज करता है और जल्दी जल्दी आने वाली छीकों, बंद नाक, खुजली, सिर दर्द और कफ के लक्षणों को भी ठीक करता है. एक चम्मच सेब के सिरके को एक ग्लास पानी में मिलाएं. फिर इसमें एक चम्मच ताज़ा नींबू का जूस और एक या आधा चम्मच शहद मिलाकर पी जाएँ.

10. स्टीम से फायदा-
स्टीम से कई फायदे होते है उसमे एक फायदा एलर्जी के कई लक्षणों से राहत दिलाना है. स्टीम आपको साइनस से राहत प्रदान करता है और साथ ही नजल ट्रैक्ट से बलगम और अन्य इरिटैंट को भी साफ़ करता है. आप पानी को भाप निकलने तक उबाल लें. इसको उबालने के बाद तीन से चार बूँद नीलगिरी तेल, पेपरमिंट तेल, रोज़मेरी या टी ट्री तेल की डालें. अब अपने सिर के चारो तरफ तौलिये को रखें और दस से 15 मिनट तक गर्म पानी से भाप लें.
 

सर्वाइकल एक्सरसाइज - Cervical Exercises!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
सर्वाइकल एक्सरसाइज - Cervical Exercises!

आज का वक्त बहुत बदल गया है. हर किसी को हर चीज़ अच्छी चाहिए जैसे अच्छी तनख्वाह, अच्छा घर, लक्सरी लाइफ आदि. यह सब पाने की होड़ में लोग संघर्ष में लगे है. उन्नति हासिल करने के लिए दिन रात मेहनत में लगे है. इस लगातार किये जाने वाली मेहनत से हमें हर चीज़ तो बेहतर मिल रही है लेकिन यह हमारे स्वास्थ्य पर मानसिक, शारीरिक और भावनात्मक तौर पर गलत असर डाल रही है. हमारी इच्छाओं के चलते हम स्वयं को ज़रूरत से ज़्यादा तनावग्रस्त कर लेते हैं व शरीर को दिन रात काम करने वाली एक मशीन समझ लेते है. इस कड़ी मेहनत के चलते अति सामान्य रोग जो हम सभी को प्रभावित करता है, वह है गर्दन का दर्द. गर्दन का दर्द को चिकित्सा शब्दावली में ‘सर्विकालजिया’ कहा जाता हैं. यह दर्द लंबे अंतराल तक निरंतर एक ही मुद्रा में बैठे रहने, या पूरी रात ठीक से न सोने और कम व्यायाम करने के कारण होता है. कंप्यूटर पर काम करने वालो को यह समस्या बहुत ज्यादा होती है. इन लोगो को गर्दन और कंधे दोनों में दर्द होता रहता है.
मॉडर्न साइंस में सर्वाइकल स्पौण्डिलाइटिस का उपचार फिजियोथेरेपी और पेनकिलर टैबलेट हैं. इन तरीको से शीघ्र राहत तो मिल जाता है, लेकिन यह केवल अस्थायी राहत है. यदि इस समस्या का कोई स्थाई समाधान है तो वो है योग. योग इस बीमारी को जड़ से ठीक कर देता है. किन्तु एकदम से कठिन योग का अभ्यास करना सही नहीं है. कठिन योग करने से पहले कुछ आसान योग करने चाहिए. दरहसल हल्के फुल्के योग करने से धीरे-धीरे शरीर में लचक आ जाती है और कठिन योग के लिए शरीर तैयार हो जाता है. योग का एक सामान्य नियम यहीं है कि योग शुरू करते समय कुछ हलके फुल्के आसन करने चाहिए. इन हलके फुल्के आसनो से शरीर में उर्जा का संचार होता है और हमारा शरीर भी कठिन योगों के लिए तैयार होता है. यदि हम हल्के फुल्के आसन की जगह सीधे कठिन आसन शुरू करते है तो किसी प्रकार की परेशानियां भी आ सकती हैं.

