Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}

Dr. Ramo Garote

Gynaecologist, Thane

300 at clinic
Dr. Ramo Garote Gynaecologist, Thane
300 at clinic
Submit Feedback
Report Issue
Get Help
Feed
Services

Personal Statement

I pride myself in attending local and statewide seminars to stay current with the latest techniques, and treatment planning....more
I pride myself in attending local and statewide seminars to stay current with the latest techniques, and treatment planning.
More about Dr. Ramo Garote
Dr. Ramo Garote is an experienced Gynaecologist in Kaushalya Medical Foundation Trust Hospital, Thane. You can consult Dr. Ramo Garote at New Suyog Maternity & Nursing Home in Kaushalya Medical Foundation Trust Hospital, Thane. Book an appointment online with Dr. Ramo Garote on Lybrate.com.

Lybrate.com has a number of highly qualified Gynaecologists in India. You will find Gynaecologists with more than 40 years of experience on Lybrate.com. Find the best Gynaecologists online in Thane. View the profile of medical specialists and their reviews from other patients to make an informed decision.

Info

Specialty
Languages spoken
English
Hindi

Location

Book Clinic Appointment

New Suyog Maternity & Nursing Home

Mahavir Nagar Mumbra, Thane .Landmark: , Opp Mumbra Station, ThaneThane Get Directions
300 at clinic
...more
View All

Consult Online

Text Consult
Send multiple messages/attachments
7 days validity
Consult Now

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr. Ramo Garote

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

Hello doctors, I want to know that, which medicine is safe during positive news in pregnancy, I have already 2nd half year old baby, so I don't want to take chance before four years, today I checked nd the report goes positive So pls help to get out of this position. What I do.

DGO, MBBS
Gynaecologist, Bhavnagar
If you don't want pregnancy, there are two options. One is you can take medicine. Abortive pills. But sometimes they don't give results. Results also depend upon how much time is pregnancy of. Another option is curretting. It is safest method in consideration of completion.
Submit FeedbackFeedback

I hav to travel to long distance in 3mnth of pregnant, my gynic prescribed me doxicon, vomiford, gestoford. For wat diz tabs are used, doxicon n vomiford are safe during pregnant? please let me know the info regarding diz tabs.

MD - Obstetrtics & Gynaecology
Gynaecologist, Mumbai
Both the medicines which r prescribed for you r banned at 8 weeks of pregnancy. Doxicon is doxycyclin iwhich is antibiotis and can not be used in pregnancy and vomiford contains ondensetron which can not be used till 12 weeks of pregnancy unless all other options are not there. Doxinate is the drug for vomiting in pregnancy which is safe and probably your doctor wated to write that instead of doxicon. Travel during pregnancy is safe but you can carry doxinate tablet with you just in case of vomiting.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

What Foods to be taken and to be avoided during pregnancy. And remedies for vomiting. Is ice cream safer to eat?

C.S.C, D.C.H, M.B.B.S
General Physician,
Ice cream is good and do not over eat. Any food is fine and you have to eat homemade foods. No food has to be avoided as such.
Submit FeedbackFeedback

Properties Of Flax Seed

BAMS
Ayurveda, Sonipat
Properties Of Flax Seed

अचूक औषधि अलसी

अलसी असरकारी ऊर्जा, स्फूर्ति व जीवटता प्रदान करता है। अलसी, तीसी, अतसी, कॉमन फ्लेक्स और वानस्पतिक लिनभयूसिटेटिसिमनम नाम से विख्यात तिलहन अलसी के पौधे बागों और खेतों में खरपतवार के रूप में तो उगते ही हैं, इसकी खेती भी की जाती है। इसका पौधा दो से चार फुट तक ऊंचा, जड़ चार से आठ इंच तक लंबी, पत्ते एक से तीन इंच लंबे, फूल नीले रंग के गोल, आधा से एक इंच व्यास के होते हैं।

