Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Call Doctor
Book Appointment

Dr. Diwajapada Saha

Gynaecologist, Kolkata

Book Appointment
Call Doctor
Dr. Diwajapada Saha Gynaecologist, Kolkata
Book Appointment
Call Doctor
Submit Feedback
Report Issue
Get Help
Services
Feed

Personal Statement

I'm dedicated to providing optimal health care in a relaxed environment where I treat every patients as if they were my own family....more
I'm dedicated to providing optimal health care in a relaxed environment where I treat every patients as if they were my own family.
More about Dr. Diwajapada Saha
Dr. Diwajapada Saha is a trusted Gynaecologist in Kankurgachi, Kolkata. You can consult Dr. Diwajapada Saha at Dr. Diwajapada Saha's clinic in Kankurgachi, Kolkata. Book an appointment online with Dr. Diwajapada Saha and consult privately on Lybrate.com.

Lybrate.com has top trusted Gynaecologists from across India. You will find Gynaecologists with more than 34 years of experience on Lybrate.com. You can find Gynaecologists online in Kolkata and from across India. View the profile of medical specialists and their reviews from other patients to make an informed decision.

Info

Specialty
Languages spoken
English
Hindi

Location

Book Clinic Appointment with Dr. Diwajapada Saha

Dr. Diwajapada Saha's clinic

1st Flr, Nazrul Islam Avenue, Kankurgachi, KolkataKolkata Get Directions
...more
View All

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr. Diwajapada Saha

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

How to Enjoy These 5 Health Miracles of Japanese Water Therapy

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Ambala
How to Enjoy These 5 Health Miracles of Japanese Water Therapy
5 Health Miracles of Japanese Water Therapy

The Japanese Water Therapy is one of the easiest routines you can follow to make one of the healthiest impacts on your life. A lot of real-life accounts would tell you how people with debilitating health felt they were born again after using this therapy.

Let’s see know how it works.

Rules of the therapy-

1. Drink 640ml (around 4 glasses of water) just after waking up and before brushing.
2. Brush your teeth but don’t eat or drink anything for the next 45 minutes.
3. After each meal, don’t drink or eat for the next 2 hours
4. For the old and the sick, it is best to start with a little amount of water and gradually increase it to 4 glasses

The Benefits

There are multiple benefits of this straightforward and natural therapy. Try this and you can get rid of body aches, headaches, arthritis, epilepsy, meningitis, excess body fat, kidney and urinary diseases, piles, diarrhoea, asthma, bronchitis, various eye diseases, menstrual problems, ear nose and throat diseases etc. Plus, it also slows down your heartbeat and keeps your heart healthy.

1. Cure high BP and other diseases in a few days
The Japanese Water Therapy is known to cure certain diseases in matter of few days. You can bid adieu to high blood pressure in 30 days, gastric problems in just 10 days, diabetes in 30 days, constipation in 10 days, cancer in 180 days and TB in 90 days. For arthritis, 3 days of the therapy in the 1st week and daily from the 2nd week must be followed.

2. Purify your body
If you drink water on an empty stomach daily, it’ll purify your colon so that the absorption of nutrients becomes an easier process. Plus, this method will increase the production of new blood and muscle cells in your body.

3. Lose extra weight
Did you know that drinking around 500 ml of chilled water every morning will boost your metabolism by 24%? This is the simplest way you can slim down and achieve that perfect body weight you always wanted.

4. Get glowing skin naturally
Since water is a known body purifier, it effectively purges the toxins present in your blood. So every morning you can wake up with clear, healthy and glowing skin.

5. Stabilise your lymph system
Water balances your lymph system, which helps your glands to perform their daily functions efficiently. Plus, it balances your body fluids and also fights infections.


If you would like to consult with me privately, please click on 'Consult'.
6888 people found this helpful

My age 27 year's Meri wife age 25 year's uske ovary (privet part, niche k side) bahut khujli hota hai candid ka ek powder hamesha lagati hai par khujali bahut hota hai.

BHMS
Homeopath, Faridabad
Hi, take sulphur 200, 5 drops, single dose. Take kreosotum 30, 3 drops, twice a day. Revert after 1 week. Thanks.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Gestational Surrogacy

DNB (Obstetrics and Gynecology), MBBS
IVF Specialist, Delhi
Gestational Surrogacy

Gestational Surrogacy

We will help you evaluate the benefits of gestational surrogacy and provide you with information about cost, legal issues, and treatment protocols.

