Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Call Clinic
Book Appointment

Dr Vidya Muralidhar

Gynaecologist Clinic

Indiranagar Bangalore
1 Doctor · ₹500
Book Appointment
Call Clinic
Dr Vidya Muralidhar Gynaecologist Clinic Indiranagar Bangalore
1 Doctor · ₹500
Book Appointment
Call Clinic
Report Issue
Get Help
Services
Feed

About

Our entire team is dedicated to providing you with the personalized, gentle care that you deserve. All our staff is dedicated to your comfort and prompt attention as well....more
Our entire team is dedicated to providing you with the personalized, gentle care that you deserve. All our staff is dedicated to your comfort and prompt attention as well.
More about Dr Vidya Muralidhar
Dr Vidya Muralidhar is known for housing experienced Gynaecologists. Dr. Vidya Muralidhar, a well-reputed Gynaecologist, practices in Bangalore. Visit this medical health centre for Gynaecologists recommended by 66 patients.

Timings

MON-SUN
10:00 AM - 08:00 PM

Location

Indiranagar
Indira Nagar Bangalore, Karnataka - 560038
Click to view clinic direction
Get Directions

Doctor in Dr Vidya Muralidhar

Dr. Vidya Muralidhar

MBBS, DGO, DNB (Obstetrics and Gynecology)
Gynaecologist
10 Years experience
500 at clinic
₹300 online
Available today
10:00 AM - 08:00 PM
View All
View All

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Dr Vidya Muralidhar

Your feedback matters!
Write a Review

Feed

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

Antenatal Care (Care During Pregnancy)

DNB, DGO, MBBS, Fellowship In Infertility
Gynaecologist, Delhi
Play video

Are you pregnant and waiting to be a mother for the first time? Pregnancy is an ideal time for you to start taking care of yourself emotionally and physically. It is not a very simple thing and is associated with several complexities.

1 person found this helpful

Nasal Obstruction - What Causes It?

MBBS, Diploma in Oto-Rhino-Laryngology (DORL), DNB (ENT), Fellow AINOT
ENT Specialist, Mumbai
Play video

There is a strong connection between the ears, nose and throat, as any ENT or Ear Nose Throat specialist will be able to tell you. When there is any kind of congestion or obstruction in the nasal passages, one can also feel some effect in the ears with the symptoms going from mild to severe.

5 Steps A Mother In Her Mid-thirties Should Take To Secure Her Health!

MBBS Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery
General Physician, Faridabad
5 Steps A Mother In Her Mid-thirties Should Take To Secure Her Health!

Women experience a number of health disorders in their 30s. This is especially true for mothers. After childbirth, you may have difficulty maintaining your weight. In some cases, you may also experience other hormonal issues, which lead to excessive hair fall and a range of underlying disorders. Therefore, if you are a mother in her thirties, here are some things you should do if you want to stay healthy.

  • Find the perfect diet-

Just because you are a mommy now, you cannot compromise on your diet. If you follow a strict and healthy diet regime, your body will remain healthy and fit. Make sure you are getting enough carbs, fats, proteins and vitamins in your diet each day. Otherwise, you might not be able to direct all your attention to your child.

  • Exercise regularly-

Mothers generally do not need to incorporate exercise, as they often have to run after their kid. However, if you think you are putting on weight, you should start working out. If your schedule does not allow you to go to the gym every day, try to go for a walk every morning. A bit of exercise will do wonders for your body and will reduce your mental stress.

  • Get enough sleep-

One of the things that many mothers compromise on is proper sleep. While we understand that sleeping tends to be difficult with a child around, you should still try to get at least 7 hours of shut-eye every day. Lack of sleep can damage your health and lead to problems, such as high blood pressure, diabetes and heart disease. Therefore, let your husband take care of your child while you enjoy your sleep.   

  • Deal with stress-

While work and personal life can get stressful sometimes, it is essential to prevent stress from getting the upper hand. Spending time with your child will always put a smile on your face and reduce stress. However, you should also take time out for yourself and do the things that you love.

  • Beware of decreasing bone density-

Women tend to lose some of their bone density in their 30s. As a mother, you would encourage your child to have milk, eggs and leafy vegetables every day. Well, you should follow your own advice and start having these foods yourself. They are a great source of calcium, which acts as the building blocks for your bones. Adequate calcium intake will prevent osteoporosis and keep your bones healthy.

The most important thing for mothers is to remember to take care of their own body. You can care for your child only if you remain at the peak of your health.

