Consult Online With India's Top Doctors
Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}

Coronavirus In Hindi - कोरोनावायरस क्या है?

Written and reviewed by
Dr.Sanjeev Kumar Singh 90% (193ratings)
Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurvedic Doctor, Lakhimpur Kheri  •  13years experience
Coronavirus In Hindi - कोरोनावायरस क्या है?

चीन के शहर में फैले कोरोनोवायरस (coronavirus) आज दुनिया के आधे हिस्से में फैल गया है, जो लगभग आधी आबादी को संक्रमित करता है। यह घातक वायरस तेजी से फैल रहा है और सिवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम (एसएआरएस) और मध्य पूर्वी श्वसन सिंड्रोम (एमईआरएस) पैदा कर रहा है।

यहां तक ​​कि वायरस गंभीर परिस्थितियों में ऑर्गन फेलियर का कारण बन रहा है जिससे मृत्यु हो रही है और उपचार उपलब्ध नहीं है। ऐसे में इसका एक ही इलाज है सावधानी बरतना। इस लेख में, हम कोरोनोवायरस के बारे में चर्चा करेंगे कि यह कैसे फैलता है, कोरोनोवायरस के लक्षण और कारण क्या है और इसे कैसे रोका जा सकता है।

कोरोनावायरस क्या है?

आइए, सबसे पहले जानते हैं कोरोना वायरस क्या है । यह सबके दिमाग में आता होगा कि कहां से आया नया कोरोना वायरस। यह नोवेल कोरोना वायरस के रूप में भी जाना जाता है, जो वायरस के समूह से आता है जिसे कोरोना वायरस के रूप में जाना जाता है, वर्ष 1960 के दशक में इसे पहचाना गया था।

इस वायरस का नाम इसके आकार से मिला जो एक मुकुट की तरह होता है। यह जानवरों और मनुष्यों दोनों में फैल सकता है जो मनुष्यों में सांस की बीमारिययां, गायों और सूअरों में डायरिया और मुर्गियों में ऊपरी श्वसन रोग जैसी स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकता है। इसमें संक्रमित व्यक्ति या उनके द्वारा छुई गई चीजों को छूने से लोग संक्रमित हो सकते हैं।

कोरोना वायरस कैसे फैलता है?

कोरोना वायरस एक घातक वायरस है और यह संक्रमित व्यक्ति को छूने या संक्रमित व्यक्ति द्वारा उपयोग की जा रही चीजों को छूने से फैल सकता है। यह छींकने या खांसने के कारण भी हो सकता है। यदि कोई उस जीव को खाता हैं जो कोरोना वायरस से संक्रमित है तो भी लोग इस वायरस से संक्रमित हो सकते हैं।

कोरोना वायरस लक्षण क्या हैं?

कोरोना वायरस के लक्षण निम्नलिखित है जिनके माध्यम से आप कोरोनावायरस की पहचान कर सकते हैं:

  1. खांसी, बहती नाक और गले में खराश
  2. इंक्यूबेशन की अज्ञात अवधि
  3. उच्च बुखार
  4. ठीक से साँस न ले पाना या साँस लेने में कठिनाई होना
  5. किडनी और लीवर खराब फंक्शन करना
  6. किडनी फेल्योर
  7. गंभीर और लाइलाज खांसी और कफ
  8. निमोनिया
  9. ब्रोंकाइटिस
  10. ऊपरी श्वसन संक्रमण

कोरोना वायरस का निदान कैसे किया जाता है?

यदि आपको कोरोना वायरस से संक्रमित होने का संदेह है तो आपको अपने डॉक्टर को जल्द से जल्द दिखाना चाहिए। डॉक्टर कुछ लेबोरेटरी टेस्ट करते हैं और आगे के टेस्ट के लिए आपके सैम्पल को लेते हैं ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि आप कोरोना वायरस से संक्रमित हैं या नहीं।

यदि कोई व्यक्ति एमईआरएस से पीड़ित है जो मध्य पूर्वी श्वसन सिंड्रोम होते हैं तो ज्यादातर, लेबोरेटरी टेस्ट किया जाता है। आपको अपने डॉक्टर को उन सभी लक्षणों के बारे में बताना चाहिए जिनका आप सामना कर रहे हैं, साथ ही आपकी हाल की यात्राओं और जानवरों या पालतू जानवरों के साथ किसी भी संपर्क के बारे में भी बताना चाहिए।

कोरोना वायरस का इलाज कैसे किया जाता है?

