Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Call Doctor
Book Appointment

Dr. Meenakshi

Gynaecologist, Delhi

750 at clinic
Book Appointment
Call Doctor
Dr. Meenakshi Gynaecologist, Delhi
750 at clinic
Book Appointment
Call Doctor
Submit Feedback
Report Issue
Get Help
Services
Feed

Personal Statement

My favorite part of being a doctor is the opportunity to directly improve the health and wellbeing of my patients and to develop professional and personal relationships with them....more
My favorite part of being a doctor is the opportunity to directly improve the health and wellbeing of my patients and to develop professional and personal relationships with them.
More about Dr. Meenakshi
Dr. Meenakshi is one of the best Gynaecologists in Green Park, Delhi. You can consult Dr. Meenakshi at Adiva Super Speciality Hospital in Green Park, Delhi. Book an appointment online with Dr. Meenakshi and consult privately on Lybrate.com.

Lybrate.com has an excellent community of Gynaecologists in India. You will find Gynaecologists with more than 38 years of experience on Lybrate.com. You can find Gynaecologists online in Delhi and from across India. View the profile of medical specialists and their reviews from other patients to make an informed decision.

Info

Specialty
Languages spoken
English
Hindi

Location

Book Clinic Appointment with Dr. Meenakshi

Adiva Super Speciality Hospital

C 1/C, Green Park Metro Station, Green Park . Landmark:-Near Indian Oil Corporation Building, DelhiDelhi Get Directions
750 at clinic
...more
View All

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr. Meenakshi

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

Properties Of Flax Seed

BAMS
Ayurveda, Sonipat
Properties Of Flax Seed

अचूक औषधि अलसी

अलसी असरकारी ऊर्जा, स्फूर्ति व जीवटता प्रदान करता है। अलसी, तीसी, अतसी, कॉमन फ्लेक्स और वानस्पतिक लिनभयूसिटेटिसिमनम नाम से विख्यात तिलहन अलसी के पौधे बागों और खेतों में खरपतवार के रूप में तो उगते ही हैं, इसकी खेती भी की जाती है। इसका पौधा दो से चार फुट तक ऊंचा, जड़ चार से आठ इंच तक लंबी, पत्ते एक से तीन इंच लंबे, फूल नीले रंग के गोल, आधा से एक इंच व्यास के होते हैं।

 इसके बीज और बीजों का तेल औषधि के रूप में उपयोगी है। अलसी रस में मधुर, पाक में कटु (चरपरी), पित्तनाशक, वीर्यनाशक, वात एवं कफ वर्घक व खांसी मिटाने वाली है। इसके बीज चिकनाई व मृदुता उत्पादक, बलवर्घक, शूल शामक और मूत्रल हैं। इसका तेल विरेचक (दस्तावर) और व्रण पूरक होता है।

अलसी की पुल्टिस का प्रयोग गले एवं छाती के दर्द, सूजन तथा निमोनिया और पसलियों के दर्द में लगाकर किया जाता है। इसके साथ यह चोट, मोच, जोड़ों की सूजन, शरीर में कहीं गांठ या फोड़ा उठने पर लगाने से शीघ्र लाभ पहुंचाती है। एंटी फ्लोजेस्टिन नामक इसका प्लास्टर डॉक्टर भी उपयोग में लेते हैं। चरक संहिता में इसे जीवाणु नाशक माना गया है। यह श्वास नलियों और फेफड़ों में जमे कफ को निकाल कर दमा और खांसी में राहत देती है।

इसकी बड़ी मात्रा विरेचक तथा छोटी मात्रा गुर्दो को उत्तेजना प्रदान कर मूत्र निष्कासक है। यह पथरी, मूत्र शर्करा और कष्ट से मूत्र आने पर गुणकारी है। अलसी के तेल का धुआं सूंघने से नाक में जमा कफ निकल आता है और पुराने जुकाम में लाभ होता है। यह धुआं हिस्टीरिया रोग में भी गुण दर्शाता है। 

