Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}

Follicle Stimulating Hormone (1) Health Feed

Please tell me the homeopathic medicine for irregular periods. To solve this problem permanently.

Please tell me the homeopathic medicine for irregular periods. To solve this problem permanently.
Dear lybrate-user ji, the selection of homeopathic medicines are based on individualisation by considering your menstrual problems and your past history of diseases, along with your behaviour pattern, which brings complete cure of disease. Homeopathy has got complete cure for irregular menses by constitutional treatment and holistic approach. Homeopathic medicines help to resolve the underlying cause along with brings the hormones into normal without any external hormones. I suggest you to take an appointment for consultation so that detail case can be discussed and rule out the cause and proceed further for treatment. Irregular menses may be due to the following: -stress: mental stress can temporarily alter the functioning of your hypothalamus — an area of your brain that controls the hormones that regulate your menstrual cycle -cysts in ovaries, -thyroid problems, -uterine diseases like polyps, fibroids, adenomyosis, -hormonal imbalances, -some medications like, anti-depressants, anti-psychotics, allergy medicines etc. You can consult me online. Thank you.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

ब्रा पहनने के तरीके - Bra Pahnne Ke Tarike!

ब्रा पहनने के तरीके - Bra Pahnne Ke Tarike!
क्या आपने कभी ब्रैस्ट का सेल्फ-एग्जामिनेशन किया है? क्या आप ब्रा पहनने के सही तरीकें से परिचित है? क्या आपको पता है की ब्रैस्ट में होने वाले समस्याओं के लिए ब्रा पहनने के तरीकें को जानना बहुत महत्वपूर्ण है? इन सभी सवालों के जवाब आपको यह समझाने में मदद कर सकते हैं कि आप अपनी ब्रैस्ट का सही देखभाल कर रही है.

आमतौर पर लड़कियों और महिलाओं द्वारा पहने जाने वाला एक अंडरगारमेंट है. यह मुख्य रूप से ब्रैस्ट टिश्यू को सपोर्ट देने के लिए पहना जाता है ताकि आपके ब्रैस्ट लूज़ ना हों. इसके अलावा ब्रैस्ट की सही देखभाल के लिए भी ब्रा की सही फिटिंग और तरीकें को जानना महत्वपूर्ण है. डॉक्टर के अनुसार बॉडी के अन्य हिस्सों की तरह ब्रैस्ट का भी ख्याल रखना चाहिए. यह ब्रैस्ट संबंधित बिमारियों से आपका बचाव कर सकती है. तो चलिये आज आपको ब्रा पहनने के तरीकें और इससे संबधित बिमारीयों के बारे में बताते है.

ब्रा आमतौर पर लड़कियों द्वारा स्तन के उतकों को सहारा देने के उद्देश्य से पहना जाता है. लेकिन शायद आपको पता न हो कि ज्यादातर महिलाएं ब्रा की सही साइज़ और फिटिंग का चयन नहीं कर पाने के कारण गलत ब्रा पहनती हैं . गलत ब्रा पहनने के कारण विभिन्न प्रकार की स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ता है.

ब्रा पहहने का सही तरीकें-

ब्रा खरीदने से पहलें यह देख लें की ब्रा का कपडा सही और आरामदायक हो. साथ ही ब्रा का साइज़ का उचित माप कर लें जिससे ब्रा आपको अच्छा लुक देने के साथ आपके ब्रैस्ट का भी ख्याल रखेगी. इसके बाद यह देखें की आप जो ब्रा पहन रही है, उसका पहनने का तरीका सही है या गलत है. महिलाओं के मन में ब्रा पहनने के सही तरीकें को लेकर कई शंकाएं रहती है, जैसे- ब्रा को पहलें पहनें, फिर पीछे हाथ कर के हुक लगाएं?
* पहलें हुक लगाएं, फिर ब्रा की स्ट्रिप्स की सहायता से पहनें?
* पहलें आगे लेकर हुक लगाएं, फिर उसे पीछे कर दें.
* पहलें हुक लगाकर इसे सिर पर से डाल लें?

अगर आप कम समय में सही तरीकें से ब्रा पहनना चाहती हैं तो ब्रा को पहलें आगे लेकर हुक लगाएं, फिर उससे पीछे कर दें और स्ट्रिप्स की मदद से उसे पहन लें. इसके अलग अगर संभव हो तो ब्रा के ह्होक को पीछे हाथ कर के लगाने की कोशिश करें.

