Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Call Clinic
Book Appointment
Get Help
Reviews
Feed

About

Our mission is to blend state-of-the-art medical technology & research with a dedication to patient welfare & healing to provide you with the best possible health care....more
Our mission is to blend state-of-the-art medical technology & research with a dedication to patient welfare & healing to provide you with the best possible health care.

Timings

MON-WED, FRI
09:00 AM - 07:00 PM
THU
10:00 AM - 07:00 PM
SAT
09:30 AM - 07:00 PM
SUN
12:00 AM - 07:00 PM

Location

Building No. 10C, Upper Ground Floor, DLF Cyber City, Phase II
DLF Cyber City Gurgaon, Haryana - 122002
Click to view clinic direction
Get Directions

Photos (10)

Medanta Mediclinic Cybercity Image 1
Medanta Mediclinic Cybercity Image 2
Medanta Mediclinic Cybercity Image 3
Medanta Mediclinic Cybercity Image 4
Medanta Mediclinic Cybercity Image 5
Medanta Mediclinic Cybercity Image 6
Medanta Mediclinic Cybercity Image 7
Medanta Mediclinic Cybercity Image 8
Medanta Mediclinic Cybercity Image 9
Medanta Mediclinic Cybercity Image 10
View All Photos

Amenities

Speciality Clinics
Telemedicine services
Air Ambulance services
Parking
Reception
Diagnostic Lab Service
Emergency Service
Cafeteria
ATM
Waiting Lounge
Intercontinental Food
International Interpretator
Money Changer
Smart Health Card
Cloak Room
Valet Parking
Concierge services
Wheel chair assistance
Home care services
Online reports access
Ambulance

Doctors in Medanta Mediclinic Cybercity

Dr. Jyoti Sehgal

D.N.B. (Neurology), M.B.B.S, M.D. (General Medicine)
Neurologist
22 Years experience
900 at clinic
Unavailable today

Dr. Aru Chhabra Handa

D.N.B. (Oto-Rhino-Laryngology), M.B.B.S, M.S. (Oto-Rhino-Laryngology)
ENT Specialist
31 Years experience
1000 at clinic
Unavailable today

Dr. Priyanka Batra

D.N.B.(Obstectrics & Gynaecology), Diploma in (Gynaecology & Obstetrics), M.B.B.S.
Gynaecologist
20 Years experience
1000 at clinic
Unavailable today

Dr. Sushila Kataria

M.B.B.S., M.D. (General Medicine), P.G Diploma in Medico Legal Systems
General Physician
22 Years experience
1000 at clinic
Unavailable today

Dr. Vinayak Aggarwal

D.N.B. (Cardiology), M.B.B.S, M.D. (General Medicine)
Cardiologist
26 Years experience
800 at clinic
Unavailable today

Dr. Rajiva Gupta

DNB, MBBS, MD (Medicine), MRCP (UK)
Rheumatologist
32 Years experience
1200 at clinic
Unavailable today

Dr. Arvinder Singh Soin

FRCS (Edin), FRCS (Gen Surg), FRCS (Glas), M.B.B.S., M.S.(THESIS), Primary FRCS
Liver Transplant Surgeon
34 Years experience
1500 at clinic
Unavailable today

Dr. Ambrish Mithal

D.M. (Endocrinology), M.B.B.S., M.D. (General Medicine)
Endocrinologist
39 Years experience
2000 at clinic
Unavailable today

Dr. Ritu Sharma

BDS, Certified Hands on training in Periodontology, Hands on training in occlusion and semi-adjustible articulators, Masterclass in Implantology, MDS (Conservative Dentistry & Endodontics), Workshop in Microendodontics
Dentist
20 Years experience
800 at clinic
Unavailable today

Dr. Saurabh Mehrotra

D.N.B. (Psychiarty), M.B.B.S
Psychiatrist
23 Years experience
900 at clinic
Unavailable today

Dr. Lalitha Sekhar

M.B.B.S., M.D. (Medicine), MBBS, MD - Medicine
General Physician
46 Years experience
1200 at clinic
Unavailable today