In traditional surrogacy, the surrogate is pregnant with her own biological child, but this child will be raised by others. In gestational surrogacy, the surrogate becomes pregnant via embryo transfer with a child that is not biologically her own. The surrogate mother may be called the gestational carrier.

Once a suitable surrogate has been identified, and the screening process is complete, the cycle can begin. Timing depends on the surrogate’s and intended parents/donors menstrual cycle .

Surrogacy Cycle Overview

Evaluation Cycle

The surrogate needs to prepare her uterus for implantation with natural estrogen and progesterone. Because each woman is a little different, the dose, duration, and method of administering these hormones may need to be individualized. This can be determined ahead of time by conducting an evaluation cycle. This is a “dry run” in which we duplicate each part of the cycle except the actual transfer of embryos in order to determine how to maximize the chances of success. The evaluation cycle can be completed anytime before the actual procedure. In some circumstances, the evaluation cycle can be waived when the response of the uterus to hormonal stimulation is well known. This is fairly common for women who have undergone many treatment cycles in the past.

I am 27 year old married women. I feel dryness in my vagina during intercourse. contraceptive pill can solve this problem.

C.S.C, D.C.H, M.B.B.S
General Physician, Alappuzha
Dryness is due to our mind and body not being ready or aroused. At this age there is no other reason. When you prepare for sex make up your mind ready to excite . If not useful you can use some gelly
Submit FeedbackFeedback

I had an abortion in the month of october due to torch test there is many infection but now I am pregnant my doctor suggested me to take eeamahp5000 injection is it safe to take.

C.S.C, D.C.H, M.B.B.S
General Physician, Alappuzha
Eema HP 5000 IU Injection is used in the treatment of female infertility and male hypogonadism.In females, Eema HP 5000 IU Injection helps to develop eggs in the ovaries. In males, it stimulates the testes to produce male hormone such as testosterone. If you are pregnant I do not understand the reason for asking you to take the injection and you have to clarify with the doctor.
Submit FeedbackFeedback

Please help me know the difference between bleeding between periods, and prolonged menstrual periods.

MBBS
General Physician, Chandigarh
Please help me know the difference between bleeding between periods, and prolonged menstrual periods.
Prolonged periods is continuation of the menstrual period and bleeding between periods is when you have another fresh cycle in between your two cycles.
Submit FeedbackFeedback

Hi, I'm a newly married & we have some plans that we don't need kids up to 2 years with sex we don't need kids so please suggest me safety precautions for this what to do.

MD - Homeopathy, BHMS
Homeopath, Vadodara
Hi,  I'm a newly married & we have some plans that we don't need kids up to 2 years with sex we don't need kids so pl...
Hi Dharani.... there are various methods of contraception... Like Contraceptive pills, Copper T, calender method, Coitus Interruptus, and Condoms... Contraceptive pills and Copper T have many complications and side effects.. and my advise is to avoid them as much as possible... Calendar method is not always successful if the periods are irregular and other reasons.. Coitus Interrptus: is withdrawing penis before ejaculation and avoiding internal ejaculation but it is very hard to control.... So my personal advise is to use condoms... it not only prevents pregnancy but also from the infections.... and there are other benefits...as they are lubricated then minimum pain during initial insertion, and many more...
Submit FeedbackFeedback

धात रोग का प्रमुख कारण क्या है ?

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Sexologist, Allahabad
धात रोग का प्रमुख कारण क्या है ?

धात रोग का प्रमुख कारण क्या है ? 

