Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Call Doctor
Book Appointment

Dr. Nirmala Kumari P

Gynaecologist, Hyderabad

100 at clinic
Book Appointment
Call Doctor
Dr. Nirmala Kumari P Gynaecologist, Hyderabad
100 at clinic
Book Appointment
Call Doctor
Submit Feedback
Report Issue
Get Help
Services
Feed

Personal Statement

To provide my patients with the highest quality healthcare, I'm dedicated to the newest advancements and keep up-to-date with the latest health care technologies....more
To provide my patients with the highest quality healthcare, I'm dedicated to the newest advancements and keep up-to-date with the latest health care technologies.
More about Dr. Nirmala Kumari P
Dr. Nirmala Kumari P is a renowned Gynaecologist in Adibatla, Hyderabad. You can meet Dr. Nirmala Kumari P personally at Dr.Nirmala Kumari's Clinic in Adibatla, Hyderabad. You can book an instant appointment online with Dr. Nirmala Kumari P on Lybrate.com.

Lybrate.com has a nexus of the most experienced Gynaecologists in India. You will find Gynaecologists with more than 30 years of experience on Lybrate.com. Find the best Gynaecologists online in Hyderabad. View the profile of medical specialists and their reviews from other patients to make an informed decision.

Info

Specialty
Languages spoken
English

Location

Book Clinic Appointment with Dr. Nirmala Kumari P

Dr.Nirmala Kumari's Clinic

#17-1-12, Opposite Bandaka, Edi Bazar, Santhosh Nagar. Landmark: Near Water Tank, HyderabadHyderabad Get Directions
100 at clinic
...more
View All

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr. Nirmala Kumari P

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

Is it possible to be pregnant after taking deviry. Because no periods after taking deviry.

BASM, MD, MS (Counseling & Psychotherapy), MSc - Psychology, Certificate in Clinical psychology of children and Young People, Certificate in Psychological First Aid, Certificate in Positive Psychology, Positive Psychiatry and Mental Health
Psychologist, Palakkad
Is it possible to be pregnant after taking deviry. Because no periods after taking deviry.
Dear user. TO CAUSE PREGNANCY on a woman, sperm should be ejaculated inside the vagina or fresh sperm should be inseminated inside the vagina with some means during the fertility period of the woman. There are many determinants of pregnancy. You should be sexually matured. Your partner should be sexually matured. The period of your partner should be in the fertile stage. Her egg and your sperm cells should be healthy enough. Then her uterus should be capable to get conceived. If all these were satisfied, the pregnancy could be a result. Semen do not pass through clothes to make pregnancy. Sex during periods does not cause pregnancy. Usually precum do not contain any sperm cells. Period means disintegration of the uterus membrane which is meant to be for the child. Swallowing male sperm cannot cause pregnancy. If you have taken unwanted 72 within 72 hours of intercourse, the chances of pregnancy is low.In the given case, there are less chances of pregnancy. Take care.
2 people found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Esophagectomy - Why Should You Go for it?

MBBS, M S General Surgery ,
General Surgeon, Chandigarh
Esophagectomy - Why Should You Go for it?

Esophagectomy is a procedure of removing a part of the esophagus and reconstructing the same using another organ of the body. The esophagus is the tube that connects the stomach and the mouth. This procedure is often performed in an advanced stage of esophageal cancer and Barrett’s esophagus. This procedure removes the cancer cells from the esophagus and gives relief from the symptoms. The organs from where the reconstructing tissues are taken are generally large intestine and stomach.

Many esophagectomy surgeries are performed with minimally invasive techniques. The latter is commonly known as laparoscopic surgery. This is a procedure where numerous small incisions are made in order to perform the surgery. This procedure results in faster recovery and reduced pain as compared to the conventional surgery.

Newer methods such as Robotic surgery are being adopted by many doctors these days. Procedures like these can access the esophagus through places such as the throat, collarbone and abdomen. They make a minute incision to get to the exact location of the cancer and treat them with an improved precision, unlike the conventional surgical methods.