4 Health Warnings For Mothers In Their 30s!

MBBS Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery
General Physician, Faridabad
4 Health Warnings For Mothers In Their 30s!

Changes happen inside a woman’s body all throughout her life. The 30s are no exception.  Many of these changes are a part of the natural process of growing older, while some are not. They could be indicating some underlying illness. In her 30s, a woman’s attention span is stretched thin because she has to juggle and manage her career, motherhood, family and finances. In the midst of all this, she might miss some of these warning signs.  And that can only bring anxiety and worry to her and the ones who love her.

Health Warning Signs Mothers in their 30s should be Aware of-

It is quite normal for spots to appear on the face, arms and shoulders because of exposure to the sun. But sometimes that could be the sign of melanoma – a kind of cancer of the pigment cells of the skin. It usually sets in the 30s and is more common among women than in men. If you see a new breakout of spots, or a change in the old pattern of your moles, or age-spots, patches of dark skin under and around the nails, you should consult a doctor. Melanoma may spread to other parts of the skin and it then becomes very difficult to cure.

  • Stubborn weight gain

Metabolism slows down once a woman is in her 30s. That is why keeping weight under check can become a challenge. A regular exercise regime and a strict diet can help her curb weight gain. But if you notice that, your weight is rising steadily and if no amount of workout and healthy eating is helping you lose those extra kilos, it is time to visit a doctor.  Stubborn weight gain can be the symptom of hormonal imbalance, thyroid malfunction or cysts. Your doctor will prescribe tests to determine what is wrong with your health and put you under medication as soon as possible because these health issues can lead to grave complications if left untreated.

Of course, a woman bleeds from her vagina once every month when she is menstruating. But if you notice bleeding or spotting in between your periods or if you are bleeding excessively during your periods, you should talk to a doctor. Heavy bleeding is normal in the late 30s because that is when a woman approaches peri-menopause. However, unusual bleeding could also be the fallout of other health problems like tumours, cancer of the reproductive organs or polyps.

Hair too has a cycle. Some fall off and new ones grow in their place. However, many women in their 30s notice that they are losing more than 100 strands a day but no new strands are taking their place. Hair loss could hint at a nutritional deficit. This, in turn, could make way for a host of dangerous ailments. So keep an eye out on any change in the thickness and texture of your hair.

A mother has a lot on her mind – protecting her family and earning a living. Nevertheless, it is equally important that she cares for herself.  

I am 11 weeks pregnant and I have a student cough, possible pharyngitis and I was given cefpodoxime proxetil 200 mg for 5days is it safe to have during pregnancy?

MBBS, MS - Obstetrics and Gynaecology, Fellowship in Day care Gynaecological Endoscopy
Gynaecologist, Kolkata
I am 11 weeks pregnant and I have a student cough, possible pharyngitis and I was given cefpodoxime proxetil 200 mg f...
Hello, Cefpodoxime is pregnancy fda category b and can be given if required. Don't worry. It does not have teratogenic effect.
1 person found this helpful

I have pcod and Dr. suggest krimson 35 which I have used now they suggest diane 35 m worry about these tablets bcoz it's getting side effects. Me and my hubby are taking precautions to not conceive baby, m want to heal from pcod how I can it? Pls tell me.

MBBS, MS - Obstetrics and Gynaecology, Fellowship in Day care Gynaecological Endoscopy
Gynaecologist, Kolkata
I have pcod and Dr. suggest krimson 35 which I have used now they suggest diane 35 m worry about these tablets bcoz i...
Pcos is very common heterogeneous endocrine disorder affecting 1 out of 10 women of reproductive age group. Pcos is associated with increased insulin and androgen level in the body influencing the release of eggs from ovaries thereby affecting menstruation and difficulty in conceiving. Increased androgen level also may lead to increased facial hair growth and acne. Obesity is also associated with pcos. The long term management of pcos is lifestyle modification: you need to loose at least 5 to 10% of body weight avoid high calorie food do regular exercises brisk walk daily for at least 30 minutes with the above medications as per symptoms need to be taken.

I am 33 years of age. Undergoing treatment gor pregnancy. My follicular study is going on since 3 months. This month on day 11 my egg size was 16 mm and doctor suggested me to take valest 2 mg. My question is why is valest suggested and will I be able to get pregnant, if I use valest 2 mg?

Diploma in Obstetrics & Gynaecology
Gynaecologist, Ahmedabad
I am 33 years of age. Undergoing treatment gor pregnancy. My follicular study is going on since 3 months. This month ...
The medicine prescribed to you does help in conceiving. That medicine is prescribed if your endometrial thickness is not proper according to you date of menses. It does not guarantee in pregnancy but helps in treatment so I suggest you can go ahead and take it.
1 person found this helpful

हरड़ के फायदे और नुकसान - Harad Ke Fayde Aur Nuksaan!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
हरड़ के फायदे और नुकसान - Harad Ke Fayde Aur Nuksaan!

हरड़ का उपयोग कई आयुर्वेदिक औषधियों के निर्माण में किया जाता है. विशेष रूप से इसका इस्तेमाल त्रिफला चूर्ण बनाने के लिए किया जाता है. जो है. इसे इसकी विशेषताओं को देखते हुए इसे कायाकल्प जड़ी बूटी के रूप में भी जाना जाता है. भारत में हरित की हिमालय के निचले क्षेत्रों से लेकर, पूर्व बंगाल, असम तक यानी 5000 फीट की ऊंचाई तक पाया जाता है. आयुर्वेद में इसके कोई और नाम जैसे कायस्था प्राणदा अमृता आदि नामों से बुखार आ गया है. यह स्वाद में कसैला होता है. आइए निम्नलिखित लेख के माध्यम से हरड़ के फायदे और नुकसान को विस्तार से समझें.

1. बवासीर के लिए

बवासीर, मल त्याग में आने वाली जत्ता उनसे संबंधित बीमारी है. हरितकी का प्रयोग बवासीर के दौरान होने वाले समस्याओं में किया जाता है. इसके लिए दो बड़े चम्मच हरड़ या फिर त्रिफला चूर्ण पानी आधी बाल्टी पानी में स्नान करने से 10 मिनट पहले डाल कर छोड़ दें इसके बाद इस पानी से स्नान करने से सूजन कम होता है. इससे घाव भी जल्दी भरता है.

2. दस्त में
दस्त में हरड़ का लाभ लेने के लिए आपको इसकी चटनी बनानी होगी. कच्चे हरड़ की कचनार फली फलियों को पीसकर इसकी चटनी बनाकर रोजाना दिन में तीन बार लेने से दस्त की समस्या खत्म होती है. इसके अलावा हरड़ हमारे शरीर और मलाशय में हल्कापन भी लाता है. जिसके कारण रोग जल्दी ही ठीक हो जाते हैं.

3. यौन समस्याओं के निदान में
यौन समस्याओं स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए भी हरड़ को उपयोग में लाया जा सकता है. हरड़ आपकी यौन ऊर्जा को बढ़ा देता है. इसके लिए आपको रोजाना 1 से 2 ग्राम हरड़ एक महीने तक खाना होता है. लेकिन इसके साथ एक बात का ध्यान रखना आवश्यक है कि लंबी अवधि तक इसका प्रयोग करने से यौन शक्ति में कमी का कारण भी बन सकता है. इसके साथ ही हरड़ शीघ्रपतन की भी उपचार में प्रयुक्त होता है. इसके अलावा इसका प्रयोग विधि की मात्रा कम शुक्राणु और उन्नत शिश्न की समस्याओं के निदान में भी किया जाता है.

4. तिल्ली रोग के उपचार में
तिल्ली रोग के उपचार में भी हरड़ का उपयोग किया जाता है. इसके लिए 3 से 5 ग्राम हरड़ दिन में एक या दो बार दूध से 3 ग्राम गुड़ के साथ मिलाकर किया जाता है. इससे तिल्ली बढ़ने की समस्या से निजात पाई जा सकती है.

5. उल्टी में राहत के लिए
यदि आपको उल्टी आ रही है. तो इस इस परेशानी से निजात पाने के लिए भी आप हरितकी का प्रयोग कर सकते हैं इसके लिए हरड़ पाउडर के साथ शहद मिलाकर लेना होता है. ऐसा करने से विषाक्त पदार्थ बाहर आते हैं और उल्टी बंद हो जाती हैं.

6. पाचन शक्ति में
हरड़ जिसे हरितकी भी कहा जाता है. का उपयोग मुख्य रूप से पाचन शक्ति से संबंधित समस्याओं को दूर करने के लिए किया जाता है. हरड़ का 1 से 3 ग्राम मात्रा एक कप गर्म पानी में मिलाकर पीने से पाचन शक्ति से संबंधित समस्याओं और उपापचय में मदद मिलती है.

7. सूजन से संबंधित विकारों में
सूजन से संबंधित विकारों में भी हरड़ का प्रयोग किया जाता है. इसके लिए गोमूत्र और हरितकी को एक साथ मिलाकर इस्तेमाल किया जाता है. इस से सूजन में राहत मिलती है.