ब्रा में मुख्य रूप से 3 हुक होते हैं.अपने ब्रैस्ट के मुताबिक सही हुक को लगाएं. यदि आपके ब्रा में केवल एक हुक पैटर्न है तो आप बिलकुल सही साइज़ की ब्रा का ही चयन करें, क्योंकि यदि ब्रा आपके ब्रैस्ट की साइज़ से छोटे नाप की या टाइट होगी, तो यह आपके स्तन के लिए नुकसानदायक हो सकता है.

ब्रा पहनने से होने वाले फायदे और नुकसान-
1. ब्रैस्ट को सपोर्ट करना- महिलायों के ब्रैस्ट फैटी टिश्यू से बने होते हैं. इनमे मांसपेशियां नहीं होती है. इसलिए ब्रा पहनने से स्तन को समर्थन प्रदान होती है जिससे स्तन ढीले नहीं होते है.

2. सही बॉडी पोस्चर के लिए- ब्रा पहनने से महिलायों को बॉडी पोस्चर सही रखने में मदद मिलती है. स्वस्थ्य रहने के लिए बॉडी का सही पोस्चर होना बहुत जरुरी है.

3. आकर्षक नज़र आने के लिए- ब्रैस्ट का सही साइज़ आपको आकर्षक बनाती है.ब्रा पहनने से महिलायों के ब्रैस्ट साइज़ में बदलाव होता है. इसके अलावा ब्रा पहनने से ब्रैस्ट साइज़ कम होने पर भी उभार ला सकती है.

4. आराम पाने के लिए- सही साइज़ का ब्रा पहनने से महिलायों को बहुत आराम मिलता है. साथ ही यह पसीने सोखने के भी काम आता है . इस पसीने के कारण ब्रैस्ट इन्फेक्शन होने का खतरा भी बढ़ जाती है.
एक्सरसाइज करने के दौरान आरामदायक ब्रा का ही चयन करना चाहिए, जिससे आपको असहजता महसूस ना हो.

ब्रा पहनने के नुकसान
1. ब्रा से गर्दन, कंधे और पीठ में दर्द- यदि आप गलत साइज़ की ब्रा पहनती है, तो यह आपको आराम प्रदान करने की बजाए परेशानी उत्पन्न कर सकती है. टाइट ब्रा पहनने से कई बार महिलाओं की गर्दन, कंधे और पीठ में दर्द होने लगता है.

2. लसिका प्रणाली- एक स्टडी से पता लगा है की ब्रा पहनने से महिलायों की लसिका प्रणाली प्रभावित होती है.लसिका प्रणाली बॉडी से टॉक्सिक पदार्थो को बाहर निकालने का कार्य करती है. इसके प्रभावित होने से कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता है.

3. त्वचा पर रैशेज़ होना- कई बार टाइट ब्रा पहनने से कंधे पर रैशेज़ हो जाते है, जिससे कंधे पर जलन होने लगती है.
1 person found this helpful

अंडाशय क्या है - Andashay Kya Hai!

अंडाशय क्या है - Andashay Kya Hai!
अंडाशय महिलाओं के प्रजनन प्रणाली में अंगों की एक जोड़ी है. यह गर्भाशय के दोनों हिस्से पर पेल्विक में स्थित होते हैं. महिलायों में दो अंडाशय होते होते हैं जों अंडे के साथ साथ एस्ट्रोजन और प्रोजेस्ट्रोन हार्मोन का उत्पादन करते है. गर्भाशय खोखले, नाशपाती के साइज़ का होता है, जिसमे एक बच्चा बढ़ता है. प्रत्येक अंडाशय लगभग एक बादाम के साइज़ का होता है. इससे अंडे और महिला हार्मोन का उत्पादन होता है. यह हार्मोन एक केमिकल होते है जिनसे कुछ कोशिकाओं या अंगों की कार्यप्रणाली कंट्रोल होती है. हर महीने, महिला के मासिक धर्म के दौरान ओवरी के अंदर एक अंडा बढ़ता है. यह अंडा फोलिकल नामक एक छोटी सी थैली में बढ़ता है.