An important aspect of treating this condition is to determine the procedure that is going to be implemented. To determine this, doctors uses imaging techniques such as PET scan, CT scan and an MRI scan. A doctor might also prescribe other tests such as FNAC and endoscopic ultrasound. Heart evaluations are also conducted before the surgery to ensure that there are no complications involved while performing the surgery.

Before Esophagectomy

Unless the cancer is detected at a very early stage, most doctors recommend radiation or chemotherapy or both. These treatments help to shrink the size of the cancer and make for an effective esophagectomy. Both chemotherapy and radiation have their set of side effects, which include loss of appetite, fatigue, hair loss, vomiting and skin discolouration.

After Esophagectomy

Post the procedure, a patient cannot directly consume food. He is required to consume food through a pipe for a duration of four-six weeks. Adequate nutrition is required during this phase to recover quickly. Once the patient is able to resume a normal diet, it should be ensured that he takes food in reduced quantities to make up for the reduced stomach size.

Follow-up

Almost 90% of patients who have gone through this procedure report an improved life quality. While lifestyle related adjustments have to be made, there could be regular follow-ups to ensure the below mentioned complications do not arise:

1. Breathing-related problems

2. Swallowing problem

3. Effectively managing heartburn and ensuring the pain is under control

4. A thorough review of the nutritional diet to be consumed by the patient to counter sudden weight loss. If you wish to discuss about any specific problem, you can consult a oncologist and ask a free question.

1792 people found this helpful

I am 30 years old female and still virgin. I just want to know that Hyman becomes stronger by the age increases. Because I tried sex 2-3 times but hymen didn't break and was paining more. And not succeeded in sex.

BSc - Food Science & Nutrition, PGD in Sports Nutrition and Dietitics , Diabetes Educator
Dietitian/Nutritionist, Mumbai
I am 30 years old female and still virgin. I just want to know that Hyman becomes stronger by the age increases. Beca...
Hello, First and foremost, it is a myth that hymen breaks during first time intercourse. For all you know your hymen must have ruptured without you realising it as it is not mandorarily accompanied by bleeding. A, painful intercourse also determines lack of proper lubrication.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Good morning doctor, Please is it okay to take watermelon immediately after menstrual period and what are the benefits.

DHMS (Hons.)
Homeopath, Patna
Good morning doctor, Please is it okay to take watermelon immediately after menstrual period and what are the benefits.
Hello, in my opinion it'can be taken after period as it contains 95 % of water. It maintains high BP, hydrates the body. Watermelon contains vit'A, B6, C with antioxidants, amino acid & potassium. The care.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback

Tambaku Side Effects in hindi - तम्बाकू के दुष्प्रभाव

MBBS, M.Sc - Dietitics / Nutrition
Dietitian/Nutritionist, Delhi
Tambaku Side Effects in hindi -  तम्बाकू के दुष्प्रभाव

नशा एक ऐसी बीमारी है जो हमें और हमारे अपनों को जीवन भर रुलाने की वजह बन सकती है। समाज का हर तबक़ा, हर उम्र के लोग नशे की चपेट में आते जा रहे हैं। आज बच्चे, बूढ़े, महिलाएं, पुरुष सभी नशे की लत घिरे हुए हैं और यह स्थिति दिन ब दिन भयावह रूप लेती जा रही है।
यूनिवर्सिटी ऑफ सिडनी के रिसर्चर्स का कहना है कि तम्बाकू का सेवन धूम्रपान के रूप में करने से आपके गले की नली जहा से आप सांस लेते है उसमें ऐसा नुकसान पहुँचा सकता है कि धूम्रपान छोड़ने के बाद भी वह नुकसान की भरपाई नही की जा सकती, इसलिए स्मोकर्स अगर खुद को यह दिलासा देते हैं कि वह आज तो सिगरेट पी रहे है पर कल छोड़ देंगे, तो वह खुद को ही नुक्सान पहुंचा रहे होते हैं। एक आंकड़े के अनुसार, साल 2020 तक मौत के तीन मुख्य कारणों में से एक स्मोकिंग द्वारा होने वाले रोग बन जाएंगे।

