Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}

Hair Care Tips

बालों के लिए गुड़हल के फायदे - Baalon Ke Liye Gudhul Ke Fayde!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
बालों के लिए गुड़हल के फायदे - Baalon Ke Liye Gudhul Ke Fayde!

गुड़हल के फूल का वैज्ञानिक नाम रोजा साइनेसिस है. गुड़हल के फूल में कई तरह के पोषक तत्व जैसे कि फाइबर वसा कैल्शियम विटामिन सी आयरन आदि भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं. इसलिए गुड़हल का फूल हमें कई बीमारियों से निजात दिलाता है. गुड़हल का फूल हमारे यहां धार्मिक रुप से काफी महत्वपूर्ण है. हिन्दू परम्पराओं में विभिन्न प्रकार के पूजा अनुष्ठानों में उड़हुल का फूल का इस्तेमाल किया जाता है.लेकिन आज हम इस लेख में उड़हुल के लाभ के बारे में जानेंगे. तो आइए इस लेख के माध्यम से हम गुड़हल के फूल के फायदे को जानें.

बालों के लिए गुड़हल के फूल के फायदे-
यदि आप अपने बालों को सुंदर और स्वस्थ रखना चाहते हैं तो गुड़हल का फूल एक बेहतर विकल्प हो सकता है. उड़हुल के ताजे फूलों को पीसकर बालों पर लगया जा सकता है. इसके अलावा यदि आप चेहरे पर हुए मुंहासे से परेशान हैं तो इसके लिए लाल गुडहल की पत्तियों को पानी में उबाल कर पीस लें। अब इस पेस्ट में शहद को मिला कर त्वचा पर लगाएं. यह आपको मुहांसे से राहत प्रदान करता है. गुड़हल के फूल का प्रयोग हम बालों की कई समस्याओं के लिए भी कर सकते हैं. गुड़हल की पत्तियों को जैतून के पत्तों के साथ मिलाकर बने पेस्ट को 10 से 15 मिनट के लिए सिर पर लगाकर रखें इसके बाद इसे गुगुने पानी से धो लें. इससे आपके बाल घने दिखाई देने लगेंगे. इसके अलावा गुड़हल की पत्तियों को पीसकर इसमें नारियल तेल मिलाकर थोड़ा गर्म कर लें. अब इस तेल को अपने सिर पर मालिश करने के लिए प्रयोग करें. इससे आपके बालों में चमक और मजबूती आती है. बालों लिए गुड़हल के फूल का प्रयोग हम बालों की कई समस्याओं के लिए भी कर सकते हैं. गुड़हल के पत्तों और फूलों से बना पेस्ट प्राकृतिक कंडिशनर का काम करता है.

गुड़हल के फूल के अन्य फायदे भी हैं-
गुड़हल के फूल की कुछ प्रजातियों बहुत सुंदर और आकर्षक होते है. इसलिए कुछ प्रजातियों को उड़हुल के सुंदरता और आकर्षक होने के कारण लगाया जाता है. आपको जानकार हैरानी होगी कि नींबू, पुदीना आदि की तरह के औषधीय गुण गुड़हल में भी मौजूद होते हैं। इसलिए इसकी चाय भी हमारे सेहत के लिए अच्छी मानी जाती है. गुड़हल के कई प्रजातियों में से एक प्रजाति ‘कनाफ’ का इस्तेमाल कागज निर्मित करने के लिए भी किया जाता है. इसके अलावा एक अन्य प्रजाति ‘रोज़ैल’ का इस्तेमाल मुख्य रूप से कैरिबियाई देशों में सब्जी, चाय और जैम बनाने में भी किया जाता रहा है. गुड़हल के फूलों को हमलोग देवी और गणेश जी की पूजा में अर्पण करने के लिए भी किया जाता है. इनके फूलों में त्वचा को मुलायम बनाने के साथ-साथ आर्तवजनक, फफूंदनाशक, और प्रशीतक जैसे गुणों की भी मौजूदगी होती है।

कई कीट प्रजातियों के लार्वा इसका इस्तेमाल भोजन के रूप में भी करते हैं। इसके फूलों और पत्तियों को पीस कर इसका लेप सर पर लगाने से बाल झड़ने और रूसी की समस्याओं से कारगर तरीके से निपटा जा सकता है। यही नहीं इसका इस्तेमाल केश तेल बनने के लिए भी किया जाता है। इसका प्रयोग केश तेल बनाने में भी किया जाता है. गुड़हल के फूल को परंपरागत हवाई महिलायें अपने कान के पीछे से टिका कर पहनने के लिए भी करती हैं। ये बहुत रोचक बात है क्योंकि इस संकेत का अर्थ ये होता है कि वो महिला अविवाहित है और वो विवाह के लिए उपलब्ध है.