Dr. Rajneesh Kapoor

Diplomate National Board (DNB), M.B.B.S., MD (Internal Medicine)
Cardiologist
25 Years experience
800 at clinic
Unavailable today

Dr. Manish Bansal

D.N.B. (Cardiology), M.B.B.S., M.D. (General Medicine)
Cardiologist
22 Years experience
800 at clinic
Unavailable today

Dr. Ateksha Bhardwaj Khanna

B.D.S., M.Sc. (Endodontics), MJDF, ORE
Dentist
11 Years experience
800 at clinic
Unavailable today

Dr. Dimple Ahluwalia

Fellowship in Minimal Access Surgery(FMAS) & Reproductive Medicine, M.B.B.S, M.S. (Obstetrics and Gynaecology)
Gynaecologist
18 Years experience
800 at clinic
Unavailable today

Dr. Madhu Minz

M.B.B.S., M.D. (General Medicine)
Cardiologist
24 Years experience
800 at clinic
Unavailable today
View All
View All

Specialities

Dentistry

Dentistry

Offers excellent dental care to patients with various oral and tooth conditions
Cardiology

Cardiology

Aims to provide effective diagnosis and treatment related to cardiac and circulatory problems
Gynaecology

Gynaecology

A branch of medicine reserved especially for treating female conditions of the reproductive system
Neurology

Neurology

Offers specialized healthcare to patients suffering from disorders of the nervous system
Psychiatry

Psychiatry

Offers specific care to patients with any kind of mental illness or behavioural disorders
Ear-Nose-Throat (ENT)

Ear-Nose-Throat (ENT)

Aims to offer special care to patients with conditions related to the ear, nose and throat
Endocrinology

Endocrinology

Offers quality care to patients with medical problems related to the endocrine glands and hormones
Liver Transplant Surgery

Liver Transplant Surgery

General Physician

General Physician

Aims to provide best quality care to patients with acute and chronic problems
Rheumatology

Rheumatology

Offers specialized healthcare in the treatment for arthritis and rheumatism
View All Specialities

Network Hospital

Medanta The Medicity

CH Baktawar Singh Road, Sector 38, Gurugram, Haryana 122001Gurgaon Get Directions
  4.3  (715 ratings)
183 Doctors
35 Specialities
...more

Medanta Mediclinic Defence Colony

E-18, Block E, Defence Colony, New Delhi, Delhi 110024Delhi Get Directions
  4.3  (604 ratings)
30 Doctors
15 Specialities
...more
View All

Reviews

Popular
All Reviews
View More
View All Reviews

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

How To Take Care Of Eyes?

MS - Ophthalmology, MBBS, FRCS
Ophthalmologist, Gurgaon
Play video

Eyes are very important organs as they provide you with the ability to process visual detail and detect light. However, because your eyes are exposed to harsh climate and pollutants, they can get spoilt.

My gf is virgin when we have sex she says its paining. Her vagina opening is small and when I try to penetrate she shouts. please help me.

Akhil Bharatiye Ayurveda, AKHIL BHARTIYE AYURVEDA
Sexologist, Delhi
My gf is virgin when we have sex she says its paining. Her vagina opening is small and when I try to penetrate she sh...
Dear lybrate-user When a woman has vaginal sex for the first time, it can be a little painful. You may also have some bleeding, but this isn't always the case. If bleeding happens, it's usually because your hymen has been broken during sexual intercourse. The hymen is a small, thin piece of skin that can either partially or totally cover the entrance to your vagina. You may have already broken your hymen without knowing about it – for example, when playing sports or using a tampon. When a man has sex for the first time, it shouldn't hurt, but you can make it easier for your partner through foreplay, making sure there's plenty of lubrication, and by being gentle and going slowly.more information about it consult us privately Lybrate.
Submit FeedbackFeedback

My problem is that when I start study then my mind think other things which is not necessary or sometime not possible means concentrate problem can you give me a good suggestion for it.

BHMS, MD- Alternative Medicine, Basic Life Support (B.L.S)
Homeopath, Surat
Concentration problem is a very common one in students. you don't really need to worry about anything. However, if it is really affecting your studies, and you need help let me know. Happy to help.
Submit FeedbackFeedback

निरंजन फल के फायदे - Niranjan Phal Ke Fayde!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
निरंजन फल के फायदे - Niranjan Phal Ke Fayde!

निरंजन फल, विभिन्न आयुर्वेदिक औषधियों में से एक है. ये पूरी तरह से कच्ची जड़ी-बूटी है जो कि प्रकृतिक अवस्था में है. इसका इस्तेमाल करने से पहले इसे धोकर अच्छी तरह सूखा लेना ही ज्यादा उचित रहता है. यदि आपने इसे धो दिया है तो एक और बात का ध्यान रखना आवश्यक है कि धोने के बाद इसे एकदम अच्छे से सूखा लें. यदि इसे ठीक से नहीं सुखाया और इसमें नमी रह गई तो ये खराब हो सकता है क्योंकि ये कवक के प्रति बेहद संवेदनशील है. यदि आपने इसे बाजार से खरीदा है तो ये आम तौर पर साफ़सुथरा ही मिलता है. दुकान से लिए गए निरंजन फल की सीमा तो एक साल की होती है लेकिन हमारा सलाह है कि आप इसे खरीदे गए दिन से 6 महीने तक ही इस्तेमाल करें. जब आप निरंजन फल को खरीदकर घर लाएँ तो इसे शीशे या स्टील के एक एयर टाइट जार में रखें ताकि ये जल्दी खराब न हो. इस आयुर्वेदिक औषधि का इस्तेमाल हमलोग डेकोटेशन पर्पज या फिर पाउडर के रूप में भी कर सकते हैं. आइए हम इस लेख के माध्यम से निरंजन फल के फायदों पर एक नजर डालें.

1. बवासीर के उपचार में-

कई लोग अक्सर बवासीर के समस्या से परेशान रहते हैं. पाईल्स से पीड़ित लोगों को रात को सोते समय एक निरंजन फल आधे गिलास पानी में भीगा कर रख देना चाहिए. सुबह खाली पेट उसे उसी पानी में मसल कर उस पानी को पी लें. ऐसा करने से पाईल्स में बहुत जल्दी आराम मिलने की संभावना बढ़ती है. इसकी एक खास बात ये है कि यह बहुत सस्ता मिलता हैं एक रुपये का एक फल आसानी से मिल सकता है.

2. गर्भाशय से होने वाली ब्लीडिंग को रोके-
जब गर्भाशय से बहुत ज्यादा रक्त स्त्रावित हो रही हो तो एक निरंजन फल को रात को एक कप पानी में भिगो दें सुबह खाली पेट फल को पानी में ही मसलकर पी जाएं. यदि फाइब्रॉएड घातक नहीं है तो यह उपचार दर्द और खून का स्त्राव रोकने में सहायक सिद्ध हो सकता है.

3. अल्सर को कम करने में-
निरंजन फल को कई तरह के बीमारियों से ग्रसित लोगों के लिए आवश्यक बताया जाता है. अल्सर से पीड़ित व्यक्ति भी इसके सेवन से अपनी परेशानी को काफी हद तक कम कर सकता है. इसे सेवन से या तो धीमा पड़ जाता है या फिर खत्म हो जाता है. इसलिए आप अल्सर में भी निरंजन फल खा सकते हैं.

4. इन बातों का अवश्य रखें ध्यान-
ध्यान रहे कि इस आयुर्वेदिक औषधि को किसी गर्भवती स्त्री या बच्चे के लिए किसी स्वास्थ्य विशेषज्ञ का सलाह लिए बिना कभी इस्तेमाल न करें. बल्कि ज्यादा उचित तो ये होगा कि इसका किसी भी तरह से इस्तेमाल शुरू करने से पहले आपको अपने पारिवारिक चिकित्सक से इस विषय में उचित राय अवश्य ले लेना चाहिए.

