Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Call Clinic
Book Appointment

Julian Nursing Home

General Physician Clinic

96, Perumbur High Road, Perambur, Chennai
1 Doctor
Book Appointment
Call Clinic
Julian Nursing Home General Physician Clinic 96, Perumbur High Road, Perambur, Chennai
1 Doctor
Book Appointment
Call Clinic
Report Issue
Get Help
Services
Feed

About

Customer service is provided by a highly trained, professional staff who look after your comfort and care and are considerate of your time. Their focus is you....more
Customer service is provided by a highly trained, professional staff who look after your comfort and care and are considerate of your time. Their focus is you.
More about Julian Nursing Home
Julian Nursing Home is known for housing experienced General Physicians. Dr. Aloysius Julian, a well-reputed General Physician, practices in Chennai. Visit this medical health centre for General Physicians recommended by 67 patients.

Timings

MON-SAT
10:00 AM - 02:00 PM

Location

96, Perumbur High Road, Perambur,
Perambur Chennai, Tamil Nadu - 600012
Click to view clinic direction
Get Directions

Doctor in Julian Nursing Home

Dr. Aloysius Julian

MBBS, Diploma in Diabetology
General Physician
33 Years experience
Unavailable today
View All
View All

Services

Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
Get Cost Estimate
View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Julian Nursing Home

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

I am 21 years old guy. I have sleeping problems form since last 2 years .i get sleep at around 4 am -5 am at morning. I get 3-4 hrs per night. I am not getting refreshed next day. I am having severe headache at back .my mood gets swings. I masturbate every after single day. When I masturbate I automatically feels sleepy at night I sleep 5-6 hrs per night. I have also tried many exercises but did not work .i am facing serious issue. please suggest me for the solution.

BHMS
Homeopath, Noida
I am 21 years old guy. I have sleeping problems form since last 2 years .i get sleep at around 4 am -5 am at morning....
Do you sleep or take a nap in the daytime. If so then stop it. If you are not able to sleep, do not watch tv or mobile whats app etc. Read a good book. Switch off tv at least 30 mins before bedtime. Drink warm milk before going to bed. Do some exercise daily. Eat healthy well-balanced food. Finish your dinner at least 2 hours before bedtime. Also, dinner should be light for more details you can consult me.
1 person found this helpful

Hello sir I have skin allergy and fungal also I did 2 months treatment also bt then its comes again wht I do sir? Please suggest me.

BHMS
Homeopath, Noida
Hello sir
I have skin allergy and fungal also I did 2 months treatment also bt then its comes again wht I do sir? Ple...
Wash the affected skin two to three times a day. Keep the affected area dry. Avoid excess affected skin irritation by wearing 100% cotton underwear. Avoid fabric softeners, bleaches, or harsh laundry detergents. Wash your workout clothes, underwear, socks, and towels after each use. Keep your affected area, inner thighs, and buttocks clean and dry, especially after you exercise and shower. After showering or bathing, dry the irritated affected area by gently patting it with a towel. Be sure to dry your skin thoroughly. Mix two tablespoons of apple cider vinegar in two cups of warm water. Wash the infected area with this solution and allow it to dry on its own. Another option is to apply a mixture of equal parts of white vinegar and coconut oil on the affected skin. Like hydrogen peroxide, rubbing alcohol can help kill off the fungus that's on the surface level of the skin. You can apply it directly to the affected area listerine: it has antiseptic, antifungal and antibacterial properties, which help treat skin problem.

I am ill because of diarrhea. Give me treatment or some medicines for treat this.

MBBS, Diploma in Diabetology, CCRH (certificate in reproductive health)
General Physician, Nagercoil
I am ill because of diarrhea. Give me treatment or some medicines for treat this.
Hi -avoid milk products -take curd rice, barley water, pomegranate juice, black tea etc -for medicine consult me through private Lybrate consultation for further treatment and advice.