* गुड़हल के फूलों का इस्तेमाल बालों को आकर्षक और स्वस्थ रखने के लिए भी किया जा सकता है. गुड़हल के फूलों को पानी में उबाल कर बाल धोने से हेयर फॉल की समस्या दूर हो जाती है. यह एक तरह का आयुर्वेदिक उपचार है.
* गुड़हल की 10 ग्राम पत्तियों को मेहंदी और नींबू के रस में मिलाकर बालों की जड़ों से सिरे तक अच्छे से लगाएं. इस विधि से बालों के डैंड्रफ खत्म हो जाती है.
* इसका उपयोग कॉस्मेटिक में भी किया जाता है. भारत में गुड़हल की पत्तियों और फूलों से हर्बल आईशैडो बनती है.
* गुड़हल का फूल शरीर की सूजन के साथ-साथ खुजली तथा जलन जैसी समस्याओं से भी राहत देता है. गुड़हल के फूल की ताजी पत्तियों को अच्छी तरह पीस कर सूजन तथा जलन वाली जगह पर लगाएं, कुछ ही मिनटों में समस्या दूर हो जाएगी.
* बच्चों के लिए हर्बल शैम्पू बनाने में भी इसका उपयोग होता है, क्योंकि यह माइल्ड होता है.
* गुड़हल के फूल और पत्तों का उपयोग त्वचा से झुर्रियां दूर करने में भी किया जाता है.

Hair Care Tips!

Dr. Clinic Eximus 87% (48 ratings)
Dermatologist, Delhi
Hair Care Tips!

Healthy and lustrous hair is an essential part of looking good. Many of us realise it when we have a bad hair day! People with great hair make a huge social impact. Take care of your diet to ensure that you have great hair. 

6 people found this helpful

Ayurvedic Treatment For Dandruff!

A.S.F, BAMS, LCMC, MD - Ayurveda, Diploma In Panch Karma
Ayurveda, Kolkata
Ayurvedic Treatment For Dandruff!

Darunak or commonly known as dandruff, is a disorder that affects the scalp. Dandruff causes white, dry flakes of dead skin cells to shed from the scalp. Although dandruff rarely causes baldness and hair loss, the itchiness of this condition may most certainly be a cause of concern. If white flakes persist for a long time, the person may experience symptoms of seborrhea, psoriasis, or eczema. According to Ayurveda, Darunak is a Vatakapha predominant tridoshaj disease. According to Acharya ‘Sushrut’, Madhav’ and Yogratnakar’, Darunak have symptoms like Itching, White scales like structures, Dryness in the scalp. Along with aforesaid symptoms of Acharya Vagbhatta also considered Hair loss and Numbness of scalp. The Adhisthan (place of origin) of this disease is the keshbhumi (Scalp). 

Over time, proponents of Ayurveda have conducted various researches on this disease, trying to find out an effective solution when it comes to dandruff related problems. 

Prolonged Treatment for Wet or Oily dandruff: 

The scalp skin produces sebum (Kapha), which is an oily substance. This sebum helps in keeping your scalp and hair hydrated. It is a natural process, without which your hair may turn dry and frizzy. However, when this sebum (kapha) is over produced due to certain reasons, you may suffer from problems of the scalp. Over production of sebum (kapha) causes oily scales to appear on the scalp, which may cause severe itching and may also result in infection. Therefore, wet dandruff requires prolonged treatment, whereas it is easier to treat dry dandruff. 

Impurity in the blood: 

According to Ayurvedic system of medicine, dry dandruff is caused because of ‘Vata Pradhan Kapha dosha’. On the other hand, wet dandruff is caused because of ‘Kapha Pradhan Vata dosha’. As per Acharya Videha Pitta and Kapha are involved in causing darunak i.e. Dandruff. The vitiation of Vata and Pitta in the body leads to vitiation of Raktadhatu(blood) thus giving rise to impurities in the blood. This in turn leads to poor nourishment of the scalp. In such cases, detoxification of blood is also required to get rid of dandruff. 