जब भी किसी पुरुष के मन में काम या सेक्स की भावना बढ जाती है! तो लिंग अपने आप ही कड़ा हो जाता है और उसका अंग  उत्तेजना की अवस्था में आ जाता है! इस अवस्था में व्यक्ति के लिंग से पानी के रंग के जैसी पतली लेस के रूप में निकलने लगती है! लेस बहूत कम होने के कारण ये लिंग से बाहर नहीं आ पाती है, लेकिन जब व्यक्ति काफी अधिक देर तक उत्तेजित रहता है तो ये लेस लिंग के मुहँ के ऊपरी हिस्से में आ जाता है जिस को की Male G Spote कहा जाता है 
आज के युग में अनैतिक सोच और अश्लीलता के बढ़ने के कारण आजकल युवक और युवती अक्सर अश्लील फिल्मे देखते और पढते है तथा गलत तरीके से अपने वीर्य और रज mani को बर्बाद करते है! अधिकतर लड़के-लड़कीयां अपने ख्यालों में ही शारीरिक संबंध बनाना भी शुरू कर देते है! जिसके कारण उनका लिंग अधिक देर तक उत्तेजना की अवस्था में बना रहता है, और लेस ज्यादा मात्रा में बहनी शुरू हो जाती है! और ऐसा अधिकतर होते रहने पर एक वक़्त ऐसा भी आता है! जब स्थिति अधिक खराब हो जाती है और किसी लड़की का ख्याल मन में आते ही उनका लेस (वीर्य) बाहर निकल जाता है, और उनकी उत्तेजना शांत हो जाती है! ये एक प्रकार का रोग है जिसे शुक्रमेह कहते है!

वैसे इस लेस में वीर्य का कोई भी अंश देखने को नहीं मिलता है! लेकिन इसका काम पुरुष यौन-अंग की नाली को चिकना और गीला करने का होता है जो सम्बन्ध बनाते वक़्त वीर्य की गति से होने वाले नुकसान से लिंग को बचाता है!

धात रोग का प्रमुख कारण क्या है? ( Causes of Discharge Weakness )

  • अधिक कामुक और अश्लील विचार रखना!
  • मन का अशांत रहना!
  • अक्सर किसी बात या किसी तरह का दुःख मन में होना!
  • दिमागी कमजोरी होना!
  • व्यक्ति के शरीर में पौषक पदार्थो और तत्वों व विटामिन्स की कमी हो जाने पर!
  • किसी बीमारी के चलते अधिक दवाई लेने पर 
  • व्यक्ति का शरीर कमजोर होना और उसकी प्रतिरोधक श्रमता की कमी होना!
  • अक्सर किसी बात का चिंता करना
  • पौरुष द्रव का पतला होना
  • यौन अंगो के नसों में कमजोरी आना
  • अपने पौरुष पदार्थ को व्यर्थ में निकालना व नष्ट करना (हस्तमैथुन अधिक करना)


धात रोग के लक्षण क्या है? ( Symptoms of Discharge Weakness ) : 

मल मूत्र त्याग में दबाव की इच्छा महसूस होना! धात रोग का इशारा करती है! 
 

  • लिंग के मुख से लार का टपकना!
  • पौरुष वीर्य का पानी जैसा पतला होना!
  • शरीर में कमजोरी आना!
  • छोटी सी बात पर तनाव में आ जाना!
  • हाथ पैर या शरीर के अन्य हिस्सों में कंपन या कपकपी होना!
  • पेट रोग से परेशान रहना या साफ़ न होना, कब्ज होना!
  • सांस से सम्बंधित परेशानी, श्वास रोग या खांसी होना!
  • शरीर की पिंडलियों में दर्द होना!
  • कम या अधिक चक्कर आना!
  • शरीर में हर समय थकान महसूस करना!
  • चुस्ती फुर्ती का खत्म होना!
  • मन का अप्रसन्न रहना और किसी भी काम में मन ना लगना इसके लक्षणों को दर्शाता है!


धात रोग के आयुर्वेदिक उपाय ( Aayurvedic Remedies for Discharge Falling ) 

 