* ग्रीवा संचालन
ग्रीवा संचालन आसन के अभ्यास से गर्दन से सम्बन्धित कई परेशानियों में लाभ मिलता है. जो लोगों को लम्बे समय तक गर्दन को एक ही स्थिति में रखकर काम करना होता है, उन्हें यह आसन जरूर करना चाहिए. इस आसन को आराम की मुद्रा में बैठकर किया जाता है. इस योग के दौरान गर्दन के मूवमेंट के अनुसार श्वास प्रश्वास करना चाहिए. इस योग क्रिया में श्वसन पर भी नियंत्रण करने का अभ्यास किया जा सकता है. ग्रीवा संचालन का नियमित अभ्यास करने से चेहरे पर कांति आती है और गर्दन सुडौल होती है. यह तनाव कम करता है और साथ ही शरीर के ऊपरी हिस्से को आराम और सुकून देता है. शारारिक तनाव के अलावा यह मानसिक तनाव भी कम करता है. योग में बल की जरूरत नहीं होती है इसलिए ग्रीवा संचालन के दौरान गर्दन को अनावश्य रूप से तानना नहीं चाहिए.

* बालासन योग मुद्रा
बालासन योग मुद्रा का अभ्यास करने से गर्दन और पीठ के दर्द से निजाद मिलती है. इस आसन को करने के लिए सबसे पहले फर्श पर घुटने के बल बैठ जाएँ. इसके पश्चात सिर को ज़मीन से लगाएं. फिर अपने हाथों को सिर से लगाकर आगे की ओर सीधा रखें और आपकी हथेलिया जमीं से छूती हुई होना चाहिए. अब अपने हिप्स को ऐड़ियों की ओर ले जाते हुए बहार की और सांस छोड़े. इस अवस्था में कम से 15 सेकेण्ड से 1 मिनट तक रहें. यह आसन का अभ्यास आपके कूल्हों, जांघों और पिंडलियों को लचीला भी बनाता है. यह आपके मन को शांत भी करता है.

* मत्स्यासन – फिश पोज़
मत्स्यासन करने के लिए सर्वप्रथम किसी समतल जगह पर चादर बिछाकर पीठ के बल लेट जाएं. अब अपनी कुहनियों के सहारे सर तथा धड़ के भाग को जमीन पर रखें. अब इस स्थिति में पीठ का ऊपरी हिस्सा तथा गर्दन जमीन से ऊपर की और उठाए. हाथों को सीधा कर पेट पर रख लें. इस स्थिति में जितनी देर आसानी से रुक सकते हैं रुकें. फिर वापस पूर्व स्थिति में आ जाएं.

* विपरीत कर्णी आसन
विपरीत कर्णी आसन आपको हल्के-फुल्के पीठ दर्द से आराम देता है. इस आसन में दीवार के सहारे पैर उपर करते है. सबसे पहले तो अपनी पीठ के बल लेट जाएँ और अपने टाँगों को दीवार का सहारा देते हुए पैरों को छत की ओर उठा लें. अपनी बाहों को फैला कर शरीर के दोनों तरफ ज़मीन पर रख दें और आपकी हथेली आकाश की तरफ मोड़ कर खुली हुई होना चाहिए. कुछ सेकण्ड्स इस मुद्रा में रहे और गहरी लंबी श्वास लें और छोड़ें. यह योग क्रिया आपकी गर्दन के पिछले हिस्से को मालिश जैसा फायदा देता है और थकान को दूर कर पैरों की ऐंठन को दूर करता

* शवासन
इस आसन को सबसे बाद में करना चाहिए. यह आसन करने में सबसे सरल है. इसमें शरीर को ज़मीन पर स्थिर अवस्था में रखना है. सबसे पहले तो ज़मीन पर सीधे लेट जायें और हाथों को शरीर के दोनों ओर रख लें, पैरों को थोड़ा सा खोल दें. इस स्तिथि में आपकी हथेलिया आकाश की तरफ होनी चाहिए. मांसपेशियों तथा खुद को विश्राम देने के लिए शरीर को इस स्थिति में कम से कम 5 मिनट तक रखे.
 