Ayurvedic View

Ayurveda places the problem of dandruff in the category of Shudra Roga, which appears due to an imbalance of all three doshas (Ayurvedic humor). The primary doshas involved are Kapha and Vata.Kapha is an Ayurvedic humor which symbolizes Softness, Stickiness, provides nourishment & lubrication. Vata is dry and rough in nature. In an aggravated state, both doshas as per their predominance cause the production of specific impurities in scalp, which are dry and sticky in nature. These impurities accumulate in the deep tissues of the scalp and contaminate them. Contamination of the deep tissues and aggravated Vata-Kapha Dosha causes itching and flaky patches on the scalp. Due to these factors, the scalp sheds larger than normal amounts of dead epidermal cells, which leads to the problem of dandruff. 

The Ayurvedic line of treatment is to generally pacify Kapha and Vata through herbal medicines, as well as a tailor-made diet and lifestyle plan. Also, special herbs are administered to cleanse the body of accumulated digestive impurities.

For oral use Bactimo cap 2 cap rwice for 7 days.

The Ayurvedic system of treatment for wet or oily dandruff, in particular, is briefly mentioned here: 

  1. According to Ayurveda, dandruff could be caused due to prolonged intake of cold water, Excessive usage of foods that taste salty, Chronic Rhinitis,  Irregular Sleeping Habits, Excessive Exposure to UV of sun, Suppressing Natural Urges, Excessive consumption of alcohol, Excessive sweating , Improper maintenance of Hair and using very less or no hair oil for massaging Head and Scalp.
  2. Use Dano oil for scalp massage before shampooing the hair. Follow the process for 5-7 days.
  3. For oral use, two Bactimo capsules twice a say can be of great help.
  4. Ayurveda suggests both topical and internal medicines for the treatment of wet or oily dandruff. The topical medicines are intended to manage dandruff and also provide relief from itching and infection, if any. The internal medicines are intended to detox the blood and also improve immunity, nourish the skin and thereby help in improving the quality of hair.
  5. If dandruff is caused due to psoriasis and eczema, then there are exclusive medicines to combat the infection, detox the body and nourish the skin and hair.
  6. Ayurveda suggests that foods like coconut, Indian gooseberry ( Amla), Raisins etc. help in preventing dandruff.
  7. In addition to these, Ayurveda also suggests various home remedies for effective management of both wet and dry dandruff, like washing your hair with decoction prepared with Neem Leaves or Take powder of Mustard seeds and licorice, make them into paste by adding milk to it and leave it on head for 20min and wash later with water.
  8. Taking Panchkarama detoxification procedures like Nasyam, Raktamokshnam, Shirobasti, Abhyanga Swedanam under the guidance of expert can also play very important role in the management of both the types of dandruff. 
  9. Accumulated hair and dandruff scales can be made returned to the healthy scalp from unclean combs and brushes. This may irritate the scalp and causes flare of dandruff again. Combs and brushes are the tools for the care of your hair; they should be properly made and well cared to accomplish this purpose. Neem wood combs can work wonder but they should also be regularly cleaned and changed every six months. It can be easily deduced that wet dandruff can be effectively managed and treated by undergoing treatment under Ayurvedic system of medicines. 

How To Maintain Healthy Hair - Hair Care Tips You'll Love!

MBBS, MD - Dermatology , Venereology & Leprosy
Dermatologist, Mumbai
How To Maintain Healthy Hair - Hair Care Tips You'll Love!

Hair is technically dead tissue and considering that, we spend a whole of a lot of time and currency on our hair. That is probably because hair plays a big part in our appearance. Changing your hair color or merely getting a different hairstyle can change your appearance to an extent that some might find you unrecognizable. On the contrary, you can go into a week-long depression, if your hair stylist has let you down with the bob-cut your favourite celebrity has sported so beautifully. Like nails, hair is an extension of the epidermal layer of the skin and is mainly composed of proteins. Apart from adding to your appearance, it also provides warmth and protection to your head.