नोट: - इस लेख में बताए गए निरंजन फल के लाभ समेत तमाम बातें केवल शैक्षणिक उद्देश्य के लिए हैं. यदि आप अपने व्यवहारिक जीवन में इसका इस्तेमाल करना चाहते हैं तो आपको इसका किसी भी तरह का इस्तेमाल करने के लिए चिकित्सक का परामर्श लेना आवश्यक है.

1 person found this helpful

नाभि के रोग के लक्षण - Naabhi Ke Rog Ke Lakshan!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
नाभि के रोग के लक्षण - Naabhi Ke Rog Ke Lakshan!

नाभि का खिसकना जिसे आम लोगों की भाषा में धरण गिरना या फिर गोला खिसकना भी कहते हैं. इसके कारण आप पेट दर्द से परेशान हो सकते है. यह दर्द ऐसा होता है, जो प्रभावित व्यक्ति को दर्द के कारण का पता भी नहीं लगता है. यह दर्द पेट दर्द की दवा लेने के बाद भी ठीक नहीं होता है. यह केवल पेट दर्द ही नहीं दस्त का भी कारण हो सकता हैं. जबकि यह समस्या किसी के साथ भी हो सकती हैं, लेकिन आमतौर पर देखा गया है की नाभि खिसकने की समस्या महिलाओं में ज्यादा सामान्य है. हर दूसरी महिला में यह समस्या को देखा गया है. हालाँकि, इस समस्या का कारण क्या है, किन परिस्थितियों में उत्पन्न होती है जैसे सवालों का जवाब ‘योग’ प्रणाली में शामिल है. योग में नाड़ियों की संख्या बहत्तर हजार से ज्यादा बताई गई है और इसका मूल स्त्रोत नाभिस्थान है. इसलिए किसी भी नाड़ी के अस्वस्थ होने से इसका कुछ प्रतिशत असर नाभिस्थान पर जरूर होता है. आइए इस लेख के माध्यम से नाभि के रोग के लक्षणों को जानें.

आधुनिक जीवन-शैली एक वजह-
आधुनिक लाइफस्टाइल के कारण लोग अपने स्वास्थ्य को नज़रअंदाज कर रहे हैं और धीरे-धीरे शरीर को अस्वस्थ बना रहे हैं. ज्यादातर लोग रोजाना की भागदौड़ में लिप्त होने के कारण समय पर आहार नहीं लेते, कभी वर्कआउट नहीं करते है और यहां तक कि पूरी नींद भी नहीं लेते हैं. इस तरह के लाइफस्टाइल के कारण धीरे-धीरे शारीरिक नाड़ियां कमज़ोर पड़ने लगती हैं, जिसका सीधा असर नाभिस्थान पर होता है. इससे नाभिस्थान बहुत कमज़ोर हो जाता है और उनकी नाभि बहुत जल्दी अव्यवस्थित हो जाती है. लेकिन इसके अलावा भी कुछ ऐसे कारण हैं जहां ना चाहते हुए भी हम नाभि खिसकने का शिकार हो जाते हैं. जैसे कि खेलते-कूदते समय भी नाभि खिसक जाती है. असावधानी से दाएं-बाएं झुकने, दोनों हाथों से या एक हाथ से अचानक भारी बोझ उठाने, तेजी से सीढ़ियां चढ़ने-उतरने, सड़क पर चलते हुए गड्ढे में अचानक पैर चले जाने या अन्य कारणों से किसी एक पैर पर भार पड़ने या झटका लगने से नाभि इधर-उधर हो जाती है.

इसकी पहचान-
लेकिन यहां एक सवाल उठता है कि कैसे पहचानें कि नाभि ही अपने स्थान से खिसक गई है. क्योंकि पेट दर्द होना आम बात है, कुछ गलत आहार लेने से या फिर अन्य समस्याओं से भी पेट दर्द हो सकता है. इसके अलावा दस्त लगना भी कोई बहुत बड़ी बीमारी नहीं है. किंतु ये कैसे पहचाना जाए कि किसी व्यक्ति विशेष की परेशानी का कारण नाभि खिसकना ही है.

कुछ खास तरीके-
इसकी पहचान एक लिए कुछ खास तरीके बताए गए हैं. सबसे आसान तरीका है लेटकर नाभि को दबाकर जांच करना. रोगी को शवासन यानि कि बिलकुल सपाट लिटाकर, उसकी नाभि को हाथ की चारों अंगुलियों से दबाएं. यदि नाभि के ठीक बिलकुल नीचे कोई धड़कन महसूस हो तो इसका मतलब है कि नाभि अपने स्थान पर ही है. लेकिन यही धड़कन यदि नाभि के नीच ना होकर कहीं आसपास महसूस हो रही हो, तो समझ जाएं कि नाभि अपनी जगह पर नहीं है. धरण गिरी है या नहीं इसे पहचानने का एक और तरीका है जो काफी प्रचलित भी है. इसके लिए रोगी के दोनों हाथों की रेखाएं मिला कर छोटी अंगुली की लम्बाई चेक करें, दोनों अंगुलियों की रेखाएं बिलकुल बराबर रखें. यदि मिलाने पर अंत में दोनों अंगुलियों की लंबाई में थोड़ा सा भी अंतर दिखे, तो इसका मतलब है कि धरण गिरी हुई है.

नाभि खिसकने की पुष्टि-
इन दो तरीकों से आसानी से नाभि खिसकने की पुष्टि की जा सकती है. अब यदि रोगी की परेशानी का कारण जान लेने के बाद, उसका निवारण भी जानना आवश्यक है. इसके लिए हम यहां कुछ उपाय बताने जा रहे हैं, जिसकी मदद से बिना किसी दवा के नाभि अपने स्थान पर वापस आ जाएगी.

पहला उपाय: 10 ग्राम सौंफ और 50 ग्राम गुड़ को पीसकर मिला लें और सुबह खाली पेट अच्छी तरह चबा-चबाकर खा लें. यदि एक बार खाने पर नाभि ठीक न हो तो दूसरे दिन या तीसरे दिन भी खा लें. इस उपाय से नाभि यकीनन जगह पर आ जाएगी.

दूसरा उपाय: नाभि खिसक गई है या नहीं, यह हमारे पांव की मदद से भी जाना जा सकता है. इसके लिए पीठ के बल लेट जाएं, दोनों पैरों को 10 डिग्री एंगल पर जोड़ें. ऐसा करने पर यदि आपको दोनों पैर की लंबाई में अंतर दिखे, यानि कि एक पांव दूसरे से बड़ा है तो यकीनन नाभि टली हुई हैं.


निर्देश जानें-
अब पुष्टि होने पर इसे ठीक करने के लिए छोटे पैर की टांग को धीरे-धीरे ऊपर उठाएं. इसे कुछ-कुछ इंच तक धीरे से ही ऊपर की ओर उठाएं, तकरीबन 9 इंच की ऊंचाई पर आने के बाद फिर धीरे-धीरे नीचे रखकर लंबी सांस लें. यही क्रिया दो बार और करें. इस क्रिया को सुबह शाम ख़ाली पेट करना है, इससे नाभि अपने स्थान पर आ जाती है.

पुराने नुस्खे-
वैसे बड़े-बुजुर्गों के पास नाभि को अपने स्थान पर लाने के और भी कई तरीके होते हैं, वे स्वयं अपने हाथों के या किसी यंत्र का आपके पेट पर सीधा प्रयोग करने से ही नाभि को अपनी लगह पर ले आते हैं. लेकिन इन घरेलू नुस्खों को किसी विशेषज्ञ से ही करवाएं, क्योंकि स्वयं करने से बड़ी मुसीबत आ सकती है.