जब अंडा परिपक्व हो जाता है, तब वह थैली को तोड़कर बाहर आ जाता है. अंडा फर्टिलाइजेशन के लिए यूटेरस तक फैलोपियन ट्यूब के माध्यम से यात्रा करता है. जब थैली घुल जाती है, खली थैली का पित-पिंड बन जाता है. पित-पिंड वह हार्मोन बनाता है जो अगले अंडे की की तैयारी करने में सहायता करता है.

यह हार्मोन प्रभावित करता है:
* स्तन और शारीरिक बालों का विकास
* बॉडी साइज़
* मासिक धर्म चक्र
* प्रेगनेंसी

ओवेरियन सिस्ट क्या है
ओवेरियन सिस्ट, अंडाशय में बनने वाले सिस्ट होते हैं जो बंद थैलिनुमा साइज़ के होते है और तरल पदार्थ से भरे होते है. ज्यादातर समय तक आपको पता भी नहीं चलेगा कि आपको एक ओवेरियन सिस्ट हैं. महिलाओं में अक्सर कोई लक्षण नहीं दिखाई देते है और सिस्ट कुछ हफ़्तों या महीनों के अन्दर अपने आप ही डिसाॅल्व हो जाती है. हालाँकि, अगर सिस्ट बढती रहती है तो वह डिसाॅल्व नहीं होती, जिससे पेट में दर्द या दबाब महसूस होती हैं. यह बॉडी में कहीं भी बन सकती है. ओवेरियन सिस्ट विभिन्न प्रकार के होते हैं, जैसे डर्मोइड सिस्ट और एंडोमेट्रियोमा सिस्ट. हालाँकि,इनमे कार्यात्मक सिस्ट ज्यादा प्रमुख होते हैं, जो दो तरह की होती है:

ओवेरियन सिस्ट के प्रकार
* फाॅलिकल सिस्ट- इस प्रकार की सिस्ट तब बनती है जब थैली अंडे को निकालने के लिए टूट नहीं पाती, तब थैली बढ़ती रहती है. इस तरह के सिस्ट आमतौर पर एक या दो महीने में दूर हो जाती है.

* काॅर्पस लूटम सिस्ट- यह सिस्ट फाॅलिकल डिसाॅल्व नहीं होने पर बनती है. इसके बजाए, अंडे निकलने के बाद बंद हो जाती हैं और फिर इसमें अतिरिक्त द्रव जमा होने लगता है. यह अतिरिक्त द्रव का जमा होने ही काॅर्पस लूटम सिस्ट का कारण बनती है.

ओवेरियन सिस्ट के अन्य प्रकार:
* एंडोमेट्रियोमा- यह सिस्ट तब बनती है जब गर्भाशय के अस्तर की तरह दिखने वाली टिश्यू गर्भाशय के बाहर बढ़ने लगता है. यह टिश्यू अंडे से जुड़कर विकसित हो सकता है. यह सिस्ट सेक्स और मासिक धर्म चक्र के दौरान दर्द पैदा कर सकती है.
* सिस्टाडेनोमास- यह अंडाशय की बाहरी सतह पर विकसित होती है जो कैंसर के कारण नहीं होती हैं. यह अक्सर एक पानी जैसे तरल पदार्थ या गाढ़े, चिपचिपे जेल से भरी होती है.

* डर्मोइड सिस्ट- अंडाशय पर थैलिनुमा स्ट्रक्चर जिनमें फैट, फाइबर और अन्य टिश्यू मौजूद होते हैं.

* पोलिसिस्टिक अंडाशय- यह सिस्ट तब बनती है जब अंडे थैलियों के अन्दर परिपक्व हो जाते हैं, लेकिन निकल नहीं पाते है. यह साइकिल दोहराया जाता है. थैलियों में वृद्धि होती रहती है और दर्द पैदा कर सकती है.

ओवेरियन सिस्ट के लक्षण क्या हैं?
आमतौर पर कई ओवेरियन सिस्ट लक्षण पैदा नहीं करती, लेकिन कुछ ओवेरियन सिस्ट के लक्षण निम्न स्थितियां हो सकती हैं:

* दबाब, सूजन या पेट दर्द
* पेल्विक पेन
* पीठ के निचले हिस्से में दर्द
* पेशाब की समस्याएं
* सेक्स के दौरान दर्द
* वजन बढ़ना
* मासिक धर्म के दौरना दर्द
* उबकाई या उल्टी
* स्तन कोमलता
* पेट में अचानक गंभीर दर्द
* बेहोशी, चक्कर आना या कमजोरी

ओवेरियन सिस्ट का इलाज-
डॉक्टर नियमित पेल्विक चेकअप के दौरना ओवेरियन सिस्ट का पता लगा सकते हैं. आपका डॉक्टर सिस्ट के साइज़ के आधार पर इलाज शुरू करता है, सिस्ट के साइज़ पर निर्भर करता है की डॉक्टर या तो लेप्रोस्कोपी या लेप्रोटोमी कर सकता है.