Sir mere ko fungal infection ho gya h .muje 2-3 moth ho gye h infection ko. M daily ointment use kr rah hu .but thoda relief hota h or phr se infection hone lag jada h.iska permanently koi treatment nhi h kya. Plzz tell me best medicine & advise. Help me.

BHMS
Homeopath, Noida
Sir mere ko fungal infection ho gya h .muje 2-3 moth ho gye h infection ko. M daily ointment use kr rah hu .but thoda...
Wash the affected skin two to three times a day. Keep the affected area dry. Avoid excess affected skin irritation by wearing 100% cotton underwear. Avoid fabric softeners, bleaches, or harsh laundry detergents. Wash your workout clothes, underwear, socks, and towels after each use. Keep your affected area, inner thighs, and buttocks clean and dry, especially after you exercise and shower. After showering or bathing, dry the irritated affected area by gently patting it with a towel. Be sure to dry your skin thoroughly. Mix two tablespoons of apple cider vinegar in two cups of warm water. Wash the infected area with this solution and allow it to dry on its own. Another option is to apply a mixture of equal parts of white vinegar and coconut oil on the affected skin. Like hydrogen peroxide, rubbing alcohol can help kill off the fungus that's on the surface level of the skin. You can apply it directly to the affected area listerine: it has antiseptic, antifungal and antibacterial properties, which help treat skin problem.

I am a 21 years girl and I feel head spinning once or twice a day tested for ecg etc but everything clear still why this happens?

BHMS
Homeopath, Hyderabad
I am a 21 years girl and I feel head spinning once or twice a day tested for ecg etc but everything clear still why t...
Hope you have checked your bp and other things (visit a doctor for general health check-up ). Some basic tests like cbc, blood sugar etc can be done. You can update all the findings of your doctor for further clarification. You can take homeopathic medicines which do not have any side effects. You can contact me if the symptoms persists.

Hello Doctor, Please can you tell me what kind of sperm is a good one and how can I check at home. Because I'm worried about my sperm quality and my age is 26. Please help me out a doctor. Thank you.

MBBS
Sexologist, Chittorgarh
Hello Doctor, Please can you tell me what kind of sperm is a good one and how can I check at home. Because I'm worrie...
You can do sperm analysis test to check for quality of sperm. The sperm quality depends on the sperm count, motility and vitality.
1 person found this helpful

My only problem is that I have a lot of desire to have sex, but I never masturbate because of my running.

DHMS (Hons.)
Homeopath, Patna
My only problem is that I have a lot of desire to have sex, but I never masturbate because of my running.
Hi, Lybrate user, masturbation twice a week is healthy. Avoid, frequent masturbation to check future hazards. Take care.

हेपेटाइटिस बी का आयुर्वेदिक इलाज - Hepatitis B Ka Ayurvedic Ilaj!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
हेपेटाइटिस बी का आयुर्वेदिक इलाज - Hepatitis B Ka Ayurvedic Ilaj!

हेपेटाइटिस बी एक वायरस है जो लिवर को संक्रमित करता है. ज्यादातर लोग इससे ग्रसित होने पर कुछ सामय बाद ही बेहतर महसूस करने लगते जिसे एक्यूट हेपेटाइटिस बी कहा जाता है. लेकिन कभी-कभी इन्फेक्शन लंबे समय तक भी रह सकता है जिसे क्रोनिक हेपेटाइटिस बी कहा जाता है. यह आपको लम्बे समय में लीवर को नुकसान पहुंचाता है. वायरस से संक्रमित शिशुओं और छोटे बच्चों को क्रोनिक हेपेटाइटिस होने का ज्यादा खतरा रहता है. कभी-कभार ऐसा भी होता है की आप हेपेटाइटिस बी से पीड़ित हो और आपको इस बीमारी का अनुभव तक नहीं होता. ऐसा इसलिए, क्योंकि ऐसा संभव है कि इसके लक्षण दिखाई ना दें. यदि इसके लक्षण नज़र आते भी हैं तो वह फ्लू के लक्षण जैसे प्रतीत होते हैं. लेकिन इस स्थिति में भी आप इससे अपने आस-पास के लोगों को संक्रमित कर सकते हैं.

क्या है हेपेटाइटिस बी की बिमारी?
पीलिया या हेपेटाइटिस एक सामान्य लीवर डिसऑर्डर हैं, जो कई असामान्य चिकित्सा कारणों की वजह से से हो सकते हैं. पीलिया होने पर किसी व्यक्ति को सिर दर्द, लो-ग्रेड फीवर, मतली और उल्टी, भूख कम लगना, त्वचा में खुजली और थकान आदि लक्षण होते हैं. त्वचा और आंखों का सफेद भाग पीला पड़ जाता है. इसमें मल पीला और मूत्र गाढ़ा हो जाता है. हालांकि ऐसे में कुछ घरेलू उपचार आपकी काफी मदद कर सकते हैं. आइए इस लेख के माध्यम से हेपेटाइटिस बी के इलाज के लिए कुछ घरेलू उपचारों के बारे में जानें.

1. मूली का रस व पत्ते
मूली के हरे पत्ते पीलिया में फायदेमंद होते है. मूली के रस में बहुत प्रभावी गुण होते है कि यह खून और लीवर से अत्‍यधिक बिलिरूबीन को निकाल देने में सक्षम होते है. पीलिया या हेपेटाइटिस में रोगी को दिन में 2 से 3 गिलास मूली का रस जरुर पीना चाहिये. इसके साथ ही पत्ते पीसकर उनका रस निकालकर और छानकर पीएं.

2. टमाटर का रस
टमाटर का रस पीलिया में बहुत फायदेमंद होता है. इसमें विटामिन सी पाया जाता है, जिस वजह से यह लाइकोपीन में समृद्ध होता होता है. इसके रस में थोड़ा नमक और काली मिर्च मिलाकर पीएं.

3. आंवला
आवंले विटामिन सी का एक समृद्ध स्रोत है. आप आमले को कच्‍चा या फिर सुखा कर भी खा सकते हैं. इसके अलावा जूस के रूप में भी प्रयोग किया जा सकता है. इससे आपको संक्रमण से बहुत राहत मिल सकती है.

4. नींबू या पाइनएप्‍पल का जूस
नींबू का रस पीने से पेट साफ होता है. इसे रोज खाली पेट सुबह पीना पीलिया में लाभदायक होता है. इसके अवाला पाइनएप्‍पल भी लाभदायक होता है. पाइनएप्‍पल अंदर से पेट के सिस्‍टम को साफ रखता है.

5. नीम
नीम में कई प्रकार के वायरल विरोधी घटक पाए जाते हैं, जिस वजह से यह हेपेटाइटिस के इलाज में उपयोगी होता है. यह लिवर में उत्पन्न टॉक्सिक पदार्थों को नष्ट करने में भी सक्षम होता है. इसकी पत्तियों के साथ में शहद मिलाकर सुबह-सुबह पियें.

6. अर्जुन की छाल
अर्जुन के पेड़ की छाल, हार्ट और यूरिन सिस्टम को अच्छा बनाने के लिए माने जाती है. हालांकि, इसमें मौजूद एल्कलॉइड लिवर में कोलेस्ट्रॉल के उत्पादन को विनियमित करने की क्षमता भी रखता है. और यह गुण इसे हैपेटाइटिस के खिलाफ एक मूल्यवान दवा बनाता है.

7. हल्दी
देश के कुछ भागों में, लोगों को यह ग़लतफ़हमी है कि, क्योंकि हल्दी का रंग पीला होता है, पीलिया के रोगी को इसाक सेवन नहीं करना चाहिए. हालांकि यह एक कमाल का एंटी-इन्फ्लेमेट्री, एंटीऑक्सिडेंट, एंटी-माइक्रोबियल प्रभाव वाली तथा बढ़े हुए यकृत नलिकाओं को हटाने वाली होती है. हल्दी हैपेटाइटिस के खिलाफ सबसे प्रभावी उपायों में से एक है.