ऐसी गलती ना करें-
यह नाभि यदि अपनी सही जगह पर आने की बजाय कहीं और खिसक गई तो बड़ा रोग हो सकता है. ऊपर की ओर खिसकने से सांस की दिक्कत हो जाती है, लीवर की ओर चले जाने से वह खराब हो जाता है. यदि नाभि पेट के बिलकुल मध्य में आ जाए तो मोटापा हो जाता है. इसलिए इससे अनजाने में छेड़खानी करने की कभी ना सोचें.

इन बातों का परहेज करें-
एक और आखिरी बात, जिसका खास ख्याल रखने की जरूरत है. जब पता चल जाए कि नाभि खिसकने जैसी दिक्कत हो गई है, तो कुछ बातों का परहेज करना चाहिए. जैसे कि गलती से भी भारी वजन ना उठाएं. यदि मजबूरी में उठाना भी पड़े तो उसे झटके से ना उठाएं.

नाखून के रोग - Nakhun Ke Rog!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
नाखून के रोग - Nakhun Ke Rog!

नाखूनों के रोग भी कई बार काफी असहज करने वाले या परेशान करने वाले होते हैं. हलांकी इससे कई तरह का अनुमान भी लगाया जाता है. नाखून कैरटिन से बने होते हैं. यह एक तरह का पोषक तत्व है, जो बालों और त्वचा में होता है. शरीर में पोषक तत्वों की कमी या बीमारी होने पर कैरटिन की सतह प्रभावित होने लगती है. साथ ही नाखून का रंग भी बदलने लगता है. यदि नेलपॉलिश का इस्तेमाल किए बिना भी नाखूनों का रंग तेजी से बदल रहा है तो यह शरीर में पनप रहे किसी रोग का संकेत हो सकता है. या फिर ऐसा भी हो सकता है कि आपको नाखूनों की बीमारी हो गई हो. ऐसे में आपको इस समस्या को अनदेखा नहीं करना चाहिए वरना समस्या गंभीर भी हो सकती है. हम सभी का शरीर कई प्रकार के सूक्ष्म जीवाणुओं और विषाणुओं के संपर्क में आता है. त्वचा पर हुए संक्रमण को यदि नाखून से खुजाया जाए तो भी नाखून संक्रमित हो जाते हैं. जो लोग अधिक स्विमिंग करते हैं या ज्यादा देर तक पानी में रहते हैं या फिर जिनके पैर अधिकतर जूतों में बंद रहते हैं, उनमें संक्रमण का खतरा अधिक होता है. संक्रमण के असर से नाखून भुरभुरे हो जाते हैं और उनका आकार बिगड़ जाता है. नाखूनों के आसपास खुजली, सूजन और दर्द भी होता है. ऐसे में चिकित्सक को दिखाना बेहतर रहता है. आइए इस लेख के माध्यम से हम नाखून में उत्पन्न होने वाले रोगों पर एक नजर डालें. इस्स इस विषय में लोगों को जागरूक किए जा का भी प्रयास है.
1. चम्मच की तरह नाखून-

कई बार ऐसी स्थिति भी आती है कि खूनों का आकार चम्मच की तरह हो जाता है और नाखून बाहर की ओर मुड़ जाते हैं. खून की कमी के अलावा आनुवंशिक रोग, दिल की बीमारी, थायरॉइड की समस्या और ट्रॉमा की स्थिति आदि में ऐसा होता है.

2. नीले नाखून-
शरीर में ऑक्सीजन का संचार ठीक प्रकार से न होने पर नाखूनों का रंग नीला होने लगता है. यह फेफड़ों में संक्रमण, निमोनिया या दिल के रोगों की ओर भी संकेत करता है. इसलिए नीले नाखून दिखने के बाद आपको सचेत हो जाना चाहिए.