कई कारणों से लोग तम्बाकू का सेवन करना शुरू करते है। कभी स्ट्रेस कम करने के लिए तो कभी गुस्से में, कभी टाइम पास करने और अक्सर शौक समझकर तम्बाकू का सेवन करते हैं, पर अंदाजा नहीं लगा सकते कि आप जिस तरह से तम्बाकू को सहजता से खा रहे हैं उसका उतना ही दयनीय परिणाम भी होता है। खैनी, सिगरेट, बीड़ी, गुटखा वगैरा तम्बाकू को जिस भी रूप में लिया जाए इसके नुकसान निश्चित हैं। तम्बाकू का नशा कोई एक समस्या ना होकर कई समस्याओं की जड़ है और यह शारीरिक और मानसिक रूप से नुकसान तो करता ही है साथ ही मौत को जल्दी बुला देता है।
उन सभी लोग का जो तम्बाकू का सेवन करते है यह जानना जरूरी है कि तम्बाकू से बनने वाले अलग अलग नशेड़ी चिजों का कितना घातक असर आपके शरीर पर अलग-अलग तरह से पड़ता है। तो चलिए आज हम आपको बताएंगे तम्बाकू से होने वाले नुकसान के बारे में।

1. सिगरेट
हो सकता है सिगरेट का एक कश लगाकर आप दिन भर कामकाज के तनाव को भले ही कुछ पल भूल जाएं पर धूम्रपान की आपकी आदत शरीर के कई हिस्सों के लिए खतरे की घंटी है। इसमें मौजूद बेनजीन, टार, फोर्मलडीहाइड, आर्सेनिक, निकोटिन जैसे तत्व शरीर के लिए कई रोगों का आमंत्रण हो सकते हैं।
कई शोधों में यह प्रमाणित हो चुका है कि धूम्रपान से फेफड़ों का कैंसर, गले का कैंसर, मुंह, किडनी, ब्लैडर, पैंक्रियाज और पेट में कैंसर का रिस्क अधिक होता है। इसके अलावा अधिक धूम्रपान करने वालों को दिल के रोगों और स्ट्रोक का खतरा अधिक होता है। कार्बन और निकोटिन का मिश्रण शरीर में हार्ट रेट और ब्लड प्रेशर बढ़ाता है। सिगरेट में पाया जाने वाला टार फेफड़ों के कैंसर की बड़ी वजह है। धुएं से निकलने वाली कार्बन मोनोऑक्साइड गैस मांसपेशियों, दिमाग और कोशिकाओं में पहुंचने वाली ऑक्सीजन को रोकती है जिससे हृदय, फेफड़ों और मस्तिष्क के काम करने में दिक्कत हो सकती है। गर्भावस्था में धूम्रपान या पैसिव स्मोकिंग (धूम्रपान करने वालों की संगत) गर्भपात, समय से पहले डिलिवरी, बच्चे का कम वजन आदि का कारण हो सकता है।

2. तम्बाकू, खैनी, गुटखा
जर्दा, सुर्ती और पान मसाले के नाम पर तंबाकू खाना अगर आपकी आदत का हिस्सा हो चुका है तो आपकी इस आदत को बदलने की कुछ बेहद जरूरी वजहें हो सकती हैं। तंबाकू में 28 किस्म के कार्सिनोजेनिक तत्व होते हैं जिनसे कैंसर हो सकता है। 
तंबाकू से ल्यूकोप्लाकिया का रिस्क अधिक रहता है जिसमें दांत और मसूड़े तेजी से सड़ते हैं। मुंह के कैंसर का यह बहुत बड़ा कारण है। गले का कैंसर का रिस्क अधिक रहता है। तंबाकू में मौजूद निकोटिन हार्ट रेट और ब्लड प्रेशर बढ़ा देता है जिससे दिल के रोगों की आशंका अधिक रहती है। भोजन करने की इच्छा खत्म कर देता है।