लेप्रोस्कोपी- यदि आपकी सिस्ट छोटी है और अल्ट्रासाउंड पर कैंसरमुक्त लग रही है, तो डॉक्टर नाभि के पास एक छोटा चीरा लगाकर पेट में छोटा सा डिवाइस डालकर सिस्ट निकाल देते हैं.
लैप्रोटोमी- यदि आपकी सिस्ट बड़ी है, तो डॉक्टर आपके पेट में एक बड़ा चीरा लगाकर सिस्ट को सर्जरी के माध्यम से निकाल देते हैं. इस स्थिति ममें डॉक्टर बायोप्सी भी कर सकते है और यदि उन्हें लगता है सिस्ट कैंसर का कारण बन सकती है , तो वे आपके अंडाशय और गर्भाशय को हटाने के लिए हिस्टेरेक्टाॅमी कर सकते हैं.
बर्थ कंट्रोल पिल्स- यदि में बार-बार सिस्ट हो जाती है तो डॉक्टर नहीं सिस्ट के विकास को रोकने के लिए
बर्थ कंट्रोल पिल्स निर्धारित कर सकते हैं. बर्थ कंट्रोल पिल्स भी ओवरियन कैंसर का जोखिम कम कर सकती है.

Will taking provera 2.5 mg tablets induce irregular periods? If yes then in how many days?

Will taking provera 2.5 mg tablets induce irregular periods? If yes then in how many days?
Provera is a hormonal tablet so yes it can cause change in menstrual cycle. But one cannot predict how many days periods will be delayed. Generally periods appear after 24 to 72 hours of last medicine. You can consult me at Lybrate for homeopathic treatment and further guidance.
Submit FeedbackFeedback
Submit FeedbackFeedback

Hi I sir ,i m also using ovral g from last 6 to 7 days .l want to confirm that is this really helpful to regulate period cycle. How many I should take this tablet.

Hi I sir ,i m also using ovral g from last 6 to 7 days .l want to confirm that is this really helpful to regulate per...
It is very harmful and will not help and may bring periods this time but it will be more irregular next time. Better take homoeopathic treatment. You can consult me at Lybrate.
Submit FeedbackFeedback

My wife has left ovarian follicular cyst measuring 1.3×1.4 cm,she has irregular periods and back pain, is it a serious problem, what can we do, suggest me sir.

My wife has left ovarian follicular cyst measuring 1.3×1.4 cm,she has irregular periods and back pain, is it a seriou...
Ovarian cysts 3 cm or smaller are functional cysts, part of the ovulatory cycle, and do not require treatment. Larger cysts also often resolve on their own but should be followed up with an ultrasound in 1 to 3 months. Sometimes birth control pills, patch or ring are used to help the cyst shrink, very large, 6 cm or larger, cysts containing solid material, and cysts with several compartments or septations, sometime require laparoscopic surgery. After an ovarian cyst is evaluated by ultrasound and found to be only fluid (no solid components) it is best to let it heal on its own.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

I'm 27 years old girl & unmarried. My period time was on 22 april 19 & it come on 18 may 19. What was the reason.

I'm 27 years old girl & unmarried. My period time was on 22 april 19 & it come on 18 may 19. What was the reason.
Dear lybrate-user ji, delayed menses may be due to the following: -stress: mental stress can temporarily alter the functioning of your hypothalamus — an area of your brain that controls the hormones that regulate your menstrual cycle -cysts in ovaries, -thyroid problems, -uterine diseases like polyps, fibroids, adenomyosis, -hormonal imbalances, -some medications like, anti-depressants, anti-psychotics, allergy medicines etc. Homeopathy has got complete cure for delayed menses by constitutional treatment and holistic approach. Homeopathic medicines help to resolve the underlying cause along with brings the hormones into normal without any external hormones. I suggest you to take an appointment for consultation so that detail case can be discussed and rule out the cause and proceed further for treatment. You can consult me online. Thank you.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback