Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}

Obesity Panel Health Feed

Renal Hypertension - How To Track It?

DNB (Nephrology), MRCP (UK), MD - Medicine, MBBS
Nephrologist, Mumbai
Renal Hypertension - How To Track It?
Renal hypertension is a disorder which is characterized by a rise in the blood pressure that results from kidney disease. The blood flow to the kidney is impaired due to the narrowing of the arteries and this leads to renovascular hypertension.

Symptoms

The various symptoms of renal hypertension are -

1. High blood pressure
You may experience symptoms of high blood pressure.

2. Impaired functioning of the kidneys
Your kidneys may not function properly due to the impaired supply of blood

3. It may lead to presence of blood in your urine

4. You may be affected by pulmonary edema that results in accumulation of fluid in the lungs

5. It may result in severe headaches and confusion

6. You may experience blurred vision

7. You may have nosebleeds

The impaired kidney function may also lead to chronic kidney damage.

Causes

The various causes of renal hypertension are -

1. Accumulation of cholesterol in the body may lead to blockage of the artery due to plaque buildup
2. Smoking may increase your chances of getting affected by narrow arteries
The narrowing of the arteries causes a reduction in the blood supply to the kidneys. This results in the kidneys to release various hormones that instruct the body to hold on to water and sodium. This causes the fluid to accumulate in the blood vessels, thus resulting in high blood pressure.

The various risk factors renal hypertension are -

1. Excessive alcohol consumption
2. Substance abuse
3. Diabetes
4. High blood pressure
5. High cholesterol
6. Aging

Treatment

Medications used to treat high blood pressure are used to treat renal hypertension. It is important that you get your blood pressure levels checked on a regular basis. You need to make certain lifestyle changes such as -

1. Exercise on a regular basis to keep your heart and body healthy
2. Limit consumption of alcohol and reduce smoking
3. Eat well balanced meals to keep obesity at bay
4. Keep your mind free of stress
5. Restrict consumption of salt
6. Maintain optimal weight levels
2 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

How can I lose my weight give some idea. How I control my belly? I have many disease like diabetics, thyroid,

Bachelor of Unani Medicine and Surgery (B.U.M.S)
Unani Specialist, Dhule
How can I lose my weight give some idea. How I control my belly? I have many disease like diabetics, thyroid,
1.less calorie intake or increased burning of calories will give better result in your case. As well as use unani herbal medicines to enhance calorie burn.
Submit FeedbackFeedback

Diabetes

Internal Medicine Specialist, Delhi
Play video
Diabetes features as one of the most common ailments in contemporary times. Mostly assumed as a congenital disease, diabetes is growingly targeting different age groups and often the outburst of diabetes is mostly unmapped. Diabetes is mainly spurred by the presence of high blood sugar content in the patient's blood.
1099 people found this helpful

High Blood Pressure Ke Prabhaw - हाई ब्लड प्रेशर के प्रभाव!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
High Blood Pressure Ke Prabhaw - हाई ब्लड प्रेशर के प्रभाव!

वर्तमान समय में हाई ब्लड प्रेशर एक गंभीर समस्या बन कर उभरा है. इसके मरीज साल दर साल बढ़ रहे है. इस भागदौड़ से भरी जीवनशैली में, हम कई तरह के अनुचित आदतों को अपना लेते हैं जो हमारे शरीर पर प्रतिकूल या हानिकारक प्रभाव डालते है. इस भागदौड़ की ज़िंदगी में हम अनुचित खान-पान, एक्सरसाइज से दूर रहना, स्ट्रेस, पोषक तत्वों की कमी या फिर धूम्रपान और ड्रिंकिंग जैसे कई गलत आदतों में पड़ जाते हैं. यह सभी आदतें आपको हाई ब्लड प्रेशर की तरफ अग्रसर कर सकती है. भारत में होने वाली मौतों के लिए हाई ब्लड प्रेशर को चौथा कारण माना गया है.



हाई ब्लड प्रेशर के प्रभाव बहुत गंभीर और जानलेवा हो सकता हैं. इस बिमारी की भयावहता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि लगभग 90 % लोगों को हाई ब्लज प्रेशर के लक्षण का पता नहीं लगता है. इसी वजह से हाई ब्लड प्रेशर को साइलेंट किलर के रूप ;में भी जाना जाता है. जब धमनियों में ब्लड का प्रेशर बढ़ जाता है तो इस प्रेशर को हाई ब्लड प्रेशर कहते हैं.