3. हुक्का
आज हुक्का न सिर्फ गांवों तक सीमित है बल्कि तमाम पब, होटलों और रेस्तरां में हुक्के (तंबाकू युक्त हुक्के) का चलन बढ़ा है। अगर आप इसे सिगरेट के विकल्प के रूप में देखते हैं तो सेहत पर इसका प्रभाव जानना जरूरी है।
हुक्का में सिगरेट की तरह ही टार, कार्बन मोनोऑक्साइड, हेवी मेटल्स और कार्सिनोजेनिक तत्व हैं जो कैंसर का रिस्क बढ़ाते हैं। इससे मुंह का कैंसर, दिल के रोग और फेफड़ों के कैंसर की आशंका सबसे अधिक होती है। सिगरेट की तरह ही हुक्के का निकोटिन भी हार्ट रेट और ब्लड प्रेशर को बढ़ाता है। गर्भावस्था के दौरान हुक्का पीने या हुक्का पीने वालों के दौरान मौजूद रहने से गर्भवती महिलाओं के गर्भ को नुकसान हो सकता है। हुक्का के पाइप से कई प्रकार के संक्रमणों का रिस्क अधिक रहता है। 

4. सिगार
हालांकि सिगार का प्रचलन हमारे यहां अपेक्षाकृत कम है पर कुछ लोग सिगार को सिगरेट की अपेक्षा बेहतर विकल्प मानते हैं। अगर आप भी ऐसा सोचते हैं तो जान लें कि तंबाकू का सेवन हर रूप में सेहत के लिए नुकसानदायक ही है। 
सिगार में मौजूद निकोटिन भले ही फेफड़ों में कम जाए लेकिन यह मुंह को सीधा प्रभावित करता है जिससे मुंह और गले के कैंसर का रिस्क बढ़ जाता है। इसमें बहुत अधिक मात्रा में कार्सिनोजेनिक तत्व होते हैं। शोधों की मानें तो सिगार में 60 से भी अधिक कार्सिनोजेनिक तत्व पाए जाते हैं। दिल के रोगों का खतरा इससे अधिक होता है। इसके सेवन से धमनियों के ब्लॉकेज और दिल के दौरे का रिस्क बढ़ जाता है। कम समय में ही दांत गिरने लगते हैं।

जैसा कि आपने जाना कि तंबाकू का सेवन किसी भी हाल में खतरनाक है इसलिए अगर चाह हो जिंदगी और अपनों से तो तम्बाकू से किनारा कर लें। वरना तम्बाकू आपकी जिंदगी को किनारे लगा देगा।
 

21 people found this helpful

Undergone scanning and all. Report says its because of hormonal imbalance. My thyroid level is normal. I am overweight.

B.Sc. In Food Science & Quality Control, Post Graduate Diploma In Dietetics
Dietitian/Nutritionist, Pune
Undergone scanning and all. Report says its because of hormonal imbalance. My thyroid level is normal. I am overweight.
Its necessary to follow a healthy lifestyle as fat loss is a gradual process. There is no quick fix approach. Following a healthy diet which has optimal amounts of first-class proteins (dairy products, eggs, chicken etc) reduced carbohydrates (white rice, poha etc) & healthy fats (almonds. Walnuts etc) along with a structured​ exercise program that is balanced with weight training and cardio will surely help. Hormonal imbalances that can impede your rate of fat loss. Stay consistent & patient in order to achieve your weight loss goals. Kindly contact us for your issues to get customized​ diet & workout plan.
Submit FeedbackFeedback

Baadh Ke Baad Kerala Main Faila Leptospirosis Rog, Aise Karen Bachav - बाढ़ के बाद केरल में फैला लैप्टोस्पायरोसिस रोग, ऐसे करें बचाव

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
Baadh Ke Baad Kerala Main Faila Leptospirosis Rog, Aise Karen Bachav - बाढ़ के बाद केरल में फैला लैप्टोस्पायरोसिस रोग...