1 person found this helpful

ह्रदय रोग से बचाव - Hriday Rog Se Bachaw!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
ह्रदय रोग से बचाव - Hriday Rog Se Bachaw!

हृदय हमारे जीवन का आधार है. इसलिए जब किसी व्यक्ति की मृत्यु होती है तो हम उसके हृदय की धड़कन चेक करते हैं. यदि दिल धड़क रहा है तो व्यक्ति जीवित है लेकिन जब धड़कन बंद तो समझिए कि व्यक्ति की मृत्यु हो गई. इसलिए दिल की धड़कनों का खयाल विशेष तौर पर रखना चाहिए क्योंकि उसी से हम जिंदा हैं. जरा सी भी अव्यवस्थित जीवनशैली और स्वास्थ्य के प्रति लापरवाही आप के नाजुक दिल के लिए खतरा पैदा कर सकती है. बदलती जीवन शैली ने हमारे दिल के लिए खतरा बढ़ा दिया है. जीवनशैली व खानपान में बदलाव ने लोगों को हृदय संबंधी रोगों के करीब पहुंचा दिया है. हृदय रोग किसी भी उम्र में किसी को भी हो सकते हैं. ये रोग ऐसे होते हैं जिनका इलाज बहुत मुश्किल होता है. इसलिए हमें कोशिश करनी चाहिए कि हम शुरू से ही अपने हृदय की खास देखभाल करें और उसे स्वस्थ रखें. हृदय को स्वस्थ रखने के लिए हमें अपने रोजमर्रा के जीवन में ही थोड़े बदलाव लाने की जरुरत होती है. अपने खानपान व जीवनशैली की आदतों में कुछ नई बातों को शामिल करने और कुछ खराब आदतों को निकाल देने से हमारे हृदय को फायदा होता है. आइये इस लेख के माध्यम से ये जानें कि हृदय रोगों से बचाव कैसे करें?

टहलना है हृदय के स्वास्थ्य के जरूरी-
रोज आधे घंटे तक जरूर टहलें. टहलने की रफ्तार इतनी होनी चाहिए कि जिससे सीने में दर्द न हो और आप हांफने भी न लगें. यह आपके अच्छे कोलेस्ट्रॉल यानी एचडीएल कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाने में आपकी मदद कर सकता है. आप सुबह, शाम या फिर रात को खाने के बाद किसी भी वक्त टहल सकते हैं.

व्यायाम करना है दिल के लिए फायदेमंद-
रोज 15 मिनट तक ध्यान और हल्के योग व्यायाम रोज करें. यह आपके तनाव तथा रक्त दबाव को कम करेगा. आपको सक्रिय रखेगा और आपके हृदय रोग को नियंत्रित करने में मददगार होगा. व्यायाम करने से न सिर्फ आपका हृदय बल्कि संपूर्ण शरीर चुस्त-दुरुस्त महसूस करने लगेगा.

तनाव मुक्त रहें-
आजकल की जीवनशैली का एक हिस्सा तनाव बन गया है. दफ्तर हो या परिवार, इंसान किसी न किसी वजह से तनाव में घिरा रहता है. लेकिन, तनाव आपके हृदय के लिए बिल्कुल अच्छा नहीं. इसलिए तनाव मुक्त रहने की कोशिश करें. इससे आपको हृदय रोग को रोकने में मदद मिलेगी, क्योंकि तनाव हृदय की बीमारियों की मुख्य वजह है.

कोलेस्ट्रॉल को रखें नियंत्रित-
अपने कोलेस्ट्रॉल लेवल को 130 एमजी/ डीएल तक बनाए रखें. कोलेस्ट्रॉल के मुख्य स्रोत जीव उत्पाद हैं, इनसे जितना अधिक हो, बचने की कोशिश करनी चाहिए. यदि आपके यकृत यानी लीवर में अतिरिक्त कोलेस्ट्रॉल का निर्माण हो रहा हो तब आपको कोलेस्ट्रॉल घटाने वाली दवाओं का सेवन करना पड़ सकता है.