कोरोना वायरस ने तीसरी बार दुनिया की आबादी को प्रभावित किया है लेकिन अभी तक इस बीमारी का कोई खास इलाज नहीं मिला है। वैज्ञानिक अपने प्रयोगों से तेजी से फैल रहे इस वायरस को कंट्रोल करने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन अभी भी कोई निष्कर्ष नहीं निकला है। डॉक्टरों के अनुसार, यदि बीमारी घातक चरण तक नहीं गई है, जिससे मृत्यु होती है तो कोरोन वायरस के मरीज अपने आप ठीक हो जाते हैं।

यदि आप कोरोना वायरस के लक्षण से पीड़ित हैं तो इसका सबसे अच्छा उपचार दर्द और बुखार की दवाएँ लेना है या आप ह्यूमिडिफायर का भी उपयोग कर सकते हैं जो खांसी, गले में खराश और सर्दी से राहत प्रदान करता है। बहुत सारा पानी या तरल पीने से भी बीमारी के समय मदद मिल सकती है।

कोरोना वायरस के रोकथाम के उपाय

कोरोना वायरस तेजी से फैल रहा है और इसका कोई इलाज नहीं होने से यह लोगों को बुरी तरह प्रभावित कर रहा है। कोरोना वायरस का अब तक कोई टीका उपलब्ध नहीं है और चीजें खराब हो रही हैं। कोरोनावायरस के हमले को रोकने का पहला तरीका ठंड से दूर रहना है। कोरोना वायरस के रोकथाम के उपाय में निम्नलिखित चीजें शामिल हैं:

  • अपने हाथों को नियमित रूप से साबुन और गर्म पानी से धोना चाहिए
  • अल्कोहल आधारित सैनिटाइजर लगाना
  • अपनी उंगलियों को अपनी आंखों, नाक या मुंह के पास न लें क्योंकि ये सबसे संवेदनशील क्षेत्र होते हैं
  • संक्रमित लोगों के संपर्क में न आएं

भारत में कोरोना वायरस के निशान:

भारत के विभिन्न हिस्सों से कुछ ऐसे मामले सामने आए हैं, जहां लोगों में कोरोना वायरस के लक्षण देखने को मिल रहें है, जैसे कि कोरोना वायरस के कारण होने वाली बीमारीयां लेकिन अब तक उनमें से कोई भी सकारात्मक नहीं पाया गया है। टेस्ट के बाद सभी रिपोर्ट नकारात्मक पाई गई हैं। लेकिन संदिग्ध रोगियों को निगरानी में रखा गया है और उनकी देखभाल ठीक से की जा रही है। भारत में कोरोना वायरस के निशान को अभी तक सकारात्मक रूप से नहीं पाया गया हैं।

समरी

चीन के वुहान शहर से बाहर निकलते कोरोना वायरस कई लोगों की मौत का कारण बन गया है। कोई विशिष्ट उपचार या वैक्सीन नहीं होने से कोरोना वायरस के कारण होने वाला रोग घातक हो गये हैं और यह जानवरों और मनुष्यों दोनों को प्रभावित कर रहे हैं। वायरस का कोई सटीक ऊष्मायन समय नहीं है और आम तौर पर यह पहली बार सर्दी(कॉल्ड) की तरह लगता है लेकिन यह श्वसन पथ को गंभीर नुकसान पहुंचा सकता है।

हालांकि कोई इलाज नहीं है फिर भी इसकी रोकथाम की जा सकती है ताकि आप वायरस से संक्रमित न हों। यदि आप संक्रमित हैं तो आपको भी सतर्क रहना चाहिए और आराम करना चाहिए और उन लोगों के पास नहीं जाना चाहिए जो वायरस से प्रभावित नहीं हैं। कोरोना वायरस एक नया वायरस है इसलिए हमें इससे संक्रमित नहीं होने के बारे में अधिक सावधान रहने की आवश्यकता है और जैसे ही आप कोई भी लक्षण देखते हैं, अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

17 people found this helpful