भारत में हर साल मानसून के दौरान बाढ़ जैसी समस्या उत्पन्न होती है. इस साल भी केरल समेत देश के कई राज्यों में बाढ़ ने कहर बरपा रखा हैं. अबतक इस बाढ़ के कारण सैकड़ो लोगों की मौत हो चुकी है और लाखों लोग राहत शिविर में रहने को मजबूर हो गए हैं. इन बाढ़ प्रभावित क्षेत्रो में जलजमाव के कारण विभिन्न प्रकार के संक्रमण रोगों के फैलने का खतरा बढ़ गया हैं. 

इस बाढ़ जैसी महामारी से सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य केरल रहा है, जहाँ अधिकांश हिस्सा जलमग्न हो गया है. हालाँकि बारिश होना बंद हो चुका है और जलस्तर भी धीरे-धीरे नीचे आने लगा है, लेकिन असली समस्या बाढ़ के बाद उत्पन्न सामने आ रही है. जैसे-जैसे बाढ़ का पानी कम हो रहा है, उसके साथ ही कई जानलेवा बीमारियां पैदा हो रही है. हाल के दिनों में केरल से 86 लोगो में लैप्टोस्पायरोसिस नामक बीमारी के लक्षण पाए गए है. इसलिए सरकार ने भी कई दिशानिर्देश जारी कर दिए है और डॉक्टरों की पूरी टीम भी इस बीमारी के रोकथाम और बचाव के लिए लोगो को जागरूक कर रही है. इसलिए यह जरुरी है कि आप भी लैप्टोस्पायरोसिस रोग से बचाव के बारे में जरूरी जानकारी रखें. 

क्या होता है लैप्टोस्पायरोसिस?

लैप्टोस्पायरोसिस रोग एक बैक्टीरियल रोग है, जो जंगली अथवा पालतू दोनों प्रकार के जानवरों से फैलता है. यह आपके घर में रह रहे कुत्ते, चूहे, भैंस, गाय, बकरी आदि जानवरों से फैलता है. यह संक्रमण जानवरों के मूत्र द्वारा पानी में मिलता है. बाढ़ के दौरान संक्रमण रोग का फैलना अधिक प्रवण होता है. इसलिए जब जानवरों के मूत्र बाढ़ के पानी में मिलते है, तो इससे प्रभावित होने का खतरा भी अधिक लोगों तक पहुंच जाता है. जानवरों के मूत्र में लेप्टोस्पायर्स जीवाणु होते है, जब यह जीवाणु आपके मुंह, नाक, आँख या कटी हुई त्वचा के संपर्क में आता है, तो आप लैप्टोस्पायरोसिस रोग से ग्रसित होने के लिए प्रवण हो जाते है. हालाँकि, लैप्टोस्पायरोसिस रोग कोई गंभीर बिमारी नहीं है. आप कुछ सामान्य देखभाल के साथ इस रोग से अपना बचाव कर सकते हैं. 

लैप्टोस्पायरोसिस रोग के लक्षण में सिरदर्द या शरीर में दर्द, तेज बुखार, आँखों में लाली, पीलिया, त्वचा पर चकत्ते, खांसी में खून निकलना, उल्टी, दस्त इत्यादि शामिल हैं. यद्यपि यह लक्षण जानलेवा नहीं होता है, लेकिन अगर सही समय पर इन लक्षणों का उपचार नहीं किया जाता है, तो यह किडनी या लीवर जैसे अंगो को गंभीर क्षति पहुंचा सकती है. इसलिए, यह अत्यंत महत्वपूर्ण हो जाता है कि आप इसके बचाव के लिए पूरी तरह से तैयार रहें.   

कैसे करें इससे बचाव, जानें तरीके -

आपको लैप्टोस्पायरोसिस रोग से बचाव के लिए कोई अधिक परिश्रम करने की जरुरत नहीं है, आप कुछ सामान्य  देखभाल के साथ इस रोग से अपना बचाव कर सकते हैं. आप कुछ महत्वपूर्ण चीजों को ध्यान में रखें जैसे साफ़ सफाई, दूषित पानी से बचना इत्यादि. निम्नलिखित कुछ महत्वपूर्ण सुझाव दिए गए हैं, जिनसे आप इस रोग से अपना बचाव कर सकते है. 
 