वजन सामान्य रखें-
हृदय को स्वस्थ बनाने के लिए जरूरी है कि शरीर के वजन को सामान्य रखें. आपका बॉडी मास इंडेक्स 25 से नीचे रहना चाहिए. इसकी गणना आप अपने किलोग्राम वजन को मीटर में अपने कद के स्क्वेयर के साथ घटाकर कर सकते हैं. तेल के परहेज और निम्न रेशे वाले अनाजों तथा उच्च किस्म के सलादों के सेवन द्वारा आप अपने वजन को नियंत्रित कर सकते हैं.

रेशेदार भोजन करें-
स्वस्थ हृदय के लिए रेशेदार भोजन का सेवन करें. भोजन में अधिक सलाद, सब्जियों तथा फलों का प्रयोग करें. ये आपके भोजन में रेशे और एंटी ऑक्सीडेंट्स के स्रोत हैं और एचडीएल या गुड कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाने में सहायक होते हैं. इससे आपकी पाचन क्षमता भी अच्छी बनी रहती है.

शुगर पर रखें नजर-
यदि आप डायबिटीज से पीड़ित हैं तो शुगर को नियंत्रण में रखें. आपका फास्टिंग ब्लड शुगर 100 एमजी/ डीएल से नीचे होना चाहिए और खाने के दो घंटे बाद उसे 140 एमजी/ डीएल से नीचे होना चाहिए. व्यायाम, वजन में कमी, भोजन में अधिक रेशा लेकर तथा मीठे भोज्य पदार्थों से बचते हुए डायबिटीज को खतरनाक न बनने दें. यदि जरूरत परे तो हल्की दवाओं का सेवन करना चाहिए.

रक्त चाप को अनदेखा न करें-
अपने रक्त चाप को 120/80 एमएमएचजी के आसपास रखें. रक्त चाप विशेष रूप से 130/ 90 से ऊपर आपके ब्लॉकेज (अवरोध) को दुगनी रफ्तार से बढ़ाएगा. इसको कम करने के लिए खाने में नमक का कम इस्तेमाल करें और जरुरत पड़े तो हल्की दवाएं लेकर भी रक्त चाप को कम किया जा सकता है.

3 people found this helpful

हृदय गति रुकना - Hriday Gati Rukna!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
हृदय गति रुकना - Hriday Gati Rukna!

हृदय की गति रुकना एक बेहद गंभीर और जानलेवा बीमारी है. इसे ही कार्डियक अरेस्ट भी कहा जाता है. देखा जाए तो दिल के दौरे से मिलते जुलते ऐसे ही दो-तीन बीमारियाँ और हैं जिन्हें लेकर लोगों में अक्सर कन्फ़्यूजन होता है. लोग हृदय संबंधी समस्या होने पर हार्ट अटैक और कार्डिक अरेस्ट (अचानक हृदय गति रुकना) शब्द का इस्तेमाल एक ही रूप में करते हैं, लेकिन ये समानार्थक शब्द नहीं है. इन दोनों बीमारियों के कारण भिन्न होते हैं. दिल का दौरा (हार्ट अटैक) तब होता है जब हृदय में पहुंचने वाला रक्त का प्रवाह बंद हो जाता है. वहीं दूसरी ओर हृदय गति रुकना तब होता है, जब हृदय विद्युतीय प्रक्रिया में अचानक समस्या आ जाती है और हृदय अचानक धड़कना बंद कर देता है. सरल शब्दों में समझा जाएं तो हार्ट अटैक का सीधा संबंध रक्त प्रवाह से है, जबकि हृदय गति रुकना का संबंध हृदय को गति देने वाली विद्युतीय तरंगों में आई समस्या से होता है. हृदय गति रुकना को हृदय गति रुकना भी कहा जाता है. आइए इस लेख के माध्यम से हम हृदय की गति रुकने के कारणों और इससे जुड़ी अन्य बातों को जानें.