 इसके बीज और बीजों का तेल औषधि के रूप में उपयोगी है। अलसी रस में मधुर, पाक में कटु (चरपरी), पित्तनाशक, वीर्यनाशक, वात एवं कफ वर्घक व खांसी मिटाने वाली है। इसके बीज चिकनाई व मृदुता उत्पादक, बलवर्घक, शूल शामक और मूत्रल हैं। इसका तेल विरेचक (दस्तावर) और व्रण पूरक होता है।

अलसी की पुल्टिस का प्रयोग गले एवं छाती के दर्द, सूजन तथा निमोनिया और पसलियों के दर्द में लगाकर किया जाता है। इसके साथ यह चोट, मोच, जोड़ों की सूजन, शरीर में कहीं गांठ या फोड़ा उठने पर लगाने से शीघ्र लाभ पहुंचाती है। एंटी फ्लोजेस्टिन नामक इसका प्लास्टर डॉक्टर भी उपयोग में लेते हैं। चरक संहिता में इसे जीवाणु नाशक माना गया है। यह श्वास नलियों और फेफड़ों में जमे कफ को निकाल कर दमा और खांसी में राहत देती है।

इसकी बड़ी मात्रा विरेचक तथा छोटी मात्रा गुर्दो को उत्तेजना प्रदान कर मूत्र निष्कासक है। यह पथरी, मूत्र शर्करा और कष्ट से मूत्र आने पर गुणकारी है। अलसी के तेल का धुआं सूंघने से नाक में जमा कफ निकल आता है और पुराने जुकाम में लाभ होता है। यह धुआं हिस्टीरिया रोग में भी गुण दर्शाता है। 

अलसी के काढ़े से एनिमा देकर मलाशय की शुद्धि की जाती है। उदर रोगों में इसका तेल पिलाया जाता हैं।
तनाव के क्षणों में शांत व स्थिर बनाए रखने में सहायक है। कैंसर रोधी हार्मोन्स की सक्रियता बढ़ाता है। अलसी इस धरती का सबसे शक्तिशाली पौधा है। कुछ शोध से ये बात सामने आई कि इससे दिल की बीमारी, कैंसर, स्ट्रोक और मधुमेह का खतरा कम हो जाता है। 

इस छोटे से बीच से होने वाले फायदों की फेहरिस्त काफी लंबी है,​​ जिसका इस्तेमाल सदियों से लोग करते आए हैं। इसके रेशे पाचन को सुगम बनाते हैं, इस कारण वजन नियंत्रण करने में अलसी सहायक है। रक्त में शर्करा तथा कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को कम करता है। जोड़ों का कड़ापन कम करता है।

 प्राकृतिक रेचक गुण होने से पेट साफ रखता है। हृदय संबंधी रोगों के खतरे को कम करता है। उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करता है। त्वचा को स्वस्थ रखता है एवं सूखापन दूर कर एग्जिमा आदि से बचाता है। बालों व नाखून की वृद्धि कर उन्हें स्वस्थ व चमकदार बनाता है। इसका नियमित सेवन रजोनिवृत्ति संबंधी परेशानियों से राहत प्रदान करता है।

 मासिक धर्म के दौरान ऐंठन को कम कर गर्भाशय को स्वस्थ रखता है। अलसी का सेवन त्वचा पर बढ़ती उम्र के असर को कम करता है। अलसी का सेवन भोजन के पहले या भोजन के साथ करने से पेट भरने का एहसास होकर भूख कम लगती है। प्राकृतिक रेचक गुण होने से पेट साफ रख कब्ज से मुक्ति दिलाता है।
अलसी कैसे काम करती है

अलसी आधुनिक युग में स्त्रियों की यौन-इच्छा, कामोत्तेजना, चरम-आनंद विकार, बांझपन, गर्भपात, दुग्धअल्पता की महान औषधि है। स्त्रियों की सभी लैंगिक समस्याओं के सारे उपचारों से सर्वश्रेष्ठ और सुरक्षित है अलसी। (व्हाई वी लव और ऐनाटॉमी ऑफ लव) की महान लेखिका, शोधकर्ता और चिंतक हेलन फिशर भी अलसी को प्रेम, काम-पिपासा और लैंगिक संसर्ग के लिए आवश्यक सभी रसायनों जैसे डोपामीन, नाइट्रिक ऑक्साइड, नोरइपिनेफ्रीन, ऑक्सिटोसिन, सीरोटोनिन, टेस्टोस्टिरोन और फेरोमोन्स का प्रमुख घटक मानती है।

सबसे पहले तो अलसी आप और आपके जीवनसाथी की त्वचा को आकर्षक, कोमल, नम, बेदाग व गोरा बनायेगी। आपके केश काले, घने, मजबूत, चमकदार और रेशमी हो जायेंगे। अलसी आपकी देह को ऊर्जावान और मांसल बना देगी। शरीर में चुस्ती-फुर्ती बनी गहेगी, न क्रोध आयेगा और न कभी थकावट होगी। मन शांत, सकारात्मक और दिव्य हो जायेगा।

 अलसी में ओमेगा-3 फैट, आर्जिनीन, लिगनेन, सेलेनियम, जिंक और मेगनीशियम होते हैं जो स्त्री हार्मोन्स, टेस्टोस्टिरोन और फेरोमोन्स (आकर्षण के हार्मोन) के निर्माण के मूलभूत घटक हैं। टेस्टोस्टिरोन आपकी कामेच्छा को चरम स्तर पर रखता है।

अलसी में विद्यमान ओमेगा-3 फैट और लिगनेन जननेन्द्रियों में रक्त के प्रवाह को बढ़ाती हैं, जिससे कामोत्तेजना बढ़ती है। इसके अलावा ये शिथिल पड़ी क्षतिग्रस्त नाड़ियों का कायाकल्प करती हैं जिससे मस्तिष्क और जननेन्द्रियों के बीच सूचनाओं एवं संवेदनाओं का प्रवाह दुरुस्त हो जाता है। नाड़ियों को स्वस्थ रखने में अलसी में विद्यमान लेसीथिन, विटामिन बी ग्रुप, बीटा केरोटीन, फोलेट, कॉपर आदि की महत्वपूर्ण भूमिका होती है।

 इस तरह आपने देखा कि अलसी के सेवन से कैसे प्रेम और यौवन की रासलीला सजती है, दिव्य सम्भोग का दौर चलता है, देह के सारे चक्र खुल जाते हैं, पूरे शरीर में दैविक ऊर्जा का प्रवाह होता है और सम्भोग एक यांत्रिक क्रीड़ा न रह कर शिव और उमा की रति-क्रीड़ा का उत्सव बन जाता है, समाधि का रूप बन जाता है।

रिसर्च और वैज्ञानिक आयुर्वेद और घरेलू नुस्खों के रहस्य को जानने और मानने लगे हैं। अलसी के बीज के चमत्कारों का हाल ही में खुलासा हुआ है कि इनमें 27 प्रकार के कैंसररोधी तत्व खोजे जा चुके हैं। अलसी में पाए जाने वाले ये तत्व कैंसररोधी हार्मोन्स को प्रभावी बनाते हैं, विशेषकर पुरुषों में प्रोस्टेट कैंसर व महिलाओं में स्तन कैंसर की रोकथाम में अलसी का सेवन कारगर है। 

दूसरा महत्वपूर्ण खुलासा यह है कि अलसी के बीज सेवन से महिलाओं में सेक्स करने की इच्छा तीव्रतर होती है। यह गनोरिया, नेफ्राइटिस, अस्थमा, सिस्टाइटिस, कैंसर, हृदय रोग, मधुमेह, कब्ज, बवासीर, एक्जिमा के उपचार में उपयोगी है।

सेवन का तरीका
अलसी को धीमी आँच पर हल्का भून लें। फिर मिक्सर में पीस कर किसी एयर टाइट डिब्बे में भरकर रख लें। रोज सुबह-शाम एक-एक चम्मच पावडर पानी के साथ लें। इसे अधिक मात्रा में पीस कर नहीं रखना चाहिए, क्योंकि यह खराब होने लगती है। इसलिए थोड़ा-थोड़ा ही पीस कर रखें। अलसी सेवन के दौरान पानी खूब पीना चाहिए। इसमें फायबर अधिक होता है, जो पानी ज्यादा माँगता है।

