Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Call Clinic
Book Appointment
Kashyap Clinic Pvt. Ltd., Pune

Kashyap Clinic Pvt. Ltd.

Sexologist Clinic

No.30 Nawab Yusuf Road, Near Pani Tanki - Civil Lines Pune
1 Doctor · ₹250 · 1 Reviews
Book Appointment
Call Clinic
Kashyap Clinic Pvt. Ltd. Sexologist Clinic No.30 Nawab Yusuf Road, Near Pani Tanki - Civil Lines Pune
1 Doctor · ₹250 · 1 Reviews
Book Appointment
Call Clinic
Report Issue
Get Help
Reviews
Services
Feed

About

By combining excellent care with a state-of-the-art facility we strive to provide you with quality health care. We thank you for your interest in our services and the trust you have place......more
By combining excellent care with a state-of-the-art facility we strive to provide you with quality health care. We thank you for your interest in our services and the trust you have placed in us.
More about Kashyap Clinic Pvt. Ltd.
Kashyap Clinic Pvt. Ltd. is known for housing experienced Sexologists. Dr. B K Kashyap, a well-reputed Sexologist, practices in Pune. Visit this medical health centre for Sexologists recommended by 83 patients.

Timings

MON-SUN
01:00 PM - 08:00 PM

Location

No.30 Nawab Yusuf Road, Near Pani Tanki - Civil Lines
Talegaon Pune, Uttar Pradesh - 211001
Click to view clinic direction
Get Directions

Photos (10)

Kashyap Clinic Pvt. Ltd. Image 1
Kashyap Clinic Pvt. Ltd. Image 2
Kashyap Clinic Pvt. Ltd. Image 3
Kashyap Clinic Pvt. Ltd. Image 4
Kashyap Clinic Pvt. Ltd. Image 5
Kashyap Clinic Pvt. Ltd. Image 6
Kashyap Clinic Pvt. Ltd. Image 7
Kashyap Clinic Pvt. Ltd. Image 8
Kashyap Clinic Pvt. Ltd. Image 9
Kashyap Clinic Pvt. Ltd. Image 10
View All Photos

Doctor in Kashyap Clinic Pvt. Ltd.

Dr. B K Kashyap

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Sexologist
Get ₹125 cashback on this appointment (No Booking Fee)
87%  (10 ratings)
18 Years experience
250 at clinic
₹300 online
Available today
01:00 PM - 08:00 PM
View All
View All

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Kashyap Clinic Pvt. Ltd.

Your feedback matters!
Write a Review

Reviews

Popular
All Reviews
View More
View All Reviews

Feed

सेक्स को लेकर भ्रम लोगों के मन में अक्सर रहता है आइये जाने!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Sexologist, Pune
सेक्स को लेकर भ्रम लोगों के मन में अक्सर रहता है आइये जाने!

 सेक्स को लेकर भ्रम लोगों के मन में अक्सर रहता है
 

आइये जाने 

संभोग करने की स्थिति से दर्द का कुछ नाता है ऎसे कुछ भ्रम लोगों के मन में अक्सर रहते हैं। कैसे आप इस दर्द से निजात पाकर सेक्स संबंधों का आनंद ले सकते हैं और अपने रिश्तों को सामान्य बना सकते हैं। संभोग के दौरान होने वाले दर्द को मेडिकल की भाषा में दाईस्पेरेनिया कहते हैं। यह ऎसा दर्द है जो एक बार होने पर बार-बार हो सकता है और इस दर्द का असर महिला-पुरूषों के रिश्ते पर बहुत बुरा पड़ता है ।
क्यों होता है दर्द   

वास्तव में पहली बार सेक्स के समय महिलाओं को होने वाले दर्द का मुख्य कारण योनि का बहुत ज्यादा टाइट होना है।  ऎसा तब होता है जब योनि में लुब्रिकेंट न होना से मांसपेशियां खिंच जाती हैं और उनमें सूजन आ जाती है। ऎसी स्थिति में संभोग के समय महिला को बहुत अधिक दर्द होता है। ऎसा उन महिलाओं यों के साथ होने की संभावना रहती है जो सेक्स संबंधों को बहुत बुरा मानती हैं और संभोग के समय पुरूष के साथ सहयोग नहीं करती। इसका मनोवैज्ञानिक असर ये होता है कि संभोग के समय योनि की मांसपेशिया सिकुड़ जाती हैं और तेज दर्द होता है।
ऐसे में किसी भी लुब्रिकेंट युक्त ( GEL या OIL ) का भी प्रयोग कर सकते है

योनि में किसी भी तरह का इंफेक्शन भी संभोग के समय दर्द का एक बहुत बडा कारण है । अक्सर योनि के आकार में परिवर्तन हो जाता है जिसे एंड्रियोमेट्रियोसिस कहते हैं। यदि आपको भी संभोग के दौरान दर्द होता है तो आपको तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। संभोग के दौरान होने वाले दर्द का एक मनोवैज्ञानिक कारण भी है।

सेक्स को लेकर मन में डर बैठ जाता है

लड़कियों की परवरिश बचपन से ही इस तरह से की जाती है कि सेक्स को लेकर उनके मन में डर बैठ जाता है। वह सेक्स के नाम से ही घबराने लगती हैं और उन्हें अपनी किशोरावस्था और युवावस्था के दौरान यह भी सुनने को मिलता है कि पहली बार किया गया संभोग बहुत कष्टदायक होता है और इस दौरान खूब ब्लीडिंग भी होती है। लंबे समय तक यह भी माना जाता रहा है कि यदि पहली बार संभोग के दौरान ब्लीडिंग न हो तो लडकी पहले सेक्स कर चुकी है। ये तमाम बातें लडकी के मन में मनोवैज्ञानिक रूप से संभोग के प्रति डर पैदा कर देती है और इस तरह की लडकियों को पहली बार संभोग के दौरान अक्सर दर्द की शिकायत होती है।

दर्द न हो इसके लिए क्या करना चाहिए  

यदि आप चाहते हैं कि आपको संभोग के दौरान दर्द ना हो तो आपको कुछ सेक्स पोजीशंस का इस्तेमाल पहली बार संभोग के दौरान करना चाहिए और आपको अपने मन से संभोग में होने वाले दर्द व अन्य मिथों को दूर कर देना चाहिए। इन सबके बावजूद भी आपको संभोग के दौरान दर्द से गुजरना पड रहा है तो आप डॉक्टर की सलाह लें।

सेक्स संबध को बेहतर बनानें के लिए करें यह उपाय!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Sexologist, Allahabad
सेक्स संबध को बेहतर बनानें के लिए करें यह उपाय!