So it is obvious that maintaining healthy hair is something we all want and would like. Here are a few tips that will help that mane flow beautifully-

  1. Ripe avocado: Mash some ripe avocado without the pit, mix it with an egg and apply it to your hair. Wash it off after 20 minutes. Avocados are rich in essential fatty acids, minerals and vitamins that help add lustre to your hair. This is advised to be done once a week if you have damaged hair or once a month for healthy hair.
  2. Apple Cider Vinegar: Adding one part apple cider vinegar to two parts of lukewarm water and applying it to your hair can help balance the pH of your scalp. It may not make your hair smell like a dream, but it will help bring out the natural red highlights in your hair.
  3. Lemon Juice: Apply lemon juice to your scalp to get rid of dandruff and get clean scalp.
  4. Egg and shampoo: This combination can help strengthen your hair. This mixture adds protein to your hair. Take an egg and mix it with a small amount of shampoo and lather it up for 5 minutes and rinse well.
  5. Essential oils: Add some essential oil to your shampoo to get a beautiful lustre to your hair.
     
1 person found this helpful

Ways To Manage Alopecia Areata!

MD - Dermatology, Venereology & Leprosy, MBBS Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery
Dermatologist, Karad
Ways To Manage Alopecia Areata!

Alopecia Areata is an autoimmune disease (wherein the body’s immune system attacks its own healthy tissues rather than the malicious pathogens). There is no permanent solution for alopecia areata. However, there are some treatments available which would aid in preventing hair loss as well as stimulating growth of hair. The focus of therapies would be on strengthening the hair roots, scalp and fibre so that breakage is averted and your hair is restored to a healthy condition.

The therapies should incorporate:

  1. Deep cleansing
  2. Nourishment of hair shaft and scalp
  3. Smoothing benefits of keratin (a protein that forms the primary component of the hair) and anti-oxidants.
  4. Control of scalp ageing
  5. Improvement of blood circulation by stimulating hair roots
  6. Deeper hydration and thermal penetration to ensure root, scalp as well as hair shaft nourishment.

The therapies should aim to achieve the aforementioned objectives by utilizing phytonutrient extracts, nourishing oils, minerals, vitamins as well as plant peptides so that hair roots are energized, scalp is made healthy as well as hair fibres, are strengthened.

Strengthening of the roots of the hair is of primary importance to prevent alopecia areata as well as other hair fall conditions. The main techniques used to address this issue are:

  1. Therapy for Hair Roots: The most effective therapy is the one in which the dermatologist uses vitamins and plant extracts which are naturally injected into the roots of the hair through micro injections. This rejuvenates the hair follicles and prevents hair loss and thinning.
  2. Natural Hair Rejuvenation with PRP: This procedure focuses on utilising the blood plasma that is taken from your body. The blood plasma is platelet rich and is used to make the hair follicles healthier, thus ensuring healthy hair growth
  3. Hair Root Activation Laser Therapy and Low Level Laser Therapy: This treatment uses high-intensity light rays to increase blood flow and stimulate the cells in your scalp for better hair growth.
  4. Infusion of Hair with Nutrients: In this procedure, a cocktail of nutrients is prepared containing charged ions which penetrate deep inside your scalp and strengthen the cells and promote hair growth.

This condition, as mentioned above, is caused due to the immune system attacking the cells on your scalp. This condition occurs suddenly and causes balding patches but doesn’t usually lead to complete baldness or a permanent halt on hair growth. The volume of lost hair is different for different people.

4 people found this helpful

Symptoms And Complications Of Ingrown Hair!

MBBS, MD - Dermatology
Dermatologist, Ghaziabad
Symptoms And Complications Of Ingrown Hair!

Ingrown hair refers to a situation in which a part of the body hair which has been trimmed, shaved or tweezed grows back into the skin in a curled form. This sometimes causes painful and discomforting skin conditions such as swelling, bump formation and chronic pain in the area from where the hair was removed.

This condition is mostly common among people who have very tightly curled hair on their entire bodies. Among men the most affected areas are cheeks, chin and neck. Additionally, they can also appear in cases of men who regularly shave their head. In case of women, ingrown hair is common in areas like armpits, pubic region and legs.

The most common signs of this condition are:

  1. Small skin bumps (papules)
  2. Small, pus-filled, blister-like lesions (pustules)
  3. Hyperpigmentation (skin darkening)
  4. Long lasting and chronic pain
  5. Itching 

Ingrown hair might also occur if you do the following activities:

  1. Pulling your skin while shaving your body hair can give rise to ingrown hair. This in turn allows the shaved hair particles to penetrate back into the skin without growing outwards.
  2. Tweezing of hair can also lead to the hair particles to grow inwards instead of growing outwards.

