Consult with top Sexologists
Verified doctors & completely private
Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}

पीरियड में सेक्स के नुकसान - Period Mein Sex Ke Nuksan!

Written and reviewed by
Dr. Sanjeev Kumar Singh 91% (193 ratings)
Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri  •  10 years experience
पीरियड में सेक्स के नुकसान - Period Mein Sex Ke Nuksan!

पीरियड के दौरान महिलाओं का शरीर कई परिवर्तनों के दौर से गुजर रहा होता है. इसलिए पीरियड के दौरान कई नॉर्मल चीजों को करने को लेकर भी संशय की स्थिति बनी रहती है. जाहीर है सेक्स को लेकर भी मन में कई तरह की आशंकाएं रहती हैं कि इस दौरान सेक्स करें कि न करें. तो आपके इन्हीं प्रश्नों के उत्तर के लिए हम ये लेख लाए हैं. आमतौर पर तो कह सकते हैं कि पीरियड का मतलब यह नहीं है कि आपको यौन संबंध छोड़ना होगा. बल्कि कुछ महिलाओं के लिए तो पीरियड अवधि के दौरान यौन सम्बन्ध महीने के अन्य समय की तुलना में अधिक सुखद हो सकते हैं. पीरियड अवधि के दौरान लुब्रिकेशन की जरुरत कम हो जाती है और कुछ स्टडीज से यह भी पता चला है कि सेक्स पीरियड अवधि से संबंधित क्रैंप के प्रभावों को कम कर सकता है. एक स्टडीज ने निष्कर्ष निकाला कि सेक्सुअल एक्टिविटी कुछ लोगों के माइग्रेन और क्लस्टर सिरदर्द दर्द को कम कर सकती है. पीरियड साइकिल के दौरान एसटीआई (यौन संचारित संक्रमण) की रोकथाम और अच्छे गर्भनिरोधक का प्रयोग आपके यौन संबंधों को अधिक सुरक्षित और मज़ेदार बना सकता है. लेकिन सेक्स करने से पहले यह सुनिश्चित करें कि आप पीरियड साइकिल के दौरान एसटीआई, अन्य संक्रमण और प्रेगनेंसी के जोखिम को समझते हैं. आइए इस लेख के माध्यम से हम पीरियड में सेक्स करने के नुकसान पर एक नजर डालें.

पीरियड के दौरान सेक्स के नुकसान
1. संक्रमण का खतरा रहता है: -
आपके पीरियड के दौरान सुरक्षित सेक्स करना बहुत जरूरी है क्योंकि आपको एसटीआई जैसे - एचआईवी इन्फेक्शन हो सकता हैं. वायरस पीरियड के ब्लड में मौजूद हो सकता है इसलिए ऐसी स्थिति में डॉक्टर कंडोम का उपयोग करने के लिए जोर देते हैं. आप पुरुष कंडोम या महिला कंडोम, किसी का भी इस्तेमाल कर सकते हैं.

2. यीस्ट की मात्रा तेजी से बढ़ती है: - आप इस समय सामान्य रूप से कुछ अन्य संक्रमणों के प्रति भी अधिक प्रवण हो सकते हैं. एक्सपर्ट्स के अनुसार आपकी वैजाइना का पीएच लेवल महीने भर 3.8 से 4.5 रहता है. लेकिन पीरियड के दौरान, यह लेवल ब्लड के हाई पीएच लेवल के कारण बढ़ जाता है ऐसे में यीस्ट ज्यादा तेजी से बढ़ने में सक्षम हो जाता है.

3. जीवाणुओं के संक्रमण का भी है खतरा: - वेजाइना के यीस्ट इन्फेक्शन के लक्षण आपके पीरियड की अवधि से पहले सप्ताह में होने की संभावना है और इस समय के दौरान संभोग करने से प्रभाव बढ़ सकते हैं. लेकिन पीरियड के दौरान यौन सम्बन्ध से यीस्ट संक्रमण होने के अधिक जोखिम के स्पष्ट प्रमाण नहीं है. एक्सपर्ट्स के अनुसार कुछ महिलाओं को संभोग के बाद मूत्र पथ के संक्रमण होने की संभावना अधिक हो सकती है. यह संभवतः संभोग के साथ आसानी से मूत्राशय की यात्रा करने में सक्षम बैक्टीरिया से संबंधित है, लेकिन यह पीरियड चक्र के दौरान किसी भी समय हो सकता है.

4. ब्लड फ्लो पर असर: - जब आप सेक्स करते हैं तो मिशनरी पोजीशन का ही प्रयोग करें. इससे ब्लड फ्लो को कम करने में मदद मिलेगी. आप अपनी पीठ के बल लेट जाएं और अपने साथी को प्रवेश कराने के लिए कहें.

5. पेनिस पर चोट का डर: - इसके अलावा, आपके पीरियड के दौरान आपकी गर्भाशय ग्रीवा सामान्य से निचे और अधिक संवेदनशील हो सकती है. यदि आपको इस पर लिंग से चोट लगती है, तो अपने साथी को बताएं और पूरा ध्यान रख के साथ आगे बढ़ें.

6. दिमागी टेंशन: - शॉवर में सेक्स करें. इससे न केवल सफाई की टेंशन कम होगी, बल्कि इससे आपको अच्छा भी मासूस होगा. यदि आप के साथी को भी कोई आपत्ति न हो, तो इस तरीके को आजमा कर देखें.

7. मिथक भी हैं: - यह एक आम धारणा है कि एक महिला गर्भवती नहीं हो सकती है, यदि वह पीरियड के दौरान अपने साथी के साथ संभोग करती है. हालांकि, पीरियड चक्र के दौरान महिलाओं के लिए गर्भवती होने की काफी संभावना है. आप गर्भधारण तब करते है, जब निषेचन (शुक्राणु अंडे से मिलता है) होता है.

बरतें ये सावधानियाँ-
इस दौरान सहवास करने से स्त्री और पुरुष दोनों को कोई नुकसान नहीं होता. लेकिन जो महिलाएं मलशुद्धि के लिए पानी की बजाय टिशू पेपर का इस्तेमाल करती हैं, उनके साथ पीरियड के दौरान सहवास करने से इन्फेक्शन हो सकता है क्योंकि मासिक के दौरान होने वाला स्राव गुदा द्वार के करीब होने की वजह से वहां बैक्टीरिया के बढ़ने की आशंका पैदा हो सकती है. इससे बचने के लिए ऐसी महिलाओं के साथ सहवास करते समय पुरुष कॉन्डम का इस्तेमाल करें तो बेहतर है.

अगर आपके पार्टनर को पीरियड के दौरान पेट या योनि में दर्द नहीं हो रहा हो और यदि आपके पार्टनर को कोई आपत्ति न हो तो पीरियड के दौरान कंडोम के बिना भी ‍इंटरकोर्स किया जा सकता है. इससे किसी तरह की बीमारी नहीं होती न ही कोई शारीरिक विकार उत्पन्न होता है.

पीरियड के दौरान यदि महिला को किसी तरह के इन्फेक्शन की आशंका है तो ऐसे में सेक्स कदापि नहीं करना चाहिए.

पीरियड के समय सेक्स करने के लिए यौन अंगों की साफ-सफाई पर विशेष ध्यान दें. सेक्स के बाद शिश्न तथा योनि को ठीक तरह से पानी से धोना चाहिए. माइल्ड डिसइंफेक्टेड मेडिसिन मिलाकर भी सप्ताह में दो बार यौनांगों की सफाई करनी चाहिए.

In case you have a concern or query you can always consult a specialist & get answers to your questions!
6 people found this helpful