अलसी के काढ़े से एनिमा देकर मलाशय की शुद्धि की जाती है। उदर रोगों में इसका तेल पिलाया जाता हैं।
तनाव के क्षणों में शांत व स्थिर बनाए रखने में सहायक है। कैंसर रोधी हार्मोन्स की सक्रियता बढ़ाता है। अलसी इस धरती का सबसे शक्तिशाली पौधा है। कुछ शोध से ये बात सामने आई कि इससे दिल की बीमारी, कैंसर, स्ट्रोक और मधुमेह का खतरा कम हो जाता है। 

इस छोटे से बीच से होने वाले फायदों की फेहरिस्त काफी लंबी है,​​ जिसका इस्तेमाल सदियों से लोग करते आए हैं। इसके रेशे पाचन को सुगम बनाते हैं, इस कारण वजन नियंत्रण करने में अलसी सहायक है। रक्त में शर्करा तथा कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को कम करता है। जोड़ों का कड़ापन कम करता है।

 प्राकृतिक रेचक गुण होने से पेट साफ रखता है। हृदय संबंधी रोगों के खतरे को कम करता है। उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करता है। त्वचा को स्वस्थ रखता है एवं सूखापन दूर कर एग्जिमा आदि से बचाता है। बालों व नाखून की वृद्धि कर उन्हें स्वस्थ व चमकदार बनाता है। इसका नियमित सेवन रजोनिवृत्ति संबंधी परेशानियों से राहत प्रदान करता है।

 मासिक धर्म के दौरान ऐंठन को कम कर गर्भाशय को स्वस्थ रखता है। अलसी का सेवन त्वचा पर बढ़ती उम्र के असर को कम करता है। अलसी का सेवन भोजन के पहले या भोजन के साथ करने से पेट भरने का एहसास होकर भूख कम लगती है। प्राकृतिक रेचक गुण होने से पेट साफ रख कब्ज से मुक्ति दिलाता है।
अलसी कैसे काम करती है

अलसी आधुनिक युग में स्त्रियों की यौन-इच्छा, कामोत्तेजना, चरम-आनंद विकार, बांझपन, गर्भपात, दुग्धअल्पता की महान औषधि है। स्त्रियों की सभी लैंगिक समस्याओं के सारे उपचारों से सर्वश्रेष्ठ और सुरक्षित है अलसी। (व्हाई वी लव और ऐनाटॉमी ऑफ लव) की महान लेखिका, शोधकर्ता और चिंतक हेलन फिशर भी अलसी को प्रेम, काम-पिपासा और लैंगिक संसर्ग के लिए आवश्यक सभी रसायनों जैसे डोपामीन, नाइट्रिक ऑक्साइड, नोरइपिनेफ्रीन, ऑक्सिटोसिन, सीरोटोनिन, टेस्टोस्टिरोन और फेरोमोन्स का प्रमुख घटक मानती है।

सबसे पहले तो अलसी आप और आपके जीवनसाथी की त्वचा को आकर्षक, कोमल, नम, बेदाग व गोरा बनायेगी। आपके केश काले, घने, मजबूत, चमकदार और रेशमी हो जायेंगे। अलसी आपकी देह को ऊर्जावान और मांसल बना देगी। शरीर में चुस्ती-फुर्ती बनी गहेगी, न क्रोध आयेगा और न कभी थकावट होगी। मन शांत, सकारात्मक और दिव्य हो जायेगा।

 अलसी में ओमेगा-3 फैट, आर्जिनीन, लिगनेन, सेलेनियम, जिंक और मेगनीशियम होते हैं जो स्त्री हार्मोन्स, टेस्टोस्टिरोन और फेरोमोन्स (आकर्षण के हार्मोन) के निर्माण के मूलभूत घटक हैं। टेस्टोस्टिरोन आपकी कामेच्छा को चरम स्तर पर रखता है।