हमारे शरीर में ह्रदय धमनियों के माध्यम से ब्लड को पुरे शरीर में पंप करती है. जब हमारा दिल धड़कता है तो वास्तव में यह ब्लड को पूरी बॉडी में पंप कर रह होता है. हाई ब्लड प्रेशर का प्रभाव शरीर के कई अंगो पर पड़ता है. इसलिए हाई ब्लड प्रेशर से बचाव करना महत्वपूर्ण है. आइए हाई ब्लड प्रेशर के प्रभाव को जाने और इससे बचाव कैसे करें. ;



हाई ब्लड प्रेशर के कारण



हाई ब्लड प्रेशर का कोई निश्चित कारण नहीं है, लेकिन कुछ संभावित कारण है जिसके वजह से आप हाई ब्लड प्रेशर से ग्रसित हो सकते है. इसमें उम्र बढ़ना, अनुवांशिक, मोटापा, स्ट्रेस, धूम्रपान और ड्रिंकिंग, अनुचित जीवनशैली जैसे कारक शामिल है. ;



हाई ब्लड प्रेशर के प्रभाव



हाई ब्लड प्रेशर के कारण शरीर के कई अंगो पर हनिकारक प्रभाव पड़ता है. जो निम्नलिखित है:




  1. आँखों पर प्रभाव- हाई ब्लड प्रेशर के प्रभाव से आपके देखने की क्षमता कम हो जाती है. इसके कारण आपकी दृष्टि धुंधली पड़ जाती है और रौशनी कम होने लगती है. इसलिए आपको नियमित रूप से आँखों को जांच करने की सलाह दी जाती है. 

  2. दिल का दौरा- जब धमनियों में ब्लड का प्रेशर अधिक हो जाता है तो परिणामस्वरूप ह्रदय को अधिक काम करना पड़ता है. इस अधिक प्रेशर के कारण दिल का दौरा पड़ने का खतरा बढ़ जाता है. 

  3. किडनी फेल हो सकती है-  हमारे शरीर से टॉक्सिक पदार्थ को बाहर निकालने का काम किडनी का होता है. जब ब्लड प्रेशर हाई होता है तो किडनी पर दबाब भी बढ़ जाता जाता है और ब्लड वेसल्स संकीर्ण हो जाती है. इसके साथ ही किडनी में टॉक्सिक पदार्थो को फ़िल्टर करने वाली कोशिकाएं भी प्रभावित होती है. इन सभी कारणों से किडनी आपने काम को सुचारु रूप से नहीं करता है और ब्लड में टॉक्सिक जमा होना लगते हैं. इस कारण से किडनी फेल होने का खतरा बढ़ जाता है. 

  4. मस्तिष्क पर प्रभाव-  जब आपकी उम्र बढ़ने लगती है और आप हाई बीपी से ग्रसित होते है तो इसका आपके मस्तिष्क पर भी गहरा प्रभाव पड़ता है. इसके कारण आपके याददाश्त कमज़ोर होने लग जाती है, जिसे डिमेंशिया भी कहा जाता है. इसके अलावा, मस्तिष्क में खून की आपूर्ति कम हो जाती है और मष्तिष्क की सोचने समझने की क्षमता भी प्रभावित होती है.  



हाई ब्लड प्रेशर से कैसे करें बचाव 



यदि आप हाई ब्लड प्रेशर से ग्रसित है या होने का खतरा है तो आप इस बिमारी से बचाव के लिए निम्नलिखित सुझाव का पालन कर सकते हैं:



स्वस्थ जीवनशैली: हाई ब्लड प्रेशर के प्रभाव से बचने के लिए सबसे पहले स्वस्थ जीवनशैली को अपनाना चाहिए. स्वस्थ जीवनशैली में नियमित शारीरक गतिविधि करना और  ड्रिंकिंग, स्मोकिंग जैसी आदतों से दूर रहना शामिल हैं. अगर आपका वजन अधिक हो तो वजन कम करना चाहिए. 



उचित आहार- आपको स्वस्थ रखने के लिए उचित आहार का सेवन करना बहुत महत्वपूर्ण है. यह आपके हाई ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने में भी सहायक होता है. इसके लिए आपको चर्बी और हाई फैट वाले आहार से दूर रहना चाहिए. आपको अपने नमक का सेवन पर भी नियंत्रण करना चाहिए. आप अपने आहार में तरबूज, नारंगी, केला, सेब, आम, नाशपाती, पपीता  और अनानास को शामिल करना चाहिए. इसके अलावा सलाद के रूप में खीरा, गाजर, मूली, प्याज़ और टमाटर आदि को भी सेवन करना चाहिए. उचित आहार आपको हाई ब्लड  प्रेशर के प्रभाव से बचाव करता है. 