3. मोटे, रूखे व टूटे हुए नाखून-
मोटे तथा नेल बेड से थोड़ा ऊपर की ओर निकले नाखून सिरोसिस व फंगल इन्फेक्शन का संकेत देते हैं. रोग प्रतिरोधक क्षमता में कमी व बालों के गिरने की स्थिति में भी नाखून बेरंग और रूखे हो जाते हैं. इसके अलावा त्वचा रोग लाइकन प्लेनस होने पर, जिसमें पूरे शरीर में जगह-जगह पस पड़ जाती है, नाखून बिल्कुल काले हो जाते हैं. हृदय रोग की स्थिति में नाखून मुड़ जाते हैं. नाखूनों में सफेद रंग की धारियां व रेखाएं किडनी के रोगों का संकेत देती हैं. मधुमेह पीड़ितों का पूरा नाखून सफेद रंग व एक दो गुलाबी रेखाओं के साथ नजर आता है.

4. नाखून पर सफेद धब्बे-
कई बार आप नाखूनों पर सफेद स्पॉट नजर आते हैं. कई बार वे पूरे सफेद दिखते हैं. धीरे-धीरे नाखूनों पर सफेद धब्बे इतने बढ़ जाते हैं कि नाखून ही सफेद दिखने लगते हैं. हो सकता है यह पीलिया या लिवर संबंधी अन्य रोगों की ओर इशारा हो.

5. नाखूनों में क्रैक-
कई बार नाखून बहुत अधिक फटे और ड्राइ हो जाते हैं. नाखून में क्रैक आने लगते हैं. ऐसा हाथ और पैर दोनों के नाखूनों में आते हैं. लंबे समय तक नाखूनों की ऐसी स्थिति थॉयरायड रोग की ओर भी संकेत हो सकता है. क्रैक व पीले नाखून फंगल संक्रमण के लक्षण भी हो सकते हैं.

6. उभरे हुए नाखून-
बाहर और आसपास की त्वचा का उभरा होना हृदय समस्याओं के अतिरिक्त फेफड़े व आंतों में सूजन का संकेत देता है. इस प्रकार आवश्यकता से अधिक उभरे हुए नाखून भी कई बार परेशानी का कारण बन जाते हैं.

I am female 21 year old. I am having headache at left and right side of my backside of brain. And this pain is different type because I am feeling some type of sensation and also some pulse type of feeling in left and right side of backside of brain.

BHMS
Homeopath, Chennai
I am female 21 year old. I am having headache at left and right side of my backside of brain. And this pain is differ...
Happens when there’s pressure or irritation to your occipital nerves, maybe because of an injury, tight muscles that entrap the nerves, or inflammation. Homoeopathy has encouragng results in such headache. For more details consult me online.
Submit FeedbackFeedback

Hi, I'm married 22 aged women. My vagina has to too bad smell. When we do sex the smell come out.

Akhil Bharatiye Ayurveda, AKHIL BHARTIYE AYURVEDA
Sexologist, Delhi
Dear lybrate-user many women, their sexual partners and husbands complain to me that they or their significant others have a bad smell coming from their vaginas. This is an extremely delicate, distressing, and embarrassing issue — particularly when it is noticed by someone else. Having this experience can affect self-esteem and even lead to poor sex. for more information about it . consult us privately Lybrate.
Submit FeedbackFeedback

I am 32 years old. I think i'm gaining weight. But I walk almost 30mints everyday. And i'm having face wrinkles also. I want to tighten up my body and my skin. What I should do now. And majorly i'm facing some problems in personal sex life. I want to large my penis. What should I do to get a larger penis. Help me to erase all my problems.

Akhil Bharatiye Ayurveda, AKHIL BHARTIYE AYURVEDA
Sexologist, Delhi
I am 32 years old. I think i'm gaining weight. But I walk almost 30mints everyday. And i'm having face wrinkles also....
Dear lybrate-user You do massage with olive oil twice a day. Try some vacuum therapy, kegel exercise and jelqing exercise and also do to start eating a healthy diet like green vegetables like spinach, cabbage, kale etc contribute in male enhancement. Also citrus fruits like avocado, orange, and lemon that are rich in Vitamin B9. Avoid junk foods, smoking, alcohol consumption and want quickly results consult us privately Lybrate.
Submit FeedbackFeedback
View All Feed