हरड़ के नुकसान-
* गर्भवती महिलाएं और स्तनपान कराने वाली माताओं को इसके इस्तेमाल से बचना चाहिए.
* 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों के लिए भी इसका इस्तेमाल नहीं करना चाहिए.
* कम प्रतिरोधक क्षमता वाले लोग भी इसका इस्तेमाल ना करें.
* लंबे समय तक उपवास करने वाले लोगों को भी इसका इस्तेमाल नहीं करना चाहिए.
* बढ़े हुए पेट और अपच की समस्या से पीड़ित लोग इसका इस्तेमाल न करें.
* शुष्क और दुर्बल महसूस करने वाले लोगों को भी इसका इस्तेमाल नहीं करना चाहिए.
* हरड़ का इस्तेमाल किसी चिकित्सक से परामर्श करना ज्यादा उचित रहता है.

3 people found this helpful

बाईपास सर्जरी - Bypass Surgery!

Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Ayurveda, Lakhimpur Kheri
बाईपास सर्जरी - Bypass Surgery!

हमारे शरीर से टिश्यू या सेल्स के एक सैंपल को लैब में जाँच करने के लिए निकाले जाने की प्रक्रिया को ही बायोप्सी कहते हैं. बायोप्सी की आवश्यकता तब पड़ती है जब आप में कुछ निश्चित प्रकार के संकेत या लक्षण महसूस हो रहे हैं या जब आपके डॉक्टर को त्वचा के किसी क्षेत्र में किसी प्रकार का संदेह होता है. इस जांच से कैंसर या किसी अन्य समस्या का पता लगाया जाता है. अगर कैंसर की संभावनाएं ज्यादा हैं, तो रोग की निश्चित पहचान के लिए बायोप्सी नमूने की नजदीक से जांच करना एक मात्र तरीका है. यदि आपको निम्न में से कोई समस्या है, तो आमतौर पर आपको बायोप्सी करवाने की सलाह दी जाती है. ठीक ना होने वाले अल्सर, जिसके कारण का पता न चल पाए. स्तन में गांठ बनना. अगर लक्षणों की पहचान अस्पष्ट हो और मरीज को लक्षण महसूस हो रहे हों. अगर एक्स रे या सीटी स्कैन में सिस्ट या ट्यूमर देखा गया हो. ब्लड कैंसर के परीक्षण के लिए अस्थि मज्जा लंबे समय से शराब का अधिक सेवन करने वाले लिवर संबंधी रोगों के मरीज. आइये इस लेख के माध्यम से हम बायोप्सी के विभिन्न पहलुओं को विस्तारपूर्वक जानें.

बायोप्सी क्या है?
बायोप्सी, रोग की जांच और पहचान करने का एक तरीका होता है. इस प्रक्रिया में रोगी के बॉडी में टिश्यू या सेल्स में से एक सैंपल निकाला जाता है, जिसकी आमतौर पर माइक्रोस्कोप के द्वारा चेक की जाती है. सैंपल की जांच अक्सर पैथोलॉजिस्ट द्वारा की जाती है. पैथोलॉजिस्ट नमूनों की जांच कर के रोग के संकेत, उसके फैलाव आदि का पता लगाता है. इसके उद्देश्य के आधार पर, बायोप्सी द्वारा त्वचा में चीरा देकर नमूना निकाला जाता है. इन प्रक्रियाओं को एक्सीजनल और इनसीजनल कहा जाता है.

एक्सीजनल बायोप्सी-
इसकी सहायता से त्वचा के ऊपर उभरी हुई सिस्ट को सर्जरी के माध्यम से पूरी तरह निकाल दिया जाता है.

इनसीजनल बायोप्सी – इसको कोर बायोप्सी भी कहा जाता है. इस प्रक्रिया के दौरान टिश्यू में से सैंपल लिया जाता है.

बायोप्सी के विभिन्न प्रकार होते हैं, जैसे
1. स्क्रैप बायोप्सी-
इस प्रक्रिया में टिश्यू की सतह से कोशिकाओं को निकाल लिया जाता है, इस प्रक्रिया को मुंह के अंदर से या गर्भ की गर्दन आदि के लिए इस्तेमाल किया जाता है.

2. पंच बायोप्सी- पंच बायोप्सी में पंच डिवाइस का इस्तेमाल किया जाता है, पंच एक चाकू जैसा गोल डिवाइस होता है, जो टिश्यू से एक डिस्क के आकार में सैंपल निकाल लेता है. इसका इस्तेमाल त्वचा में सड़न और अन्य समस्याओं आदि की जांच करने के लिए किया जाता है.