 

योग और एक्सरसाइज- योग और अभ्यास हाई ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने के लिए बहुत सहायक होते है. यह ना आपको केवल स्वस्थ रखता है बल्कि वजन नियंत्रण और बेहतर रक्त परिसंचरण के लिए भी फायदेमंद होता है. आपको हर दिन नियमित रूप से आधे घंटे एक्सरसाइज करनी चाहिए. योग अभ्यास भी बहुत सहायक होते है. कई तरह के योगासन है जो ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करतें है जिनमे धनुरासन, भुंजागसन, ताङासन, वज्रासन आदि. योग और एक्सरसाइज हाई ब्लड प्रेशर के प्रभाव को कंट्रोल करतें है.


1 person found this helpful

High Blood Pressure Kya Hota Hai - हाई ब्लड प्रेशर क्या होता है?

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
High Blood Pressure Kya Hota Hai - हाई ब्लड प्रेशर क्या होता है?

एक समय था, जब हाई ब्लड प्रेशर को केवल शहरों तक ही सीमित माना जाता था. लेकिन बढ़ते आधुनिकरण और अनुचित जीवनशैली के कारण इस बीमारी ने गांव -देहात तक अपनी पकड़ बना ली है. हाई ब्लड प्रेशर एक बहुत ही जटिल समस्या है और इस बिमारी में आपको पता नहीं होता कि आप कब इससे ग्रसित हो सकते हैं. हाई ब्लड प्रेशर के लक्षण बहुत ही अस्पष्ट होते है और इसी वजह से इसे साइलेंट किलर के रूप में भी जाना जाता है. एक अध्ययन के अनुसार, भारत की बात करें तो यहां 10 में से 3 व्यक्ति हाई ब्लड प्रेशर से पीड़ित है. भारत में हर वर्ष होने वाली मौत में हाई ब्लड प्रेशर को एक प्रमुख कारण माना गया है.



हाई ब्लड प्रेशर का इलाज संभव है. लेकिन हाई ब्लड प्रेशर क्या होता है? ज्यादातर लोगों को इसकी जानकारी नहीं होती हैं. इसलिए, आज इस लेख में हम आपको बताएंगे कि हाई ब्लड प्रेशर क्या होता है और इसका पता कैसे लगाया जाता है. साथ ही हाई ब्लड प्रेशर के क्या उपचार होते हैं.



हाई ब्लड प्रेशर क्या होता है ;



हाई ब्लड प्रेशर को हाइपरटेंशन के नाम से भी जाना जाता है. जब ब्लड वेसल्स(नसों) में ब्लड का प्रेशर बढ़ जाता है तो इसे हाई ब्लड प्रेशर कहते है. जब यह प्रेशर कम हो जाता है, तो इसे लो ब्लड प्रेशर के रूप में जाना जाता है. हमारे शरीर में हार्ट ब्लड वेसल्स के माध्यम से ब्लड को पूरे शरीर में पंप करता है. हमारे बॉडी में ब्लड को पंप करने के लिए एक निश्चित प्रेशर की जरुरत होती है. जब किसी कारण यह प्रेशर सामान्य से अधिक बढ़ जाता है तो ब्लड वेसल्स पर अधिक दबाब पड़ता है और इस स्थिति को हाइपर टेंशन या हाई ब्लड प्रेशर के रूप में जाना जाता है. ब्लड वेसल्स पर बढ़ते प्रेशर के कारण ह्रदय को ज्यादा काम करना पड़ता है. यह स्थिति बाद में हार्ट फेल या दिल के दौरे का कारण भी बन सकती है. इसलिए, हाइपरटेंशन को जानलेवा बिमारी माना गया है. 



हाई ब्लड प्रेशर का प्रकार 



हाई ब्लड प्रेशर दो प्रकार का होता है. सिस्टोलिक प्रेशर और डायस्टोलिक प्रेशर - इस प्रेशर को हाईएस्ट रीडिंग और लोएस्ट रीडिंग भी कहा जाता है. सामान्य स्थिति में एक व्यक्ति का ब्लड प्रेशर 90 से 140 तक होता है.  यदि किसी व्यक्ति का ब्लड प्रेशर 90 और 140 के स्तर से, कई दिनों तक ऊपर रहता है तो इसे हाई ब्लड प्रेशर माना जाता है. सिस्टोलिक रीडिंग 100 से 140 के बिच रहती है और डायस्टोलिक रीडिंग 60 से 90 के बीच में रहती है. इसके अलावा व्यक्ति का ब्लड प्रेशर इस बात पर भी निर्भर करता है कि मांशपेशियों में संकुचन हो रहा है या नहीं. 