  सेक्स संबध को बेहतर बनानें के लिए करें यह उपाय 
   आइये जाने 

क्या आपको पता है की आप सेक्स थेरेपी से आप अपनी सेक्स लाइफ को पहले से बेहतर बना सकते है. सेक्स थेरेपी का इस्तेमाल सेक्स और रिलेशनशिप संबंधी समस्याओ को सुलझाने के लिए किया जाता है. ज्यादातर सेक्स समस्याओ का सम्बन्ध मानसिक परेशानियों से होता है. जिन्हें सेक्स थेरेपी की मदद से सुलझाया जाता है, सेक्स थेरेपी के लिए आपको हमेशा पार्टनर की ज़रूरत नहीं पड़ती है. तो आइये जानते हैं सेक्स थेरेपी के बारे में कुछ अहम बातें.

इसे चिकित्सा उपचार के लिए एक पूरक के रूप में भी उपयोग किया जाता है. दूसरे शब्दों में कहा जाए तो सेक्स थेरेपी मनोचिकित्सा का एक प्रकार है, जो कि एक मानसिक स्वास्थ्य प्रदाता के साथ बात करके मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं के इलाज के लिए दिया जाता है. सेक्स थैरेपी में किसी भी प्रकार का कोई शारीरिक संबंध नहीं बनाया जाता है.

सेक्स थेरेपी की मदद से यौन क्रियाओं, यौन भावनाओं और अंतरंगता के बारे में होने वाली चिंताओं को दूर किया जा सकता है. यह किसी व्यक्ति को व्यक्तिगत चिकित्सा या उसके साथी के साथ संयुक्त चिकित्सा में दी जा सकती है. सेक्स थेरेपी किसी भी उम्र, लिंग या यौन अभिविन्यास के वयस्कों के लिए कारगर हो सकती है.

सेक्स थेरेपी आमतौर पर मनोवैज्ञानिकों, सामाजिक कार्यकर्ता, चिकित्सकों या लाइसेंस प्राप्त चिकित्सकों जिन्हें सेक्स और संबंधों से संबंधित मुद्दों में विशेष प्रशिक्षण प्राप्त हो, द्वारा प्रदान की जाती है. प्रमाणित सेक्स चिकित्सक स्नातक डिग्री प्राप्त होते हैं, 

चिकित्सक आपको अपने साथी के साथ कुछ सामान्य से मगर प्रभावी एक्सरसाइज व टास्क करने की सलाह दे सकता है. ये सामान्य सी एक्सरसाइज और टास्क होते हैं, जिनमें ज्यादा शारीरिक ताकत की जरूरत नहीं होती है. मूल रूप से ब्रीदिंग एक्सरसाइज करायी जाती हैं.

प्रत्येक चिकित्सा सत्र पूरी तरह से गोपनीय होता है और आपके और चिकित्सक के बीच ही रहती है. तो आप खुल कर बिना कोई शर्म किये अपनी हर प्रकार की सेक्स समस्याएं को चिकित्सक से साझा कर सकते हैं, क्योंकि ये जानकारियां चिकित्सा की दृष्टी से महत्वपूर्ण होती हैं.

आप खुद भी सेक्स चिकित्सक से मिल सकते हैं, लेकिन यदि अपकी समस्या आपके पार्टनर को प्रभावित कर रही है, तो बेहतर होगा कि आप दोनों ही चिकित्सा सत्र में भाग लें.

सेक्स थेरेपी के अंतर्गत निम्न समस्याओं का समाधान किया जा सकता है- यौन इच्छा या उत्तेजना के बारे में चिंताएं, यौन हितों या यौन अभिविन्यास के बारे में चिंताएं, कंप्सिव सेक्स बिहेवियर, स्तंभन दोष, शीघ्रपतन, दर्दनाक संभोग तथा किसी पुराने यौन आघात के बारे में चिंताएं आदि। सेक्स थेरेपी के माध्यम से, आप स्पष्ट रूप से अपनी चिंताओं को व्यक्त करने के लिए सीख सकते हैं. साथ ही सेक्स थेरेपी की मदद से आप अपनी व अपने साथी की यौन जरूरतों को बेहतर ढ़ंग से समझ पाते हैं.

 

 

2 people found this helpful

सेक्स लाइफ को कैसे मधुर बनायें आइये जाने!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Sexologist, Allahabad
सेक्स लाइफ को कैसे मधुर बनायें  आइये जाने!

सेक्स लाइफ को कैसे मधुर बनायें  आइये जाने!