अलसी में विद्यमान ओमेगा-3 फैट और लिगनेन जननेन्द्रियों में रक्त के प्रवाह को बढ़ाती हैं, जिससे कामोत्तेजना बढ़ती है। इसके अलावा ये शिथिल पड़ी क्षतिग्रस्त नाड़ियों का कायाकल्प करती हैं जिससे मस्तिष्क और जननेन्द्रियों के बीच सूचनाओं एवं संवेदनाओं का प्रवाह दुरुस्त हो जाता है। नाड़ियों को स्वस्थ रखने में अलसी में विद्यमान लेसीथिन, विटामिन बी ग्रुप, बीटा केरोटीन, फोलेट, कॉपर आदि की महत्वपूर्ण भूमिका होती है।

 इस तरह आपने देखा कि अलसी के सेवन से कैसे प्रेम और यौवन की रासलीला सजती है, दिव्य सम्भोग का दौर चलता है, देह के सारे चक्र खुल जाते हैं, पूरे शरीर में दैविक ऊर्जा का प्रवाह होता है और सम्भोग एक यांत्रिक क्रीड़ा न रह कर शिव और उमा की रति-क्रीड़ा का उत्सव बन जाता है, समाधि का रूप बन जाता है।

रिसर्च और वैज्ञानिक आयुर्वेद और घरेलू नुस्खों के रहस्य को जानने और मानने लगे हैं। अलसी के बीज के चमत्कारों का हाल ही में खुलासा हुआ है कि इनमें 27 प्रकार के कैंसररोधी तत्व खोजे जा चुके हैं। अलसी में पाए जाने वाले ये तत्व कैंसररोधी हार्मोन्स को प्रभावी बनाते हैं, विशेषकर पुरुषों में प्रोस्टेट कैंसर व महिलाओं में स्तन कैंसर की रोकथाम में अलसी का सेवन कारगर है। 

दूसरा महत्वपूर्ण खुलासा यह है कि अलसी के बीज सेवन से महिलाओं में सेक्स करने की इच्छा तीव्रतर होती है। यह गनोरिया, नेफ्राइटिस, अस्थमा, सिस्टाइटिस, कैंसर, हृदय रोग, मधुमेह, कब्ज, बवासीर, एक्जिमा के उपचार में उपयोगी है।

सेवन का तरीका
अलसी को धीमी आँच पर हल्का भून लें। फिर मिक्सर में पीस कर किसी एयर टाइट डिब्बे में भरकर रख लें। रोज सुबह-शाम एक-एक चम्मच पावडर पानी के साथ लें। इसे अधिक मात्रा में पीस कर नहीं रखना चाहिए, क्योंकि यह खराब होने लगती है। इसलिए थोड़ा-थोड़ा ही पीस कर रखें। अलसी सेवन के दौरान पानी खूब पीना चाहिए। इसमें फायबर अधिक होता है, जो पानी ज्यादा माँगता है।

हमें प्रतिदिन 30 – 60 ग्राम अलसी का सेवन करना चाहिये, 30 ग्राम आदर्श मात्रा है। अलसी को रोज मिक्सी के ड्राई ग्राइंडर में पीसकर आटे में मिलाकर रोटी, पराँठा आदि बनाकर खाना चाहिये. डायबिटीज के रोगी सुबह शाम अलसी की रोटी खायें।

कैंसर में बुडविग आहार-विहार की पालना पूरी श्रद्धा और पूर्णता से करना चाहिये। इससे ब्रेड, केक, कुकीज, आइसक्रीम, चटनियाँ, लड्डू आदि स्वादिष्ट व्यंजन भी बनाये जाते हैं।
अलसी के तेल और चूने के पानी का इमल्सन आग से जलने के घाव पर लगाने से घाव बिगड़ता नहीं और जल्दी भरता है।

पथरी, सुजाक एवं पेशाब की जलन में अलसी का फांट पीने से रोग में लाभ मिलता है। अलसी के कोल्हू से दबाकर निकाले गए (कोल्ड प्रोसेस्ड) तेल को फ्रिज में एयर टाइट बोतल में रखें। स्नायु रोगों, कमर एवं घुटनों के दर्द में यह तेल पंद्रह मि.ली. मात्रा में सुबह-शाम पीने से काफी लाभ मिलेगा।