3. नीडल बायोप्सी- आमतौर पर नीडल बायोप्सी का इस्तेमाल फ्लूइड सैंपल निकालने के लिए किया जाता है. कोर बायोप्सी के लिए एक ब्रॉड नीडल का उपयोग किया जाता है, जबकि पतली नीडल बायोप्सी का इस्तेमाल फाइन-नीडल एस्पिरेशन बायोप्सी के लिए किया जाता है. सुई बायोप्सी का उपयोग आमतौर पर ब्रेस्ट और थायराइड आदि का सैंपल लेने के लिए किया जाता है.

4. स्टीरियोटेक्टिक बायोप्सी- मस्तिष्क से बायोप्सी के सैंपल लेने के लिए स्टीरियोटैक्टिक बायोप्सी की मदद से सैंपल लेने की उचित जगह खोजी जाती है.

5. एंडोस्कोपिक बायोप्सी- इस प्रक्रिया में सैंपल लेने के लिए एक एंडोस्कोप नाम के डिवाइस का इस्तेमाल किया जाता है. एंडोस्कोप एक पतला, लंबा और ऑप्टिकल डिवाइस होता, इसको शरीर के अंदरूनी अंगों की जांच करने के लिए बॉडी के अंदर भेजा जाता है.

इन बीमारियों में पड़ती है बायोप्सी की आवश्यकता
कुछ ऐसी स्थितियां जिनमें बायोप्सी एक अहम भूमिका निभाती है, जैसे:
1. कैंसर: –
अगर रोगी के बॉडी में कहीं उभरी हुई सिस्ट बन गई है, जिसके कारणों का पता नहीं चल पा रहा, तो सिर्फ बायोप्सी की सहायता से ही पहचान किया जाता है कि यह कैंसर है या कोई और समस्या.

2. पेट में अल्सर: - बायोप्सी, डॉक्टर को यह पता लगाने में सहायता कर सकता है कि क्या नॉन-स्टेरॉयडल एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग्स ही पेट में अल्सर का कारण हैं. छोटी आंत की बायोप्सी का इस्तेमाल मरीज में कुअवशोषण, एनीमिया या सीलिएक रोग आदि की जांच करने के लिए भी किया जाता है.

3. लिवर रोगों का टेस्ट करने के लिए: – इसकी मदद से लिवर में ट्यूमर और लिवर कैंसर आदि की जांच की जा सकती है. इसका इस्तेमाल सिरोसिस या लिवर फाइब्रोसिस का परीक्षण करने के लिए भी किया जा सकता है. बायोप्सी का इस्तेमाल तब भी किया जाता है, जब लिवर किसी पिछली चोट या बीमारी के कारण पूरी तरह से जख्मी हो गया है, जैसे हैपेटाइटिस या शराब की लत के कारण लिवर का क्षति ग्रस्त होना.

4. संक्रमण: – सुई बायोप्सी की मदद से यह पता लगाया जाता है कि क्या मरीज को संक्रमण हो गया है और अगर है तो यह किस प्रकार के जीव के कारण हुआ है.

5. इन्फ्लमेशन: – कोशिकाओं की अंदर से जांच करना, उदाहरण के लिए जैसे सुई बायोप्सी का इस्तेमाल करना. इसकी मदद से डॉक्टर इन्फ्लामेशन के कारण की पहचान कर पाते हैं.

Ladki ke yoni ke upar virya gira dene se kya ladki pregnent ho sakti hai aur pregnent hone ki kya nishaniya hai please help me.

BHMS
Homeopath, Noida
Ladki ke yoni ke upar virya gira dene se kya ladki pregnent ho sakti hai aur pregnent hone ki kya nishaniya hai pleas...
Ho sakta hai. Aapko urine pregnanct test karna hoga, usse pata chalega pregnancy hai ya nahi. It should be done 10 days after missing your period. For example if your date was 10th, then do the test on 20th. Before that it can give false negative or false positive test.
1 person found this helpful
View All Feed

Near By Clinics

positive homeopathy

Indira Nagar, Bangalore, Bangalore
View Clinic

Govind

Indira Nagar, Bangalore, Bangalore
View Clinic

Costa's Clinic

Indira Nagar, Bangalore, Bangalore
View Clinic

Good Health Obesity Clinic

Indira Nagar, Bangalore, Bangalore
View Clinic

Positive Homeopathy Clinic - Indiranagar

Indira Nagar, Bangalore, Bangalore
View Clinic