Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Book
Call

Dr. Prashant Rane

Orthopedist, Thane

Book Appointment
Call Doctor
Dr. Prashant Rane Orthopedist, Thane
Book Appointment
Call Doctor
Submit Feedback
Report Issue
Get Help
Feed
Services

Personal Statement

To provide my patients with the highest quality healthcare, I'm dedicated to the newest advancements and keep up-to-date with the latest health care technologies....more
To provide my patients with the highest quality healthcare, I'm dedicated to the newest advancements and keep up-to-date with the latest health care technologies.
More about Dr. Prashant Rane
Dr. Prashant Rane is one of the best Orthopedists in Kaushalya Medical Foundation Trust Hospital, Thane. He is currently associated with Vijayalaxmi Maternity Surgical & General Hospital in Kaushalya Medical Foundation Trust Hospital, Thane. Book an appointment online with Dr. Prashant Rane on Lybrate.com.

Lybrate.com has a number of highly qualified Orthopedists in India. You will find Orthopedists with more than 37 years of experience on Lybrate.com. Find the best Orthopedists online in Thane. View the profile of medical specialists and their reviews from other patients to make an informed decision.

Info

Specialty
Languages spoken
English
Hindi

Location

Book Clinic Appointment with Dr. Prashant Rane

Vijayalaxmi Maternity Surgical & General Hospital

A/101-104, Savitapartments,Nallo Taki Virar Road. Landmark: Near Kanchan School, ThaneThane Get Directions
...more
View All

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr. Prashant Rane

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

I am a 46 year old male diagnosed with fibromyalgia. I have been very active and used to play badminton and gym regularly before it all was stopped as I was misdiagnosed with cervical spondylosis. I have been advised to restart gymming and weight training exercises. What all exercises should I avoid and will losing weight help in fibromyalgia. What diets should I avoid?

BPTh/BPT, MPTh/MPT
Physiotherapist, Noida
I am a 46 year old male diagnosed with fibromyalgia. I have been very active and used to play badminton and gym regul...
Hot fomentation x twice daily. Neck exercises. Neck stretching. Postural correction. Shoulder shrugs. Core strengthening exercises. Take frequent breaks at work use cervical pillow. Use back support. Self massage the back of neck.
Submit FeedbackFeedback

From last 7 month (6th month of pregnancy) she is suffering back pain and joint pain. What to do?

BHMS
Homeopath, Faridabad
From last 7 month (6th month of pregnancy) she is suffering back pain and joint pain. What to do?
Hello, she can only take Homoeopathic medicine Five phos 6x, 5 tabs once daily.Alpha MP, 15 drops with warm water when there is more pain.
Submit FeedbackFeedback

My father age 50 years suffer of spine problem last 1.5 year and treatment from gb pant hospital Dr. Ak. Srivastav, I have positive result from Dr. Please tell me what can I do. Dr. Says that spine surgery not success because d4 to d7 not ok.

Dip. SICOT (Belgium), MNAMS, DNB (Orthopedics), MBBS
Orthopedist, Delhi
Hi thanks for your query and welcome to lybrate. I am Dr. Akshay from fortis hospital, new delhi. Please send me your father's reports and doctor's prescription papers so that I can see and advise you accordingly. Do not hesitate to contact me if you need any further assistance.
Submit FeedbackFeedback

I have a continuous pain in the right lower limb, even unable to walk, that portion is hot. Doctor gave me gentamycin, I got relief, but after some month it started again. In the X- ray nothing was found, now doctor is saying for color doppler, some problem in blod vessels.

Bachelor Of Physiotherapy
Physiotherapist, Noida
I have a continuous pain in the right lower limb, even unable to walk, that portion is hot. Doctor gave me gentamycin...
Try to cover your back because of changing climate. Do hot fermentation proper 15 min Have medicine .pregabline if it's unbearable Have warm water in every 30 min. Do prolong stretches. Take rest. Coordinate me after a day take care.
Submit FeedbackFeedback

Hello Doctor, Myself Pankaj 28 Years Old. I Have got injury in my solder while playing. I have got the x rays done but there is no fracture in my solder joint. Since then I feel pain in my solder when I move it. I am applying an ointment over it but no improvement I feel kindly give your suggestions Thanks Pankaj.

(M.D.Accu), Diploma in Naturopathy & Yogic Science YS)
Acupuncturist, Delhi
Hello Doctor,
Myself Pankaj 28 Years Old. I Have got injury in my solder while playing. I have got the x rays done bu...
Use Ice: A majority of shoulder pain is caused by inflamed tendons called the rotator cuff. Ice is a natural remedy for inflammation. Icing your shoulder is best done with your hand behind your back. By placing your hand behind your back, the tendons of the rotator cuff come out from hiding underneath the shoulder bone called the scapula. Use a Thicker Pillow: Many people sleep on their sides. If a pillow is too thin, then the neck and shoulder are poorly supported when sleeping on your side. A good, thick, supportive pillow can make a huge difference when trying to solve shoulder pain.
Submit FeedbackFeedback
Submit FeedbackFeedback

I am suffering from left foot swelling since 3 months. Please let me know what are the causes of swelling and which medicine is required.

DHMS (Hons.)
Homeopath, Patna
I am suffering from left foot swelling since 3 months. Please let me know what are the causes of swelling and which m...
Hello, you are slightly obsessed might cause swelling of foot, other underlying factors of swelling of feet are: • Blockage of lymphatic system. • Inflammation. • infection and lymohodema. • local injury on vein of foot. • Disturbance of kidney, heart & liver. • Gout & arthritis. • Drug abused causes. Thease, factors need to be differentiated to assess the route cause of oedema. Tk, homoeopathic medicine:@ Rhus tox 200-6 pills, thrice. Avoid junk food, alcohol, caffeine & nicotine. Tk care.
Submit FeedbackFeedback

Muscle pain in back so plzz tell me a specific treatment for the problem can't able to sleep at nights. Referred to a family doctor nd problem he told is in muscles near my spinal chord are ruptured. Plzz tell me a solution.

FRHS, Ph.D Neuro , MPT - Neurology Physiotherapy, D.Sp.Med, DPHM (Health Management ), BPTh/BPT
Physiotherapist, Chennai
Muscle pain in back so plzz tell me a specific treatment for the problem can't able to sleep at nights. Referred to a...
Do Take IFT and laser Therapy for pain relief for 12 days followed by strengthening exercise from physiotherapist Best wishes.
Submit FeedbackFeedback

I am feeling very pain in back side while sitting and also ridign bike, whats the problem for this ad I want to know the home remedy for this.

BAMS
Ayurveda, Ambala
I am feeling very pain in back side while sitting and also ridign bike, whats the problem for this ad I want to know ...
Dear you can follow these methods for relief from Backache(back pain): * First correct your sitting posture. Do not bend your lower back.You can use lumber belt for support. * Do regular back strength exercises.Move your clockwise and anticlock wise. * Do not sleep on very soft bed ,sleep on slight hard cotton mattress. * Do Tadasana and Bhjangasana for back strengthening.If you can not understand these asans you can consult me. * Take calcium rich diet and calcium and vitamin D supplements regularly. *Do not Take any heavy weight or heavy work. * If you are over weight then follow a good and effective diet plan to loose some kilos of weight. You can consult me to get a diet chart. * You can take Guggalu tablets of Himalaya for fast relief. You can consult me privately for detailed and complete treatment.
Submit FeedbackFeedback

Spondylitis In Hindi - जाने क्या है स्पोंडिलोसिस की बीमारी

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Spondylitis In Hindi - जाने क्या है स्पोंडिलोसिस की बीमारी

हमारी मॉडर्न लाइफस्टाइल में कुछ बीमारियां ऐसी हैं जो लंबे समय तक हमारा साथ नही छोड़ती। जिनमें से एक है स्पोंडिलोसिस की बीमारी। स्पोंडिलोसिस को हम स्पॉन्डिलाइटिस के नाम से भी जानते है।स्पोंडिलोसिस दो यूनानी शब्द ‘स्पॉन्डिल’ तथा ‘आइटिस’ से मिलकर बना है। स्पॉन्डिल का अर्थ है वर्टिब्रा तथा ‘आइटिस’ का अर्थ सूजन होता है इसका मतलब वर्टिब्रा यानी रीढ़ की हड्डी में सूजन की शिकायत को ही स्पॉन्डिलाइटिस कहा जाता है। इसमें पीड़ित को गर्दन को दाएं- बाएं और ऊपर-नीचे करने में काफी दर्द होता है। स्पोंडिलोसिस की समस्या आम तौर पे स्पाइन यानी रीढ़ की हड्डी को प्रभावित करती है। स्पोंडिलोसिस रीढ़ की हड्डियों की असामान्य बढ़ोत्तरी और वर्टेबट के बीच के कुशन में कैल्शियम की कमी और अपने स्थान से सरकने की वजह से होता है।
आमतौर पर इसके शिकार 40 की उम्र पार कर चुके पुरुष और महिलाएं होती हैं। आज की जीवनशैली में बदलाव के कारण युवावस्था में ही लोग स्पॉन्डिलाइटिस जैसी समस्याओं के शिकार हो रहे हैं। विशेषज्ञों का मानना है कि इस समस्या का सबसे प्रमुख कारण गलत पॉश्चर है, जिससे मांसपेशियों पर दबाव पड़ता है। इसके अलावा शरीर में कैल्शियम की कमी दूसरा महत्वपूर्ण कारण है। एक दशक पहले के आंकड़ों से तुलना करें तो इस बीमारी के मरीजों की संख्या तीन गुनी बढ़ी है। वे युवा ज्यादा परेशान मिलते हैं, जो आईटी इंडस्ट्री या बीपीओ में काम करते हैं या जो लोग कम्प्यूटर के सामने अधिक समय बिताते हैं। अनुमानतः हमारे देश का हर सातवाँ व्यक्ति गर्दन और पीठ दर्द या जोड़ों के दर्द से परेशान लोग मिल जाते हैं।

स्पोंडिलोसिस के प्रकार

शरीर के विभिन्न भागों को प्रभावित करने के आधार पर स्पोंडिलोसिस तीन प्रकार का होता है

1. सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस
गर्दन में दर्द, जो सर्वाइकल को प्रभावित करता है वह सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस कहलाता है। यह दर्द गर्दन के निचले हिस्से, दोनों कंधों, कॉलर बोन और कंधों के जोड़ तक पहुंच जाता है। इससे गर्दन घुमाने में परेशानी होती है और कमजोर मांसपेशियों के कारण बांहों को हिलाना भी कठिन होता है।
2. लम्बर स्पोंडिलोसिस
इसमें स्पाइन के कमर के निचले हिस्से में दर्द होता है।
3. एंकायलूजिंग स्पोंडिलोसिस
यह बीमारी जोड़ों को विशेष रूप से प्रभावित करती है। रीढ़ की हड्डी के अलावा कंधों और कूल्हों के जोड़ इससे प्रभावित होते हैं। एंकायलूजिंग स्पोंडिलोसिस होने पर स्पाइन, घुटने, एड़ियां, कूल्हे, कंधे, गर्दन और जबड़े कड़े हो जाते हैं।

स्पोंडिलोसिस के सिम्पटम्स

  • गर्दन या पीठ में दर्द और उनका कड़ा हो जाना है।
  • यदि आपकी स्पाइनल कोर्ड दब गई है तो ब्लेडर या बाउल पर नियंत्रण खत्म हो सकता है।
  • इस रोग का दर्द हाथ की उंगलियों से सिर तक हो सकता है। उंगलियां सुन्न होने लगती हैं।
  • कंधे, कमर के निचले हिस्से और पैरों के ऊपरी हिस्से में कमजोरी और कड़ापन आ जाता है।
  • कभी-कभी सीने में दर्द होने लगता है और मांसपेशियों में सूजन आ जाती है।
  • स्पोंडिलिसिस का दर्द गर्दन से कंधों और वहां से होता हुआ हाथों, सिर के निचले हिस्से और पीठ के ऊपरी हिस्से तक पहुंच सकता है।
  • छींकना, खांसना और गर्दन की दूसरी गतिविधियां इन लक्षणों को और गंभीर बना सकती हैं।
  • शारीरिक संतुलन गड़बड़ा सकता है और समय बीतने के साथ दर्द का गंभीर हो जाता है।
  • स्पोंडिलोसिस की समस्या होने पर यह सिर्फ जोड़ो तक ही सीमित नहीं रहती। समस्या गंभीर होने पर बुखार, थकान, उल्टी होना, चक्कर आना और भूख की कमी जैसे लक्षण भी दिखाई दे सकते हैं।