Some common complications associated with this condition are:

  1. Bacterial and fungal infections that usually happen from scratching of the affected area.
  2. Hyperpigmentation of the skin which involves an abrupt darkening of the skin areas.
  3. Permanent scarring of the tissue of the affecting skin.
4341 people found this helpful

Colored Hair - How Should You Take Care Of Them?

MBBS, Diploma in Venerology & Dermatology (DVD), DDV, MD - Dermatology , Venereology & Leprosy
Dermatologist, Pune
Colored Hair - How Should You Take Care Of Them?

Dyeing one's hair has become a modern trend. Streaks, highlighting with a blond color or changing the hair color altogether is done often to alter one's looks. However, most hair colors contain chemical ammonia, which causes hair to become brittle and dry. Here are a few tips to color your hair and keep it fabulous, all at the same time. Read on more to find all about it.

Pre-color care:

One of the most important things to consider before coloring your hair. Deep condition your hair. Avoid applying chemicals to your hair one month prior to the actual coloring. This helps in reducing the damage your hair takes during coloring. It also revitalizes your hair, which it received via styling or heat.

  1. Manage your hair: Make sure that you manage your hair and go for regular trims or haircuts. It will help in coloring if you do not have to manage split ends or breakage.
  2. Condition your hair: Deep condition your hair to properly boost its strength. Mix banana, egg and yogurt evenly and apply them to your hair. Rinse after an hour. This will make your hair softer and stronger.
  3. Color on non-shampooed hair: Make sure that you apply color on your hair on a day, in which you haven't applied shampoo. It is recommended to not shampoo your hair 2 days prior to coloring as it washes the natural oil present in your hair and causes the coloring to result in excess damage to the hair follicles.

Post-color care:

  1. Rinse hair with a protecting shampoo: After applying color make sure that you only apply color protecting shampoos. This helps the color to set in and does not wash it away. Rinse using cold water.
  2. Wash hair twice a week: Shampooing on a regular basis strips your hair of the natural oils. Restricting it to twice a week ensures that the color on your hair stays for a longer duration.
  3. Deep condition post coloring: Use almond oil, olive oil or coconut oil to deep condition your hair.
  4. Avoid blow drying: Blow drying your hair causes it to be extra dry. This can cause damage to your hair. Let your hair dry naturally or if necessary use a cooler setting on your hair dryer.
3 people found this helpful

बालों की देखभाल के नुस्खे - Baalon Ki Dekhbhal Ke Nushke!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
बालों की देखभाल के नुस्खे - Baalon Ki Dekhbhal Ke Nushke!

इंसानी शरीर की खूबसूरती में बालों का विशेष महत्त्व है. बालों के जरिए एक अनोखे व्यक्तित्व का भी निर्माण होता है. इसलिए बालों को बचाए रखना और संवारना जरुरी है. लेकिन आज बाल झड़ना और उसमें कई तरह की समस्याएं उत्पन्न होना लोगों को परेशान करता है. अंदरूनी तौर पर बाल झड़ने के कई कारण हो सकते हैं. उचित पोषण का न मिलना, बालों में किसी प्रकार का संक्रमण या कई बार अनुवांशिक कारण भी हो सकते हैं. इसलिए आइए इस लेख के माध्यम से बालों के देखभाल के नुस्खे जानें.

बालों के देखभाल के घरेलु नुस्खे
1. बालों में लगाएं दही

बालों के देखभाल के लिए दही एक बेहद कारगर और आसान उपाय है. इसका प्रयोग आप बालों को धोने से पहले करें. बालों को धोने से लगभग 30 मिनट पहले बालों में दही लगा लें. जब बाल पूरी तरह सुख जाएँ तो इसे धो लें. इसके लिए आप पांच बड़े चम्मच दही, एक बड़ी चम्मच नीम्बू का रस और दो बड़े चम्मच कच्चे चने का पाउडर मिलाकर इस पेस्ट को भी नहाने से आधे घंटे पहले लगाएं.