आज की इस तेज रफ्तार भरी जिंदगी में अगर पति-पत्नी दोनों कामकाजी हों तो एक-दूसरे के साथ बैठने और बातचीत के लिए भी समय निकालना मुश्किल हो जाता है । इसका सीधा असर पड़ता है उनकी सेक्स लाइफ पर । 
लंबे समय तक सेक्स के प्रति उदासीनता धीरे-धीरे वैवाहिक जीवन पर असर डालने लगती है । नतीजा होता है आपसी कड़वाहट और रिश्तों में तनाव । सेक्स के सिंपल टिप्स अपनाकर आप अपनी सेक्स लाइफ को बेहतर और लुभावना बना सकते हैं । आइए जाने ऐसी ही कुछ बातें जिनसे आप अपनी सेक्स लाइफ को मधुर बना सकते हैं।

• नियमित सेक्स 
 

यह सच है कि तनाव और थकान का पति-पत्नी के यौन जीवन पर बुरा असर पड़ता है, मगर वहीं यह भी सच है कि सेक्स ही आपके जीवन में पैदा होने वाले दबावों और परेशानियों से जूझने का टॉनिक भी बनता है । इसलिए कोशिश करें कि सप्ताह में तीन बार तक सेक्स संबंध जरूर बनाये, इससे आपकी सेक्स लाइफ मधुर होगी ।

 • रिश्तों में निकटता लाये
 

सिर्फ स्वास्थ्य ही नहीं सेक्स का असर आपसी रिश्तों पर भी पड़ता है । रिश्तों  में निकटता लाकर पति-पत्नी सेक्स लाइफ को मधुर बना सकते है, उनके पास आपस में एक-दूसरे से कहने लिए बहुत कुछ होता है इसलिए ज्यादा से ज्यादा बातें करें, 

• सेक्स ऐसा जिसे दोनों एंज्वाय करें
 

मनोचिकित्सकों का मानना है कि जीवन में सकारात्मक ऊर्जा लाने के लिए ऐसा सेक्स जरूरी है जिसे पति-पत्नी दोनों एंज्वाय करें। इसके लिए जरूरी है कि इसे एक मशीनी क्रिया में बदलने की बजाय दिलचस्प बनाने पर जोर दिया जाए । इसमें फोरप्ले और कल्पनाशीलता की अहम भूमिका होती है। दरअसल यही आपको तनाव से मुक्त करता है और एक-दूसरे के करीब लाता है। सेक्स के दौरान सिर्फ एक-दूसरे के अंगों को सहलाकर और चूमकर शिथिलता दूर की जा सकती है। आपस में मधुर बातें, ओरल सेक्स या हस्तमैथुन के जरिए रुटीन की सेक्स लाइफ को ज्यादा स्पाइसी बनाया जा सकता है । 
 

• अपने साथी को समय दें
 

शादी के कुछ सालों बाद कुछ जोड़े पाते हैं कि सहवास और दृढ़ता अपनी वास्तविक चमक खोती जा रही है साथ ही दिन-ब-दिन सहवास करना सिर्फ एक रुटीन उद्देश्य रह जाता है. इसलिए अपने साथी को पूरा-पूरा टाइम दें, इसका सबसे बेहतर तरीका है कि पॉजिटिव प्रयासों से अपने पार्टनर को बहकाएं,
 

• अच्छी तरह बढ़ कर तैयारी करें 
 

यदि आप बाहर खाना या फिल्म देखने का मन बनाते हैं तो यह एक बेहतर अवसर है जहां आप एंज्वाय करेंगे. बहलाने का कोई भी मौका मिलता है तो उसे न छोड़ें । यही स्थिति ऐसी होगी जब आपका पार्टनर सहजता से सोचेगा कि आप उसे कितना चाहते हैं। कभी-कभी उसे उपहार भी दें । जैसे उसकी बगैर जानकारी के उसके लिये उसका पसंदीदा परफ्यूम लाकर दें या फिर कोई सहवासी सा अण्डरवियर उसे गिफ्ट करें । ऐसे में जब भी वह इनका प्रयोग करेगी आपको याद करे रोमांचित होगी ।
 

• आपस में छेड़छाड़ करें
 

आपसी छेड़छाड़ दो प्रेमियों के बीच का महत्वपूर्ण फोरप्ले होती है । इस दौरान धीमी लाइट जलाकर कोई पसंदीदा संगीत चालू कर लें । छेड़छाड़ के बीच-बीच में एक दूसरे को किस करने का मौका न गंवाएं साथ ही एक दूसरे से चिपक कर लेटे,इस दौरान पूरी सौम्यता बरते न कि सीधे सेक्सक के लिए उन्मुख हो जाएं। इससे सेक्सक लाइफ में मधुरता आएगी ।  

 

 

1 person found this helpful

इरेक्टाइल डिस्फंक्शन से बचने के लिए क्या करें ?

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Sexologist, Allahabad
इरेक्टाइल डिस्फंक्शन से बचने के लिए क्या करें ?

इरेक्टाइल डिस्फंक्शन से बचने के लिए क्या करें ?
 

आइये कुछ खाश बाते जाने 

इरेक्टाइल डिस्फंक्शन के कारण आपका यौन जीवन प्रभावित होता है । इस समस्या के दौरान पुरुषों को इरेक्शन होने में परेशानी होती है । आप कुछ तरीकों के जरिए इरेक्टाइल डिस्फंक्शन से बच सकते हैं ।
इरेक्टाइल डिस्फंक्शन एक यौन समस्या है जो कि किसी भी पुरुष के साथ हो सकती है। इसके दौरान पुरुषों को इरेक्शन होने में परेशानी होती है । उम्र बढ़ने के साथ इस समस्या की संभावनाएं बढ़ जाती हैं । इरेक्टाइल डिस्फंक्शन के कारण आपका यौन जीवन प्रभावित होता है और आपको अपने प्रेम संबंधों के दौरान शर्मिंदगी महसूस करनी पड़ सकती है । बहुत से लोग इस समस्या को किसी के साथ साझा नहीं करते, यहां तक कि वो अपने पार्टनर के साथ इस बात को शेयर करने से कतराते हैं । इस कारण समस्या का समाधान और मुश्किल हो जाता है । इसलिए बेहतर है कि आप इस समस्या से बचने और निजात पाने के लिए कुछ तरीकों को अपनाएं या किशी अच्छे सेक्सोलोजिस्ट सेकाउंसलिंग करे । 
एल्कोहल का सेवन कम कर दें
एल्कोहल का सेवन जहां आपकी सेक्सुअल डिजायर को बढ़ाता है वहीं आपकी परफॉर्मेंस को कम कर देता है । इसलिए अत्यधिक मात्रा में शराब का सेवन ना करें । यह आपकी लव लाइफ के लिए खतरा हो सकती है ।