स्पोंडिलोसिस होने की अहम वजह

  • भोजन में पोषक तत्वों, कैल्शियम और विटामिन डी की कमी के कारण हड्डियों का कमजोर हो जाना हीस्पोंडिलोसिस होने का सबसे बड़ा कारण है।
  • बैठने या खड़े रहने का गलत तरीका आपको स्पोंडिलोसिस की समस्या का सामना करवा सकता है।
  • बढ़ती उम्र भी एक एहम कारण है स्पोंडिलोसिस होने का।
  • मसालेदार, ठंडी या बासी चीजों को खाने से भी स्पोंडिलोसिस हो सकता है।
  • आलस्य से भरी जीवनशैली आपको आगे चलके स्पोंडिलोसिस की परेशानी दे सकती है।
  • लंबे समय तक ड्राइविंग करना भी खतरनाक साबित हो सकता है।
  • महिलाओं में अनियमित पीरियड्स आना भी एक बड़ी वजह बन सकता है स्पोंडिलोसिस होने का।
  • उम्र बढ़ने के साथ हड्डियों का क्षय होना भी एक कारण है ,अक्सर फ्रैक्चर के बाद भी हड्डियों में क्षय की स्थिति होने लगती है।

स्पोंडिलोसिस से राहत पाने के आसान तरीके

1. सेंधा नमक 
सेंधा नमक में मैग्नीशियम की मात्रा ज्यादा होने से यह शरीर के पीएच स्तर को नियंत्रित करता है और गर्दन की अकड़ और कड़ेपन को कम करता है।
2. लहसुन
आधे ग्लास पानी में दो चम्मच सेंधा नमक मिला कर पेस्ट बना लें और उसे गर्दन के प्रभावित क्षेत्र में लगाएं, या गुनगुने पानी में दो कप सेंधा नमक डाल कर रोजाना स्नान करें, इन दोनों ही तरीकों से काफी फायदा मिलेगा।

3. लहसुन
सुबह खाली पेट पानी के साथ कच्चा लहसुन नियमित खाएं अथवा तेल में लहसुन को पका कर गर्दन में मालिश करें, इससे दर्द में काफी राहत मिलेगी। दरसल लहसुन में दर्द निवारक गुण होता है और यह सूजन को भी कम करता है।

4. हल्दी
हल्दी असहनीय दर्द को खत्म करने में सबसे कारगर दवाई साबित हुई है। इतना ही नहीं यह मांसपेशियों के खिचांव को भी ठीक करता है।
5. तिल के बीज
तिल के गर्म तेल से गर्दन की हल्की मालिश 5 से 10 मिनट तक करें, फिर वहां गर्म पानी की पट्टी डालें, या आप एक ग्लास गुनगुने दूध में एक चम्मच हल्दी डाल कर पीएं, दर्द से निजात मिलेगी और गर्दन की अकड़ भी कम होगी। तिल में कैल्शियम, मैग्नीशियम, मैगनीज, विटामिन के और डी काफी मात्रा में पाई जाती है जो हमारे हड्डी और मांसपेशियों के सेहत के लिए काफी जरुरी है। स्पांडलाइसिस के दर्द में भी तिल काफी कारगर है।

आराम पाने के अन्य तरीके

  • पौष्टिक भोजन खाएं, विशेषकर ऐसा भोजन जो कैल्शियम और विटामिन डी से भरपूर हो।
  • चाय और कैफीन का सेवन कम करें।
  • पैदल चलने की कोशिश करें। इससे बोन मास बढ़ता है और शारीरिक रूप से एक्टिव रहें।
  • नियमित रूप से व्यायाम और योग करें।
  • हमेशा आरामदायक बिस्तर पर सोएं। इस बात का ध्यान रखें कि बिस्तर न तो बहुत सख्त हो और न ही बहुत नर्म।
  • स्पोंडिलोसिस से पीड़ित लोग गर्दन के नीचे या पैरो के नीचे तकिया रखने की आदत से बचें। 
View All Feed