1 person found this helpful

कपूर के फायदे और नुकसान - Kapoor Ke Fayde Aur Nuksaan!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
कपूर के फायदे और नुकसान - Kapoor Ke Fayde Aur Nuksaan!

आज कपूर हमारे दैनिक जीवन का हिस्सा बन चूका है. इसके औषधीय और गैर औषधीय दोनों तरह के इस्तेमाल हैं. चाइनीज और भारतीय प्राचीन काल से ही कपूर का उपयोग बीमारियों के इलाज और धार्मिक उद्देश्यों के लिए करते आ रहे हैं. उस समय उनका मानना था कि कपूर में गहरी चिकित्सा शक्तियां हैं लेकिन आज यह सिर्फ एक लोकप्रिय लोककथा न होकर हकीकत बन चुका है. आयुर्वेद में, कपूर को जलाना मानव मन और शरीर के लिए उपचार माना जाता है. कपूर सिनामोमस कैफ़ोरा नामक एक पेड़ से मिलता है. इस पेड़ के चीन, जापान में सबसे पहले उगाए जाने के संकेत मिलते हैं. भारत में यह देहरादून, सहारनपुर, नीलगिरि और मैसूर आदि में उगाया जाता है. आइए इसके फायदे और नुकसान को जानते हैं.

1. जोड़ों के दर्द में-
जोड़ों और मांसपेशियों के आसपास दर्द का सामना करने वाले लोग कपूर के इलाज से इसे ठीक कर सकते हैं. कपूर तेल एक वार्मिंग सेंसेशन पैदा करता है, जिसके परिणामस्वरूप नसों के विचलन होता है, जो आपको दर्द से राहत देता है. ऐंठन के लिए, आपको गर्म तिल के तेल में कपूर को मिक्स करके इस्तेमाल करने से राहत मिलती है.

2. खुजली में-
कपूर को खुजली वाली त्वचा में राहत प्रदान करने के लिए जाना जाता है. इसकी ख़ास बात ये है कि यह रोम छिद्रों द्वारा अवशोषित हो जाता है जिससे आपकी त्वचा को ठंडक मिलता है. इसके लिए एक कप नारियल तेल में पिसे हुए एक चम्मच कपूर को मिक्स करके इस मिश्रण को खुजली वाले क्षेत्र में 1-2 बार लगायें.

3. त्वचा को ठीक करने में-
कपूर आपकी त्वचा को टाइट करने के अलावा बैक्टीरिया निर्माण से मुक्ति पाने में भी मदद करता है. ये एक एंटी इंफेक्टिव एजेंट के रूप में कार्य करता है. एक अध्ययन के अनुसार कपूर तैलीय त्वचा वाले लोगों के लिए विशेष रूप से फायदेमंद है जिससे यह मुँहासे उपचार के लिए बहुत उपयोगी है.

4. मच्छरों भगाने के लिए-
यह एक प्राकृतिक मच्छर रिपिलन्ट. यह पारंपरिक रूप से पतंगों से छुटकारा पाने के लिए इस्तेमाल किया गया है. अपने कमरे के कोने में एक कपूर टैबलेट जलाएं. इससे मच्छर दूर होते हैं.

5. जलने के उपचार में-
अगर आपकी त्वचा कही से हल्की सी जल जाएँ तो उसके लिए कपूर का उपयोग करें. यह जली हुई त्वचा को ठीक करने में मदद कर सकता है. न केवल यह आपको दर्द या जलन बल्कि घावों से मुक्त करता है. इसका नियमित आवेदन भी निशान को हल्का कर सकता है. इसका कारण यह है कि कपूर तेल तंत्रिका को उत्तेजित करता है, जिसके बदले में त्वचा को ठंडक मिलती है.

6. खाँसी के उपचार में-
कफ को दूर करने के लिए कपूर सबसे लोकप्रिय लाभों में से एक रूकी हुई छाती और नाक को साफ करने की क्षमता है. कपूर तेल में एक मजबूत गंध है जो एक भीड़भाड़ वाले श्वसन पथ को खोलती है. स्वीट आयल और कपूर का एक समान भाफ मिलाकर छाती पर धीरे से रगड़ें.