धमनियों के स्वास्थ्य पर ध्यान दें
 

अगर आपको कोलेस्ट्रॉल की समस्या है तो इस कारण भी इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की समस्या हो सकती है । कोलेस्ट्रॉल बढ़ जाने के कारण आपकी धमनियां सिकुड़ने लगती हैं जिससे आपके गुप्तांगमें रक्त का प्रवाह नहीं हो पाता और दूसरा ट्रेसटोस्ट्रोन की कमी  होनेलगती है जीसके कारण इरेक्शन होने में दिक्कत होती है । इसलिए कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित रखें और धमनियों के स्वास्थ्य पर ध्यान दें । 
धूम्रपान ना करें
 

सिगरेट का सेवन भी आपका यौन जीवन बिगाड़ सकता है। सिगरेट में मौजूद निकोटीन आपकी रक्त धमनियों को सिकोड़ देता है जिससे आपको निजी अंगों में रक्त पर्याप्त मात्रा में नहीं पहुंच पाता है और इसी कारण इरेक्शन नहीं होता है !

वजन नियंत्रित रखें
 

शोधकरता  बताते हैं कि जो लोग मोटापे का शिकार होते हैं उन्हें इरेक्शन में अधिक दिक्कत होती है । इसलिए बेहतर है कि आप स्वस्थ वजन रखें। इसके लिए आप नियमित रुप से एक्सरसाइज करें, साथ ही आप सही आहार भी ले सकते हैं । इससे ना केवल आप इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की समस्या कम होगी बल्कि आपका संपूर्ण स्वास्थ्य स्वस्त बना रहता है ।
 

साइकिल ज्यादा ना चलाएं
 

अधिक साइकिल चलाने से  और टाइट अंडरवियर या अधिक लंगोट पहनने वालो को प्यूबिक एरिया में अधिक दबाव पड़ता है जिसके कारण रक्त धमनियों और नसों में रक्त का प्रवाह ठीक प्रकार से नहीं होता है । इस कारण लिंग तक पर्याप्त मात्रा में रक्त नहीं पहुंचता और यही इरेक्टाइल डिस्फंक्शन का कारण बनता है।

नियमित रुप से यौन संबंध बनाए
 

अगर आप नियमित रुप से यौन संबध बनाते हैं तो इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की समस्या नहीं होती । इसलिए सप्ताह में एकया एक  बार से अधिक यौन संबंध जरुर बनाएं । 
 

आइये जानें क्या है व्यक्तित्व व सेक्स के बीच संबंध!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Sexologist, Allahabad
आइये जानें क्या है व्यक्तित्व व सेक्स के बीच संबंध!

आइये जानें क्या है व्यक्तित्व व सेक्स के बीच संबंध
                

यौन इच्‍छा आदमी की जरूरत है और मनोविकार उसमें बाधा। व्‍यक्तित्‍व विकार यानी कि पर्सनालिटी डिसार्डर ऐसी बीमारी है जिसमें आदमी अपनी शख्सियत भूल जाता है। इसमें आदमी अपने व्‍यक्तिगत संबंधों को लेकर बहुत ही अनिश्चित हो जाता है। इस बीमारी से ग्रस्‍त लोग अपनी फीलिंग्‍स पर काबू नही रख पाते हैं। बीपीडी से ग्रस्‍त व्‍यक्ति में सेक्‍स को लेकर इस प्रकार के कुछ लक्षण दिखाई देते हैं। सेक्‍स संबंध बनाते वक्‍त ज्‍यादा एक्‍साइटेड होना, ज्‍यादातर अलग-अलग पार्टनर के साथ यौन संबंध बनाना, कई दिनों तक यौन संबंध बनाने की इच्‍छा न होना, अजनबियों से शारीरिक संबंध बनाना, रेप का शिकार होना आदि।
पर्सनालिटी डिसॉर्डर होने पर ऐसा भी हो सकता है कि आदमी के अंदर यौन संवेदनायें पैदा ही न हों और ऐसी स्थिति भी आ सकती है वह बार-बार सेक्‍स संबंध बनाने की इच्‍छा जताये । आइए हम आपको बताते हैं कि पर्सनालिटी डिसॉर्डर और सेक्‍स एक-दूसरे को कितना प्रभावित करते हैं ।
यह एक दिमागी बीमारी है जिसमें आदमी सोचने और समझने की शक्ति खो देता है । सामान्‍य शब्‍दों में कहा जाये तो व्‍यक्तित्‍व विकार ऐसा रोग है जिसमें आदमी सामान्‍य स्थितियों में भी बेतुकी बहस करता है ।
दूसरे की बातें गलत लगती हैं और आदमी अपनी बात को मनवाने की कोशिश करता है। व्यक्तित्व विकार का पता अक्सर भावनात्मक प्रतिक्रियाओं से लगाया जा सकता है। व्यक्ति की भावनात्मक तरीके में प्रतिक्रिया व्यक्त करने की प्रवृत्ति अलग होती है।
व्‍यक्तित्‍व विकार से ग्रस्‍त आदमी अपनी भावनाओं पर काबू नही रख पाता है। सार्वजनिक जगहों पर इंटीमेसी दिखाने में भी उसे कोई दिक्‍कत नही होती है।
ऐसे लोग बड़ी जल्‍दी सेक्‍सुअल पार्टनर भी ढूंढ़ लेते हैं। अक्‍सर इस बीमारी से ग्रस्‍त लोगों के सेक्‍सुअल पार्टनर अलग-अलग होते हैं।
इस बीमारी से ग्रस्‍त लोग एक महिला या पुरुष के साथ यौन संपर्क बनाने से बचते हैं। ऐसे लोग एक पार्टनर के ज्‍यादा करीब भी आने की कोशिश नही करते हैं।
ऐसे लोगों को सेक्‍स आकर्षित नही कर पाता है । इस बीमारी से ग्रस्‍त लोग कई दिनों तक सेक्‍स संबंध भी नही बनाते हैं।
ऐसे लोग यौन इच्‍छा की पूर्ति के लिए ज्‍यादातर अजनबियों के प्रति आकर्षित होते हैं । महिलायें हर बार नए पार्टनर की तलाश करती हैं।
बार-बार एक जैसा माहौल और पुराने लागों की संगत से दूर भागते हैं। पुरानी जगहों पर बार-बार जाने से बचते हैं ।
व्‍यक्तित्‍व विकार से ग्रस्‍त लोग एकांत गतिविधियों में लिप्‍त रहना पसंद करते हैं। लोगों के संपर्क में आने से कतराते हैं और मेलजोल करने से बचते हैं।
इस बीमारी से ग्रस्‍त आदमी को सेक्‍स क्रियायें उत्‍तेजित नही करती हैं क्‍योंकि दिमाग काम करना बंद कर देता है और यौन संकेतों को समझने में दिक्‍कत होती है।
बॉर्डरलाइन पर्सनालिटी से ग्रस्‍त लोग यौन संबंध बनाते वक्‍त अचानक ज्‍यादा एग्रेसिव हो सकते हैं और पार्टनर का रेप भी कर सकते हैं।
व्‍यक्तित्‍व विकार से ग्रस्‍त महिलायें अक्‍सर किसी अजनबी आदमी से रेप का शिकार होती हैं क्‍योंकि वो अपनी भावनाओं को काबू नही कर पाती और अनजान व्‍यक्ति यौन संबंध बना लेती हैं।
ऐसे लोग होमोसेक्‍सुअल गतिविधियों में भी लिप्‍त रहते हैं। ऐसी स्थिति महिलाओं में ज्‍यादा देखी जाती है। महिलायें पुरुषों की तुलना में महिलाओं के साथ यौन संबंध बनाती है 
बॉर्डरलाइन पर्सनालिटी से ग्रस्‍त लोग रिश्‍तों को ज्‍यादा दिनों तक बनाये रखने में सफल नही होते हैं। मानसिक विकार के कारण ऐसे लोगों में अलगाव बहुत जल्‍दी हो जाता है। पुरुषों की तुलना में महिलायें इस बीमारी का ज्‍यादा शिकार होती हैं ।