हमें प्रतिदिन 30 – 60 ग्राम अलसी का सेवन करना चाहिये, 30 ग्राम आदर्श मात्रा है। अलसी को रोज मिक्सी के ड्राई ग्राइंडर में पीसकर आटे में मिलाकर रोटी, पराँठा आदि बनाकर खाना चाहिये. डायबिटीज के रोगी सुबह शाम अलसी की रोटी खायें।

कैंसर में बुडविग आहार-विहार की पालना पूरी श्रद्धा और पूर्णता से करना चाहिये। इससे ब्रेड, केक, कुकीज, आइसक्रीम, चटनियाँ, लड्डू आदि स्वादिष्ट व्यंजन भी बनाये जाते हैं।
अलसी के तेल और चूने के पानी का इमल्सन आग से जलने के घाव पर लगाने से घाव बिगड़ता नहीं और जल्दी भरता है।

पथरी, सुजाक एवं पेशाब की जलन में अलसी का फांट पीने से रोग में लाभ मिलता है। अलसी के कोल्हू से दबाकर निकाले गए (कोल्ड प्रोसेस्ड) तेल को फ्रिज में एयर टाइट बोतल में रखें। स्नायु रोगों, कमर एवं घुटनों के दर्द में यह तेल पंद्रह मि.ली. मात्रा में सुबह-शाम पीने से काफी लाभ मिलेगा।

अलसी के लाभ
आपका हर्बल चिकित्सक आपकी सारी सेक्स सम्बंधी समस्याएं अलसी खिला कर ही दुरुस्त कर देगा क्योंकि अलसी आधुनिक युग में स्तंभनदोष के साथ साथ शीघ्रस्खलन, दुर्बल कामेच्छा, बांझपन, गर्भपात, दुग्धअल्पता की भी महान औषधि है। सेक्स संबन्धी समस्याओं के अन्य सभी उपचारों से सर्वश्रेष्ठ और सुरक्षित है अलसी। बस 30 ग्राम रोज लेनी है।

सबसे पहले तो अलसी आप और आपके जीवनसाथी की त्वचा को आकर्षक, कोमल, नम, बेदाग व गोरा बनायेगी। आपके केश काले, घने, मजबूत, चमकदार और रेशमी हो जायेंगे।
अलसी में ब्रेस्ट कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर और कोलोन कैंसर से बचाने का गुण पाया जाता है। इसमें पाया जाने वाला लिगनन कैंसर से बचाता है। यह हार्मोन के प्रति संवेदनशील होता है और ब्रेस्ट कैंसर के ड्रग टामॉक्सीफेन पर असर नहीं डालता है।

अलसी आपकी देह को ऊर्जावान, बलवान और मांसल बना देगी। शरीर में चुस्ती-फुर्ती बनी गहेगी, न क्रोध आयेगा और न कभी थकावट होगी। मन शांत, सकारात्मक और दिव्य हो जायेगा।

अलसी में विद्यमान ओमेगा-3 फैट, जिंक और मेगनीशियम आपके शरीर में पर्याप्त टेस्टोस्टिरोन हार्मोन और उत्कृष्ट श्रेणी के फेरोमोन (आकर्षण के हार्मोन) स्रावित होंगे। टेस्टोस्टिरोन से आपकी कामेच्छा चरम स्तर पर होगी। आपके साथी से आपका प्रेम, अनुराग और परस्पर आकर्षण बढ़ेगा। आपका मनभावन व्यक्तित्व, मादक मुस्कान और शटबंध उदर देख कर आपके साथी की कामाग्नि भी भड़क उठेगी।