7. बालों के लिए-
नारियल के तेल के साथ कपूर की मालिश करने से स्वस्थ बाल विकास को प्रोत्साहित किया जा सकता है. हालांकि, नारियल के तेल ने बालों के नुकसान को रोकने, रूसी को कम करने और कंडीशनर के रूप में काम किया है.

8. कपूर के अन्य फायदे-
तुलसी के पत्तों के रस में कपूर को मिला कर दो दो बूँद को कान में डाल लें. इससे आपके कान का दर्द दूर होगा. कपूर, जायफल और हल्दी को बराबर मात्रा में मिला कर उसमें थोड़ा पानी डालें. इस मिश्रण को पेट पर लगायें और आपका दर्द कम हो जाएगा.

कपूर के नुकसान-
* इसे सीधे-सीधे त्वचा में लगाने से जलन हो सकती है इसलिए किसी भी वाहक तेल के साथ कपूर तेल को मिक्स करके इस्तेमाल करें.
* 2 वर्ष से कम उम्र के बच्चों के लिए कपूर का उपयोग नहीं करना चाहिए.
* गर्भवती या स्तनपान कराने वाली महिलाओं को कपूर से बचना चाहिए.
* कपूर को मौखिक रूप से न लें क्योंकि यह अत्यधिक जहरीला होता है.

आँख के रोग - Aankh Ke Rog!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
आँख के रोग - Aankh Ke Rog!

आँखों से ही हम इस दुनिया के दृश्य रूप का अनुभव कर पाते हैं या फिर इसके अद्भुत सौंदर्य को निहार पाते हैं. इसीलिए आँखों को इवान ज्योति भी कहा जाता है. आँख के रोग होना आम तौर पर होने वाली परेशानियों में से एक है. इस समस्या के लिए कोई ख़ास उम्र नहीं होती है. ये किसी को भी कभी भी हो सकती है. ये रोग आपको जीवाणु, विषाणु, कवक या अन्य किसी प्रकार से भी हो सकता है. ये रोग आँखों के विभिन्न भागों में हो सकता है. हो सकता है कि ये एक साथ दोनों आँखों को प्रभावित कर दे. एक रोग होने के कारण ये एक व्यक्ति से दुसरे व्यक्ति को हो सकता है. इस दौरान आपको लालिमा, खुजली, सूजन, दर्द जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है. आइए इस लेख के माध्यम से हम आँखों के विभिन्न रोगों के बारे में जानें ताकि इस विषय में लोगों को जागरूक किया जा सके.
 

आँख के रोग के प्रकार

हमारे आँखों में होने वला ये रोग मुख्य रूप से दो प्रकार का होता है. एक है कंजंक्टिवाइटिस जिसे हम आम तौर पर पिंक आई के रूप में भी जाना जाता है. इस रोग का असर बच्चों पर बहुत ज्यादा पड़ता है. दुसरे का नाम है स्टाई, इसके होने का कारण है जीवाणुओं का हमारी त्वचा से पलकों के हेयर फॉलिकल पर आ जाना. इसकी वजह से ये प्रभावित होता है.

 आँखों को के रोग के लक्षण
इसके लक्षणों में लालिमा, खुजली, सूजन, दर्द जैसी समस्याएं शामिल हैं. उपचार रोग के कारणों पर निर्भर करता है और इसमें आई ड्रॉप्स, क्रीम, या एंटीबायोटिक्स शामिल हो सकते हैं. नेत्र रोग आम तौर पर आत्म-सीमित होते हैं, और यह न्यूनतम इलाज या बिना इलाज के ठीक हो जाता है. कभी-कभी समस्या इतनी गंभीर हो जाती है कि यह अपने आप ठीक नहीं होता और दवाइयों और इलाज की आवश्यकता पड़ती है.

