Common Specialities
{{speciality.keyWord}}
Common Issues
{{issue.keyWord}}
Common Treatments
{{treatment.keyWord}}
Call Clinic
Bangalore Institute of Gastroenterology, Bangalore

Bangalore Institute of Gastroenterology

Gastroenterologist Clinic

34, 100 Feet Road, Ashoka Pillar Road, 2nd Block, Landmark : Near Madhava Park Bangalore
1 Doctor · ₹750
Call Clinic
Bangalore Institute of Gastroenterology Gastroenterologist Clinic 34, 100 Feet Road, Ashoka Pillar Road, 2nd Block, Landmark : Near Madhava Park Bangalore
1 Doctor · ₹750
Call Clinic
Report Issue
Get Help
Services
Feed

About

We like to think that we are an extraordinary practice that is all about you - your potential, your comfort, your health, and your individuality. You are important to us and we strive to ......more
We like to think that we are an extraordinary practice that is all about you - your potential, your comfort, your health, and your individuality. You are important to us and we strive to help you in every and any way that we can.
More about Bangalore Institute of Gastroenterology
Bangalore Institute of Gastroenterology is known for housing experienced Gastroenterologists. Dr. Suresh Babu Mc, a well-reputed Gastroenterologist, practices in Bangalore. Visit this medical health centre for Gastroenterologists recommended by 109 patients.

Timings

MON-SAT
05:00 PM - 06:30 PM

Location

34, 100 Feet Road, Ashoka Pillar Road, 2nd Block, Landmark : Near Madhava Park
Jayanagar Bangalore, Karnataka - 560070
Click to view clinic direction
Get Directions

Doctor in Bangalore Institute of Gastroenterology

Dr. Suresh Babu Mc

MBBS, MD - Oncology, DM - Oncology
Gastroenterologist
19 Years experience
750 at clinic
₹500 online
Unavailable today
View All
View All

Services

View All Services

Submit Feedback

Submit a review for Bangalore Institute of Gastroenterology

Your feedback matters!
Write a Review

Bangalore Institute of Gastroenterology Feeds

Nothing posted by this doctor yet. Here are some posts by similar doctors.

I am ibs patient since 2006. It starts with depression. I can't eat sweet and sour things like fruits, milk potatoes, pulses, beef, watermelon etc. What I can eat are leafy vegetables, mutton without soap.

I am ibs patient since 2006. It starts with depression. I can't eat sweet and sour things like fruits, milk potatoes,...
Follow this 1. Don't take tea empty stomach. Eat something like a banana (if you are not diabetic) or any seasonal fruit or soaked almonds and a glass of water first thing in the morning (within 10 mins of waking up). No only biscuits or rusk will not do. 2. Don't overeat 3. Take your breakfast every day. Don't skip it. U can eat whatever your mother or grandparent eat in bfast. I mean to say whatever is your traditional food. If punjabi eat paratha, if belongs to south then take idli/ dosa etc. 4. Have light meals every 2 hours (in addition to your breakfast, lunch n dinner) e.g. Nariyal paani, chaach, a handful of dry fruits, a handful of peanuts, any fresh n seasonal fruit, a cup of curd/milk etc 5. Finish your dinner at least 2 hours before going to sleep. 6. Maintain active life style7. Avoid fast foods, spicy n fried foods, carbonated beverages 8. Take a lot of green vegetables n fruit. 9. Drink lot of water. 10. Everyday preferably sleep on same time exercise in the form of yoga, cycling, swimming, gym, walking etc.For more details, you can consult me.

I was given the homeopathy medicine aloe 1m pure/powder for my ibs and indigestion problem. Doctor said me to take it after lunch only one time. Is it good for indigestion?

I was given the homeopathy medicine aloe 1m pure/powder for my ibs and indigestion problem. Doctor said me to take it...
For permanent solution sootshekhar ras 125 mg twice a day pittari avleh 10 gm twice a day relief in 5-6 days and for complete cure take it for 60 days only avoid oily and spicy food.

My stomach not working good past few days. My stool is hard. And when I eat any churanaya like kayam or lavanbhasker it may good but after. It again same. I can not fresh in one time properly so suggest me something tips.