अलसी में विद्यमान ओमेगा-3 फैट, आर्जिनीन एवं लिगनेन जननेन्द्रियों में रक्त के प्रवाह को बढ़ाती हैं, जिससे शक्तिशाली स्तंभन तो होता ही है साथ ही उत्कृष्ट और गतिशील शुक्राणुओं का निर्माण होता है। इसके अलावा ये शिथिल पड़ी क्षतिग्रस्त नाड़ियों का कायाकल्प करते हैं जिससे सूचनाओं एवं संवेदनाओं का प्रवाह दुरुस्त हो जाता है।

 नाड़ियों को स्वस्थ रखने में अलसी में विद्यमान लेसीथिन, विटामिन बी ग्रुप, बीटा केरोटीन, फोलेट, कॉपर आदि की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। ओमेगा-3 फैट के अलावा सेलेनियम और जिंक प्रोस्टेट के रखरखाव, स्खलन पर नियंत्रण, टेस्टोस्टिरोन और शुक्राणुओं के निर्माण के लिए बहुत आवश्यक हैं। कुछ वैज्ञानिकों के मतानुसार अलसी लिंग की लंबाई और मोटाई भी बढ़ाती है।

अलसी बांझपन, पुरूषहीनता, शीघ्रस्खलन व स्थम्भन दोष में बहुत लाभदायक है।
पुरूष को कामदेव तो स्त्रियों को रति बनाती है अलसी। अलसी बांझपन, पुरूषहीनता, शीघ्रस्खलन व स्थम्भन दोष में बहुत लाभदायक है। 

अर्थात स्त्री-पुरुष की समस्त लैंगिक समस्याओं का एक-सूत्रीय समाधान है।इस तरह आपने देखा कि अलसी के सेवन से कैसे प्रेम और यौवन की रासलीला सजती है, जबर्दस्त अश्वतुल्य स्तंभन होता है, जब तक मन न भरे सम्भोग का दौर चलता है, देह के सारे चक्र खुल जाते हैं, पूरे शरीर में दैविक ऊर्जा का प्रवाह होता है और सम्भोग एक यांत्रिक क्रीड़ा न रह कर एक आध्यात्मिक उत्सव बन जाता है, समाधि का रूप बन जाता है।

तेल तड़का छोड़ कर, नित घूमन को जाय।
मधुमेह का नाश हो, जो जन अलसी खाय।।
नित भोजन के संग में, मुट्ठी अलसी खाय।
अपच मिटे, भोजन पचे, कब्जियत मिट जाये।।
घी खाये मांस बढ़े, अलसी खाये खोपड़ी।
दूध पिये शक्ति बढ़े, भुला दे सबकी हेकड़ी।।
धातुवर्धक, बल-कारक, जो प्रिय पूछो मोय।
अलसी समान त्रिलोक में, और न औषध कोय।।
जो नित अलसी खात है, प्रात पियत है पानी।
कबहुं न मिलिहैं वैद्यराज से, कबहुँ न जाई जवानी।।
अलसी तोला तीन जो, दूध मिला कर खाय।
रक्त धातु दोनों बढ़े, नामर्दी मिट जाय।।

7 people found this helpful

Hello doctor, I am having thyroid and pcos ,i am taking medicine as suggested doctor along with I am thinking to take shatavari and ashwagandha to balance hormones, Please suggest me how to take and how much to take these shthavari and ashwagandha powder?

MBBS, MS - Obstetrics & Gynecology, Fellowship in Infertility (IVF Specialist)
Gynaecologist, Aurangabad
hi Iksha, you can take shatawari powder with water twice a day, Ashwagandha once a day. also start exercising and diet to have better result.
2 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I am 27years old, female, my husband is 35. We are newly married couple. On very previous stage we are not taking any issue right now. So how can I ignore the birth control? Please help me. Suggest any homeopathy medicine.

MS- Gynaecology, MBBS
Gynaecologist, Delhi
I don't think any homopathy medicine vil control birth control. This is rt age fr pregnancy. It is better to complete family before 30. If still wants to delay use ocp
Submit FeedbackFeedback

I am 22 years old female and married and I am suffering with pcod problem. What are the measures should I take to cure pcod? Please suggest something for me.