3 people found this helpful

कंडोम चुनते समय कुछ खास बातों का रखें खयाल !

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Sexologist, Allahabad
कंडोम चुनते समय कुछ खास बातों का रखें खयाल !

कंडोम चुनते समय कुछ खास बातों का रखें खयाल 

कंडोम खरीदते वक्त जरूरी है कि आपको इसके बारे में पूरी जानकारी हो। इसलिए यहां कुछ खास टिप्स दिए जा रहे हैं जो सही कंडोम चुनने में आपकी मदद करेंगे।
 

1. कंडोम का चुनाव
कंडोम कई प्रकार के साइज में उपलब्ध होता है। ज्यादातर कंडोम लैटेक्स और पोलीस्प्रीन के बने होते हैं। कंडोम के चुनाव के वक्त कई बातें ध्यान में रखनी पड़ती है क्योंकि सवाल आपकी सेक्स लाइफ का है। आइए जानें कैसे करें कंडोम का चुनाव 
 

2. साइज ध्यान में रखें
कंडोम का चुनाव करते समय साइज को ध्यान में रखना ना भूलें। अगर  आपने गलत साइज का कंडोम खरीद लिया है तो यह सेक्स के दौरान  आपको काफी परेशानी हो सकती है। इस परेशानी से बचने के लिए कंडोम खरीदते समय साइज को जरूर ध्यान में रखें।
 

3. कलरफुल कंडोम
आजकल बाजार में कई प्रकार के रंगीन कंडोम उपलब्‍ध हैं। कई लोगों को यह भ्रम होता है कि कण्‍डोम का प्रयोग करने से सेक्‍स का आनंद समाप्‍त हो जाता है, किंतु वास्‍‍तविकता इससे अलग है। कंडोम का इस्‍तेमाल सेक्‍स क्षमता या उसके आनंद पर कोई नकारात्‍मक प्रभाव नहीं डालता, बल्कि यह आपको सुरक्षित रखता है।
 

4.महिलाओं के लिए
आमतौर पर यह माना जाता है कि कण्‍डोम केवल पुरुषों के लिए है और इसका प्रयोग वे ही कर सकते हैं, लेकिन ऐसा नहीं है। आजकल बाजार में महिलाओं के लिए भी कण्‍डोम उपलब्‍ध हैं। ये कंडोम भी उतने ही सुरक्षित और प्रयोग में सरल हैं, जितने कि आमतौर पर मिलने वाले पुरुष कण्‍डोम होते हैं। यदि पुरुष को कंडोम का प्रयोग करने में समस्‍या है तो महिला कंडोम का प्रयोग आसानी से कर सकती है।
 

5.फ्लेवर कंडोम
बाजार में कई प्रकार के फ्लेवर्स के कंडोम उपलब्‍ध हैं। आप अपने साथी की पसंद का ध्‍यान रखते हुए कंडोम का चुनाव कर सकते हैं। ये नए फ्लेवर्स आपके सेक्‍स को और भी अधिक रोमांचक बना सकते हैं और आपको पार्टनर को और भी रोमांचित कर सकते हैं।

सेक्स में क्यों जरूरी हैं गैप !

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Sexologist, Allahabad
सेक्स में क्यों जरूरी हैं गैप !