अलसी के लाभ
आपका हर्बल चिकित्सक आपकी सारी सेक्स सम्बंधी समस्याएं अलसी खिला कर ही दुरुस्त कर देगा क्योंकि अलसी आधुनिक युग में स्तंभनदोष के साथ साथ शीघ्रस्खलन, दुर्बल कामेच्छा, बांझपन, गर्भपात, दुग्धअल्पता की भी महान औषधि है। सेक्स संबन्धी समस्याओं के अन्य सभी उपचारों से सर्वश्रेष्ठ और सुरक्षित है अलसी। बस 30 ग्राम रोज लेनी है।

सबसे पहले तो अलसी आप और आपके जीवनसाथी की त्वचा को आकर्षक, कोमल, नम, बेदाग व गोरा बनायेगी। आपके केश काले, घने, मजबूत, चमकदार और रेशमी हो जायेंगे।
अलसी में ब्रेस्ट कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर और कोलोन कैंसर से बचाने का गुण पाया जाता है। इसमें पाया जाने वाला लिगनन कैंसर से बचाता है। यह हार्मोन के प्रति संवेदनशील होता है और ब्रेस्ट कैंसर के ड्रग टामॉक्सीफेन पर असर नहीं डालता है।

अलसी आपकी देह को ऊर्जावान, बलवान और मांसल बना देगी। शरीर में चुस्ती-फुर्ती बनी गहेगी, न क्रोध आयेगा और न कभी थकावट होगी। मन शांत, सकारात्मक और दिव्य हो जायेगा।

अलसी में विद्यमान ओमेगा-3 फैट, जिंक और मेगनीशियम आपके शरीर में पर्याप्त टेस्टोस्टिरोन हार्मोन और उत्कृष्ट श्रेणी के फेरोमोन (आकर्षण के हार्मोन) स्रावित होंगे। टेस्टोस्टिरोन से आपकी कामेच्छा चरम स्तर पर होगी। आपके साथी से आपका प्रेम, अनुराग और परस्पर आकर्षण बढ़ेगा। आपका मनभावन व्यक्तित्व, मादक मुस्कान और शटबंध उदर देख कर आपके साथी की कामाग्नि भी भड़क उठेगी।

अलसी में विद्यमान ओमेगा-3 फैट, आर्जिनीन एवं लिगनेन जननेन्द्रियों में रक्त के प्रवाह को बढ़ाती हैं, जिससे शक्तिशाली स्तंभन तो होता ही है साथ ही उत्कृष्ट और गतिशील शुक्राणुओं का निर्माण होता है। इसके अलावा ये शिथिल पड़ी क्षतिग्रस्त नाड़ियों का कायाकल्प करते हैं जिससे सूचनाओं एवं संवेदनाओं का प्रवाह दुरुस्त हो जाता है।

 नाड़ियों को स्वस्थ रखने में अलसी में विद्यमान लेसीथिन, विटामिन बी ग्रुप, बीटा केरोटीन, फोलेट, कॉपर आदि की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। ओमेगा-3 फैट के अलावा सेलेनियम और जिंक प्रोस्टेट के रखरखाव, स्खलन पर नियंत्रण, टेस्टोस्टिरोन और शुक्राणुओं के निर्माण के लिए बहुत आवश्यक हैं। कुछ वैज्ञानिकों के मतानुसार अलसी लिंग की लंबाई और मोटाई भी बढ़ाती है।

अलसी बांझपन, पुरूषहीनता, शीघ्रस्खलन व स्थम्भन दोष में बहुत लाभदायक है।
पुरूष को कामदेव तो स्त्रियों को रति बनाती है अलसी। अलसी बांझपन, पुरूषहीनता, शीघ्रस्खलन व स्थम्भन दोष में बहुत लाभदायक है। 