आँखों में होने वाले रोग का उपचार
अक्सर डॉक्टर आपके लक्षणों को देखकर और आपकी आँख की जाँच करके कंजंक्टिवाइटिस का निदान कर लेते हैं. हालांकि, कभी-कभी संक्रामक कंजंक्टिवाइटिस और अन्य प्रकार के कंजंक्टिवाइटिस के निदान में भ्रम हो सकता है. संक्रामक कंजंक्टिवाइटिस में डॉक्टर इसके लक्षणों और उपस्थिति से इसका निदान करते हैं. इसमें आंख को आमतौर पर एक स्लिट लैंप से देखा जाता है. संक्रमित रिसाव के नमूने को एकत्रित करके जाँच के लिए प्रयोगशाला भेजा जाता है ताकि रोग करने वाले जीव का पता लगाया जा सके.

लक्षण गंभीर पाए जाने पर
जब लक्षण गंभीर या बारम्बार होते हैं. जब रोग की वजह क्लैमाइडिया ट्रैस्कोमैटिस या नेइसेरिया गानोरिआ को माना जाता है. जब व्यक्ति को प्रतिरक्षा प्रणाली का एक नुकसान होता है. जब व्यक्ति को कोई आंख की समस्या होती है जैसे कि कॉर्नियल ट्रांसप्लांट या ग्रेव्स रोग के कारण आंख में फुलाव. स्वैब टेस्ट इस टेस्ट में स्वैब (जो कि रुई के फोहे जैसा दिखता है) के द्वारा आपकी संक्रमित आँख से चिपचिपे पदार्थ जिसे म्यूकस कहते हैं के एक छोटे से नमूने को इकट्ठा करके परीक्षण के लिए प्रयोगशाला में भेजा जाता है ताकि कंजंक्टिवाइटिस के प्रकार की पुष्टि हो सके.

कंजंक्टिवाइटिस
इसका उपचार इसके होने की वजह पर निर्भर करता है. यदि आपको यह एक रासायनिक पदार्थ की वजह से हुआ है तो शायद कुछ ही दिनों में अपने आप ठीक हो जाएं लेकिन यदि यह एक जीवाणु, वायरस, या एलर्जी से हुआ है, तो कुछ उपचार विकल्प हैं - बैक्टीरियल कंजंक्टिवाइटिस बैक्टीरियल रोग के लिए, एंटीबायोटिक दवाओं का उपयोग किया जाता है. एंटीबायोटिक दवा से लक्षण कुछ ही दिनों में चले जाते हैं. वायरल कंजंक्टिवाइटिस वायरल रोग के लिए कोई इलाज उपलब्ध नहीं है. यह रोग सात से दस दिनों में अपने आप ठीक हो जाता है. तब तक, सिकाई करने से आपके लक्षणों में कमी आ सकती है.

एलर्जिक कंजंक्टिवाइटिस
एलर्जी के कारण हुए कंजंक्टिवाइटिस के इलाज के लिए आपके डॉक्टर शायद सूजन को रोकने के लिए आपको एंटीहिस्टामाइन देंगे. लोराटाडिन और डिफेनहाइडरामाइन एंटीहिस्टामाइन होते हैं जो केमिस्ट के पास आसानी से उपलब्ध हैं. वे एलर्जिक कंजंक्टिवाइटिस सहित एलर्जी के लक्षणों को ठीक करने में मदद करते हैं. डॉक्टर आपको एंटीहिस्टामाइन आईड्रॉप्स या एंटी-इंफ्लेमटरी आईड्रॉप्स भी दे सकते हैं.
 

View All Feed

Near By Clinics

Shiv Dental Care

Bapunagar, Ahmedabad, Ahmedabad
View Clinic

Care Neuro Clinic

Khodiyarnagar, Ahmedabad, Ahmedabad
View Clinic
  4.5  (80 ratings)

Homoeohealth Clinic

Nikol, Ahmedabad, Ahmedabad
View Clinic

Bavishi Dental Care and Implant Centre

India Colony, Ahmedabad, Ahmedabad
View Clinic