               Why Space is Important to Our Sex 
                        ( सेक्स में क्यों जरूरी हैं गैप )
 

सेक्स सिर्फ शारीरिक संबंध ही नहीं बल्कि मानसिक संबंध भी होता है। सेक्स के दौरान आप मानसिक रूप से भी एक दूसरे से जुड़ाव महसूस करते हैं। कई शोधों के मुताबिक, आप सेक्स उसी व्यक्ति के साथ कर सकते हैं जिससे आप मानसिक और भावनात्मक रूप से जुड़े हों। आपको चाहिए‍ कि आप जब बहुत गुस्से में हो या फिर आपके अपने पार्टनर से तनाव चल रहा हो तो उस दौरान सेक्स ना करें। अन्यथा आपको इसके नुकसान उठाने पड़ सकते हैं। हाल ही में आए एक शोध में यह भी बात सामने आई है कि सेक्स में गैप होना जरूरी है यानी रोजाना सेक्स के आपको नुकसान उठाने पड़ सकते हैं। अब सवाल ये उठता है कि वे कौन से कारण हैं जिनसे सेक्स में गैप होना जरूरी है। आइए जानें, सेक्स में क्यों जरूरी है गैप।

यह तो सभी जानते हैं सेक्स के जरिए आप चुस्त-दुरूस्त रह सकते हैं ।
यदि आप अपने पार्टनर से स्वस्थ रिश्ते‍ चाहते हैं तो आपके सेक्सुअल रिलेशंस का ठीक होना भी बहुत जरूरी हो जाता है।
सेक्स करने के फायदे बहुत हैं लेकिन इसके कुछ नुकसान भी आपको उठाने पड़ सकते हैं
सेक्स में क्यों जरूरी है गैप
हार्मोंस का संतुलन बनाए रखने के लिए सेक्स रोजाना ना करें- महिलाओं में शादी के बाद हार्मोंस में बदलाव होता है, ऐसा सेक्सुअल रिलेशंस के कारण होता है। यदि आप चाहते हैं कि आपको कोई शारीरिक समस्या ना हो तो आपको बीच-बीच में सेक्स करना बंद कर देना चाहिए।
बोरियत से बचने के लिए रोजाना ना करें सेक्स- इंसान की स्वाभाविक प्रवृति होती है कि वह एक ही चीज से जल्दी ही बोर हो जाता है, ऐसे में यदि आप अपने संबंधों को रोमांचक बनाना चाहते हैं तो आपको सेक्स रोजाना नहीं करना चाहिए। कुछ दिनों बाद सेक्स से आपके बीच प्यार भी अधिक बढेगा और आप अपने पार्टनर को अपने और करीब महसूस करेंगे।
माहवारी के दौरान ना करें सेक्स- महिलाओं को मासिक धर्म के दौरान कई बार बहुत परेशानियां होती हैं तो कई बार महिलाएं बीमार भी पड़ जाती हैं। जिन महिलाओं को मासिक धर्म के दौरान थोड़ा सा भी दर्द होता है उन्हें माहवारी के दौरान सेक्स करने से बचना चाहिए। अन्यथा उनको कोई गंभीर बीमारी होने का खतरा बढ़ सकता है।
इंफेक्शन होने पर ना करें सेक्स- कई बार आपको सेक्सुअल संबंधी संक्रमण एसटीडी (सेक्सुअल ट्रांसमिटेड डीजीज) और एसटीआई (सेक्सुअल ट्रांसमिटिड इंफेक्शन) हो तो आपको सेक्स करने से बचना चाहिए, अन्यथा ऐसे इंफेक्शंस आपके पार्टनर को भी हो सकता है।
मानसिक रूप से स्वस्थ ना होने पर ना करें सेक्स- यदि आपका साथी मानसिक रूप से अस्वस्थ है या फिर वह बहुत चिंता, तनाव या किसी बड़ी समस्या से गुजर रहा है तो आपको सेक्स करने से बचना चाहिए।
किसी भी वक्त ना करें सेक्स– कई बार आपका अचानक दिन में सेक्स करने का मूड करता है लेकिन ठीक इसके विपरीत आपका साथी इसके लिए तैयार नहीं तो आपको सेक्स करने से बचना चाहिए या फिर अपने साथी को पहले इसके लिए तैयार करना चाहिए और उसके बाद ही आराम से सेक्स करना चाहिए।

5 people found this helpful

हस् तमैथुन या की लत से कैसे पाए छुटकारा आइये जाने !

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Sexologist, Allahabad
हस् तमैथुन या की लत से कैसे पाए छुटकारा आइये जाने !

  हस्‍तमैथुन या  (Masterbation) की लत से कैसे पाए छुटकारा आइये जाने 
 

लड़के अक्सर कम उम्र में विपरित लिंग के प्रति आकर्षिण के चलते हस्‍तमैथुन की आदत डाल लेते हैं। लेकिन ये आदत यदि लत बन जाए तो बेहद हानिकारक हो सकती है।

1. आकर्षण वाला समय

अक्सर लालच तभी आता है जब हम कमजोर होते हैं, जब हम पर दबाव होता है या हम नाराज, या उदास होते हैं । तो आप ऐसे मौकों के लिए पहले ही एक रणनिती बना कर दिमाग में डाल लें, और इस आकर्षण वाले समय में खुद के लिए तैयार रक्षा विकल्पों में लग जाएं। जब आप इस स्थिति में खुद को व्यस्त कर लेते हैं तो इस लत से जल्द ही छुटकारा मिल जाता है।

2. दृढ़ संकल्प और इच्छा शक्ति

दृढ़ संकल्प से आप हस्‍तमैथुन की लत छोड़ सकते हैं। इसके साथ ही जब भी हस्तमैथुन की इच्छा हो तब अपना ध्यान किसी अन्य काम में लगा लें या कोई अच्छा साहित्य पढ़ें या फिर अपनी पसंद का कोई और काम करने लग जाएं। कुल मिलाकर अपना दिमाग कुछ सकारात्मक कामों में लगाएं।

3. हस्‍तमैथुन की लत के नुकसान

बहुत ज्यादा हस्तमैथुन करने से लिंग के ऊतक में चोट पहुंचती है और ये ऊतक क्षतिग्रस्त हो जाते है, जिससे लिंग के बड़े प्रकोष्ट (कार्पस केवेरनोसम) में रक्त जमा नहीं हो पता और लिंग में उत्तेजना बंद हो जाती है। कभी-कभी तो इसके कारण गंभीर स्थिति पैदा हो सकती है, जिसमें व्यक्ति को उत्तेजना आना हमेशा के लिए समाप्त हो जाती है और व्यक्ति नपुंसक हो जाता है। कुछ लोगों में यही लत विवाह के बाद भी बनी रहती है और वे शर्मिंदा होते हैं। अति-उत्तेजना से लिंग को चोट भी लग सकती है और नसों पर अधिक दवाब पड़ सकता है।
4. ये ना हो पुरस्कार
जिस लत को आप छोड़ रहे हैं, उसी के जरिये खुद को पुरस्कृत न करें। मतलब यदि आप हस्‍तमैथुन की लत से उबर रहे हैं और 2 से 3 हफ्तों तक आपने हस्‍तमैथुन पर काबू रख लिया है तो ये न सोचें की अब इतने समय आपने इस लत पर काबू कर लिया है, जिसका पुरस्कार आप हस्तमैथुन कर, खुद को देंगे।यदि आप लत को छोड़ रहे हैं तो फिर इससे पूरी तरह बाहर आएं, खुद के लिए चोर दरवाजा बनाकर आप, खुद को धोखा ही दे रहे हैं।
 

5. हस्‍तमैथुन की लत बुरी

कम उम्र में अक्सर लड़के विपरित लिंग के प्रति आकर्षित हो जाते हैं। इस समय अगर उन्हें उचित सलाह या यौन शिक्षा नहीं मिले तो इसके परिणाम बेहद डरावने हो सकते हैं। ऐसा ही एक कारण हस्तमैथुन भी है। इस आदत को अच्छा या बुरा नहीं कहा जा सकता। अगर आपको वाकई इसकी जरूरत महसूस होती है तो इसे किया जा सकता है। अन्यथा किसी और के दबाव में इसे करने की कोई जरूरत नहीं है। ये भी ध्यान रखें कि ये आदत लत बन जाए तो बेहद हानिकारक हो सकती है। तो चलिए बताते हैं कि हस्‍तमैथुन की लत से छुटकारा कैसे पाया जा सकता है ।


6. अध्यात्म की मदद

प्रार्थना और आध्यात्मिक अध्ययन हस्तमैथुन छोड़ने में महत्वपूर्ण मदद साबित हो सकते हैं। अध्यात्म न सिर्फ इच्छाशक्ति को मजबूत करता, बल्कि विचारों में शुद्धता भी लाता है। आप व्रत रख सकते हैं, आध्यात्मिक किताबें पढ़ सकते हैं या फिर योग भी कर सकते हैं, जो आपके शरीर और मन दोनों के लिए लाभदायक होते हैं।

6 people found this helpful

पुरुषों में कामेच्छा बढ़ाने के उपाय!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Sexologist, Allahabad
पुरुषों में कामेच्छा बढ़ाने के  उपाय!

पुरुषों में कामेच्छा बढ़ाने के  उपाय 
                        

यदि कई दिनों से आप को महसूस हो रहा है, कि अब आपकी बेड़ लाइफ उतनी अच्‍छी नहीं रह गई है, जितनी पहले हुआ करती थी, तो इसकी वजह आपकी खराब डाइट और जीवनशैली हो सकती है। पुरुषों में कामेच्‍छा में कमी होना काफी आम बात है। दिनभर ऑफिस में नौ घंटे बिताने के बाद कामेच्छा में कमी आ ही जाती है। लेकिन इसे बढ़ाना उतना भी मुश्‍किल नहीं है जितना की सुन कर लगता है। कामेच्‍छा में कमी कई कारणों से हो सकती है, जैसे हार्मोन असंतुलित होना, मोटापा, तनाव, अधिक धूम्रपान तथा शराब का सेवन आदि...
 बेड पर अच्‍छे प्रर्दशन के लिये खाएं ये "सेक्‍स डाइट" बाजार में तमाम तरह की कामेच्छा बढ़ाने वाली दवाओं के सेवन से पुरुषों में थकान और सिकनेस देखने को मिलती है। बेहतर है कि आप वियाग्रा और अन्‍य चीज़ों का साथ छोड़ कर अपनी जीवनशैली तथा आहार में थोड़ा सा परिवर्तन लाएं। : 
आपकी यौन छमता को दोगुना बढ़ा सकते हैं ये कुछ आहार  वे लोग जिनका बेड़ पर मूड नहीं बनता या फिर कामेच्‍छा में कमी महसूस करते हैं, उन्‍हें अब चिंता करने की जरुरत नहीं है। आज हम आपको कुछ ऐसे आसान तरीके बताएंगे जिसके उपयोग से आपको काफी लाभ होगा।

हमेशा एक्‍टिव बने रहें अपनी हेल्‍थ को अच्‍छा रखने के लिये आपको अपने हृदय के स्‍वास्‍थ्‍य पर ध्‍यान देना होगा। हो सकता है कि सेक्‍स से आपकी हृदय गती तेजी से बढ जाती हो, लेकिन अगर आप रोजाना एक्‍सरसाइज करेंगे तो उससे आपके हृदय को ताकत मिलेगी। दिन में 30 मिनट के लिये पसीना बहाइये और देखिये कि आपकी बेडरूम लाइफ कितनी अच्‍छी हो सकती है। 

डार्क चॉकलेट खाएं चॉकलेट को सेक्स उत्प्रेरक के रूप में जाना जाता है। चॉकलेट में कुछ ऐसे तत्व मौजूद होते हैं जो कि मस्तिष्क से लव हार्मोन के रिसाव को बढवाते हैं। आम तौर पर डार्क चाकलेट सेक्स की इच्छा को बढाता है। 

अश्‍वगंधा का सेवन अश्‍वगंधा एक प्राचीन औषधि है जो भारत में कई वर्षो से प्रसिद्ध है। इससे कई प्रकार की यौन समस्‍याएं दूर हो जाती है। इस हर्बल  के सेवन से लिबिडो की मात्रा बढ़ती है जो शीघ्रपतन से आराम दिलवाता है। इसके सेवन से शारीरिक मजबूती आती है और नपुंकसता भी दूर हो जाती है।

