Get help from best doctors, anonymously
Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}

Treatment Of Gallstones - पित की पथरी का उपचार

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri  •  9 years experience
Treatment Of Gallstones - पित की पथरी का उपचार

पित्त की पथरी एक बेहद भयंकर और पीड़ादायक रोग है. इस दौरान पित्त में कोलेस्ट्रॉल और पिग्‍मेन्‍ट नामक दो तरह के पदार्थ बनते हैं. लेकिन लगभग अस्सी प्रतिशत पथरी कोलेस्ट्रॉल से ही बनती हैं. पित्त लिवर में बनता है और इसका भंडारण गॉल ब्लैडर में होता है. यह पित्त फैट युक्त भोजन को पचाने में मदद करता है. लेकिन जब पित्त में कोलेस्ट्रॉल और बिलरुबिन की मात्रा ज्यादा हो जाती है, तो पथरी का निर्माण होता है. पित्त की पथरी को घरेलू उपचार के माध्‍यम से ठीक किया जा सकता है. आइए इसके उपचार के बारे में जानें.
सेब का रस और सिरका
सेब के स्वस्थ्य लाभ से तो हम सभी परिचित ही हैं. इसलिए सेब के सिरके और रस में भी इसके फायदा नजर आ ही जाता है. यदि आप चाहें तो सेब के रस में सेब का एक चम्मच सिरका मिला करके भी पी सकते हैं. सेब में मेलिक एसिड होता है जो पित्त पथरी नरमी में सहायता करता है और सिरका पत्थर के कारण कोलेस्ट्रॉल बनाने से लीवर को रोकता है. यह एक पित्त की पथरी के हमले के दौरान दर्द को कम करने एक त्वरित उपाय है.
नाशपती
नाशपती पित्त की पथरी के लिए बहुत फायदेमंद होती है. अमेरिका मेडिकल एसोसिएशन के अनुसार, लगभग 80 प्रतिशत पित्त में पथरी कोलेस्‍ट्रॉल के बनने से होती है. नाशपाती में पेक्टिन होता है इन पत्थरों को आसानी से फ्लश आउट के लिए कोलेस्ट्रॉल से भरे पित्त पथरी को बांधता है.
चुकंदर, खीरा और गाजर का रस
पित्ताशय की थैली को साफ और मजबूत करने और लीवर की सफाई के लिए चुकंदर का रस, ककड़ी का रस और गाजर के रस को बराबर मात्रा में मिलाये. यह संयोजन आपको पेट और खून की सफाई में भी मदद करता है. खीरे में मौजूद उच्च पानी सामग्री और गाजर में विटामिन सी की उच्च मात्रा मूत्राशय से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालती है.
सिंहपर्णी
सिंहपर्णी के पत्ते लीवर का समर्थन, मूत्राशय के कामकाज में सहायता, पित्त उत्सर्जन को बढ़ावा, और विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करते हैं. एक कप पानी में एक बड़ा चम्‍मच सिंहपर्णी के पत्तों को मिलाये. फिर इसे अवशोषित करने के‍ लिये पांच मिनट के लिए रख दें. अब इसमें एक चम्‍मच शहद मिलाये. मधुमेह रोगियों को इस उपचार से बचना चाहिए.
पुदीना
पुदीने में टेरपेन नामक प्राकृतिक तत्‍व होता है, जो पित्त से पथरी को घुलाने के लिए जाना जाता है. यह पित्त प्रवाह और अन्य पाचक रस को उत्तेजित करता है, इसलिए यह पाचन में भी सहायक होता है. पित्त की पथरी के लिए घरेलू उपाय के रूप में पुदीने की चाय का इस्‍तेमाल करें.
इसबगोल
एक उच्च फाइबर आहार, पित्ताशय की थैली की पथरी के इलाज के लिए बहुत आवश्यक है. इसबगोल घुलनशील फाइबर का अच्‍छा स्रोत होने के कारण पित्त में कोलेस्ट्रॉल को बांधता है और पथरी के गठन को रोकने में मदद करता है. आप इसे अपने अन्‍य फाइबर युक्त भोजन के साथ या रात को बिस्‍तर पर जाने से पहले एक गिलास पानी के साथ ले सकते हैं.
नींबू का रस
नींबू का रस प्रकृतिक रूप से अम्लीय होने के कारण यह सिरके की तरह कार्य करता है और लीवर में कोलेस्ट्रॉल को बनने से रोकता है. हर रोज खाली पेट चार नींबू का रस लें. इस प्रक्रिया को एक हफ्ते तक अपनाएं. इससे पथरी की समस्या आसानी से दूर हो सकती है.
लाल शिमला मिर्च
2013 में हुए एक अध्ययन के अनुसार, शरीर में भरपूर मात्रा में विटामिन सी पथरी की समस्‍या कम करता है. एक लाल शिमला मिर्च में लगभग 95 मिलीग्राम विटामिन सी होता है, यह मात्रा पथरी को रोकने के लिए काफी होती है. इसलिए अपने आहार में शिमला मिर्च को शामिल करें.
वाइन
शोधकर्ताओं ने पाया कि 1/2 गिलास वाइन पित्त की पथरी के हमलों को लगभग चालीस प्रतिशत तक कम कर सकता है. इसलिए वाइन के एक गिलास को अपनी दिनचर्या में शमिल करें इससे ज्यादा नहीं.
साबुत अनाज
पानी में घुलनशील फाइबर युक्त खाद्य पदार्थों जैसे साबुत अनाज और अन्य अनाज को अपने आहार में भरपूर मात्रा में शामिल करें. फाइबर कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड के स्तर को कम कर स्वाभाविक रूप से पथरी को बनने से रोकने में मदद करते हैं.

1 person found this helpful