My stomach not working good past few days. My stool is hard. And when I eat any churanaya like kayam or lavanbhasker ...
A1.Take 2/ 3 glass of warm water in the morning 2.Take little more water in the day 3.Eat more fruits and green vegetables 4.No fried/ spicy/ junk/ processed/ fast food, no maida products 5.No tea/ coffee/ cold drinks 6.No alcohol 7.Reduce wt 8.Daily morning walk for 30 mts 9.Deep breathing exercise for 10 mts daily 10.Fiber foods that are high in insoluble fiber include whole grains, fruits, and vegetables. Try wheat bran, brown rice, or whole grain bread. Soluble fiber- prunes and figs can be added to breakfast or eaten as a snack. 12.Take a glass of hot milk with sugar at night before sleeping medicine can not be advised for open question. For medicine contact on private consultation good luck.

I have digestion problem, my digestive system is very weak, thats why I can't gain weight, please help.

I have digestion problem, my digestive system is very weak, thats why I can't gain weight, please help.
Drinking water. Dehydration can increase the likelihood of an upset stomach. ...Avoiding smoking and drinking alcohol. ...

Hi Sir, I got a lump around anus area. Little discomfort and painful. Please suggest a fast remedy for the swell. And explain what's that?

Are you constipated? 1. Take home cooked, fresh light food. Take a lot of green vegetables n fruit. 2. Increase the fibre in your diet 3. Increase your fluid intake 4. Avoiding straining and constipation which is the most useful thing patients can do to prevent the problem coming back. 5. Maintain active life style6. Curd is good for u. 7. Avoid fast foods, spicy n fried foods 8. You should take sits bath (hot water tub bath) 2-3 times a day homeopathy has very encouraging results. Consult online with details.

अल्सर का आयुर्वेदिक उपचार - Ulcer Ka Ayurvedic Upchar!

अल्सर का आयुर्वेदिक उपचार - Ulcer Ka Ayurvedic Upchar!

बीमारी चाहे कोई भी हो उसके कारण और विकृति का जानकारी होना महत्वपूर्ण है. ज्यादातर अल्सर का कारण वात और पित्त के उत्तेजक कारक पर निहित होते हैं. अल्सर रोग कई प्रकार के हो सकते है, जैसे पेप्टिक अल्सर, पेट के छाले, अमाशय का अल्सर, या गैस्ट्रिक अल्सर. अल्सर तभी बनते है जब अमाशय के परत को खाना पचाने वाला एसिड नुकसान पहुंचाने लगता है. ये एसिड इतना तेज होता है की आयरन के ब्लेड तक को आसानी से गला सकता है. इस एसिड के अधिकता का कारण स्ट्रेस और खराब लाइफ स्टाइल के साथ अनुचित आहार होता है.

आजकल की खराब लाइफस्टाइल जैसे की ऑयली फ़ूड, फ़ास्ट फ़ूड, और अनुचित आहार के साथ आलस्य, मानसिक तनाव आदि के परिणामस्वरुप ज्यादातर व्यक्ति पेट से संबंधित रोग से पीड़ित रहते हैं. पेट के छाले, एसिडिटी, कब्ज़, गैस, अल्सर, पाइल्स, एनल फिशर आदि ऐसे कुछ प्रमुख पेट से संबंधित रोग होते है. हालाँकि इसके उपचार के लिए भी कई विकल्प मौजूद होते है. आयुर्वेद के अनुसार, अल्सर के उपचार के लिए एक संयुक्त दृष्टिकोण सबसे ज्यादा लाभदायक होता है.

आयुर्वेद के अनुसार, बाॅडी में होने वाले अल्सर होने के निम्न कारण हैं:
* अनुचित खानपान के कारण पेट में जख्म बन जाता है जिसे अल्सर कहते हैं.
* चाय, कॉफ़ी, सिगरेट और शराब का ज्यादा सेवन करने से अल्सर होता है.
* ज्यादा खट्टे, मसालेदार, गर्म चीजों का सेवन करने से अल्सर होता है.
* तनाव, जलन, गुस्सा, थकन, मानसिक परेशानी, एंग्जायटी आदि कारणों से भी हो सकता है.
* कभी-कभी पेट में जहरीला रोग पैदा होकर दूषित द्रव्य जमा होकर आमाशय और पक्वाशय में जख्म बन जाता है.

अल्सर के लक्षण-
* जब किसी व्यक्ति को अल्सर रोग हो जाता है तो रोगी के पेट में जलन और पेट दर्द होने लगता है.
* खट्टी डकार आती हैं.
* उल्टी होती है
* भोजन अच्छा नहीं लगता
* कब्ज़ की समस्या हो सकती है
* दस्त के साथ ब्लड आ सकता है
* कमजोरी का आभास हो सकता है
* बेचैनी होती है

अल्सर का आयुर्वेदिक उपचार-
1. आंवला-
एक चम्मच आंवले का रस और एक चम्मच शहद मिलाकर पीने से पेट में दूषित द्रव्य निकल जाते है जिससे अल्सर ठीक हो जाते है. इसके अलावा आंवले का एक चम्मच चूर्ण के साथ सोंठ का आधा चम्मच, जीरे के चूर्ण का आधा चम्मच और एक चम्मच मिश्री को मिश्रित कर लें, फिर इसे सुबह शाम सेवन करने से पेट के दर्द ठीक हो जाते है और दर्द व उल्टी से राहत मिलती है.