अर्थात स्त्री-पुरुष की समस्त लैंगिक समस्याओं का एक-सूत्रीय समाधान है।इस तरह आपने देखा कि अलसी के सेवन से कैसे प्रेम और यौवन की रासलीला सजती है, जबर्दस्त अश्वतुल्य स्तंभन होता है, जब तक मन न भरे सम्भोग का दौर चलता है, देह के सारे चक्र खुल जाते हैं, पूरे शरीर में दैविक ऊर्जा का प्रवाह होता है और सम्भोग एक यांत्रिक क्रीड़ा न रह कर एक आध्यात्मिक उत्सव बन जाता है, समाधि का रूप बन जाता है।

तेल तड़का छोड़ कर, नित घूमन को जाय।
मधुमेह का नाश हो, जो जन अलसी खाय।।
नित भोजन के संग में, मुट्ठी अलसी खाय।
अपच मिटे, भोजन पचे, कब्जियत मिट जाये।।
घी खाये मांस बढ़े, अलसी खाये खोपड़ी।
दूध पिये शक्ति बढ़े, भुला दे सबकी हेकड़ी।।
धातुवर्धक, बल-कारक, जो प्रिय पूछो मोय।
अलसी समान त्रिलोक में, और न औषध कोय।।
जो नित अलसी खात है, प्रात पियत है पानी।
कबहुं न मिलिहैं वैद्यराज से, कबहुँ न जाई जवानी।।
अलसी तोला तीन जो, दूध मिला कर खाय।
रक्त धातु दोनों बढ़े, नामर्दी मिट जाय।।

10 people found this helpful

She had sex first time. But after four days she has pain at her backbone. please tell us about that. What should we do?

BPTh/BPT
Physiotherapist, Kota
She had sex first time. But after four days she has pain at her backbone. please tell us about that.
What should we do?
Lower back pain you can do it this exercise, 1 Lying on your back, bend your right knee into your chest and place a strap or rolled-up towel around the ball of your foot. Straighten your leg toward the ceiling. Press out through both heels. If the lower back feels strained, bend the left knee and place the foot on the ground. Hold for 3-5 minutes and then switch to the left let for 3-5 minutes. 2….Lying on your back, bend your knees into your chest and bring your arms out at a T. As you exhale lower your knees to ground on the right. Keep both shoulders pressing down firmly. If the left shoulder lifts, lower your knees further away from the right arm. Hold for 1-2 minutes each side I hope you will fit and fine.
3 people found this helpful

If a poison reaches its expiry date, would it be more poisonous or less poisonous?

MBBS, MD - Obstetrtics & Gynaecology, FMAS, DMAS
Gynaecologist, Noida
If a poison reaches its expiry date, would it be more poisonous or less poisonous?
Hello, its difficult to say though the efficacy would diminish but it will not be lost so a poison would still remain a prison even after expiry.

I am 19. Recently I got close with my boyfriend and he fingered my vagina. I have masturbated before but this time my vagina is paining and has swollen a bit. It's even paining while I'm peeing. What can be the reason and what should I do?

MD - Gen Medicine
Sexologist, Delhi
Hi friend. There is nothing to worry about. It may because of spasm or trauma due to fingering. It will decrease soon.
2 people found this helpful

I had a sex with my girl friend without using condom right ofter her periods. I have used delay spray and pulled out before ejaculation. Will there be a chances of getting pregnant. Can we use Ipill. And she is 19 years old.

Fellowship In Minimal Access Surgery, MS - Obstetrics and Gynaecology, MBBS
Gynaecologist, Hyderabad
I had a sex with my girl friend without using condom right ofter her periods. I have used delay spray and pulled out ...
Hi lybrate user, if her periods r regular 28to 30days cycles, then till 8th day it is safe time , taking 1st day of period as day1 and if u have not ejaculated into vagina then there is no chance of pregnancy . No need to use ipill.
3 people found this helpful

Hi, Pegakit se kiya tha bt positive nahi hua. But abhi tak period bhi nahi hua.Please kuch suggest kare

MBBS, MD - Obstetrtics & Gynaecology, FMAS, DMAS
Gynaecologist, Noida
Hi, Pegakit se kiya tha bt positive nahi hua. But abhi tak period bhi nahi hua.Please kuch suggest kare
Hello, If UPT is negative and you have crossed more than 15 days post the due date then you may opt for progesterone withdrawal to initiate your menses.