  • गिलोय ( Tinospora ) : धात रोग से मुक्ति प्राप्त करने के लिए 2 चम्मच गिलोय के रस में 1 चम्मच शहद मिलकर लेना चाहिए!
  • आंवले ( Amla ) :  प्रतिदिन सुबह के वक़्त खाली पेट दो चम्मच आंवले के रस को शहद के साथ लें! इससे जल्द ही धात पुष्ट होने लगती है! सुबह शाम आंवले के चूर्ण को दूध में मिला कर लेने से भी धात रोग में बहूत लाभ मिलता है!
  • तुलसी ( Basil ):  3 से 4 ग्राम तुलसी के बीज और थोड़ी सी मिश्री दोनों को मिलाकर दोपहर का खाना खाने के बाद खाने से जल्दी ही लाभ होता है!
  • सफ़ेद  मुसली ( White Asparagus Abscendens ):  अगर 10 ग्राम सफ़ेद मुसली का चूर्ण में मिश्री मिलाकर खाया जाए और उसके बाद ऊपर से लगभग 500 ग्राम गाय का दूध पी लें तो अत्यंत लाभ करी होता है! इस उपाय से शरीर को अंदरूनी शक्ति मिलती है और व्यक्ति के शरीर को रोगों से लड़ने के लिए शक्ति मिलती है!
  • उड़द की दाल ( Udad Pulses ) : अगर उड़द की दाल को पीसकर उसे खांड में भुन लिया जाए तो भी जबरदस्त लाभ जल्दी ही मिलता है!
  • जामुन की गुठली ( Kernels of Blackberry ): जामुन की गुठलियों को धुप में सुखाकर उसका पाउडर बना लें और उसे रोज दूध के साथ खाएं! कुछ हफ़्तों में करने पर ही आपका धात गिरना बंद हो जायेगा!
5 people found this helpful

Gathiya Rog Me Parhej in HIndi - गठिया रोग मे परहेज

MBBS, M.Sc - Dietitics / Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Delhi
Gathiya Rog Me Parhej in HIndi - गठिया रोग मे परहेज

गठिया, एक या अधिक जोड़ों की सूजन है। हालांकि, "गठिया" शब्द का अर्थ जोड़ों की सूजन है, परंतु इस शब्द का उपयोग लगभग 200 आमवाती रोगों और शर्तों का वर्णन करने के लिए किया जाता है, जो जोड़ों, जोड़ों के आसपास के ऊतकों और अन्य संयोजी ऊतक को प्रभावित करते हैं । सामान्य गठिया के लक्षणों में सूजन, दर्द, कड़ापन और गति की सीमा में कमी शामिल है। गठिया के कुछ प्रकार, जैसे संधिशोथ गठिया और ल्यूपस (एसएलई), कई अंगों को प्रभावित कर सकते हैं और व्यापक लक्षण पैदा कर सकते हैं। गठिया 65 वर्ष या उससे अधिक आयु के लोगों में बहुत आम है, लेकिन सभी उम्र के लोग (बच्चों सहित) प्रभावित हो सकते हैं।
 

लगभग 200 प्रकार की गठिया स्थितियां होती हैं, जो सात मुख्य समूहों में विभाजित हैं:
1. सूजन संबंधी गठिया
2. अपक्षयी गठिया 
3. मुलायम ऊतक पेशाब का दर्द
4. पीठ दर्द
5. संयोजी ऊतक रोग
6. संक्रामक गठिया
7. मेटाबोलिक गठिया
जब आपके गठिया होते हैं, तो आपका शरीर सूजन की स्थिति में होता है। आप जो खाते हैं वह न केवल सूजन को बढ़ा सकता है, बल्कि मोटापा, हृदय रोग और मधुमेह जैसी अन्य चिरकाली स्थितियों का खतरा भी बढ़ा सकता है। इसके अलावा, कुछ खाद्य पदार्थ सूजन से लड़ने, हड्डियों को मजबूत करने और प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने के लिए जाने जाते हैं। 
 

गठिया रोग मे परहेज
निम्नलिखित खाद्य पदार्थों का परहेज़ करें:
1. तला और प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ: 
शोधकर्ताओं ने पाया है कि तला हुआ और संसाधित खाद्य पदार्थों की खपत को कम करने से सूजन कम हो सकती है और वास्तव में शरीर की प्राकृतिक सुरक्षा को बहाल करने में मदद मिलती है। वनस्पति तेलों में तला हुआ भोजन से बचें, जो ओमेगा -6 फैटी एसिड में अधिक है। 
2. मीठा: डेसर्ट, पेस्ट्री, चॉकलेट बार, सोडा, यहां तक कि फलों के रस का विरोध करना मुश्किल हो सकता है। वे रक्त की अम्लता बढ़ा सकते हैं और सूजन को बढ़ा सकते हैं। चीनी कई नामों से जाना जाता है, इसलिए संघटक लेबल पर "ओज़" में समाप्त होने वाले शब्दों का ध्यान दें, जैसे कि फ्रुक्टोज या सुक्रोज़।
3. लाल मांस: इसमें एरेक्इडोनिक एसिड नामक एक ओमेगा -6 फैटी एसिड का उच्च स्तर होता है, जो दर्द और सूजन को बढ़ा सकता है। अच्छी गुणवत्ता वाले लाल मांस का एक छोटा टुकड़ा फायदेमंद हो सकता है, लोहा जैसे अच्छे स्तरों की आपूर्ति कर सकता है; हालांकि, गठिया वाले लोगों को प्रति सप्ताह एक या दो बार से ज्यादा नहीं खाना चाहिए।
4. कॉफ़ी: कॉफी भी रक्त की बढ़ती अम्लता का कारण बन सकती है, जिससे सूजन बढ़ जाती है। हरी चाय और हर्बल चाय बेहतर विकल्प हैं।
5. नैटशाइड परिवार की सब्जियां: टमाटर, सफ़ेद आलू, बैंगन और काली मिर्च गठिया वाले कुछ लोगों में दर्द और सूजन को बढ़ा सकते हैं।
6. मोनो-सोडियम ग्लूटामेट (एम.एस.जी): मोनो-सोडियम ग्लूटामेट (एम.एस.जी) एक स्वाद बढ़ाने वाला खाद्य योजक है जो सबसे अधिक तैयार एशियाई भोजन और सोया सॉस में पाया जाता है। यह फास्ट फूड, तैयार सूप्स, सलाद ड्रेसिंग और डेली मांस में भी जोड़ा जाता है। यह क्रोनिक सूजन को ट्रिगर कर सकता है और यकृत के स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है।
7. नमक और परिरक्षक: लंबे समय तक शेल्फ जीवन को बढ़ावा देने के लिए कई खाद्य पदार्थों में अत्यधिक नमक और अन्य संरक्षक शामिल होते हैं। कुछ लोगों के लिए, नमक की अतिरिक्त खपत के कारण जोड़ों की सूजन हो सकती है।
8. शराब और तंबाकू: तंबाकू और शराब का इस्तेमाल कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं पैदा कर सकता है, जिनमें कुछ आपके जोड़ों को प्रभावित कर सकती हैं। धूम्रपान करने वालों को संधिशोथ के विकास के लिए अधिक खतरा होता है, जबकि जो लोग शराब का सेवन करते हैं वे गाउट के विकास के लिए अधिक जोखिम रखते हैं। इसके अतिरिक्त, शराब यकृत के लिए एक बोझ है। अत्यधिक उपयोग यकृत फ़ंक्शन को कमजोर कर देता है, अन्य बहु-अंग परस्पर क्रियाओं को बाधित कर सकता है और सूजन पैदा कर सकता है।
अपने आहार में फल और सब्जियों के अनुपात में वृद्धि, सूजन को बढ़ावा देने वाले खाद्य पदार्थों पर की कटाई, मछली को अपना मुख्य प्रोटीन बनाने और अधिक ओमेगा -3 प्राप्त करने से आपके गठिया के लक्षणों में बड़ा अंतर हो सकता है।

4468 people found this helpful
View All Feed

Near By Doctors

85%
(10 ratings)

Dr. The Papilio Clinic - Pro Fertility Counseling

Gynaecologist
The Papilio Clinic, 
300 at clinic
Book Appointment
89%
(4692 ratings)

Dr. Ramna Banerjee

DGO, MD, MRCOG, CCST, Accredation in Colposcopy
Gynaecologist
Nidaan Polyclinic, 
400 at clinic
Book Appointment
86%
(108 ratings)

Dr. Ranjana Tibrewal

MBBS, MS
Gynaecologist
Medica Clinic, 
300 at clinic
Book Appointment
90%
(169 ratings)

Dr. Sharmishtha Patra

MBBS, MS - Obstetrics and Gynaecology, MRCOG
Gynaecologist
Apollo Gleneagles Hospitals, 
600 at clinic
Book Appointment

Dr. Abhishek Daga

MBBS, MS - Obstetrics & Gynaecology
Gynaecologist
Gynae Care Fertility Centre, 
300 at clinic
Book Appointment

Dr. Suchetana Sengupta

MBBS, Diploma of the Faculty of Family Planning (DFFP), DRCOG, MRCOG
Gynaecologist
Care IVF- Salt Lake Branch, 
300 at clinic
Book Appointment