2. निर्गुण्डी- 50 ग्राम निर्गुण्डी के पत्ते को ½ लिटर पानी में धीमी आग पर पकाकर चौथाई शेष बचे तो 10-20 मिलीलीटर दिन में 2 से 3 बार पीएं. इससे पेप्टिक अल्सर रोग से छुटकारा मिलता है.

3. केले- केले में एसिड की मात्रा कम करने और घाव को भरने वाले गुण पाए जाते है. रोजाना 3 केले खाने से पेट में जख्म को ठीक करने में मदद मिलती है.

4. पान- पान के हरे पत्ते को आधा चम्मच रस रोजाना पीने से पेट दर्द और और जख्म से राहत मिलती है.

5. घी- हल्दी और मुलेठी को चूर्ण पानी में उबालकर ठंडा करके पेट पर लगाने से अल्सर रोग में राहत मिलता है.

6. देवदारु- देवदारु, ढाक, आम की जड़, गजपीपल, सहजन, और असंगध, को गाय के ताजे मूत्र में पीस कर पेट पर लेप करने से पेट का जख्म ठीक होता है.

7. सोंठ- 1 चम्मच चव्य और 1 चम्मच सोंठ को पीसकर गाय के मूत्र में मिलाकर रोगी को सेवन करना चाहिए. इससे पेट के जख्म और दर्द ठीक होते है.

8. दूध- अल्सर रोगी को रोजाना दूध पीना चाहिए साथ ही आनर का रस व आंवले का मुरब्बा खाना चाहिए.

9. हरङ- 2 छोटी हरङ और 4 मुनक्के को पीस कर सुबह खाने से पेट की जलन और उल्टी ठीक हो जाती है.

10. एरण्ड- एरण्ड तेल के दो चम्मच को गाय मूत्र या दूध में मिलाकर सेवन करने से आंतो का अल्सर ठीक होता है.

अल्सर में भोजन और परहेज:

* अल्सर होने के दौरान भोजन में दूध, सब्जियों का सूप, मसाले कस्टर्ड और दलिया लेना चाहिए.
* रेशे वाले आहार का सेवन करना चाहिए क्योंकि इसके खाने से अल्सर से उत्पन्न पेट की जलन ठीक होती है.
* ज्यादा मीठे और खट्टे पदार्थो का सेवन नहीं करना चाहिए.
* अनन्नास, संतरा, अमरूद और टमाटर का सेवन हानिकारक होता है.
* चाय, काॅफी, शराब और स्मोकिंग नहीं करना चाहिए.

I am 27, today was my due date & now I just felt pain in my lower right abdomen? What it can be due to? Please help me with this.

I am 27, today was my due date & now I just felt pain in my lower right abdomen? What it can be due to? Please help m...
Wait & watch. In case of missed period. Go for urine pregnancy test on 11th day with first morning sample.

मैं पिछले एक साल से fistula से परेशान हुं। क्या क्षारसूत्र थेरेपी इसके इलाज के लिए सही होगा एवं क्या दर्दभरा ईलाज होता है।

Fistula का सबसे उत्तम इलाज़ केवल मात्र क्षारसूत्र से ही संभव है। इस पद्दति से इलाज़ करवाने पर recurrent होने की भी सम्भावना ना के बराबर है। एलोपेथिक सर्जन से fistula की सर्जरी करवाने के बाद इसके दोबारा से उभरने की सम्भावना भुत ज्यादा रहती है। कुछ क्षारसूत्र विशेषज्ञ क्षारसूत्र के साथ सर्जरी का सहारा लेते हैं जोकि उपयुक्त नहीं है। आप जहां से भी क्षारसूत्र विशेषज्ञ से इलाज़ करवाएं; पूर्ण रूप से विशुद्ध क्षारसूत्र पद्दति से ही इलाज़ करवाएं। आपको कोई भी परेशानी नहीं होने वाली। आपको अनावश्यक एलोपेथिक दवाएं खाने की भी जरूरत नहीं, कोई एंटीबॉयोटिक आदि की आवश्यकता नहीं पड़ेगी।
1 person found this helpful