How Can Ayurveda Help In Mother And Child Care?

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Ahmedabad
How Can Ayurveda Help In Mother And Child Care?

Motherhood is a big responsibility. Being a caretaker and a nurturer requires a lot of hard work and time. Staying active physically, emotionally and spiritually is the most difficult work of all. It is even more tiring as the entire process of giving birth is a tiring task in itself.

In order to get over this tiredness, according to Ayurveda, one should try to calm their Vata. Spiritual elements of the body are collectively called Vata. Vata is responsible for maintaining the balance and order of the body.

How to calm Vata?

Diet

For the Mother:
A mother is tired, sleep deprived, and in pain after the daunting process of giving birth.

  • She should be present in cold and dry environment at all times
  • To calm her Vata, she should maintain her diet as well
  • This includes having light food, good fruits, and a lot of water
  • It is very important to remember she shouldn’t eat spicy food at all
  • She should try having food that provides nourishment to the body by including special herbs in the food, like Fenugreek, Ashwagandha and Pippali. These herbs stimulate the nourishing quality of food and provide the perfect balance to body.

For the Baby:

When it comes to taking care of infants, the best medicine and nurturer is the mother’s milk.

  • After the toddler is 10-11 months old, Ayurveda can play a major role in their diet.
  • Rasayana and Chyawanprash can boost immunity in children and calm their Vata.
  • Swarna bhasma when mixed with ghee and honey can be a very effective medicine during cold.
  • Shankhapushpi is also a medicinal herb that is very useful to boost immunity during the winters.

Physical Care

  • Physical care is important for both the mother and the baby. This includes mild massages and exercises from time to time.
  • Massages in the mother should be focused on the hip and the lower back region, as those are the places that experience most pain in the body. Ashwagandha and Bala oils are the best to massage with.
  • When it comes to the child, the most focused part is the skin. Though infants shouldn’t be subjected to massages at first, after a year, one can massage a baby with Snehana and Ashwagandha oils to improve the skin.

Emotional Care

  1. The mother and the child need emotional support more than anything. This requires a mother to spend time with her child as much as possible.
  2. A mother should get ample amount of sleep during the nights. So, as much as possible, the father should take care of the child during the nights.

Above are some of the best practices to nurture mother and the child. But it's not an easy task. It's going to be challenging and confusing, but once this becomes a habit, everything will fall into places. Consulting an Ayurvedic doctor is very helpful at this stage.

4801 people found this helpful

Oral Sex!

MBBS, MD - Dermatology
Dermatologist, Delhi
Oral Sex!

.

32 people found this helpful
View All Feed

Near By Doctors

85%
(10 ratings)

Dr. Divya Wadhawan

MBBS, DNB (Obstetrics and Gynecology), Fellowship in USG, Laprascopic Training Infertility
Gynaecologist
Narang Medical Center, 
0 at clinic
Book Appointment
85%
(10 ratings)

Dr. Shakuntla Shukla

DGO, MBBS, Diploma in Reproductive Medicine (Germany)
Gynaecologist
Aastha Medical Centre, 
at clinic
Book Appointment
88%
(189 ratings)

Dr. Mita Verma

MBBS, MS - Obstetrics & Gynaecology
Gynaecologist
Dr. Mita Verma Women's Clinic, 
300 at clinic
Book Appointment
86%
(12 ratings)

Dr. Sadhana Kala

MBBS, MS - Obstetrics & Gynaecology , FACS (USA)
Gynaecologist
Moolchand Hospital, 
300 at clinic
Book Appointment
85%
(10 ratings)

Dr. Yuvakshi Juneja

MBBS, MD - Obstetrics & Gynaecology
Gynaecologist
Dr. Yuvakshi Juneja's Gynaecology Clinic, 
0 at clinic
Book Appointment
86%
(30 ratings)

Gynae & Ent Center

Gynaecologist
Delhi ENT Centre, 
300 at clinic
Book Appointment