  • इस रोग से बचने के लिए सबसे महत्वपूर्ण प्रयास आपको संक्रमित पशुओं से दूरी बना कर रखना है. पशुओं के साथ सीधा संपर्क करने से बचे. आप दस्ताने आदि का इस्तेमाल कर सकते हैं. सम्पर्क में आने के बाद हाथों को अच्छे से साबुन से साफ करें. 
  • इसका उपचार एंटीबायोटिक दवा के साथ की जाती है. कुछ मामलों में पेन किलर भी रोगी को दी जाती है. 
  • कभी भी बाढ़ के पानी के साथ सीधे संपर्क में आने से बचें. 
  • अपने आसपास के जगह की साफ सफाई नियमित रूप से करें और पानी को जमा होने ना दें. 
  • घर में चूहे ना पनपने दें, यह इस रोग को फैलाने के लिए मुख्य रूप से जिम्मेदार होते है. 
  • दूषित पानी से बचने के लिए हमेशा पानी को उबाल कर पीएं. 
  • कही भी त्वचा में कट लगने पर उसे सही तरह से ढँक कर रखें.

4 people found this helpful

I am pregnant lady 13 week is running for me m getting back pain and stomach pain often. please help.

M.B.S.(HOMEO), MD - Homeopathy
Homeopath, Visakhapatnam
I am pregnant lady 13 week is running for me m getting back pain and stomach pain often. please help.
During a healthy pregnancy, women typically gain between 25 and 35 pounds. The spine has to support that weight. That can cause lower back pain. The weight of the growing baby and uterus also puts pressure on the blood vessels and nerves in the pelvis and back. Consider seven ways to give pregnancy back pain the boot. Practice good posture. As your baby grows, your center of gravity shifts forward. ... Get the right gear. Wear low-heeled — not flat — shoes with good arch support. ... Lift properly. When lifting a small object, squat down and lift with your legs. ... Sleep on your side. USE AESCULUS 30 DAILY 10 PILLS ONCE FOR 10 DAYS.
Submit FeedbackFeedback
Submit FeedbackFeedback

Yesterday my right vaginal lip got swollen very badly and its quite paining, no itching and today I had my menstrual period. Is this a serious issue or common. What should I do now.

MBBS, MD - Obstetrtics & Gynaecology, FMAS, DMAS
Gynaecologist, Noida
Yesterday my right vaginal lip got swollen very badly and its quite paining, no itching and today I had my menstrual ...
Hello, The swelling is likely to be due frictional injury , just apply cold compresses to it and you should be benefitted.
1 person found this helpful
Submit FeedbackFeedback
View All Feed

Near By Doctors

90%
(355 ratings)

Dr. Sadhvi Reddy

Fellowship In Minimal Access Surgery, MS - Obstetrics and Gynaecology, MBBS
Gynaecologist
Vijay Hospital , 
300 at clinic
Book Appointment
91%
(10 ratings)

Dr. Saraschandrika P. V.

MBBS Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery, MD - Obstetrics & Gynaecology
Gynaecologist
Banjara12 Hospital, 
350 at clinic
Book Appointment
86%
(10 ratings)

Dr. Sunitha Ilinani

MD - Obstetrics & Gynaecology, MBBS
Gynaecologist
Surya Fertility Centre, 
300 at clinic
Book Appointment
89%
(29 ratings)

Dr. Haritha Yalamanchili

MBBS Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery, MD - Obstetrics & Gynaecology, MRCOG
Gynaecologist
YPR Health Care, 
300 at clinic
Book Appointment
89%
(19 ratings)

Dr. Vandana Hegde

MBBS, MS - Obstetrics and Gynaecology, Post Doctoral Fellowship in Reproductive Medicine, Fellowship in Infertility, Diploma in Assisted Reproductive Technology & Embryology
Gynaecologist
Hegde Hospital, 
300 at clinic
Book Appointment
88%
(10 ratings)

Dr. Nuthalapati Suman Latha

MBBS, DGO
Gynaecologist
Advanced Endocrine & Diabetes Hospital & Research Center, 
300 at clinic
Book Appointment