2. शहद
कई बीमारियों को दूर करने में सक्षम शहद को बालों में लगाने पर ये बालों का देखभाल भी करता है. इसके अलावा आप दालचीनी और शहद के को मिलाकर भी बालों में लगा सकते हैं. गरम जैतून के तेल में एक चम्मच शहद और एक चम्मच दालचीनी पाउडर मिलाकर उनका पेस्ट नहाने से पहले सिर पर लगायें. कुछ समय बाद सिर को धो लीजिए. इससे बाल झड़ने की समस्या से निजात मिलेगा.

3. मेथी
बालों के देखभाल के लिए एक कप पानी में कुछ चम्मच मेथी के दाने को को पीसकर मिला लें. इस मिश्रण को अपने बालों में लगा कर चालिस मिनट बाद सादे पानी से बालों को धोयें. लगभग एक महीने में आपको इसका असर दिखेगा.

4. रोजमेरी ऑयल
बालों की मजबूती के लिए अपने बालों में रोजमेरी आयल से मसाज करें. इससे बाल बढ़ते भी हैं. इसके अलावा जवाकुसुम की पत्तियों को थोड़े से पानी में मिलाकर पेस्ट बना लीजिए, इस पेस्‍ट को सिर की त्वचा और बालों पर लगाइए, इससे बाल बढ़ते और घने होते हैं.

5. मेंहदी
मेंहदी के पत्ते को पीसकर इसे दही और एक अंडे के साथ मिलाकर बालों में लगाएं. इसे 30 मिनट तक छोड़ दें और इसके बाद इसे पानी से धो लें. इस नुस्खे का असर 15 दिनों के भीतर ही हो जाता है.

प्राकृतिक तरीके
1. बालों के टूटने का एक कारण बालों का उलझा हुआ होना भी है. आपको दिन में कम से कम 2-3 बार कंघी करना चाहिए. इससे बाल सुलझे हुए भी रहेंगे और टूटने का डर भी काफी हद तक कम हो सकता है.
2. बालों को धुप और धुल से बचाकर रखें. बाहर तेज धूप होने पर छाता लेकर जाएँ. हो सके तो बालों को ढककर बाहर निकलें.
3. ठंडी के मौसम में लोग गर्म पानी से नहाना चाहते हैं. लेकिन जब पानी बहुत गर्म होता है तो इससे भी आपके बाल टूटते हैं.
4. बालों को पोषण देने के लिए आपको डाइट में प्रोटीन, आयरन, जिंक, सल्फर, विटामिन सी, के अलावा विटामिन बी से युक्त खाद्य पदार्थ भरपूर मात्रा में लेने चाहिए.
5. बालों में आंवला, बादाम, ऑलिव ऑयल, नारियल का तेल, सरसों का इत्यादि लगाने से मजबूती आती है. इसे सप्ताह में कम से कम दो बार अवश्य लगाना चाहिए.

बालों के देखभाल के चिकित्सकीय तरीके
1. विटामिन डी की भूमिका
विटामिन डी बालों के स्वास्थ्य के लिए बहुत महत्वपूर्ण तत्व है. विटामिन डी शरीर से आयरन और कैल्शियम को अवशोषित करता है. आयरन को बालों के झड़ने के लिए जिम्मेदार माना जाता है. यदि आप नियमित रूप से 15 मिनट भी धूप लेते है तो यह आपको विटामिन डी की जरुरी खुराक की पूर्ति करेगा. हालाँकि आपको ज्यादा तेज रौशनी के सीधे सम्पर्क में नहीं आना चाहिए.

2. पौष्टिक खाना खाइए
पौष्टिक खाना से आप कई तरह के बिमारियों से बच सकते है. आपको यह जानना भी जरुरी है जंक फ़ूड, डब्बाबंद आहार, ऑयली फूड खाने से पौष्टिक तत्वों की कमी होती है. इस तरह के आहार से शरीर को उचित मात्रा में आयरन, कैल्सियम, जिंक, विटामिन सी और प्रोटीन इत्यादि नहीं मिल पाते हैं. यह सभी तत्त्व बालों के स्वास्थ्य और विकास के लिए महत्वपूर्ण है. इसके बजाए आप हरी सब्जियां, फल, सूखे मेवे, दूध, अंडे का सेवन करें ताकि पौष्टिक आहारों की कमी को पूरा किया जा सके.

3. धूम्रपान से बचिए
धूम्रपान करने से कई तरह के समस्या समस्या उत्पन्न होती है ऐसी एक स्थिति अथेरोसेलेरोसिस है. इस स्थिति में आपके शरीर की नसों और रगों पर मैल की परत जमा हो जाती है. इस वजह से पूरे शरीर के रक्तसंचार में बाधा पहुँचती है. ऐसी स्थिति में बालों की जड़ तक पौष्टिक तत्व नहीं जा पाते है. अथेरोसेलेरोसिस के कारण सिर तक पर्याप्त मात्रा में रक्त नहीं पहुँचता है. इसके परिणामस्वरुप बाल कमज़ोर हो जाते है और झड़ने लगते हैं.

4. हानिकारक रसायनों के इस्तेमाल से बचें
कई लोग बालों को झड़ने से बचाने के लिए कई तरह के शैम्पू इस्तेमाल करते है. लेकिन वह कई बार भ्रामक विज्ञापनों के जाल में फंसकर हानिकारक केमिकल वाले शैम्पू भी लगा लेते हैं. इससे बालों के देखभाल तो क्या ही रुकेगा इसमें और वृद्धि हो जाती है. इसलिए ये बेहद जरुरी है कि इसके लिए उचित उपचार करें.

5. ज्यादा गर्मी और बाल रंगने से बचें
यदि आपके बाल झड़ रहे हैं तो आपको अत्यधिक ड्रायर और डाई इस्तेमाल करने करने से बचना चाहिए. इसलिए जब तक बहुत जरुरी न हो आपको बालों पर केमिकल लगाने से बचना चाहिए.

6. व्‍यायाम की भूमिका
व्यायाम करने के कई लाभ है. यह आपके शरीर में रक्तसंचार को बढ़ावा देता है. इससे आपके बालों के छिद्रो तक प्रयाप्त रक्त पहुँच पाता है और वहां भी सुचारु रूप से रक्तसंचार होना शुरू हो जाता है. सिर के बाल शरीर के सबसे उपरी हिस्से में स्थित होते हैं. यहाँ रक्त छिद्रों में कई बार उचित पोषण और रक्त नहीं पहुँच पाता है. इसलिए जब हम व्यायाम करते हैं तो रक्त संचार में आई तीव्रता की वजह से सिर के उपरी हिस्से में भी खून और पोषक तत्वों की सही मात्रा पहुँचती है. इससे आपके बालों के देखभाल रुकता है.

7. पानी की भूमिका
आपकी त्वचा, बाल, रक्त, शुक्राणु, इन सबको स्वस्थ रहने के लिए और अपना कार्य सक्षमता से करने के लिए पानी की ज़रुरत पड़ती है. जब आप पानी पीते हैं तो आप अपने कोशिकाओं और इन्द्रियों को एक तरह से सींचते हैं. इससे आपके रक्तसंचार में सुधार होने के साथ ही किसी भी रोग को रोकने की शक्ति पैदा होती है. आपके बालों की जड़ें भी मज़बूत हो जाती हैं. लीवर से और आपकी त्वचा की कई सतहों के नीचे से विषैले तत्व बाहर निकाल फेंकता है. पानी आपके बालों में एक नयी चमक भी पैदा करता है, और उन्हें स्वस्थ और मज़बूत तो रखता ही है.

8. तनाव से बचिए
जाहिर है तनाव कई बीमारियों को जन्म देता है. बालों के देखभाल उन बीमारियों में से एक है. इसलिए यदि आप अनावश्यक बीमारियों से बचना चाहते हैं तो तनाव को टाटा बाय-बाय कहिए. हलांकि ये कहना आसान है लेकिन ज्यादा मुश्किल भी नहीं है. बस आपको तय करना है. इसके लिए आप योग या ध्यान की मदद ले सकते हैं.
 

11 people found this helpful

Hair Care Tip!

Bachlor in homoeopathic
Homeopath, Pune
Hair Care Tip!

This is another effective home remedy for a voluminous hair just apply a mixture of apple cider vinegar and water to your tresses to give them an incredible bounce.

2 people found this helpful

Hair Care Tip!

Bachlor in homoeopathic
Homeopath, Pune
Hair Care Tip!

Cold Water is good for hair
Use cold water to wash your hair. Cold doesn’t exactly mean freezing cold, but you can use water at room temperature

3 people found this helpful
Icon

Book appointment with top doctors for Hair Care treatment

View fees, clinic timings and reviews