कार्डियक अरेस्ट को लेकर दूर करें संदेह-
कार्डियक अरेस्ट बिना किसी पूर्व लक्षण के अचानक हो जाता है. यह समस्या हृदय को गति देने वाली विद्युतीय तरंगों में आई खराबी के कारण उत्पन्न होती है. इसके कारण हृदय की दर अनियमित हो जाती है. हृदय की धड़कनों व पम्पिंग क्रिया में बाधा आने के कारण हृदय मस्तिष्क, फेफड़ों और अन्य अंगों को रक्त नहीं पहुंचा पाता है. इसके बाद व्यक्ति को बेहोशी आने लगती है और कुछ समय के बाद नसों में रक्त बहना बंद हो जाता है. इस समस्या में व्यक्ति का तुरंत इलाज न हो पाने की स्थिति में उसकी मृत्यु भी हो सकती है.

यह दोनों समस्याएं कैसे एक दूसरे से जुड़ी हुई हैं?
यह दोनों ही समस्याएं हृदय से संबंध रखती हैं और यह दोनों हृदय रोग है. अचानक होने लाने वाला हृदय गति रुकना हार्ट अटैक के बाद होता है या हार्ट अटैक के ठीक होने की प्रक्रिया में हो सकता है. इससे कहा जा सकता है कि हार्ट अटैक के बाद हृदय गति रुकना होने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं. ऐसा जरूरी नहीं है कि हार्ट अटैक की समस्या होने पर हृदय गति रुकना होता ही हो, परंतु हृदय गति रुकना के कई मामलों में हार्ट अटैक का होना एक मुख्य वजह के रूप में देखा जाता है. हृदय से जुड़ी अन्य समस्याएं भी हृदय की धड़कनों को भी बाधित कर सकती है और हृदय गति रुकना की वजह बन सकती है. इन समस्याओं में हृदय की मांसपेशियों का अकड़ना (कार्डियोम्योपैथी), दिल की विफलता, अनियमित दिल की धड़कन, वेंट्रिकुलर फैब्रिलेशन और क्यूटी सिंड्रोम शामिल हैं.

अचानक हृदय गति रुकना होने पर ये करें-
हृदय गति रुकना के कुछ ही मिनटों में इलाज प्रदान करने से इसको ठीक किया जा सकता है. इसके लिए आप सबसे पहले अस्पताल कॉल कर एंबुलेंस व अपातकाल चिकित्सा को बुलाएं. जब तक अपातकालीन इलाज शुरू नहीं होता तब तक आप मरीज को डिफब्रिलेटर (हृदय पर विद्युतिय झटके देने वाली मशीन) से प्राथमिक इलाज करते रहें. इसके अलावा हृदय गति रुकना मरीज को तुरंत कार्डियोपल्मोनरी रिसासिटेशन (हृदय धड़कन रूकने पर मरीज को दी जाने वाली चिकित्सीय प्रक्रिया) देनी चाहिए.

हार्ट अटैक (हृदयघात) क्या होता है?
हृदय को रक्त पहुंचाने वाली धमनियां जब अवरुद्ध होकर हृदय के एक भाग तक ऑक्सीजन युक्त रक्त को जाने से रोक देती है, तो इस स्थिति को हार्ट अटैक कहा जाता है. यदि इस अवरुद्ध धमनी को जल्दी से नहीं खोला जाता है, तो इस धमनी की वजह से हृदय पर प्रभाव पड़ना शुरू हो जाता है. लंबे समय तक इस समस्या का उपचार न करने से हृदय की क्षति में बढ़ोतरी हो जाती है. हार्ट अटैक के लक्षण तत्काल और तीव्र हो सकते हैं. कई बार इस समस्या के लक्षण धीरे-धीरे शुरू होते हैं और लंबे समय तक उपचार न होने पर यह हार्ट अटैक का कारण बन जाते हैं. आपको बता दें कि अचानक होने वाले हृदय गति रुकना के विपरीत हार्ट अटैक में दिल की धड़कने बंद नहीं होती हैं.

View All Feed