हाई ब्लड प्रेशर के लक्षण 



आमतौर पर हाइपरटेंशन को मूक हत्यारा के रूप में जाना जाता है. इसलिए इसके लक्षण स्पष्ट नहीं होते है. जब तक कि इससे पीड़ित व्यक्ति को कोई गंभीर समस्या जैसे हार्ट अटैक या स्ट्रोक आदि उत्पन्न नहीं होता है, तब तक वे इस बीमारी से अवगत नहीं हो पाते हैं. इसलिए आपको सामान्य स्थिति में भी ब्लड प्रेशर की नियमित चेक अप करवाना चाहिए. इसके साथ ही आपको हेल्थी लाइफस्टाइल और डॉक्टर से परामर्श भी लेना चाहिए. हालाँकि, हाई बीपी के कुछ लक्षण है जो लोगों द्वारा अनुभव किए जाते हैं, जिनमें चक्कर आना, दर्द, धुंधला दिखना, उल्टी, नाक से खून बहना या सीने में दर्द होना इत्यादि शामिल है. 



हाई ब्लड प्रेशर के कारण 



हाई ब्लड प्रेशर के निश्चित कारण का पता लगाना मुश्किल होता है. अधिकांश लोगों को पता नहीं होता है कि हाई ब्लड प्रेशर क्या होता है, इसी कारण यह रोग और भी घातक हो जाता है. हालाँकि, इसके कुछ संभावित कारण है जिसमे हाई ब्लड प्रेशर का खतरा बढ़ जाता है. हाई ब्लड प्रेशर के संभावित कारण निम्नलिखित हो सकते है:




  1. अनुवांशिकता- यदि आपके परिवार में किसी को भी हाई बीपी होता है, तो आप भी इस बीमारी के लिए प्रवण होते है.  इस स्थिति में आपको स्वस्थ जीवनशैली और उचित खानपान को अपनाना चाहिए. 

  2. उम्र - बढ़ती उम्र भी हाई बीपी के लिए एक प्रमुख कारण  है. उम्र बढ़ने के साथ हाई ब्लड प्रेशर का खतरा भी बढ़ जाता है. यह बिमारी महिलाओं से ज्यादा पुरुषों में अधिक सामान्य हैं. हालाँकि, बुढ़ापे में महिलाओं और पुरुषों में हाई बीपी का खतरा सामान्य हो जाता है. 

  3. मोटापा - सामान्य से अधिक वजन रखने वाले लोगों के लिए हाई बीपी का खतरा ज्यादा होता  है. 

  4. स्मोकिंग और ड्रिंकिंग - अत्यधिक  स्मोकिंग के कारण ब्लड वेसल्स संकीर्ण हो जाता है जो बीपी हाई का कारण बन जाती है. दूसरी तरफ, अत्यधिक अल्कोहल सेवन के कारण ब्लड में ऑक्सीजन की कमी हो जाती है, इससे ह्रदय को क्षति होती है और हाई बीपी का कारण बनता है. 

  5. अनुचित आहार- यदि आप अधिक नमक या हाई फैट वाले आहार का सेवन करते है तो आप भी हाई बीपी के लिए जोखिम रखते है. 

  6. स्ट्रेस- कई स्टडीज के अनुसार मेन्टल स्ट्रेस को भी हाई बीपी के लिए जिम्मेदार माना गया है.  



हाई ब्लड का इलाज 



किसी भी बीमारी से बचने के लिए सबसे पहले उपचार, रोकथाम और बचाव है. आपको सबसे पहले यह जानने की जरुरत है कि हाई ब्लड प्रेशर क्या होता है और आप इसे कैसे रोक सकते है. यदि आपको बताए गए कारणों जैसे मोटापे या स्ट्रेस की वजह से हाई ब्लड प्रेशर है तो आपको  मोटापा कम करना चाहिए. 



साथ ही नियमित शारीरिक गतिविधियों में भाग लेना चाहिए. इसके अलावा शराब का सेवन भी प्रतिबंधित करना चाहिए. आप नियमित रूप से ब्लड प्रेशर का चेकअप करवाते रहें और कोई लक्षण दिखने पर शुरुआत से ही इलाज शुरू करें. आपको नमक की सेवन पर नियंत्रण रखना चाहिए. आप बीपी को कंट्रोल करने के लिए योग की भी मदद ले सकते हैं. कई योग है जो बीपी कंट्रोल करने में मदद करते है. 