 केला बहुत ज्‍यादा पका हुआ केला जिस पर काले और भूरे दाग पडे़ हों, खाने से डोपामाइन का लेवल बढ़ता है। 

मिर्च और काली मिर्च का सेवन करें हर तहर के प्राकृतिक मसाले आपके ब्‍लड का फ्लो बढाएंगे। इससे आपका बीपी भी नार्मल आएगा और आपको उत्‍तेजना भी होगी।

जिनसेंग कॉ‍फी पीने के बजाए आपको गरमा गरम जिनसेंग चाय पीनी चाहिये। यह आपके इरेक्‍टाइल डिसफंक्‍शन को ठीक करेगी तथा उत्‍तेजना को कई गुना बढ़ाएगी। 

लहसुन इसमें एलासिन नामक तत्‍व पाया जाता है जो आपके ब्‍लड फ्लो को पेनिस तक बढ़ा सकता है। इससे आपकी उत्‍तेजना काफी ज्‍यादा बढ़ सकती है। 

ओमेगा 3 ओमेगा 3 फैटी एसिड दिमाग से पैदा होने वाले लव हार्मोन को तेजी से उत्‍पादन करने में मदद करता है। यदि आपने नियमित रूप से ओमेगा 3 अपने अहार में शामिल नहीं किया तो आप डिप्रेशन के शिकार बन जाएंगे। ओमेगा 3 पाने के लिये आपको मछली, साबुत अनाज और ब्रेड आदि का सेवन करना चाहिये।

4 people found this helpful

Sex Education

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Sexologist, Allahabad
Sex Education

शादी की पहली रात सेक्स का तरीका आइयेजाने 
 

अगर आप जल्दी ही शादी करने जा रहे है और आपके मन में सेक्स को लेकर कोई चिन्ता है या सवाल है । तो आपके लिए ये जानना जरुरी है। देखा गया है कि  शादी से पहले लड़को के मन मे सामान्यतः ये सवाल होते है कि बीवी कब और कैसे राजी होगी । अगर पहल मैने की सेक्स के लिए तो वो मेरे बारे मे क्या सोचेगी।  और उसको सेक्स के बारे में कुछ मालुमात होगी भी या नही। ठीक यही डर महिलाए सोचती है कि क्या वो पहले शूरूआत करेगा या मुझे शूरूआत करनी चाहिए और पहली बार के सेक्स में जो दर्द होता है उसकी चिन्ता होती है ।

शादी से पहले की घबराहट 

ऐसे में जब शादी करीब होती है तो दोस्त यार हमें नये नये नुस्खे देते है और कई मर्तबा मजाक भी उडा देते है । लेकिन सही मायने मे इसको मजाक में नही लेना चाहिए। बल्कि ऐसा होने से दुल्हा दुल्हन के मन में और ज्यादा घबराहट पैदा हो जाती है । ये तो बहुत ही अहम हिस्सा होता है जीवन का अगर ये पहली रात को हल्का समझा जाये और यु दोस्तों में हसी में उडा दिया जाये तो काफी कुछ पहली रात की तैयारी अधुरी रहती है । ये एक ऐसा और सिर्फ एक मर्तबा जिन्दगी में आने वाला लम्हा है जिस से दो लोग बहुत करीब आकर जीवनभर के लिए एक हो जाते है ।

सेक्स करने से पहले क्या करे

सबसे पहले अपने साथी से बातचीत से उसके मन में जगह बनाए । धीरे धीरे आपस के डर को दुर करे अपने मन को उसके मन के साथ ऐसे जोडे की दोनो को एक दुसरे पर भरोसा हो। ओरल सेक्स की शुरूआत कभी भी पहली रात को ना करे। इससे बीवी के मन में आपके लिए इज्जत कम हो सकती है। पति-पत्नि के बीच जीवन भर का सम्बंध होता है तो उसकी शुरूआत अच्छे से करे ताकि भविष्य में प्यार की कमी ना आये।

अपने साथी को सबसे पहले सरप्राइज दीजिए

जो उसको पसंद आये ये जरूरी नही की गिफ्ट काफी मंहगा हो बल्कि ये बात अहम है कि आपने उसे जो भी दिया है उस वक्त को यादगार बना दे और जीवन में ये पल हर दम याद रहे। ऐसा करने से पहली रात और रोमांटिक हो जाती है और आपस में जीवनभर का प्यार बंध जाता है ।

शुरूआत सबसे पहले फोर प्ले से करे

पत्नि के साथ सेक्स शुरू करने से पहले  ये जरूरी है कि उसके साथ इतना प्यार किया जाये कि वो बस दे आ जा जानु . यानि उसका मन पूरी तौर से सेक्स के रूझान तक चला जाये और ये काम फोरप्ले को कम से कम 15 से 20 मिनट तक करने से बनेगा। एक बार पत्नि का मन सेक्स के लिए तैयार हो जाये तो उसको सेक्स का दर्द जो पहली बार होता है वो भी हल्का लगेगा। सेक्स के दौरान ऐसे स्टेप्स और आसन अपनाये जो सूविधा जनक हो। इस रात कभी भी नये प्रयोग ना करे ।

पति-पत्नी दोनो अपनी भावनाओं का ख्याल रखे

हमेशा लाइफ में एक दुसरे के करीब रहने  के लिए पहली रात काफी महत्वपूर्ण  होती है। एक दूसरे को समझे कब किस का मन क्या चाहता है उसको महसूस करे और कभी अगर मियां बीवी में से किसी एक का मन सेक्स का हो और दुसरा उसको नजरअंदाज करे तो इस तरह जीवन में सुख चैन धीरे-धीरे खत्म होने लगता है। और पडोसियो को मौका मिलने लगता है।  इस लिए ये जरूरी है कि कभी एक दूसरे को इग्नोर ना करें बल्कि ये समझ ले कि जिस तरह इंसान को पेट की भूख लगती है उसी प्रकार सेक्स की भूख शांत करना भी जरूरी है। इसका ख्याल रखने पर जीवन नरक होने से बच जाता है। 

View All Feed

Near By Clinics