Advanced Infertility, MIS TRAINING, FICMCH, PGDS, MD - Obstetrtics & Gynaecology, MBBS
Gynaecologist, Faridabad
BEST THING YOU CAN DO HELP YOURSELF IS DAILY EXCERCISE,WEIGHT CONTROL AND TAKING HEALTHY FOOD AVOID FATTY FOOD
Submit FeedbackFeedback

Respected Doctor, Please suggest any medicine, if there will be any retained product in uterine, after taking contra pills for abortion. Waiting for reply & hope for best medicine by your end. Warm Regards.

MBBS, MD - Obstetrtics & Gynaecology, FMAS, DMAS
Gynaecologist, Noida
Hello, if there are retained products of conception even after 2 weeks of abortion pills then next step is surgical evacuation with d&c.
Submit FeedbackFeedback

I always major back pain and vomits during my periods. It is so extreme that without medicine I can't survive that day. So ultimately I have to take a pain killer. Please tell what maybe the possible reason for this. Is this any deficiencies in my body or something else and what I can do to relieve it?

B.A.M.S
Ayurveda, Mandsaur
This is Dysmenorrhea.It looks that you are living in a comfort zone and not doing any physical work. Ta k e cap.Evecare morning evening after meal. Do sweep flooring daily sitting on legs. Use indian style sheet in toilet.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I am 19 yr old female. I have irregular periods. And also I have continuous back pain. What should I do for this? What type of food can I take to improve my health.

MBBS
General Physician, Faridabad
get u/s lower abd done and back with report. take protein diet, green vegetable diet, dal, paneer, cheese, fruits, eggs etc, drink 3-4 litre of water daily, take cap autrin 1 cap od 1 hr walk daily, it will help you,thanks.
Submit FeedbackFeedback

My wife is pregnant since last 6 weeks and ultrasound report says single intrauterine pregnancy of about 6 weeks 4 days gestational age without cardiac activity then what can I do please suggest me as soon as possible.

M.B.B.S, Post Graduate Diploma In Maternal & Child Health
Gynaecologist, Bokaro
I would suggest that you wait for another week and get the USG repeated at another centre. Do not take any hasty decision. There may be some confusion of the last menstrual date. All the best.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

What are the incubation periods for infections? How do I take someone's temperature? How long is someone infectious after a viral infection? Is pneumonia contagious?

MBBS, DNB (Obstetrics and Gynecology), MD - Obstetrtics & Gynaecology
Gynaecologist, Delhi
Incubation period is the time elapsed between exposure to a pathogenic organism, a chemical or radiation, and when symptoms and signs are first apparent. In a typical infectious disease, incubation period signifies the period taken by the multiplying organism to reach a threshold necessary to produce symptoms in the host. Take temperature easily by digital thermometer, u can take oral/ axilla temp, it beeps in 1 and half minutes n the temp can be read out.. It depends on what sort of viral infection you r talking about to know hw long it is infective. Yes pnemonia may be contagious by droplet infections
Submit FeedbackFeedback

Hi doc, I am pregnant n I have completed 51 days last September 17th I had my periods, I have one question in my mind whether I can intimate with ma partner or not, is it safe to have intimation in pregnancy if yes until which month? Please suggest me.

MBBS, MD - Obstetrtics & Gynaecology, FMAS, DMAS
Gynaecologist, Noida
Hello, Ideally intercourse should be avoided till 16th month of gestation to avoid any chances of threatened miscarriage.
Submit FeedbackFeedback

Menstrual Cramps - 10 Ways You Can Treat it!

Fellowship in Gynae Endoscopy, FMAS, DNB, DGO, MBBS
Gynaecologist, Delhi
Menstrual Cramps - 10 Ways You Can Treat it!

Let's first get to know what are menstrual cramps?
Menstrual cramps, also known as dysmenorrhea or period pains are throbbing or cramping pains in the lower abdomen.Many women experience menstrual cramps just before and during their menstrual periods.