इनमें से कुछ निम्न इस प्रकार है - भुजंगासन, धनुरासन, वज्रासन, ताडासन और धनुरासन बहुत उपयोगी है. यदि अनुवांशिक कारणों से हाई ब्लड प्रेशर से ग्रसित है तो आपको डॉक्टर के साथ हाई ब्लड प्रेशर क्या होता है, इसके बारे में विस्तार से चर्चा करनी चाहिए और डॉक्टर द्वारा निर्धारित किए गए दिशा निर्देशों का पालन करना चाहिए.


1 person found this helpful

Diabetic Foot & Revascularization In Them!

MBBS, DNB - Peripheral Vascular Surgery, DNB - General Surgery, MNAMS
Vascular Surgeon, Nashik
Diabetic Foot & Revascularization In Them!
When you have diabetes, your body does not produce enough insulin or loses the ability to utilize it. When this happens, your blood sugar level goes up. Diabetes can affect all organs of the body. Your feet are no exception.

How does diabetes affect the foot?

There are two ways in which the foot may be affected by diabetes -

Diabetic neuropathy: Diabetes can damage the nerves of the feet so that you lose all sensations in your extremities. So you can no longer feel any irritation or pain in your feet. If sores/cuts/blisters develop on your feet, you won t know and they may fester and get infected.
Peripheral vascular disease: This disorder affects the blood vessels of your limbs. Fatty deposits clog the blood vessels that carry blood from your feet to your heart. So blood flow is cut off to the feet. This may lead to pain, numbness, swelling, slow healing of wounds or infection.
Ischemic foot: When blood flow to the feet is interrupted, you may develop an ischemic foot, which is characterized by cold skin, loss of hair from the legs and discoloration. In extreme cases, the affected foot may have to be amputated.
What are the symptoms of diabetic foot?
The range of symptoms depend on the intensity of the disorder and vary from one patient to another-

Tingling sensation in the feet
Numbness of the feet
Blisters or wounds that refuse to heal
Discoloration of the skin of the feet
Stains on the inside of your socks
Deformed feet
If an infection has set in, some symptoms that will manifest are-

Trembling of the limbs and arms
Spiking blood sugar
Shock
Redness and swelling of the feet
Complications
The complications that may arise out of diabetic foot are-

Ulcers of the foot
Abscesses
Gangrene and death of tissues
Charcot s Foot or fractures and dislocations of the bones of the feet
Deformity of the feet
Revascularization for diabetic foot

Chronic diabetic foot can be treated with multiple revascularization methods like synthetic conduits, endarterectomy, balloon angioplasty, arteriovenous reversal, muscle flap transfer or atherectomy. These procedures eliminate the need for limb amputation. The aim of a revascularization procedure is to fix up the blood vessels that were blocked by bypassing the affected blood vessel so that blood can normally flow to your feet.

Along with revascularization, your doctor will recommend exercises like walking to increase supply of blood to the feet as well as medicines that will deal with the pain and swelling.

Diabetic foot can be a serious health threat that could lead to the limb being amputated. But with revascularization, you can get back on your feet in no time and resume your daily activities
1 person found this helpful

I am 52 and diabetic for 5 years. I take one pill per day in the morning (glycomet gp1. Is there any ayurvedic medicine for this. And could you please suggest the type of yoga assanas I should do daily.

MBBS, CCEBDM, Diploma in Diabetology, Diploma in Clinical Nutrition & Dietetics, Cetificate Course In Thyroid Disorders Management (CCMTD)
Endocrinologist, Dharwad
I am 52 and diabetic for 5 years. I take one pill per day in the morning (glycomet gp1. Is there any ayurvedic medici...
Mr. lybrate-user, Thanks for the query. Diabetes mellitus is a hormone (insulin) deficiency disorder, plus there may be resistance to its action due to excess internal body fat and high blood glucose levels. In such a situation right treatment is to use specific drugs that stimulate Beta cells of pancreas to produce necessary insulin and also to reduce insulin resistance, reduce glucose conversion and absorption, all these actions are observed in modern medicines. In ayurvedic drugs, even though a lot of claims are made, there is no clinically proven evidence to support those claims. Still if you want to use those drugs, instead of present treatment, then choice is yours. You may try that. As regards yogasanas, all asanasa are helpfula s an exercise. However, some say Manduk asana helps beter. Again without any confirmed proof. Still if you want to shift to ayurvedic drugs, please consult an ayurvedic expert. All the best. Thanks.
7 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Just a day back was diagnosed with high bp 110/170 and Diabetes 235. Can it be reduced without taking medication by exercise and lifestyle changes.

Bachlor in homoeopathic
Homeopath, Pune
Just a day back was diagnosed with high bp 110/170 and Diabetes 235. Can it be reduced without taking medication by e...
Yes you can correct your life style nd fully nutritional food taking will surely console your condition try to apply all indications. Tc.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback