Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}

Peritoneal Fluid Health Feed

Ayurvedic Treatment Of Tuberculosis - क्षय रोग का आयुर्वेदिक उपचार

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Ayurvedic Treatment Of Tuberculosis - क्षय रोग का आयुर्वेदिक उपचार
क्षय रोग जिसे टीबी के नाम से भी जानते हैं, इसकी बिमारी ट्यूबरकल बेसिलाई नामक जीवाणु के द्वारा उत्पन्न होता है. इस बिमारी के प्रमुख लक्षणों में खाँसी का तीन हफ़्तों से ज़्यादा रहना, थूक का रंग परिवर्तित हो जाना या उसमें रक्त की आभा नजर आना, बुखार, थकान, सीने में दर्द, भूख में कमी, साँस लेते समय या खाँसते समय दर्द महसूस करना आदि शामिल हैं. टीबी एक संक्रामक रोग है. यानी ये तपेदिक रोगी के खाँसने या छींकने से इसके जीवाणु हवा में फैल जाते हैं और उसको स्वस्थ व्यक्ति श्वसन के जरिए ग्रहण कर लेता है. हलांकि जो व्यक्ति अत्यधिक मात्रा में ध्रूमपान या शराब का सेवन करते हैं, उन्हें इसके होने की संभावना ज्यादा रहती है. यदि आपको इसके लक्षण नजर आएं तो तुरन्त जाँच केंद्र में जाकर अपने थूक की जाँच करवायें और डब्ल्यू.एच.ओ. द्वारा प्रमाणित डॉट्स के अंतगर्त अपना उचित उपचार करवायें. ताकि पूरी तरह से ठीक हो सकें ध्यान रहे कि टी.बी. का उपचार आधा करके नहीं छोड़ना चाहिए. आइए अब हम आपको क्षय रोग के कुछ आयुर्वेदिक उपचारों के बारे में बताएं.
लहसुन
लहसुन में मौजूद एलीसिन नामक तत्व टीबी के जीवाणुओं के विकास को बाधित करता है. क्षय रोग के उपचार में लहसुन का उपयोग करने के लिए आप एक कप दूध में 4 कप पानी मिलाकर इसमें 5 लहसुन की कली पीसकर मिलाएं और इसे चौथाई भाग शेष रहने तक उबालें. अब इसे उतारकर ठंडा होने पर दिन में तीन बार लें.
प्याज का रस और हिंग
क्षय रोग के मरीजों को नियमित रूप से सुबह और शाम को खाली पेट आधा कप प्याज के रस में एक चुटकी हींग मिलाकर एक सप्ताह तक पीना चाहिए. इससे आपको एक सप्ताह के बाद फर्क दिखना शुरू हो जाएगा.
शहद
क्षय रोग में आप सभी घरों में आसानी से मौजूद शहद का इस्तेमाल भी अपनी परेशानी को कम करने के लिए कर सकते हैं. इसके लिए 200 ग्राम शहद, 200 ग्राम मिश्री और 100 ग्राम गाय के घी को मिलाकर तीनों को 6-6 ग्राम दिन में कई बार चाटें. और बेहतरी के लिए ऊपर से गाय या बकरी का दूध भी पिलायें.
पीपल वृक्ष की राख
पीपल वृक्ष के छाल की राख का उपयोग भी टीबी के मरीज कर सकते हैं. इसके लिए 10 ग्राम से 20 ग्राम तक पीपल वृक्ष के राख बकरी को बकरी के गर्म दूध में मिला कर नियमित रूप से सेवन करें. इसमें आवश्यकतानुसार मिश्री या शहद भी मिला सकते हैं.
पत्थर के कोयले की सफ़ेद राख
टीबी के मरीज पत्थर के कोयले की सफ़ेद राख के आधा ग्राम को मक्खन मलाई अथवा दूध के साथ नियमित रूप से सुबह शाम खाएं तो लाभ मिलता है. फेफड़ों से खून आने वाले मरीजों के लिए ये बेहद प्रभावी है.
रुदंती वृक्ष की छाल
रुदंती नामक वृक्ष के फल से निर्मित चूर्ण से लगभग सभी प्रकार के असाध्य क्षय रोगी आसानी से ठीक हो सकते हैं. इसके लिए कुछ आयुर्वेदिक फार्मेसियां रुदंती के छाल से कैप्सूल भी बनाती हैं. इससे रोगियों को स्वास्थ्य लाभ मिलने का दावा किया जाता है.
केला
केला के ऊर्जा देने की क्षमता से लगभग सभी परिचित हैं. केला में मौजूद पोषक तत्व हमारे शरीर के प्रतिरक्षातन्त्र को मजबूती प्रदान करते हैं. इसके लिए आप एक पका केला को मसलकर इसमें एक कप नारियल का पानी मिलाकर इसमें आधा कप दही और एक चम्मच शहद मिलाकर इसे दिन में दो बार लें.
सहजन की फली
सहजन के फली को सब्जी के रूप में आपने भी इस्तेमाल किया ही होगा. आपको बता दें कि इसमें जीवाणु नाशक और सूजन रोधी तत्व मौजूद होते हैं. इसके यही गुण टीबी के जीवाणु से लड़ने में हमारी मदद करते हैं. इसके लिए आप मुट्ठी भर सहजन के पत्ते को एक गिलास पानी में उबालकर इसमें नमक, काली मिर्च और नींबू का रस मिलाएं. अब नियमित रूप से सुबह खाली पेट इसका सेवन करें. इसके अलावा आप सहजन की फलियों को उबालकर सेवन करके अपने फेफड़ों को जीवाणु मुक्त कर सकते हैं.
आंवला
अपने अपने सूजन नाशक एवं जीवाणु रोधी गुणों के लिए आंवला मशहूर है. इसमें मौजूद पोषक तत्त्व शरीर की प्रक्रियाओं को ठीक ढंग से चलाने में मददगार हैं. इसके लिए आप 4-5 आंवले का बीज निकालकर इसका जूस बनाएं और इसका प्रतिदिन सुबह खाली पेट लें. यह टीबी रोगियों के के लिए अमृत के समान है. आप चाहें तो आंवला चूर्ण भी ले सकते हैं.
आक की कली
क्षय रोग के मरीजों को आक की कली खाने की सलाह भी दी जाती है. इसके लिए पहले दिन तो आपको ईसकी एक कली को निगल जाना है. फिर दुसरे दिन दो कली और तीसरे दिन तीन इसी तरह क्रमशः 15 दिन तक लेने से काफी लाभ मिलेगा.
4 people found this helpful

My brother is 34 years old and he has a chest pain from last 6-8 months now, last 15 days he is suffering from fever, consult with Dr's they told he has a TB in chest (water in chest), we have admitted him on 7th june, water removed, all test are normal like blood, Urine, hepatitis A, B & E but, still fever is coming every day and Dr. Unable to understand what is the problem & where is the problem, please advise urgently.

MBBS, Doctor of Medicine, Member of the Royal College of Physicians, UK (MRCP UK)
General Physician, Patna
I understand he is on ant tuberculosis treatment which takes around one month time to show improvement when the fever goes down and appetite improves along with other symptoms. If it doesn't then we have to investigate and find some other problems. If you like you can share his X-ray and other reports which will help me evaluate his condition more systematically.
Submit FeedbackFeedback

How to take tab Akurit 4 and half benadon as prescribed by the doctor. Are they be taken empty stomach? Doctor has prescribed 3 tab of Akurit 4, is it ok. Please help.

MD - Pulmonary, DTCD
Pulmonologist, Faridabad
TB drugs are to be taken empty stomach all together. and as per weight. Taking 3 tab of akurit 4 will not be as per your weight
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I am suffering from secondary TB and doctor told me the treatment side effects. That ears will be week is there any treatment with no big side effect or minimum side effect for secondary tb please tell .what will be the side effect of treatment.

DM (Pulmonary & Critical care medicine), DNB ( Respiratory Diseases/Pulmonary Medicine), MD (Tuberculosis & Respiratory Diseases), MBBS
Pulmonologist, Gurgaon
If it is retreatment TB then Therapy needs to be started. Inj streptomycin can cause hearing problems but need not to be worried. Not observed in all patients especially children and older adults are more affected. Anyway TB needs to be cured otherwise will become more complicated if left untreated. Take therapy under regular supervision. Thanks.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Hello sir, My father age is 56 vo 30 year se smoking kar rhe hai daily 12 cigarette smoke krte hai aur 2010 e chest tuberculosis bhi ho gyi thyi un ka 1 year treatment chala aftet that vo smoking kr rhe hai 2 year phle un hai pneumonia ho gya tha firtis me treatment chala tha unka ct scan me bhi pneumonia aya tha aur sputum tests kiya tha vo bhi normal aya tha tb god bhi negative aya abhi un ka 6 me month phle un ka esr 56 aya tha Dr. ne kha tha aap ko infection aya un ko 2 month medicine dy thy ab esr norma aya hai 8 aya hai. Un ka esr to normal but jab smoking krte jab un ko sputum ata hai q ata hai sputum.

BHMS
Homeopath, Puri
Smoking is the cause for developing sputum and all the problems of your father that you mentioned. It will be wise to quit smoking completely to be healthy. And yes you can give some Homeopathic medicines like Tabaccum-200 morning and Nux vomica-200 evening to reduce the cigarette cravings. Also give Lobellia inf-Q.(10 drops with some water after meals 2 times daily for a month)
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

My father has pulmonary tb he has started his medication course 2 day's back. I have a kid months old who is currently at her growing place. Can I get my kid home? If yes what precaution do I have to take so that there is no further transmission?

MD - Pulmonary, DTCD
Pulmonologist, Faridabad
Your father should use cough hyigine, take effective medication properly, Get his sputum afb examination regularly. And avoid physical contact with kid.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

What are the symptoms of tuberculosis (t.v)?And we eat when we suffer from viral fever?

(BAMS)
Ayurveda, Indore
Hello Symptoms of tuberculosis are Sudden weight loss Loss of appetite Weakness Low grade fever Cough.
Submit FeedbackFeedback

Hello sir, Lungs mai TB infection hone ka sputum (balgam) test se pata lagaya ja sakta hai?

MD (Physician), MD (Pulmonology)
Pulmonologist, Bareilly
Dear Lybrateuser, Sputum test for Tuberculosis or Sputum Culture can answer all your queries. Please contact a Pulmonologist and take tests according to his recommendations. Wishing you good health.
Submit FeedbackFeedback