Who gets menstrual cramps?
About half of women experience menstrual cramps and about 15% describe the pain as severe. It has been shown that women who do not exercise experience more painful menstrual cramps. Certain psychological factors such as emotional stress may also increase the likelihood of having uncomfortable menstrual cramps. Additional risk factors for these cramps include:

  1. Being younger than 20 years of age
  2. Starting puberty at age 11 or younger
  3. Menorrhagia - heavy bleeding during periods
  4. Never given birth

Symptoms of menstrual cramps include:

  1. Pain in the lower back and thighs
  2. Nausea
  3. Vomiting
  4. Sweating
  5. Dizziness
  6. Diarrhea
  7. Loose stools
  8. Constipation
  9. Bloating in the belly area
  10. Headaches
  11. Lightheadedness or feeling faint.

How can you 'AVOID' menstrual cramps?

  1. Eating fruits and vegetables and limiting intake of fat, alcohol, caffeine, salt and sweets
  2. Exercising regularly
  3. Reducing stress
  4. Quitting smoking
  5. Yoga or relaxation therapy
  6. Acupuncture or acupressure.
  7. Apply heat to lower abdominal part.
  8. Make sure you're getting enough vitamin D.
  9. Dietary supplements.

10 Ways to treat period cramps:
1. Improve Your Diet to Alleviate Period Cramps
2. Pop a Safe Painkiller
3. Turn to Tea to Calm Menstrual Cramps
4. Try Fish Oil and Vitamin B1
5. Needle Away Period Cramps
6. Massage With Essential Oils for Pain Relief
7. Curl Up With a Heating Pad to Ease Period Cramps
8. Boost Endorphins Your Way
9. Up the Magnesium in Your Diet
10. Lean on Your Contraceptive 

If you wish to discuss about any specific problem, you can consult a gynaecologist.

2524 people found this helpful

I had sex with my boy friend in the month of feb then in march and april I got my period as usual on time in may month still I didn't get period whether pregnancy vil cum?

MS - Obstetrics and Gynaecology
Gynaecologist, Ludhiana
Hi a lady can have normal periods while she is pregnant more commonly in 1st 3 months so its always better to rule out pregnancy by doing pregnancy test whenever in doubt.
Submit FeedbackFeedback

I did urine test no white layer is formed and then again I did sugar test but after stirring it for 3m the sugar dissolved in urine am I pregnant I don't want to know this for my mother in law suggest me please besides going hospital. please.what can I do to get my periods.

BHMS
Homeopath, Faridabad
Hi, Get the pregnancy test done after a week’s time of missed menstrual date to rule out pregnancy as there is release of a hormone called - Human Chorionic Gonadatropin once female gets pregnant. (The test is done with early morning's first urine’ mid-stream). It is done at home.
Submit FeedbackFeedback

My age is 29, female. I am trying for pregnancy. My ovulation started today (21/4/16 and I had sex last night once. Can I get pregnant or do I need more sex for pregnancy?

MBBS
General Physician, Chennai
The ovum is alive for a day if I am right try again for two more days do not get up as soon as you are finshed stay in bed so the sperm reaches the ovum.
4 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Im 19 years old n my fiance is 24 years old he press n touch my breast very hardly and after touching he sucks my breast like a child some times he bite my nipple too. Due to his hardly touch I get lost of pain. Is press the breast very hardly can milk come out o what?

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Bundi
Nidaanparivarjan is the quotation in classic ayurveda for all problems meaning avoid the cause. Avoid the situation where you get pain. You can help yourself if it's with your consent. If it is against your consent, law will protect you.
2 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Hello doctor, I had my last period on 24 feb and so I should be almost 8 Week pregnant but ultrasound shows 6 Week. What may be the problem, should I worry? please help.

Diploma in Obstetrics & Gynaecology, MBBS, MD - Community Medicine
Gynaecologist, Lucknow
Hello, it may be due to late conception if you had a normal 28 days cycle. Otherwise also some difference in gestational age and sonography report can be there. It will be clear in next report. The only thing is that fetal cardiac activity is visible after 6-7 weeks of pregnancy. It should be confirmed.
7 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback
View All Feed